Tag Archives: Hair

ये रेशमी ज़ुल्फ़ें…हेल्दी बालों के लिए स्मार्ट टिप्स (Smart Tips For Healthy-Shiny Hair)

Healthy Shiny Hair
ये रेशमी ज़ुल्फ़ें…हेल्दी बालों के लिए स्मार्ट टिप्स (Smart Tips For Healthy-Shiny Hair)

आप भी अपने बालों को रेशमी और घना करना चाहती हैं, तो इन ईज़ी टिप्स को फॉलो करें-आप भी अपने बालों को रेशमी और घना करना चाहती हैं, तो इन ईज़ी टिप्स को फॉलो करें-प हेयर केयर रूटीन फॉलो करें.

कोई रेशम कहता है इन्हें, तो कोई सावन की घटा… कोई ग़ज़ल कहता है इन पर, तो कोई ढूंढ़ता है अपनी वफ़ा… मेरे लिए मुहब्बत की पनाह हैं ये तेरी ज़ुल़्फें, इन्हीं में बसा है मेरी हसरतों का मुकम्मल जहां…

  • बालों को क्लीन रखना बेहद ज़रूरी है.
  • हफ़्ते में 2-3 बार माइल्ड शैंपू से हेयर वॉश करें.
  • कंडीशनर यूज़ करना न भूलें.
  • बाल धोने के बाद हमेशा उन्हें थपथपाकर सुखाएं, रगड़कर न पोंछें,  वरना बाल टूटने लगेंगे.
  • गीले बालों को बांधें नहीं, इससे फंगल इंफेक्शन का ख़तरा हो सकता है.
  • बेहतर होगा नेचुरल तरी़के से ही बालों को सूखने दें.
  • हेयर ड्रायर का अधिक इस्तेमाल न करें.
  • हेयर वॉश से पहले ऑयल मसाज ज़रूर करें.
  • स्काल्प मसाज करने से ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है.
  • बहुत अधिक केमिकल्स के प्रयोग से बचें.
  • बाहर जाते समय बालों को धूप से बचाने के लिए स्कार्फ बांधें या छतरी लें.
  • हेल्दी डायट भी हेल्दी बालों के लिए बहुत ज़रूरी है.
  • प्रोटीन, विटामिन ई और सी से भरपूर डायट लें. डेयरी प्रोडक्ट्स, बादाम, फिश, अंडे, साबूत अनाज, गाजर, पालक, आंवला, टमाटर आदि डायट में शामिल करें.
  • दोमुंहे बालों की समस्या से बचने के लिए बालों को नियमित रूप से ट्रिम करवाती रहें.
  • अगर बहुत ज़्यादा स्टाइलिंग प्रोडक्ट्स और हार्श केमिकल्स के प्रयोग से आपके बाल डैमेज हो गए हैं, तो बनाना और ऑलिव ऑयल का मास्क अप्लाई करें.
  • मिल्क मास्क से बाल सॉफ्ट और शाइनी होते हैं, दूध में अंडा और नारियल तेल मिक्स करके बालों पर अप्लाई करें.
  • दही भी बालों को हेल्दी रखता है. आप उसका भी मास्क यूज़ कर सकती हैं.
  • फ्रिज़ी बालों के लिए एवोकैडो पल्प बेहतरीन मास्क का काम करता है. आप चाहें तो इसमें अंडा या मेयोनीज़ भी मिक्स कर सकती हैं.
  • अगर आपके बाल बहुत ड्राई हैं, तो शहद और नारियल तेल का मास्क आपके लिए परफेक्ट है.
  • स्ट्रॉबेरी हेयर मास्क बालों को मॉइश्‍चराइज़ करेगा और एक स्वीट-सी ख़ुशबू भी बालों को मिलेगी.
  • एलोवीरा पल्प बेहतरीन हेयर मास्क है. इसमें हीलिंग प्रॉपर्टीज़ होती हैं. यह बालों को हेल्दी रखता है.
  • जोजोबा ऑयल से नियमित रूप से स्काल्प मसाज करें. इससे ब्लड सर्कुलेशन तो बढ़ेगा ही, बालों को मॉइश्‍चर भी मिलेगा.
  • आधा कप दही में एक टीस्पून विनेगर मिलाकर बालों में लगाएं. यह डैमेज्ड बालों के लिए बेहतरीन मास्क है. यह बालों से एक्स्ट्रा ऑयल निकालकर उनका चिपचिपापन कम करेगा, डैंड्रफ से भी राहत मिलेगी.
  • बालों में वॉल्यूम और शाइन चाहिए, तो मेयोनीज़ बेहतरीन मास्क है. आधा कप मेयोनीज़ में कुछ बूंदें किसी भी एसेंशियल ऑयल की मिलाकर बालों व स्काल्प में अप्लाई करें. आधे घंटे बाद शैंपू कर लें.

यह भी पढ़ें: रूसी को जड़ से ख़त्म करने के आयुर्वेदिक घरेलू उपाय (Home Remedies To Get Rid Of Dandruff Naturally)

यह भी पढ़ें: मॉनसून हेयर केयर (Monsoon Hair Care Tips)

होली में सावधान रहें केमिकल रंगों के अटैक से… (Holi Special: Play Safe Holi)

Play Safe Holi

होली (Holi) मस्ती का, रंगों का और प्यार का त्योहार होता है. गिले-शिकवे भुलाने का और सबको अपना बनाने का इससे बेहतर मौक़ा शायद दूसरा नहीं होता. लेकिन इस रंग में भंग भी पड़ सकता है, अगर आपने सावधानी नहीं बरती तो. एक समय था, जब फूलों से या प्राकृतिक रंगों से होती खेली जाती थी. लेकिन जबसे केमिकलवाले रंगों (Chemical Colours) का चलन बढ़ा है, तब से स्किन प्राब्लम्स (Skin Problems) भी बढ़ी हैं. के. जे. सोमाया हॉस्पिटल (K J Somaya Hospital) के डर्मैटोलॉजी डिपार्टमेंट की प्रोफेसर और हेड डॉ. शीतल पुजारे बता रही हैं स्किन प्रॉब्लम्स से जुड़ी ज़रूरी बातें.

 

Play Safe Holi

– आर्टिफिशियल कलर्स में काफ़ी केमिकल्स होते हैं, जैसे- ब्लैक में लेड ऑक्साइड, ग्रीन में कॉपर सल्फेट, सिल्वर में एल्युमीनियम ब्रोमाइड, ब्लू में कॉबाल्ड नाइट्रेट, ज़िंक सॉल्ट्स और रेड में मरक्यूरि सल्फेट.
– इसके अतिरिक्त उनकी चमक बढ़ाने के लिए उनमें माइका डस्ट और ग्लास पार्टिकल्स भी मिलाए जाते हैं.
– ये तमाम चीज़ें त्वचा पर काफ़ी बुरा प्रभाव डालती हैं. आपको खुजली, त्वचा की ऊपरी परत निकलना, त्वचा का ड्राई होना और स्किन अल्सर तक हो सकता है.
– ये रंग आसानी से नहीं छूटते और स्किन पर व बालों में जम जाते हैं.
– अगर आपको पहले से ही त्वचा की कोई समस्या है, तो वो भी बढ़ सकती है. पिंपल्स से लेकर एक्ज़िमा की तकलीफ़ गंभीर हो सकती है.
– स्काल्प में जमा होने पर ये रंग हेयर फॉल को बढ़ा सकते हैं.
– आंखों में जलन-खुलजी हो सकती है. सांस की तकलीफ़ बढ़ सकती है.

यह भी पढ़ें: मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ।

कैसे बचें इन रंगों के प्रभाव से?
– सबसे बेहतर उपाय है कि नेचुरल रंगों का प्रयोग करें.
– यदि यह संभव न हो, तो होली खेलने से पहले त्वचा और बालों पर तेल लगा लें.
– नाख़ूनों को छोटा रखें, ताकि रंग उनमें न जम सकें और नेल इनामिल लगाएं, जिससे रंगों से बचाव हो सके.
– आई वेयर आंखों को बचाने का बेहतर तरीक़ा है, यदि आंखों में रंग चला जाए, तो फ़ौरन पानी से आंख धोएं.
– कलर को छुड़ाने के लिए त्वचा को ज़ोर-ज़ोर से न रगड़ें. धीरे-धीरे रंग हल्के पड़ते जाएंगे.

किन स्थितियों में लें एक्सपर्ट की मदद?
– यदि आपको अत्यधिक स्किन एलर्जी, रेडनेस और खुजली बढ़ गई हो.
– अगर चेहरे पर सूजन आ गई हो.
– अगर सांस लेने में तकलीफ़ हो रही हो.
– बाल बहुत ज़्यादा झड़ने लगें या एक्ने एकदम से बढ़ जाएं.
– होंठों व नाख़ूनों का रंग नीला पड़ गया हो.

यह भी पढ़ें: मुंहासों से छुटकारा दिलाते हैं 10 आसान घरेलू उपाय

कम्प्लीट हेयर केयर गाइड (Beauty: Complete Hair Care Guide)

कम्प्लीट हेयर केयर गाइड, Beauty, Complete Hair Care Guide

कम्प्लीट हेयर केयर गाइड, Beauty, Complete Hair Care Guide

हेयर केयर… यूं रखें अपने बालों का ख़्याल!
ये रेशमी एहसास, ये मखमली राहें, खो गया हूं इन्हीं में मैं, मुझे भा गईर्ं इन गेसुओं की पनाहें… ताउम्र कैद रहना चाहता हूं मैं इनकी ख़ुशबू में, जीना चाहता हूं अब मैं बस इनकी जुस्तजू में… आरज़ू तो यही है कि इनमें सिमटकर महक जाए मेरा वजूद भी, कभी न ख़त्म हो इनके अक्स का सुरूर भी… जब भी खुलकर ये बिखरें फ़िज़ाओं में कहीं, घटाएं बरस जाएं हवाओं में कहीं… लिपटा रहूं मैं भी इनसे, करता रहूं अपने ख़्वाबों को मुकम्मल, जगाकर अरमान सारे, करता रहूं अपनी हसरतों को हासिल!

