Tag Archives: fixed deposit

महिलाओं के लिए फाइनेंशियल सिक्योरिटी के 5 बेस्ट ऑप्शन्स (5 Best Financial Security Options For Women)

Financial Security Options, Women

आज भी हमारे यहां महिलाओं की सोशल सिक्योरिटी और फाइनेंशियल सिक्योरिटी (Financial Security) पर उतना ध्यान नहीं दिया जाता, जितना देना चाहिए. उम्र के साथ बदलती ज़रूरतों को ध्यान में रखते हुए महिलाओं के लिए फाइनेंशियल सिक्योरिटी बहुत ज़रूरी है.
Financial Security Options, Women

आप भी अपनी फाइनेंशियल सिक्योरिटी के लिए उठाएं कुछ ज़रूरी क़दम.

जीवन बीमा

Financial Security Options, Women

फाइनेंशियल सिक्योरिटी के लिए सबसे ज़रूरी है, लाइफ इंश्योरेंस यानी जीवन बीमा. समय के साथ जीवन बीमा आपकी हर आर्थिक ज़रूरत का ख़्याल रखती है. इससे मिलनेवाले रिटर्न्स से आप अपनी ज़रूरतों को बख़ूबी पूरा कर सकती हैं. इसलिए जितना जल्दी हो सके, उतना जल्दी अपना जीवन बीमा करवाएं.

मेडीक्लेम

Financial Security Options, Women

आज भले ही लोग अपने स्वास्थ्य को लेकर जागरूक हो गए हैं, पर मेडीक्लेम को लेकर अभी भी लापरवाही बरतते हैं, जिसके परिणामस्वरूप अचानक से आई किसी मेडिकल इमर्जेंसी में सारी जमा-पूंजी ख़त्म हो जाती हैं. लेकिन अगर मेडीक्लेम हो, तो ऐसी नौबत नहीं आती.

और भी पढ़ें: शादी में दें फाइनेंशियल सिक्योरिटी का उपहार 

रिटायरमेंट प्लान

Financial Security Options, Women

आज भी ज़्यादातर कामकाजी महिलाएं अपने रिटायरमेंट के लिए कुछ बचत नहीं करतीं या फिर उसे ख़ास तवज्जो नहीं देतीं. हर महिला को एक रिटायरमेंट प्लान ज़रूर लेना चाहिए, ताकि रिटायरमेंट के बाद उनको किसी पर निर्भर न रहना पड़े.

फिक्स्ड डिपॉज़िट

Financial Security Options, Women

अपने भविष्य को सुरक्षित करने के लिए फिक्स्ड डिपॉज़िट एक बढ़िया तरीक़ा है. सेविंग्स अकाउंट में पैसे रखने की बजाय फिक्स्ड डिपॉज़िट में डालकर आप सेविंग्स अकाउन्ट्स की तुलना में कई गुना ज़्यादा ब्याज पा सकती हैं. इसलिए अगर आपके पास एक अच्छी रक़म है, तो उसे सेविंग्स अकाउंट में रखने की बजाय फिक्स्ड डिपॉज़िट में डाल दें.

म्यूचुअल फंड

Financial Security Options, Women

फाइनेंशियल सिक्योरिटी के लिए इन्वेस्टमेंट एक बहुत अच्छा उपाय है, पर ज़्यादातर महिलाओं को इस बारे में सही जानकारी न होने के कारण वे इसे अनदेखा कर देती हैं. ऐसे में म्यूचुअल फंड निवेश आपके लिए एक बेहतरीन ऑप्शन हो सकता है. इसमें आपको स़िर्फ एक फॉर्म भरना होता है, बाकी सारी ज़िम्मेदारी फंड मैनेजर्स की होती है. तो देर किस बात की, म्यूचुअल फंड में निवेश करके पाएं फाइनेंशियल सिक्योरिटी.

और भी पढ़ें: 15 इन्वेस्टमेंट ऑप्शन्स महिलाओं के लिए

बच्चे के जन्म के साथ लें ये 7 फाइनेंशियल फैसले (7 Financial decisions Must Take With Birth of a Child)

