Tag Archives: finance

कितना जानते हैं आप ‘नॉमिनी’ के बारे में? (Why You Must Appoint A Nominee?)

Why You Must Appoint A Nominee

जब भी हम बैंक में सेविंग्स अकाउंट खोलते हैं, म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करते हैं, प्रॉपर्टी/शेयर्स ख़रीदते हैं या फिर जीवन बीमा करवाते हैं, तो हर बार हमें ‘नॉमिनी’ अपॉइंट करना होता है. ज़्यादातर लोगों को यही ग़लतफ़हमी है कि उसकी मृत्यु के बाद सारी रक़म नॉमिनी को मिल जाएगी, जबकि ऐसा है नहीं. नॉमिनी स़िर्फ आपके पैसों का केयरटेकर होता है, न कि मालिक. तो क्यों ज़रूरी है नॉमिनी बनाना और क्या हैं उसके अधिकार, आइए जानते हैं.

Why You Must Appoint A Nominee

कौन है नॉमिनी?

क़ानूनन नॉमिनी वह व्यक्ति है, जो आपकी मृत्यु के बाद कंपनी से मिली रक़म को आपके क़ानूनी वारिसों तक पहुंचाता है. वह क़ानूनन उस रक़म का मालिक नहीं होता, स़िर्फ एक ट्रस्ट होता है. सरल शब्दों में कहें, तो नॉमिनी एक केयरटेकर की तरह होता है, जो हमारे न रहने पर हमारी जमा-पूंजी को हमारे अपनों तक पहुंचाता है.

– अगर आपके अकाउंट के जॉइंट होल्डर्स हैं या फिर आपने वसीयत बनाई है, तो वसीयत के मुताबिक़ सारी जमा-पूंजी आपके क़ानूनी वारिस में बांट दी जाएगी. पर अगर आपने अपने क़ानूनी वारिस को ही अपना नॉमिनी बनाया है, तो उसके लिए चीज़ें आसान हो जाती हैं.

– मान लीजिए कि आपने अपनी पत्नी को सब जगह नॉमिनी बनाया है और वह आपकी क़ानूनी वारिस भी है, पर आपकी मृत्यु के बाद सब कुछ उसी को नहीं मिलेगा, जो भी आपकी जमा-पूंजी होगी, वह आपकी पत्नी और बच्चों में बराबर बंटेगी, लेकिन अगर आपने अपनी वसीयत में यह लिख दिया है कि मेरी पत्नी को फलां-फलां हिस्सा मिलेगा, तो क़ानूनन बाध्य हो जाता है, जिस पर आपके बच्चे क्लेम नहीं कर सकते.

क्या है नॉमिनी का रोल व अधिकार? 

नॉमिनी का अहम् रोल उस व्यक्ति की मृत्यु के बाद ही शुरू होता है. इंश्योरेंस कंपनी से इंश्योरेंस के पैसे निकालना बहुत ही पेचीदा होता है. कई क़ानूनी दस्तावेज़ों के बावजूद कई बार पैसा लंबे समय तक अटका रहता है, ऐसे में नॉमिनी के रहने से यह प्रक्रिया आसान हो जाती है. नॉमिनी बनाए ही इसीलिए जाते हैं, ताकि आपके न रहने पर आपके अपनों को इन क़ानूनी झंझटों का सामना न करना पड़े.

किसे और कैसे करें अपॉइंट?

आप अपने परिवार के किसी सदस्य, दोस्त या किसी भरोसेमंद व्यक्ति को नॉमिनी अपॉइंट कर सकते हैं. जब भी आप प्रॉपर्टी, इंश्योरेंस, म्यूचुअल फंड्स, स्टॉक्स, बैंक डिपॉज़िट्स आदि में इन्वेस्ट करते हैं, तो आपको एप्लीकेशन के साथ-साथ एक और फॉर्म दिया जाता है, जहां आप अपने नॉमिनी के बारे में जानकारी देते हैं. कहीं-कहीं इसके लिए 1 या 2 गवाहों की ज़रूरत भी पड़ती है.

कहां-कहां बनाते हैं नॉमिनी?

जीवन बीमा: पॉलिसी होल्डर अपने माता/पिता, पति/पत्नी या फिर बच्चों को नॉमिनी बनाते हैं, तो  वो अपने आप बेनीफीशियल नॉमिनी बन जाते हैं. इसलिए जीवन बीमा में हमेशा अपने क़ानूनी वारिस को ही नॉमिनी बनाएं. इसमें आप एक से ज़्यादा नॉमिनी अपॉइंट कर सकते हैं.

बैंक अकाउंट: बैंक डिपॉज़िट अकाउंट या फिर लॉकर अकाउंट के लिए भी अपने किसी क़रीबी को नॉमिनी बना सकते हैं. यहां पर एक छूट है कि आप अपने किसी भरोसेमंद दोस्त को भी अपना नॉमिनी बना सकते हैं, ज़रूरी नहीं कि वो आपका क़ानूनी वारिस ही हो. लेकिन आप किसी एक व्यक्ति को ही नॉमिनी बना सकते हैं. यहां मल्टीपल नॉमिनी का ऑप्शन नहीं है. अगर जॉइंट अकाउंट हो, तो दूसरे होल्डर को अमाउंट मिलेगा और उसके ना रहने पर नॉमिनी को.

फिक्स्ड डिपॉज़िट: एफडी में इन्वेस्ट करते समय भी आपको किसी को नॉमिनी बनाना पड़ता है. यहां भी केवल किसी एक व्यक्ति को ही नॉमिनी बनाया जा सकता है.

डीमैट अकाउंट: शेयर्स और सिक्योरिटीज़ के इन्वेस्टमेंट डीमैट अकाउंट के ज़रिए किए जाते हैं. इसके लिए आप मल्टीपल नॉमिनी नियुक्त कर सकते हैं. यहां नॉमिनी स़िर्फ केयरटेकर नहीं, बल्कि मालिक होता है. उसे क़ानूनी वारिस को शेयर्स ट्रांसफर नहीं करने होते.

म्यूचुअल फंड: यहां आप तीन लोगों को अपना नॉमिनी बना सकते हैं. आप चाहें तो उनके लिए शेयर्स भी बांट सकते हैं. उदाहरण के लिए आप अपनी पत्नी और दो बच्चों को नॉमिनी बना सकते हैं. पत्नी को 50% और बच्चों को 25-25% शेयर्स दे सकते हैं.

प्रॉपर्टी: प्रॉपर्टी के मामले में वसीयत और सक्सेशन लॉ काम करते हैं, नॉमिनी की कोई ख़ास भूमिका नहीं होती. पर हां, अगर आप किसी कोऑपरेटिव हाउसिंग सोसाइटी में रहते हैं, तो आपको नॉमिनी नियुक्त करना ज़रूरी होता है, क्योंकि सोसाइटी में आप किसी एक फ्लैट में रहते हैं, जो एक बड़ी यूनिट है. इसलिए यहां नॉमिनी बनाना ज़रूरी हो जाता है.

