Tag Archives: film stars

April Fool’s Day- जब अप्रैल फूल बने सितारे… (When Bollywood Stars Got Pranked On April Fool’s Day)

Film April Fool 2

अप्रैल की पहली तारीख़ यानी मूर्ख बनाने का सुनहरा अवसर. इसमें फिल्मी सितारे भी ख़ूब फूल बनते रहे हैं. आइए, कुछ ऐसे ही दिलचस्प वाक्ये के बारे में जानते हैं.

 

अमिताभ के नाम पर अप्रैल फूल बनाया

एक बार अजय देवगन ने एक मशहूर पीआर को मैसेज करके अमिताभ बच्चन के घर पर पहुंचने के लिए कहा. उस पीआर ने इस बात को गंभीरता से लेते हुए अमितजी के घर पर सुबह-सुबह पहुंच गया. अमितजी के पूछने पर कहने लगा कि आपने ही तो मैसेज करके बुलाया है. अमितजी ताज्जुब में पड़ गए कि भला मैंने कब बुलाया. लेकिन जब काफ़ी पूछताछ की गई तब पता चला कि यह बदमाशी अजय देवगन की थी. दरअसल, अजय देवगन के पास एक सॉफ्टवेयर था, जिससे वे किसी के नंबर से किसी को भी मैसेज कर सकते थे. इसी का फ़ायदा उठाकर उन्होंने अमिताभ और पीआर दोनों को ही अप्रैल फूल बना डाला.

 

विद्या ने खाया मुक्का

हुआ यूं कि किसी ने फर्स्ट अप्रैल के दिन विद्या बालन को एक तोहफ़ा भेजा. उन्होंने बड़ी ख़ुशी के साथ उस तोह़फे को खोला, तो अंदर से
स्प्रिंगवाला एक पंचिंग बैग निकला और साथ में एक ज़ोरदार मुक्का उनके मुंह पर लगा. एक पल के लिए वे स्तब्ध रह गईं. बाद में उनकी समझ में आया कि किसी ने उन्हें बेव़कूफ़ बनाया.

 

जब शाहरुख बने बेव़कूफ़

कुछ साल पहले शाहरुख ख़ान की एक प्रेस कॉन्फ्रेंस पहली अप्रैल को ही थी. इत्तेफ़ाक़ से वे उस दिन देरी से आए. जब वे वहां पर पहुंचे, तब सभी मीडिया के लोग, ख़ासकर
पत्रकार तबका उन्हें बॉयकॉट करके जाने लगा. शाहरुख बेहद हैरान-परेशान हो गए. उनकी समझ में नहीं आ रहा था कि वे क्या करें और उनसे ऐसी क्या ग़लती हो गई कि सभी मीडियावाले प्रेस कॉन्फ्रेंस छोड़कर जा रहे हैं. बाद में सभी पत्रकार हंसने-मुस्कुराने लगे, तो उन्हें समझ में आया कि वे बेव़कूफ़ बन गए हैं. इसी वाक्ये से शाहरुख ने यह क़बूल किया कि पत्रकारों से बेहतर कोई और मूर्ख नहीं बना सकता.

आलिया हुई गंजी

पहली अप्रैल को किसी ने यह अफ़वाह उड़ा दी कि आलिया भट्ट अपनी एक फिल्म के लिए बाल्ट यानी गंजी होनेवाली हैं. यह ख़बर इस कदर आग की तरह फैली कि सच जानने के लिए आलिया को लगातार फोन आने लगे. मज़ेदार बात यह थी कि आलिया ख़ुद इससे अनजान थीं कि उन्हें ऐसा कोई रोल मिला है. दिनभर वे सभी को जवाब देते-देते परेशान हो गईं. बाद में पता चला कि किसी ने उन्हें अप्रैल फूल बनाया.

 

सोनाक्षी की शैतानियां

एक बार सोनाक्षी सिन्हा ने अपनी एक टीचर को और अपने बेस्ट फ्रेंड को जिसका टीचर पर क्रश था, बेव़कूफ़ बनाकर लंच पर इन्वाइट किया. फिर वहां पर वे भी अपनी पूरी गैंग के साथ पहुंची. उसके बाद सभी ने मिलकर उन दोनों की जो हजामत की कि पूछो मत. सोनाक्षी आज भी अपने इन शैतानियों को याद करके हंस पड़ती हैं.