 

काले, घने, मज़बूत बाल, रेशमी एहसास… मखमली ज़ुल़्फें… आपकी भी तो यही ख़्वाहिश होगी न. तो देर किस बात की, इन हेयर केयर टिप्स को आज़माएं और अपने बालों को हेल्दी बनाएं.

स्काल्प मसाज

  1. एक भाग नींबू के रस को पांच भाग नारियल के तेल में मिला लें. इससे स्काल्प में मसाज करें और आधे घंटे बाद हेयर वॉश करें. नींबू के रस में जो एसिड होता है, वो डैंड्रफ को दूर रखता है और नारियल तेल के साथ मिलाने पर लाभ कई गुना बढ़ जाता है. डैंड्रफ होने का एक बड़ा कारण होता है स्काल्प के पीएच बैलेंस का असंतुलित होना. नींबू स्काल्प का पीएच बैलेंस बनाए रखने में मदद करता है और नारियल तेल में कंडीशनिंग और एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज़ होती हैं.
  1. सोने से पहले रोज़ाना ऑलिव ऑयल को हल्का गर्म करके उससे स्काल्प मसाज करें. बालों को कवर करके सोएं, ताकि धूल-मिट्टी चिपके नहीं. सुबह शैंपू कर लें. ऑलिव ऑयल को गर्म करने पर उसकी कंसिस्टेंसी बेहतर हो जाती है, जिससे वो ड्राई हिस्से को आसानी से ठीक कर सकता है. ऑलिव ऑयल दो तरी़के से डैंड्रफ को ठीक करता है. पहला, यह स्काल्प के ड्राई हिस्से को मॉइश्‍चराइज़ करके पपड़ी नहीं जमने देता. दूसरा, ऑलिव ऑयल पपड़ी की मोटी परत में भी एब्ज़ॉर्ब हो जाता है, जिससे डैंड्रफ की समस्या धीरे-धीरे ख़त्म होने लगती है.
  1. बालों को मॉइश्‍चराइज़ करना भी ज़रूरी है. इसके लिए पांच तेलों का इस्तेमाल करें- ऑलिव ऑयल, आल्मंड ऑयल, कैस्टर ऑयल, कोकोनट ऑयल और लैवेंडर ऑयल. सभी को समान मात्रा में लेकर मिक्स करें. हेयर वॉश करने से पहले मसाज करें और 4-5 घंटे तक लगाकर रखें. यह हफ़्ते में दो बार करें.
  1. एक शोध में यह पाया गया कि जिन लोगों ने 4 हफ़्तों तक 5% टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल किया, उनकी डैंड्रफ की समस्या 41% तक कम हो गई. शैंपू करने से पहले स्काल्प में ऑयल से मसाज करें. यह हर दूसरे दिन करें. यह डैंड्रफ की नेचुरल रेमेडी है. इसे आप तेल की तरह इस्तेमाल करने की बजाय शैंपू के तौर पर भी यूज़ कर सकते हैं.
  2. कोकोनट, आंवला, ऑलिव, आल्मंड या कैस्टरऑयल- चाहे जो भी ऑयल आप यूज़ करें, उसमें कुछ बूंदें रोज़मेरी एसेंशियल ऑयल की भी मिक्स कर लें. इससे जल्दी फ़ायदा होगा. हफ़्ते में एक बार इनमें से किसी भी ऑयल से स्काल्प मसाज करें. बालों को मसाज करने से स्काल्प में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है और बाल भी कंडीशन होते हैं, जिससे बालों का झड़ना और टूटना कम होता है.
  3. एक टेबलस्पून कोकोनट ऑयल को गीले बालों के सिरों पर अप्लाई करें. अगर बाल बहुत ज़्यादा ड्राई हैं, तो तेल को रातभर रहने दें और सुबह शैंपू करें. नारियल का तेल बालों की भीतरी परत को पोषण देता है.
  4. बालों में बटर से मसाज करें. आधे घंटे तक शावर कैप से कवर करें, फिर शैंपू कर लें. बटर विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर होता है. यह बालों को हेल्दी शाइन देता है.
  5. आधा कप दही से बालों को मसाज करें और 20 मिनट बाद पहले गुनगुने पानी से, फिर ठंडे पानी से रिंस करके शैंपू कर लें. दही में मौजूद लैक्टिक एसिड बालों को क्लीन करता है, जबकि उसमें मौजूद फैट्स बालों को मॉइश्‍चराइज़ करता है.
  6. विनेगर से स्काल्प मसाज करें. मसाज अच्छी तरह से होनी चाहिए, ताकि स्काल्प में विनेगर एब्ज़ॉर्ब हो सके. आप चाहें, तो एक टेबलस्पून विनेगर को पानी के मग में मिलाकर फाइनल रिंस के लिए इस्तेमाल कर सकती हैं. सबसे बेहतर तरीक़ा है कि पहले दो कप विनेगर को बॉइल कर लें. ठंडा होने पर उसका आठवां भाग 1 कप पानी में मिलाकर शैंपू से पहले बालों में डालें. विनेगर में स्काल्प के फंगस और बैक्टीरिया को ख़त्म करने की क्षमता होती है. इसके अलावा यह ड्राईस्किन को भी ठीक करता है, इसलिए जो डैंड्रफ फंगस के कारण नहीं होते, उन्हें भी ट्रीट करता है. इसमें मौजूद एसिड खुजली को कम करता है और स्काल्प फ्लेकी स्किन को ठीक करता है.
  1. अदरक को छीलकर कद्दूकस कर लें. 8 टेबलस्पून तिल का तेल लें. मलमल के कपड़े में अदरक को रखकर निचोड़ लें और उसके तेल को तिल के तेल में मिला लें. इससे स्काल्प मसाज करें और कुछ देर बाद हेयर वॉश कर लें. अदरक में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं और वो हेयर ग्रोथ में भी कारगर है. अदरक में मौजूद एक्टिव कंपोनेंट-वोलेटॉइल ऑयल डैंड्रफ को दूर करता है. अदरक के तेल को जब तिल के तेल जैसे नेचुरल ऑयल में मिलाकर लगाया जाता है, तो डैंड्रफ को दूर करने में वो बहुत कारगर होता है.

कम्प्लीट हेयर केयर गाइड, Beauty, Complete Hair Care Guide

अगर डैंड्रफ है, तो ये हेयर मास्क आज़माएं
  1. अपने शैंपू में 1 टीस्पून बेकिंग सोडा मिलाकर हेयर वॉश करें. सिंगल वॉश से ही डेड स्किन और फ्लेक्स निकल जाएंगे. बेकिंग सोडा डैंड्रफ पैदा करनेवाले फंगस की क्रियाशीलता को कम करता है. यह माइल्ड स्क्रब भी है, जो स्काल्प की डेड स्किन और अतिरिक्त ऑयल को निकाल देता है. चूंकि यह डेड स्किन को निकाल देता है, तो स्काल्प नेचुरल ऑयल्स का निर्माण सामान्य रूप से करने लगता है, जिससे बाल व स्काल्प हेल्दी रहते हैं.
  1. एलोवीरा जेल को स्काल्प में अप्लाई करें. 15 मिनट बाद शैंपू कर लें. यह नियमित रूप से करें, काफ़ी फ़ायदा होगा. एलोवीरा में एंटी फंगल और एंटी बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज़ होती हैं. यह डेड स्किन सेल्स को भी निकालने में काफ़ी कारगर है. एलोवीरा में हीलिंग प्रॉपर्टीज़ भी होती हैं, तो यह न स़िर्फ स्काल्प को क्लीन करता है, बल्कि उसको हील और सूद भी करता है, जो डैंड्रफ को दूर रखने के लिए परफेक्ट है.
  1. दो टेबलस्पून कालीमिर्च को पीसकर एक कप दही में मिला लें. इस मिश्रण को स्काल्प पर लगाएं. ध्यान रहे कि यह स्काल्प पर ही लगे, बालों पर नहीं. एक घंटे बाद रिंस करके माइल्ड शैंपू से वॉश करें. बॉडी में यीस्ट की मात्रा जब बढ़ जाती है, तो उससे इंफ्लेमेशन बढ़ जाता है. ऐसे में फ्रेंडली बैक्टीरिया इंफ्लेमेशन से लड़ने में सहायक होते हैं. दही इन्हीं हेल्दी बैक्टीरिया को बढ़ाने में मदद करता है, जिससे स्काल्प पर यीस्ट की परत नहीं जमती और डैंड्रफ से छुटकारा मिलता है. जबकि कालीमिर्च एंटीफंगल होती है. दही और कालीमिर्च का मिश्रण डैंड्रफ के लिए बहुत ही प्रभावी उपाय है, लेकिन ध्यान रखें कि दही और कालीमिर्च ताज़ा हो.
  1. नीम के पत्तों को आधा घंटा उबालें. इसका पेस्ट बना लें और स्काल्प पर लगाएं. आधे घंटे बाद बाल धो लें. नीम में एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी फंगल और एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं. वो स्काल्प को हेल्दी रखकर डैंड्रफ की समस्या दूर करने में काफ़ी फ़ायदेमंद है.
  2. दो टेबलस्पून सेब के रस में समान मात्रा में पानी मिलाकर स्काल्प में मसाज करें. 15 मिनट बाद बाल धो लें. डैंड्रफ से हेयर फॉल की समस्या भी होती है, ऐसे में इस प्रयोग का नियमित इस्तेमाल बालों को हेल्दी रखने में बहुत कारगर है. यह ध्यान रहे, कि जूस में पानी बहुत ज़्यादा न मिलाया जाए.
  3. बेसिल लीव्स को पीसकर आंवला पाउडर में मिला लें. इस पेस्ट को बालों में लगाएं. आधे घंटे बाद शैंपू कर लें. यह स्काल्प को हेल्दी बनाकर उसका स्ट्रेंथ बढ़ाते हैं और अपने एंटी फंगल व एंटी बैक्टीरियल गुणों के लिए जाने जाते हैं. आंवला पाउडर और बेसिल लीव्स डैंड्रफ को दूर करने के साथ-साथ स्काल्प को भी हेल्दी रखते हैं.