और भी पढ़ें: जानें बैंकिंग के स्मार्ट ऑप्शन्स

Why You Must Appoint A Nominee

नॉमिनी से जुड़े 5 ज़रूरी सवाल-जवाब

नॉमिनी अपॉइंट करते समय आपके ज़ेहन में भी कई सवाल आएंगे, इसलिए ज़रूरी है कि पहले उन सभी सवालों को सुलझा लें.

1. क्या नाबालिग नॉमिनी बन सकता है?

जी हां, 18 साल से कम उम्रवाले को भी नॉमिनी बनाया जा सकता है, लेकिन उसके साथ आपको कोई गार्जियन भी अपॉइंट करना पड़ेगा. उदाहरण के लिए आप अपने बच्चे को अपना नॉमिनी बनाकर पत्नी को गार्जियन बना सकते हैं. और चूंकि दोनों ही आपके क़ानूनी वारिस हैं, तो आपके जाने के बाद कोई क़ानूनी समस्या भी नहीं आएगी.

2. क्या एक से ज़्यादा नॉमिनी हो सकते हैं?

आप चाहें, तो एक से ज़्यादा लोगों को अपना नॉमिनी बना सकते हैं और अगर चाहें तो उनके लिए शेयर्स भी बांट सकते हैं.

3. क्या नॉमिनी बदल सकते हैं?

आप जब चाहें, जितनी बार चाहें नॉमिनी बदल सकते हैं. इसके लिए आपको स़िर्फ एक फॉर्म भरकर देना होगा और आपका नॉमिनी बदल जाएगा. यह पूरी तरह आपका अधिकार है.

4. नॉमिनी बनाने पर भी क्या वसीयत बनानी ज़रूरी है?

बिल्कुल. नॉमिनी सिर्फ़ आपकी संपत्ति का रखवाला है, लेकिन उसका मालिक वही होता है, जिसको आपने अपनी वसीयत में अधिकार दिया है. मान लीजिए कि आपने अपनी जीवन बीमा में मां को नॉमिनी बनाया, तो आपके न रहने पर मां को बीमा की सारी रक़म मिलेगी, पर वो उन्हें आपकी पत्नी और बच्चों के साथ बांटनी होगी और अगर आपने अपनी वसीयत में वो रक़म मां के नाम लिखी है, तो उस पर स़िर्फ मां का अधिकार होगा, इसलिए नॉमिनी के साथ-साथ वसीयत बनानी भी बहुत ज़रूरी है.

5. वसीयत न होने पर नॉमिनी संपत्ति किसे देगा?

ऐसे भी कई मामले सामने आते हैं, जहां नॉमिनी तो बना दिया जाता है, पर व्यक्ति की कोई वसीयत नहीं होती, ऐसे में उस संपत्ति का बंटवारा इंडियन सक्सेशन लॉ, हिंदू लॉ और मोहम्मडन लॉ के अनुसार किया जाता है.

जानें अपने रेलवे इंश्योरेंस नॉमिनी को भी 

– हमारे देश में एक बहुत बड़ा तबका रेलवे से सफ़र करता है, पर यह बात बहुत कम लोगों को पता है कि रेलवे किसी भी तरह के हादसे के व़क्त लोगों को इंश्योरेंस देता है.

– आईआरसीटीसी की वेबसाइट से जब आप टिकट बुक करते हैं, तो अंत में इंश्योरेंस का एक कॉलम होता है, जिसे बहुत से लोग अनदेखा कर देते हैं. इंश्योरेंस पर टिक करने से आपके खाते से महज़ 95 पैसे इंश्योरेंस में जाते हैं, पर आपको 10 लाख तक का इंश्योरेंस कवर मिलता है.

– यहां भी आपको नॉमिनी सिलेक्ट करना ज़रूरी होता है.

– आईआरसीटीसी की तरफ़ से आपको नॉमिनेशन के लिए मैसेज भी आता है, जिसके लिंक पर जाकर आपको अपना नॉमिनी नियुक्त करना होता है.

– हालांकि यह सुविधा 5 साल से छोटे बच्चों और विदेशी पर्यटकों के लिए नहीं है.

– अगर हादसे में व्यक्ति की मृत्यु हो जाए, तो 10 लाख रुपए, परमानेंट या पार्शियल डिसेबिलिटी के लिए 7.5 लाख और हॉस्पिटलाइज़ेशन के लिए 2 लाख का कवर मिलता है.

– सबसे ज़रूरी बात नॉमिनी को हादसे के 4 महीने के भीतर इंश्योरेंस क्लेम करना होता है.

– अनीता सिंह

और भी पढ़ें: क्या आप में है बैंक संबंधी अच्छी आदतें?

गुड न्यूज़: बढ़ गई है आधार-पैन लिंकिंग की तारीख़ (Aadhar-PAN Linking Date Extended to 31st March, 2018)

how to link aadhaar card to my pan card

जो लोग अभी तक अपने आधार कार्ड (Aadhar card) को पैन (Pan card) कार्ड से लिंक नहीं कर पाए हैं, उनके लिए सरकार की तरफ़ से बड़ी राहत और ख़ुशख़बरी आई है. उनके लिए लिंकिंग की डेट बढ़ाकर 31 मार्च 2018 कर दी गई है यानी अभी आपके पास पूरे 4 महीने हैं, अपना आधार और पैन कार्ड लिंक करने के लिए.

how to link aadhaar card to my pan card

वित्त मंत्रालय ने ट्वीट करते हुए कहा कि बहुत-से टैक्स पेयर्स अभी भी आधार कार्ड को पैन से लिंक नहीं कर पाए हैं, इसलिए उनकी सहूलियक को ध्यान में रखते हुए, केंद्र सरकार ने यह निर्णय लिया है.

यह भी पढ़ें: जानें पीपीएफ से जुड़ी 10 महत्वपूर्ण बातें

how to link aadhaar card to my pan card

आपको बता कि हाल ही आधार कार्ड को पैन कार्ड के साथ-साथ सभी ज़रूरी सुविधाएं के लिए मोबाइल आदि से लिंक करना अनिवार्य बताया गया था, पर बहुत-से लोग अभी भी इस प्रक्रिया को पूरा नहीं कर पाए हैं, जिसको ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है. आधार कार्ड को अनिवार्य बनाए जाने का विरोध कुछ लोगों ने किया था, जिसके लिए सुप्रीम कोर्ट में इसके लिए बेंच बैठाई गई थी, ताकि किसी को भी इस फैसले के कारण असुविधा न हो.

how to link aadhaar card to my pan card

आपको बता दें कि अब तक लिंकिंग कि यह तारीख़ 21 दिसंबर, 2018 थी. साथ ही आपको याद दिला दें कि सिम कार्ड के साथ आधार लिंकिंग की डेट 6 फरवरी २०१८ है. सरकार के इस फैसले से बहुतों को राहत मिलेगी और आधार-पैन कार्ड लिंकिंग की प्रकिया भी समय से पूरी हो जाएगी, ऐसी उम्मीद है.

