Tag Archives: festival

भाई दूज के लिए स्मार्ट गिफ्ट आइडियाज़… (Smart Gift Ideas For Bhai Dooj)

Gift Ideas For Bhai Dooj

भाई दूज के लिए स्मार्ट गिफ्ट आइडियाज़… (Smart Gift Ideas For Bhai Dooj)

इस भाई दूज (Bhai Dooj) अपने भाई को स्पेशल फील करवाने के लिए दें उसे कोई स्पेशल गिफ्ट (Special Gift)..

  • कोई ऐसी चीज़ गिफ्ट करें, जो वो लंबे समय से ख़रीदने की सोच रहा हो, चाहे वो कोई बुक हो, कोई एक्सेसरी हो या कोई ड्रेस.
  • आप उसकी फेवरेट मिठाई के साथ चांदी का ब्रेसलेट भी दे सकती हैं. यह एक ऐसा गिफ्ट होगा, जो सभी को पसंद आएगा.
  • पर्सनलाइज़्ड गिफ्ट दे सकती हैं. कार्ड होल्डर, डायरी या पेन.
  • इमेज प्रिंट वाली नोटबुक, कुशन कवर, न्यू ईयर कैलेंडर, वॉल डेकोरेटिव पीस या फिर टी शर्ट भी दे सकती हैं.
  • अगर वह पढ़ने का शौकीन है, तो आप लेटेस्ट बुक या उसके मनपसंद लेखक की क़िताबों का सेट भी गिफ्ट कर सकती हैं या डिक्शनरी भी गिफ्ट की जा सकती है.
  • आप गिफ्ट हैंपर्स भी दे सकती हैं, जो अपने आप में कंप्लीट होता है.
  • गिफ्ट वाउचर्स भी ग्रेट आइडिया है. यह लोगों को काफ़ी पसंद भी आता है और वो अपना मनचाहा गिफ्ट ले सकते हैं.
  • स्वीट्स, फ्रूट्स और ड्राय फ्रूट्स हैंपर्स भी अच्छा ऑप्शन है. साथ में बुके व ग्रीटिंग भी दे सकती हैं.
  • फ्लोटिंग या एरोमैटिक कैंडल सेट्स भी दे सकती हैं.
  • कोई टूर स्पॉन्सर करके भी गिफ्ट दिया जा सकता है.
  • हैंड मेड कोई चीज़ उपहार में दे सकते हैं. यह बहुत ही पर्सनल भी लगेगा और दिल को छू लेनेवाला गिफ्ट होगा.
  • कुछ यादगार पुरानी तस्वीरों को फ्रेम करवाकर गिफ्ट करें. अपने बचपन की यादों को संजोकर फोटोज़ फ्रेम करवाकर दे सकती हैं.
  • अगर आपका भाई हेल्थ कॉन्शियस है, तो आप शुगर फ्री चॉकलेट्स व मिठाइयां गिफ्ट कर सकती हैं. इसके गिफ्ट हैंपर्स की काफ़ी वेरायटी उपलब्ध है.
  • हैंडमेड वास या पेन होल्डर भी पेंट करके या डेकोरेट करके गिफ्ट किया जा सकता है.
  • बेडशीट्स भी प्रिंट करवाकर दी जा सकती हैं. यह आइडिया भी लोगों को काफ़ी पसंद आता है.
  • वुडन फ्रेम को भी कलर्स से पेंट करके एथनिक झरोखा बनाकर विंडो फ्रेम या वॉल डेकोरेटिव पीस के तौर पर गिफ्ट कर सकते हैं. यह बहुत ही क्लासी लगता है.
  • परफ्यूम, ग्रूमिंग या कॉस्मेटिक्स से जुड़ी चीज़ें भी गिफ्ट की जा सकती हैं.
  • अपने हाथों से पेंट या एंब्रायडरी की हुई पेंटिग, बैग या कोई ड्रेस भी दे सकती हैं.
  • होम अप्लायन्सेस भी गिफ्ट कर सकते हैं, जैसे- कॉफी मेकर, हैंड ब्लेंडर या सैंडविच मेकर्स, ताकि वो आसानी से अपने लिए कुछ कुक कर सके.
  • आप भाई-बहन के मैसेजेस के मग्स या कुशन कवर्स विद कोट्स भी गिफ्ट कर सकती हैं यानी उन पर कुछ कहावतें, जोक्स, दिलचस्प या दार्शनिक बातें छपी हों.
  • मोबाइल या लैपटॉप एक्सेसरीज़ भी बहुत अच्छा गिफ्ट आइडिया है. आजकल कलरफुल ईयरफोन्स, मोबाइल व लैपटॉप कवर्स, स्लीव्स और जैकेट्स आते हैं. इनमें भी बीडेड और बहुत ही एथनिक कवर्स आते हैं, जो फेस्टिवल के समय गिफ्ट किए जा सकते हैं.
  • पेन सेट, पर्स या वॉलेट्स भी गिफ्ट करना अच्छा ऑप्शन है.
  • होम डेकोर एक्सेसरी, लैंप्स या लैनटर्न्स भी अच्छा गिफ्ट आइडिया है. फेस्टिवल सीज़न में तो यह और भी अच्छा लगेगा.
  • हैंड मेड चॉकलेट्स, केक और मिठाइयां भी पसंद आएंगी. इसमें उसे पर्सनल टच महसूस होगा. आप सरप्राइज़ के तौर पर उसे बताए बगैर उसके लिए इसे तैयार करें.
  • फेस्टिवल के दौरान कई कॉम्बो ऑफर्स भी मिलते हैं, जैसे- एक पर एक फ्री या फिर ड्राय फ्रूट्स, चॉकलेट्स या मिठाइयों के हैंपर्स भी ऑफर्स में आते हैं, जो बड़ों और बच्चों दोनों को बहुत भाते हैं.