 

करीना के प्रेग्नेंट होने की अफ़वाह

कुछ सालों पहले एक मशहूर वेबसाइट ने यह ख़बर फैला दी थी कि करीना कपूर तीन महीने की प्रेग्नेंट है. यह ख़बर सोशल मीडिया पर इस कदर वायरल हुई कि करीना ने जो फिल्में साइन की थीं उनके प्रोड्यूसर्स ने उन्हें लगातार फोन करके, पूछताछ करके परेशान कर डाला. और फिर अगले दिन उस वेबसाइट ने सफ़ाई दी कि यह ख़बर अप्रैल फूल के लिए थी.

 

जब सनी लियोन बनी फूल

अप्रैल फूल का शिकार तो सनी लियोन भी हो चुकी हैं. फर्स्ट अप्रैल को उन्हें किसी ने फोन किया और कहा की एक मशहूर फिल्ममेकर उन्हें अपनी फिल्म में लेना चाहते हैं और कहानी पर डिसकस करने के लिए उन्हें ताज लैंड होटल (मुंबई) में बुलाया है. सनी बताए गए समय पर वहां पहुंची, पर वहां पर कोई भी नहीं आया. काफ़ी इंतज़ार करने के बाद जब उन्होंने फोन करके जानने की कोशिश की, तो पता चला कि वे तो अप्रैल फूल बन चुकी हैं.

– ऊषा गुप्ता

वैलेंटाइन स्पेशल- प्यार का फ़लसफ़ा… (Valentine Special- Celebrities define ‘Their version of love’)

web-22

प्यार को शब्दों में नहीं बांधा जा सकता, ना ही कोई ख़ास दिन मुकर्रर किया जा सकता है. फिर भी मोहब्बत करनेवालों के लिए वैलेंटाइन डे ख़ास महत्व रखता है, जहां प्यार के इज़हार का ख़ुमार सिर चढ़कर बोलता है. फिल्मों ने तो इसे ख़ास मुक़ाम दिया है, फिर चाहे वो ′दिल तो पागल है’ हो या ‘बागबां’… उम्र की सीमा को दरकिनार कर प्यार को नया आयाम दिया गया. जब हमने फिल्मी सितारों से प्यार के बारे में जानना चाहा, तो हर किसी ने प्यार का अलग-अलग रूप और फ़लसफ़ा बयां किया. किसी के लिए प्यार ज़िंदगी है, तो किसी के लिए ताउम्र की कसक. आइए, प्यार के कई रंग, कई रूप से रू-ब-रू होते हैं.

 

शाहरुख ख़ान
मुझे इस बात की बेहद ख़ुशी है कि मेरे जीवन में गौरी (पत्नी) का प्यार और साथ है. गौरी की ईमानदारी और मुझे लेकर प्राउड फील करना दिल को छू जाता है. गौरी मेरे नाम-शोहरत और अचीवमेंट्स की वजह से मुझसे प्यार नहीं करती, बल्कि मैं उसे ख़ुश रखता हूं और हंसाता रहता हूं, ये सब बातें उसे मेरे क़रीब लाती हैं. वो मेरे जीवन के कई पॉज़ीटिव बदलाव की वजह रही है. उसने मुझे सलीके से रहना यानी कह सकते हैं कि ढंग से जीना सिखाया और मेरे जीवन में स्थिरता लाई है. वो मुझे डिप्लोमैटिक होने के बारे में भी बताती रहती है. एक-दूसरे की यही सब छोटी-छोटी बातें, ख़्याल रखना, ख़ुश रखना हमारी प्यार भरी दुनिया को ख़ूबसूरत बनाता है.
दीपिका पदुकोण
मैं पुराने स्कूल के दिनों के प्यार में विश्‍वास करती हूं, जो मैंने अपने पैरेंट्स और परिवार में फलते-फूलते और बढ़ते हुए देखा है. फिल्मों में और अपने क़िरदारों में मैं चाहे जैसे रहूं, पर व्यक्तिगत तौर पर मैं बहुत ट्रेडिशनल हूं. यही भावनाएं प्यार को लेकर भी हैं. प्यार के कारण ही हम बहुत कुछ सीखते और समझते हैं. जाने-अनजाने में प्यार हमें ज़िंदगी के कई फ़लस़फे सिखा जाता है.

