Tag Archives: Gangs of Wasseypur.

Birthday Special: पहले करते थे चौकीदारी, अब एक फिल्म के लिए 6 करोड़ लेते हैं नवाज़ुद्दीन सिद्दिकी (Happy Birthday Nawazuddin Siddiqui)

नवाज़ुद्दीन सिद्दिकी (Nawazuddin Siddiqui) बॉलीवुड के एक ऐसे अभिनेता हैंं, जो किसी भी किरदार में बेहद आसानी से ढल जाते हैं. अपनी बेमिसाल एक्टिंग के दम पर ही नवाज़ुद्दीन ने बॉलीवुड इंडस्ट्री में अपनी एक अलग पहचान बनाई है. आज वो अपना 45वां जन्मदिन मना रहे हैं. मुज़फ्फरनगर के एक छोटे से गांव बुढ़ाना में 19 मई 1974 को जन्में नवाज़ुद्दीन ने 19 साल पहले आमिर खान की फिल्म ‘सरफरोश’ से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की थी, लेकिन उन्हें पहचान मिली अनुराग कश्यप की फिल्म ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ से. चलिए उनके जन्मदिन के इस ख़ास मौके पर जानते हैं एक चौकीदार से दमदार कलाकार बनने तक का दिलचस्प सफर….

नवाज़ुद्दीन के पिता एक किसान थे और वो कुल आठ भाई-बहन थे, जिसके चलते परिवार का खर्च उठाना उनके पिता के लिए किसी चुनौती से कम नहीं था. लिहाजा ख़राब आर्थिक स्थिति के चलते नवाज़ ने छोटी सी उम्र से ही नौकरी करना शुरू कर दिया. साइंस में ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद वो दिल्ली आ गए, जहां दो वक़्त की रोटी का जुगाड़ करने के लिए उन्होंने चौकीदारी की नौकरी भी की.

बताया जाता है कि नवाज के गांव में एक भी थिएटर नहीं था इसलिए उन्हें फिल्म देखने के लिए 45 किलोमीटर दूर जाना पड़ता था. आपको जानकर हैरानी होगी कि फिल्मों में आने से पहले उन्होंने सिर्फ़ 5 फिल्में ही देखी है. हालांकि उन्हें एक्टिंग का शौक तो था लेकिन गरीबी उनके सपनों के बीच दीवार बनकर खड़ी थी, लेकिन वो रोज़ाना शीशे के सामने खड़े होकर एक्टिंग की रिहर्सल करते थे. इतना ही नहीं दिल्ली में चौकीदारी की नौकरी करने के साथ-साथ उन्होंने वहां थिएटर में दाखिल भी ले लिया था.

आख़िरकार वो दिन आ ही गया जब नवाज़ुद्दीन को पहली बार पेप्सी के कैंपेन विज्ञापन में काम करने का मौका मिला. इसके लिए उन्हें 500 रुपए फीस के तौर पर दिए गए थे, लेकिन फिल्मों में अपनी पहचान बनाने के लिए उन्हें 12 साल तक कड़ी मेहनत करनी पड़ी. उन्हें पहली बार आमिर की फिल्म ‘सरफरोश’ में एक छोटा सा किरदार निभाने का मौका मिला, लेकिन ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में फैज़ल का किरदार निभाकर नवाज़ुद्दीन ने ख़ूब नाम कमाया. इस फिल्म के बाद से नवाज़ के पास फिल्मों की झड़ी लगने लगी और वो एक चौकीदार से दमदार कलाकार बन गए. अब बॉलीवुड का यह दमदार कलाकार एक फिल्म के लिए 6 करोड़ रुपए बतौर फीस लेते हैं.

यह भी पढ़ें: Ramadan 2018: बॉलीवुड के इन सितारों ने दी रमज़ान की मुबारकबाद

 

 

मनोज बाजपयी हुए 48 के, देखें उनके दमदार डायलॉग्स (Happy Birthday Manoj Bajpayee)

मनोज बाजपयी

manoj

साधारण से चेहरे वाले मनोज बाजपयी ने ये साबित कर दिया है कि ऐक्टर बनने के लिए केवल अच्छी ऐक्टिंग आनी ज़रूरी है. मनोज 48 साल के हो गए हैं. 23 अप्रैल 1969 को बिहार के छोटे से गांव बेलवा में जन्मे मनोज बॉलीवुड का एक बड़ा नाम है. उनकी आवाज़ और डायलॉग बोलने का अंदाज़ काबिले तारीफ़ है. आपको जानकर आश्चर्य होगा कि उन्हें नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में तीन कोशिशों के बाद भी एडमिशन नहीं मिला था. कभी हिम्मत न हारने वाले मनोज ने इसके बाद ड्रामा स्कूल से बैरी जॉन के साथ थिएटर करना शुरु कर दिया. उनके ऐक्टिंग करियर की शुरूआत हुई सीरियल स्वाभिमान से, लेकिन मनोज को कोई ख़ास पहचान इस सीरियल से नहीं मिली. शेखर कपूर की फिल्म बैंडिट क्वीन से मनोज को फिल्मों में मौक़ा मिला. इस फिल्म में उनके किरदार को सराहा गया. इसके बाद भी मनोज ने कुछ फिल्में की, लेकिन सत्या फिल्म में उनके किरदार भीखू म्हात्रे ने मनोज को एक सशक्त अभिनेता के रूप में सबके सामने ला खड़ा किया. यहां से शुरू हुआ सफलता का दौर जो अब भी जारी है. फिल्म पिंजर और सत्या के लिए उन्हें नेशनल अवॉर्ड भी मिल चुका है.

मेरी सहेली की ओर से मनोज बाजपयी को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं.

देखें उनके 5 दमदार डायलॉग्स.

फिल्म- राजनीति

फिल्म- तेवर

फिल्म- सत्या

फिल्म- शूल

फिल्म- आरक्षण