hair colour

आपके बालों की ख़ूबसूरती तब तक ही बनी रहती है, जब तक उनकी तुलना काली घटाओं से होती है. जहां कहीं इनमें समय से पहले स़फेदी झलकने लगी, इनकी सुंदरता भी कम होने लगती है. हालांकि आजकल बहुत से हेयर कलर्स व ऑप्शन्स हैं, जिनसे आप बालों की स़फेदी छिपा सकती हैं, लेकिन उन्हें अपनाने से पहले ये होम रेसिपीज़ आज़माएं और फिर देखें कमाल अपने महकते गेसुओं का.

1) ब्लैक टी सोल्यूशन
सामग्री:
दो टीस्पून काली चाय की पत्ती और एक कप पानी.
विधि: चाय की पत्ती को पानी में उबाल लें और कुछ देर तक उसी पानी में उसे भीगने दें. घोल को ठंडा होने दें और इस मिश्रण को धुले हुए बालों में अप्लाई करें. आधे घंटे बाद या जब यह सूख जाए, तो सादे पानी से बाल धो लें.
यह कैसे काम करता है?
ब्लैक टी में कैफीन होता है, जो एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है. यह सोल्यूशन बालों को शाइन भी देता है और ग्रे हेयर कवर करके बालों को नुक़सान नहीं पहुंचाता, बल्कि उन्हें मज़बूत करता है.


2) आंवला और मेहंदी पैक
सामग्री:
तीन टीस्पून आंवला पाउडर, एक कप मेहंदी पेस्ट और एक टीस्पून कॉफी पाउडर.
विधि: सारी सामग्री को मिक्स कर लें और यदि पेस्ट गाढ़ा लगे, तो पानी मिला लें. इस पेस्ट को बालों में लगा लें और ध्यान रखें कि सारे ग्रे हेयर कवर हो रहे हों. एक घंटे बाद माइल्ड शैंपू से बाल धो लें.
यह कैसे काम करता है?
आंवला और मेहंदी दोनों ही बालों को पोषण पहुंचाते हैं और मॉइश्‍चराइज़ भी करते हैं. इन दोनों का मिश्रण बालों के लिए नेचुरल कलर या डाई का काम करता है.


3) आंवला और मेथी मास्क
सामग्री:
आंवला पाउडर और साबुत मेथी.
विधि: मेथी को पीसकर उसमें आंवला पाउडर मिला लें. थोड़ा पानी मिलाकर गाढ़ा पेस्ट तैयार कर लें. इसे स्काल्प व बालों पर रातभर लगा रहने दें और अगली सुबह माइल्ड शैंपू से धो लें.
यह कैसे काम करता है?
आंवला विटामिन सी के गुणों से भरपूर होता है और सदियों से आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल बालों की समस्याओं के निदान में होता आया है. इसी तरह से मेथी भी कई पोषक तत्वों से भरपूर है. इन दोनों का मिश्रण न स़िर्फ बालों को नेचुरल कलर देता है, बल्कि बालों को पोषण भी पहुंचाता है.


4) प्याज़ का रस
सामग्री:
दो-तीन टीस्पून प्याज़ का रस, एक टीस्पून नींबू का रस और एक टीस्पून ऑलिव ऑयल.
विधि: तीनों को मिक्स करके स्काल्प और बालों में मसाज करें. आधे घंटे बाद बाल धो लें.
यह कैसे काम करता है?
बालों को ब्लैक करने का यह बेहतरीन तरीक़ा है. यह कैटालेज़ एंज़ाइम को बढ़ाता है, जिससे बाल डार्क होते हैं. नींबू के रस के साथ यह बालों को बाउंस और शाइन भी देता है.