यह भी पढ़ें: शिल्पा शेट्टी, कंगना रनौत, सोनम कपूर… जानें इनके ख़ूबसूरत बालों का राज़

कम्प्लीट हेयर केयर गाइड, Beauty, Complete Hair Care Guide

अगर हेयर फॉल हो, तो ये मास्क आज़माएं
  1. एक प्याज़ का रस निकालकर स्काल्प में लगाएं. आधे घंटे बाद शैंपू कर लें.
  • 3 टेबलस्पून प्याज़ के रस में 2 टेबलस्पून एलोवीरा जेल और 1 टेबलस्पून ऑलिव ऑयल मिलाएं. इसे स्काल्प में लगाकर आधे घंटे बाद शैंपू कर लें. प्याज़ के रस में सल्फर होता है, जो बालों का झड़ना कम करता है, क्योंकि यह हेयर फॉलिकल्स में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ाता है, हेयर फॉलिकल्स का पुनर्निर्माण भी करता है और इंफ्लेमेशन को भी कम करता है. प्याज़ के रस में मौजूद एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज़ के चलते यह कीटाणु और जीवाणुओं को ख़त्म करके स्काल्प को इंफेक्शन से बचाता है.
  1. एलोवीरा जूस या पल्प को स्काल्प पर कुछ घंटों तक लगाकर रखें. गुनगुने पानी से बाल धो लें. यह हफ़्ते में 3-4 बार करें.
  •  रोज़ाना सुबह खाली पेट 1 टेबलस्पून एलोवीरा जूस पीने से भी बाल हेल्दी रहते हैं. एलोवीरा में जो एंज़ाइम्स होती हैं, वो हेल्दी हेयर ग्रोथ के लिए बहुत फ़ायदेमंद हैं. साथ ही यह स्काल्प का पीएच बैलेंस भी बनाए रखता है, जिससे बालों का झड़ना कम होता है.
  1. कोकोनट मिल्क से स्काल्प मसाज करके 20 मिनट बाद बाल धो लें. चाहें, तो इसमें कालीमिर्च पाउडर और मेथी पाउडर भी मिला सकते हैं. कोकोनट मिल्क प्रोटीन और एसेंशियल फैट्स से भरपूर होता है, जो बालों का झड़ना कम करके बालों को मज़बूत बनाता है.
  2. हेयर फॉल और हेयर लॉस से निपटने के लिए रोज़ सुबह 1 टेबलस्पून फ्लैक्ससीड पाउडर को पानी के साथ लें. आप चाहें, तो फ्लैक्ससीड को सलाद, दही या किसी भी चीज़ में मिलाकर ले सकते हैं.
  •  फ्लैक्ससीड ऑयल से बालों में मसाज करने से भी बालों का झड़ना कम होता है. फ्लैक्ससीड्स ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर होती हैं. ओमेगा-3 फैटी एसिड्स हेयर फॉल को रोककर हेयर ग्रोथ में मददगार होते हैं.
  1. एक कप मेथी के बीज को रातभर पानी में भिगोकर रखें. सुबह पीसकर पेस्ट बना लें. बालों में लगाकर शावर कैप से कवर कर लें. 40 मिनट बाद बाल धो लें. यह उपाय रोज़ाना 1 महीने तक करें. मेथी में एंटीसीडेंट्स नाम का हार्मोन होता है, जो हेयर फॉलिकल्स के निर्माण में मदद करता है और बालों को स्ट्रॉन्ग बनाता है. मेथी में प्रोटीन और निकोटिनिक एसिड भी होता है, जो हेयर ग्रोथ की प्रक्रिया को तेज़ करते हैं.

कम्प्लीट हेयर केयर गाइड, Beauty, Complete Hair Care Guide

अगर ड्राई हेयर की समस्या है, तो ये उपाय आज़माएं
  1. एक एस्पिरिन टैबलेट को पाउडर करके थोड़े-से शैंपू में मिक्स कर लें और फिर शैंपू करें. यह उपाय दो हफ़्ते में एक बार कर सकते हैं. एस्पिरिन में मौजूद सैलिसिलिक एसिड बालों से गंदगी हटाकर शाइन वापस लाता है.
  2. थोड़े-से शैंपू में एक अंडा मिलाकर बालों में लगाएं. 5 मिनट बाद धो लें. अंडे में मौजूद प्रोटीन बालों को हेल्दी व शाइनी बनाता है.
  3. एवोकैडो को मैश करके एक अंडे में मिक्स करके गीले बालों में लगाएं. 20 मिनट बाद धो लें. यह उपाय हफ़्ते में एक बार करें. एवोकैडो विटामिन्स, मिनरल्स और एसेंशियल फैटी एसिड्स से भरपूर होता है, जो बालों की खोई चमक लौटाने में मदद करते हैं.
  4. आधा कप पानी में 1 टेबलस्पून विनेगर मिक्स करके गीले बालों पर डालें. बालों को कोम्ब करें और 5 मिनट बाद रिंस कर लें. विनेगर में मौजूद एसिड बालों की बाहरी परत को सील कर देता है. यह हेयर क्यूटिकल्स को क्लीन करके बालों को स्मूद करता है.
  5. एक टीस्पून मेहंदी में समान मात्रा में आंवला पाउडर, टी पाउडर, नींबू का रस और हेयर ऑयल मिलाएं. स्काल्प में इसे अप्लाई करें और कुछ देर बाद शैंपू कर लें. मेहंदी में केराटीन को बाइंड करने की क्षमता होती है, जिससे वो बालों पर एक सुरक्षा कवच चढ़ा देती है. यह स्काल्प के चिपचिपेपन को ख़त्म करने कंडीशनर का काम करती है और डैंड्रफ को दूर करती है. बालों को कंडीशन करके उनमें शाइन और बाउंस भी लाती है.यह भी पढ़ें: घर पर शैम्पू कैसे बनाएं: सीखें 10 प्रकार के घरेलू हर्बल शैम्पू बनाने की विधि 

कम्प्लीट हेयर केयर गाइड, Beauty, Complete Hair Care Guide

जनरल टिप्स…
  • स्ट्रॉन्ग व हार्श केमिकल्स के प्रयोग से बचें. इनसे बाल कमज़ोर होकर टूटने-झड़ने लगते हैं.
  • बालों को नेचुरली सूखने दें. हेयर ड्रायर का इस्तेमाल कम करें. इससे भी बाल कमज़ोर होते हैं
  • बालों की स्टाइलिंग ऐसी न हो, जिससे वो टूटें या कमज़ोर हों.
  • बहुत ज़्यादा स्टाइलिंग प्रोडक्ट्स का भी प्रयोग न करें.
  • अच्छा शैंपू यूज़ करें. अपने बालों के टाइप के अनुसार शैंपू सिलेक्ट करें.
  • शैंपू करना ही काफ़ी नहीं, कंडीशनर का प्रयोग भी करें.
  • बाहर जाते समय बालों को धूप से बचाने के लिए स्कार्फ बांधें या छतरी लें.
  • रेग्युलर ऑयल मसाज करें. स्काल्प मसाज से ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है और बाल हेल्दी होते हैं.
  • बीटरूट के पत्तों को उबालकर पीस लें और मेहंदी के साथ मिक्स करके पेस्ट बना लें. 15-20 मिनट तक बालों में लगाकर रखें, फिर धो लें. यह उपाय हफ़्ते में 3-4 बार करें.
  • बीटरूट जूस को अपने डायट में शामिल करें. बीटरूट के अलावा आप गाजर व पालक का जूस भी अपने डायट में शामिल करें. बीटरूट जूस में कार्बोहाइड्रेट्स, प्रोटीन, फॉसफोरस, कैल्शियम और विटामिन बी व सी होता है, जो बालों के हेल्दी ग्रोथ के लिए ज़रूरी है.
  • बालों को नियमित रूप से ट्रिम करवाती रहें, ताकि दोमुंहे बालों की समस्या से बचा जा सके.
  • अगर बालों से संबंधित कोई भी समस्या हो, तो एक्सपर्ट से सलाह लें.
  • हेल्दी डायट भी हेल्दी बालों के लिए बहुत ज़रूरी है. प्रोटीनयुक्त डायट लें.

– कमलेश शर्मा

 

हिस्ट्री में पहली बार- बाल काटते ही जीता मैच (she cuts her hair and won the match)

cuts her hair

methode-times-prod-web-bin-529d8832-9a00-11e6-b375-620558266136

टेनिस को स्पोर्ट्स जगत का सबसे ग्लैमरस खेल माना जाता है और यह सच भी है. यहां प्लेयर अपने खेल के साथ-साथ अपने लुक्स का भी पूरा ध्यान रखते हैं. स्टेडियम में बैठकर मैच देखनेवाले हों या टीवी पर सभी को ये प्लेयर बड़ी ही आसानी से आकर्षित करते हैं. खेल और आकर्षण का मिश्रण टेनिस गेम के इतिहास में कुछ ऐसा हुआ, जो पहले कभी नहीं हुआ. आप सोच भी नहीं सकते कि इस तरह की घटना कभी हो भी सकती है.

