Tag Archives: Gynaec Problems

वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) से कैसे छुटकारा पाएं? (How To Get Rid Of Vaginal Yeast Infection)

वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) (Vaginal Infections) महिलाओं को कभी न कभी हो ही जाता है और इससे उन्हें कई परेशानियां होती हैं, जैसे- योनि में दर्द (Pain In Vagina), खुजली, सूजन… और इसका असर उनकी सेक्स लाइफ पर भी पढ़ता है. कई महिलाओं को बार-बार वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) हो जाता है, जिसके कारण वो चिड़चिड़ी हो जाती हैं, उनके वैवाहिक जीवन में भी परेशानियां आने लगती हैं. कई बार ऐसा भी होता है कि इलाज के बावजूद बार-बार वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) हो जाता है.

Vaginal Yeast Infection

वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) के कई कारण हो सकते हैं, मानसिक स्वास्थ्य ठीक न होना, स्ट्रेस, पति से मनमुटाव, हाइजीन का ध्यान का रखना, डायट सही न होना. यदि आपको भी बार-बार वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) हो जाता है, तो इसके लिए आपको क्या करना चाहिए? किस तरह की लाइफ स्टाइल से वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) से बचा जा सकता है? मानसिक स्वास्थ्य का वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) पर कितना असर होता है? वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) होने पर आपको और आपके पति को क्या करना चाहिए? ऐसे तमाम सवालों के जवाब दे रही हैं साइकोलॉजिस्ट एंड वुमन हेल्थ काउंसलर नम्रता जैन.

यह भी पढ़ें: सेक्स के दौरान हो दर्द तो करें ये 5 आसान घरेलू उपाय (5 Home Remedies For Vaginal Pain And Dryness)

 

वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) के कारण और उपचार जानने के लिए देखें वीडियो:

Personal Problems: कौन कराए नसबंदी पति या पत्नी? (Vasectomy or Tubal Ligation, Which Is Better?)

Vasectomy or Tubal Ligation, Which Is Better
मेरी उम्र 27 साल है और रेग्युलर एक्सरसाइज़ व डायटिंग के बावजूद मेरा वज़न बढ़ रहा है. मेरे बाल बहुत झड़ गए हैं और पीरियड्स भी अनियमित हो गए हैं. साथ ही मुझे बहुत ज़्यादा ठंड भी लगती है. डॉक्टर ने पॉलिसिस्टिक ओवेरियन डिसीज़ की जांच के लिए टेस्ट भी करवाया, पर रिपोर्ट्स नॉर्मल आईं. अब उन्हें थायरॉइड की आशंका है और वे मेरा ब्लड टेस्ट कराना चाहते हैं, लेकिन क्या यह थायरॉइड हो सकता है?
– वानी त्रिवेदी, बीकानेर.

थायरॉइड ग्लैंड हमारे गले में स्थित सबसे बड़ा एंडोक्राइन ग्लैंड है, जो थायरॉइड हार्मोंस- टी3 और टी4 का निर्माण करता है. आपके द्वारा बताए गए लक्षणों को देखकर लगता है कि आपको हाइपोथायरॉइडिज़्म है. इसे कंफर्म करने का तरीक़ा स़िर्फ ब्लड टेस्ट ही है, तभी आपके टी3 और टी4 हार्मोंस के लेवल्स का पता चल पाएगा. इसके बाद ही डॉक्टर आपको दवाइयों आदि के बारे में बता पाएंगे.

 
हमारे दो बच्चे हैं और हम तीसरा बच्चा नहीं चाहते, इसलिए स्थायी नसबंदी करवाना चाहते हैं. मेरे पति को ऑपरेशन करवाना चाहिए या मुझे? कृपया, मार्गदर्शन करें.
– सान्वी सोलंकी, नासिक.

