Tag Archives: Films

मूवी रिव्यू: लुका छुपी/सोनचिड़िया (Movie Review Of Luka Chuppi And Sonchiriya)

 

कार्तिक आर्यन-कृति सेनन (Kartik Aryan-Kriti Sanon) स्टारर लुका छुपी (Luka Chuppi) मूवी जहां दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करने में कामयाब रही है, वहीं सोनचिड़िया (Sonchiriya) में डाकुओं की ज़िंदगी के अनकहे पहलुओं को पूरी ईमानदारी से दिखाया गया है. ये दोनों ही फिल्में अलग-अलग तरीक़ों से दर्शकों को प्रभावित करने में सफल रही हैं. इसके लिए निर्देशक लक्ष्मण उतेकर और अभिषेक चौबे बधाई के पात्र हैं.

Luka Chuppi And Sonchiriya

प्यार की लुका छुपी

कार्तिक आर्यन-कृति सेनन की फ्रेश जोड़ी ने अपनी लव व कॉमेडी के डबल डोज़ से सभी को प्रभावित किया है. लिव इन रिलेशन, छोटे शहर की मानसिकता, आज के युवापीढ़ी की सोच इन सभी का निर्देशक लक्ष्मण उतेकर ने बारीक़ी से चित्रण किया है.

कार्तिक मथुरा के लोकल केबल चैनल का रिपोर्टर है. कृति सेनन, जो राजनेता विनय पाठक की बेटी अपनी पढ़ाई पूरी करके इंर्टनशिप के लिए कार्तिक के चैनल को ज्वॉइन करती है. दोनों एक-दूसरे को चाहने लगते हैं. कार्तिक चाहता है कि इस प्यार को रिश्ते का नाम दे दिया जाए यानी जल्द से जल्द शादी कर ली जाए. लेकिन कृति की सोच थोड़ी अलग है, वो पहले अपने जीवनसाथी को जानना-परखना चाहती है फिर किसी बंधन में बंधना चाहती है. वो लिव इन में रहकर एक-दूसरे को अच्छी तरह से समझने का प्रस्ताव रखती है. लेकिन कार्तिक संयुक्पत परिवार से है और परिवार की सोच पारंपरिक है. उसे यह ठीक नहीं लगता. इसमें उसका दोस्त अपारशक्ति खुराना आइडिया देता है कि ऑफिस के काम से उन्हें कुछ दिनों के लिए शूट के सिलसिले में ग्वालियर जाना ही है, तो क्यों ने वे अपने इस प्रयोग को वही आज़मा लें. कार्तिक-कृति को भी यह ठीक लगता है और वहां पर दोनों लिव इन में रहने लगते हैं. कहानी में ज़बरर्दस्त मोड़ तब आता है, जब कार्तिक के भाई का साला पंकज त्रिपाठी दोनों को वहां देख लेता है और कार्तिक के परिवार को वहां पर ले आता है. तब ख़ूब ड्रामा, डायलॉगबाज़ी, कभी हंसना, तो कभी रोना जैसी स्थिति बनती-बिगड़ती है, पर आख़िरकार परिवारवाले इस रिश्ते को स्वीकार कर लेते हैं.

ज़रा रुकिए, कहानी में एक और ट्विस्ट है, वो कृति के पिताजी विनय पाठक. वे प्रेम व लिव इन के सख़्त ख़िलाफ़ है. इसके लिए उन्होंने न केवल प्रेमी लोगों का बहिष्कार किया है, बल्कि मथुरा में ऐसे जोड़ों का मुंह काला करवाकर उन्हें बेइज़्ज़त भी किया जाता है.

क्या कृति के पिता कार्तिक के साथ उसके रिश्ते को स्वीकार करेंगे? क्या कार्तिक-कृति एक हो पाएंगे या फिर उनकी प्रेम कहानी अधूरी ही रह जाएगी? या फिर दोनों को लुका छुपी की तरह ही अपने रिश्ते को आगे बढ़ाना होगा? इन तमाम सवालों को जानने के लिए थिएटर में फिल्म देखना ज़रूरी है और तब ही आप सभी के उम्दा मनोरंजन का लुत्फ़ उठा पाएंगे.

फिल्म में कई गानों का रीमिक्स है, जो अलग ढंग से लुभाता है. कोका कोला… पोस्टर छपवा दो अख़बार में गाने तो पहले से हिट हो चुके हैं. तनिष्क बागची, अभिजीत वघानी, केतन सोढ़ा के संगीत मधुर हैं. सभी ने बेहतरीन एक्टिंग की है, ख़ासतौर पर अपारशक्ति खुराना, पंकज त्रिपाठी की परफेक्ट कॉमेडी दर्शकों का भरपूर मनोरंजन करती है. कार्तिक आर्यन और कृति सेनन ने भी अपने सहज व सशक्त अभिनय से प्रभावित किया है. इसमें कोई दो राय नहीं कि निर्माता दिनेश विजान ने एक मनोरंजक फिल्म देने की कोशिश की है.

Luka Chuppi And Sonchiriya

डैकेतों की ज़िंदगी से रू-ब-रू कराती सोनचिड़िया

यूं तो डाकुओं के जीवन पर कई फिल्में बनी हैं, जैसे शोले, बैंडिट क्वीन, गुलामी, पान सिंह तोमर आदि. लेकिन सोनचिड़िया जैसा ट्रीटमेंट किसी में नहीं दिखा. निर्देशक अभिषेक चौबे ने बड़ी ख़ूबसूरती से डकैतों के जीवन के विभिन्न पहलुओं परिभाषित किया है. यह फिल्म ग्लैमर नहीं पेश करती, बल्कि सिक्के के दूसरे पहलू को सच्चाई के साथ दिखाती है. डाकुओं के गिरोह का बिहड़ जंगलों में रहना, खाने-पीने के लिए संघर्ष करना, उनकी भावनाएं, दर्द को बख़ूबी दर्शया गया है. साथ ही जात-पांत, भेदभाव, ऊंच-नीच, गरीबी, महिलाओं की स्थिति, पुरुषों की मर्दानगी पर भी करारा कटाक्ष किया गया है.