डब्ल्यूटीए फाइनल्स में खेले गए अपने मुकाबले में जीत हासिल करने के लिए उत्सुक रूस की महिला टेनिस खिलाड़ी स्वेतलाना कुजनेत्सोवा ने अपनी चोटी को ही काट दिया. फाइनल खेलना और जीतना अपने आप में एक प्रेशर की तरह होता है. एग्निएस्का रदवांस्का के साथ चल रहे इस फाइनल मैच में कुजनेत्सोवा ने ने बड़ी ही मशक़्क्क़त के साथ पहला सेट जीता, लेकिन रदवांस्का ने दूसरा सेट सीधे सेट में कुजनेत्सोवा को हरा दिया. दूसरा सेट हारने के बाद कुजनेत्सोवा को बर्दाश्त नहीं हुआ और उन्होंने अंपायर से इजाज़त लेकर कोर्ट पर ही एक कैंची मंगवाई और अपने सुनहरे बालों को काट दिया. यह देखकर कोर्ट पर मौजूद सभी लोग आश्‍चर्य से कुजनेत्सोवा को देखने लगे, लेकिन कुजनेत्सोवा के चेहरे पर किसी तरह के भाव नहीं थे. बड़ी ही आसानी से उन्होंने अपने बाल काटे और फिर तीसरे सेट का मैच शुरू कर दिया.

देखिए कैसे काटा कुजनेत्सोवा ने अपने बाल? एक नज़र इस वीडियो पर.

बाल काटते ही जीता मैच
आपको जानकर हैरानी होगी कि बाल काटने के बाद कोर्ट पर वापसी करते हुए कुजनेत्सोवा ने मैच में वापसी की और तीसरा सेट जीतने के साथ ही ट्रॉफी पर अपना हक़ जमाया. लगता है कुजनेत्सोवा को पहले ही अंदर से यह फील हो गया था कि उनके बाल ही उनेक दुश्मन हैं. तभी तो बाल काटते ही वो जीत गईं.

कैंची देखकर क्या डर गई थीं रदवांस्का?
चलते मैच के बीच मेडिकल ट्रीटमेंट लेना, तो सभी जानते हैं, लेकिन जब कुजनेत्सोवा ने अंपायर से कैंची मांगी, तो स़िर्फ अंपायर ही नहीं, बल्कि कुजनेत्सोवा की विरोधी खिलाड़ी रदवांस्का भी हैरान रह गईं. कोर्ट पर मौजूद सभी लोग हैरानी से देख रहे थे. अंपायर ने कैंची मांगने की बात की स्वीकृति रदवांस्का भी ली. रदवांस्का ने हामी भर दी. पोस्ट मैच के बाद दिए गए इंटरव्यू में रदवांस्का ने कहा कि उन्हें डर तो नहीं लगा, लेकिन हां, इस घटना का उन्हें ज़रा भी अंदेशा नहीं था.

बाल काटने के बाद क्या कहा कुजनेत्सोवा ने?
खेल के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में कुजनेत्सोवा ने कहा, हर बार अच्छा शॉट लगाने के बाद मेरी चोटी बार-बार मेरी आंखों पर आ जाती. इससे मुझे परेशानी होने लगी. तब मैंने सोचा कि आख़िर इस समय मेरे लिए क्या ज़रूरी है- मेरे बाल या मैच? तब मैंने निर्णय लिया किया कि बाल तो बढ़ सकते हैं, लेकिन मैच… मैंने बहुत ज़्यादा नहीं सोचा इसके बारे में और अपने बाल काट दिए. मुझे कोर्ट पर अच्छा प्रदर्शन करना था. सच कहूं तो मुझे भी नहीं पता कि मैंने कितने बाल काटे.

कोर्ट पर बाल काटकर कुजनेत्सोवा ने यह तो बता ही दिया है कि खेल के बीच वो किसी ऐसी चीज़ को बर्दाश्त नहीं करेंगी, जो खेल में बाधा सिद्ध होगी. इसके अलावा उन्होंने अपने प्रतिद्वंदियों को यह भी दर्शा दिया है कि उनके लिए खेल ज़्यादा मायने रखता है, न कि खेल के दौरान लुक्स.

 

डिफरेंट स्ट्रोक्स…

कोई गुलाब खिला हो जैसे कहीं, कोई ख़्वाब सजा हो जैसे कहीं… कोई कंवल महका हो जैसे कहीं, कोई गुलमोहर बिखरा हो जैसे कहीं… रंग भी हैं और नूर भी… तेरे हुस्न के हर पहलू में चाहत भी है और सुरूर भी… लबों की नर्मी में गुलों का बसेरा है, आंखों के काजल में मखमली अंधेरा है… रुख़सार पर आफ़ताब का सवेरा है,  ज़ुल्फ़ों में महकती ख़ुशबू का डेरा है…

1

अलग-अलग पार्टी के लिए अलग-अलग लुक ट्राई करें और अपने अंदाज़ को दें डिफरेंट स्ट्रोक्स.
स्टारी लुक

टूटे चंद सितारे तेरे हुस्न की कैद में आने के लिए… कुछ पलकों पर बिखर गए, कुछ होंठों पर सिमट गए, तो कुछ अब भी बेक़रार हैं तेरे नूर में समाने के लिए…

5

–  पार्टी में जाना है, तो अपने लुक को अट्रैक्टिव बनाना ही पड़ेगा.
– ग्लैमरस लुक के लिए स्किन पर टिंटेड मॉइश्‍चराइज़र अप्लाई करें.
– आंखों को हाईलाइट करने के लिए आई मेकअप पर ध्यान दें.
– आजकल ब्लू कलर फैशन में है, तो ब्लू आईलाइनर औैर डार्क ब्लू आईशैडो अप्लाई करें.
–  आंखों के इनर कॉर्नर पर व्हाइट शैडो अप्लाई करें.
–  ब्लू आईशैडो को स्मज करें और अपने लुक को कंप्लीट करने के लिए स्टार शेप्ड स्टोन्स या ग्लिटर्स अप्लाई करें.

ब्लू आईज़

बिन बोले ही बहुत कुछ बोलती हैं तेरी आंखें… कभी फूलों में रंग, तो कभी रंगों में शोख़ियां घोलती हैं तेरी आंखें…

2

– अपने पार्टी लुक को थोड़ा सॉफिस्टिकेटेड बनाने के लिए लिप मेकअप को सटल रखें और आई मेकअप को मैट फिनिश दें.
– फेस को नेचुरल लुक देने के लिए फाउंडेशन, कंसीलर और कॉम्पैक्ट लगाएं.
– लिप बाम लगाकर लाइट शेड का लिप कलर अप्लाई करें.
– आंखों को डार्क ब्लू कलर से स्मोकी लुक दें. आईशैडो ग्लिटरी न हो, बल्कि मैट हो, ताकि आपका लुक एकदम डिफरेंट लगे.
– ब्लू कलर के साथ ब्लैक भी मिक्स करें, ताकि परफेक्ट स्मोकी आई लुक मिले.

डार्क लिप्स

तुम्हारे लबों पर मुहब्बत लिखा था मैंने और उस मुहब्बत में रंग तुमने भरे थे… मेरी नज़रों से गुज़रे थे जो रंगीन ख़्वाब, वो तुम्हारी ही पलकों पर सजे थे…

4

– हॉट लुक के लिए बेहद ज़रूरी है कि आपका लिप मेकअप भी हो एकदम हॉट.
– हॉट लुक पाने के लिए मेकअप भी स्पाइसी होना चाहिए और आजकल डार्क लिप कलर्स इन हैं, तो आपके लिए यह लुक पाना और भी आसान है.
– चाहे पर्पल हो, रेड हो या फिर हो ब्लैकिश मरून… अपने होंठों को इन रंगों से सजाकर आप हो जाएंगी एकदम पार्टी रेडी.
– बेहतर होगा कि ग्लॉसी लिप कलर अप्लाई करें या फिर मैट पर ग्लॉस अप्लाई करें.
– आई मेकअप बहुत ज़्यादा हाईलाइट न करें या फिर मैचिंग कलर का ही आईशैडो लगाएं.

हेयर स्टाइल

रेशमी हैं ये राहें मुहब्बत की, तू चांद है मेरी रातों का और तेरी ज़ुल़्फें हैं पनाहगाह इन घटाओं की…

3

–  पार्टी में डिफरेंट नज़र आना चाहती हैं, तो हेयर स्टाइल भी  डिफरेंट होनी चाहिए.
– आगे-पीछे से बालों का सेक्शन  छोड़कर बाकी के बालों का बन बना लें.
–  आगे-पीछे के बालों के छोटे-छोटे सेक्शन लेकर रिंग्स बनाकर बन पर पिनअप कर लें.

– गीता शर्मा

क्विक मेकअप आइडियाज़

मेकअप आइडियाज़

 

shutterstock_254940538

– यदि आई मेकअप नहीं करना चाहतीं या समय नहीं है, तो आई लैशेज को कर्ल कर लें और मस्कारा लगा लें. आंखों को आकर्षक लुक देने का ये सबसे आसान और क्विक तरीक़ा है.

–  आंखों के मेकअप के लिए ज़्यादा व़क़्त न हो, तो ब्राउन आईशैडो का एकदम डार्क शेड लें और आईलिड पर ब्रश की सहायता से स्मज करें. ख़ूब सारा मस्कारा लगाएं और निचले लिड पर काजल लगाएं.

परफेक्ट मेकअप ट्रिक्स

2

– मेकअप करने से पहले अपनी स्किन पर 5-10 मिनट तक ब़र्फ रब कर लें. इसके बाद मेकअप करने से वो ़ज़्यादा देर तक टिकता है.

–  क्लीन-मॉइश्‍चराइ़ज़्ड स्किन से शुरू करें.

– फुल फेस कवरेज के लिए सबसे पहले माथे, नाक, ठोड़ी और गालों पर फाउंडेशन के डॉट्स लगाकर उंगलियों के पोरों से ब्लेंड करें. अब थोड़ा फाउंडेशन लगाएं.

–  आजकल सांवली रंगत के लिए कई सारे फाउंडेशन, कंसीलर और पाउडर मार्केट में उपलब्ध हैं, लेकिन इसमें ज़्यादातर ऑरेंज टोन होता है. इसलिए इनसे बचें. इसकी बजाय डीप यलो या रिच गोल्डन टोन वाले फाउंडेशन का चुनाव करें.

– इसी तरह फेयर कॉम्प्लेक्शनवालों को हैवी फाउंडेशन से बचना चाहिए. टिंटेड मॉइश्‍चराइज़र और शीयर फाउंडेशन आपको नेचुरल लुक देंगे.

