Gautam gambhir

बात जब देश की आती है तो अक्षय कुमार मदद करने से कभी पीछे नहीं हटते और इस वक़्त जब देश कोरोना की दूसरी लहर के ख़तरनाक दौर से गुज़र रहा है तो लोगों को वाक़ई मदद की ज़रूरत है. इसीलिए खिलाड़ी कुमार ने गौतम गंभीर की संस्था को एक करोड़ का दान दिया है जिसकी जानकारी गंभीर ने ट्वीट करके दी.

गंभीर ने लिखा है कि इस समय हर मदद उम्मीद की किरण बनकर आती है. बहुत-बहुत शुक्रिया अक्षय कुमार GGF को एक करोड़ की राशि देने के लिए, इससे ज़रूरतमंदों को खाना, दावाएं और ऑक्सीजन मिल सकेगा. गॉड ब्लेस!

Gautam Gambhir

अक्षय ने भी इस ट्वीट का जवाब दिया और कहा- ये वाक़ई ही बेहद मुश्किल समय है. मुझे ख़ुशी है कि मैं मदद कर पाया. कामना करता हूण कि हम सब इस मुश्किल घड़ी से जल्द ही बाहर आएंगे. सुरक्षित रहें!

Akshay Kumar

अक्षय कुमार देश की हर मुश्किल घड़ी में संभव सहायता करते हैं और यही वजह है कि गौतम गंभीर और अक्षय के इस कदम का सभी स्वागत कर रहे हैं और उन्हें रियल हीरो कह रहे हैं, साथ ही लोग कह रहे हैं कि और भी सक्षम लोगों को मदद के लिए आगे आना चाहिए.

Akshay Kumar
Akshay Kumar

Photo Courtesy: Twitter/Instagram

यह भी पढ़ें: दंगल गर्ल फातिमा सना शेख ने बयां किया अपना दर्द, ‘ख़राब रिलेशनशिप में रह चुकी हूं, बहुत मुश्किल होता है बाहर निकलना’ (Fatima Sana Shaikh Reveals, She Has Been in Toxic Relationships… Very Difficult to Get Out)

crpf-jawan-attack-kashmir_041317072211
रात-दिन देखे बिना हर समय ड्यूटी पर तैनात रहते हुए हमें हमारे घरों में चैन की नींद देनेवाले जवानों के साथ कश्मीर में कुछ ऐसा हुआ जिसने की देश में हलचल मचा दिया. सोशल मीडिया से लेकर न्यूज़ चैनल और अख़बारों में ये ख़बर चर्चा का विषय बन गई है. सोशल मीडिया पर जवानों का एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें कुछ कश्मीरी युवक जवानों के साथ मारपीट करते हुए दिख रहे हैं.

इस वीडियो के वायरल होते ही सोशल मीडिया पर लोग अपने व्यूज़ देने लगे. इस वीडियो को देखने के बाद पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग और गौतम गंभीर ने भी सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया दी. सहवाग ने अपने ट्विटर अकाउंट पर इसके प्रति विरोध जताया. वीरू ने कहा कि यह अस्वीकार्य है. हमारे सीआरपीएफ जवानों के साथ ऐसा नहीं होना चाहिए, इस पर रोक लगनी चाहिए. बदतमीज़ी की हद है.

गौतम गंभीर ने भी एक पोस्ट के ज़रिए कश्मीरी युवकों और उन तमाम लोगों पर ग़ुस्सा ज़ाहिर किया है, जिन्हें आज़ादी चाहिए. गंभीर ने कहा कि भारतीय जवानों को एक चांटा मारने के बदले में 100 जिहादियों का मार देना चाहिए. उन्होंने लिखा कि मेरी सेना के जवानों पर मारे गए एक चांटे के बदले सौ जिहादियों को मार देना चाहिए. भारत विरोधी लोग यह भूल गए हैं कि हमारे झंडे में केसरिया रंग ग़ुस्से का प्रतीक भी है, स़फेद रंग जिहादियों के लिए कफन और हरा रंग आंतक के ख़िलाफ़ नफ़रत को दर्शाता है.

 

 

 

 

 

 

Gautam-Gambhir-In-Test-Match

गौतम गंभीर… अग्रेसिव, फाइटर एंड फर्मनेस, इन तीनों को मिलकार बने हैं गंभीर. भारतीय टीम में लंबे समय के बाद फिर से वापसी करने के बाद गंभीर के प्रसंशकों के लिए बोहद ख़ुशी की बात है. गौतम के जन्मदिन के मौ़के पर मेरी सहेली टीम की ओर से बहुत-बहुत शुभकामनाएं! गौतम का जन्म 14 अक्टूबर 1981 को दिल्ली में हुआ. बचपन से ही गंभीर का मन क्रिक्रेट में रमता था. आइए, एक नज़र डालते हैं गौतम गंभीर से जुड़े कुछ ख़ास बातों पर.

  • गंभीर के पिता बिज़नेसमैन हैं.
  • गंभीर के पैदा होने के बाद उनके दादा-दादी ने उन्हें गोद ले लिया था.
  • साल 2000 में गंभीर ने नेशनल क्रिकेट एकेडमी बैंगलोर में ट्रेनिंग के लिए दाख़िला लिया.
  • 2003 में बांग्लादेश के ख़िलाफ़ पहला इंटरनेशनल वनडे मैच खेला.
  • 2004 में ऑस्टे्रलिया के विरुद्ध टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया.
  • 6 वनडे मैचों की कप्तानी अब तक गंभीर ने की है और सभी में टीम को जीत दिलाई है.
  • गंभीर को क़िताबें पढ़ने का शौक़ है.
  • लाइफ पार्टनर नताशा के साथ लॉन्ग ड्राइव पर जाना गंभीर को अच्छा लगता है.
  • क्रिकेट के अलावा गंभीर को वीडियो गेम्स खेलना बहुत पसंद है.
  • गौती को कार रेसिंग का भी बहुत शौक़ है. क्रिकेट का मैच न रहने पर वह कार रेसिंग देखना नहीं भूलते.
  • विरोधी टीम के खिलाड़ियों के अलावा कई बार गौती अपनी टीम के खिलाड़ियों से फील्ड पर उलझ पड़ते हैं.
  • 2008 में गौतम को अर्जुन अवॉर्ड से नावाज़ा गया.
  • लगातार पांच टेस्ट मैचों में शतक ठोकने का अनोखा रिकॉर्ड इसी खिलाड़ी के नाम पर दर्ज है.

 

– श्वेता सिंह

×