Hair colour tips

आपके बालों की ख़ूबसूरती तब तक ही बनी रहती है, जब तक उनकी तुलना काली घटाओं से होती है. जहां कहीं इनमें समय से पहले स़फेदी झलकने लगी, इनकी सुंदरता भी कम होने लगती है. हालांकि आजकल बहुत से हेयर कलर्स व ऑप्शन्स हैं, जिनसे आप बालों की स़फेदी छिपा सकती हैं, लेकिन उन्हें अपनाने से पहले ये होम रेसिपीज़ आज़माएं और फिर देखें कमाल अपने महकते गेसुओं का.

1) ब्लैक टी सोल्यूशन
सामग्री:
दो टीस्पून काली चाय की पत्ती और एक कप पानी.
विधि: चाय की पत्ती को पानी में उबाल लें और कुछ देर तक उसी पानी में उसे भीगने दें. घोल को ठंडा होने दें और इस मिश्रण को धुले हुए बालों में अप्लाई करें. आधे घंटे बाद या जब यह सूख जाए, तो सादे पानी से बाल धो लें.
यह कैसे काम करता है?
ब्लैक टी में कैफीन होता है, जो एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है. यह सोल्यूशन बालों को शाइन भी देता है और ग्रे हेयर कवर करके बालों को नुक़सान नहीं पहुंचाता, बल्कि उन्हें मज़बूत करता है.


2) आंवला और मेहंदी पैक
सामग्री:
तीन टीस्पून आंवला पाउडर, एक कप मेहंदी पेस्ट और एक टीस्पून कॉफी पाउडर.
विधि: सारी सामग्री को मिक्स कर लें और यदि पेस्ट गाढ़ा लगे, तो पानी मिला लें. इस पेस्ट को बालों में लगा लें और ध्यान रखें कि सारे ग्रे हेयर कवर हो रहे हों. एक घंटे बाद माइल्ड शैंपू से बाल धो लें.
यह कैसे काम करता है?
आंवला और मेहंदी दोनों ही बालों को पोषण पहुंचाते हैं और मॉइश्‍चराइज़ भी करते हैं. इन दोनों का मिश्रण बालों के लिए नेचुरल कलर या डाई का काम करता है.


3) आंवला और मेथी मास्क
सामग्री:
आंवला पाउडर और साबुत मेथी.
विधि: मेथी को पीसकर उसमें आंवला पाउडर मिला लें. थोड़ा पानी मिलाकर गाढ़ा पेस्ट तैयार कर लें. इसे स्काल्प व बालों पर रातभर लगा रहने दें और अगली सुबह माइल्ड शैंपू से धो लें.
यह कैसे काम करता है?
आंवला विटामिन सी के गुणों से भरपूर होता है और सदियों से आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल बालों की समस्याओं के निदान में होता आया है. इसी तरह से मेथी भी कई पोषक तत्वों से भरपूर है. इन दोनों का मिश्रण न स़िर्फ बालों को नेचुरल कलर देता है, बल्कि बालों को पोषण भी पहुंचाता है.


4) प्याज़ का रस
सामग्री:
दो-तीन टीस्पून प्याज़ का रस, एक टीस्पून नींबू का रस और एक टीस्पून ऑलिव ऑयल.
विधि: तीनों को मिक्स करके स्काल्प और बालों में मसाज करें. आधे घंटे बाद बाल धो लें.
यह कैसे काम करता है?
बालों को ब्लैक करने का यह बेहतरीन तरीक़ा है. यह कैटालेज़ एंज़ाइम को बढ़ाता है, जिससे बाल डार्क होते हैं. नींबू के रस के साथ यह बालों को बाउंस और शाइन भी देता है.