– अपनी उंगलियों से धीरे-धीरे थपथपाते हुए फाउंडेशन को ब्लेंड करें. अगर चाहें तो गीले स्पॉन्ज से इसे और अच्छी तरह ब्लेंड कर सकती हैं.

– आईशैडो के बेस के तौर पर आईलिड पर भी फाउंडेशन अप्लाई करें.

– कोई दाग़-धब्बे नज़र आएं, तो कंसीलर से उन्हें कवर करें.

– फाउंडेशन से कॉम्प्लीमेंट करता ट्रांस्लुसेंट पाउडर अप्लाई करें. एक बड़े राउंड ब्रश से थोड़ा-सा ट्रांस्लुसेंट पाउडर डस्ट करें. मैट फिनिश के लिए हल्का-सा पाउडर पफ लगाएं.

– टचअप के लिए एक स्टिक फाउंडेशन साथ में रखें, जो आसानी से आपके मेकअप को फ्रेश टचअप देने के लिए काफ़ी है. बहुत ज़्यादा पाउडर के इस्तेमाल  से बचें.

पोनीटेल ट्विस्ट

4

– पोनी अब सिंपल हेयर लुक नहीं रह गया है. पोनी भी नए ग्लैमरस व वेरायटी मेकओवर के साथ फैशन वर्ल्ड का हिस्सा बन चुका है.

– बबल पोनीटेल ट्राई करें. इसके लिए पहले पोनी बांधें. फिर थोड़ी-थोड़ी दूरी पर रबर बैंड बांधते जाएं.

– लो पोनी बांधकर उसे मेटल थ्रेड से अच्छे से रैप कर दें.

– पोनी से बालों का एक सेक्शन लेकर उसे पोनी पर रैप करें. ये भी डिफरेंट लुक देगा.

– पोनी बांधें. अब उसे हल्का-सा पफ लुक देते हुए थोड़ी दूरी पर एक रबर बैंड और बांधें.

– सेंटर पार्टिंग करके दोनों कानों के पास दो पोनी बांधें और बालों का सेक्शन लेकर दोनों पोनी पर रैप कर दें.

– रोल्ड पोनीटेल ट्राई करें. साइड पोनी बनाकर रिबन से उसे रैप करें या पोनी के दो सेक्शन करके उन्हें आपस में ट्विस्ट करके ट्विस्टेड पोनी बनाएं.

– श्रेया तिवारी

ब्यूटी बेसिक्स

हसीं हो तुम, हो मेरे लिए ख़ुदा भी तुम… मुहब्बत की ज़मीं भी तुम, ख़्वाबों का आसमान भी तुम… तुम ही मेरा सुकुन, तुम ही मेरा जुनून… नाज़ो-अंदाज़ के तुम्हारे क्या कहना… गुले-गुलज़ार हो या दिल का नगीना… बहुत ख़ूब लगते हैं ये जलवे तुम्हारे… पूछते हैं सभी कि कहां से आई है ये कमसिन हसीना…

 

 

 

1

ख़ूबसूरती का क़ायल तो हर दिल होता है, ऐसे में अगर कुछ छोटी-छोटी बातों और बेसिक चीज़ों का ख़्याल रखा जाए, तो आपके लिए भी ख़ूबसूरत बने रहना मुश्किल नहीं होगा. तो देर किस बात की, इन ब्यूटी बेसिक्स को समझिए और अपने ब्यूटी रूटीन में शामिल कर लीजिए.

बिना रिमूवर के नेलपेंट रिमूव कैसे करें: अगर नेल पेंट रिमूवर ख़त्म हो गया और आपको नेलपेंट रिमूव करनी है, तो सबसे आसान तरीक़ा है कि एक कोट नेलपेंट लगाकर फ़ौरन कॉटन से रिमूव करें. इससे पुरानी नेल पॉलिश भी निकल जाएगी.

सप्लीमेंट्स लेना बंद करें: अच्छी स्किन और बालों की चाह में अक्सर लोग सप्लीमेंट्स का सहारा लेते हैं, लेकिन बिना डॉक्टरी सलाह के यह ख़तरनाक हो सकता है. कुछ तरह के विटामिन्स और मिनरल्स को मिक्स करने पर उनका विपरीत प्रभाव भी पड़ सकता है.

बहुत ज़्यादा रोज़ी चीक्स से बचें: गालों पर बिखरी गुलाबी आभा ख़ूबसूरती को और बढ़ा देगी, लेकिन अगर यह बहुत ज़्यादा हो जाए, तो आर्टिफिशियल लुक मिलेगा. ब्लश हमेशा ही सोच-समझकर लगाएं. दो उंगलियों जितनी चौड़ाई रखें, नाक से दूर और स़िर्फ गालों के उभार पर ही अप्लाई करें. इससे नेचुरल लुक मिलेगा.

ऑयली स्किन से छुटकारा पाएं: चेहरे पर ऑयल आ जाने पर ब्लॉटिंग पेपर का इस्तेमाल करें. इससे सारा एक्सट्रा ऑयल तो वो सोख ही लेगा, साथ ही ऑयल सेक्रिशन को भी कम करेगा.

शेविंग करने का सही तरीक़ा अपनाएं: जब भी अनचाहे बालों से छुटकारा पाने के लिए शेव करना हो, तो कुछ देर तक गुनगुने पानी से स्किन को वॉश करें. इससे फॉलिकल्स खुल जाते हैं और शेव अच्छी व आसान होती है. इसके अलावा शेविंग के बाद होनेवाली जलन व लालिमा भी नहीं होती.

हेयर लिफ्ट के लिए: ब्लो ड्राय करने से पहले बालों की जड़ों में वॉल्युमाइज़िंग स्प्रे लगाएं.

अपना शेड पहचानें: जब भी फाउंडेशन सिलेक्ट करना हो, तो उसे जॉ लाइन के पास की स्किन पर ही अप्लाई करके देखें और वो भी नेचुरल लाइट में. आपके चेहरे की स्किन टोन आपकी गर्दन की नेचुरल स्किन टोन से बहुत ज़्यादा अलग नहीं होनी चाहिए.

रोज़ाना एक्सफॉलिएट करें: इससे डेड स्किन निकल जाती है और फ्रेशनेस आती है. आप रोज़ाना धूल-मिट्टी को सहते हैं, तो ऐसे में रोज़ाना एक्सफॉलिएट करना भी ज़रूरी है. लेकिन यह बहुत ही माइल्ड होना चाहिए. आजकल बहुत से माइल्ड स्क्रब या ऐसे फेश वॉश भी उपलब्ध हैं, जो एक्सफॉलिएट भी करते हैं. इन्हें यूज़ करें.

बालों के कर्ल्स को बाउंस दें: अगर आपके बालों में नेचुरल कर्ल्स हैं, तो उन्हें कभी भी हेयर ब्रश से ब्रश न करें. बेहतर होगा कि उंगलियों से ही सुलझाएं, इससे उन्हें बाउंस मिलेगा.

3

ब्यूटी लेबल्स के दावों पर न जाएं: अगर कोई प्रोडक्ट यह दावा करता है कि वो आपको इंस्टेंट ग्लो या गोरापन देगा या फिर पूरा दिन सन प्रोटेक्शन का दावा करता है, तो ज़रूरी नहीं कि सच में वो ऐसा करिश्मा कर दिखाएगा. इसलिए स्किन प्रोडक्ट्स में बहुत ज़्यादा एक्सपेरिमेंट न करके वही यूज़ करें, जो आपको सूट करता हो.

फुलर लिप्स क्रिएट करें: अगर आपके लिप्स पतले हैं और आप उन्हें फुल और सेक्सी दिखाना चाहती हैं, तो न्यूट्रल टोन की लिप लाइनर पेंसिल से लिप्स की नेचुरल लाइन से बाहर लाइन ड्रॉ करें. लिपस्टिक अप्लाई करें. यहां यह ध्यान रखें कि आउटलाइन नेचुरल लाइन बहुत ज़्यादा भी बाहर न हो. चाहें तो लिपग्लॉस अप्लाई करें या फिर ग्लास का एक डॉट सेंटर में लगाएं. यह सेक्सी लुक देगा.

अपने हेयरकलर को फेड होने से बचाएं: हेयरकलर जब फेड होने लगता है, तो वो बहुत भद्दा लगने लगता है. इससे बचने के लिए महीने में एक बार डीप कंडीशनिंग ट्रीटमेंट करवाएं. इससे कलर लॉक हो जाएगा और बाल भी ड्राई व डैमेज होने से बचेंगे.

फेक आईलैशेज़ पर भी मस्कारा लगाएं: इससे नकली आईलैशेज़ आपके नेचुरल लैशेज़ के साथ ब्लेंड होकर नेचुरल लुक देंगे और आंखें सुंदर नज़र आएंगी.

पेडिक्योर का ख़र्चा कम करें: अगर आप रोज़ाना अपने पैरों की नियमित देखभाल करेंगी, तो पार्लर में जाकर पेडिक्योर की ज़रूरत नहीं पड़ेगी. रोज़ाना नहाते समय एड़ियों को स्क्रब करें और नहाने के बाद पैरों पर मॉइश्‍चराइज़िंग क्रीम अप्लाई करें. इससे आपके पैर लंबे समय तक सुंदर बने रहेंगे और पेडिक्योर कम करना पड़ेगा.

आईशैडो प्राइमर का सही एप्लीकेशन: मेकअप को लॉक करने में प्राइमर भले ही मदद करता है, लेकिन जिन हिस्सों पर आप कलर या मेकअप अप्लाई नहीं करने जा रही हों और वहां प्राइमर का ज़्यादा इस्तेमाल करेंगी, तो पूरा ध्यान प्राइमर पर ही जाएगा और आपको अपना मनचाहा लुक नहीं मिलेगा. दरअसल मेकअप शेड्स के मुकाबले प्राइमर का टोन अधिक ब्राइट होता है.