यह भी पढ़ें: 9 बेस्ट वेट लॉस ऐप्स (9 Best Weight Loss Apps)

यह भी पढ़ें: गरीबों का मसीहा- मेडिसिन बाबा (The Incredible Story Of ‘Medicine Baba’)

 

कैसे मनाएं सेफ दिवाली? (How To Celebrate Happy And Safe Diwali)

Diwali

कैसे मनाएं सेफ दिवाली? (How To Celebrate Happy And Safe Diwali)

दिवाली (Diwali) रोशनी का त्योहार (Festival) है. यह अपने साथ ढेर सारी ख़ुशियां लाती है. हम सभी इस त्योहार को पूरे धूमधाम से उमंग-उत्साह से मनाते है. लेकिन इस रोशनी के पर्व में थोड़ी सावधानी भी बेहद ज़रूरी है यानी फेस्टिवल मनाएं, पर सेफ्टी (Safety) का भी पूरा ख़्याल रखें, विशेषकर पटाखे जलाते समय. यहां पर हम कुछ सेफ्टी रूल्स (Safety Rules) बता रहे हैं.

–    पटाखे जलाते समय पैरों में चप्पल या जूते ज़रूर पहनें. कभी भी नंगे पांव पटाखे न जलाएं.

–    पटाखे हमेशा खुली जगह पर जलाएं यानी कभी भी घर के अंदर या बंद स्थान पर पटाखे ना फोड़ें. पटाखे जलाने के लिए घर के बाहर, छत पर या फिर आंगन भी ठीक है.

–    साथ ही आसपास देख लें कि कहीं कोई आग फैलानेवाली या फ़ौरन आग पकड़नेवाली चीज़ तो नहीं है.

–    बच्चे-बड़े सभी पटाखे जलाते समय आसपास बाल्टी भरकर पानी ज़रूर रखें. साथ ही जलने पर लगनेवाली इमर्जेंसी दवाएं भी

ज़रूर रखें.

–    यदि पटाखे से जल जाएं, तो जले हुए स्थान पर तुरंत पानी के छींटें मारें.

–    हमेशा लाइसेंसधारी और विश्‍वसनीय दुकानों से ही पटाखे ख़रीदें.

ये न करें…

–    कुछ लोग बहादुरी दिखाने के लिए पटाखे हाथ में पकड़कर जलाने की कोशिश करते हैं. ऐसा न करें, क्योंकि ऐसा करने से पटाखों के हाथ में फटने और दुर्घटना होने की संभावना रहती है.

–    पटाखों को दीये या मोमबत्ती के आसपास ना जलाएं.

–    जब आपके आसपास कोई पटाखे जला रहा हो, तो उस समय आप भी पटाखे ना जलाएं.

–   बिजली के तारों के आसपास क्रैकर्स न फोड़ें.

–   यदि किसी पटाखे को जलने में बहुत अधिक समय लग रहा है, तो उसे दोबारा ना जलाएं, बल्कि किसी सेफ जगह पर फेंक दें.

–   आधे जले हुए पटाखों को इधर-उधर ना फेंकें. उसे पानी में डुबोकर फेंक दें.

–    रॉकेट जैसे पटाखे ऐसे समय में बिल्कुल न जलाएं, जब ऊपर किसी तरह की रुकावट जैसे पेड़, बिजली के तार आदि हों.

–   दीपावली पर कॉटन के कपड़े पहनकर ही पटाखों का आनंद लें. ध्यान रहे, रेशमी या फिर नायलॉन के आउटफिट बिल्कुल भी न पहनें.

–    खुली फ्लेम के कारण पटाखे जलाने के लिए माचिस या लाइटर का इस्तेमाल न करें, यह ख़तरनाक हो सकता है.

–    कभी भी छोटे बच्चों के हाथ में कोई पटाखा न दें.

–   यदि आपकी कार है, तो उसे गैराज में रख दें या फिर उसे अच्छी तरह से कवर कर दें.

–   दीपावली पर घर की खिड़कियां बंद ही रखें तो अच्छा है. साथ ही उन पर रेशमी पर्दे न लगाएं, वरना कोई चिंगारी लगने पर तेज़ी से आग फैलने का डर बना रहता है.

–   सभी पटाखों को हमेशा किसी बंद डिब्बे में ही रखें, विशेषकर दिवाली की रात को.

–    क्रैकर्स जलाते समय पैकेट में दिए गए निर्देशों को भी ज़रूर देख लें और उसी के अनुसार पटाखों को जलाएं.

–   बेहतर होगा कि पटाखे जलाते समय फुल स्लीव्स के ड्रेसेस ही पहने जाएं.

–    पटाखों का आनंद लेते समय किसी इमर्जेंसी वाली सिचुएशन के लिए भी तैयार रहें.

–   यदि आप बहुत सारे लोगों के साथ मिलकर पटाखे जला रहे हैं, तो इस बात का ख़्याल रखें कि एक समय में एक ही शख़्स पटाखे जलाए, क्योंकि यदि कई लोग साथ-साथ पटाखे जलाएंगे, तो दुर्घटना होने की संभावना बढ़ जाती है.

–    यदि आपके घर में पालतू जानवर, जैसे- बिल्ली, डॉगी आदि हैं, तो उन्हें पटाखों से दूर ही रखें. बेज़ुबान जानवर दिवाली के दिन शोर-शराबे से बेहद परेशान हो जाते हैं. यदि संभव हो, तो उनके कान में कॉटन डाल दें.

–    भीड़वाली जगह, पतली गलियों या घर के पास में पटाखे न जलाएं.

–    छोटे बच्चों को ख़ुद से पटाखे न जलाने दें. उनके साथ किसी बड़े को ज़रूर रखें.

–    कभी भी पैंट की जेब में पटाखे न रखें.

–    ढीले-ढाले कपड़े पहनकर पटाखे न जलाएं.

–    जहां पर पटाखे रखे हों, वहां पर माचिस की जली तीली या फिर अगरबत्ती आदि न फेंकें.

–    ध्यान रहे, कभी भी पटाखों के साथ कोई एक्साइटमेंट या फिर एक्सपेरिमेंट करने का प्रयास न करें. यह ख़तरनाक हो सकता है.

–    सड़क के कुत्तों या फिर अन्य जानवरों को पटाखों से परेशान न करें.

