Gharelu Upay

पहले उम्र बढ़ने के बाद जोड़ों का दर्द होता था, लेकिन अब कई लोगों में कम उम्र से ही यह समस्या शुरू हो जाती है, जिसके कारण उठने-बैठने, लंबे समय तक चलने या खड़े रहने से दर्द बढ़ जाता है. ऐसे में जोड़ों के दर्द के 20 घरेलू उपाय आपको दर्द से देंगे तुरंत राहत.

Home Remedies for Joint Pain

जोड़ों के दर्द में अपनाएं ये 20 घरेलू नुस्ख़े

1) अजवायन या नीम के तेल से मालिश करने से जोड़ों के दर्द में आराम मिलेगा.
2) पानी में एक मुट्ठी अजवायन और 1 बड़ा चम्मच नमक डालकर उबालें. उस पर जाली रखकर कपड़ा निचोड़कर तह करके गरम करें और उससे सेंक करें. दर्द दूर हो जाएगा.
3) राई का लेप करने से भी हर तरह का दर्द दूर होता है.
4) अजवायन को पानी में डालकर पका लें और उस पानी की भाप को दर्द वाली जगह पर दें. देखते ही देखते दर्द छूमंतर हो जाएगा.
5) लहसुन की दो कलियां कूटकर तिल के तेल में गरम करें और इससे जोड़ों पर मालिश करें. बहुत लाभ होगा.
6) दर्द से परेशान होने पर कपड़े को गरम करके जोड़ों पर सेंक कर करें. इससे बहुत आराम मिलता है.

Home Remedies for Joint Pain

7) कनेर की पत्ती उबालकर पीस लें और मीठे तेल में मिलाकर लेप करें.
8) लहसुन पीसकर लगाने से बदन के हर अंग का दर्द छूमंतर हो जाता है, लेकिन इसे ज़्यादा देर तक लगाकर न रखें, वरना फफोले पड़ने का डर रहता है.
9) कड़वे तेल में अजवायन और लहसुन जलाकर उस तेल की मालिश करने से हर तरह के दर्द से छुटकारा मिलता है.
10) विनेगर और जैतून के तेल को मिलाकर मालिश करें.
11) कपड़े में 4-5 नींबू के टुकड़े बांधकर गरम तिल के तेल में थोड़ी देर डुबोएं. फिर उसे घुटनों पर लगाएं.
12) राई को पीसकर घुटनों पर उसका लेप करें. तुरंत आराम मिलेगा.

यह भी पढ़ें: बच्चों के रोग: बच्चों को होने वाली आम बीमारियों के 72 घरेलू उपाय (72 Home Remedies For Common Kids’ Ailments)

Home Remedies for Joint Pain

13) अजवायन को पानी में उबालकर उसकी भाप घुटनों पर लेने से दर्द से राहत मिलेगी.
14) सेंधा नमक को गुनगुने पानी में डालकर नहाएं.
15) दालचीनी पाउडर और शहद मिलाकर पेस्ट बनाएं. इससे जोड़ों पर मालिश करें.
16) जोड़ों के दर्द में नीम के तेल की मालिश लाभदायक होती है.
17) लहसुन की दो कलियां कूटकर तिल के तेल में गर्म करके जोड़ों पर मालिश करें.
18) सरसों के तेल में अजवायन और लहसुन गरम करके दर्दवाले भाग पर मालिश करें.

यह भी पढ़ें: 8 वेजाइनल प्रॉब्लम्स और उनके उपाय हर महिला को मालूम होने चाहिए (8 Vaginal Problems Every Woman Should Know About)

Home Remedies for Joint Pain

19) अमरूद के पत्ते पीसकर दर्द वाले स्थान पर लगाएं. अमरूद के पत्ते पानी में उबालकर इस पानी से सिकाई करने से भी लाभ मिलता है.
20) कांच की बॉटल में आधा लीटर तिल का तेल और 10 ग्राम कपूर मिलाकर धूप में रख दें. जब ये दोनों घुलकर एक हो जाएं, तो इस तेल से मालिश करें. जोड़ों के दर्द से आराम मिलेगा.

हर किसी के बाल एक जैसे नहीं होते. ऑयली, ड्राई, नॉर्मल बालों की ज़रूरतें अलग-अलग होती है. बालों की सही देखभाल के लिए पहले आपको अपना हेयर टाइप पता होना चाहिए, तभी आप अपने लिए सही हेयर केयर रूटीन फॉलो कर सकते हैं.

Hair Care Tips

ऐसे करें ऑयली हेयर की देखभाल

ऑयली बालों को मैनेज करना थोड़ा मुश्किल होता है. साथ ही चिपचिपे होने के कारण ऐसे बालों से कोई भी हेयर स्टाइल आसानी से सेट नहीं होती. अगर आपके बाल भी ऑयली हैं, तो उन्हें मैनेज करने के लिए निम्न बातों का ख़्याल रखें.

  • बालों को धोने के लिए माइल्ड या बेबी शैंपू का इस्तेमाल करें.
  • ऐसे बालों को रोज़ाना धोना ज़रूरी है, लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि स्काल्प पर शैंपू का बहुत ज़्यादा इस्तेमाल न हो.
  • बालों को हमेशा ठंडे या गुनगुने पानी से धोएं. गरम पानी के इस्तेमाल से स्काल्प से और ज़्यादा ऑयल निकलत है, जो बालों को चिपचिपा बना देता है.
  • गरम तेल से स्काल्प का मसाज करें फिर शैंपू से बाल धो लें.
  • अगर आपके बाल बहुत ऑयली हैं, तो कंडीशनर का इस्तेमाल न करें.
  • ऑयली हेयर शाइनी होते हैं. इसलिए हेयर ग्लॉस जेल और शाइन हेयर केयर प्रॉडक्ट्स यूज़ न करें.
  • अगर बाल बहुत ज़्यादा ऑयली है, तो 1 भाग विनेगर में 4 भाग पानी मिलाकर बाल धोएं, लेकिन सीधे स्काल्प पर विनेगर का इस्तेमाल न करें.
  • बालों को बार-बार ब्रश करने से बचें. क्योंकि इससे स्काल्प से अतिरिक्त तेल निकलता है.
  • पानी में नींबू मिलाकर बाल धोने से भी बालों से एक्स्ट्रा ऑयल निकल जाता है.
  • हेल्दी डायट और पर्याप्त पानी पीने से ऑयली बालों की समस्या से छुटकारा मिल सकता है.
  • बालों को ब्लो ड्राय न करें, और अगर करना ज़रूरी है, तो कम टेम्प्रेचर पर 5-6 इंच की दूरी से ड्रायर का इस्तेमाल करें.
Hair Care Tips

ऐसे करें ड्राई हेयर की देखभाल

बहुत ज़्यादा धूप और पसीने से बाल ड्राई हो जाते हैं. इसके अलावा हेयर कलर, कर्ल करवाने, स्ट्रेटटिंग या कोई भी केमिकल ट्रीटमेंट बालों के नैचुरल ऑयल को नुक़सान पहुंचाता है, जिससे बाल ड्राई हो जाते हैं. ड्राई बालों को हेल्दी और शाइनी बनाने के लिए इन टिप्स पर अमल करें.