और भी पढ़ें: इन्वेस्टमेंट से जुड़ी 10 ग़लतियां

महिला उद्यमियों के लिए बेस्ट 7 लोन सुविधाएं (7 best loan schemes for woman Entrepreneurs)

महिला उद्यमियों के लिए बेस्ट 7 लोन सुविधाएं


बिज़नेस के क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने व उनकी आर्थिक स्थिति को मज़बूत बनाने के लिए ज़्यादातर बैंक समय-समय पर आकर्षक योजनाएं लॉन्च करते ही रहते हैं. ऐसी ही कुछ बेहतरीन योजनाओं के बारे में हम विस्तार से बता रहे हैं:

महिला उद्यमियों के लिए बेस्ट 7 लोन सुविधाएं
अन्नपूर्णा योजना

इस योजना के तहत फूड केटरिंग क्षेत्र से जुड़ी महिलाओं को लोन दिया जाता है. इसमें अधिकतम 50 हज़ार तक का लोन मिलता है, जिसकी समयावधि तीन साल है. ग्राहकों की सहूलियत के लिए बैंक लोन देने के बाद एक महीना ङ्गईएमआई फ्रीफ की सुविधा देते हैं. इसमें आपको गारंटर और कोलैटरल सिक्योरिटी की ज़रूरत पड़ती है. ब्याज दर मार्केट रेट के अनुसार होगी.

स्त्री शक्ति पैकेज

यह पैकेज उन महिलाओं के लिए है, जो किसी फर्म या बिज़नेस में 50% मालिकाना हक़ रखती हैं. अगर आप 2 लाख से अधिक लोन लेती हैं, तो मौजूदा ब्याज दर में आपको 0.5% की छूट दी जाती है. राज्य स्तर की एंटरप्रेनरशिप डेवलपमेंट प्रोग्राम्स में हिस्सा लेनेवाली महिलाएं ही आवेदन कर सकती हैं.

देना शक्ति योजना:

देना बैंक की यह योजना ख़ासतौर से महिला उद्यमियों के लिए है. इस योजना के तहत महिलाएं खेती, उत्पादन, रिटेल स्टोर व लघु उद्योग के लिए लोन ले सकती हैं. इसमें उन्हें 0.25% ब्याज दर में छूट मिलती है.

और भी पढ़ें: नए बिज़नेस के लिए स्टार्ट अप प्लान

उद्योगिनी योजना

पंजाब और सिंध बैंक की यह योजना है. इसके तहत महिलाओं को लोन कम ब्याज दर में मिलता है और नियम-शर्तों में भी काफ़ी छूट मिलती है.

सेंट कल्याणी योजना

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की यह योजना है. इसके तहत सरकार द्वारा जारी कार्यक्रमों, ग्रामीण इलाकों में कुटीर उद्योग, कृषि उद्योग, हैंडलूम-हैंडीक्राफ्ट, ब्यूटीपार्लर, डे केयर सेंटर, रिटेल व्यवसाय से जुड़ी महिलाओं को आसानी से लोन मिलता है. हर क्षेत्र का ब्याज दर अलग है और मार्केट रेट पर निर्धारित होता है.

महिला उद्यम निधि योजना

लघु उद्योग को बढ़ावा देनेवाला यह लोन पंजाब नेशनल बैंक द्वारा दिया जाता है. इसके तहत आपको 10 लाख तक का लोन मिल सकता है, जिसे 10 साल के भीतर भरना होता है. ज़्यादातर योजनाओं की तरह इसका ब्याज दर भी मार्केट रेट पर आधारित होता है, जो समय-समय पर बदलता रहता है. ब्यूटीपार्लर, डे केयर सेंटर, ऑटोरिक्शा, टू व्हीलर या कार के लिए स्पेशल लोन की सुविधाएं हैं.
– इनके अलावा बैंक ऑफ बड़ौदा की अक्षय महिला आर्थिक सहाय योजना और पंजाब नेशनल बैंक की महिला समृद्धि योजना, महिला उद्यम निधि योजना, महिला सशक्तिकरण योजना और ओरिएंटल बैंक व भारतीय महिला बैंक द्वारा जारी लोन योजनाएं हैं.

लघु उद्यमी क्रेडिट कार्ड

व्यापारियों को लुभाने के लिए बैंक कुछ न कुछ नया लेकर आते ही रहते हैं. इसी कड़ी में कई बैंक लघु उद्यमी क्रेडिट कार्ड लेकर आए हैं. इसकी मदद ने बिज़नेस की शुरुआत को और भी आसान बना दिया है. कई बैंक ये सुविधा देते हैं, सभी के बारे में जानकारी लेकर आप अपनी सहूलियत के मुताबिक़ क्रेडिट कार्ड ले सकते हैं.

और भी पढ़ें: कैसे करें यंगस्टर्स फाइनेंशियल प्लानिंग की शुरूआत?

सुनीता सिंह

कैसे बचें 9 बेसिक फाइनेंशियल ग़लतियों से? (Avoid 9 Basic Financial Mistakes)

Basic Financial Mistakes

Basic Financial Mistakes

फाइनेंस के बारे में ज़्यादातर लोगों को कई ज़रूरी बातें पता ही नहीं होतीं. ऐसे में अक्सर लोग कुछ ऐसी ग़लतियां कर बैठते हैं, जिनसे बड़ी आसानी से बचा जा सकता है. ऐसी ही कुछ ग़लतियों के बारे में हम आपको बता रहे हैं, ताकि आप ये ग़लतियां न करें. 

टाइमलाइन न बनाना

हर किसी को घर, मकान, बच्चों की पढ़ाई, शादी, रिटायरमेंट आदि के लिए बचत करनी होती है, पर ज़्यादातर लोग इनके लिए कोई टाइमलाइन नहीं बनाते, न ही किसी डायरी में लिखकर रखते हैं, जिससे उन्हें पता ही नहीं चलता कि किस काम के लिए कितनी सेविंग्स की ज़रूरत है.

media_xll_5717713

ख़र्च के बाद बचत करना

ज़्यादातर लोग सैलरी आने के बाद महीने का सारा बजट बनाकर ख़र्च का जुगाड़ करते हैं और अगर उसके बाद कुछ बचता है, तो बचत में रखते हैं, वरना उस महीने कोई सेविंग्स नहीं. जबकि होना ये चाहिए कि बचत के पैसे निकालकर रखने के बाद जो रक़म बचे, उसमें ख़र्च करें. इसके लिए कुछ सेविंग स्कीम्स लेना बेहतर होगा.

