Tag Archives: financial cheating

क्या आप पार्टनर को फायनांशियली चीट कर रहे हैं? (Are you cheat Financial partner?)

cheat financial partner

cheat financial partner

8

माना शादीशुदा ज़िंदगी में हमसफ़र को हर बात बतानी ज़रूरी नहीं है, मगर कुछ मामलों में उनसे बोला गया झूठ आपके रिश्ते पर भारी पड़ सकता है, ख़ासकर पैसों से जुड़े मामले. आमतौर पर कपल्स पार्टनर से फायनांस से जुड़ी कौन-सी बातें छुपाते हैं? आइए, जानते हैं.

6

इनकम (आय) छुपाना
अमित अपनी कुल सैलरी की रकम से कम ही रकम अपनी पत्नी को बताते हैं. उन्हें डर है कि ज़्यादा रकम सुनकर पत्नी कोई महंगी पर्सनल चीज़ की डिमांड ना कर दे, क्योंकि उसे लोगों से तुलना करने की आदत है. रेखा भी अपनी इनकम के बारे में पति से झूठ बोलती है. स़िर्फ इसलिए ताकि उसके पति के अहम् को चोट ना पहुंचे कि वह अपने पति से ज़्यादा कमाती है.

क्या करें?
ऐसा भी हो सकता है कि जिस तरह की सोच अमित और रेखा अपने पार्टनर के बारे में रखते हैं, उनका स्वभाव ऐसा न हो, इसलिए पार्टनर से खुलकर बात करनी ज़रूरी है. इससे उन्हें भी अच्छा लगेगा कि आप उन पर विश्‍वास करते हैं.
प अपने पार्टनर से सलीके और बुद्धिमानी से इस तरह बात करें कि उन्हें बुरा ना लगे. उन्हें अपनी पे स्लिप या बैंक स्टेटमेंट दिखाएं और कहें कि अपनी और बच्चों की आर्थिक सुरक्षा के लिए एक निश्‍चित रकम बचत में जाएगी और बचे हुए पैसों से ही घर ख़र्च चलेगा. निश्‍चित ही पार्टनर इसका विरोध नहीं करेंगे.

ख़र्च छुपाना
राहुल अपने ख़र्चों के बारे में पत्नी को कभी नहीं बताते या झूठ बोलते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है वह बहुत सवाल करती है और उनके ख़र्च को हमेशा ग़लत ठहराती है. जबकि उनकी पत्नी रीता का कहना है, ङ्गङ्घराहुल होटल और दोस्तों को खाने-खिलाने में तो पैसे उड़ाते हैं, मगर घर ख़र्च के लिए पैसे देते समय हाथ खींच लेते हैं. मैं हाउसवाइफ हूं इसलिए मुझे घर ख़र्च के पैसों से ही अपने पर्सनल ख़र्च भी पूरे करने पड़ते हैं.फफ रीता के पैसे महीना पूरा होने से पहले ही ख़त्म हो जाते हैं और इसी बात पर अक्सर पति-पत्नी में झगड़ा हो जाता है.

क्या करें?
इन हालात में सबसे ज़्यादा ज़रूरी है कि घर का बजट बनाया जाए, जिसमें पति-पत्नी के पर्सनल ख़र्च, बच्चों की फीस, उनके ख़र्च, बिल, राशन आदि तथा अन्य ख़र्च के लिए निश्‍चित राशि रखी जाए. साथ ही बचत के लिए अलग से रकम रखें. इस नियम का कठोरता से पालन करें. इससे आपस में झगड़े भी नहीं होंगे और सारी समस्या हल हो जाएगी.

बचत/प्रॉपर्टी के बारे में छुपाना
अतुल अपनी मां का बहुत आदर करता है, परंतु मां की उसकी पत्नी से नहीं बनती. अतुल ने अपनी बचत से एक प्लॉट लिया, परंतु नॉमिनी पत्नी की जगह मां को बनाया. इस बारे में पत्नी को बताया भी नहीं. इसी तरह अन्य दस्तावेजों में भी मां, भाई या बहन ही नॉमिनी थे. अचानक अतुल की एक कार एक्सीडेंट में मृत्यु हो गई. उसकी पत्नी को प्रॉपर्टी के बारे में कुछ भी मालूम नहीं था. ससुरालवालों ने हाथ खड़े कर लिए. उसे बहुत परेशानी झेलनी पड़ी.