–   पटाखे जलाते समय पेट्रोल, गैस सिलेंडर, डीज़ल, केरोसिन आदि चीज़ें आसपास न हों, इस बात का ख़्याल रखें.

–   यदि पटाखे जलाते समय जल जाएं, तो तुरंत टूथपेस्ट व बरनॉल लगाएं. आवश्यक लगे, तो डॉक्टर को दिखाएं.

– सावित्री गुप्ता

यह भी पढ़ें: चरणामृत और पंचामृत में क्या अंतर है? (What Is The Difference Between Charanamrit And Panchamrit)

 

फेस्टिवल मेकअप टिप्स (Festival Makeup Tips)

फेस्टिवल मेकअप टिप्स (Festival Makeup Tips)

ख़्वाबों में मिला था अक्सर तुमसे, रू-ब-रू जब देखा, तो पाया… कहते थे जिसे परी या अप्सरा, वो है तेरे ही हुस्न का साया… रंगों-सी ख़ूबसूरत, चांदनी-सी हसीन… संदली ख़ुशबू-सी महकती, रेशम-सी हो तुम नाज़नीन… फेस्टिवल टाइम में आप भी चाहती होंगी कि हर नज़र आप पर ही ठहर जाए, तो ऐसे में यहां बताए गए फेस्टिवल मेकअप (Festival Makeup) से अपना लुक क्रिएट करें और लगें सबसे जुदा, सबसे हसीन.

रेड लिप्स…

 

Festival Makeup Tips

 

–   रेड लिप्स हमेशा ही हॉट और इन रहते हैं.

–   ये ग्लैमरस लुक देते हैं और हर ओकेज़न पर कूल लगते हैं.

–    ईवनिंग लुक के लिए जहां ये हॉट लगते हैं, वहीं डे में आपको इंस्टेंट फ्रेश लुक देते हैं.

–   इस लुक के लिए फेस मेकअप करें. प्राइमर और फाउंडेशन लगाने के बाद ब्लश ऑन करें.

–    आई मेकअप सिंपल रखें. अपर आईलिड पर ब्लैक आईलाइनर अप्लाई करें. चाहें तो विंग्ड लाइनर यूज़ करें.

–    लिप्स पर हॉट चिली रेड कलर अप्लाई करें. एक कोट के बाद टिश्यू से एक्स्ट्रा लिप कलर को हटा दें, फिर से लिप कलर अप्लाई करें. अगर मैट फिनिश पसंद है, तो मैट लिपस्टिक यूज़ करें, पर फेस्टिवल में थोड़ा शाइनी इफेक्ट चाहती हैं, तो ग्लॉसी लिप कलर अप्लाई करें.

–    रेड लिप कलर का शेड आप अपनी स्किन टोन के अनुसार सिलेक्ट कर सकती हैं.

गोल्डन ग्लो

Makeup Tips

–   फेस्टिवल टाइम हो, तो शिमरी लुक और गोल्ड को अवॉइड नहीं किया जा सकता. आप अपने लुक में भी ला सकती हैं यही गोल्डन ग्लो.

–    फेस मेकअप करें. ब्रॉन्ज़र यूज़ करें.

–    शिमरी गोल्ड आईशैडो अप्लाई करें.

–    फेस्टिवल लुक के लिए क्रीमी आईशैडो यूज़ करेंगी, तो बेहतर होगा. चाहें तो अलग से गोल्डन ग्लिटर अप्लाई कर सकती हैं या ग्लिटरी शैडो लगाएं.

–    अपर आईलिड पर ब्लैक आईलाइनर लगाएं. आंखों में काजल और उसके बाद मस्कारा अप्लाई करें.

–    लिप्स को भी गोल्डन टच दें. मेटालिक लिप कलर यूज़ करें.

–    गोल्डन हेयर एक्सेसरीज़ से अपने लुक को कंप्लीट करें.

फ्रूटी कलर्स

Diwali Makeup Tips

–   फेस्टिवल टाइम वैसे भी कलर्स और ग्लो का होता है. यही कलर्स आपके फेस पर आकर ठहर जाएं, तो ग्लो अपने आप आ जाता है.

–    बेसिक फेस मेकअप के बाद आप अपनी आईज़ और लिप्स को कलर्स से हाईलाइट करें.

–    आंखों पर कलरफुल मैट यानी पाउडर आईशैडो अप्लाई करें, जैसे- इनर कॉर्नर पर पिंक या यलो कलर और आउटर पर ऑरेंज या रेड या फिर अपने आउटफिट के अनुसार कलर्स अप्लाई करें.

–    मस्कारा ज़रूर लगाएं.

–   लिप्स पर भी आप दो-तीन शेड्स का कॉम्बीनेशन ट्राई कर सकती हैं.

–   ब्राइट पिंक कलर अप्लाई करें और बीच में गोल्ड लिक्विड लिप कलर लगाकर शिमर अप्लाई करें.

–    लिप कलर्स ग्लिटरी और ग्लॉसी रखें, ताकि फेस्टिवल लुक हाईलाइट हो.

–    स्ट्रेट सिल्की हेयर इस लुक को कॉम्प्लीमेंट करेंगे.

यह भी पढ़ें: दिवाली में 10 ब्यूटी टिप्स से पाएं नया निखार (10 Best Skin Care Tips For Diwali)

सिल्वर लुक, स्मोकी आईज़

Makeup Tips For Diwali

–   फ्रेश और कूल लुक के लिए आप सिल्वर लुक ट्राई कर सकती हैं.

–    आउटफिट सिल्वर और व्हाइट रखें और इसी को कॉम्प्लीमेंट करता हुआ मेकअप करें.

–    बेस फेस मेकअप करें. क्लीन लुक रखें. मैट फिनिश होगा, तो बेहतर रहेगा.

–    आंखों में काजल लगाएं.

–    अब स्मोकी लुक के लिए शिमरी ग्रे ब्लैक आईशैडो अप्लाई करें. स्मजर से स्मज करें. अच्छी तरह ब्लेंड कर लें.

–   अपर आईलिड पर अंदर की तरफ़ डार्क ब्लैक रखें, बाहर की तरफ़ शेड लाइट करती जाएं, ताकि स्मोकी इफेक्ट क्रिएट हो.