  • गीले बाल आसानी से टूटते हैं इसलिए अतः गीले बालों में कंघी करते समय सावधानी बरतें.
  • पतले दांत वाली कंघी की बजाय मोटे दांत वाली कंघी का इस्तेमाल करें, इससे बाल आसानी से सुलझ जाएंगें और टूटेंगे भी नहीं.
  • बालों को ब्रश करने के लिए सॉफ्ट ब्रिसल्ड ब्रश यूज़ करें.
  • अगर आपके बाल रूखे हैं तो रोज़ाना शैंपू करने से बचें. क्योंकि इससे स्काल्प के नैचुरल ऑयल को नुक़सान पहुंचता है और बाल ज़्यादा रूखे हो जाते हैं.
  • ज़्यादा प्रोटीन वाला शैंपू यूज़ करें.
  • रूखे व बेजान बालों के लिए माइल्ड और एसिडिक शैंपू बेस्ट होते हैं.
  • हर बार शैंपू करने के बाद कंडीशनर का इस्तेमाल करें. इससे बाल मुलायम और चमकदार बनेंगे.
  • हीट एक्टिवेटेड मॉश्च राइज़िंग कंडिशनर का इस्तेमाल करें या हफ़्ते में एक बार ऑयल ट्रीटमेंट लें.
  • हेयर ड्रायर और हॉट आयरन के इस्तेमाल से बचें. ड्रायर, कर्लिंग, स्ट्रेटनिंग और ऑयरन बालों को रूखा और बेजान बनाती है. अगर ड्रायर का इस्तेमाल ज़रूरी हो, तो मिनिमम टेम्प्रेचर पर इसका इस्तेमाल करें.
  • हेयरस्प्रे, हेयर जेल और दूसरी केमिकल युक्त स्टाइलिंग क्रीम से दूर रहें. ये बालों को रूखा बनाते हैं.
  • बाल धोने के बाद जड़ों में नारियल का तेल लगाएं.
  • नमी के लिए बालों में थोड़ा-सा सनफ्लावर ऑयल लगाएं.
  • गरम ऑलिव ऑयल से बालों को मसाज करें और इसे आधे घंटे के लिए प्लास्टिक से कवर कर दें. फिर शैंपू से बाल धो लें.

यह भी पढ़ें: 7 होममेड हेयर ऑयल और हेयर स्प्रे हेल्दी बालों के लिए हैं बहुत जरूरी (7 Homemade Hair Oil And Hair Spray For Long And Strong Hair)

Hair Care Tips

ऐसे करें नॉर्मल हेयर की देखभाल

नॉर्मल बालों को एक्स्ट्रा केयर की ज़रूरत नहीं होती. ये आसानी से मैनेज हो जाते हैं और ऐसे बालों पर कोई भी स्टाइल अप्लाई की जा सकता है. नॉर्मल बालों की देखभाल के लिए निम्न बातों का ख़्याल रखें.

  • हफ़्ते में दो बार माइल्ड शैंपू से बाल धोएं और कंडीशनर भी अप्लाई करें. कंडिशनर लगाकर स्काल्प पर सर्कुलर मसाज करें.
  • हर महीने में बालों को थोड़ा ट्रिम करती रहें.
  • बाल धोने के लिए हमेशा ठंडे या गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें.
  • महीने में एक बार हेयर मास्क अप्लाई करें.
  • बालों की सेहत के लिए हेल्दी डायट भी ज़रूरी है.

यह भी पढ़ें: सफेद बालों से पाएं छुटकारा: ट्राई करें 10 घरेलू नुस्खे (10 Easy Ways To Get Rid Of White Hair Naturally At Home)

Hair Care Tips

ख़ूबसूरत बालों के लिए 8 होम रेमेडीज़

1) बालों को सही पोषण देने के लिए सप्ताह में 2 बार गुनगुने तेल से मसाज करें. ऑयल मसाज से ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है, साथ ही उचित पोषण भी मिलता है.
2) बाल धोने से 2-3 घंटे पहले नारियल के गुनगुने तेल से मसाज करें. फिर गर्म पानी में डुबोकर निचोड़े हुए तौलिए से बालों को लपेटकर रखें. एक-डेढ़ घंटे बाद धो लें.
3) 1 टीस्पून ग्लिसरीन, एक अंडे की स़फेदी और 2 टीस्पून कैस्टर ऑयल- तीनों को मिलाकर बालों की जड़ों में लगाएं. एक-डेढ़ घंटे बाद बाल धो लें.
4) बालों की डीप कंडीशनिंग के लिए दही, बीयर और अंडे का प्रयोग करें.
5) बालों को हेल्दी बनाने के लिए खाना सनफ्लावर ऑयल में पकाएं. सनफ्लावर ऑयल में एसेंशियल फैटी एसिड होता है, जो बालों को नमी प्रदान करता है.
6) बालों की अच्छी ग्रोथ के लिए कैस्टर ऑयल (एरंडी का तेल) लगाएं. कैस्टर ऑयल हेयर टॉनिक का काम करता है.
7) सनफ्लावर ऑयल से बालों की जड़ों में मसाज करने से बालों का रूखापन दूर होता है.
8) बालों में चमक लाने के लिए 2 टीस्पून मेहंदी पाउडर में 1 टीस्पून दही, 1 टीस्पून मेथीदाना पाउडर, 1 टेबलस्पून कॉफी, 2 टेबल्सपून पुदीने का रस, 2 टेबलस्पून तुलसी का रस मिलाकर पेस्ट बनाएं और 2 घंटे तक बालों में लगाकर रखें. फिर बाल धो लें. अगर डार्क कलर चाहती हैं तो 3-4 घंटे रखें.

शिशु व बहुत छोटे बच्चे, जो अपनी तकलीफ़ बता भी नहीं सकते, जब उन्हें कोई रोग हो जाए, तो माता-पिता परेशान हो जाते हैं. बच्चे को लगातार रोते देखकर उन्हें कई बार समझ नहीं आता कि आखिर बच्चे को क्या तकलीफ़ हो रही है. हम आपको बता रहे हैं बच्चो के आम रोगों के 72 घरेलू उपाय, जो आपके बच्चे को रोग से जल्दी राहत देंगे.

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चे को बुखार हो जाए

बच्चे को बुखार होने पर माता-पिता बेचैन हो जाते हैं. यदि आपके यदि बच्चे को बुखार हो जाए, तो ये घरेलू उपाय बच्चे को तुरंत आराम पहुंचाएंगे.
1) काली मिर्च के 125 मि.ग्रा. पाउडर में तुलसी का रस और शहद मिलाकर बच्चे को दिन में तीन बार दें. बच्चे को बुख़ार से राहत मिलेगी.
2) बुख़ार तेज़ हो तो प्याज़ को बारीक़ काटकर पेट और सिर पर रखें. बुख़ार कम होने लगेगा.
3) बुख़ार में सिरदर्द हो तो गरम पानी या दूध में सोंठ पाउडर मिलाकर सिर पर लेप करें या जायफल में पीसकर लगाएं.
4) बुख़ार में पसीना अधिक हो, हाथ-पैरों में ठंड लगे तो सोंठ पाउडर को हल्के हाथों से लगाएं. आराम मिलेगा.

यदि बच्चे को गैस की समस्या हो जाए

अक्सर शिशु जब दूध पीता है, तो दूध के साथ बहुत सारी हवा भी निगल लेता है. यह हवा ही शिशु के पेट की गैस है. पेट में गैस हो जाने से शिशु असहज महसूस करने लगता है और रोने लगता है. पेट में गैस होने से शिशु ठीक से दूध नहीं पी पाता, सो नहीं पाता, बस रोता रहता है. ऐसे में ये घरेलू नुस्ख़े अपनाकर आप अपने बच्चे को गैस की समस्या से राहत दिला सकती हैं.
5) सबसे पहले शिशु को गैस की समस्या से बचाने के लिए दूध पिलाने के बाद उसे डकार ज़रूर दिलाएं. इसके लिए दूध पिलाने के बाद शिशु को अपने कंधे से लगाएं और दूसरे हाथ से उसकी पीठ थपथपाएं. ये शिशु को डकार दिलाने का सबसे आसान तरीक़ा है.
6) हींग को भूनकर उसे पानी में घिसकर बच्चे की नाभि के चारों ओर लेप करें.
7) एक चम्मच लहसुन के रस में आधा चम्मच घी मिलाकर बच्चे को पिलाएं. तुरंत गैस से राहत मिलेगी.
8) ज़रा-सी हींग पाउडर को घी में मिलाकर बच्चे को पिलाने से गैस से राहत मिलेगी.
9) जीरा या अजवायन को पीसकर पेट पर लेप करने से शिशु को गैस की समस्या से राहत मिलेगी.

