fit

Rujuta Diwekar
आर्ट ऑफ ईटिंग राइट: सही खाना और कैलोरीज़ गिनना एक-दूसरे के विपरीत है- रुजुता दिवेकर (Indian Food Wisdom And The Art Of Eating Right By Rujuta Diwekar)

वेटलॉस को लेकर बहुत-से मिथ्स हैं. जब तक इन्हें दूर कहीं करेंगे, ग़लतियों करते रहेंगे. इस विषय पर जानीमानी स्पोर्ट्स साइंस और न्यूट्रिशन एक्सपर्ट रुजुता दिवेकर ने बहुत कुछ बताया और लोगों को सही मार्गदर्शन दिया है. रुजुता दिवेकर न स़िर्फ भारत बल्कि विश्‍व के सबसे अधिक फॉलो किए जानेवाले न्यूट्रिशनिस्ट्स में से एक हैं. वो बेस्ट सेलिंग ऑथर भी हैं और हेल्थ व वेलनेस पर बेहतरीन स्पीकर भी. यही वजह है कि उन्हें एशियन इंस्टिट्यूट ऑफ गैस्ट्रोएनटेरोलॉजी द्वारा न्यूट्रिशन अवॉर्ड से भी नवाज़ा जा चुका है.
जी हां, हम अक्सर डायटिंग और वेटलॉस का मतलब यही समझते हैं कि कैलोरीज़ गिन-गिनकर खाओ और कम खाओ. बहुत-सी चीज़ें न खाओ, जबकि यह सोच ही ग़लत है. सही खाना और सही एक्सरसाइज़ ही आपको सही रिज़ल्ट दे सकते हैं. यही नहीं हर किसी की ज़रूरत व शरीर अलग होता है. अगर कोई डायबिटीज़ या हार्ट पेशेंट है तो उसका खान-पान अलग होगा.

क्या है सही खाना और सही डायट प्लान?
– लोकल फूड खाएं. आप जहां रहते हैं, वहां के वातावरण व लाइफस्टाइल के हिसाब से खाना आपको अधिक सूट करता है. भारत में रहकर यदि आप विदेशी फल व सब्ज़ियां खाएंगे, तो आपको उतना लाभ नहीं मिलेगा, जितना भारतीय फल व सब्ज़ियां खाने से मिलेगा.
– मौसमी चीज़ें खाएं. मौसमी फल व सब्ज़ियां खाने से हिचकें नहीं.
– अपने हाथों से बनाकर हेल्दी खाना खाएं.
– अपनी ज़रूरतों व आसपास के वातावरण के अनुसार अपना डायट प्लान बनाएं.
– हर किसी का शरीर अलग होता है, क्योंकि उनके रहन-सहन का तरीक़ा, उनका स्ट्रेस लेवल, उनकी ईटिंग हैबिट्स, डायट पैटर्न आदि भी अलग होता है.
– ऐसे में उनके सभी बातों को ध्यान में रखते हुए सही डायट प्लान और एक्सरसाइज़ प्लान सिलेक्ट करना ज़रूरी है.
– आपको एक्सपर्ट बता पाएंगे कि आपके लिए क्या सही है.
– बिना सोचे-समझे खाना कम कर देने से फ़ायदे की जगह नुक़सान हो सकता है. हो सकता है सही पोषण न मिलने पर कमज़ोरी आ जाए. बेतहर होगा पूरी सजगता व सही जानकारी के आधार पर ही डायट व एक्सरसाइज़ करें.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: बेटी को यूरिन पास करते समय बहुत तकलीफ़ होती है (Child Pain When Urinating)