–    मस्कारा अप्लाई करें.

–    लिप्स पर लाइट पिंक कलर अप्लाई करें.

–    सिल्वर ईयररिंग्स और हेयर एक्सेसरीज़ से लुक को कंप्लीट करें.

बी नेचुरल

Natural Makeup Tips

–    अगर आपको बहुत ज़्यादा कलर्स या लाउड मेकअप पसंद नहीं, तो आप अपना लुक सिंपल और नेचुरल भी रख सकती हैं.

–    आपका आउटफिट अगर बहुत कलरफुल है, तो बेहतर होगा न्यूड मेकअप ही सिलेक्ट करें.

–   बेसिक फेस मेकअप करें. मैट फिनिश के लिए कॉम्पैक्ट यूज़ करें या लूज़ पाउडर भी लगा सकती हैं.

–    आंखों में ख़ूब सारा काजल लगाएं.

–    मस्कारा अप्लाई करें.

–    चाहें, तो अपर आईलिड पर आईलाइनर लगा सकती हैं.

–    लिप्स पर नेचुरल पिंक, ब्राउन या न्यूड लिप कलर लगाएं. बेहतर होगा मैट फिनिश हो, ताकि लुक नेचुरल लगे.

–   नेचुरल कर्ली हेयर इस लुक को कॉम्प्लीमेंट करेंगे.

– गीता शर्मा

यह भी पढ़ें: सांवली त्वचा के लिए 10 आसान मेकअप टिप्स (10 Essential Makeup Tips For Dark Skin Tones)

दीपावली में विंड चाइम से लाएं घर में सौभाग्य (Wind Chime For Diwali Decoration)

Wind Chime

दीपावली में विंड चाइम से लाएं घर में सौभाग्य (Wind Chime For Diwali Decoration)

दीपावली (Diwali) में घर की सजावट का सामान ख़रीदते समय अपनी शॉपिंग लिस्ट में विंड चाइम (Wind Chime) को ज़रूर शामिल करें. विंड चाइम से घर की ख़ूबसूरती निखरती है और घर में सौभाग्य भी आता है. हां, विंड चाइम ख़रीदते समय कुछ बातों का ध्यान दीपावली में घर की सजावट का सामान ख़रीदते समय अपनी शॉपिंग लिस्ट में विंड चाइम को ज़रूर शामिल करें. विंड चाइम से घर की ख़ूबसूरती निखरती है और घर में सौभाग्य भी आता है. हां, विंड चाइम ख़रीदते समय कुछ बातों का ध्यान ज़रूर रखें.

* मार्केट में कई तरह की भारी, हल्की, बड़ी, छोटी और रंगीन विंड चाइम्स (पवन घंटियां) उपलब्ध हैं, लेकिन आप जब विंड चाइम चुनें, तो खोखली व पतली नलीवाली विंड चाइम ही चुनें. ये हवा में आसानी से लहराकर मधुर आवाज़ करती हैं. यदि आप घर में 6 या 7 रॉडवाली विंड चाइम लगाएंगे, तो इससे घर में संपन्नता आती है.

* धातु से बनी विंड चाइम हमेशा पश्‍चिम या उत्तर-पश्‍चिम दिशा में लगाएं. ये दिशाएं धातुओं की होती हैं, इसलिए इन दिशाओं में विंड चाइम लगाने से भाग्योदय होता है और घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है.

* आप चाहें तो लकड़ी की बनी विंड चाइम भी ख़रीद सकते हैं. लकड़ी, ख़ासतौर से बांस से बनी विंड चाइम्स ईको फ्रेंडली होने के साथ-साथ घर-गृहस्थी के मामले में शुभ मानी जाती हैं. इसे दक्षिण-पूर्व दिशा में लगाना शुभ होता है. लकड़ी या बांस की बनी विंड चाइम में भी रॉड की संख्या बहुत मायने रखती है. इसमें रॉड की संख्या तीन या चार हो तो विंड चाइम शुभ फल प्रदान करती है. इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है और हर कार्य निर्बाध रूप से पूरा होता है.

* कांच की बनी विंड चाइम भी घर की शोभा बढ़ा सकती है, लेकिन यह अगर भारी हुई तो मधुर आवाज़ पैदा नहीं करेगी.

* घर में पांच नलियों या पांच घंटियोंवाली विंड चाइम लगाना हर तरह से शुभ माना जाता है. इससे नकारात्मकता समाप्त होती है और शुभ फल की प्राप्ति होती है. इसके अलावा अलग-अलग उद्देश्यों के लिए 4, 7, 9, 11 नलियोंवाली विंड चाइम्स भी घर के लिए शुभ मानी जाती हैं.

यह भी पढ़ें: इस दीवाली पर अपने घर को सजाएं इन 5 रंगोली डिज़ाइन्स से (5 Creative Rangoli Designs To Try This Diwali)

* अगर आप अपना सोया हुआ भाग्य जगाना चाहते हैं, तो 6 या 8 रॉडवाली विंड चाइम घर में लगाएं. ये आपके भाग्योदय की बाधाओं को दूर करेगी और आपकी सोई हुई किस्मत को जगा देगी. फेंशगुई और वास्तु में इनका काफ़ी महत्व है.

* अगर आप 2 या 9 घंटियों या नलियों वाली विंड चाइम लगाना पसंद करते हैं, तो सिरामिक की बनी विंड चाइम लेकर आएं. ये विंड चाइम मान-प्रतिष्ठा और यश प्रदान करती है. इसे घर की दक्षिण-पश्‍चिम दिशा में लगाना शुभ होता है.

* आपसी रिश्तों की परेशानियों को हल करने के लिए भी विंड चाइम आपके लिए सहायक साबित हो सकती है.

* अपने बच्चों को सकारात्मक और क्रिएटिव बनाने के लिए उनके कमरे में भी विंड चाइम ज़रूर लगाएं. इसकी मधुर आवाज़ माहौल को ख़ुशनुमा बनाए रखती है.