यह भी पढ़ें: बालों में तेल कब, कैसे और कितना लगाएं (How And When To Apply Hair Oil)


5) करीपत्ता और नारियल तेल
सामग्री:
एक कप करीपत्ता और एक कप तेल.
विधि: दोनों को तब तक उबालें, जब तक कि पत्तियां काली न हो जाएं. इसे ठंडा करके छान लें और बोतल में भरकर रख लें. हफ़्ते में दो-तीन बार रात को बालों में इससे मसाज करें और सुबह बाल धो लें.
यह कैसे काम करता है?
करीपत्ता विटामिन बी से भरपूर होता है, जो हेयर फॉलिकल्स में मेलामाइन पिग्मेंट को रीस्टोर करता है, जिससे बाल स़फेद होने से बचते हैं. यह बीटा केराटिन का भी अच्छा स्रोत है, जिससे बालों का झड़ना कम होता है.


6) बादाम तेल और नींबू का रस
सामग्री:
बादाम का तेल और नींबू का रस.
विधि: तीन भाग नींबू के रस में दो भाग बादाम का तेल मिलाकर स्काल्प व बालों में मसाज करें. आधे घंटे बाद धो लें.
यह कैसे काम करता है?
आल्मंड ऑयल विटामिन ई का अच्छा स्रोत है, जो बालों के लिए काफ़ी अच्छा माना जाता है. यह जड़ों को पोषण देकर बालों को स़फेद होने से बचाता है. इसी तरह नींबू भी विटामिन सी व कई अन्य तत्वों से भरपूर होता है, जो बालों को शाइन व बाउंस देता है.


7) नारियल तेल और नींबू का रस
सामग्री:
दो टेबलस्पून नारियल तेल और एक टेबलस्पून नींबू का रस.
विधि: दोनों को मिलाकर स्काल्प व बालों की मसाज करें और आधे घंटे बाद माइल्ड शैंपू से धो लें.
यह कैसे काम करता है?
यह स़फेद बालों को भले ही काला न करता हो, लेकिन यह बालों की स़फेद होने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है, क्योंकि यह हेयर फॉलिकल्स में पिग्मेंट सेल्स को बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.


8) कालीमिर्च और दही
सामग्री:
आधा टीस्पून कालीमिर्च पाउडर और एक कप दही.
विधि: दोनों सामग्री को तब तक ब्लेंड करें, जब तक कि पेस्ट में ग्र्रे कलर न आ जाए. इससे स्काल्प और बालों को मसाज करें. एक घंटे बाद माइल्ड शैंपू से बाल धो लें.
यह कैसे काम करता है?
इसके लगातार प्रयोग से बालों का कलर डार्क होता है और दही बालों को मॉइश्‍चराइज़ भी करता है.

यह भी पढ़ें: बाल झड़ने की 5 वजहें और कैसे रोकें बालों का झड़ना? (5 Reasons Of Hair Loss And How To Stop Hair Fall)


9) शिकाकाई पाउडर
सामग्री:
शिकाकाई पाउडर और दही.
विधि: दोनों को मिलाकर पेस्ट बना लें. स्काल्प व बालों में मसाज करें और आधे घंटे बाद धो लें.
यह कैसे काम करता है?
शिकाकाई शैंपू के तौर पर भी काम करता है और ग्रे हेयर की समस्या को भी कम करता है. सदियों से आयुर्वेद में बालों की देखभाल के लिए इसका ज़िक्र देखा गया है. यह स्काल्प को क्लीन और हेल्दी भी रखता है.

10) आलू के छिलके
सामग्री:
छह आलू के छिलके और दो कप पानी.
विधि: छिलकों को तब तक उबालें, जब तक कि गाढ़ा स्टार्च जैसा घोल न बन जाए. ठंडा होने पर छान लें और इसे फाइनल रिंस के लिए रखें. बालों को पहले धो लें, फिर इस घोल को बालों पर डालें और उसके बाद पानी न डालें.
यह कैसे काम करता है?
दरअसल यह घोल आपके स़फेद बालों को छिपाता है. यह स्टार्ची सोल्यूशन उनके पिग्मेंटेशन को गहरा दिखाकर ग्रे हेयर कवर कर लेता है और यह सबसे आसान तरीक़ा
भी है.
– विजयलक्ष्मी

बालों की ग्रोथ न स़िर्फ हमारी लाइफस्टाइल, बल्कि अच्छी-बुरी आदतों पर भी निर्भर करती है. अच्छी आदतें जहां बालों को स्वस्थ बनाती हैं, वहीं बुरी आदतों से बाल बेजान नज़र आते हैं. आइए, जानते हैं कौन हैं बालों के दोस्त और कौन हैं दुश्मन? 