हर कलाकार ने फिर चाहे उसका रोल छोटा हो या बड़ा अपने क़िरदार के साथ न्याय किया है. सुशांत सिंह राजपूत दिनोंदिन अभिनय की ऊंचाइयों को छूते जा रहे हैं. वे अपने रोल में इस कदर रच-बस गए कि एकबारगी यूं लगने लगता है कि यह डाकू तो कितना इनोसेंट है, आख़िर उसके साथ ही ऐसा क्यों हो रहा है. मनोज बाजपेयी, आशुतोष राणा, रणवीर शौरी, भूमि पेडनेकर अपने लाजवाब अदाकारी से कहानी को बांधे रखते हैं.

रॉनी स्क्रूवाला निर्मित सोनचिड़िया दर्शकों को अपराधियों की एक अलग ही दुनिया से रू-ब-रू कराती है. अनुज राकेश धवन की सिनेमौटोग्राफी काबिल-ए-तारीफ़ है. मेघना सेन की एडिटिंग बेजोड़ है. संगीत ठीक-ठाक है. फिल्म की कहानी अभिषेक चौबे और सुदीप शर्मा ने मिलकर लिखी है. फिल्म में अपराध, मारधाड़, एक्शन-ड्रामा सब कुछ है, जो आमतौर पर पसंद किया जाता है. वैसे डकैतों पर बनी बेहतरीन फिल्मों में से एक है सोनचिड़िया.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ेप्रियंका-निक की हॉट जोड़ी ने मचाया धमाल, देखें वीडियो (Watch Priyanka Chopra And Nick Jonas In Sucker Video)

मूवी रिव्यू: मोहल्ला अस्सी/पीहू- दो ख़ूबसूरत प्रस्तुति- एक व्यंग्यात्मक तो दूसरी में मासूम अदाकारी (Movie Review: Mohalla Assi/Pihu- Remarkable Performances And Thought Provoking Scripts)

 

 Mohalla Assi/Pihu
मोहल्ला अस्सी- धर्म, संस्कृति, राजनीति पर करारा व्यंग्य

एक ओर सनी देओल अलग व दमदार अंदाज़ में नज़र आते हैं मोहल्ला अस्सी में, तो वहीं पीहू में दो साल की बच्ची की मासूम अदाकारी बेहद प्रभावित करती है.

हिंदी साहित्यकार काशीनाथ सिंह की काशी का अस्सी पर आधारित मोहल्ला अस्सी फिल्म धर्म, राजनीति, आस्था, परंपरा आदि के माननेवाले को बहुत पसंद आएगी. भारतीय सोच पर भी करारा व्यंग्य किया गया है. वैसे भी जो मज़ा बनारस में वो न पेरिस में है, न फारस में… इसी चरितार्थ करती है फिल्म. निर्माता विनय तिवारी की यह फिल्म चाणक्य सीरियल व पिंजर मूवी फेम डॉ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी  के बेहतरीन निर्देशन के कारण बेहद आकर्षक व ख़ास बन गई है. बनारस के निवासी, गंगा नदी, घाट, गली-मोहल्ले, वहां के तौर-तरी़के, लोगों की विचारधारा, राजनीति का प्रभाव, धर्म, कर्मकांड सभी का ख़ूबसूरत चित्रण किया गया है.

कहानी बनारस के मोहल्ला अस्सी की है, जहां पर धर्मराज पांडे यानी सनी देओल ब्राह्मणों की बस्ती में अपनी पत्नी साक्षी तंवर और बच्चों के साथ रहते हैं. वे जजमानों की कुंडली बनाते हैं और संस्कृत भी पढ़ाते हैं. अपने धर्म व उससे जुड़ी अन्य बातों को लेकर वे इतने सख़्त रहते हैं कि अपने मोहल्ले में विदेशी सैलानियों को किराए पर घर रहने के लिए नहीं देते और न ही अन्य लोगों को ऐसा करने देते हैं. उनका मानना है कि विदेशियों के खानपान व आचरण के सब गंदा व अपवित्र हो रहा है. लेकिन हालात करवट बदलते हैं और उन्हें आख़िरकार न चाहते हुए वो सब करना पड़ता है, जिसके वे सख़्त ख़िलाफ़ थे. फिल्म में पप्पू चाय की दुकान भी है, जो किसी संसद से कम नहीं. जहां पर वहां के लोग हर मुद्दे पर गरमागरम बहस करते हैं, फिर चाहे वो राजनीति का हो या फिर कुछ और.

सनी देओल अपनी भाव-भंगिमाएं व प्रभावशाली संवाद अदाएगी से बेहद प्रभावित करते हैं. उनका बख़ूबी साथ देते हैं साक्षी तंवर, रवि किशन, सौरभ शुक्ला, राजेंद्र गुप्ता, मिथलेश चतुर्वेदी, मुकेश तिवारी, सीमा आज़मी, अखिलेंद्र मिश्रा आदि. अमोद भट्ट का संगीत स्तरीय है. विजय कुमार अरोड़ा की सिनेमाटोग्राफी क़ाबिल-ए-तारीफ़ है.

Mohalla Assi/Pihu

Pihu

 

पीहू- नन्हीं बच्ची का कमाल

निर्देशक विनोद कापड़ी की मेहनत, लगन और धैर्य की झलकियां बख़ूबी देखने मिलती है पीहू फिल्म में. आख़िरकार उन्होंने दो साल की बच्ची से कमाल का अभिनय करवाया है. कथा-पटकथा पर भी उन्होंने ख़ूब मेहनत की है. निर्माता सिद्धार्थ रॉय कपूर, रोनी स्क्रूवाला व शिल्पा जिंदल बधाई के पात्र हैं, जो उन्होंने विनोदजी और फिल्म पर अपना विश्‍वास जताया. बकौल विनोदजी यह सच्ची घटना पर आधारित है और इस पर फिल्म बनाना उनके लिए किसी चुनौती से कम न था.