सेक्सी रेड

सॉफ्ट स्किन के लिए: नहाने के फ़ौरन बाद या अगर कभी बीच व पूल पर भी गई हों, तब भी पानी से बाहर निकलते ही स्किन पर कोई मॉइश्‍चराइज़िंग क्रीम या लोशन ज़रूर लगाएं, क्योंकि पानी से स्किन के नेचुरल ऑयल धुल जाते हैं. ऐसे में नमी बरक़रार रखने और स्किन को ड्राई होने से बचाने केलिए क्रीम लगाना बेहद ज़रूरी है.

क्लैरिफाई शैंपू: हफ़्ते में एक बार क्लैरिफाइंग शैंपू का इस्तेमाल ज़रूर करें. इससे डैंड्रफ, केमिकल्स से जमा हुआ वेस्ट निकल जाएगा और बालों की शाइन वापस आएगी. स्काल्प को भी यह हेल्दी रखता है.

क्यूटिकल्स पर आई क्रीम अप्लाई करें: अलग से क्यूटिकल क्रीम ख़रीदने की बजाय ड्राई क्यूटिकल्स पर आई क्रीम लगाएं. यह उन्हें हाइड्रेट व मॉइश्‍चाइज़ करेगी.

ब्रॉन्ज़र का एप्लीकेशन सही रखें: अप्लाई करने से पहले दो-तीन बूंदें मॉइश्‍चराइज़िंग लोशन की मिक्स करके ब्लेंड करें और फिर ब्रॉन्ज़र को अप्लाई करें. इससे वो स्किन में अच्छी तरह से ब्लेंड हो जाएगा और स्किन को क्लीन लुक भी मिलेगा.

स्प्लिट एंड्स से छुटकारा: दोमुंहे बाल अक्सर पूरा लुक ख़राब कर देते हैं. इन्हें छिपाने का कारगर तरीक़ा है कि बालों को आयरन करने या ब्लो ड्राई से पहले भी और बाद में भी हैवी हेयर रिपेयर क्रीम लगाएं. इससे मॉइश्‍चर लॉक हो जाएगा और दोमुंहे बाल नज़र नहीं आएंगे.

ब्यूटी रूटीन बदलें: हमारा शरीर ख़ुद-ब-ख़ुद समय व मौसम को देखते हुए बदलाव की डिमांड करता है. ऐसे में मौसम को देखते हुए अपने ब्यूटी रूटीन को प्लान करें, जैसे- सर्दियों में ज़्यादा मॉइश्‍चराइज़िंग क्रीम व लोशन्स अपनी ब्यूटी लिस्ट में शामिल कर लें और गर्मियों में एसपीएफ का इस्तेमाल ज़रूर करें.

ग्रीसी बालों के लिए: कंडीशनर को बालों की जड़ों में अप्लाई न करें. बेहतर होगा कि आप बालों के सिरों पर हैवी मॉइश्‍चराइज़िंग क्रीम लगाएं.

ऑयली स्किन पर भी ऑयल अप्लाई करना ज़रूरी है: यह ज़रा अजीब-सा लगेगा, लेकिन स्किन क्लींज़िंग के लिए या मेकअप रिमूव करने के लिए भी ऑयल बेस्ड प्रोडक्ट के इस्तेमाल से आपकी नेचुरल स्किन और अच्छी बनेगी. ओवर क्लींनिंग से तेल-ग्रंथियां ज़्यादा तेल का निर्माण करने लगती हैं, जिससे स्किन और ऑयली हो सकती है.

6

फ्लेकी मस्कारा: अक्सर मस्कारा अप्लाई करने पर यह डर बना रहता है कि वो सूखने के बाद चेहरे पर यहां-वहां बिखर जाता है. दरअसल यह सिग्नल है कि मस्कारा या तो पुराना हो गया या फिर आप उसे यूज़ करने के बाद सील पैक नहीं करतीं. हमेशा उसका कैप टाइट बंद करें, ताकि वो ज़्यादा समय तक चले और बिखरे भी नहीं.

पिंपल्स से आसान छुटकारा: आप माने या न माने, लेकिन यह सच है कि पिंपल्स पर टूथपेस्ट लगाने से वो जल्दी सूखते हैं.

सेक्सी चीकबोन के लिए: अपनी चीकबोन को और उभार व शेप देने के लिए ब्रॉन्ज़र सीधे-सीधे चीकबोन के नीचे अप्लाई करें. चाहें तो चीकबोन पर हाईलाइटर का इस्तेमाल भी कर सकती हैं.

मेकअप टूल्स साफ़ रखें व समय पर बदलें: चाहे रेज़र हो या मेकअप ब्रश इस्तेमाल के कुछ समय बाद ही उनमें बैक्टिरिया पनपने लगते हैं, ऐसे में यदि उन्हें नियमित रूप से साफ़ नहीं किया गया या बदला नहीं गया, तो स्किन इंफेक्शन या त्वचा संबंधी अन्या समस्या हो सकती है.

लॉक इट: क्रीम बेस्ड प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते समय, चाहे लिपस्टिक हो या फाउंडेशन, ड्राई फेस पाउडर ऊपर से अप्लाई करें. इससे मेकअप या आपका लुक लॉक हो जाएगा. यही बात ब्लश पर भी लागू होती है. क्रीम ब्लश के बाद पाउडर ब्लश उस पर अप्लाई करें.

ब्यूटी प्रोडक्ट्स को नियमित रूप से बदलते रहें: जिस तरह मेकअप टूल्स पर बैक्टिरिया जमा हो जाते हैं, उसी तरह बार-बार इस्तेमाल करने से मेकअप प्रोडक्ट्स पर भी वो इकट्ठा हो जाते हैं. इसलिए लंबे समय तक उन्हें इस्तेमाल न करें. उनकी शेल्फ लाइफ को ध्यान में रखते हुए समय पर बदल दें.

बालों को करें डिटॉक्सीफाई

kajol_2_1410330239_640x640

बालों को डैमेज करनेवाली आम वजहें

– बालों को भी सही देखभाल की ज़रूरत होती है. इसमें लापरवाही बालों को नुक़सान पहुंचा सकती है.

– हेयर वॉश के बाद भी हेयर प्रोडक्ट बालों में ही रह जाते हैं, जो बालों को डैमेज करने की वजह बनते हैं. इसलिए अच्छी तरह वॉश करें.

– पॉल्यूशन और धूल-मिट्टी से भी बालों को नुक़सान पहुंचता है.

– बालों में केमिकल बेस्ड प्रोडक्ट और टूल्स का इस्तेमाल करने से बचें.

– बालों को डिटॉक्सीफाई करें. इससे आपके बाल प्रॉब्लम फ्री रहेंगे.

1

कैसे करें डिटॉक्सीफाई?

स्काल्प को क्लीन रखेंः हफ़्ते में दो-तीन बार हेयर वॉश करें. केमिकल फ्री शैंपू का इस्तेमाल करें. इसके अलावा शैंपू सीधे स्काल्प में न लगाएं. जड़ों से लगाना शुरू करें और फिर बालों में लगाएं. अच्छी तरह वॉश करें.

बालों को टूल्स से दूर रखेंः यानी हॉट आयरनिंग, कर्लिंग या ब्लो ड्राई से बचें. ये बालों को नुक़सान पहुंचाते हैं. बहुत ज़रूरी हो तभी इनका इस्तेमाल करें, वो भी मीडियम हीट पर.

मॉइश्‍चराइज़ करेंः बालों को भी मॉइश्‍चराइज़र की ज़रूरत होती है. इसलिए हेयर वॉश से पहले बालों को मॉइश्‍चराइज़ ज़रूर करें. इसके लिए बालों में ऑयल मसाज करें और 15 मिनट बाद शैंपू करें. शाइनी हेयर के लिए कैमोमाइल ऑयल, सॉफ्ट हेयर के लिए कोकोनट ऑयल और स्ट्रेट हेयर के लिए जिरेनियम ऑयल यूज़ करें.

हफ़्ते में एक बार डीप ट्रीटमेंट देंः हेयर क्यूटिकल्स केराटिन नामक प्रोटीन सेल्स से बना है, जो बालों की रक्षा करते हैं, लेकिन धूप और प्रदूषण से ये सेल्स प्रभावित होते हैं. इसलिए हफ़्ते में एक बार बालों को डीप प्रोटीन

ट्रीटमेंट दें. इससे बालों को एक्स्ट्रा प्रोटेक्शन मिलेगा.

shutterstock_311683523

एक्स्ट्रा टिप्स

– बेकिंग सोडा बेहतरीन क्लींज़र है. शैंपू में एक टेबलस्पून बेकिंग सोडा मिक्स करके बाल धोएं.

– ऑलिव ऑयल में ऐसे फैटी एसिड्स होते हैं, जो बालों को मॉइश्‍चराइज़ तो करते ही हैं, उन्हें डैमेज से प्रोटेक्ट भी करते हैं. ऑलिव ऑयल गर्म करके बालों में लगाएं. 15-20 मिनट बाद बाल धो लें.

– अंडा एमिनो एसिड और प्रोटीन से भरपूर होता है, जो बालों को शाइन, स्ट्रेंथ और वॉल्यूम देता है. हेयर वॉश से पहले एग हेयर पैक लगाएं.

– 2 टेबलस्पून एप्पल साइडर विनेगर को एक कप पानी में मिलाकर इससे बालों को फाइनल रिंस करें. बालों में ख़ूबसूरत शाइन नज़र आएगी.

 

ड्राय हेयर के लिए होम रेमेडीज़

3

एवोकैडो

एवोकैडो को मैश करके एक अंडे में मिक्स करके गीले बालों में लगाएं. 20 मिनट बाद धो लें. यह उपाय हफ़्ते में एक बार करें.
रिसर्च: एवोकैडो विटामिन्स, मिनरल्स और एसेंशियल फैटी एसिड्स से भरपूर होता है, जो बालों की खोई चमक लौटाने में मदद करते हैं.