और भी पढ़ें: मनी सेविंग के 7 अमेज़िंग टिप्स

दूसरों की देखादेखी करना

अक्सर दोस्तों या कलीग्स की देखादेखी हम कोई प्लान ले लेते हैं या किसी स्कीम में इन्वेस्ट करते हैं, पर यह ध्यान नहीं देते कि उसकी ज़रूरत हमें है भी या नहीं. अक्सर लोगों को बाद में अपनी भूल का एहसास होता है कि काश इसकी बजाय अपनी ज़रूरत के मुताबिक कोई और प्लान लिया होता, तो ज्यादा फ़ायदा होता. इसलिए देखादेखी न करें.

बढ़ती महंगाई को भूल जाना

आजकल हर कोई यह जुमला उछालता नज़र आता है कि जितनी तेज़ी से महंगाई बढ़ रही है, सैलेरी नहीं बढ़ रही. हम जब भी भविष्य में किसी चीज़ के लिए प्लान करते हैं, तो आज के प्रॉपर्टी रेट्स और टैक्सेस को ध्यान में रखते हैं, जबकि आमतौर पर महंगाई बढ़ती ही है और हमें उसी के अनुसार अमाउंट प्लान करना चाहिए.

बजट को फॉलो न करना

कुछ लोग बजट तो बना लेते हैं, पर उसे सही तरी़के से फॉलो नहीं कर पाते. ऐसे में कई फाइनेंशियल मामले डगमगा जाते हैं, इसलिए इस ओर लापरवाही न बरतें.

इमर्जेंसी फंड को अनदेखा करना

रोज़मर्रा की ज़िंदगी बेरोक-टोक सुचारु रूप से चलती रहे, इसलिए घर में एक इमर्जेंसी फंड ज़रूर बनाएं, जो मेडिकल से लेकर फाइनेंशियल सभी ज़रूरतों को पूरा कर सके. ऐसा न करने पर इमर्जेंसी के व़क्त आपको इधर-उधर उधार मांगना पड़ सकता है.

38561529231c09d56e9cd0cfd6aa64c4_w620h405f1c1-files-articles-2015-1089428-thuyet-phuc-khach-hang-doanhnhansaigon

प्रोफेशनल या एक्सपर्ट की सलाह न लेना

अक्सर लोग ख़ुद को ही एक्सपर्ट समझकर मामलों को निपटाने की कोशिश करते हैं. चाहे घर ख़रीदना-बेचना हो, लोन लेना हो या इंश्योरेंस- आपको प्रोफेशनल एक्सपर्ट की हमेशा मदद लेनी चाहिए.

फैमिली के साथ डिस्कस न करना

फाइनेंस से जुड़े मामले अक्सर पुरुष ही संभालते हैं. महिलाएं न तो इसमें दिलचस्पी लेती हैं, न ही पुरुष उन्हें इसमें शामिल करते हैं. भले ही आप सारा काम ख़ुद संभालें, पर फैमिली के साथ शेयर ज़रूर करें, ताकि उन्हें भी इन मामलों की जानकारी हो.

ज़रूरत के व़क्त कुआं खोदना

किसी भी काम को करने के लिए सही प्लानिंग की ज़रूरत होती है, जिसके लिए आपको पहले से ही सेविंग्स और इन्वेस्टमेंट करना पड़ता है. जब ज़रूरत होगी, तब जुगाड़ लगाना शुरू करेंगे, तो कर्ज़ के अलावा आपके पास कुछ नहीं बचेगा.

         – रिद्धी चौहान

और भी पढ़ें: 7 बैड मनी हैबिट्स

जानें क्या-क्या लकी है जुलाई में जन्मे लोगों के लिए? (July Born: How Lucky You Are?)

 

anuska1अगर आपका जन्म भी जुलाई महिने में हुआ तो जानिए अपनी ख़ूबियों के बारे में विस्तार से. 

नेचर

इस माह में जन्मे लोग मेहनती होने के साथ-साथ टैलेंडेट भी होते हैैं. लाइफ के प्रति पॉज़िटिव एटीट्यूट रखते हैं, इसलिए छोटी-छोटी बातों में ख़ुश रहते हैं. स्वभाव से बहुत मेहनती होते हैं, लेकिन इनसे कोई भी काम ज़ोर-ज़बर्दस्ती से नहीं करा सकते. नए-नए दोस्त बनाना, फिल्में देखना और घूमना-फिरना इन्हें बहुत अच्छा लगता है.

रोमांस

केयरिंग नेचर होने के कारण बेस्ट लवर होते हैं, पर अपनी फीलिंग्स को शेयर करने में संकोच करते हैं. पार्टनर के प्रति बहुत इमोशनल और सेंसिटिव होते हैं, जिसकी वजह से इनकी मैरिड और सेक्सुअल लाइफ ख़ुशहाल होती है.

कैरियर

इस माह में जन्मे लोग इंटेलीजेंट और टैलेंटेड होते हैं. अपनी इच्छानुसार जिस भी कैरियर का चुनाव करते हैं, उसमें सफ़ल होते हैं. इनमें परखने की अच्छी क्षमता होती है, इसलिए शेयर मार्केट में अपना कैरियर बना सकते हैं. स्पोर्ट्स में भी इनकी बहुत रुचि होती है, चाहें तो अच्छे खिलाड़ी भी बन सकते हैं. इनमें अच्छा बिज़नेसमैन बनने के गुण होते हैं. इनमें लोकप्रिय ऐक्टर/ऐक्टर्स बनने की संभावना भी होती है.

फाइनेंस

जुलाई माह में जन्मे लोगों के लिए फाइनेंशियल सिक्युरिटी बहुत महत्वपूर्ण होती है. जितनी कुशलता से पैसे कमाते हैं, उतनी ही समझदारी के उसे इन्वेस्ट भी करते हैं. हालांकि ख़र्च करने से नहीं डरते, चाहे जेब में पैसे हों या न हों.

हेल्थ

जुलाई माह में जन्मे लोग अपनी हेल्थ के प्रति चिंतित रहते हैं, इसलिए अच्छी हेल्थ के लिए वेजीटेरियन फूड खाते हैं. इमोशनल होने के कारण इनका मूड स्विंग होता रहता है और आंखों से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं.

पॉप्युलैरिटी

इस माह में जन्मे लोग बेहद लोकप्रिय होते हैं, जैस- सौरव गांगुली, महेंद्र सिंह धोनी, अजीम प्रेमजी, सोनू निगम, रणवीर सिंह, प्रियंका चोपड़ा आदि इसके प्रत्यक्ष उदाहरण हैं.

फाइनेंशियली कितनी फिट हैं आप? (Are You Financially Fit?)