फिल्म की जान है पीहू यानी मायरा विश्‍वकर्मा. उस नन्हीं-सी बच्ची ने अपने बाल सुलभ हरकतों, शरारतों, मस्ती, सादगी, भोलेपन से हर किसी का दिल जीत लेती है.

कहानी बस इतनी है कि पीहू की मां (प्रेरणा विश्‍वकर्मा) का देहांत हो चुका है और उनकी बॉडी के साथ वो मासूम बच्ची घंटों घर के कमरे में अकेले व़क्त बिताती है. उसे नहीं पता कि उसकी मां अब इस दुनिया में नहीं है, वो मासूम उनसे बात करती है, घर में इधर-उधर घूमती है, भूख लगने पर गैस जलाकर रोटी भी सेंकने की कोशिश करती है, घर को अस्त-व्यस्त, उल्टा-पुल्टा कर देती है. सीन दर सीन उत्सुकता, डर, घबराहट, बेचैनी भी बढ़ती जाती है. कम बजट में विनोदजी ने लाजवाब फिल्म बनाई है.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े: Deepveer Wedding: शादी में दीपिका ने ओढ़ी ख़ास चुनरी (Deepika Wore Special Chunni On Wedding)

मूवी रिव्यू- बधाई हो: सचमुच बधाई की पात्र है (Movie Review- Badhai Ho: A Well-Deserving And Applause-Worthy Film)

Badhai Ho

पहली बार किसी अछूते विषय पर मनोरंजन से भरपूर फिल्म बनी है. इसके लिए फिल्म के निर्देशक अमित रविंद्रनाथ शर्मा बधाई के हक़दार है. कौशिक परिवार में तब भूकंप आ जाता है, जब दो युवा बच्चों की मां नीना गुप्ता के दोबारा मां बनने का पता चलता है. बड़ा बेटा नकुल यानी आयुष्मान खुराना अपनी गर्लफ्रेंड सान्या मल्होत्रा के साथ शादी करने की प्लानिंग कर रहा है, उस पर उसके लिए मां के मां बनने की ख़बर किसी सदमे से कम नहीं होती.

कौशिक परिवार के मुखिया गजराज राव ने लाजवाब अभिनय किया है. नीना गुप्ता के साथ उनकी जुगलबंदी देखते ही बनती है. नीनाजी की भाव-भंगिमाएं, प्रतिक्रियाएं, संवाद अदायगी दर्शकों को बांधे रखती है. आयुष्मान खुराना तो हमेशा की तरह ज़बर्दस्त व लाजवाब लगे हैं. इस तरह की भूमिकाओं के साथ वे पूरा न्याय करते हैं. उनकी दादी के रूप में बहुत समय बाद सुरेखा सिकरी को पर्दे पर देखना सुखद लगा. बेटे को लेकर शर्मिंदगी, समाज की आरोप-प्रत्यारोप का डर उन्हें हरदम परेशान करता रहता है. सान्या मल्होत्रा ख़ूबसूरत लगी हैं. कमोबेश हर कलाकार ने अपनी भूमिका को बेहतरीन तरी़के से निभाया है. मेरठ-दिल्लीवाला अंदाज़ फिल्म को और भी मजेदार बना देता है.

निर्माता अमित शर्मा, विनीत जैन, एलेया सेन, हेमंत भंडारी को बहुत-बहुत बधाई, जो उन्होंने इस तरह के अलग सब्जेक्ट पर फिल्म बनाने का निर्णय लिया. तनिष्क बागची, रोचक कोहली, सन्नी बावरा की म्यूज़िक दिल को गुदगुदाती और सुकून देती है. बधाइयां तेनू, मोरनी बनके, नैन ना जोडीं… गीतों को गुरु रंधावा, नेहा कक्कड़, आयुष्मान खुराना, बृजेश शंडल्लय, रोमी, जॉर्डन ने दमदार आवाज़ में अच्छा साथ दिया है. शांतनु श्रीवास्तव, ज्योति कपूर व अक्षत घिल्डियाल ने कहानी पर अच्छी मेहनत की है, जो फिल्म में दिखाई देती है. कह सकते हैं कि बहुत दिनों बाद मनोरंजन से भरपूर एक पारिवारिक फिल्म देखने को मिली.

Namaste England

नमस्ते इंग्लैंड- को दूर से ही सलाम

निर्माता-निर्देशन विपुल अमृतलाल शाह की फिल्म नमस्ते लंदन को दर्शकों ने बेहद पसंद किया था. लेकिन उसी का सीक्वल मानकर चल रहे नमस्ते इंग्लैंड में वो पैनापन देखने को नहीं मिला.

परिणीती चोपड़ा के बड़े ख़्वाब हैं. विदेश में जाकर कुछ करना और बनना चाहती है. अर्जुन कपूर से मुलाक़ात, प्यार, शादी पर बाद में नौकरी को लेकर परिवार का विरोध, परिणीती को विद्रोही बना देता है और वो झूठी शादी करके विदेश चली जाती है. अर्जुन कपूर का अवैध तरी़के से पत्नी को लेने इंग्लैंड जाना और वहां पर अति नाटकीयता का सिलसिला चलता रहता है.

अजुर्न-परिणीता ने अच्छा अभिनय किया है, पर कमज़ोर पटकथा, स्तरीय निर्देशन अधिक प्रभावित नहीं कर पाती है. अन्य कलाकारों में सतीश कौशिक, आदित्य सील, अलंकृता सहाय, अनिल मांगे, मनोज आनंद, अतुल शर्मा, हितेन पटेल, डिजाना डेजानोविक आदि ने अपनी-अपनी भूमिकाएं ठीक से निभाने की कोशिश की है. पंजाब व लंदन के लोकेशन ख़ूबसूरत हैं.