यह भी पढ़ें: बालों में तेल कब, कैसे और कितना लगाएं (How And When To Apply Hair Oil)


5) करीपत्ता और नारियल तेल
सामग्री:
एक कप करीपत्ता और एक कप तेल.
विधि: दोनों को तब तक उबालें, जब तक कि पत्तियां काली न हो जाएं. इसे ठंडा करके छान लें और बोतल में भरकर रख लें. हफ़्ते में दो-तीन बार रात को बालों में इससे मसाज करें और सुबह बाल धो लें.
यह कैसे काम करता है?
करीपत्ता विटामिन बी से भरपूर होता है, जो हेयर फॉलिकल्स में मेलामाइन पिग्मेंट को रीस्टोर करता है, जिससे बाल स़फेद होने से बचते हैं. यह बीटा केराटिन का भी अच्छा स्रोत है, जिससे बालों का झड़ना कम होता है.


6) बादाम तेल और नींबू का रस
सामग्री:
बादाम का तेल और नींबू का रस.
विधि: तीन भाग नींबू के रस में दो भाग बादाम का तेल मिलाकर स्काल्प व बालों में मसाज करें. आधे घंटे बाद धो लें.
यह कैसे काम करता है?
आल्मंड ऑयल विटामिन ई का अच्छा स्रोत है, जो बालों के लिए काफ़ी अच्छा माना जाता है. यह जड़ों को पोषण देकर बालों को स़फेद होने से बचाता है. इसी तरह नींबू भी विटामिन सी व कई अन्य तत्वों से भरपूर होता है, जो बालों को शाइन व बाउंस देता है.


7) नारियल तेल और नींबू का रस
सामग्री:
दो टेबलस्पून नारियल तेल और एक टेबलस्पून नींबू का रस.
विधि: दोनों को मिलाकर स्काल्प व बालों की मसाज करें और आधे घंटे बाद माइल्ड शैंपू से धो लें.
यह कैसे काम करता है?
यह स़फेद बालों को भले ही काला न करता हो, लेकिन यह बालों की स़फेद होने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है, क्योंकि यह हेयर फॉलिकल्स में पिग्मेंट सेल्स को बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.


8) कालीमिर्च और दही
सामग्री:
आधा टीस्पून कालीमिर्च पाउडर और एक कप दही.
विधि: दोनों सामग्री को तब तक ब्लेंड करें, जब तक कि पेस्ट में ग्र्रे कलर न आ जाए. इससे स्काल्प और बालों को मसाज करें. एक घंटे बाद माइल्ड शैंपू से बाल धो लें.
यह कैसे काम करता है?
इसके लगातार प्रयोग से बालों का कलर डार्क होता है और दही बालों को मॉइश्‍चराइज़ भी करता है.

यह भी पढ़ें: बाल झड़ने की 5 वजहें और कैसे रोकें बालों का झड़ना? (5 Reasons Of Hair Loss And How To Stop Hair Fall)


9) शिकाकाई पाउडर
सामग्री:
शिकाकाई पाउडर और दही.
विधि: दोनों को मिलाकर पेस्ट बना लें. स्काल्प व बालों में मसाज करें और आधे घंटे बाद धो लें.
यह कैसे काम करता है?
शिकाकाई शैंपू के तौर पर भी काम करता है और ग्रे हेयर की समस्या को भी कम करता है. सदियों से आयुर्वेद में बालों की देखभाल के लिए इसका ज़िक्र देखा गया है. यह स्काल्प को क्लीन और हेल्दी भी रखता है.

10) आलू के छिलके
सामग्री:
छह आलू के छिलके और दो कप पानी.
विधि: छिलकों को तब तक उबालें, जब तक कि गाढ़ा स्टार्च जैसा घोल न बन जाए. ठंडा होने पर छान लें और इसे फाइनल रिंस के लिए रखें. बालों को पहले धो लें, फिर इस घोल को बालों पर डालें और उसके बाद पानी न डालें.
यह कैसे काम करता है?
दरअसल यह घोल आपके स़फेद बालों को छिपाता है. यह स्टार्ची सोल्यूशन उनके पिग्मेंटेशन को गहरा दिखाकर ग्रे हेयर कवर कर लेता है और यह सबसे आसान तरीक़ा
भी है.
– विजयलक्ष्मी