Financially Fit

Financially Fit

हेल्दी फाइनेंशियल लाइफ के लिए ज़रूरी है कि आप सुरक्षित भविष्य को ध्यान में रखते हुए निवेश करें. निवेश करने की यह आदत इस बात की ओर संकेत करती है कि आर्थिक रूप से आपकी वित्तीय स्थिति कितनी मज़बूत है. हम यहां पर फाइनेंशियल क्विज़ के माध्यम से आपकी वित्त संबंधी आदतों के बारे में कुछ सवाल पूछ रहे हैं. आपके जवाब बताएंगे कि फाइनेंशियली आप कितनी स्ट्रॉन्ग हैं.

मेरा इमर्जेंसी फंड मेरे सभी ख़र्चों को पूरा करेगा-
ए. 6 महीने या उससे अधिक.
बी. 3-5 महीने.
सी. 1-2 महीने.
डी. इमर्जेंसी फंड क्या होता है?

मैं बचत कर सकती हूं-
ए. अपनी आय का 50% से अधिक.
बी. अपनी आय का 25-50% तक.
सी. अपनी आय का 10-25% तक.
डी. मैं अपनी वर्तमान आय का बहुत थोड़ा हिस्सा ही बचत कर पाती हूं.

मेरे ज़रूरी मासिक बिलों का भुगतान-
ए. ऑटोमेटिकली मेरे बैंक अकाउंट से डेबिट हो जाते हैं.
बी. धीरे-धीरे महीने के अंत तक भुगतान कर देती हूं.
सी. अंतिम क्षणों में भुगतान करती हूं.
डी. अमूमन, मैं भुगतान की तारीख़ भूल जाती हूं.

यह भी पढ़ें:  फायनेंशियल प्लानिंग शादी से पहले और शादी के बाद

मुझ पर लोन का बोझ है-
ए. माफ़ कीजिए, मुझ पर कोई लोन नहीं है.
बी. रिपेमेंट के लिए मासिक आय के 30% से कम राशि का भुगतान करती हूं.
सी. मासिक आय का 40-50% राशि लोन के भुगतान में जाती है.
डी. अतीत में किए गए निवेश की मासिक किश्त के भुगतान का दायित्व है.

मैंने जीवन बीमा पॉलिसी ली है-
ए. मेरी वार्षिक आय से 8 गुना अधिक.
बी. मेरी वार्षिक आय से क़रीबन 1-2 गुना अधिक.
सी. मेरी वार्षिक आय से कम.
डी. मैंने कोई जीवन बीमा पॉलिसी नहीं ली है.

क्रेडिट कार्ड के बिलों का भुगतान-
ए. हर महीने पूरा भुगतान करती हूं.
बी. भुगतान करने में शायद ही कभी देरी की हो.
सी. साल में 1-2 बार देरी से भुगतान किया हो.
डी. अधिकतर देरी से भुगतान करती हूं, क्योंकि पूरी राशि का भुगतान एक साथ नहीं कर सकती.

मैं अपनी मंथली सेविंग्स में निवेश की राशि निकालती हूं-
ए. नियमित रूप से निकालती हूं.
बी. अमूमन निकाल ही लेती हूं.
सी. कभी-कभी निकालती हूं.
डी. कभी नहीं. बैंक में ही जमा करती हूं.

परिवार में मेडिकल इमर्जेंसी की स्थिति में सभी बिलों का रिटर्न मिल जाएगा-
ए. 5-10 लाख तक हेल्थ कवर के ज़रिए.
बी. मालिक/कंपनी द्वारा दिए गए मेडीक्लेम कवर के ज़रिए.
सी. अपने इमर्जेंसी फंड में से.
डी. मालूम नहीं, मैं कैसे इस फाइनेंशियल प्रॉब्लम से निपटूंगी.

मैं अधिकतर निवेश करती हूं-
ए. म्युचुअल फंड्स, जैसे- एसआईपी (सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) के ज़रिए.
बी. सुरक्षित निवेश, जैसे- रिकरिंग डिपॉज़िट्स, फिक्स डिपॉज़िट्स और पोस्ट ऑफिस मंथली इन्कम प्लान्स आदि.
सी. लोकप्रिय कंपनियों के शेयर्स में निवेश करके.
डी. वित्तीय वर्ष के अंत तक टैक्स बचाकर.

मेरा अधिकतर मासिक ख़र्च होता है-
ए. ज़रूरी ख़र्चे, जैसे- किराया, राशन, बिलों का भुगतान आदि.
बी. बुनियादी ख़र्चे और आकस्मिक ख़र्चे.
सी. एंटरटेनमेंट, मूवी, शॉपिंग और बाहर डिनर के लिए जाना.
डी. मेरा सोचना है कि ख़र्च करने के लिए ही तो कमाते हैं.

मैं स्टॉक मार्केट में निवेश करती हूं-
ए. लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट से मिलनेवाले अतिरिक्त फंड को.
बी. अन्य निवेशों से मिलनेवाले सरप्लस कैश को.
सी. कभी नहीं. मैं उन जगहों पर निवेश नहीं करती, जहां पर जोख़िम की संभावना अधिक होती है.
डी. स्टॉक मार्केट में केवल तभी निवेश करती हूं, जब मार्केट की स्थिति अच्छी होती है.

यह भी पढ़ें: रिटायर्मेंट को बेहतर बनाने के लिए कहां करें निवेश?

मेरा परिवार मेरी वसीयत के बारे में जानता है-
ए. हर पांच साल में वसीयत अपडेट करती हूं, यदि ज़िंदगी में कोई बदलाव न आए तो.
बी. कुछ साल पहले लिखी थी.
सी. वसीयत तभी लिखूंगी, जब मैं रिटायरमेंट के क़रीब होऊंगी.
डी. वसीयत के बारे में मैंने अभी तक सोचा नहीं.

स्कोर कार्ड

सभी सवालों के अपने जवाब पर टिक करके कैलकुलेट करें.
ए. 3 पॉइंट्स
बी. 2 पॉइंट्स
सी. 1 पॉइंट्स
डी. 0 पॉइंट्स

16 या 16 से कम पॉइंट्स-
यदि आपके पॉइंट्स उपरोक्त स्कोर से कम आते हैं, तो इसका अर्थ है कि आपको अपने व अपने परिवार के भविष्य को सुरक्षित बनाने के लिए फाइनेंशियली स्ट्रगल करने की आवश्यकता है. भविष्य के लिए आपको बचत करने की बहुत ज़रूरत है.

16-24 के बीच-
यदि आपका स्कोर 16-24 के बीच में है, तो आपकी फाइनेंशियल फिटनेस औसत है. अपने परिवार के सुरक्षित भविष्य के लिए अपनी मनी सेविंग्स हैबिट्स को सुधारना होगा, ताकि कठिन परिस्थितियों में आपको पछताना न पड़े.

24-30 के बीच-
इसका अर्थ है कि आपकी फाइनेंशियल फिटनेस अच्छी है, लेकिन भविष्य के लिए और बचत करने की आवश्यकता है.