कैलोरीज़ नहीं, प्राण गिनें…
जहां एक तरफ़ वेस्टर्न कल्चर ने हमें कैलोरीज़ गिनना सिखाया है, वहीं हमारी सांस्कृतिक धरोहर ने हमें प्राणों यानी प्राणिक वैल्यू का महत्व बताया है. पेड़, पौधों और फसलों को प्राण कहां से मिलता है- हवा, पानी, सूर्य और मिट्टी में जो पोषक तत्व हैं उससे. जब उन्हें यह सही मात्रा में नहीं मिलेगा, तो ज़ाहिर है वो बीमार होंगे. ठीक इसी तरह हमें भी यदि ज़रूरी तत्व सही मात्रा में नहीं मिलेंगे, तो हम भी बीमार होंगे. प्राण क्या है? वो जीने का तत्व यानी जीने की ऊर्जा है. लेकिन यह ऊर्जा पश्‍चिम के शब्द एनर्जी से बिल्कुल अलग है. उनके लिए एनर्जी कैलोरीज़ होती हैं, जिन्हें गिनना ज़रूरी है, जबकि प्राण वो जीवनी शक्ति है, जो आपको संतुलित ऊर्जावान, ताज़ा व हल्का महसूस कराती है. इस वीडियो से आप इसे बेहतर तरी़के से समझ सकते हैं और हेल्दी लाइफ की ओर बढ़ सकते हैं.

सौजन्य: https://www.rujutadiwekar.com

यह भी पढ़ें: वेट लॉस टिप ऑफ द डे: वज़न कम करने के लिए ऐसे करें शहद का इस्तेमाल (Weight Loss Tip Of The Day: How To Use Honey For Weight Loss)

150 Lajawab Recipes

150 Lajawab Recipes

Rs.30
Attractive Mehendi Designs (E-Book)

Attractive Mehendi Designs (E-Book)

Rs.30
Unda Mehendi Designs (E-Book)

Unda Mehendi Designs (E-Book)

Rs.30

health tips

 

नए साल के स्वागत में आप जमकर मस्ती और पार्टी करेंगे, ख़ूब खाएंगे, पीएंगे भी… मगर इन सबमें अपनी सेहत को नज़रअंदाज़ मत करिएगा, क्योंकि एक पुरानी कहावत है हेल्थ इज़ वेल्थ. ख़ैर छोड़िए अब तक आपने अपनी सेहत के लिए क्या किया और क्या नहीं किया, सोचने की बजाय नए साल में ख़ुद से कुछ वादा करिए और अपनी सेहत को दुरुस्त रखिए. न्यू ईयर में इन हेल्थ रेज़ोल्यूशन्स को अपनी ज़िंदगी में शामिल करिए और पूरे साल बने रहिए फिट एंड फाइन.

 

health tips

1. कूल कहलाने के लिए ड्रिंक न करें
आज की यंग जनरेशन के लिए पार्टी का मतलब ही होता है शराब और जो ड्रिंक नहीं करता, उसे ये आउटडेटेड या कूल नहीं समझते हैं. यदि आप भी अपने फ्रेंड्स ग्रुप में कूल कहलाने के लिए ड्रिंक करते हैं या करने की सोचते हैं, तो ऐसा बिल्कुल न करें. इस बार नए साल का स्वागत दोस्तों के साथ टी पार्टी या जूस पार्टी के साथ करें.

 

health tips

2. रेग्युलर वर्कआउट
आज तो लेट हो गया, कल से करूंगा/करूंगी, अरे यार आज तो आंख ही खुली लेट. कोई बात नहीं कल से कर लूंगी… इस तरह के बहाने अब नहीं चलेंगे. यदि आपको सचमुच अपनी सेहत की चिंता है, तो नए साल में ख़ुद से वादा करें कि रोज़ाना बिना किसी बहाने के आप एक्सरसाइज़ करेंगे. हफ़्ते में कम से कम 5 दिन डेली सुबह आधे घंटे तक चलना, दौड़ना या साइकलिंग जैसी एक्सरसाइज़ कर सकते हैं.

health tips

3. स्ट्रेस को कहें गुड बाय
जिस तरह आपने पुराने साल को अलविदा कर दिया, उसी तरह नए साल में अपने तनाव को भी बाय-बाय कह दीजिए. माना कि काम थोड़ा मुश्किल है, मगर नामुमक़िन तो नहीं. स्ट्रेस के कारणों का पता लगाकर उन्हें जल्द से जल्द दूर करने की कोशिश करें, क्योंकि स्ट्रेस आपकी सेहत का सबसे बड़ा दुश्मन है.