क्या करें?
कई बार पति पत्नी को प्रॉपर्टी या बचत के बारे में बताना ज़रूरी नहीं समझते. कई बार पत्नी भी इसमें रुचि नहीं लेती, इसलिए उसे बताया नहीं जाता. आप ऐसी ग़लती ना करें. प्रॉपर्टी या कोई भी बड़ा इन्वेस्टमेंट आपसी सहमति से ही करें. पत्नी को ही नॉमिनी बनाएं. इसी तरह बैंक अकाउंट्स, इंश्योरेंस या अन्य किसी भी दस्तावेज में नॉमिनी का कॉलम होता है. उसे कभी खाली ना छोड़ें. नॉमिनेशन ना होने पर आपके जाने के बाद प्रॉपर्टी के लिए पत्नी को काफ़ी मशक्कत करनी पड़ेगी.

उधार/ऋण छुपाना
सबसे ज़्यादा झूठ क्रेडिट कार्ड के मामले में ही बोला जाता है. पति या पत्नी क्रेडिट कार्ड से ख़र्च करते रहते हैं और आपस में बताते ही नहीं. कई बार वो लोन लेने के बारे में भी पार्टनर को नहीं बताते. मुश्किल तो तब आती है जब पति की मृत्यु हो जाती है और रकम की वसूली के लिए बैंक पत्नी को तंग करते हैं और तब परिवार आर्थिक परेशानियों से घिर जाता है.

क्या करें?
क्रेडिट कार्ड से ख़र्च करने/लोन लेने पर पार्टनर को ना बताना रिस्की हो सकता है. यदि क्रेडिट कार्ड है, तो ध्यान रखें कि पार्टनर देय राशि समय पर चुका दें. यदि पैसों की तंगी है तो पर्सनल लोन लेने की बजाय अपनी संपत्ति, सोना या फिक्स्ड डिपॉज़िट पर लोन लेना बेहतर होगा.

7

कैसे जानें पार्टनर कुछ छुपा रहा है?

  •  क्या आपके पार्टनर का व्यवहार अचानक बदल गया है? क्या वो अचानक चिड़चिड़ा और ग़ुस्सैल हो गया है? क्या वो आपके ख़र्च पर सवाल उठा रहा है? यदि हां, तो संभल जाइए. जब कोई व्यक्ति कुछ ग़लत करता या छुपाता है, तभी वह दूसरों से सवाल करता है.
  •  यदि पत्नी घर ख़र्च के लिए पैसों की कमी की शिकायत करती है. वह वर्किंग नहीं है, फिर भी स्वयं के लिए कोई महंगी चीज़ ख़रीद लेती है. इसी तरह महीने के अंत में कुछ भी रकम नहीं बचती कहनेवाला पति ख़ुद के लिए बाइक ख़रीद लेता है. इसका मतलब है कि पति जितना कहता है, उससे ज़्यादा कमाता है और पत्नी ने या तो घर ख़र्च से पैसे बचाए हैं या किसी से उधार लिया है.
  •  यदि पार्टनर के पर्सनल ख़र्च, क्रेडिट कार्ड, टेलिफोन बिल, अचानक बढ़ गए हैं, तो ध्यान दें.
  •  आजकल बहुत से लोग बैंक ट्रांजेक्शन नेट पर करते हैं या ऑनलाइन ख़रीददारी करते हैं. यदि आपका पार्टनर हर बार आपके आते ही जल्दी से कंप्यूटर बंद कर दे, आपको ट्रांजेक्शन देखने ना दे या आपसे अपना पासवर्ड शेयर ना करे, तो समझ जाएं ज़रूर कुछ छुपाया जा रहा है.

क्या कहती है रिसर्च?

  •  रिसर्च बताती है कि लगभग 42% पुरुष अपनी आय के बारे में झूठ बोलते हैं.
  • सर्वे से पता चला है कि 56% पुरुष पत्नी को बताए बिना ही ख़र्च करते हैं.
  • सर्वे में 39% महिलाओं का विश्‍वास है कि शादी में पैसों का इस तरह का छोटा-मोटा झूठ चलता है, जबकि 16% महिलाएं मानती हैं, कि छोटे-छोटे ख़र्च तो नहीं, पर बड़े ख़र्च बताए जाने चाहिए.
  • अधिक फाइनेंस आर्टिकल के लिए यहां क्लिक करें: FINANCE ARTICLES 

[amazon_link asins=’B00GZ61W4G,B01HI6PEDG,B01I1RWOX4,B01LRU853A’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’a39b3894-b8a6-11e7-b29e-3157513f0513′]