पुरुषों में स्थायी नसबंदी को वैसेक्टॉमी कहते हैं. आजकल तो बिना किसी कट के यह विधि होती है. यह बहुत ही आसान तरीक़ा है और इसमें हॉस्पिटल में भर्ती होने की ज़रूरत भी नहीं होती और बहुत कम समय भी लगता है. महिलाओं के लिए लैप्रोस्कोप की मदद से लैप्रोस्कोपिक एब्डॉमिनल ट्यूबल लिगेशन किया जाता है, जिसे मिनी लैप्रोटॉमी कहते हैं. इसमें महिला को 3 सेंटीमीटर का चीरा लगाना पड़ता है. दोनों में आपको एक दिन के लिए हॉस्पिटल में रुकना पड़ता है. यह एक आसान, सुरक्षित और प्रभावशाली विधि है. अपनी व अपने पति की मेडिकल कंडीशन के मुताबिक़ अपने डॉक्टर से सलाह लेकर ही कोई फैसला लें.

 

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: गर्भधारण नहीं कर पा रही हूं, क्या मुझमें कोई प्रॉब्लम है?

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या डायबिटीज़ में गर्भधारण सुरक्षित है? (Is It Safe To Conceive In Diabetes?)

Safe To Conceive In Diabetes
मैं 31 वर्षीया शादीशुदा महिला हूं और मेरा एक तीन साल का बेटा भी है. हाल ही में जांच में पता चला कि मुझे डायबिटीज़ है. मैं दूसरा बच्चा चाहती हूं, पर क्या डायबिटीज़ में गर्भधारण सुरक्षित है?
– कोमल सक्सेना, रोहतक.

डायबिटीज़ में गर्भधारण सुरक्षित है, इसमें डरनेवाली कोई बात नहीं है. अगर आप दूसरा बच्चा चाहती हैं, तो अब आपको बिल्कुल भी देर नहीं करनी चाहिए, क्योंकि आपकी उम्र बढ़ रही है. इसके लिए सबसे ज़्यादा ध्यान देनेवाली बात यह है कि जब भी आप कंसीव करें, तो आपका शुगर लेवल सामान्य रहे. इसके लिए आप रेग्युलर चेकअप कराती रहें. प्रेग्नेंसी से पहले काउंसलिंग के लिए अपने गायनाकोलॉजिस्ट से ज़रूर मिलें. वह आपके डायबेटोलॉजिस्ट से मिलकर इस बात की पुष्टि कर लेंगे कि गर्भधारण के समय आप दवाइयों का सही तरी़के से सेवन कर रही हैं.

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या एनीमिया के कारण कंसीव नहीं कर पाऊंगी?

Safe To Conceive In Diabetes

मैं 34 वर्षीया महिला हूं. मेरी एक बार सीज़ेरियन डिलीवरी हो चुकी है. अब मेरे गर्भाशय में 6 सें.मी. का फायब्रॉइड है, पर मुझे उससे कोई तकलीफ़ नहीं है. ऐसे में मुझे क्या करना चाहिए?
– रागिनी यादव, लखनऊ.

महिलाओं में फायब्रॉइड्स का होना आम बात है. फायब्रॉइड्स कैंसर रहित होते हैं, इसलिए इसमें डरनेवाली कोई बात नहीं है. ये बहुत ही धीमी गति से बढ़ते हैं, इसलिए महिलाओं को कंसीव करने में कोई प्रॉब्लम नहीं होती. अगर आपको इससे कोई तकलीफ़ नहीं है, तो आपको इस बारे में चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं है. पर हां, अपने गायनाकोलॉजिस्ट को ज़रूर कंसल्ट करें. वो आपको साल में एक बार सोनोग्राफी के ज़रिए उसे मॉनिटर करने की सलाह दे सकते हैं.

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या गर्भनिरोधक गोलियों से ब्रेस्ट कैंसर की संभावना बढ़ जाती है?

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या पीरियड्स न आना प्रेग्नेंसी की निशानी है?

 

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies