Tag Archives: Ghar

हैप्पी बर्थडे लता दीदी, देखें उनके 10 बेहतरीन गाने (Birthday Special: Top 10 Songs of Lata Mangeshkar)

लता मंगेशकर हो गई हैं 88 साल की. लता दीदी ने साढ़े छह दशकों में 30 से ज़्यादा भाषाओं में हज़ारों गाने गाए हैं. हर जेनेरेशन उनकी आवाज़ की दीवानी है. यूं तो लता दीदी ने हज़ारों गाने गाए हैं, जिनमें से टॉप 10 चुनना बेहद ही मुश्किल है. फिर भी हमने कोशिश की है उनके गानों में से कुछ गाने चुनकर उनके फैन्स तक पहुंचाने की.

फिल्म- वो कौन थी (1964)

फिल्म- ख़ामोशी (1969)

यह भी पढ़ें: हैप्पी बर्थडे देव साहब, जानें कुछ बातें, देखें उनके 10 गानें 

फिल्म- दो रास्ते (1969)

फिल्म- वीर-ज़ारा (2004)

यह भी पढ़ें: नवरात्र में मां दुर्गा की आराधना करें बॉलीवुड के 11 गरबा के गानों के साथ 

फिल्म- रज़िया सुल्तान (1983)

फिल्म- घर (1978)

यह भी पढ़ें: 67 की हुईं शबाना आज़मी, पहली ही फिल्म में मिला था नेशनल अवॉर्ड, जानें दिलचस्प बातें 

फिल्म- पाकिज़ा (1972)

फिल्म- बातों बातों में (1979)

यह भी पढ़ें: बर्थ डे स्पेशल: ऋषि कपूर को बतौर चाइल्ड ऐक्टर मिला था पहला नेशनल अवॉर्ड, देखें टॉप 10 गाने

फिल्म- सरस्वतीचंद्र (1967)

फिल्म- इज्ज़त (1968)

यह भी पढ़ें: हैप्पी बर्थडे गुलज़ार साहब! देखें उनके 10 बेहतरीन गाने 

हैप्पी बर्थडे गुलज़ार साहब! देखें उनके 10 बेहतरीन गाने (Happy Birthday Gulzar Sahab)

हैप्पी बर्थडे गुलज़ार साहब! देखें उनके 10 बेहतरीन गाने

हैप्पी बर्थडे गुलज़ार साहब! देखें उनके 10 बेहतरीन गानेअपने शब्दों से जादू कर लोगों की दिलों में अपनी एक ख़ास जगह बनाने वाले गुलज़ार साहब हो गए हैं 83 साल के. 5 दशकों से अपनी शायरी, कविताओं, गानों और कहानियों के ज़रिए हर किसी को अपना कायल बनाए हुए हैं. उनकी उम्र कभी उनके शब्दों की उड़ान को नहीं रोक पाई. झेलम ज़िलें के दीना गांव, जो अब पाकिस्तान में है जन्मे गुलज़ार साहब बंटवारे के बाद परिवार के साथ पंजाब में आकर बस गए. वो हमेशा से ही राइटर बनना चाहते थे. परिवार के मर्ज़ी के बिना गुलज़ार साहब मुंबई आ गए और यहां वो एक गैरेज में मैकेलिक के तौर पर काम करने लगे, लेकिन दिल में राइटर बनने के जज़्बा लिए हुए. जब भी उन्हें समय मिलता, वो कविताएं लिखने लगते. उन्हें पहला ब्रेक मिला बिमल रॉय की फिल्म बंदिनी में. पद्म भूषण गुलज़ार साहब ने कई बेहतरीन कहानियां तो लिखी ही हैं, साथ ही उन्होंने मौसम, आंधी, माचिस, अंगूर, नमकीन, इजाज़त जैसी फिल्मों का निर्देशन भी किया है.आज के दौर में भी मॉडर्न टेस्ट को समझते हुए गुलज़ार साहब ऐसे गाने लिख जाते हैं कि उनके सामने युवा गीतकार भी फ़ीके पड़ जाते हैं. गुलज़ार साहब जानते हैं कि शब्दों से खेलकर कैसे एक बेहतरीन रचना बनाए जा सकती है. शायद ही कोई हो, जो उनकी तरह प्यार के ख़ूबसूरत एहसास या दिल टूटने के दर्द को गानों के ज़रिए बयां कर पाए. बंटवारे का दर्द भी कई बार उनके गीतों में नज़र आया है.

आइए उनके जन्मदिन के मौक़े पर देखते हैं उनके कुछ बेहतरीन गाने.

फिल्म- खामोशी

फिल्म- मासूम

यह भी पढ़ें: फ्रेंड्स के साथ शेयर करें ये गाने और मनाएं Friendship Day! 

फिल्म- आंधी

फिल्म- इजाज़त

यह भी पढ़ें: हैप्पी बर्थडे श्रीदेवी, देखें उनके Unseen Pics

फिल्म- आनंद

फिल्म- माचिस

यह भी पढ़ें: मोहे रंग दे बसंती… देखें देशभक्ति का जज़्बा जगाने वाले 10 गाने 

फिल्म- डेढ़ इश्किया

फिल्म- घर

यह भी पढ़ें: Inside Pictures! सैफ हुए 47 के, पार्टी में सारा को देखते रह जाएंगे आप

फिल्म- कमीने

फिल्म- बंटी और बबली

बॉलीवुड और टीवी से जुड़ी और ख़बरों के लिए क्लिक करें.