* अगर आप अपना सामाजिक दायरा बढ़ाना चाहते हैं, तो सिल्वर कलर की विंड चाइम को घर की पश्‍चिम दिशा में लगाएं. इसमें अगर 7 रॉड लगे हों, तो यह काफ़ी लाभ प्रदान करेगी.

* नाम और पैसे की चाहत हो, तो घर की  उत्तर-पश्‍चिम दिशा में पीले रंग की 6 रॉड वाली विंड चाइम लगाएं.

* आप चाहें तो अलग-अलग कलरवाली रंग-बिरंगी विंड चाइम भी लगा सकते हैं. ये आपके घर का माहौल ख़ुशनुमा बनाए रखेगी और सकारात्मकता के साथ-साथ उत्साह का भी संचार करेगी.

यह भी पढ़ें: हैप्पी मैरिड लाइफ के लिए बेडरूम में रखें ये 6 चीज़ें (6 Things To Keep In Your Bedroom For Marital Bliss)

सलमान खान से लेकर प्रियंका चोपड़ा तक यूं सेलिब्रेट कर रहे हैं रक्षाबंधन (Bollywood Celebrates Rakshabandhan)

रक्षाबंधन (Rakshabandhan) भाई बहन के प्यार और विश्वास का सबसे प्यारा त्योहार है… बॉलीवुड (Bollywood) भी इस त्योहार को काफ़ी दिल से celebrate करता है… आप भी देखिए पिक्चर्स जो सिलेब्रिटीज़ ने सोशल मीडिया पर अपनी बहन के साथ रखी बंधवाते हुए शेयर की

सलमान खान से लेकर प्रियंका चोपड़ा तक यूं सेलिब्रेट कर रहे हैं रक्षाबंधन (Bollywood Celebrates Rakshabandhan)

सलमान खान अर्पिता से रखी बंधवाते हुए

प्रियंका चोपड़ा अपने भाई के साथ

Priyanka Chopra With Her Brother

सैफ़ अली खान बहन सोहा के साथ

रितिक रोशन अपनी बहन के साथ

 

कार्तिक आर्यन अपनी बहन के साथ

Kartik Aryan with his sister

सारा और इब्राहिम अली खान

Sarah and Ibrahim Ali Khan

रक्षाबंधन 2018: राखी बांधने का सही मुहूर्त व समय (Rakshabandhan 2018: Right Time To Tie Rakhi)

राखी बांधने का सही मुहूर्त व समय क्या है, ये जानने की उत्सुकता सभी को रहती है. सारी बहनें शुभ मुहूर्त पर ही अपने भाई को राखी बांधना चाहती हैं. आपकी इस चाहत को पूरा करने के लिए पंडित राजेंद्र जी बता रहे हैं राखी बांधने का सही मुहूर्त व समय तथा रक्षाबंधन से जुड़ी ज़रूरी जानकारी.

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि रक्षाबंधन भाई-बहन का त्योहार है. इस दिन बहनें अपने भाइयों को राखी बांधकर अपनी रक्षा की याद दिलाती हैं. साथ ही रक्षाबंधन के दिन अपने वरिष्ठजनों जैसे कुलदेवता, ईष्ट देवता, पितृदेवता, राजा इत्यादि को रक्षा-सूत्र बांधा जाता है. ऐसा उल्लेख है कि महाभारत में भी पांडवों की सेना में सभी ने एक-दूसरे को रक्षा-सूत्र बांधा था. आइए, जानते हैं कि इस साल राखी बांधने का सही मुहूर्त व समय क्या है.

रक्षाबंधन 2018: राखी बांधने का सही मुहूर्त व समय जानने के लिए देखें वीडियो:

यह भी पढ़ें: रक्षाबंधन के पावन पर्व को ख़ास बनाइए बॉलीवुड के इन टॉप 10 गानों से (Top 10 Bollywood Songs Of Raksha Bandhan)

 

रक्षाबंधन से जुड़ी ज़रूरी जानकारियां:

* ज्योतिष पंचांग के अनुसार पूर्णिमा तिथि 25 अगस्त को दोपहर 3 बजकर 16 मिनट से प्रारंभ हो जाएगी, जो 26 अगस्त को शाम 5 बजकर 25 मिनट तक रहेगी. इस दिन धनिष्ठा नक्षत्र दोपहर 12.35 बजे तक रहेगा.

* रक्षाबंधन का मुहूर्त 26 अगस्त को प्रातः 7.43 से दोपहर 12.28 बजे तक रहेगा. इसके बाद दोपहर 2.03 से 3.38 बजे तक रहेगा. शाम 5.25 पर पूर्णिमा तिथि समाप्त हो जाएगी, लेकिन सूर्योदय व्यापिनी तिथि मानने के कारण रात्रि में भी राखी बांधी जा सकेगी.

* जिन लोगों का यज्ञोपवीत संस्कार हुआ हो, वे अपने यज्ञोपवीत आज के दिन बदलते हैं, जो कि ‘श्रावणी उपाकर्म’ कहलाता है.

* इस दिन का महत्व ज्योतिष तथा तंत्र की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण माना जाता है. अतः जिन लोगों की पत्रिका में चंद्रमा अस्त हो, नीच या शत्रु राशि में हो, वे दूध, चावल, सफेद वस्त्र इत्यादि दान कर अपना दोष दूर कर सकते हैं. इसी तरह जिन लोगों का चंद्रमा पत्रिका में अच्‍छा हो, वे मोती धारण कर चंद्रमा को प्रबल बना सकते हैं.

