Tag Archives: Gas Problems In Infant

बच्चों को गैस से राहत दिलाने के 5 अचूक घरेलू नुस्ख़े (5 Home Remedies To Treat Gas Problems In Children)

बच्चों (Children) को गैस (Gas) से राहत दिलाने के 5 अचूक घरेलू नुस्ख़े (Home Remedies) अपनाकर आप भी अपने बच्चे को मिनटों में गैस से राहत दिला सकती हैं. गैसे के कारण बच्चों को दूध पीने, सोने आदि में तकलीफ़ होती है. पेट में गैस जमा होने के कारण बच्चे असहज महसूस करते हैं और लगातार रोते रहते हैं. ऐसे में घरेलू नुस्ख़े अपनाकर आप अपने बच्चे को गैस की समस्या से राहत दिला सकती हैं.

Gas Problems In Children

शिशु को क्यों होती है गैस की समस्या?
अक्सर शिशु जब दूध पीता है, तो दूध के साथ बहुत सारी हवा भी निगल लेता है. यह हवा ही शिशु के पेट की गैस है. पेट में गैस हो जाने से शिशु असहज महसूस करने लगता है और रोने लगता है. पेट में गैस होने से शिशु ठीक से दूध नहीं पी पाता, सो नहीं पाता, बस रोता रहता है.

शिशु को गैस की समस्या से कैसे बचाएं?
शिशु को गैस की समस्या से बचाने के लिए दूध पिलाने के बाद उसे डकार ज़रूर दिलाएं. इसके लिए दूध पिलाने के बाद शिशु को अपने कंधे से लगाएं और दूसरे हाथ से उसकी पीठ थपथपाएं. ये शिशु को डकार दिलाने का सबसे आसान तरीक़ा है. यदि बच्चे को ज़्यादा तकलीफ़ हो, तो बच्चे को गैस से राहत दिलाने के लिए आप दादीमां के घरेलू नुस्ख़े भी आज़मा सकती हैं.

यह भी पढ़ें: आज राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस है: जानें बच्चों के पेट से कीड़े हटाने के 5 घरेलू उपाय (National Worm Prevention Day: How To Get Rid Of Stomach Worm In Children)

 

बच्चों को गैस से राहत दिलाने के 5 अचूक घरेलू नुस्ख़े जानने के लिए देखें वीडियो:

 

मदर केयरः जब शिशु को हो गैस-कब्ज़ की समस्या (Mother Care: 7 Home Remedies To Treat Gas In Babies)

Home Remedies To Treat Gas In Babies

Home Remedies To Treat Gas In Babies

वायु के अवरोध से कभी-कभी बच्चे का पेट फूल जाता है. पेट में गुड़गुड़ आवाज होती है, दर्द होता है, कभी-कभी बच्चा तेज रोता है और बेचैन हो जाता है. ऐसे में गैस की समस्या के लिए निम्न नुस्ख़े कारगर सिद्ध होते हैं.

* एक चम्मच लहसुन के रस में आधा चम्मच घी मिलाकर पिलाएं. तुरंत गैस से राहत मिलेगी.
* सरसों भर सेंकी हुई हींग का चूर्ण घी में मिलाकर पिलाने से गैस से बच्चे को आराम मिलता है.
* जीरा या अजवायन को पीसकर पेट पर लेप करने से वायु का अवरोध दूर होता है और बच्चा राहत महसूस करता है.
* हींग को भूनकर उसे पानी में घिसकर नाभि के चारों ओर लेप करें. गैस का शमन होगा और बच्चा चैन की सांस लेगा.

यह भी पढ़े: बच्चों से जुड़ी मनोवैज्ञानिक समस्याएं 

कब्ज़ की शिकायत होने पर…
माता के अनुचित आहार-विहार के कारण उसका दूध दूषित हो जाता है, जिसकी वजह से बच्चे की पाचन शक्ति ख़राब होकर उसे वायु विकार हो जाता है और मल का सूख जाना, मल त्याग का अभाव, पेट में दर्द, गुड़गुड़ाहट, उल्टी आदि लक्षण पैदा हो जाते हैं और बच्चा रोते-रोते बेहाल हो जाता है.
* नीम के तेल का फाहा गुदा मार्ग में लगाने से कब्ज दूर होता है.
* रात को बीज निकाला हुआ छुहारा पानी में भिगो दें. सुबह उसे हाथ से मसलकर निचोड़ लें और छुहारे के गूदे को फेंक दें. छुहारे के इस पानी को बच्चे को आवश्यकतानुसार 3-4 बार पिलाएं. इससे कब्ज की शिकायत दूर होगी.
* बड़ी हरड़ को पानी के साथ घिसकर उसमें मूंग के दाने के बराबर काला नमक मिलाएं. इसे कुछ गुनगुना गर्म करके आवश्यकतानुसार दिन में 2-3 बार दें. अवश्य लाभ होगा.

यह भी पढ़े: 19 आसान टिप्स बच्चों के हाइट बढ़ाने के

बच्चों की हिचकी
बच्चों को प्रायः हिचकी आती रहती है. वैसे यह लाभदायक है, क्योंकि यह शरीर के विकास की निशानी मानी जाती है. हिचकी से आंतें बढ़ती हैं और स्वस्थ रहती हैं. फिर भी यदि हिचकी बार-बार आती है और बच्चे को कष्ट होता हो तो निम्न नुस्खा प्रयोग करें.
* अदरक के रस में (4-5 बूंद) आधी चुटकी भर पीसी हुई सोंठ, काली मिर्च और दो बूंद नींबू का रस मिलाकर बच्चे को चटाएं. तुरंत लाभ होगा.
* नारियल की जटा जलाकर उसकी थोड़ी-सी राख तीन चम्मच पानी में घोलकर और उसे छानकर बच्चे को पिलाने से हिचकी बंद हो जाती है.

– श्रद्धा संगीता

अधिक पैरेंटिंग टिप्स के लिए यहां क्लिक करेंः Parenting Guide