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चे के पेट में कीड़े हो जाएं


बच्चों के पेट में कीड़े एक आम समस्या है, लेकिन कई लोगों को इसकी जानकारी नहीं होती. यदि बच्चे के पेट में कीड़े हों, तो ये घरेलू उपाय बच्चे को आराम पहुंचाएंगे.
10) बच्चे को काले जीरे का पाउडर शहद में मिलाकर चटाने से कीड़े मर जाते हैं.
11) बच्चे को अजवायन के तीन दाने के साथ पान खिलाएं, इससे कीड़े मर जाते हैं.
12) बच्चे को दो चम्मच अनार का जूस पिलाने से पेट में पनप रहे कीड़े मर जाते हैं.
13) करेले का जूस निकालकर उसे गुनगुने पानी के साथ पिलाने से बच्चे के पेट के कीड़े मर जाते हैं.
14) 10-10 ग्राम नीम की पत्तियों का रस और शहद मिलाकर बच्चे को दिन में 3-4 बार पिलाएं. ऐसा करने से बच्चे के पेट के कीड़े मर जाते हैं.
15) सौंफ का पाउडर कपड़े से छानकर 1/4 टेबलस्पून शहद के साथ बच्चे को सुबह-शाम चटाएं.

यदि बच्चे को दस्त हों


दस्त होने पर बच्चे को डीहाइड्रेशन की तकलीफ हो सकती है और बच्चा कमजोर हो सकता है इसलिए बच्चे को दस्त होने पर तुरंत ये घरेलू उपाय करें.
16) मीठे सेब का रस कपड़े से छानकर समय-समय पर पिलाने से मोशन्स (दस्त) रुक जाते हैं और ख़ून व शरीर में लिक्विड की कमी भी दूर हो जाती है.
17) बच्चे को फलों का रस, सब्ज़ियों का रस और पानी थोड़ी-थोड़ी देर में पिलाएं. इससे बच्चे को कमज़ोरी नहीं होगी.
18) अगर बच्चे को लगातार पतली दस्त हो रही हो तो 1 ग्राम खसखस पीसकर 10 ग्राम दही में मिलाकर देने से दस्त की तकलीफ़ दूर होती है.
19) दस्त हो रहा हो तो भी बच्चे का दूध बंद न करें, बल्कि साथ-साथ नारियल पानी, अनार का रस, सेब का रस और नींबू पानी दें.
20) सोंठ का चूर्ण 125 मि.ग्रा. की मात्रा में गुड़ में मिलाकर देने से बच्चे को दस्त से राहत मिलती है.
21) जौ का पानी और अंडे की सफेदी को घोलकर बार-बार थोड़ा-थोड़ा बच्चे को पिलाते रहने से लाभ होता है.
22) यदि शिशु बार-बार हरे रंग के दस्त करता है, तो थोड़ा-सा एरंडी का तेल यानी कैस्टर ऑयल चटाएं.
23) सौंफ और सोंठ का काढ़ा बनाकर शिशु को 1-2 चम्मच की मात्रा में पिलाएं.
24) जायफल घिसकर शहद के साथ बच्चे को सुबह-शाम चटाएं.

यह भी पढ़ें: अपने बढ़ते बच्चों को ऐसे सिखाएं बॉडी हाइजीन का ख्याल रखना (Personal Hygiene Tips For Pre-Teens And Teenagers)

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चा बिस्तर में पेशाब करे


कई बच्चे बड़ी उम्र में भी बिस्तर में पेशाब करते हैं, जिसके कारण माता-पिता बच्चे को दोस्तों व रिश्तेदारों के घर ले जाने से कतराते हैं. बच्चा बिस्तर में पेशाब न करे इसके लिए ये घरेलू उपाय करें.
25) बच्चा यदि रोज़ाना बेड पर पेशाब करने लगे तो उसे छुहारा खिलाएं.
26) थोड़े बड़े होने पर भी बेड पर पेशाब करने वाले बच्चों को नियमित रूप से दो अखरोट और 10-12 किशमिश खिलाने से उनकी आदत छूट जाएगी.
27) बच्चों को 15-20 दिनों तक सोते समय एक टीस्पून शहद चटाने से यह आदत छूट जाती है.
28) छुहारे को बारीक पीसकर चटाने से या खिलाने से बिस्तर में पेशाब करने की आदत छूट जाती है.

यदि शिशु को नैपकिन रैश हो जाएं


नवजात शिशु को नैपकिन रैश हो जाना आम बात है, ऐसे में ये घरेलू उपाय आपके बच्चे को नैपकिन रैश से जल्दी ही आराम पहुंचाएंगे.
29) लहसुन की 8-10 कलियों का रस निकालकर 4 गुना पानी में मिलाकर रैश वाले स्थान को धोएं.
30) तुलसी के पत्तों का रस निकालकर या उसके पत्तों को पीसकर उसका लेप लगाने से नैपकिन रैश में राहत मिलती है.
31) मक्खन में हल्दी मिलाकर उसका लेप करने से लाभ होगा.
32) हरी दूब को अच्छी तरह पीसकर लेप करने से भी बच्चों को नैपकिन रैश में राहत मिलती है.

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चे को सर्दी-ज़ुकाम हो जाए


मौसम बदलते ही बच्चों को अक्सर सर्दी-ज़ुकाम की तकलीफ हो जाती है. ऐसे में इन घरेलू उपायों पर अमल करने से बच्चों को खांसी-ज़ुकाम से तुरंत राहत मिलती है.
33) रात में सोते समय तुलसी का रस बच्चे की नाक, कान और माथे पर मलें.
34) बच्चे की छाती में कफ जम जाए तो थोड़ा-सा गाय का घी मलें. कफ पिघलकर बाहर आ जाएगा.
35) आधा इंच अदरक व 1 ग्राम तेजपत्ता को एक कप पानी में भिगोकर काढ़ा बनाएं. इसमें एक चम्मच मिश्री मिलाकर 1-1 चम्मच की मात्रा में तीन बार पिलाएं. दो दिन में ही खांसी-ज़ुकाम ठीक हो जाएगा.
36) थोड़ा-सा सरसों का तेल रोज़ाना बच्चे की छाती और गुदा पर लगाएं, जल्द आराम मिलेगा.
37) थोड़ा-सा सोंठ का चूूर्ण गुड़ व घी के साथ मिलाकर चटाने से बच्चे की खांसी-ज़ुकाम ठीक होता है.
38) आधा चम्मच तुलसी के रस में आधा चम्मच शहद मिलाकर दिन में तीन बार बच्चे को पिलाएं. सर्दी-खांसी में आराम मिलेगा.
39) बादाम की 5 गिरी, 5 मुनक्का और 5 काली मिर्च- इन्हें मिश्री के साथ पीसकर गोली बना लें. 4-4 घंटे पर एक गोली बच्चे को चूसने को दें. इससे खांसी दूर हो जाएगी.
40) बड़ी इलायची का पाउडर 2-2 ग्राम दिन में तीन बार पानी के साथ पिलाने से बच्चे को खांसी से आराम मिलता है.

यह भी पढ़ें: बच्चों के न खाने के बहाने: सेलिब्रिटी मॉम के ईज़ी सॉल्यूशन (4 Celebrity Mom Share Diet Tips To Kids)

यदि नवजात शिशु को ठंड लग जाए


सर्दियों में नवजात शिशु को ठंड लग जाए तो वह बहुत बेचैन हो जाता है. नवजात शिशु को ठंड लग जाने पर ये घरेलू उपाय करें और शिशु को ठंड से बचाएं.
41) यदि नवजात शिशु को ठंड लग जाए, तो रात में सोते समय तुलसी का रस उसकी नाक, कान और माथे पर मलें. ऐसा करने से शिशु को जल्दी ही आराम मिलेगा.
42) ठंड लग जाने पर नवजात शिशु को शहद चटाएं. इससे उसे राहत मिलेगी.
43) ठंड लग जाने पर या ठंड के मौसम में शिशु के सोने वाली जगह के आस-पास कपड़े की पोटली में प्याज़ को कुचल कर बांध कर रख दें. ऐसा करने से शिशु को आराम मिलेगा.
44) ठंड के मौसम में कभी-कभी कुनकुने पानी में नीम की पत्तियां उबालकर शिशु को उससे स्पंज करें.
45) नहलाने से पहले शहद में नींबू का रस निचोड़कर बच्चे की छाती पर मलें. यह बच्चे को सर्दी से बचाने के लिए कवच की तरह काम करेगा.
46) नवजात शिशु के शरीर पर हल्के हाथों से राई के तेल की मालिश करके कम से कम कपड़े पहनाकर सुबह के समय गुलाबी धूप में थोड़ी देर सुलाएं. इससे बच्चे को कभी भी सर्दी नहीं होगी और न कभी न्यूमोनिया होगा.