रितेश शाह व सुरेश नायर की कहानी में कोई नयापन नहीं है. इयानिस की सिनेमाट्रोग्राफी आकर्षक है. भरे बाज़ार, धूम धड़ाका, तेरे लिए… गाना पहले से ही सभी को पसंद आ रहे हैं. बादशाह, विशाल ददलानी, पायल देव, अंतरा मित्रा, शाहिद माल्या, आतिफ असलम, अकांखषा भंडारी की आवाज़ ने इन गानों को और भी सुमधुर बना दिया है. प्रोपर पटोला गाने का रिक्रिएशन बढ़िया है. बादशाह, ऋषि रिच, मैननान शाह का संगीत लुभाता है.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े: HBD सनी देओलः पढ़िए उनकी फिल्मों के कुछ शानदार और दमदार डायलॉग्स (Powerful Dialogues Of Sunny Deol)

दिव्या दत्ता/सपना चौधरी- लाजवाब अदाकारा जिन्होंने इंडस्ट्री में बनाई अपनी अलग पहचान… (Divya Dutta & Sapna Choudhary: Actresses Who Carved A Niche In The Industry)

आज दिव्या दत्ता (Divya Dutta) और सपना चौधरी (Sapna Choudhary) का जन्मदिन (Birthday) है. दोनों ही कलाकारों ने मनोरंजन की दुनिया में अपने बलबूते पर अपनी ख़ास पहचान बनाई है. आइए, दोनों के ज़िंदगी से जुड़े अनछुए पहलुओं के बारे में जानते हैं.

 

Divya Dutta & Sapna Choudhary

दिव्या दत्ता

* दिव्या दत्ता लुधियाना के पंजाबी हिंदू परिवार से हैं.

* उनकी मां डॉ. नलिनी दत्ता गर्वमेंट ऑफिसर थीं. वे अपनी मां के बेहद क़रीब थीं. उन पर उन्होंने मम्मी एंड मां नामक किताब भी लिखी थी.

* जब वे सात साल की थीं, तब उनके पिता का देहांत हो गया था.

* साल 2016 में ऑपरेशन के कारण हुई मेडिकल प्रॉब्लम्स के चलते उनकी मां का देहांत हो गया था.

* बकौल दिव्या उनकी मां बचपन से हमेशा उनके साथ रहीं, इसलिए उनका यूं अचानक चले जाना सदमे से कम न था.

* इस कारण वे डिप्रेशन का शिकार हो गईं. फिर उन्होंने अपना इलाज करवाया.

* इरादा फिल्म के लिए वे राष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुकी हैं.

* वीर-ज़ारा, भाग मिल्खा भाग, बदलापुर फिल्मों से उन्हें ख़ास पहचान मिली.

* उन्होंने द वर्ल्ड्स बेस्ट बॉयफ्रेंड नामक किताब भी लिखी है.

* हिंदी के अलावा उन्होंने कई बेहतरीन पंजाबी फिल्में भी की हैं.

* फिल्म गिप्पी के सिंगल मदर की भूमिका के लिए उन्हें अपनी मां से प्रेरणा मिली थी, क्योंकि उनकी मां ने बचपन में ही पिता के देहांत के बाद सिंगल पैरेंट के रूप में उनकी और उनके भाई की परवरिश की थी.

* दिव्या को बचपन से ही एक्टिंग का शौक़ था. मुंबई आने से पहले उन्होंने मॉडलिंग व विज्ञापन भी किए थे.

* साल 1994 में फिल्म इश्क़ में जीना इश्क़ में मरना से उन्होंने अपनी फिल्मी करियर की शुरुआत की थी.

* सलमान ख़ान के साथ वीरगति भी की थी, पर फिल्म चल न पाई.

* धीरे-धीरे दिव्या ने सहायक अभिनेत्री के रूप में काम करना शुरू किया, जिसमें वे सफल रहीं.

* द लास्ट ईयर मूवी से उन्होंने अपना इंटरनेशनल फिल्मी करियर शुरू की. इसमें उनके साथ अमिताभ बच्चन, प्रीति जिंटा, अर्जुन रामपाल थे.

* भाग मिल्खा भाग में मिल्खा सिंह की बहन ईश्री कौर की भूमिका में उन्होंने अपनी ज़बर्दस्त छाप छोड़ी. इसके लिए उन्हें आईफा का बेस्ट सर्पोटिंग एक्ट्रेस का अवॉर्ड भी मिला.

* पंजाबी फिल्म शहीद-ए-मोहब्बत बूटा सिंह से उन्होंने पंजाबी फिल्मी करियर का आगाज़ किया. फिर तो सिलसिला-सा चल पड़ा.

* ख़बरों की माने तो लेफ्टिनेंट कमांडर संदीप शेरिगल से उनके रिश्ते को लेकर सुगबुगाहट होती रही है, पर यह कितना सच है, यह तो वे दोनों ही बेहतर जान सकते हैं.

Divya Dutta & Sapna Choudhary

सपना चौधरी

बहुत कम समय में सपना ने इंटरटेनमेंट वर्ल्ड में अपनी एक अलग पहचान बना ली है. बिग बॉस के पिछले सीज़न में तो वे और भी अधिक लाइमलाइट में आ गई थीं. इस भोजपुरी बिजली को उनके आइटम सॉन्ग के लिए भी लोगों ने ख़ूब पसंद किया. उनके परिवार ने उनका जन्मदिन ख़ूब धूमधाम से मनाया.

* सिंगर व डांसर के रूप में सपना ने बहुत से ज़बर्दस्त स्टेज शोज़ किए हैं.

* रोहतक में जन्मी डांसिंग क्वीन सपना के नाच-गाने का दर्शक ख़ूब लुत्फ़ उठाते हैं. इसी के बलबूते पर उन्होंने भोजपुरी, पंजाबी फिल्मों में अपने जलवे बिखेरे हैं.

* सूट तेरा पतला 2 अलबम में उनका तेरी अंखिंया का यों काजल… को लोगों ने इतना अधिक पसंद किया था कि इसे सत्ताइस करोड़ लोगों ने देखा था.