 

आमिर ख़ान
प्रेम जब होने लगता है, तो आप ख़ुद में बदलाव महसूस करने लगते हैं. जब कभी अपने अतीत के पन्ने पलटता हूं, तो प्यार के अपने सभी पड़ावों को याद कर इमोशनल हो जाता हूं. टीनएज में जब मैं 12 साल का था, तब मैं अपने से बड़ी उम्र की लड़की से प्यार कर बैठा था. उस लड़की ने मुझसे सवाल किया था कि मैं प्यार के बारे में कितना जानता हूं. उसके बाद जब 14 साल का हुआ, तब फिर वही सुनने को मिला. लेकिन जब रीना (पहली पत्नी) से मिला और बात आगे बढ़ी, तब सही तौर पर प्रेम मैं समझ पाया. यह भी सच है कि प्यार जीवन के किसी भी दौर में हो सकता है. मोहब्बत एक सहज और बिन कहे अपने आप हो जानेवाली प्रक्रिया है. प्रेम को परिभाषित करना या फिर इसे शब्दों में बांधना बहुत ही मुश्किल है.
करीना कपूर
मेरी हमेशा से ही एक अच्छी और प्यारभरी ज़िंदगी की ख़्वाहिश रही, जिसे सैफ ने बख़ूबी पूरा किया. वे एक ख़ुशमिज़ाज प्रेमी ही नहीं, बल्कि ज़िम्मेदार और समझदार पति भी हैं. चाहे फिल्मी करियर हो या घर- उन्होंने हमेशा मुझे सपोर्ट किया. उनका यही प्यार मुझे उनके और भी क़रीब ले आता है.

 

अक्षय कुमार
प्यार सही मायने में ज़िंदगी है. इसके बिना क्या जीना…? और ज़िंदगी एक ऐसा सफ़र है, जिसको जीते हुए हम हर दौर से गुज़रते हैं, मगर ख़ुश रहकर और हंसते रहना सही मायने में ज़िंदगी है.

 

विद्या बालन
जब आप किसी से प्यार करते हैं, तो आपको उसकी हर बात अच्छी लगने लगती है. सिद्धार्थ (पति) के साथ दोस्ती हुई, फिर दोस्ती कब प्यार में बदल गई पता ही नहीं चला. मुझे बेहद ख़ुशी होती है यह देखकर कि मुझसे ज़्यादा उन्हें मेरी ख़ुशियों का ख़्याल रहता है. मैंने अपने क़रीब के कई शादीशुदा बहुत ही प्यार करनेवाले लोगों को देखा है, जब सिद्धार्थ को ऐसा करते देखती हूं, तो उन पर बहुत प्यार आता है. यह हमारा प्यार ही तो है, जो हम कितना भी बिज़ी शेड्यूल हो, एक-दूसरे के साथ व़क्त गुज़ारने के लिए समय निकाल ही लेते हैं.

 

रितिक रोशन
मैं अपनी ज़िंदगी में किसी एक शख़्स से पूरी ज़िंदगी प्यार करनेवाले कॉन्सेप्ट में विश्‍वास रखता हूं. मैं ख़ुद को एक इनक्योरेबल रोमांटिक इंसान समझता हूं. मेरा यह भी मानना है कि छोटी-छोटी बातें प्यार और रिश्ते में बड़ा अंतर पैदा कर देती हैं. फिर भी मेरा यह मानना है कि प्यार एक जुनून है, हद तक ग़ुजर जाने का जज़्बा है.

 

सोनम कपूर
हर इंसान के दिल में प्यार की चाहत तो होती ही है. मुझे नहीं लगता कि आपको केवल एक बार ही प्यार होता है. मैंने देखा है कि कितने ही लोगों को कई बार और ज़िंदगी के अलग-अलग पड़ाव पर प्यार हुआ है. इसलिए प्यार हो जाने का कोई फिक्स फॉर्मूला नहीं है. फ़िलहाल मेरी प्रेम कहानी तो सफल हुई नहीं है और मैं अकेली हूं. लेकिन इतना तो तय है कि प्यार हर किसी को होता है.

 

रणबीर कपूर
व्यक्तिगत रूप से मेरे लिए प्यार बहुत ख़ास और ज़िंदगी का ज़रूरी हिस्सा है. यूं तो ज़िंदगी में बहुत सारी आम बातें होती रहती हैं, लेकिन प्यार उन सब में सबसे जुदा यानी एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी है. प्यार को लेकर मेरे कई सपने हैं और मैंने बहुत कुछ सोचा भी है, साथ ही मुझे उम्मीद है कि मैं इसे पाकर रहूंगा.