यह भी पढ़ें: अल्ज़ाइमर: क्या युवाओं को भी हो सकती है भूलने की बीमारी? (Can Alzheimer’s Begin In Our young age? These Are the Signs of Early Onset Alzheimer’s Disease)

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चे को खसरा हो जाए


बच्चे को खसरा हो जाने पर उसे बहुत तकलीफ होती है और बच्चे को परेशान देखकर माता-पिता भी बेचैन हो जाते हैं. बच्चे को खसरा होने पर ये घरेलू उपाय करें.
47) खसरों के दानों में खुजली और जलन होने पर चंदन को पत्थर पर घिसकर लेप लगाएं.
48) 100 ग्राम नारियल के तेल में 20 ग्राम कपूर मिलाकर शरीर पर तीन-चार बार लगाएं. इससे खसरे में राहत मिलती है.
49) खसरा निकलने के कारण अगर शरीर में खुजली या जलन हो तो सूखे आंवले को पानी में उबालकर, उसे ठंडा कर लें और फिर उसमें कपड़ा भिगोकर शरीर में फेरें. बच्चे को आराम मिलेगा.
50) आंवले को पीसकर उसका लेप लगाने से भी लाभ होता है.
51) एक लीटर पानी उबालें. 250 मि.ली. पानी शेष रहने पर उतार कर और ठंडा कर बच्चे को थोड़ा-थोड़ा पिलाएं. इससे खसरे मेें बार-बार लगने वाली प्यास शांत होगी.
52) ब्राह्मी के रस में शहद मिलाकर पिलाने से भी लाभ होता है.

बच्चे के दांत निकलने पर


बच्चों को दांत निकलते समय तकलीफ होती है, जिसके चलते बच्चे जो चीज़ सामने आए उसे मुंह में डालते हैं. बच्चों के दांत आसानी से निकलें इसके लिए ये घरेलू उपाय करें.
53) कच्चे आंवले या कच्ची हल्दी का रस मसूड़ों पर मलने से दांत आसानी से निकलते हैं.
54) अनार के रस में तुलसी का रस मिलाकर बच्चे को चटाने से दांत आसानी से निकल आते हैं.
55) शहद में सुहागा पीसकर मसूड़ों पर मलने से दांत आराम से निकलतेें हैं.
56) भुना हुआ सुहागा और मुलहठी 2-2 ग्राम बारीक पीसकर बच्चों के मसू़ड़ोेंं पर एक हफ्ते तक मलने से दांत आसानी से निकल आते हैं.

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चे को मतली हो तो


58) मतली की समस्या होने पर 1-1 टीस्पून अदरक का रस, नींबू का रस और शहद को मिलाकर बच्चे को चटाएं.
59) आधा-आधा टीस्पून अदरक व प्याज़ का रस मिलाकर बच्चे को पिलाएं.
60) चुटकीभर अजवायन और लौंग का चूर्ण शहद के साथ मिलाकर बच्चे को चटाएं.
61) छोटी इलायची को भूनकर उसका चूर्ण बनाएं. चुटकीभर चूर्ण आधा चम्मच नींबू के रस में मिलाकर बच्चे को खिलाएं.
62) इलायची के छिलकों को जलाकर उसकी भस्म चटाने से भी मतली में लाभ होता है.

यदि बच्चा नींद में डरता हो तो


63) सर्दी के मौसम में 1 से 2 ग्राम सौंफ पानी में उबालकर छान लें. इसे रात को सोने से पहले बच्चे को पिला दें. इससे नींद में डरने की शिकायत दूर होगी.
64) गर्मी के मौसम में छोटी इलायची का एक ग्राम अर्क सौंफ के उबले हुए पानी के साथ पिलाएं. नींद में डरने की आदत छूट जाएगी.
65) बच्चे को रात में सोने से दो घंटा पहले खाना खिला दें, ताकि उसका खाना भलीभांति पच जाए.

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चा तुतलाता हो तो


66) बड़े बच्चे को रोज़ाना सुबह आंवला चबाने को दें और रात को सोते समय एक टीस्पून आंवला पाउडर कुनकुने पानी के साथ दें.
67) यदि 2-3 साल का होने के बाद भी बच्चा तुतलाए, तो ब्राह्मी के हरे पत्ते (अगर वह खा सके तो) खिलाएं. इससे जीभ का मोटापन व कड़ापन दूर होगा और वह साफ़ बोलने लगेगा.

यदि बच्चे को कब्ज़ हो


68) नीम के तेल का फाहा बच्चे के गुदामार्ग में लगाने से कब्ज़ की शिकायत दूर होती है.
69) रात को भिगोए हुए छुहारे का पानी बच्चे को आवश्यकतानुसार 3-4 बार पिलाएं. इससे कब्ज़ की शिकायत दूर होगी.
70) बड़ी हरड़ को पानी के साथ घिसकर उसमें मूंग के दाने के बराबर काला नमक मिलाएं. इसे कुछ गुनगुना करके आवश्यकतानुसार दिन में 2-3 बार दें. अवश्य लाभ होगा.

यह भी पढ़ें: मां से मॉम तक: ये हैं बॉलीवुड की मॉडर्न मॉम (Bollywood Actress And Most Stylish Mom In Real Life)

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चे की हिचकी हो तो


71) अदरक की 2-3 बूंद रस में चुटकी भर पीसी हुई सोंठ, काली मिर्च और दो बूंद नींबू का रस मिलाकर बच्चे को चटाएं, तुरंत आराम मिलेगा.
72) नारियल के ऊपर का भाग (जटा) जलाकर उसकी थोड़ी-सी राख 1-3 ग्राम पानी में घोलकर उसे छानकर बच्चे को पिलाने से हिचकी बंद हो जाती है.

नेचुरल स्किन केयर रूटीन से स्किन हमेशा हेल्दी और खूबसूरत नज़र आती है. स्किन के लिए केमिकलयुक्त ब्यूटी प्रॉडक्ट्स की बजाय घरेलू नुस्खे आजमाएं. घरेलू उपाय बिना किसी साइडइफेक्ट्स के आपकी स्किन को नेचुरल ग्लो देते हैं और आपका चेहरा खूबसूरत बन जाता है. 15 नेचुरल स्किन केयर टिप्स हर महिला को मालूम होने चाहिए, क्योंकि इनसे मिलता है आपको इंस्टेंट ग्लो.

Skin Care Tips

ये 15 नेचुरल स्किन केयर टिप्स हर महिला को मालूम होने चाहिए

1) 1-1 टेबलस्पून ऑरेंज जूस और नींबू का रस, 1 कप दही. सबको मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें. 15 मिनट तक चेहरे पर लगाकर रखें. वेट टिश्यू से पोंछ लें. स्किन चांद जैसी निखर उठेगी.

2) मिक्स फ्रूट्स के पल्प को मिलाकर पैक बनाएं. मसाज करें. 15 मिनट बाद धो लें. एक बात का हमेशा ध्यान रखें कि कोई भी फ्रूट पैक या अन्य पैक भी क्लीन व एक्सफोलिएट की हुई स्किन पर ही अप्लाई करें. इससे उसका असर अधिक होगा.