बच्चे, जन्म, फाइनेंशियल फैसले, Financial, decisions, Birth, Child

बच्चे, जन्म, फाइनेंशियल फैसले, Financial, decisions, Birth, Childबच्चेे का जन्म होने के साथ ही दंपति की ज़िम्मेदारियां बढ़ जाती हैं. एक और जहां उसकी अच्छी देखभाल और परवरिश की ज़िम्मेदारियां बढ़ती हैं, वहीं दूसरी ओर उसके सुरक्षित भविष्य के प्रति चिंता भी बढ़ने लगती है. समझदार पैरेंट्स वही होते हैं, जो बच्चे के जन्म के साथ ही उसके सुरक्षित भविष्य के लिए निवेश संबंधी ़फैसले लेने शुरू कर देते हैं. सुरक्षित भविष्य यानी बच्चे की शिक्षा, करियर और शादी में होनेवाले बड़े ख़र्चों के लिए अच्छी ख़ासी जमाराशि का प्रबंध करना. यदि आप भी अपने लाडलेे के सुरक्षित भविष्य के लिए कोई वित्तीय फैसला लेने की सोच रहे हैं, तो यहां पर बताए गए वैकल्पिक निवेशों में से कुछ ऑप्शन का चुनाव कर सकते हैं. आइए जानें, फाइनेंशियल एडवाइज़र वामन पुजारी द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर कैसे करें बच्चे के सुरक्षित भविष्य के लिए वित्तीय फैसले?फिक्स डिपॉज़िट्स

पोस्ट ऑफिस और बैंक के फिक्स डिपॉज़िट्स बच्चों के लिए एक सुरक्षित निवेश हैं. शैड्यूल बैंक (जो आरबीआई एक्ट के दूसरे शेड्यूल की लिस्ट में शामिल होते हैं) फिक्ड डिपॉज़िट्स पर टैक्स डिडक्शन भी देते हैं. अलग-अलग बैंकों में फिक्स डिपॉज़िट्स की ब्याजदर अलग-अलग होती है. सामान्यत: फिक्स डिपॉज़िट्स पर अधिकतर बैंकों की ब्याज दर 7.5% से 9% तक के बीच में होती है. कुछ स्थितियों में इन फिक्स डिपॉज़िस्ट को लेने का एक नुक़सान भी होता है. वह है फिक्स डिपॉज़िट पर मिलनेवाला अधिक ब्याज टैक्सेबल होता है. यदि यह ब्याज की राशि बैंक द्वारा तय की गई ब्याज की राशि से अधिक होती है, तो उस पर टैक्स देना होगा. इसलिए फिक्स डिपॉज़िट्स कराने से पहले बैंककर्ता से सारी जानकारी हासिल कर लें.

और भी पढ़ें: शादी में दें फाइनेंशियल सिक्योरिटी का उपहार

पोस्ट ऑफिस मंथली इंकम स्कीम

शेयर, म्यूचुअल फंड और यूलिप आदि की तुलना में यह स्कीम सबसे सुरक्षित विकल्प है. इसमें शेयर की अपेक्षा हानि होने की संभावना न के बराबर होती है और रिर्टन्स भी अच्छा मिलता है. इस स्कीम के तहत दंपति को एक निर्धारित राशि 6 साल तक हर महीने पोस्ट ऑफिस में जमा करानी पड़ती है, जिस पर 8% की दर से वार्षिक ब्याज मिलता है. इसके साथ ही मेच्योरिटी डेट पूरा होने पर 5% का बोनस भी मिलता है. आवश्यकता पड़ने पर इस स्कीम को प्रीमेच्योर भी करा सकते हैं. 1-3 साल की अवधि में प्रीमेच्योर कराते हैं, तो जमाराशि पर 2% की पेनेल्टी काटने के बाद बची हुई रकम मिल जाती है. इसी तरह से यदि 3 साल के बाद प्रीमेच्योर कराते हैं, तो 1% पेनेल्टी काटने के बाद बची हुई रकम मिल जाती है.

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट

ये सर्टिफिकेट्स एक विश्‍वनीय रिटर्न स्कीम हैं, जिसमें सेक्शन 80सी के तहत इसमें छूट भी मिलती है. इन सर्टिफिकेट्स पर दंपति 100 से लेकर इच्छानुसार अधिकतम राशि तक निवेश कर सकते हैं. ये सर्टिफिकेट्स 5 साल और 10 साल की अवधिवाले होते हैं. पांच साल की अवधिवाले सर्टिफिकेट में 8.5% की दर से ब्याज भी मिलता है और 10 साल वाले नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट में 8.8% की दर से ब्याज मिलता है. मेच्योरिटी डेट पर यह राशि मूलधन और ब्याज सहित वापस मिलती है. दंपति चाहें तो 5 साल या 10 साल अवधिवाले सर्टिफिकेट को आगामी सालों के लिए रिन्यू भी करा सकते हैैं. इसके अतिरिक्त आवश्यकता पड़ने पर दंपति इन सर्टिफिकेट्स को प्रीम्चोर विड्रॉ भी करा सकते हैं. ज़रूरत पड़ने पर इन सर्टिफिकेट्स को एक स्थान से दूसरे स्थान पर और एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को भी ट्रांसफर कर सकते हैं.