 

प्रियंका चोपड़ा
मैं प्यार में बेहद विश्‍वास करती हूं. मेरी नज़र में प्यार निःस्वार्थ और पाक़ होता है. वैसे प्यार के मामले में सही निर्णय दिल ही लेता है. जब दो लोग एक-दूसरे का ख़्याल रखते हैं, तब वे मिलकर हमेशा एक सही निर्णय लेते हैं. एक तरह से देखें, तो मेरे नज़रिए से प्यार पूरी तरह से सामंजस्य और समझौते की नींव पर टिका होता है.

web-333

शाहिद कपूर
मैं तो बस इतना जानता हूं कि प्यार दिल से होता है. जब कोई किसी के प्यार में दीवानगी की हद से गुज़रने लगता है, तो उसके लिए दूसरी सभी बातें बेमानी-सी हो जाती हैं. प्यार एक नशा और बेताबी भी है. मैंने महसूस किया है कि जब हम प्यार में होते हैं, तब हम पूरी तरह अपने प्यार की ख़ुमारी में गुम रहते हैं. हर बात को लेकर बेहद जज़्बाती हो जाते हैं. हर पल मिलने की बेचैनी और बेकरारी रहती है. पर प्यार अपने प्योर फार्म में पूरी तरह से दिल से होना चाहिए.

रानी मुखर्जी
मैं तो सोचती हूं कि प्यार पल भर में हो जानेवाली एक ख़ूबसूरत घटना है. इसमें इतनी ताक़त होती है कि एक-दूसरे का साथ ज़िंदगीभर निभाने का एहसास होने लगता है और यही इसकी सबसे बड़ी ख़ासियत है. वैसे मैं पहली नज़र में प्यार वाली बात पर यक़ीन नहीं करती. क्योंकि पहली नज़र में तो आप किसी पुरुष की तरफ़ आकर्षित भर होते हो. प्यार तो समय और बार-बार साथ की चाह रखता है. साथ व़क्त बिताने से ही तो प्यार पनपता, फलता-फूलता और बढ़ता है. तभी हम समझ पाते हैं कि एक-दूसरे से हम कितना प्यार करते हैं.
इमरान ख़ान
ज़िंदगी जीने के लिए प्यार बेहद ज़रूरी है. मैं और अवंतिका (पत्नी) बारह साल से एक साथ हैं. मैं उन पर बहुत डिपेंड रहता हूं. प्यार में हर एक का रिलेशनशिप अलग होता है. दो लोगों के रिश्ते की बात किसी तीसरे व्यक्ति की समझ में नहीं आएगी. इसलिए आप किसी को सलाह भी नहीं दे सकते कि उसे रिलेशनशिप मेंटेन करने के लिए क्या करना चाहिए. ये आपको ख़ुद समझना पड़ता है. प्यार से जुड़ी भावनाएं और सोच हर किसी की अलग-अलग होती हैं.

 

सोहा अली ख़ान
मैं और कुणाल एक-दूसरे को लेकर बहुत पज़ेसिव हैं. वैसे भी प्यार में पज़ेसिवनेस तो रहता ही है. आप अपने प्यार को किसी के साथ बांट नहीं सकते. कुणाल को फिल्मों में मेरा दूसरे कलाकारों के साथ रोमांटिक सीन बिल्कुल भी पसंद नहीं. उसे ऐसा देखकर बहुत ग़ुस्सा आता है. वो नहीं चाहता कि कोई और मेरे इतने क़रीब आए. यही हाल मेरा भी है, जब मैं कुणाल को दूसरी हीरोइन्स के साथ लव सीन करते देखती हूं. दरअसल, प्यार में आप इस कदर पज़ेसिव हो ही जाते हैं, लेकिन प्रोफेशन और कहानी की डिमांड के कारण ऐसे सीन हमें करने पड़ते हैं.
समीर कोचर
प्यार एक दोस्ती है. मेरे लिए वो साथ होने का एहसास है. प्यार दिल से होता है, चाहे वो दोस्त हो, पत्नी हो या परिवार. किसी से दिल से प्यार करना ज़िंदगी में एक इंसान को और भी अच्छा बनाता है. प्यार एक ऐसी पवित्र भावना है, जिसे हर इंसान को महसूस करना चाहिए. ज़िंदगी में प्यार ही है, जो एक इंसान को दूसरे इंसान से जोड़ता है.