3) कोकोनट मिल्क स्किन को ग्लोइंग इफेक्ट देता है. कच्चे नारियल को कद्दूकस करके उसका रस (दूध) निकाल लें. चेहरा क्लीन करके कोकोनट मिल्क को चेहरे व होंठों पर भी अप्लाई करें. कुछ देर बाद धो लें. चेहरा चमक उठेगा.

4) ककड़ी का रस, ग्लिसरीन और गुलाबजल को मिलाकर नेचुरल सनस्क्रीन लोशन तैयार कर सकती हैं. इसे चाहें, तो फ्रिज में भी रख सकती हैं.

5) कच्चा दूध चेहरे पर अप्लाई करें और 10 मिनट बाद धो लें. स्किन सॉफ्ट होकर ग्लो करने लगेगी.

यह भी पढ़ें: 5 तेल मिनटों में निखारते हैं खूबसूरती, जानें आपके लिए कौन सा तेल है बेस्ट (5 Best Natural Oils For Every Skin Type)

Skin Care Tips

6) 1 टीस्पून उड़द दाल और 5-6 बादाम को रातभर पानी में भिगोकर रखें. सुबह पीसकर आधे घंटे तक लगाकर रखें. त्वचा ग्लो करने लगेगी.

7) कच्चे आलू को काटकर स्किन पर रब करें. इससे दाग़-धब्बे दूर होंगे और स्किन ग्लो करेगी.

8) अंगूर को काटकर चेहरे पर उससे मसाज करें. फ्रूट एसिड्स नेचुरल एक्सफोलिएटर होते हैं.

9) कैस्टर ऑयल को स्किन पर अप्लाई करें. रिंकल्स और फाइन लाइन्स को दूर करने का बेहद प्रभावी उपाय है.

10) 2 टीस्पून पके टमाटर का रस में 3 टीस्पून छाछ मिलाएं. आधा घंटे तक इस पैक को लगाकर रखे. फिर धो लें.

यह भी पढ़ें: रवीना टंडन के होममेड ब्यूटी टिप्स हो रहे हैं वायरल, देखें वीडियो (Raveena Tondon Shares Home Remedies For Glowing Skin And Healthy Hair)

Skin Care Tips

11) 1 कप पानी में अदरक का टकुड़ा भिगोकर रखें. 10 मिनट बाद इसमें थोड़ा शहद मिलाएं और चाय की तरह पीएं. यह चाय स्किन को डैमेज होने से बचाती है.

12) चंदन पाउडर में मिल्क क्रीम (मलाई) और गुलाबजल मिलाकर पैक बनाएं. त्वचा खिल उठेगी.

13) कीवी फ्रूट की प्यूरी में दही मिलाकर पैक बनाएं. इससे मसाज करें और 20 मिनट बाद धो लें.

14) स्ट्रॉबेरी पल्प में थोड़ा पानी मिलाकर पीस लें. इस पैक को चेहरे पर लगाएं. सूखने पर धो लें. ग्लोइंग स्किन के लिए अच्छा पैक है.

15) लैवेंडर ऑयल में हीलिंग प्रॉपर्टीज़ होती हैं. यह दाग़-धब्बों व स्ट्रेच मार्क्स को भी दूर करता है.

हल्दी वाला दूध हमारे किचन में मौजूद एक ऐसी प्राकृतिक दवा है, जो कई रोगों को तुरंत ठीक कर देता है. हमारी दादी-नानी रात में सोने से पहले हल्दी वाला दूध पीने की सलाह इसीलिए देती थीं, ताकि हम रोगों से बचे रहें और हमेशा स्वस्थ रहें. यहां पर हम आपको हल्दी वाले दूध के 10 ऐसे हेल्थ बेनिफिट्स बता रहे हैं, जिनके बारे में शायद आप नहीं जानते होंगे.

Turmeric Milk

ये हैं हल्दी वाले दूध के 10 हेल्थ बेनिफिट्स
हल्दी वाला दूध बड़े और बच्चे सभी पी सकते हैं. हमेशा स्वस्थ रहने के लिए हल्दी वाला दूध पीना बहुत फायदेमंद है. हल्दी वाला दूध पीने से कई समस्याओं से छुटकारा मिल जाता है.

1) जोड़ों के दर्द से छुटकारा मिलता है
आजकल कम उम्र के लोगों को भी जोड़ों के दर्द की समस्या होने लगी है. जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए हल्दी वाले दूध का सेवन किया जा सकता है. हल्दी में एंटी इंफ्लेमेट्री गुण होता है, इसलिए हल्दी वाला दूध पीने से जोड़ों की सूजन कम हो जाती हैं और मांसपेशियों के ऐंठन से भी आराम मिलता है. हल्दी वाले दूध में मौजूद करक्यूमिन और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण जोड़ों के दर्द को कम करने के साथ-साथ इसे अंदर से रिपेयर करने का काम भी करता है.

2) हड्डियां मजबूत बनाता है
हल्दी और दूध दोनों में कैल्शियम की मात्रा ज्यादा होती है, इसलिए रोजाना दो बार हल्दी वाला दूध पीने से हड्डियां मज़बूत होती है. इसके अलावा किसी भी तरह के फ्रैक्चर या बोन डैमेज के वक्त भी आप हल्दी वाला दूध पी सकते हैं. डॉक्टर्स भी ये सलाह देते हैं कि दिन में एक ग्लास दूध ज़रूर पीना चाहिए.

3) लिवर को डिटॉक्सीफाई करता है
हल्दी वाला दूध नेचुरल तरी़के लिवर को डिटॉक्सीफाई करता है. जब लिवर से सभी टॉक्सिन बाहर हो जाते हैं तब वो अच्छी तरह से ब्लड प्यूरीफाई कर देता है, इसलिए रोजाना रात को हल्दी वाला दूध पीएं.

4) कैंसर से लड़ता है
हल्दी में करक्यूमिन मौजूद होता हैं जो कैंसर को रोकने में मदद करता है, इसलिए हल्दी वाले दूध का सेवन करें. दूध में थोड़ी मात्रा में हल्दी डालकर आप कैंसर जैसी ख़तरनाक बीमारी से बच सकते हैं.

यह भी पढ़ें: दांतों की देखभाल के 5 आसान घरेलू उपाय (5 Homemade Dental Care Remedies)

Turmeric Milk

5) अनिद्रा से बचाता है
जिन लोगों को रात में नींद न आने की बीमारी है, उनके लिए हल्दी वाला दूध बेहतरीन दवा है. पुराने ज़माने में लोग सोने से पहले हल्दी वाला दूध पीया करते थे, क्योंकि हल्दी में ट्रायटोफन होता है जिससे अच्छी नींद आती है. यदि आपको भी अनिद्रा की समस्या है, तो रोज़ रात में सोने से पहले हल्दी वाला दूध जरूर पीएं.

6) पाचन शक्ति बढ़ाता है
दूध में हल्दी मिलाकर पीने से पाचन शक्ति बढ़ती है, लेकिन हल्दी वाला दूध पीते समय इस बात का ध्यान रखें कि आप टोन्ड मिल्क ही पीएं, क्योंकि ज्यादा फैट वाला दूध आसानी से नहीं पचता.

7) अंदरूनी चोट को ठीक करता है
यदि आपके शरीर के किसी बाहरी या अंदरूनी हिस्से में चोट लग गई है, तो तुरंत हल्दी वाला दूध पीएं. हल्दी वाले दूध में मौजूद एंटी बैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण शरीर के अंदर बैक्टीरिया को पनपने नहीं देते और चोट को बहुत जल्दी ठीक कर देते हैं.

8) ऐंठन दूर करता है
हल्दी एंटीस्पैसमोडिक गुण के लिए जानी जाती है, क्योंकि ये मांसपेशियों की ऐंठन को भी ख़त्म कर देती है. अगर आप पीरियड्स के दो हफ्ते पहले से गरम हल्दी वाले दूध का सेवन करेंगी, तो आपको पीरियड्स के दौरान ऐंठन कम होगी.