 

health tips

4. दूसरों को ख़ुश करने के लिए न खाएं
दोस्तों/रिश्तेदारों के साथ कहीं बाहर जाने पर अक्सर ऐसा होता है कि मन न होने पर भी बस उन्होंने कहने पर या उनका दिल रखने के लिए हम जंकफूड या कोई ऐसी चीज़ खा लेते हैं, जो हमारी सेहत के लिए ठीक नहीं होता. यदि आप डायटिंग पर हैं, तो हाई कैलोरी फूड ऑफर करने पर प्यार से अपने दोस्त/रिश्तेदार को मना कर दें. कहीं ऐसा न हो कि उनका दिल रखने के चक्कर में आपके दिल की सेहत बिगड़ जाए.

 

health tips

5. रेग्युलर मेडिकल चेकअप भी है ज़रूरी
आमतौर पर लोग, ख़ासकर महिलाएं कोई गंभीर बीमारी होने पर ही डॉक्टर के पास जाती हैं और मेडिकल चेकअप करवाती हैं, जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए. एक ख़ास उम्र के बाद रेग्युलर मेडिकल चेकअप ज़रूरी होता है, ताकि किसी तरह की बीमारी होने पर शुरुआती स्टेज पर ही उसका इलाज किया जा सके. एक्सपर्ट्स मानते हैं कि स्वस्थ इंसान को भी 30 की उम्र के बाद साल में एक बार चेकअप ज़रूर करना चाहिए, तो नए साल पर ख़ुद से वादा करिए कि अपनी सेहत के प्रति किसी तरह की लापरवाही नहीं करेंगे.

 

health tips

6. न भूलें पानी पीना
अक्सर ऑफिस में या घर पर भी काम में बिज़ी रहने पर लोग पानी पीना भूल जाते हैं, ये लापरवाही सेहत के लिए अच्छी नहीं है. पानी न स़िर्फ शरीर से हानिकारक टॉक्सिन्स को बाहर निकालता है, बल्कि त्वचा को भी निखारता है. अतः रोज़ाना बिना भूले ख़ूब पानी पीएं. आमतौर पर एक दिन में 8 ग्लास पानी पीने की सलाह दी जाती है.

 

health tips

7. करें वेट कंट्रोल
आज की फास्ट ट्रैक जनरेशन में फास्टफूड के बढ़ते चलन के कारण ओबेसिटी की समस्या बढ़ रही है. मेट्रो सिटीज़ में चाइल्ड ओबेसिटी भी बहुत बड़ी समस्या बनती जा रही है. हेल्दी रहने के लिए उम्र और लंबाई के हिसाब से वज़न होना ज़रूरी है. बढ़ता वज़न ढेर सारी बीमारियों को न्योता देता है, इसलिए वज़न नियंत्रित रखने की कोशिश करें. बच्चों की डायट का भी ध्यान रखें. बच्चे मोटे अच्छे लगते हैं वाली सोच दिमाग़ से निकाल दें और उनके वज़न पर भी नज़र रखें.

 

health tips

8. बेस्ट है योग
वज़न कम करने से लेकर कमर दर्द और टमी फैट कम करने के लिए योग बेस्ट ऑप्शन है. अपनी ज़रूरत के मुताबिक आप एक्पर्ट्स से योगासन सीखकर हफ़्ते में कम से कम 5 दिन रोज़ाना योग करें. एक्सपर्ट की सलाह इसलिए ज़रूरी है, क्योंकि योग हमेशा सही तरी़के से करने पर ही फ़ायदेमंद होता है. साथ ही यदि आपको किसी तरह की कोई बीमारी है, तो भी आप हर तरह का योगासन नहीं ट्राई कर सकते, इसलिए नए साल में योग स्टार्ट करने से पहले एक्सपर्ट की सलाह ज़रूर लें. ये आपको मेंटली और फिज़ीकली दोनों तरह से फिट रखेगा.