* नानू की जानू में अभय देओल के साथ तेरे ठुमके… पर तो हर कोई फिदा हो गया था. वीरे दी वेडिंग में भी उनका ग़ज़ब का डांस था.

* भोजपुरी फिल्म बैरी कंगना 2 के मेरे सामने आ के… भी ख़ूब पसंद किया गया.

* पंजाबी की जग्गा जियुंदा में उनकी बिल्लौरी अंख सॉन्ग का ऐसा जादू चला कि अब तक पैतालीस लाख से भी अधिक बार देखा जा सुका है.

* उनके हरियाणवी गाने इंग्लिश मीडियम का नशा दर्शकों के सिर इस कदर चढ़ा कि इसे यूट्यूब पर बारह करोड़ से अधिक व्यूज़ मिले थे.

* अब वे हिंदी फिल्मों में भी दोस्ती के साइड इफेक्ट्स से अपने करियर की शुरुआत कर रही हैं. इसमें उनके साथ विक्रांत आनंद, जुबैर ख़ान, अंजू जाधव भी हैं.

दिव्या दत्ता और सपना चौधरी को जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई!

यह भी पढ़े: Photo Gallery: देखिए तैमूर, इनाया, यश और रूही जौहर की क्यूट व नई पिक्स (See Star Kids Recent And New Pics)

WOW! टीवी की नागिन मौनी रॉय सलमान खान के साथ नहीं, बल्कि इस बॉलीवुड ऐक्टर के साथ करेंगी अपनी पहली फिल्म (Mouni Roy Will Make Her Bollywood Debut Opposite This Bollywood star)

Mouni Roy

7_1 (1)

टेलिविजन की नागिन मौनी रॉय जल्द ही बॉलीवुड में एंट्री ले सकती हैं. मॉनी रॉय का शो नागिन 2 टीवी का हाइएस्ट रेटेड शो है. मौनी टीवी का एक बड़ा नाम हैं. ऐसे में उनके फैन्स को इंतज़ार थी कि कब वो फिल्मों में ऐक्टिंग करेंगी. ख़बरें हैं कि अक्षय कुमार की फिल्म गोल्ड के लिए मौनी को अप्रोच किया गया है. पहले ख़बरें थी कि सलमान खान मौनी को लॉन्च करने वाले हैं. ये ख़बरें तब और भी तेज़ हो गईं, जब मौनी सलमान खान के शो बिग बॉस 10 में बतौर गेस्ट पहुंची थीं. फिलहाल जो ख़बरें आ रही हैं, उसके मुताबिक़ मौनी खिलाड़ी कुमार के साथ डेब्यू कर सकती हैं, जिसका निर्देशन रीमा कागती करेंगी. फिलहाल इस ख़बर पर अब तक कोई ऑफिशियल घोषणा नहीं की गई है, लेकिन अगर ये बात सच है तो यक़ीनन अक्षय कुमार के ऑपोज़िट कास्ट होना मौनी रॉय के लिए एक बड़ा ब्रेक साबित हो सकता है.

2016 की 10 बेस्ट बॉलीवुड फिल्में (10 Best Bollywood films of 2016)

Best Bollywood Movies 2016

Best Bollywood Movies 2016
नए साल में रईस, क़ाबिल, रंगून और पद्मावती जैसी ढेर सारी बड़ी फिल्में रिलीज़ के लिए कतार में हैं, मगर पिछले साल यानी 2016 में किन फिल्मों ने बटोरीं सुर्ख़ियां और किसने बॉक्स ऑफिस पर किया धमाल? आइए, आपको बताते हैं 2016 की बेस्ट फिल्मों के बारे में.
वैसे तो बॉलीवुड में हर साल ही ढेर सारी फिल्में रिलीज़ होती रहती हैं, मगर 2016 कुछ सितारों के लिए ख़ास रहा. सोनम कपूर ने जहां नीरजा के रूप में अपने करियर का अब तक का बेस्ट रोल किया, वहीं रुस्तम में वर्दी पहने अक्षय कुमार ने एक बार फिर साबित कर दिया कि वर्दीवाले रोल के लिए वही हैं राइट चॉइस. करीना कपूर के साथ पहली ही फिल्म की एंड का करनेवाले अर्जुन कपूर के हाउसहसबैंड वाले रोल को भी दर्शकों ने सराहा. सुल्तान बने सलमान ने भी अपनी पहलवानी से सबका दिल जीत लिया और इन सब पर भारी पड़ी पिंक में कोर्टरूम में गूंजती अमिताभ बच्चन की बुलंद आवाज़. साल के अंत में डियर ज़िंदगी के रूप में शाहरुख़ ख़ान ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज़ करा ही दी.

Best Bollywood Movies 2016

दंगल
साल के अंत में रिलीज़ हुई दंगल सब फिल्मों पर भारी रही. दंगल ने बॉक्स ऑफिस पर भी दंगल मचा दिया महावीर फोगाट के किरदार में आमिर ने अपनी शानदार एक्टिंग से जान डाल दी, वहीं गीता और बबीता के रोल में फातिमा सना शेख व सान्या मल्होत्रा भी गजब की लगीं. मां के रोल में सांक्षी तंवर भी बेहतरीन लगीं. ये फिल्म आमिर ख़ान के लिए नए साल का बेहतरीन तोहफा साबित हुई. नोटबंदी के बावजूद इस फिल्म की कमाई पर कोई असर पड़ता नहीं दिख रहा

दंगल ने तोड़े रिकॉर्ड 
* सलमान खान की ‘सुल्तान’ ने जहां पहले सोमवार को 15.54 करोड़ रुपए कमाए, वहीं ‘दंगल’ ने पहले सोमवार को 25.4 करोड़ की कमाई की.
* पहले तीन दिनों में फिल्म ने 106.95 करोड़ रुपये का बिज़नेस कर किया.  जबकि पहले तीन दिन सलमान की फिल्म ‘सुल्तान’ का बिज़नेस करीब 105 करोड़ था.
*  ‘दंगल’ ने रिलीज के पहले रविवार को रिकॉर्ड सबसे अधिक 42.35 करोड़ रुपए की कमाई की.
* क्रिसमस के दिन सबसे अधिक कमाई करने वाली फिल्म भी ‘दंगल’ बन गई है.