एग शैंपू

थोड़े से शैंपू में एक अंडा मिलाकर बालों में लगाएं. 5 मिनट बाद धो लें.
रिसर्च: अंडे में मौजूद प्रोटीन बालों को हेल्दी व शाइनी बनाता है.

कोकोनट ऑयल

1 टेबलस्पून कोकोनट ऑयल को गीले बालों के सिरों पर अप्लाई करें. अगर बाल बहुत ज़्यादा ड्राय हैं, तो तेल को रातभर रहने दें और सुबह शैंपू करें.
रिसर्च: नारियल का तेल बालों की भीतरी परत को पोषण देता है.

एस्पिरिन

एक एस्पिरिन टैबलेट को पाउडर करके थोड़े-से शैंपू में मिक्स कर लें और फिर शैंपू करें. यह उपाय दो हफ़्ते में एक बार कर सकते हैं.
रिसर्च: एस्पिरिन में मौजूद सैलिसिलिक एसिड बालों से गंदगी हटाकर शाइन वापस लाता है.

एप्पल साइडर विनेगर

आधा कप पानी में 1 टेबलस्पून विनेगर मिक्स करके गीले बालों पर डालें. बालों को कोम्ब करें और 5 मिनट बाद रिंस कर लें.
रिसर्च: विनेगर में मौजूद एसिड बालों की बाहरी परत को सील कर देता है. यह हेयर क्यूटिकल्स को क्लीन करके बालों को स्मूद करता है.

दही

आधा कप दही से बालों को मसाज करें और 20 मिनट बाद पहले गुनगुने पानी से, फिर ठंडे पानी से रिंस करके शैंपू कर लें.
रिसर्च: दही में मौजूद लैक्टिक एसिड बालों को क्लीन करता है, जबकि उसमें मौजूद फैट्स बालों को मॉइश्‍चराइज़ करता है.

– विजयलक्ष्मी

डैंड्रफ से छुटकारा पाने की ईज़ी रेसिपीज़

कभी तन्हा से ये मोड़ कुछ सिमट जाते हैं, कभी सूने ये रास्ते गुलज़ार हो जाते हैं… जब तेरी ज़ुल़्फें बिखरती हैं, तो हर लम्हा महक उठता है… हर तरफ़ फूल बिखर जाते हैं… रेशमी रातें कैद होकर इनमें ख़ुद पर इतराती हैं… नर्म उजाले इन्हें छूकर ख़ुद पर गुमान करते हैं… ख़ुशबू के डेरे हैं इनमें, मखमली अंधेरे हैं… गुलों की नर्मी भी है… ये बादल घनेरे हैं…

दही और कालीमिर्च

रिसर्च: बॉडी में यीस्ट की मात्रा जब बढ़ जाती है, तो उससे इंफ्लेमेशन बढ़ जाता है. ऐसे में फ्रेंडली बैक्टीरिया इंफ्लेमेशन से लड़ने में सहायक होते हैं. दही इन्हीं हेल्दी बैक्टीरिया को बढ़ाने में मदद करता है, जिससे स्काल्प पर यीस्ट की परत नहीं जमती और डैंड्रफ से छुटकारा मिलता है. जबकि कालीमिर्च एंटीफंगल होती है.

रेमेडी: 2 टेबलस्पून कालीमिर्च को पीसकर एक कप दही में मिला लें. इस मिश्रण को स्काल्प पर लगाएं. ध्यान रहे कि यह स्काल्प पर ही लगे, बालों पर नहीं. एक घंटे बाद रिंस करके माइल्ड शैंपू से वॉश करें.

फ़ायदा: दही और कालीमिर्च का मिश्रण डैंड्रफ के लिए बहुत ही प्रभावी उपाय है, लेकिन ध्यान रखें कि दही और कालीमिर्च ताज़ा हो.

ऑलिव ऑयल

रिसर्च: ऑलिव ऑयल दो तरी़के से डैंड्रफ को ट्रीट करता है. पहला, यह स्काल्प के ड्राय हिस्से को मॉइश्‍चराइज़ करके पपड़ी नहीं जमने देता. दूसरा, ऑलिव ऑयल पपड़ी की मोटी परत में भी एब्ज़ॉर्ब हो जाता है, जिससे डैंड्रफ की समस्या धीरे-धीरे ख़त्म होने लगती है.

रेमेडी: सोने से पहले रोज़ाना ऑलिव ऑयल को हल्का गर्म करके उससे स्काल्प मसाज करें. बालों को कवर करके सोएं, ताकि धूल-मिट्टी के कण चिपके नहीं. सुबह शैंपू कर लें.

फ़ायदा: ऑलिव ऑयल को गर्म करने पर उसकी कंसिस्टेंसी बेहतर हो जाती है, जिससे वो ड्राय हिस्से को आसानी से ट्रीट कर सकता है.

विनेगर

रिसर्च: विनेगर में स्काल्प के फंगस और बैक्टीरिया को ख़त्म करने की क्षमता होती है. इसके अलावा यह ड्राय स्किन को भी ठीक करता है, इसलिए जो डैंड्रफ फंगस के कारण नहीं होते, उन्हें भी ट्रीट करता है. इसमें मौजूद एसिड खुजली को कम करता है और स्काल्प फ्लेकी स्किन को ठीक करता है.

रेमेडी: विनेगर से स्काल्प मसाज करें. मसाज अच्छी तरह से होनी चाहिए, ताकि स्काल्प में विनेगर एब्ज़ॉर्ब हो सके. आप चाहें, तो एक टेबलस्पून विनेगर को पानी के मग में मिलाकर फाइनल रिंस के लिए इस्तेमाल कर सकती हैं. सबसे बेहतर तरीक़ा है कि पहले दो कप विनेगर को बॉइल कर लें. ठंडा होने पर उसका आठवां भाग 1 कप पानी में मिलाकर शैंपू से पहले बालों में डालें.

फ़ायदा: विनेगर का एसिड उन प्रोडक्ट्स के मुक़ाबले डैंड्रफ को बेहतर तरी़के से ठीक कर सकता है, जो डैंड्रफ ट्रीटमेंट का दावा करते हैं.

बेकिंग सोडा

रिसर्च: बेकिंग सोडा डैंड्रफ पैदा करनेवाले फंगस की क्रियाशीलता को कम करता है. यह माइल्ड स्क्रब भी है, जो स्काल्प की डेड स्किन और अतिरिक्त ऑयल को निकाल देता है.

रेमेडी: अपने शैंपू में 1 टीस्पून बेकिंग सोडा मिलाकर हेयर वॉश करें. सिंगल वॉश से ही डेड स्किन और फ्लेक्स निकल जाएंगे.

फ़ायदा: चूंकि यह डेड स्किन को निकाल देता है, तो स्काल्प नेचुरल ऑयल्स का निर्माण सामान्य रूप से करने लगता है, जिससे बाल व स्काल्प हेल्दी रहते हैं.

नींबू और कोकोनट ऑयल

रिसर्च: डैंड्रफ होने का एक बड़ा कारण होता है स्काल्प के पीएच बैलेंस का असंतुलित होना. नींबू स्काल्प का पीएच बैलेंस बनाए रखने में मदद करता है और नारियल तेल में कंडीशनिंग और एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज़ होती हैं.

रेमेडी: एक भाग नींबू के रस को पांच भाग नारियल के तेल में मिला लें. इससे स्काल्प में मसाज करें और आधे घंटे बाद हेयर वॉश करें.

फ़ायदा: नींबू के रस में जो एसिड होता है, वो डैंड्रफ को दूर रखता है और नारियल तेल के साथ मिलाने पर लाभ कई गुना बढ़ जाता है.
एलोवीरा

रिसर्च: एलोवीरा में एंटीफंगल और एंटी बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज़ होती हैं. यह डेड स्किन सेल्स को भी निकालने में काफ़ी कारगर है.
रेमेडी: एलोवीरा जेल को सकाल्प में अप्लाई करें. 15 मिनट बाद शैंपू कर लें. यह नियमित रूप से करें, काफ़ी फ़ायदा होगा.

फ़ायदा: एलोवीरा में हीलिंग प्रॉपर्टीज़ भी होती हैं, तो यह न स़िर्फ स्काल्प को क्लीन करता है, बल्कि उसको हील और सूद भी करता है, जो डैंड्रफ को दूर रखने के लिए परफेक्ट है.

नीम

रिसर्च: नीम में एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी फंगल और एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं.

रेमेडी: नीम के पत्तों को आधा घंटा उबालें. इसका पेस्ट बना लें और स्काल्प पर लगाएं. आधे घंटे बाद बाल धो लें.

फ़ायदा: नीम के गुणों को सभी जानते हैं, वो स्काल्प को हेल्दी रखकर डैंड्रफ की समस्या दूर करने में काफ़ी फ़ायदेमंद है.

4

सेब

रिसर्च: सेब का बालों से क्या लेना-देना यह सोचकर बहुत लोग हैरान होंगे, लेकिन कच्चे सेब में एक प्राकृतिक तत्व होता है, जो हेयर ग्रोथ में बहुत कारगर है.

रेमेडी: 2 टेबलस्पून सेब के रस में समान मात्रा में पानी मिलाकर स्काल्प में मसाज करें. 15 मिनट बाद बाल धो लें.

फ़ायदा: डैंड्रफ से हेयर फॉल की समस्या भी होती है, ऐसे में इस प्रयोग का नियमित इस्तेमाल बालों को हेल्दी रखने में बहुत कारगर है. यह ध्यान रहे, कि जूस में पानी बहुत ज़्यादा न मिलाया जाए.

जिंजर

रिसर्च: अदरक में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं और वो हेयर ग्रोथ में भी कारगर है. अदरक में मौजूद एक्टिव कंपोनेंट- वोलेटॉइल ऑयल डैंड्रफ को दूर करता है.

रेमेडी: अदरक को छीलकर कद्दूकस कर लें. 8 टेबलस्पून तिल का तेल लें. चीज़ क्लोथ में अदरक को रखकर निचोड़ लें और उसके तेल को तिल के तेल में मिला लें. इससे स्काल्म मसाज करें और कुछ देर बाद हेयर वॉश कर लें.