* यदि आपको अपनी कुंडली की जानकारी नहीं है, तो आप दूध से रुद्राभिषेक कर हर तरह का लाभ प्राप्त कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें: 10 लेटेस्ट ब्लाउज़ डिज़ाइन आप भी ज़रूर ट्राई करें (10 Latest Saree Blouse Designs For Every Woman)

Rakshabandhan 2018

धन व ऐश्वर्य प्राप्त करने के लिए निम्न उपाय किए जा सकते हैं:

1) ‘ॐ चं चन्द्रमसे नम:’ का जप तथा हवन या ‘ॐ सों सोमाय नम:’ का जप-हवन करें.
2) रुद्र पूजन ‘ॐ सोमेश्वराय नम:’ का जप करें.
3) बड़ी बहन, माता, बुआ, मौसी इत्यादि को भेंट देकर आशीर्वाद प्राप्त करें.
4) महालक्ष्मी मंदिर में या घर पर ही लक्ष्‍मी पूजन कर दूध, चावल, केला व पंच मेवा से बनी खीर देवी को अर्पण करें तथा बालकों में प्रसाद वितरित करें, तब स्वयं ग्रहण करें.
5) रात्रि में दूध, चावल, श्वेत पुष्प मिश्रित कर चन्द्रमा को अर्घ्य दें तथा दिन में केवल श्वेत वस्तुएं ही भोजनादि में ग्रहण करें.
6) यदि सौभाग्यवश गुरु हों तो उन्हें पूजन कर भेंट दक्षिणा आदि अर्पण कर रक्षा-सूत्र बांधें. उनकी कृपा हमेशा बनी रहेगी.

 

होली पर विशेष: क्या है होलिकादहन की पूरी कहानी? (Holi Special: Why Do We Celebrate Holi?)

Holi Special: Why Do We Celebrate Holi

Holi Special: Why Do We Celebrate Holi

होली (Holi) से संबंधित सबसे पॉप्युलर कथा है हिरण्यकश्यप की बहन होलिका व प्रह्लाद की. क्या है यह कथा और क्यों मनाते हैं हम होली, आइए, जानें-

प्राचीन काल में एक बहुत ही अत्याचारी राक्षसराज था- हिरण्यकश्यप, जिसने तपस्या करके ब्रह्मा से वरदान पा लिया कि संसार का कोई भी जीव, देवी-देवता, राक्षस या मनुष्य उसे नहीं मार सकते. न ही वह रात में मरेगा, न दिन में, न पृथ्वी पर, न आकाश में, न घर में, न बाहर और यहां तक कि कोई शस्त्र भी उसे नहीं मार पाएगा.

ऐसा वरदान पाकर वह और भी ज़्यादा अत्याचारी व निरंकुश हो गया था. लेकिन इसी हिरण्यकश्यप के यहां प्रह्लाद जैसा पवित्र आत्मा व ईश्‍वर में अटूट विश्‍वास करनेवाला पुत्र पैदा हुआ. प्रह्लाद भगवान विष्णु का परम भक्त था.

हिरण्यकश्यप को यह बिल्कुल पसंद नहीं था कि उसका पुत्र किसी और को पूजे. उसने प्रह्लाद को आदेश दिया कि वह उसके अतिरिक्त किसी अन्य की स्तुति न करे. प्रह्लाद के न मानने पर हिरण्यकश्यप उसे जान से मारने पर उतारू हो गया और उसने प्रह्लाद को मारने के कई प्रयास किए, लेकिन वो हर बार प्रभु-कृपा से बचता रहा.

ऐसे में हिरण्यकश्यप की बहन होलिका ने एक सुझाव दिया, होलिका को अग्नि से बचने का वरदान था. यानी उसे एक ऐसा आवरण मिला था, जिससे आग उसे जला नहीं सकती थी. हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका की सहायता से प्रह्लाद को आग में जलाकर मारने की योजना बनाई.

यह भी पढ़ें: होली स्पेशल: ड्रायफ्रूट्स गुझिया

होलिका बालक प्रह्लाद को गोद में लेकर अग्नि में बैठ गई. लेकिन भगवान की कृपा से होलिका का वह आवरण भक्त प्रह्लाद को मिल गया और उसको कुछ नहीं हुआ. वहीं होलिका जलकर भस्म हो गई.

इसके बाद हिरण्यकश्यप को मारने के लिए भगवान विष्णु नरसिंह अवतार में खंभे से निकल कर गोधूली बेला यानी सुबह व शाम के समय का संधिकाल, में दरवाज़े की चौखट पर बैठकर हिरण्यकश्यप को अपने नुकीले नाख़ूनों से उसका पेट फाड़कर उसे मार डालते हैं.
नरसिंह न मनुष्य थे, न जानवर, न वो सुबह का समय था, न शाम का, हिरण्यकश्यप को मारते समय न वो अंदर थे, न बाहर और उनके नाख़ून न अस्त्र थे, न शस्त्र.

उसी समय से होली का त्योहार मनाया जाने लगा यानी एक तरह से यह अच्छाई की बुराई पर जीत का संदेश है. व्यक्ति चाहे कितना ही बलशाली क्यों न हो, यदि वो अत्याचार की सीमाएं पार कर जाता है, तो कितने भी वरदान हों, उसे बचा नहीं सकते. बुराई का अंत निश्‍चित है. इसी तरह हमें भी बुरी शक्तियां ही नहीं, अपने मन में पनप रही सारी नकारात्मक भावनाओं को भी होली की अग्नि में दहन कर देना चाहिए और नेकी के मार्ग पर आगे चलना चाहिए.

[amazon_link asins=’B079DPLT5V,B078NXT1QP,B06XC45MQY,B01D1K19DM’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’54ac7327-1ae9-11e8-bae2-955c907cf28e’]

होली में सावधान रहें केमिकल रंगों के अटैक से… (Holi Special: Play Safe Holi)

Play Safe Holi

होली (Holi) मस्ती का, रंगों का और प्यार का त्योहार होता है. गिले-शिकवे भुलाने का और सबको अपना बनाने का इससे बेहतर मौक़ा शायद दूसरा नहीं होता. लेकिन इस रंग में भंग भी पड़ सकता है, अगर आपने सावधानी नहीं बरती तो. एक समय था, जब फूलों से या प्राकृतिक रंगों से होती खेली जाती थी. लेकिन जबसे केमिकलवाले रंगों (Chemical Colours) का चलन बढ़ा है, तब से स्किन प्राब्लम्स (Skin Problems) भी बढ़ी हैं. के. जे. सोमाया हॉस्पिटल (K J Somaya Hospital) के डर्मैटोलॉजी डिपार्टमेंट की प्रोफेसर और हेड डॉ. शीतल पुजारे बता रही हैं स्किन प्रॉब्लम्स से जुड़ी ज़रूरी बातें.