फेमस डायलॉग्स
* दिल छोटा मत कर, नेशनल लेवेल चैंपियन से हारा है तू.
* गोल्ड तो गोल्ड होता है, लड़की जीत कर लाए या फिर लड़का.
* हर वो चीज़ जो इनका पहलवानी से ध्यान हटावेगी मैं, उसे दूर कर दूंगा.
* मेडलिस्ट पेड़ पर नहीं उगते….उन्हें बनाना पड़ता है…प्यार से…मेहनत से और लगन से.
* मैं अपनी छोरियों को इतना काबिल बनाउंगा कि वो अपने छोरा चुनेंगी.
* अगर सिल्वर जीती तो लोग आज नहीं तो कल तन्ने भूल जावेंगे,  गोल्ड जीती तो मिसाल बन जावेगी, और मिसालें दी जाती हैं, भूली नहीं जातीं.

Best Bollywood Movies 2016
नीरजा
महज़ 23 साल की छोटी-सी उम्र में आतंकियों के चंगुल से 379 लोगों को बचानेवाली फ्लाइट अटेंडेंट बहादुर नीरजा भनोट की ज़िंदगी पर बनी इस फिल्म ने दर्शकों के दिलों को छू लिया. 1986 में हुए एक प्लेन हाइजेक में नीरजा भनोट ने अपनी जान पर खेलकर यात्रियों की जान बचाई थी. अभिनेत्री सोनम कपूर ने नीरजा के रोल में जान डाल दी. ये उनके करियर का अब तक का बेस्ट परफॉर्मेंस रहा. फिल्म में एक जगह सोनम कपूर राजेश खन्ना का फेमस डायलॉग बोलती हैं, ‘ज़िंदगी ब़ड़ी होनी चाहिए लंबी नहीं.’ नीरजा ने सचमुच इसी फलस़फे पर ज़िंदगी जी. हाल ही में फिल्म के निर्देशक राम माधवानी को इस फिल्म के लिए बेस्ट डायरेक्टर का स्टार स्क्रीन अवॉर्ड मिला. साथ ही फिल्म को बेस्ट स्क्रीनप्ले और शबाना आज़मी को इस फिल्म के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का अवॉर्ड भी मिला.

ख़ासियत
* सोनम कपूर की एक्टिंग पर उंगलियां उठानेवाले उनकी अदाकारी के मुरीद हो गए.
* फिल्म के सभी कलाकारों ने अपने क़िरदार को इस तरह जीया कि वो बिल्कुल रियल लगें.

फेमस डायलॉग्स
* आपने कल तीन समोसे खा लिए थे, इसलिए आपका ब्लड प्रेशर हाई है. मेरे प्लेन को ब्लेम मत करो.
* दो-दो बेटों की मां थी, फिर भी लड़की के लिए मन्नत मांगती रही.
* इसकी कुंडली में लिखा था कुल का दीपक बनेगी ये.

बॉक्स ऑफिस- साल के शुरुआत में आई इस ब्लॉकबस्टर फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर ज़बर्दस्त कमाई की. 20 करोड़ के बजटवाली इस फिल्म ने क़रीब 75 करोड़ की कमाई की.

Best Bollywood Movies 2016

सुल्तान
एक हरियाणवी अखड़ पहलवान की भूमिका में सलमान ख़ान ख़ूब जंचे. रेसलर बने सलमान और अनुष्का शर्मा की लव स्टोरी दर्शकों के दिलों को छू गई. साथ ही फिल्म के गाने भी काफ़ी समय तक लोगों की ज़ुबां पर चढ़े रहे. बेबी को बेस पसंद है और जग घूम्या काफ़ी पॉप्युलर रहे. फिल्म की कहानी भले ही नई नहीं थी, मगर सलमान और अनुष्का ने अपने अभिनय से दर्शकों को बांधे रखा. इस फिल्म में दोनों ने पहली बार साथ काम किया. हरियाणवी बोलने की कोशिश करते सलमान काफ़ी अच्छे लगे.

ख़ासियत
* इस फिल्म में जहां देश की मिट्टी के खेल पहलवानी की बात की गई, वहीं बेटी बचाओ मुहिम से जुड़ा मज़बूत संदेश भी दिया गया.
* गाने के साथ ही फिल्म के डायलॉग्स पर भी लोगों ने ख़ूब तालियां बजाईं.

फेमस डायलॉग्स
* ये जो गुरूर है, क्या कहते हैं अंग्रेजी में एरोगेंस ये एरोगेंस नहीं कॉन्फिडेंस है.
* अच्छे पहलवान की पहचान अखाड़े में नहीं, ज़िंदगी में होवे है.
* हमारे यहां डिवोर्स नहीं होते हैं, लड़ाई होती है, झगड़ा होता है, लुगाइयां पैदा ही लड़ने के लिए होती हैं, ये बॉर्न फाइटर्स होती हैं.
* मेरे अब्बा कहते हैं, किसान और पहलवान में एक ही चीज़ एक जैसी होवे, वो है मिट्टी.
* रानी लक्ष्मीबाई की याद दिला दी. बाहर से मॉडर्न, अंदर से देसी.

बॉक्स ऑफिस- क़रीब 90 करोड़ की लागतवाली इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर 300.45 करोड़ की कमाई की. पहले हफ़्ते में ही फिल्म ने रिकॉर्ड 180.36 करोड़ की कमाई की थी.