ख़ूबसूरती की परिभाषा भले ही हर किसी के लिए अलग-अलग हो, पर ख़ूबसूरत नज़र आने के लिए बालों का हेल्दी और ट्रेंडी होना ज़रूरी है और बालों को न्यू लुक देने के लिए हेयर कलर से अच्छा और कोई विकल्प नहीं. आप भी यदि अपनी पर्सनैलिटी में नया निखार लाना चाहती हैं, तो हेयर कलरिंग ट्रिक्स अपनाएं और नज़र आएं हॉट… ट्रेंडी… गॉर्जियस…

Hair Colour Tips

हेयर कलर करने से पहले रखें ख़्याल
1. कलर करने से पहले बालों को अच्छी तरह से शैम्पू से वॉश कर लें.
2. कलर से पहले शैम्पू करने के बाद बालों में कंडीशनर लगाने की ज़रूरत नहीं है. अतः कंडीशनर न लगाएं.
3. यदि आपका स्काल्प सेंसिटिव है, तो कलर करने से पहले बालों को 24 घंटे पहले ब्लीच करके छोड़ दें.
4. कलर करने से पहले कलर पैक पर लिखे सारे निर्देशों को अच्छी तरह पढ़ और समझ लें.
5. कलर करते समय हाथों में ग्लव्ज़ पहनें.
6. बालों को कलर करते समय कुछ एक्स्ट्रा केयर की ज़रूरत होती है, ताकि कलर केवल बालों पर लगे, आसपास की स्किन पर नहीं.
7. बालों पर कलर अप्लाई करते समय फोरहेड पर कलर लग जाता है. साफ़ करने के बाद भी स्किन पर कलर के पैच रह जाते हैं, जो देखने में भद्दे लगते हैं. अतः कलर लगाते समय स्किन पर पेट्रोलियम जेली लगाएं.

Hair Colour

जब घर पर करें हेयर कलर
1. हेयर कलर के बॉक्स पर मॉडल की तस्वीर देखकर यह न सोचें कि आपके बालों का रंग भी बिल्कुल ऐसा ही हो जाएगा. नया रंग लगाने के बाद आपके बालों का रंग कैसा आएगा, यह आपके बालों पर लगे हुए पुराने कलर और आपके बालों की गुणवत्ता पर भी निर्भर करेगा.
2. यदि आप हेयर कलर से प्राकृतिक परिणाम चाहती हैं, तो हेयर कलर का वो शेड चुनें, जो आपके बालों के प्राकृतिक रंग से एक-दो शेड कम या ज़्यादा हो. यानी आपके बालों का रंग ब्राउन (भूरा) है तो आप ब्राउन कलर का ही डार्क या लाइट शेड चुनें.
3. बालों को यदि लाल रंग के किसी शेड से कलर करना चाहती हैं तो याद रखें कि यह रंग बहुत जल्दी बदरंग दिखने लगता है. इसकी देखभाल भी अधिक करनी पड़ती है. रेड कलर में रंगे हुए बालों को स्पेशल कलर शैम्पू और कंडीशनर से ही धोएं.
4. यदि बाल लंबे हैं और आप उन्हें घर पर ही कलर कर रही हैं तो हेयर कलर के दो बॉक्स लेकर कलर करना शुरू करें. इससे यदि कलर बीच में ख़त्म हो जाए तो आप दूसरे बॉक्स का उपयोग कर सकेंगी.

5. हेयर कलर के दाग़ त्वचा पर न लगें इस बात का भी ख़ास ख़्याल रखें. इसके लिए रूई को बेबी ऑयल या नींबू के रस में डुबोकर उन जगहों पर लगाएं, जहां कलर लग गया हो. कलर आपकी त्वचा पर न लगे इसके लिए बालों में कलर करने से पहले हेयर लाइन के आस-पास और कानों के पीछे अधिक मात्रा में पेट्रोलियम जेली लगाएं.