 

बालों के दोस्त

 

dreamstime_m_22805780

तेल

तेल बालों का मुख्य आहार है. इससे बाल स्वस्थ होते हैं और स्वस्थ बाल तेज़ी से बढ़ते हैं. अतः सप्ताह में 3-4 बार बालों में तेल लगाकर मसाज करें. इससे बाल जड़ से मज़बूत होते हैं.

साफ़-सफ़ाई

साफ़-सुथरे बाल तेज़ी से बढ़ते हैं. अतः जब भी ज़रूरत महसूस हो, बालों को शैम्पू ज़रूर करें. संभव हो तो रोज़ाना या एक दिन छोड़कर शैम्पू करें. स्वच्छता से बाल स्वस्थ होते हैं और स्वस्थ बाल तेज़ी से बढ़ते हैं.

संतुलित आहार

बालों को जड़ से मज़बूत बनाना हो, तो अपने आहार में अंडे, हरी सब्ज़ियां, नट्स, ऑयली फिश, बेरीज़ शामिल करें, क्योंकि अंडे में प्रोटीन, हरी सब्ज़ियों में विटामिन्स और नट्स में ज़िंक और ओमेगा3 एडिस की मौजूदगी से बाल स्वस्थ व मज़बूत बनते हैं.

healthy diet for hair

ट्रिमिंग

हेल्दी-हैप्पी हेयर के लिए बालों की ट्रिमिंग भी ज़रूरी होती है. 2-3 महीने के अंतराल पर बालों को ट्रिम कराती रहें. इससे बाल घने नज़र आते हैं और तेज़ी से बढ़ते हैं.

योग व एक्सरसाइज़

नियमित योग व एक्सरसाइज़ से भी आप बालों को स्वस्थ व तंदरुस्त बना सकती हैं. अतः रोज़ाना नियमित रूप से योग या एक्सरसाइज़ करें.

बालों के दुश्मन

2

 

 

गंदगी

बालों को धूल-मिट्टी और गंदगी से बचाएं. साथ ही तेज़ धूप के संपर्क में आने से भी परहेज़ करें, वरना बाल रूखे, बेजान व कमज़ोर बन सकते हैं.

तनाव

स्ट्रेस बालों के जानी दुश्मनों में से एक है. अतः स्ट्रेस से बचें. किसी भी मुद्दे पर बहुत ज़्यादा सोच-विचार न करें. इसका आपके बालों पर नकारात्मक असर हो सकता है.

जंक फूड

तली-भुनी, मसालेदार चीज़ों के सेवन से बचें. साथ ही जंक फूड से भी परहेज़ करें. ये न स़िर्फ आपको शारीरिक तौर पर बीमार करते हैं, बल्कि इनके सेवन से बाल भी कमज़ोर हो जाते हैं.

good for hair
केमिकलयुक्त कलर

केमिकलयुक्त हेयर कलर या हेयर स्टाइलिंग से दूर रहें. हेयर कलर के इस्तेमाल से कई बार बाल स़फेद हो जाते हैं और केमिकलयुक्त हेयर स्टाइलिंग से बाल कमज़ोर हो जाते हैं.

कॉस्मेटिक हेयर ट्रीटमेंट

कॉस्मेटिक हेयर ट्रीटमेंट लेने से बचें, वरना बाल कमज़ोर होने के साथ ही झड़ भी सकते हैं. बेहतर होगा कि आप किसी ट्रेंड डर्मेटोजॉलिस्ट की निगरानी में हेयर ट्रीटमेंट लें.