Turmeric Milk

9) सर्दी-खांसी दूर भगाता है
हल्दी वाला दूध अपने एंटीवायरल और एंटी-बैक्टीरियल गुणों के कारण सर्दी-खांसी से तुरंत राहत देता है, इसीलिए सर्दी-जुकाम होने पर हल्दी वाला दूध पिलाया जाता है.

10) वजन घटाता है
मोटापा आजकल सबसे बड़ी समस्या हो गई है. यदि आप भो मोटापे से परेशान हैं, तो हल्दी वाला दूध पीएं. हल्दी वाला दूध शरीर से फैट कम करता है, जिससे वजन घटने लगता है और शरीर फिट रहता है.

यह भी पढ़ें: नींबू पानी के ये 10 हेल्थ बेनिफिट्स नहीं जानते होंगे आप (10 Health Benefits Of Lemon Juice)

ख़ूबसूरती भी बढ़ाता है हल्दी वाला दूध
ख़ूबसूरत त्वचा की ख़्वाहिश हर किसी को होती है आपकी भी होगी, तो इसके लिए पार्लर पर पैसे ख़र्च करने की बजाय हल्दी का पेस्ट बनाकर इसे स्क्रब के रूप में चेहरे पर लगाएं. फिर गुनगुने पानी से चेहरा धो लें. इससे न सिर्फ त्वचा दमकेगी, बल्कि मुंहासों की समस्या भी दूर हो जाएगी.

रोज नींबू पानी पीने के ये 10 हेल्थ बेनिफिट्स जानकर हैरान रह जाएंगे आप. आपके किचन में मौजूद नींबू आपके लिए कितना फायदेमंद है, इसका आपको अंदाजा भी नहीं होगा. नींबू पानी से आप अपनी सुंदरता और स्वास्थ्य दोनों को बढ़ा सकते हैं. हम आपको नींबू पानी के 10 फायदे बता रहे हैं, जिन्हें जानकर आप भी रोज नींबू पानी पीना शुरू कर देंगे.

Lemon Juice

1) नींबू पानी इम्युनिटी बढ़ाता है
जिन लोगों का इम्यून सिस्टम कमज़ोर है उन्हें रोज़ाना नींबू पानी पीना चाहिए, इससे उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यून सिस्टम) मज़बूत होगी. कोरोना वायरस से बचने के लिए भी नींबू पानी पीना फायदेमंद है.

2) नींबू पानी वजन कम करने में मदद करता है
यदि आप अपना बढ़ा हुआ वजन कम करना चाहते हैं, रोज सुबह नींबू पानी पीएं. वजन घटाने के साथ ही नींबू पानी शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकाल देता है, जिससे शरीर का डिटॉक्सिफिकेशन भी हो जाता है.

3) नींबू पानी मुंहासों से राहत देता है
जिन लोगों को मुंहासे की समस्या ज़्यादा होती है उन्हें नींबू पानी का सेवन करना चाहिए, इससे उनके शरीर में मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया मर जाएंगे और स्किन ग्लो करेगी. नींबू पानी को आप फेसवॉश की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं, इससे डेड स्किन और एक्स्ट्रा ऑयल निकल जाता है.

4) नींबू पानी भूख बढ़ाता है
यदि आपको भूख नहीं लगती, तो नींबू पानी पीएं. इससे भूख तेज़ी से लगती है.

5) नींबू पानी किडनी स्टोन में फ़ायदेमंद
किडनी स्टोन यदि शुरुआती दौर में है, तो नींबू पानी पीना बहुत फ़ायदेमंद होगा. नींबू पानी में प्राकृतिक साइट्रेट होता है, जो स्टोन को तोड़ देता है या उसे बनने से रोकता है.

यह भी पढ़ें: दांतों की देखभाल के 5 आसान घरेलू उपाय (5 Homemade Dental Care Remedies)

Lemon
Lemon

6) नींबू पानी सर्दी/फ्लू से बचाता है
जिन्हें सर्दी और फ्लू अक्सर होता रहता है, उन्हें नींबू पानी का सेवन करना चाहिए. इससे उन्हें जकड़न नहीं होगी और शरीर भी डिहाइड्रेट नहीं होगा. नींबू पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर पीना ज़्यादा फ़ायदेमंद होता है.

7) नींबू पानी सूजन व सांस संबंधी समस्या से राहत देता है
यदि किसी व्यक्ति को कहीं भी सूजन है तो नींबू पानी लाभदायक होता है. साथ ही अस्थमा के मरीज़ों के लिए भी नींबू पानी फ़ायदेमंद है. इसके सेवन से जोड़ों में दर्द व सूजन की समस्या दूर होती है.

8) नींबू पानी हैंगओवर दूर करता है
जिन लोगों को अल्कोहल की लत है और सुबह उठने पर चलना भी मुश्किल हो जाता है, तो उनके लिए नींबू पानी लाभदायक होगा. आधे ग्लास नींबू पानी से ही आंखें खुल जाती हैं और सिर घूमना बंद हो जाता है.

9) नींबू पानी फूड पॉइज़निंग में फायदेमंद है
फूड पॉइज़निंग होने पर नींबू पानी का सेवन करें, इसमें मौजूद एसिड शरीर को लाभ पहुंचाते हैं और मरीज़ को ठीक होने में मदद करते हैं.

10) नींबू पानी पेट संबंधी समस्या से छुटकारा देता है
यदि आप भी अक्सर गैस, कब्ज़, अपच जैसी पेट संबंधी समस्या से परेशान रहते हैं, तो नींबू पानी का सेवन शुरू कर दीजिए.

यह भी पढ़ें: इनडाइजेशन या अपच के 5 आयुर्वेदिक उपचार (5 Home Ayurvedic Remedies For Indigestion)

आलू को यदि ठीक से नहीं रखा गया, तो जल्दी ही उनमें अंकुर आने लगते हैं. आलू हमारे किचन की सबसे जरूरी चीजों में एक है. आलू को हम कई सब्जियों में मिलाते है. इसके अलावा आलू की सब्ज़ी, चाट, पकौड़े आदि भी बनते हैं इसलिए भारतीय किचन में आलू के बिना काम चल ही नहीं सकता. आलू को सही तरीके से स्टोर करके उन्हें अंकुरित होने से बचाया जा सकता है. आलू को अंकुरित होने से कैसे रोकें, आइए जानते हैं.

Potatoes

आलू को अंकुरित होने से रोकने के आसान टिप्स

  • आलू को सुरक्षित रखना बेहद जरूरी है इसलिए आलू को अंधेरे और ठंडी जगह पर रखें.
  • आलू को नमी से बचाएं. यदि आलू गीले हैं, तो संभालने से पहले उन्हें अच्छी तरह सुखा लें.
  • आलू को सुरक्षित रखने के लिए उन्हें सूती कपड़े के बैग या पेपर बैग में रखें.
  • गरम जगह पर आलू को स्टोर करने से ये अंकुरित होने लगते हैं इसलिए इन्हें हवादार जगह पर रखें.
  • आलू को बाकी सब्जियों और फलों की टोकरी से दूर रखें.
  • आलू और प्याज दोनों को एक साथ एक टोकरी में न रखें.
  • आलू फ्रिज में नहीं रखना चाहिए, क्योंकि आलू में स्टार्च होता है, जो फ्रिज में रखने से शुगर में बदल जाता है. स्टार्च से बनी हुई शुगर के सेवन से कई तरह के कैंसर हो सकते हैं इसलिए आलू को भूलकर भी फ्रिज में न रखें.
  • आलू को सूरज की रोशनी में या खुले में टोकरी में नहीं रखना चाहिए. इससे आलू बहुत जल्दी अंकुरित हो जाते हैं.
  • आलू को स्टोर करने से पहले अच्छी तरह देख लें. यदि उनमें से कोई आलू ख़राब है, तो उसे अलग कर दीजिए, क्योंकि एक सड़ा आलू बाकी आलुओं को भी खराब कर सकता है.
  • आलू को स्टोर करने से पहले कभी भी धोना नहीं चाहि, इससे आलू में नमी रह सकती है और वो जल्दी ख़राब हो सकते हैं.