Best Bollywood Movies 2016

रुस्तम
15 अगस्त के मौ़के पर रिलीज़ हुई अक्षय कुमार की ये फिल्म रियल स्टोरी पर आधारित थी, जिसमें एक नेवी ऑफिसर अपनी पत्नी के प्रेमी की हत्या कर देता है. फिल्म में अक्षय के साथ इलियाना डिक्रूज़ की केमेस्ट्री काफ़ी अच्छी रही. इसके गाने भी दर्शकों को पसंद आए. नेवी ऑफिसर के क़िरदार में अक्षय का कोई जवाब नहीं, उन्हें देखकर लगता है कि ऐसे रोल के लिए उनसे बेहतर कोई हो ही नहीं सकता. पारसी लड़की के रोल में इलियाना भी काफ़ी ख़ूबसूरत लगीं.

ख़ासियत
* फिल्म का अधिकांश हिस्सा कोर्टरूम ड्रामा है, फिर भी वो दर्शकों को बांधे रखने में कामयाब रही.
* अक्षय की डायलॉग डिलीवरी कमाल की थी.
* आउटफिट्स से लेकर बाकी चीज़ों और लोकेशन तक में पुरानी मुंबई और पारसी कम्यूनिटी की झलक ने फिल्म को रियलिस्टिक बना दिया.

फेमस डायलॉग्स
* मेरी यूनीफॉर्म मेरी आदत है, जैसे कि सांस लेना, देश की रक्षा करना.
* ट्रस्ट मी डार्लिंग यू कैन नॉट.
* आई ब्लीड नॉट गिल्टी.
* मतलब बाज़ी जीतने से है, फिर चाहे प्यादा कुर्बान हो या रानी.

बॉक्स ऑफिस- पहले हफ़्ते में फिल्म ने 68.23 करोड़ रुपए की कमाई की. फिल्म का बजट 65 करोड़ था और इसका बॉक्स ऑफिस कलेक्शन 214.5 करोड़ रहा.

Best Bollywood Movies 2016

एयरलिफ्ट
रुस्तम की तरह ही बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार की ये फिल्म भी सच्ची घटना पर आधारित थी. 1990 में इराक और कुवैत के बीच अचानक युद्ध छिड़ने के बाद कुवैत से 1 लाख 70 हज़ार भारतीयों को घर वापस भेजा जाता है, जिसमें एक बिज़नेसमैन की अहम् भूमिका होती है. अक्षय कुमार ने फिल्म में बिज़नेसमैन रंजीत कटियाल की दमदार भूमिका निभाई. उनकी पत्नी के रोल में निरमत कौर का अभिनय भी दर्शकों को पसंद आया.

ख़ासियत
* फिल्म लोगों को युद्ध के भयावह दौर से परिचित कराती है.
* युद्ध के माहौल में अनजान देश में लोगों की मुश्किलों, दर्द व डर को दिखाने में फिल्म कामयाब रही.

फेमस डायलॉग्स
* हमारी कोई औकात नहीं है. अगर हमारी कोई पहचान है, तो स़िर्फ एक कि हम आम कुवैती नहीं, हिंदुस्तानी हैं. साथ हैं तो कुछ हैं, वरना नथिंग.
* वैसे भी बच्चे हैं, आपकी गाड़ी की चाभी नहीं कि निकाला और बंद हो जाए.
* आजकल न तुम मुझे समझ पा रही हो, न मैं तुम्हें. हालात ग़लत हैं, हम नहीं.
* आदमी की फितरत ही ऐसी है. जब चोट लगती है, तो पहले ङ्गमांफ-ङ्घमांफ ही चिल्लाता है.

बॉक्स ऑफिस- इस सुपरहिट फिल्म का बजट 40 करोड़ का था और इसने बॉक्स ऑफिस पर 123.43 करोड़ की कमाई की.

Best Bollywood Movies 2016

एम. एस. धोनी द अनटोल्ड स्टोरी
2016 में जिन फिल्मों की सबसे ज़्यादा चर्चा रही, उसमें इंडियन क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी की ज़िंदगी पर बनी ये फिल्म भी शामिल है. धोनी की भूमिका में सुशांत सिंह राजपूत ने दर्शकों का दिल जीत लिया. सुशांत ने धोनी जैसा लुक पाने और क़िरदार को रियलिस्टिक दिखाने के लिए ख़ूब मेहनत की. फिल्म थोड़ी लंबी थी, फिर भी दर्शकों को बांधे रखने में कामयाब रही. इसके ज़रिए लोगों को क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी की मैदान से अलग पर्सनल ज़िंदगी के बारे में बहुत कुछ जानने को मिला.

ख़ासियत
* फिल्म के ज़रिए ही पता चला कि धोनी की लाइफ में साक्षी के अलावा भी कोई लड़की थी.
* धोनी की कामयाबी के पीछे का संघर्ष, जिसे देखकर हर किसी को प्रेरणा मिलेगी.
* धोनी का पहला प्यार फुटबॉल था न कि क्रिकेट. अपने स्कूल टीचर के कहने पर उन्होंने क्रिकेट खेलना शुरू
किया था.

फेमस डायलॉग्स
* लाइफ में सब बॉल एक समान थोड़ी न मिलेगा, मेरिट पर खेलना है और टिके रहना है, स्कोरबोर्ड अपने आप बढ़ेगा.
* एक कैप्टन तभी अच्छा हो सकता है जब उसकी टीम अच्छी होगी.
* धोनी कोई तेंदुलकर है? नहीं पाजी धोनी धोनी है! एक बार उस लड़के को मौक़ा मिल गया ना… तो बहुत आगे तक जाएगा.

बॉक्स ऑफिस- महेंद्र सिंह धोनी यानी माही के रूप में दर्शकों ने सुशांत सिंह राजपूत को बहुत पसंद किया और फिल्म ने क़रीब 127 करोड़ की कमाई की.