 

Play Safe Holi

– आर्टिफिशियल कलर्स में काफ़ी केमिकल्स होते हैं, जैसे- ब्लैक में लेड ऑक्साइड, ग्रीन में कॉपर सल्फेट, सिल्वर में एल्युमीनियम ब्रोमाइड, ब्लू में कॉबाल्ड नाइट्रेट, ज़िंक सॉल्ट्स और रेड में मरक्यूरि सल्फेट.
– इसके अतिरिक्त उनकी चमक बढ़ाने के लिए उनमें माइका डस्ट और ग्लास पार्टिकल्स भी मिलाए जाते हैं.
– ये तमाम चीज़ें त्वचा पर काफ़ी बुरा प्रभाव डालती हैं. आपको खुजली, त्वचा की ऊपरी परत निकलना, त्वचा का ड्राई होना और स्किन अल्सर तक हो सकता है.
– ये रंग आसानी से नहीं छूटते और स्किन पर व बालों में जम जाते हैं.
– अगर आपको पहले से ही त्वचा की कोई समस्या है, तो वो भी बढ़ सकती है. पिंपल्स से लेकर एक्ज़िमा की तकलीफ़ गंभीर हो सकती है.
– स्काल्प में जमा होने पर ये रंग हेयर फॉल को बढ़ा सकते हैं.
– आंखों में जलन-खुलजी हो सकती है. सांस की तकलीफ़ बढ़ सकती है.

यह भी पढ़ें: मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ।

कैसे बचें इन रंगों के प्रभाव से?
– सबसे बेहतर उपाय है कि नेचुरल रंगों का प्रयोग करें.
– यदि यह संभव न हो, तो होली खेलने से पहले त्वचा और बालों पर तेल लगा लें.
– नाख़ूनों को छोटा रखें, ताकि रंग उनमें न जम सकें और नेल इनामिल लगाएं, जिससे रंगों से बचाव हो सके.
– आई वेयर आंखों को बचाने का बेहतर तरीक़ा है, यदि आंखों में रंग चला जाए, तो फ़ौरन पानी से आंख धोएं.
– कलर को छुड़ाने के लिए त्वचा को ज़ोर-ज़ोर से न रगड़ें. धीरे-धीरे रंग हल्के पड़ते जाएंगे.

किन स्थितियों में लें एक्सपर्ट की मदद?
– यदि आपको अत्यधिक स्किन एलर्जी, रेडनेस और खुजली बढ़ गई हो.
– अगर चेहरे पर सूजन आ गई हो.
– अगर सांस लेने में तकलीफ़ हो रही हो.
– बाल बहुत ज़्यादा झड़ने लगें या एक्ने एकदम से बढ़ जाएं.
– होंठों व नाख़ूनों का रंग नीला पड़ गया हो.

यह भी पढ़ें: मुंहासों से छुटकारा दिलाते हैं 10 आसान घरेलू उपाय

[amazon_link asins=’B06XC45MQY,B079VRLYNK,B06XC45MR2,B079QGJ3PW,B075BSPCF6′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’140f2349-17a1-11e8-9bc9-e183f1a985db’]

मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। (Main Shiv Hun… Main Shiv Hun… Main Shiv Hun)

मैं शिव हूँ, Main Shiv Hun

 

मैं शिव हूँ, Main Shiv Hun

मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। (Main Shiv Hun… Main Shiv Hun… Main Shiv Hun)

विभत्स हूँ… विभोर हूँ…
मैं समाधी में ही चूर हूँ…

मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ।

घनघोर अँधेरा ओढ़ के…
मैं जन जीवन से दूर हूँ…
श्मशान में हूँ नाचता…
मैं मृत्यु का ग़ुरूर हूँ…

मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ।

साम – दाम तुम्हीं रखो…
मैं दंड में सम्पूर्ण हूँ…

मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ।

चीर आया चरम में…
मार आया “मैं” को मैं…
“मैं” , “मैं” नहीं…
”मैं” भय नहीं…

मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ।

जो सिर्फ तू है सोचता…
केवल वो मैं नहीं…

मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ।

मैं काल का कपाल हूँ…
मैं मूल की चिंघाड़ हूँ…
मैं मग्न…मैं चिर मग्न हूँ…
मैं एकांत में उजाड़ हूँ…

मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ।

मैं आग हूँ…
मैं राख हूँ…
मैं पवित्र राष हूँ…
मैं पंख हूँ…
मैं श्वाश हूँ…
मैं ही हाड़ माँस हूँ…
मैं ही आदि अनन्त हूँ…

मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ।

मुझमें कोई छल नहीं…
तेरा कोई कल नहीं…
मौत के ही गर्भ में…
ज़िंदगी के पास हूँ…
अंधकार का आकार हूँ…
प्रकाश का मैं प्रकार हूँ…

मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ।

मैं कल नहीं मैं काल हूँ…
वैकुण्ठ या पाताल नहीं…
मैं मोक्ष का भी सार हूँ…
मैं पवित्र रोष हूँ…
मैं ही तो अघोर हूँ…

मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ।

शिवरात्रि की शुभकामनाएं आप सभी को

यह भी पढ़ें: लक्ष्मी जी की आरती

यह भी पढ़ें: पावर ऑफ हनुमान चालीसा

[amazon_link asins=’B019DKE120,B077ZDBQ2Q,B072MFL2YF,B00J88J2OA’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=”]

भाई दूज के पावन अवसर को यूं करें सेलिब्रेट (Bhai Dooj Celebration)