30 से अधिक-
आपकी फाइनेंशियल हेल्थ बहुत स्ट्रॉन्ग है, पर सिक्योर भविष्य के लिए ज़रूरी है कि आप समय-समय पर बचत करते रहें.

अधिक फाइनेंस आर्टिकल के लिए यहां क्लिक करें: FINANCE ARTICLES 

 – पूनम नागेंद्र शर्मा

शादी से पहले ज़रूर पूछें ये 6 Important फाइनेंशियल सवाल(6 Most Important Money Talk You Need to Have Before Marriage)

Money Talk Before Marriagerelationship

शादी जीवन का सबसे अहम् फैसला होता है, जहां नए लोग, नए घर के साथ ही वैवाहिक ज़िंदगी के रूप में लड़कियों के लिए जीवन की एक नई शुरुआत भी होती है. उन्होंने भले ही अपना करियर बना लिया हो, आत्मनिर्भर हो गई हों, पर विवाह से पहले, उनके मन में भविष्य की आर्थिक सुरक्षा को लेकर कई सवालों की कशमकश चलती रहती है. आइए जानते हैं, शादी से पहले मन में आनेवाले फ़ाइनेंशियल लाइफ़ (Money Talk Before Marriage) से जुड़े 6 महत्वपूर्ण सवालों के बारे में.

Money Talk Before Marriage
ज्वॉइंट अकाउंट खुलवाएं या अलग?

– शादी से पहले लड़कियों को सबसे ज़्यादा जो सवाल परेशान करता है, वह यह कि शादी के बाद दोनों ही अपना अलग-अलग सेविंग अकाउंट खोलें या ज्वॉइंट अकाउंट रखें.
– ज्वॉइंट अकाउंट की तरफ़ लड़कियों का झुकाव ़ज़्यादा होता है, क्योंकि वे सोचती हैं कि जब सब कुछ एक है, तो अकाउंट भी एक ही होना चाहिए.
– इसमें सबसे बड़ा फ़ायदा यह होता है कि यदि कभी अचानक पैसे की ज़रूरत पड़ जाए और दोनों में से एक व्यक्ति बाहर गया हो, तो दूसरे के साइन से पैसे निकाले जा सकते हैं और काम नहीं रुकता.
– लेकिन कई बार इसमें पैसों के हिसाब में गड़बड़ी होने से संबंधों में दरार आने का ख़तरा भी होता है.
– ऐसे में समझदारी इसी में है कि ज्वॉइंट अकाउंट खुलवाने के साथ-साथ, ख़ुद का एक अलग सेविंग अकाउंट भी खुलवाएं.
– यदि आप कामकाजी हैं, तो सैलरी का कुछ हिस्सा उसमें जमा कर सकती हैं, पर यदि हाउसवाइफ़ हैं, तो घर ख़र्च से की गई कुछ बचत उसमें जमा कर सकती हैं और ज़रूरत के वक़्त निकाल सकती हैं.
– ध्यान रहे कि अकाउंट का नॉमिनी जीवनसाथी को ही बनाएं.

उधार या लोन शेयर करूं या नहीं?

– शादी के बाद भावनात्मक रूप से भले ही ङ्गतेरे दुख अब मेरेफ की क़समें ली गई हों, पर जब उधार या लोन चुकाने की बारी आती है, तो कई बार सोच बदल जाती है.
– ऐसे में ख़ुद से सवाल करें कि क्या आप पार्टनर के ख़र्च को अपने अकाउंट से देने के लिए आर्थिक रूप से समर्थ या
तैयार हैं?
– यदि आप जवाब ङ्गहांफ चुनती हैं, तो आपको अपना इनवेस्टमेंट पोर्टफोलियो फिर से बनाना चाहिए.
– साथ ही यह भी देखना होगा कि आपका यह निर्णय आपके लक्ष्य को और आपके सपनों को प्रभावित न करे.

उत्तरदायित्व की ज़िम्मेदारी लें या नहीं?

– कई लोग उत्तरदायित्वों की ज़िम्मेदारी हंसी-ख़ुशी ले लेते हैं, तो कई लोग मुकर जाते हैं और ज़्यादातर लोग बीच का रास्ता चुनते हैं. ये सब बातें हमारी लाइफ़स्टाइल, परवरिश और मनी मैटर्स पर निर्भर करती हैं.

– यदि दोनों पार्टनर्स उत्तरदायित्वों के मामले में एकमत नहीं होते, तो भविष्य में कई अहम् निर्णय लेने में उन्हें समस्याएं आ सकती हैं, जैसे- कार के लिए लोन, बच्चों की पढ़ाई के लिए लोन, रिटायरमेंट के लिए निवेश या दूसरा घर ख़रीदने के लिए निवेश आदि.
– बेहतर होगा कि इन सब बातों के बारे में अच्छी तरह सोच-समझकर आपस में डिसकस करें और अपनी ज़िम्मेदारी उठाएं.

क्या पति-पत्नी दोनों का इंश्योरेंस करवाना चाहिए?

– अक्सर पति के लाइफ़ इंश्योरेंस को अधिक महत्व दिया जाता है.
– लेकिन इस बात का भी ख़्याल रखें कि पत्नी भी सभी चीज़ों में बराबर की हिस्सेदार होती है. अतः उसकी ज़िंदगी को सुरक्षित बनाना भी उतना ही महत्वपूर्ण है.
– इसलिए एक सही इंश्योरेंस पॉलिसी लेना बहुत ज़रूरी होता है.

क्या हेल्थ पॉलिसी या मेडिक्लेम करवाना चाहिए?

– शादी के तुरंत बाद हेल्थ पॉलिसी अवश्य लें.
– जितनी जल्दी यानी कम उम्र में पॉलिसी लेंगे, प्रीमियम उतना ही कम देना पड़ेगा.
– इसके अलावा पत्नी की मेडिक्लेम पॉलिसी भी ली जा सकती है. इससे मेटरनिटी और मेडिकल संबंधी ख़र्च भी आसानी से कवर हो जाते हैं.

क्या हर जगह पार्टनर को नॉमिनी बनाना होगा या वसीयत बदलनी होगी?