यह भी पढ़ें: इनडाइजेशन या अपच के 5 आयुर्वेदिक उपचार (5 Home Ayurvedic Remedies For Indigestion)

अंकुरित आलू खाने से हो सकता है ये नुकसान
आलू एक ऐसी सब्जी है, जो सभी घरों में प्रयोग होती है, लेकिन अंकुरित आलू खाने से सेहत को नुकसान हो सकता है इसलिए आलू को सुरक्षित रखना बहुत जरूरी है. आलू यदि हरा या अंकुरित हो गया है, तो ये सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है इसलिए आलू को अंकुरित होने से बचाना चाहिए. जब आलू अंकुरित होता है, तो उसमें एक रसायनिक क्रिया होने लगती है, जिसके चलते अंकुरित आलू का कार्बोहाइड्रेट स्टार्च शुगर में बदलने लगता है. इसके साथ ही सोलानिन (Solanin) और अल्फा कैकोनिन ( Alpha Caconin) नामक दो जहरीले तत्व भी बनने लगते हैं. इसके कारण आलू बाहर से नरम होकर मुरझा जाता है. ये दोनों तत्व हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं, इनके कारण हमारा पाचनतंत्र खराब हो सकता है. अंकुरित आलू या हरे आलू खाने से फूड प्वाइजनिंग भी हो सकता है इसलिए इनका सेवन नहीं करना चाहिए.

हेयर कट के कुछ समय बाद ही मेरे बाल दोमुंहे हो जाते हैं. मैं दोमुंहे बालों को रोकने और इनसे छुटकारा पाने के लिए क्या करूं? आमतौर पर कई महिलाओं की ये शिकायत होती है कि उनके बाल हेयर कट के कुछ समय बाद ही दोमुंहे हो जाते हैं. यदि आपके बालों की भी यही समस्या है, तो हम आपको बता रहे हैं दोमुंहे बालों से छुटकारा पाने के आसान घरेलू उपाय.

Split end hairs

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाने के आसान घरेलू उपाय

  • आमतौर पर दोमुंहे बालों की समस्या उन लोगों में दिखती है, जो लंबे समय तक बालों को ट्रिम नहीं करवाते इसलिए बालों की हर दो महीने में ट्रिम करवाएं.
  • अगर आपके बाल बहुत तेज़ी से दोमुंहे हो जाते हैं, तो आप बाल धोने के लिए माइल्ड शैम्पू का प्रयोग करें.
  • बालों को शैम्पू से धोने के बाद कंडीशनर ज़रूर लगाएं.
  • बाल धोने के लिए बहुत ज़्यादा गरम पानी का इस्तेमाल न करें. हो सके तो ठंडे पानी से बाल धोएं.
  • बालों पर केमिकलयुक्त हेयर प्रोडक्ट्स जैसे ब्लीच आदि का प्रयोग न करें.
  • 15 दिन या महीने में एक बार हेयर स्पा ज़रूर करें.

यह भी पढ़ें: 5 होममेड हेयर मास्क से घर पर करें हेयर स्पा (5 Homemade Hair Masks To Do Hair Spa At Home)

  • बाल धोने से दो घंटे पहले बालों में तेल लगाकर मसाज करें.
  • पौष्टिक आहार और पर्याप्त नींद लें, ऐसा करने से बाल स्वस्थ और सुंदर बनते हैं.
  • 1 टीस्पून बादाम के तेल में 1 अंडे की सफेदी मिक्स करके जड़ों व बालों में लगाएं और 1 घंटे बाद बाल धो लें. इससे बाल दोमुंहे नहीं होंगे.
  • 1-1 टीस्पून कैस्टर ऑयल, ऑलिव ऑयल और सरसों का तेल मिक्स करके बालों की जड़ों में करीब आधे घंटे तक मसाज करें. फिर बाल धो लें. ऐसा करने से बाल दोमुंहे नहीं होंगे.
  • एवाकाडो का पेस्ट बनाकर बालों पर उसका मास्क बनाकर लगाएं. एवाकाडो का ये मास्क 30 मिनट तक बालों पर लगाकर रखें, फिर बाल धो लें. आप चाहें तो एवाकाडो के मास्क में गरम ऑलिव ऑयल भी मिक्स कर सकती हैं. ये मास्क हफ्ते में एक बार लगाएं.

बाल तेज़ी से बढ़ाने का आसान घरेलू उपाय जानने के लिए देखें ये वीडियो:

मसूड़ों की सूजन से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो आपको इसके लिए आपको कहीं बाहर जाने की जरूरत नहीं है. हम आपको बता रहे हैं मसूड़ों की सूजन से छुटकारा पाने के दादीमां के ख़ज़ाने के 5 ऐसे असरदार घरेलू उपाय, जो आपको मसूड़ों की सूजन और मसूड़ों की अन्य समस्याओं से आपको छुटकारा देंगे. मसूड़ों की सूजन से छुटकारा पाने के 5 असरदार घरेलू उपाय ट्राई करके आप भी मसूड़ों की सूजन और मसूड़ों की अन्य समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं.

मसूड़ों की सूजन से छुटकारा पाने के 5 असरदार घरेलू उपाय जानने के लिए देखें ये वीडियो:

मसूड़ों की सूजन और मसूड़ों की अन्य समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आप ये घरेलू नुस्खे भी उपयोग कर सकते हैं.

  • हल्दी की गांठ भूनकर दांत में दबाने से दांत का दर्द ठीक हो जाता है.
  • हींग को पानी में उबाल कर उस पानी से कुल्ले करने और दांत के पोले भाग में हींग भरने से दांत के कीड़े मर जाते हैं.
  • खाने का सोडा और हल्दी मिलाकर मंजन करने से भी दांतोें का हिलना बंद हो जाता है.
  • तिल के तेल को मुहं में 10-15 मिनट तक रखकर गरारे करने से पायरिया रोग दूर होता है और हिल रहे दांत भी मजबूत हो जाते हैं.

यह भी पढ़ें: पाइल्स (बवासीर) से छुटकारा पाने के 5 चमत्कारी घरेलू नुस्खे (Top 5 Home Remedies To Cure Piles)

  • गाय के दूध से बने दही में पका केला मिलाकर खाने से छाले ठीक होते हैं.
  • मुलहठी या छोटी इलायची चबाने से मुख की दुर्गंघ दूर होती है.
  • ताज़े पानी में नींबू का रस पर्याप्त मात्रा में डालकर गरारे करने से मसू़ड़ों की सूजन व दुर्गंध दूर होती है.
  • अदरक और नमक पीसकर अच्छी तरह मिला लें. इसे मसूड़ों पर धीरे-धीरे मलने से लाभ होता है.
  • अरंडी के तेल में कपूर मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम मसूड़ों पर मलेेंं.
  • मसूड़ों पर फिटकरी का चूर्ण मलने से मसूड़ों के विकार दूर होते हैं.
  • अजवायन को भूनकर पीस लें. इसमें दो-तीन बूंद राई का तेल मिलाकर हल्का-हल्का मसूड़ों पर मलें. इससे दांतों के अन्य रोग भी दूर हो जाते हैं.

डार्क सर्कल दूर करने के आसान घरेलू उपाय आपको डार्क सर्कल से छुटकारा दिलाएंगे और आपकी स्किन खूबसूरत नज़र आने लगेगी. आंखों के नीचे डार्क सर्कल होने से चेहरे की खूबसूरती कम हो जाती है. हर किसी का ध्यान आपके डार्क सर्कल पर जाता है और कई लोगों को ये भी लगता है कि आप बीमार हैं. आंखों के नीचे डार्क सर्कल होने से कॉन्फिडेंस कम हो जाता है और मेकअप करने का मन नहीं करता. यदि आपकी आंखों के नीचे डार्क सर्कल हो गए हैं, तो डार्क सर्कल से छुटकारा पाने के लिए आप ये आसान घरेलू उपाय करें और डार्क सर्कल से छुटकारा पाएं.