Best Bollywood Movies 2016

पिंक
2016 की ये सबसे चर्चित फिल्मों में से एक रही. अमिताभ बच्चन के अलावा इसमें कोई बड़ा स्टार नहीं था, बावजूद इसके फिल्म न स़िर्फ दर्शकों को पसंद आई, बल्कि इसने समाज में पढ़ी-लिखी, इंडिपेंडेंट लड़कियों के प्रति लोगों की नकारात्मक सोच पर भी सवालिया निशान लगाया. रिलीज़ से पहले किसी को अंदाज़ा भी नहीं था कि छोटे बजटवाली ये फिल्म इतनी सक्सेसफुल होगी. इस फिल्म के लिए हाल ही में अमिताभ बच्चन को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का स्टार स्क्रीन अवॉर्ड मिला. इसके अलावा पिंक ने बेस्ट फिल्म, बेस्ट डायलॉग्स और बेस्ट एडिटिंग का अवॉर्ड भी अपने नाम किया.

ख़ासियत
* फिल्म का सब्जेक्ट ऐसा था, जिससे हर आम लड़की ख़ुद को कनेक्टेड पाती है. लड़कियों के अकेले रहने, देर रात तक काम करने और दोस्तों के साथ  एंजॉयमेंट को उसके कैरेक्टर से जोड़नेवाले लोगों के लिए फिल्म उनके मुंह पर तमाचा है.
* पूरी फिल्म ही कोर्टरूम ड्रामा है, मगर बोरिंग लगने की बजाय ये बेहद दिलचस्प लगती है, इसकी सबसे बड़ी वजह है फिल्म के दमदार डायलॉग्स.

फेमस डायलॉग्स
* हमारे यहां घड़ी की सुई कैरेक्टर डिसाइड करती है.
* दीज़ बॉयज मस्ट रियलाइज़… ङ्गनोफ का मतलब ङ्गनोफ होता है. उसे बोलनेवाली लड़की कोई परिचित हो, फ्रेंड हो, गर्लफ्रेंड हो, कोई सेक्स वर्कर  हो या आपकी अपनी बीवी ही क्यों ना हो. ङ्गनोफ मीन्स ङ्गनोफ.. एंड समवन सेज़ ङ्गनोफ यू स्टॉप.
* जब लड़कियां पार्टी में जाती हैं और ड्रिंक करती हैं, तो वो पुश्तैनी हक़ बन जाती हैं आपका.
* ङ्गनोफ स़िर्फ एक शब्द नहीं… अपने आप में पूरा वाक्य है. इसे किसी तर्क, स्पष्टीकरण, एक्सप्लेनेशन या व्याख्या की ज़रूरत नहीं होती.
* रॉक शो में हैं, तो हिंट है और लाइब्रेरी या मंदिर में हैं, तो हिंट नहीं है ? वेन्यू डिसाइड करता है कैरेक्टर.

बॉक्स ऑफिस- मात्र 26 करोड़ के बजटवाली इस फिल्म ने दर्शकों का दिल जीतने के साथ ही बॉक्स ऑफिस पर भी फतह हासिल की. फिल्म ने 63.21 करोड़ की कमाई की.

 

Best Bollywood Movies 2016

ये भी रहीं सुर्ख़ियों में

* करीना कपूर और अर्जुन कपूर स्टारर फिल्म की एंड का डिफरेंट स्टोरीलाइन की वजह से चर्चा में रही. इस फिल्म में हाउस हसबैंड बने अर्जुन कपूर  और एंबिशियस करियर वुमन के रोल में करीना कपूर ने दर्शकों का दिल जीत लिया. दोनों की ये साथ में पहली फिल्म थी. फिल्म का गाना हाई हील  ते नचे सुपरहिट रहा. बॉक्स ऑफिस पर भी फिल्म का प्रदर्शन अच्छा था.

* लंबे अंतराल के बाद बड़े परदे पर ऐश्‍वर्या राय का सुपर ग्लैमरस लुक दिखा फिल्म ऐ दिल है मुश्किल में. करण जौहर की ये फिल्म पाकिस्तानी  कलाकार फवाद ख़ान की वजह से रिलीज़ से पहले ही काफ़ी सुर्ख़ियां बटोर चुकी थी. एक व़क्त तो ऐसा लग रहा था कि शायद फिल्म रिलीज़ ही नहीं हो  पाएगी और इसकी कमाई पर असर होगा, मगर ऐसा कुछ नहीं हुआ. फिल्म हिट रही और फिल्म का ब्रेकअप सॉन्ग दिल पे पत्थर रखके मुंह पे  मेकअप कर लिया यंगस्टर्स के बीच बहुत पॉप्युलर हुआ.

* मार्च महीने में रिलीज़ हुई फिल्म कपूर एंड संस ने भी बॉक्स ऑफिस पर अच्छा बिज़नेस किया. पारिवारिक माहौल के आसपास घूमती ये फिल्म  ड्रामा और कॉमेडी का मिश्रण थी.

– कंचन सिंह

WOW! प्रियंका चोपड़ा की हॉलीवुड फिल्म ‘बेवॉच’ का SUPER HOT trailer (‘BAYWATCH’ trailer Out)

Baywatch

प्रियंका चोपड़ा ने शेयर किया है अपनी हॉलीवुड फिल्म बेवॉच (Baywatch) का ट्रेलर. इसमें प्रियंका की बस एक झलक भर है, लेकिन उस एक झलक में प्रियंका का चलने और वाइन पीने का अंदाज़ दमदार है. बेवॉच में प्रियंका नेगेटिव रोल में हैं और उनके किरदार का नाम है विक्टोरिया.Baywatch बेवॉच सीरियल अपने बीच, बिकनी और हॉटनेस की वजह से काफ़ी सुर्खियों में रहा है. अब इस पर बनी फिल्म का ट्रेलर भी वायरल हो रहा है.

बेवॉच के डायरेक्टर सेथ गॉर्डोन हैं. प्रियंका ‘द रॉक’ यानी कि ड्वेन जॉनसन के संग नजर आएंगी.

ड्वेन जॉनसन ने अपने टि्वटर एकाउंट पर प्रियंका की तारीफ़ भी की है.