किसान विकास पत्र

एनएससी की तरह दंपति किसान विकास पत्र में भी निवेश कर सकते है. नाबालिग (बच्चे) के नाम से किसान विकास पत्र ख़रीदकर पैरेंट्स ख़ुद को नॉमिनी बनाकर इस योजना का लाभ उठा सकते हैं. इसमें दंपति 1 हज़ार रुपए से लेकर इच्छानुसार अधिकतम राशि तक निवेश कर सकते हैं. चाहें तो 8 साल 4 महीने के बाद वे इसे भविष्य के लिए रिन्यू भी करा सकते हैं या फिर चाहें तो 2 से ढाई साल के बाद विड्रॉ भी करा सकते हैं.

डेबट्स म्यूचुअल फंड और बैलेंस्ड म्यूचुअल फंड

चिल्ड्रन इंश्योरेंस प्लान की तरह दंपति डेबट्स म्यूचुअल फंड और बैलेंस्ड म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं. म्यूचुअल फंड्स में निवेश करने पर अच्छा रिर्टन्स मिलता है, लेकिन इसमें मिलनेवाला लाभ बाज़ार की स्थितियों पर निर्भर करता है. इसलिए इन म्यूचुअल फंड में निवेश करने से पहले दंपति अच्छी तरह से मार्केट रिसर्च कर लें, साथ ही इन म्यूचुअल फंड्स में निवेश करने के बाद भी दंपति लगातार बाज़ार के उतार-चढ़ाव पर नज़र बनाए रखें.
चिल्ड्रन सेविंग अकाउंट: बच्चों के सुरक्षित भविष्य के लिए ‘चिल्ड्रन सेविंग अकाउंट’ सबसे अच्छा विकल्प है. दंपति अपने बजट के अनुसार एक तय रकम उसके खाते में जमा कराकर उसके भविष्य के लिए एक मोटी रकम जोड़ सकते हैं.

चिल्ड्रन इंश्योरेंस प्लान

प्रतियोगिता के दौर में सरकारी व निजी बैंकों की तरह लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया ने भी बच्चों के सुरक्षित भविष्य के लिए अनेक पॉलिसी ज़ारी की हैं, जैसे- जीवन अनुराग, जीवन किशोर और जीवन अंकुर आदि. इन पॉलिसी में निवेश करके दंपति अपने बच्चे के भविष्य को सिक्योर कर सकते हैं. एलआईसी की तरह ही दंपति निजी बैंकों जैसे- एचडीएफसी-एसएल यंगस्टार सुपर प्रीमियम और यंगस्टार उड़ान आदि चिल्ड्रन इंश्योरेंस प्लान भी ले सकते हैं. इन इंश्योरेंस पॉलिसी को लेकर वे अपने बच्चों की पढ़ाई, करियर आदि शादी संबंधी ज़रूरतों को आसानी से पूरा कर सकते हैं.
पब्लिक प्रोविडेंट फंड: बच्चों के सुरक्षित भविष्य के लिए यह भी एक बेहतरीन विकल्प है. इसके अंतगर्त दंपति कम से कम 15 तक हर महीने 500 से लेकर अपने बजटानुसार डेढ़ लाख रुपए तक जमा करा सकते हैं. इस योजना के तहत 8.5% की ब्याज़ मिलता है और आयकर की धारा 80सी के तहत डिडक्शन में छूट भी मिलती है.

लड़कियों के लिए विशेष ‘सुकन्या समृद्धि योजना’

वर्ष 2014-15 में ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान के अन्तर्गत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लड़कियों के सुनहरे भविष्य के लिए एक लघु बचत योजना शुरू है. इस योजना के तहत पैरेंट्स बेटी के जन्म के लेकर 10 साल तक की उम्र होने तक उसका अकाउंट खोल सकते हैं. तब तक पैरेंट्स उसके नॉमिनी रहेंगे. इस योजना की शुरुआत में न्यूनतम राशि 1 हज़ार रुपए जमा करानी होती है और अधिक से अधिक डेढ़ लाख रूपए तक जमा करा सकते हैं. यदि किसी साल, किसी कारण से यह रकम जमा नहीं कराई है, तो अगले वर्ष 50 रुपए की पैनेल्टी के 1 हज़ार रुपए जमा करा सकते हैं. पैरेंट्स अपने बजट के अनुसार हर महीने 100, 500, या 2,000 रुपए से लेकर डेढ़ लाख तक जमा कर सकते हैं. इस योजना की ख़ास बात यह है कि इसमें ब्याज़ स्थायी नहीं है, हर साल नई ब्याज दर की घोषणा की जाएगी.

और भी पढ़ें: फाइनेंशियली कितनी फिट हैं आप?

अधिक फाइनेंस आर्टिकल के लिए यहां क्लिक करें: FINANCE ARTICLES 

 – पूनम नागेंद्र शर्मा