 

प्राची देसाई
प्यार मेरे लिए भावनाओं का समंदर है. हां, मैं किसी को प्यार करती हूं, पर इस बारे में इतना ही कहूंगी कि कुछ चीज़ें बहुत व्यक्तिगत होनी चाहिए. मेरा सोचना था कि मैं मिस्ट्री बनी रहूं, पर मैं यह भी नहीं चाहती कि कोई मुझे बोरिंग समझे. मैं प्यार-हार्टब्रेक इन सबसे गुज़री हूं. मेरा दिल कई बार टूटा है और जब ऐसा होता है, तो मैं ख़ूब सारी चॉकलेट्स खाती हूं. इमोशनल शोज़ देखती हूं. मेरे दोस्त मुझे ज़बरदस्ती बाहर घूमने-फिरने के लिए ले जाते हैं. फिर भी चाहे जो हो, प्यार होना एक लवली फीलिंग है, जिसे हर किसी को जीना चाहिए.

 

सुशांत सिंह राजपूत
मेरे ख़्याल से आप रिलेशनशिप में रहें या ना रहें, आपमें इतना कॉन्फिडेंस होना चाहिए कि आप अपने प्यार को क़बूल कर सकें और उसके बारे में कह सकें. यदि कोई ऐसा नहीं करता या छुपाता है, तो बेहतर होगा कि आप प्यार ही न करें.

 

शरमन जोशी
यदि आप अपने साथी के साथ दोस्त की तरह रहते हैं, तो प्यार कभी ख़त्म नहीं होता. मैं और प्रेरणा (पत्नी) एक-दूसरे को बरसों से जानते हैं. बच्चे हुए काफ़ी व़क्त बीता, पर एक-दूसरे के लिए हमारे प्यार में कोई बदलाव नहीं आया है, क्योंकि हम एक दोस्त की तरह रहे हैं यानी आप कह सकते हैं कि प्यार दोस्ती है.

 

रेखा
मैं किसी को प्यार करती हूं, मुझे इसके अलावा और किसी बात से मतलब कभी नहीं रहा. हम सभी के जीवन में प्यार काफ़ी मायने रखता है. इस एहसास में इतनी ख़ुमारी रहती है कि कोई अपना पूरा जीवन अपने प्यार पर कुर्बान कर सकता है. आप किसी को चाहते हैं और कोई आपको, यह एहसास आपके जीने का सबब बन जाता है. और हां, प्यार में पाना ही सब कुछ नहीं होता. प्यार करने और उसे जी लेने की ख़ुशी ही आपकी ज़िंदगी में असीम तृप्ति और संतुष्टि ला देती है. मेरे लिए प्यार, अनकहे, अनजाने जज़्बातों से भरा वो समंदर है, जिसके लिए कभी-कभी पूरी ज़िंदगी भी कम पड़ जाती है.
– ऊषा गुप्ता

जानें फिल्म स्टार्स के फिटनेस सीक्रेट्स(Fitness secret of film stars)

Fitness secret of bollywood film stars

फिल्मी सितारों की ख़ूबसूरत  बॉडी, स्टाइल और फिटनेस के सभी दीवाने हाते हैं, हर कोई उनके फिटनेस का राज़ जानना चाहता है. तो आइए, जानते हैं कुछ फिल्म स्टार्स के फिटनेस सीक्रेट्स.

शिल्पा शेट्टी

Fitness secret of bollywood film stars

ऐसी बात नहीं है कि मैं रोज़ जिम जाती हूं, लेकिन हफ़्ते में तीन दिन जिम ज़रूर जाती हूं, वह भी अपनी फिगर के लिए नहीं, बल्कि फिट रहने के लिए जाती हूं. हां, मैं रोज़ाना घर पर ही दो घंटे नियमित रूप से योगा करती हूं. भले ही जिम तीन दिन की जगह हो दिन ही जाऊं, पर योगा मैं हर रोज़ नियम के साथ करती हूं और यही मेरे फिट होने का राज़ है.

कैटरीना कैफ

5

 

मैं अपने डायट को लेकर बहुत कॉन्शियस हूं. इसके अलावा रेग्युलर जिम जाती हूं. मेरा फिटनेस मंत्र है- राइट डायट ऑन राइट टाइम, क्योंकि यदि आप समय पर भोजन नहीं करते, तो इसका असर आपके हेल्थ, फिटनेस और मूड सब पर पड़ता है. योग मेरी लाइफ में बहुत इम्पॉर्टेट है. मैं रेग्युलर और डिसिप्लिन के साथ योग अभ्यास करती हूं. मेरे वर्कआउट में जिम, वेट ट्रेनिंग व योग शामिल है. मैं लक्विड यानी जूस, सूप, शरबत आदि अधिक लेती हूं, जिससे रिफ्रेश व फिट महसूस करती हूं.