Home Remedies To Remove Dark Circles

डार्क सर्कल दूर करने के आसान घरेलू उपाय

1) यदि आपको भी आंखों के नीचे काले घेरे हो गए हैं, तो संतरे के छिलके को छूप में सुखाकर पीस लें. फिर इस पाउडर में गुलाबजल मिलाकर पेस्ट बना लें. इस पेस्ट को डार्क सर्कल पर लगाएं. पेस्ट सूख जाने पर चेहरा धो लें. इस पेस्ट का नियमित रूप से प्रयोग करने से जल्दी ही डार्क सर्कल खत्म हो जाते हैं.

2) डार्क सर्कल से छुटकारा पाने के लिए टमाटर को पीसकर उस पेस्ट में बेसन और नींबू का रस मिलाएं. इस पेस्ट के नियमित प्रयोग से डार्क सर्कल ठीक हो जाते हैं.

3) डार्क सर्कल से छुटकारा पाने के लिए आलू के रस में नींबू का रस मिलाकर रूई की सहायता से आंखों के आसपास लगाएं. ऐसा करने से जल्दी की डार्क सर्कल समाप्त हो जाते हैं.

यह भी पढ़ें: हल्दी के ये 10 उबटन निखारते हैं दुल्हन का रूप (10 Best Haldi Ubtan For Indian Brides To Get Glowing Skin Naturally)

4) डार्क सर्कल के कारण यदि आपके आंखों की खूबसूरती कम हो गई है, तो खीरे के रस में उतना ही गुलाब जल मिलाकर इस मिश्रण को रूई में डुबोकर आंखों के ऊपर रखें. ऐसा नियमित रूप से करने से आंखों को ठंडक मिलती है और डार्क सर्कल भी दूर हो जाते हैं.

5) डार्क सर्कल दूर करने के लिए आप टी-बैग्स का प्रयोग भी कर सकती हैं. इसके लिए टी-बैग को कुछ देर पानी में डुबोएं. फिर टी-बैग को फ्रिज में रख दें. कुछ देर बाद ठंडे टी-बैग को फ्रिज में से निकालकर आंखों पर रखकर लेट जाएं. ऐसा रोज़ाना करने से आंखों को ठंडक मिलती है और डार्क सर्कल दूर होते हैं.

घरेलू नुस्खों से गोरा रंग पाने के लिए देखें ये वीडियो:

पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय आजमाकर आप पीरियड के दर्द से आसानी से छुटकारा पा सकती हैं. आपके किचन में मौजूद चीजों से आप आसानी से पीरियड के दर्द से छुटकारा पा सकती हैं. दादीमां के घरेलू नुस्खे जितने आसान होते हैं, उतने असरदार भी होते हैं. आप भी पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय आजमाएं और पीरियड के दर्द से छुटकारा पाएं.

Home Remedies To Reduce Period Pain

पीरियड का दर्द महिलाओं की एक आम समस्या है. कई महिलाओं को पीरियड के दौरान इतना दर्द होता है कि उन्हें उठने-बैठने में भी तकलीफ होती है. पीरियड के दर्द के कारण कई महिलाएं अपने रोज़मर्रा के काम भी नहीं कर पाती हैं. पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के लिए यदि महिलाओं को आसान घरेलू उपायों की जानकारी मिल जाए, तो वो हर महीने होने वाले माहवारी के दर्द से छुटकारा पा सकती हैं.

यह भी पढ़ें: व्हाइट डिस्चार्ज (श्‍वेत प्रदर) से बचने के 10 घरेलू उपाय (10 Best Home Remedies To Cure White Discharge In Women)

 

जानें पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय
1) माहवारी संबंधी सभी परेशानियों के निवारण के लिए गरम पानी का सेवन उत्तम है. माहवारी शुरू होने के 10 दिन पहले से गरम पानी पीना शुरू कर दें.
2) पीरियड के दर्द से बचने के लिए 8-10 बादाम रात में पानी में भिगोकर रख दें. सुबह छिलका निकालकर खाली पेट इसका सेवन करें.
3) पिसी हुई अलसी और पिसी हुई राई की गर्म-गर्म पुल्टिस कमर पर बांधने से आराम मिलता है.
4) 3 ग्राम कुटी अदरक, 3 काली मिर्च का चूर्ण और 1 बड़ी इलायची चूर्ण, काली चाय और दूध व पानी एकसाथ मिलाकर अच्छी तरह पकाएं. आधा पानी रह जाने पर उतार लें. इसे कुनकुना ही पीएं. ऐसा करने से माहवारी के दर्द से आराम मिलेगा.
5) पीरियड के दौरान कमर में दर्द हो तो बरगद का दूध निकालकर कमर पर सुबह-शाम लेप करें.

पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय जानने के लिए देखें ये वीडियो:

 

 

मेरे बाल अचानक बहुत झड़ने लगे हैं. मैं बालों का झड़ना रोकने के लिए क्या करूं? मैं केमिकलयुक्त चीज़ें बालों में लगाने से बचती हूं. क्या आप मुझे बालों का झड़ना रोकने के घरेलू उपाय बता सकते हैं? साथ ही बालों की सही देखभाल का तरीका भी बताएं.

Stop Hair Fall

आजकल बाल झड़ने और गंजेपन की शिकायत आम हो गई है. हर कोई बाल झड़ने की समस्या परेशान रहता है. बालों का अचानक झड़ने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे डैंड्रफ, तनाव, नींद की कमी, सही खानपान का अभाव, धूल-मिट्टी, प्रदूषण आदि. अत: सबसे पहले बाल झड़ने का कारण जानने की कोशिश करें. सही डायट और पर्याप्त नींद लें. बालों में नियमित रूप से ऑयल मसाज करें. यहां पर हम आपको कुछ घरेलू उपाय बता रहे हैं, जिनके प्रयोग से जल्दी ही बालों का झड़ना रुक जाता है.

बालों का झड़ना रोकने के 5 घरेलू उपाय (5 Home Remedies To Control Hair Loss)
1) यदि आपके बाल तेज़ी से झड़ने लगे हैं, तो आंवले के चूर्ण को नारियल के तेल में मिलाएं. आप चाहें तो इसमें चमेली का तेल भी मिला सकती हैं. फिर इस तेल से सिर पर मालिश कीजिए. ऐसा करने से जल्दी ही बालों का झड़ना रुक जाता है.
2) बालों का झड़ना रोकने के लिए एलोविरा जेल या जूस से स्कैल्प का मसाज करें. इससे आपके बालों की जड़ें मजबूत होंगी और बालों का झड़ना भी रुक जाएगा.
3) अगर डैंड्रफ के कारण बाल झड़ रहे हैं, तो राई और मेथीदाना पीसकर पेस्ट बनाएं. इस पेस्ट को बालों में लगाएं. इस पेस्ट के नियमित प्रयोग से जल्दी ही आपको रूसी से छुटकारा मिल जाएगा और बालों का झड़ना भी रुक जाएगा.

यह भी पढ़ें: मेरे बालों में बार-बार डैंड्रफ (रूसी) क्यों हो जाता है? (How To Get Rid Of Dandruff Permanently)

4) बालों का झड़ना रोकने के लिए अंडे में नींबू का रस मिलाकर सिर पर मसाज करें. ऐसा करने से बालों की जड़ें मज़बूत होती हैं और बालों का झड़ना कम होता है.
5) 1 टेबलस्पून आंवला, 1 टेबलस्पून रीठा पाउडर और 1 टेबलस्पून शिकाकाई को 1 कप पानी में घोलकर किसी लोहे के बर्तन में रातभर छोड़ दें. सुबह इसी पानी से बाल धाएं. ऐसा करने से बाल जड़ दे मजबूत होते हैं, बालों का झड़ना रुकता है और बाल काले-घने-लंबे बनते हैं.

बाल तेजी से बढ़ाने का आसान घरेलू उपाय जानने के लिए देखें वीडियो:

×