फ़ायदा: अदरक के तेल को जब तिल के तेल जैसे नेचुरल ऑयल में मिलाकर लगाया जाता है, तो डैंड्रफ को दूर करने में वो बहुत कारगर होता है.

टी ट्री ऑयल

रिसर्च: इसमें एंटी-फंगल गुण होते हैं. एक शोध में यह पाया गया कि जिन लोगों ने 4 हफ़्तों तक 5% टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल किया उनकी डैंड्रफ की समस्या 41% तक कम हो गई.

रेमेडी: शैंपू करने से पहले स्काल्प में ऑयल से मसाज करें. यह हर दूसरे दिन करें.

फ़ायदा: यह डैंड्रफ की नेचुरल रेमेडी है. इसे आप तेल की तरह इस्तेमाल करने की बजाय शैंपू के तौर पर भी यूज़ कर सकते हैं. उससे डैंड्रफ काफ़ी हद तक दूर हो जाएगा.

हिना

रिसर्च: मेहंदी में केराटीन को बाइंड करने की क्षमता होती है, जिससे वो बालों पर एक सुरक्षा कवच चढ़ा देती है. यह स्काल्प के चिपचिपेपन को ख़त्म करने कंडीशनर का काम करती है और डैंड्रफ को दूर करती है.

रेमेडी: 1 टीस्पून मेहंदी में समान मात्रा में आंवला पाउडर, टी पाउडर, नींबू का रस और हेयर ऑयल मिलाएं. स्काल्प में इसे अप्लाई करें और कुछ देर बाद शैंपू कर लें.

फ़ायदा: यह मिश्रण न स़िर्फ डैंड्रफ को दूर करता है, बल्कि बालों को कंडीशन करके उनमें शाइन और बाउंस भी लाता है.

बेसिल लीव्स

रिसर्च: यह स्काल्प को हेल्दी बनाकर उसके स्ट्रेंथ बढ़ाते हैं और अपने एंटी-फंगल व एंटी-बैक्टीरियल गुणों के लिए जाने जाते हैं.

रेमेडी: बेसिल लीव्स को पीसकर आंवला पाउडर में मिला लें. इस पेस्ट को बालों में लगाएं. आधे घंटे बाद शैंपू कर लें.

फ़ायदा: आंवला पाउडर और बेसिल लीव्स डैंड्रफ को दूर करने के साथ-साथ स्काल्प को भी हेल्दी रखते हैं.

अंडे का हेल्दी फंडा (The Health Benefits of Eggs)

Health Benefits of Eggs

अंडा दिखने में भले छोटा नज़र आए, मगर इसके फ़ायदे अनेक हैं. इसमें मौजूद पोषक तत्व न स़िर्फ आपको तंदुरुस्त बनाए रखते हैं, बल्कि कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं से बचाने में भी मदद करते हैं.What-to-do-with-eggs,Egg benefits

पोषक तत्वों से भरपूर

– अंडा प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, वसा, राइबोफ्लेविन, कोलिन, विटामिन बी 12, डी, ए, बी 6, फोलेट, सेलेनियम, फॉस्फोरस, आयरन, ज़िंक, कैल्शियम, पोटैेशियम, मैग्नीशियम जैसे कई पोषक तत्वों से भरपूर है.

अंडा एक, फ़ायदे अनेक

– प्रोटीन, कैल्शियम व ओमेगा 3 फैटी एसिड का अच्छा स्रोत है. प्रोटीन से मांसपेशियां मज़बूत होती हैं.
– ओमेगा 3 फैटी एसिड से शरीर में गुड कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है.
– अंडा एक हेल्दी नाश्ता है. रोज़ाना नाश्ते में दो अंडों का सेवन करना चाहिए, इससे शरीर को पर्याप्त प्रोटीन मिलता है.
– अंडे में मौजूद कैल्शियम दांतों व हड्डियों को मज़बूत रखने में मदद करता है.
– रोज़ सुबह नाश्ते में अंडा खाने से शरीर को पूरे दिन ऊर्जा मिलती है. अंडे का पीलावाला हिस्सा शरीर को एनर्जी देता है.
– इसे खाने से शरीर को अमीनो एसिड मिलता है, जिससे शरीर का स्टैमिना बढ़ता है.
– अंडे में पाया जानेवाला फोलिक एसिड व विटामिन बी 12 ब्रेस्ट कैंसर से बचाता है, इसके साथ ही यह याददाश्त भी बढ़ाता है.
– अंडे की ज़र्दी में विटामिन डी पाया जाता है, जो हड्डियों को मज़बूत बनाने के साथ शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है.
– शरीर के वज़न को लेकर सतर्क रहनेवालों को अंडे का स़फेदवाला हिस्सा खाना चाहिए, इससे वज़न जल्दी नियंत्रित होता है.
– गर्भवती महिलाओं को आहार में अंडे को शामिल करना चाहिए, क्योंकि इससे भ्रूण का विकास अच्छी तरह से होता है.
– अंडे की स़फेदी में ब्लडप्रेशर को नियंत्रित करने की क्षमता होती है.
– यह दिल का ख़्याल भी रखता है. किसी भी मौसम में अंडे का सेवन दिल के मरीज़ों के लिए सुरक्षित माना गया है.
– अंडे में विटामिन ए पाया जाता है, जो बालों को मज़बूत बनाने के साथ आंखों की रोशनी भी बढ़ाता है.

अंडे के ब्यूटी बेनिफिट्स

अंडे में सेहत के साथ ही छुपा है सुंदरता का खज़ाना. ख़ूबसूरत त्वचा चाहिए, तो आज़माइए ये नुस्ख़े-
– अंडे के पीले भाग को फेंटकर चेहरे पर लगाएं. यह त्वचा में कसाव लाता है और कील-मुंहासों से छुटकारा दिलाता है.
– अंडे की स़फेदी और ओटमील का मिश्रण ऑयली त्वचा के लिए बेहतरीन फेसपैक है.
– अंडे का पीला भाग, नींबू का रस और जैतून के तेल को मिलाकर चेहरे पर लगाने से रूखी त्वचा में निखार आता है.
– अंडे में एक चम्मच शहद, जैतून के तेल की कुछ बूंदें और गुलाब जल मिलाकर लगाने से चेहरे के दाग-धब्बे दूर होते हैं और त्वचा कोमल हो जाती है.
– अंडे का स़फेद हिस्सा और एक चम्मच शहद का लेप लगाने से त्वचा का कालापन कम होता है और त्वचा की रंगत में निखार आता है.

बालों के लिए भी बेहतरीन

– अंडे के सेवन से बालों को प्रचुर मात्रा में प्रोटीन मिलता है. बालों को घना, मुलायम और मज़बूत बनाने के लिए भी अंडा कारगर है.
– कटोरी में एक अंडा तोड़कर डालें, उसमें एक बड़ा चम्मच जैतून या बादाम का तेल और एक चम्मच दही मिलाएं. इस मिश्रण को बालों पर लगभग 45 मिनट तक लगाकर रखें. यह बालों के लिए एक अच्छा कंडीशनर है.
– पतले बालों को घना और चमकदार बनाने के लिए एक नींबू और अंडे के स़फेद हिस्से को मिलाकर बालों में लगाएं और एक घंटे बाद धो दें.
– बाल अगर रूखे, बेजान और ऑयली हैं, तो नियमित रूप से अंडे का सफ़ेद भाग लगाएं और 30 मिनट के लिए छोड़ दें, फिर गुनगुने पानी से धो लें.

क्विक हेयर स्टाइल्स (Quick Hair Styles)

hairstyle

 Hair Styles

ट्विस्टेड फ्रेंच

– डिफरेंट लुक चाहती हैं, तो नॉर्मल सागर चोटी की जगह ये ट्विस्टेड सागर चोटी ट्राई करें.
– दोनों तरफ़ से बाल लेते हुए चोटी की बजाय ट्विस्ट करती जाएं.
– नीचे के बालों के भी दो सेक्शन लेकर ट्विस्ट करते हुए गूंथती जाएं.

hairstyle

टु मिनट स्टाइल

– साइड में मांग निकालकर पूरे बालों को अच्छी तरह कोम्ब करें.
– अब पीछे के बालों के तीन सेक्शन करके हर सेक्शन को रोल करते हुए एकदम नीचे पिनअप कर लें.
– ये हेयर स्टाइल बस 5 मिनट में बन जाती है और ट्रेंडी लुक भी देती है.

Simple Look Hairstyle

सिंपल लुक

– अगर आपके बाल कर्ली हैं, तो आप ये हेयर स्टाइल ट्राई कर सकती हैं.
– साइड में मांग निकाल लें. एक तरफ़ से बालों के छोटे-छोटे सेक्शन करें. हर सेक्शन को हल्का-सा ट्विस्ट करते हुए पिनअप करती जाएं.
– पीछे के बालों के सेक्शन करके उसे भी एक साइड में पिनअप करती जाएं.

Youngster Look Hair Style

यंगस्टर्स स्टाइल

– साइड में मांग निकाल लें.
– एक साइड के बाल से छोटे-छोटे सेक्शन लेकर ट्विस्ट करते हुए गूंथती जाएं और कान तक गूंथने के बाद पिनअप कर लें.
– अब पूरे बालों को उसी साइड में ले आएं और फ्रेंच प्लेट (खजूर
चोटी) बनाएं.
– फ्रेंच प्लेट को लूज़ कर दें. फूल से डेकोरेट कर लें.

Hairstyle For College Girl

कॉलेज गर्ल

– कान से कान तक मांग निकालकर बालों को दो सेक्शन में बांट लें.
– कान के पास से शुरू करते हुए दूसरे कान तक लूज़ फ्रेंच प्लेट बनाएं.
– पीछे के बालों को कान के पास लाकर साइड पोनीटेल बनाएं.
– फ्रेंच प्लेट को पोनी पर लपेट दें.