– शादी के बाद काफ़ी वक़्त तो घूमने-फिरने, मौज-मस्ती में निकल जाता है और नॉमिनीवाली बात याद ही नहीं रहती.
– इन बातों में देरी न करें. ऑफ़िस के प्रॉविडेंट फंड, बैंक अकाउंट्स और अन्य इनवेस्टमेंट वाली जगहों पर, जहां पहले आपने परिवार के किसी अन्य सदस्य को नॉमिनी बनाया है, उपयुक्त जगहों पर बदलकर पार्टनर का नाम डलवा दें.
– कई बार नॉमिनी बदलने में होनेवाली देरी अनेक परेशानियों को जन्म दे सकती है.
– यदि कभी कोई दुर्घटना घट जाए, तो पत्नी को पैसे नहीं मिल पाते, जिसकी वह हक़दार है. अतः इस काम को प्राथमिकता देते हुए पहले करें.
– यदि दूसरा विवाह है, तो यह सोचना होगा कि पहले विवाह से हुए बच्चों को उनका हक़ मिल सके और नए फैमिली मेंबर्स के साथ भी अन्याय न हो. अतः हरेक निर्णय सोच-समझकर लें.
बेहतर होगा कि मन में उठ रहे हर सवाल का जवाब पहले ख़ुद से मांगें और फिर खुले दिल से पार्टनर के साथ डिसकस करें और तभी अपनी फ़ाइनेंशियल प्लानिंग करें.

 

20 Tips: शादी से पहले करें शादी के बाद की तैयारियां (20 Smart Pre Marriage Preparations For Couples)

कैश ट्रांजेक्शन पर लगेगा 150 का जुर्माना एटीएम पर कोई चार्ज नहीं (You have to pay 150 as cash transaction fees Not on Atm Withdrawal )

कैश ट्रांजेक्शन

कैश ट्रांजेक्शन

बैंकिंग सेक्टर में कुछ नए बदलाव शुरू किए गए हैं. सरकारी दिशा निर्देश के अनुसार बैंक अपनी कार्यप्रणाली में कई फेरबदल कर रहे हैं. इनमें से एक ख़बर आपको हैरान कर सकती है.  आइए, देखते हैं कि क्या है पूरी ख़बर.

डिजिटल ट्रांज़ैक्शन को बढ़ावा देने के सरकार की मुहिम के तहत ग्राहकों को बैंकों से अपने ही पैसे निकालने के लिए मोटी फीस देनी होगी. कैशलेस व्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए 1 मार्च से बैंकिंग नियमों में बड़े बदलाव किए गए हैं. निजी बैंकों ने लेन-देन पर चार्ज वसूलने की तैयारी कर ली है. 1 मार्च से चार ट्रांज़ैक्शन के बाद 150 रुपए तक का सर्विस चार्ज वसूला जाएगा. एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और एक्सिस बैंक ने नए नियम को लागू करने का फैसला किया है. ऐसा लोगों को कैश का कम इस्तेमाल करने के लिए किया गया है.

एचडीएफसी बैंक का नियम
अगर आप एचडीएफसी बैंक के ग्राहक हैं, तो बता दें कि 4 बार जमा-निकासी पर किसी तरह कोई चार्ज नहीं लगेगा. इसके बाद हर जमा-निकासी पर 150 रुपए सर्विस चार्ज देना होगा.

एक्सिस बैंक भी वसूलेगा एक्स्ट्रा पैसा
एक्सिस बैंक के ग्राहक होम ब्रांच से एक महीने में एक लाख रुपए तक जमा और निकासी कर सकते हैं. इसके अलावा 5 लेनदेन पर 150 रुपए सर्विस चार्ज देना होगा. इतना ही नहीं इसके बाद हर लेनदेन पर हर 1000 5 रुपए या न्यूनतम चार्ज 150 देने होंगे.

आईसीआईसीआई बैंक
होम ब्रांच में चार से ज्यादा कैश ट्रांज़ैक्शन्स (जमा और निकासी) पर कम-से-कम 150 रुपए चार्ज किया जाएगा.

कैसा होगा एसबीआई का नियम?
अगर आप का सेविंग अकाउंट भारतीय स्टेट बैंक में है, तो आप माह में तीन बार ही कैश ट्रांज़ैक्शन फ्री में कर पाएंगे. वैसे भी अन्य बैंकों की तुलना में इस बैंक में हमेशा ग्राहकों की लंबी लाइन लगती है. लोगों का विश्‍वास इस बैंक पर ज़्यादा होता है. एसबीआई में अकाउंट होने पर होम ब्रांच में इससे अधिक कैश ट्रांज़ैक्शन करने पर आपको प्रति ट्रांज़ैक्शन 50 रुपए और सर्विस चार्ज देना होगा. आपके लिए अभी एक महीने की फुर्सत है. भारतीय स्टेट बैंक ने 1 अप्रैल 2017 से यह नियम लागू करने का फैसला किया है.

एटीएम के नियम में कोई बदलाव नहीं

भले ही बैंक से निकासी पर चार्ज लगाया जाएगा, लेकिन एटीएम से पैसे निकालने पर किसी तरह का कोई चार्ज नहीं लगेगा. अफवाहों पर विश्‍वास न करें. वहीं दूसरी ओर, अगर आप मुफ्त ट्रांजेक्शन के बाद पैसे निकालने के लिए कोई ट्रांजेक्शन करते हैं, तो आपको 20 रुपए प्रति ट्रांजेक्शन का चार्ज देना होगा. वहीं दूसरी ओर अगर ट्रांजेक्शन नॉन-फाइनेंशियल है तो आप पर 8.5 रुपए का चार्ज लगेगा. इसके अलावा आपको 150 रुपए एटीएम के लिए नहीं गेने होंगे. ये पूरी तरह से बैंक में निकासी और जमा पर ही लगेंगे. आप पहले की ही तरह एटीएम से पैसे निकाल सकते हैं.

श्वेता सिंह

अधिक फाइनेंस आर्टिकल के लिए यहां क्लिक करें: FINANCE ARTICLES 

 

5 अधिकार, जो देंगे आपको आर्थिक आज़ादी (5 Financial rights you should know )

Financial rights

woman-looking-over-financial-papers_vfz7ec

फाइनेंशियल फ्रीडम बहुत ही ज़रूरी है, ख़ासतौर पर महिलाओं के लिए. आपका आर्थिक रूप से स्वतंत्र होना आपकी बहुत-सी परेशानियों को मिनटों में हल कर देता है. आपने हर तरह के अधिकार के बारे में सुना होगा, लेकिन ये आर्थिक अधिकार किसे कहते हैं. आख़िर ये अधिकार पाने से कैसे आप आर्थिक रूप से आज़ाद होते हैं? आइए, जानते हैं.

अगर आप हैं एजेंट
अगर आप किसी इंश्योरेंस कंपनी में काम करते हैं, तो आर्थिक अधिकार में ये भी आता है. उसके कमिशन पर आपका अधिकार है, अगर आपको वो नहीं मिलता है, तो आप शिकायत दर्ज करा सकते हैं.

सर्विस चार्ज ना देने का अधिकार
किसी भी रेस्टोरेंट में खाने पर अगर उसकी सर्विस आपको अच्छी नहीं लगी, तो आप उसका सर्विस चार्ज देने से इंकार कर सकते हैं. हाल ही में सरकार ने ये पॉलिसी लॉन्च की. इससे आम लोगों को काफ़ी फ़ायदा पहुंचा है. इतना ही नहीं, अगर आपसे ज़बर्दस्ती होटल का मालिक सर्विस पे करने को कहता है, तो आप उसकी शिकायत कर सकते हैं.