मलाइका अरोड़ा ख़ान

4

फिट रहने के लिए मैं हफ़्ते में कम से कम तीन दिन डेढ़ घंटा जिम में ज़रूर बिताती हूं. जिम में मैं अलग-अलग तरह की एक्सरसाइज़ करती हूं, ताकि बॉडी के हर हिस्से की एक्सरसाइज़ हो जाए व हेल्दी डायट ही लेती हूं.
सोनम कपूर
मैंने अपनी फिटनेस के लिए बहुत कुछ किया है. आपको सुनकर ताज्जुब होगा कि फिल्मों में आने से पहले मैं बहुत मोटी थी. उस समय मेरा वज़न 86 किलो से भी अधिक था. लेकिन अब मैं फिट हूं और इसका क्रेडिट मैं बैलेंस्ड फूड, ख़ूब पानी पीने व नियमित रूप से एक्सरसाइज़ को देती हूं.

बिपाशा बसु

6

मैं फिटनेस के लिए कुछ एक्स्ट्रा नहीं करती. मैं तो किसी भी तरह के खाने-पीने से परहेज़ नहीं करती. जो भी अच्छा लगता है उसे खाती हूं. लेकिन मैं लिफ्ट की जगह सीढ़ियों का इस्तेमाल अधिक करती हूं. नियमित योग करती हूं. हफ़्ते में चार दिन एक्सरसाइज़ भी करती हूं. किसी की भी फिटनेस पचास प्रतिशत डायट व पचास प्रतिशत एक्सरसाइज़ कर निर्भर करती है.

इन मेल स्टार्स की फिटनेस के भी हैं लोग दीवाने

अक्षय कुमार

मैं फिटनेस के लिए सुबह के रूटीन वर्क को अधिक महत्व देता हूं. मेरे दिन की शुरुआत गर्म नींबू पानी से होती है. उसके बाद धीमे कार्डियो से शुरुआत करता हूं, ताकि शरीर तुरंत फैट जलने के मोड़ पर जा सके. सुुबह आपका पेट क्लीन होना भी ज़रूरी है, ताकि आपका मेटाबॉलिज़्म बढ़ सके. अपनी बॉडी को फिट व स्टैमिना को बनाए रखने के लिए मैं वॉकिंग भी बहुत करता हूं. इसके अलावा हफ़्ते में तीन बार बास्केट बॉल खेलता हूं और दौड़ता भी हूं.

 

रितिक रोशन

मैं हफ़्ते में चार बार कार्डियो व ऐब्स की ट्रेनिंग लेता हूं. सुबह ब्रेकफास्ट के बाद 20 मिनट कार्डियो एक्सरसाइज़ करता हूं. शाम को शूटिंग से आने के बाद भी ऐसा ही करता हूं. साथ ही फिट रहने के लिए स्विमिंग, रनिंग व अन्य कई प्रकार की कार्डियोवैस्कुलर मशीनों का इस्तेमाल करता हूं.

रणबीर कपूर

मैं अपने ट्रेनर के कहने के अनुसार, हफ़्ते में कम से कम छह दिन जिम में 45 मिनट से एक घंटे तक कार्डियो एक्सरसाइज़ करता हूं. मैं
अलग-अलग दिन बॉडी के अलग-अलग हिस्सों, जैसे- चेस्ट व बैक, शोल्डर, लेग्स, बाइसेप्स पर अधिक ध्यान देता हूं. मेरे कार्डियो एक्सरसाइज़ में क्रन्चेज़ व पुशअप्स शामिल हैं.

जॉन अब्राहम

मैं हमेशा कहता हूं कि हेल्दी जीवन एक टेबल स्टैंड की तरह है, जिसमें अच्छी रेग्युलर
एक्सरसाइज़, अच्छी नींद व अच्छा खाना शामिल है. इनके बिना आप हेल्दी लाइफ की कल्पना नहीं कर सकते. अपने ऐब्स के लिए मैं
कार्डियोवैस्कुलर व वेट लिफ्टिंग ट्रेनिंग लेता हूं. मैं रेग्युलर रूप से दिन में दो से तीन घंटे तक एक्सरसाइज़ करता हूं.

– ऊषा गुप्ता