filmmaker

Actor-Director-Writer Neeraj Vora Passes Away

ऐक्टर-डायरेक्टर-राइटर का गुरुवार की सुबह 4 बजे निधन हो गया. मुंबई के क्रिटी केयर अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली. मल्टी ऑर्गन फेल्योर की वजह से उनका निधन हो गया. नीरज लंबे समय से बीमार थे. पिछले साल उन्हें ब्रेन स्ट्रोक और हार्ट अटैक आया था, जिसके बाद वो कोमा में चले गए थे. दिल्ली के एम्स अस्पताल में उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. इस मुश्किल घड़ी में उनके दोस्त साजिद नाडियाडवाला ने उनका साथ दिया और वो नीरज को अपने मुंबई स्थित बंगले बरकत में ले आए. उन्होंने अपने बंगले का एक कमरा आईसीयू में तब्दील कर दिया था. नीरज के देखरेख के लिए वहां 24 घंटे एक नर्स, वॉर्ड ब्वाय रहते थे. इसके अलावा डॉक्टर्स आकर उनका इलाज करते रहते थे. बीच में उनकी तबियत में सुधार भी आया था, लेकिन पिछले चार दिनों में उनकी तबियत फिर बिगड़ गई थी. साजिद ने नीरज की मौत की जानकारी देते हुए कहा कि मैं अपने दोस्त और भाई को बचाने की लड़ाई हार गया.

फिल्मी सफ़र

नीरज बेहद ही टैलेंट ऐक्टर, राइटर और डायरेक्टर थे. बीमार पड़ने से पहले नीरज अपनी फिल्म हेरा फेरी 3 पर काम कर रहे थे. इससे पहले उन्होंने फिर हेरा फेरी और खिलाड़ी 420 जैसी फिल्मों का निर्देशन भी किया था. नीरज तब सुर्खियों में आए जब उन्होंने सुपरहिट फिल्म रंगीला के डायलॉग्स लिखे. इसके बाद उन्होंने अकेले हम अकेले तुम, ताल, जोश, बदमाश, चोरी चोरी चुपके चुपके, आवारा पागल दीवाना के लिए भी डायलॉग्स लिखे थे.

यह भी पढ़ें: HBD: पति के साथ थाईलैंड में बर्थडे सेलिब्रेट करेंगी इशिता, देखें पिक्स

परेश रावल सहित कई सेलेब्स ने नीरज की मौत पर दुख जताया है.

मेरी सहेली की ओर से टैलेंट ऐक्टर नीरज वोरा को भावभीनी श्रद्धांजलि.

Geeta-Kapoor

पर्दे पर चमकते सितारे कभी-कभी इतने अकेले हो जाते हैं कि उनकी खोज-ख़बर लेने वाला भी कोई नहीं होता. ऐसा ही कुछ हाल है पाक़ीज़ा फिल्म के ऐक्ट्रेस गीता कपूर का. 58 साल की गीता को उनके अपनों ने दर्द दिया है. गीता के बेटे ने कुछ महीने पहले गोरेगांव के एसआरवी हॉस्पिटल में उन्हें भर्ती कराया था, लेकिन फिर वो कभी लौटा ही नहीं. गीता बेटे का इंतज़ार करती ही रह गईं. बेटे को याद करके गीता की आंखें नम हो जाती हैं. अस्पताल में उनकी देखरेख करने वाला कोई नहीं था. अस्पताल का बिल भी बाक़ाया था. ख़बरें हैं कि अस्पताल ने कई बार गीता के बेटे राजा को फोन भी लगाया, लेकिन उन्होंने फोन तक नहीं उठाया. गीता की बेटी पूजा ने भी अस्पताल के फोन का कोई जवाब नहीं दिया. यह ख़बर जब फिल्ममेकर अशोक पंडित और रमेश तौरानी तक पहुंची, तो दोनों ही गीता की मदद के लिए आगे आए और हॉस्पिटल का बिल भरकर गीता को डिस्चार्ज कराया.