लॉकर से जुड़े अधिकार
अगर आप ज्वेलरी को बैंक में जमा करवाना चाह रहे हैं और बैंक में आपका अकाउंट नहीं, तो ज़रूरी नहीं कि आप वहां अकाउंट खुलवाएं. लॉकर से जुड़े
अधिकार के तहत बिना खाते के भी बैंक में लॉकर खोला जा सकता है. लॉकर के लिए बैंक में निवेश करना जरूरी नहीं होता है. किसी भी बैंक में अगर आपको लॉकर के लिए अकाउंट खोलने के लिए ज़बर्दस्ती की जाए, तो आप उस बैंक के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज करा सकते हैं.

यह भी पढ़ें: जल्द ही ऑनलाइन निकाल सकेंगे आप PF

समय पर घर के पजेशन का हक
बड़े शहरों में अक्सर लोग अंडर कंस्ट्रक्शन घर ख़रीदते हैं, क्योंकि उन्हें ऐसा करना आसान होता है. उनके ऊपर फाइनेंस का ज़्यादा लोड नहीं होता. कई बार बिल्डर समय पर प्रोजेक्ट पूरा नहीं करते और घर का पजेशन नहीं देते. ऐसे में आप उनके ख़िलाफ़ कंप्लेन कर सकते हैं. पजेशन में देरी होने से बिल्डर को ब्याज देना होगा.

टैक्स रिफंड का अधिकार
ईमानदारी से सरकार को टैक्स देते हैं, तो इसका रिफंड लेने का अधिकार भी आपको है. वो आपका ही पैसा है. टैक्स रिफंड के अधिकार के तहत रिटर्न फाइल करने के 90 दिन के भीतर रिफंड देना ज़रूरी होता है. रिफंड 90 दिन के बाद मिलता है तो हर महीने 0.5 फ़ीसदी ब्याज आपको मिलना चाहिए. अगर ऐसा नहीं है, तो आप रिफंड में देरी होने पर असेसमेंट अधिकारी से शिकायत कर सकते हैं.

– श्वेता सिंह 

अधिक फाइनेंस आर्टिकल के लिए यहां क्लिक करें: FINANCE ARTICLES 

कैसे करें यंगस्टर्स फाइनेंशियल प्लानिंग की शुरूआत? (Financial Planning for youngsters)

13866

बेहतर वर्तमान और सुरक्षित भविष्य के लिए बहुत ज़रूरी है कि अर्ली एज में ही फाइनेंशियल प्लानिंग शुरू कर दी जाए. इस उम्र में मौज-मस्ती करने के साथ-साथ आप भी करें कुछ ज़रूरी काम, जिससे आपका आने वाला कल हंसता-मुस्कुराता रहे. आपकी नेक्स्ट जेनेरेशन हैप्पी और सेफ रहे. आप पर भी ज़्यादा भार न पड़े. तो चलिए जानते हैं कि कैसे करें आप फाइनेंशियल प्लानिंग.

सेल्फ मोटीवेशन
किसी भी तरह का नया काम शुरू करने के लिए सबसे ज़रूरी है कि आपका सेल्फ पर कंट्रोल रहे. पैरेंट्स के कहने पर आप कोई काम कर तो देते हैं, लेकिन उसमें आपका इंटरेस्ट नहीं होता. पैरेंट्स के कहने पर इंश्योरेंस करवाना, पैसे बचाना आदि से काम नहीं चलेगा. आपको ख़ुद इनिशिएटिव लेना होगा. आपको ये सोचना होगा कि फ्यूचर को किस तरह से नर्चर करना है. जब तक आप ख़ुद को मोटीवेट नहीं करेंगे, सही फाइनेंशियल प्लानिंग नहीं कर सकते.

सेल्फ कंट्रोल
पैरेंट्स के कहने पर कम ख़र्च, शॉपिंग पर लगाम लगाने से अच्छा है कि आप ख़ुद ही कंट्रोल करना सीखें. पैसे कहां से आते हैं, ये आप भी जानते हैं. आपको पता है कि पूरे महीने काम करके आप कितनी सैलरी पाते हैं और फिर उसे एक ही हफ़्ते में उड़ा देते हैं. जेब ख़र्च से लेकर शॉपिंग, क्रेडिट/डेबिट कार्ड, सभी पर आपको कंट्रोल करके अपने फ्यूचर के बारे में सोचना होगा.

फाइनेंशियल प्रोग्राम्स देखें
अगर आपको समझ नहीं आ रहा है कि किस तरह से शुरूआत की जाए, तो बेहतर होगा कि क्रिकेट, सीरियल, मूवी आदि से समय निकालकर कुछ व़क्त ऐसे प्रोग्राम्स देखें, जिसमें फाइनेंस से जुड़ी बातें बताई जाती हैं. बेहतर होगा कि आप न्यूज़ पेपर में फाइनेंस वाला पेज पढ़ना शुरू करें. इससे धीरे-धीरे आप फाइनेंस से जुड़ने लगेंगे और आपकी रुचि बढ़ेगी.

स्मॉल इन्वेस्टमेंट
ये बात हम भी जानते हैं कि अभी-अभी आपने अपनी नौकरी शुरू की है. कॉलेज छोड़े आपको कुछ महीने ही बीते हैं, इसलिए हम नहीं कहेंगे कि बड़े इन्वेस्टमेंट करें. अपनी सैलरी का एक छोटा-सा हिस्सा इन्वेस्ट करें. बेहतर होगा आरडी से शुरूआत करें. एक पॉलिसी लें. आप ईयर्ली पॉलिसी लेने की बजाय मंथली प्रीमियम भरें.

टैक्स की जानकारी रखें
भले ही आपकी सैलरी टैक्सेबल नहीं है, लेकिन टैक्स की जानकारी रखना आपका फर्ज़ है. टैक्स स्लैब, इन्वेस्टमेंट आदि के बारे में जानकारी रखें. टैक्स बचाने के लिए कहां-कहां इन्वेस्ट कर सकते हैं, इसकी जानकारी आपको होनी चाहिए.

स्मार्ट टिप्स
– अपने पैरेंट्स से सलाह लें.
– दोस्तों से इन्वेस्टमेंट की सलाह न लें.
– अगर समझ में नहीं आ रहा है, तो किसी एक्सपर्ट की सलाह लें.
– हो सके, तो सैलरी का एक हिस्सा अभी से रिटायरमेंट के लिए सेव करें.
– मेडिकल इंश्योंरेंस करवाएं.

श्वेता सिंह 

अधिक फाइनेंस आर्टिकल के लिए यहां क्लिक करें: FINANCE ARTICLES