 

health tips

9. सोने का समय निश्‍चित करें
हो सकता है बेड पर जाते ही तुरंत आपको नींद न आए, लेकिन आप डेली बेड पर जाने का समय तो निश्‍चित कर ही सकते हैं. ऐसा करने से धीरे-धीरे आपको टाइम पर सोने की आदत हो जाएगी और सुबह आप बिल्कुल फ्रेश फील करेंगे. हेल्दी लाइफ के लिए नींद पूरी होना बहुत ज़रूरी है, क्योंकि इस समय न स़िर्फ आपका शरीर, बल्कि दिमाग़ भी रेस्ट करता है, तो न्यू ईयर में अपना सोने का रूटीन तय कर लें.

health tips
10. ब्लड डोनेट करें
आपका ब्लड किसी ज़रूरतमंद की जान बचा सकता है, यही सोचकर साल में कम से कम दो बार ब्लड डोनेट ज़रूर करें. कुछ लोगों को लगता है कि ब्लड डोनेट करने से उन्हें कमज़ोरी हो सकती है, ये बात बिल्कुल ग़लत है. यदि आप हेल्दी और फिट हैं, तो इसका आपकी सेहत पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा.

– कंचन सिंह

Zykadaar Receipe (E-Book)

Rs.30

Tasty Snacks Recipes (E-Book)

Rs.30

Rice Recipes (E-Book)

Rs.30

– शोधों से यह बात साबित हो चुकी है कि नियमित रूप से एक्सरसाइज़ (Health Benefits of Exercise) करने से नींद अच्छी आती है.

– दिनभर ताज़गी का एहसास बना रहता है.

 

Health Benefits of Exercise

– रोज़ाना एक्सरसाइज़ करने से शरीर में फैट्स का लेवल कम होता है और ऊर्जा का स्तर बढ़ता है.

– नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करने से अवसाद और चिड़चिड़ापन दूर होता है.

– यदि एक्सरसाइज़ करने के मूड में नहीं हैं, तो दूसरी एक्टिविटीज़ करके भी अपने आपको फिट रख सकती हैं, जैसे- बच्चों के साथ बास्केट बॉल खेलना, बागवानी करना, ग्रॉसरी शॉप तक वॉकिंग जाना, पेट्स के साथ वॉक पर जाना आदि.

– तनाव कम करने के लिए जितना हो सके, शारीरिक गतिविधियां अधिक करें.

– गेम्स आदि खेलकर भी आप अपने तनाव को कम कर सकती हैं.

 

Health Benefits of Exercise

– एक्सरसाइज़ से शरीर के टॉक्सिन्स बाहर निकल जाते हैं और ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है.

– नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करने से इम्यून सिस्टम मज़बूत बनता है और आप बेहतर तरी़के से बीमारियों से लड़

पाते हैं.
Health Benefits of Exercise

मेडिकली यह साबित हो चुका है कि जो लोग नियमित रूप से एक्सरसाइज़ या फिज़िकल एक्टिविटीज़ करते हैं, उनमें-

  • कोरोनरी हार्ट डिसीज़ और स्ट्रोक का ख़तरा 35% तक कम हो जाता है.
  • डायबिटीज़ का ख़तरा लगभग 50% तक कम हो जाता है.
  • ब्रेस्ट कैंसर का ख़तरा 20% तक कम हो जाता है.
  • ऑस्टियोआर्थराइटिस का ख़तरा 83% तक कम हो जाता है.
  • अर्ली डेथ, डिप्रेशन और डेमेन्शिया का ख़तरा 30% तक कम हो जाता है.

Zykadaar Receipe (E-Book)

Rs.30

Tasty Snacks Recipes (E-Book)

Rs.30

Rice Recipes (E-Book)

Rs.30