Bhai Dooj Celebration

Bhai Dooj Celebration

भैया दूज
दिवाली के अंतिम दिनों का पांचवां त्योहार भैया दूज है.
  • भाई दूज के दिन विवाहित या अविवाहित बहनों को प्रात: स्नान आदि से निपटकर भाई के स्वागत की तैयारी करनी चाहिए.
  • इस दिन यम की पूजा या भाई के आवभगत का तरीक़ा अलग होता है. इसके अनुसार बहनों को भाई के माथे पर तिलक लगाकर उनकी आरती उतारनी चाहिए और कलावा बांधकर मुंह मीठा करने के लिए उन्हें माखन-मिश्री खिलानी चाहिए.
  • इस विधि के संपन्न होने तक दोनों को व्रती रहना चाहिए.
  • बहनों को शाम के समय यमराज के नाम से चौमुख दीया जलाकर घर के बाहर रखना चाहिए. इस समय आसमान में चील उड़ती दिखाई देने पर बहुत ही शुभ माना जाता है.
  • इस संदर्भ में मान्यता यह है कि बहनें भाई की आयु के लिए जो दुआ मांग रही हैं, उसे यमराज ने क़बूल कर लिया है.यह भी पढ़ें: दिवाली स्पेशल: टॉप 5 रंगोली डिज़ाइन्स से करें ख़ुशियों का स्वागत

      यह भी पढ़ें: मनाएं सेफ और हेल्दी दिवाली

क्या करें?
  • भाई को अपनी विवाहिता बहन के घर अवश्य जाना चाहिए.
  • बहन को अपने भाई का आतिथ्य सत्कार करना चाहिए और तिलक लगाकर उनके उज्ज्वल भविष्य, जीवन, स्वास्थ्य आदि की कामना करनी चाहिए.
क्या न करें?
  •  भाई को अपने घर बहन के आने का इंतज़ार नहीं करना चाहिए, बल्कि उसे ही बहन के घर जाना चाहिए.
  • बहन यमदेव की पूजा तक कुछ भी न खाए-पीए.

– मनीषा कौशिक

(वास्तु-फेंगशुई एक्सपर्ट)

[amazon_link asins=’B013RIQ4K6,B0119PTX48,B01BQ7VTZA,B073S665L9,B0768JHDZ4′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’c52b7f35-b4b2-11e7-a614-a9ff6480c960′]

दिवाली पार्टी करें इन 12 पंजाबी डांस नबंर्स के साथ (Top 12 Punjabi Dance Songs To Get Diwali Party Started!)

Top Punjabi Dance Songs

दिवाली पर फैमिली और दोस्तों संग के साथ पार्टी तो बनती ही है. लेकिन हर पार्टी अधूरी है पंजाबी गानों के बिना. जब तक पार्टी में पंजाबी डांस नंबर्स का तड़का न लगे, तब तक मज़ा नहीं आता है. इस दिवाली पर हम आपके लिए चुनकर लाए हैं 12 पंजाबी गाने, जो आपके फेस्टिवल को बनाएंगे और भी ख़ास.

हाई रेटेड गबरू- गुरु रंधावा

3 पेग- शैरी मान

वखरा स्वैग- नव इंदर, बादशाह

सूट- गुरु रंधावा, अर्जुन

[amazon_link asins=’B0188PIYI8′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’765b3258-b3da-11e7-ad9a-5d1f64763540′]

ऑल ब्लैक- रफ़्तार

लेम्बोर्गिनी- दिलजीत दोसांझ

[amazon_link asins=’B00QRVIX1E,B075WVVBDY’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’9551ae17-b3da-11e7-b95c-47479b3d9d18′][amazon_link asins=’B00QRVIX1E,B075WVVBDY’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’95a32985-b3da-11e7-b406-f7975060b67b’]

मर्सी- बादशाह

लव डोज़- यो यो हनी सिंह

यह भी पढ़ें: ड्रीमगर्ल हेमा मालिनी 69 की उम्र में भी ख़ूबसूरत….देखें उनके टॉप 20 गाने

एम्लिफायर- इमरान खान

रिंग- नेहा कक्कर, जतिन्दर जीतू

लौंग गवाचा- नेहा भसिन

चार बॉटल वोडका- यो यो हनी सिंह

दिवाली स्पेशल: लक्ष्मी जी की आरती (Aarti- Lakshmi Ma)

Aarti godess Lakshmi ji maa

लक्ष्मी जी की आरती (Aarti- Lakshmi Ma)

Aarti godess Lakshmi ji maa

जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता ।
तुमको निशदिन सेवत, हर विष्णु विधाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

ब्रह्माणी रूद्राणी कमला, तू ही है जगमाता ।
सूर्य चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

दुर्गा रूप निरंजन, सुख सम्पति दाता ।
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि सिद्धि धन पाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

तू ही है पाताल बसन्ती, तू ही है शुभ दाता ।
कर्म प्रभाव प्रकाशक, भवनिधि से त्राता ॥
जय लक्ष्मी माता…

जिस घर थारो वासो, तेहि में गुण आता ।
कर न सके सोई कर ले, मन नहीं धड़काता ॥
जय लक्ष्मी माता…

तुम बिन यज्ञ न होवे, वस्त्र न कोई पाता ।
खान पान को वैभव, सब तुमसे आता ॥
जय लक्ष्मी माता…

शुभ गुण सुंदर मुक्तता, क्षीर निधि जाता ।
रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

आरती लक्ष्मी जी की, जो कोई नर गाता ।
उर आनन्द अति उपजे, पाप उतर जाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

स्थिर चर जगत बचावे, शुभ कर्म नर लाता ।
राम प्रताप मैया की शुभ दृष्टि चाहता ॥
जय लक्ष्मी माता…

यह भी पढ़ें: दिवाली के 5 दिन शुभ फल प्राप्ति के लिए क्या करें, कैसे करें?

यह भी पढ़ें: मनाएं सेफ और हेल्दी दिवाली

श्री गणेश जी की आरती 

Aarti lord ganesh ji

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

एक दंत दयावंत चार भुजा धारी।

माथे सिंदूर सोहे मूसे की सवारी ॥

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया।

बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया ॥

जय…

हार चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा।

लड्डुअन का भोग लगे संत करें सेवा ॥ जय…

दीनन की लाज रखो, शंभु सुतकारी।

कामना को पूर्ण करो जाऊं बलिहारी॥

जय..

[amazon_link asins=’B075R4SNKR,B01L3MBG1U,B01HA4I4NI’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’40d22a39-b237-11e7-aad0-b3b17632a053′]