happy. life

20 मार्च को वर्ल्ड हैप्पीनेस डे (World Happiness Day) मनाया जाता है. आज के दिन यदि हम भारत की खुशहाली की बात करें, तो पाएंगे कि खुशहाल देशों की श्रेणी में बहुत पीछे है भारत. आख़िर क्यों हम ख़ुशहाल नहीं हैं?

World Happiness Day

हर इंसान जिंदगीभर मेहनत इसलिए करता है, ताकि वो अच्छा और खुशहाल जीवन जी सके, लेकिन इतनी मेहनत करने के बाद भी क्या हम खुशहाल हैं? आखिर हम भारतीय खुश क्यों नहीं रहते हैं?

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक, खुशहाल देशों की श्रेणी में भारत बहुत पीछे है और हमारे देश में रहने वाले लोग तनाव में ज्यादा रहते हैं. आखिर क्या है इसकी वजह?

बता दें कि इस रिपोर्ट के मुताबिक, ग्लोबल हैप्पीनेस इंडेक्स में पहले स्थान पर फिनलैंड है यानी फिनलैंड दुनिया का सबसे खुशहाल देश है. इस देश में अपराध के आंकड़े भी बहुत कम हैं.

फिनलैंड के बाद क्रमशः नॉर्वे, डेनमार्क, आइसलैंड, स्विट्जरलैंड देश दुनिया के खुशहाल देशों में सबसे आगे हैं. इन देशों के लोग अपनी ज़िंदगी से संतुष्ट हैं इसलिए वो हमेशा खुशहाल नज़र आते हैं.

World Happiness Day

कितने खुशहाल हैं हम भारतीय?
भारत की बात करें तो संयुक्त राष्ट्र की 2018 की इस रिपोर्ट के मुताबिक, हमारा देश विश्व के खुशहाल देशों की लिस्ट में 133वें स्थान पर है यानी हमारे देश के लोग अन्य देशों के मुकाबले खुशहाल नहीं हैं. यहां पर कि पाकिस्तान और नेपाल भी खुशहाली के मामले में भारत से आगे हैं. इस रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में अवसादग्रस्त लोग और हृदय रोगियों की संख्या बहुत ज्यादा है. भारत के लोग बहुत ज्यादा तनाव में रहते हैं, जिसके कारण यहां के बहुत ज्यादा लोग अवसाद और हृदय रोग से पीड़ित हैं. इसके साथ ही भारत में भ्र्ष्टाचार और अपराध के मामले भी ज्यादा हैं, जिसके कारण लोगों में सुरक्षा की भावना अन्य देशों के मुकाबले कम है.

यह भी पढ़ें: जीवन के हर पल को उत्सव बनाएं (Celebration Of Life)

World Happiness Day

हमेशा खुश रहने के लिए सीखें ये 10 आदतें

1) सुबह की शुरुआत ईश्‍वर के स्मरण और योग या एक्सरसाइज़ से करें. इससे मन की शांति तो मिलती ही है, आप दिनभर के लिए नई ऊर्जा भी मिलती है.

2) छोटी-छोटी चीज़ों में ख़ुशियां ढूंढ़ने की कोशिश करें यानी ख़ुश होने के मौ़के तलाशें. ऐसा करने से जीवन में आई हर छोटी-बड़ी समस्या से लड़ने का हौसला मिलता है.

3) ख़ुश रहने के लिए सही लाइफ़ स्टाइल ज़रूरी है इसलिए रात में जल्दी सोएं और सुबह जल्दी उठ जाएं. साथ ही अच्छा खाएं, अच्छा सोचें और अच्छा महसूस करें.

4) हमारी अधिकतर समस्याएं हमारे अहम् के चलते शुरू होती हैं. यदि हम अहम् को त्याग दें तो न ही हम छोटी-छोटी बातों पर आहत होंगे और न ही तनावग्रस्त.

5) कई लोग पहले काम को टालते जाते हैं, फिर एक साथ बहुत सारा काम देखकर तनावग्रस्त हो जाते हैं. ऐसी स्थिति से बचने के लिए अपना हर काम समय पर पूरा करें.

यह भी पढ़ें: क्या है आपकी ख़ुशी का पासवर्ड? (Art Of Living: How To Find Happiness?)

World Happiness Day

6) दूसरों की क़ामयाबी से कुढ़ने वाले कभी ख़ुश नहीं रहते. ऐसा करने की बजाय दूसरों की क़ामयाबी से प्रेरणा लेकर उन जैसा बनने का प्रयास करें.

7) ज़रूरी नहीं कि हमेशा कुछ पाकर ही ख़ुशी मिले, कई बार दूसरों के चेहरे की मुस्कान भी बेइंतहा ख़ुशी देती है इसलिए दूसरों के लिए जितना कर सकें, ज़रूर करें.

8) यदि आप अपने करियर से ख़ुश नहीं हैं, तो कोई पसंदीदा पार्ट टाइम कोर्स करें और नए सिरे से करियर की शुरुआत करें.

9) जब भी ग़ुस्सा आए या किसी बात से नाराज़ हों तो अपनी भावनाओं को काग़ज़ पर उतार दें. जिस तरह कह देने से मन हल्का हो जाता है, उसी तरह अपनी भावनाओं को लिख देने से भी बहुत सुकून महसूस होता है. ज़रूरी नहीं कि आप नकारात्मक बातें ही लिखें, जब कोई बात या चीज़ अच्छी लगे, उसके बारे में भी अपनी डायरी में ज़रूर लिखें.

10) स्थितियां हमेशा आप के अनुरूप ही हों ये मुमकिन नहीं, कई बार आपको विपरीत स्थितियों में मन मारकर भी रहना पड़ सकता है. ऐसी स्थिति में हालात को कोसने के बजाय उनसे सामंजस्य बिठाने की कोशिश करें. ऐसा करके आप तनाव को कुछ हद तक कम कर सकते हैं.

खुश रहने के लिए महंगी सुख-सुवधाएं नहीं, ख़ुशी का एहसास चाहिए. जब आप खुश होते हैं, तो आपको हर चीज़ अच्छी लगती है और आपका हर काम अच्छा होता है, इसलिए ख़ुशी को अपनी आदत बना लें. आप अपने जीवन में ऐसे भर सकते हैं ख़ुशियों के रंग.

Life With Happiness

हर पल का आनंद लीजिए
ख़ुशी कोई चीज़ नहीं, जिसे ढूंढ़ा या ख़रीदा जाए. ये तो एक एहसास है, जिसे स़िर्फ महसूस किया जा सकता है. यदि आप ख़ुश रहना चाहते हैं, तो हर पल का आनंद लीजिए. ये मत सोचिए कि ये अच्छा है या बुरा. अपने लिए ख़ुशी तलाशने की बजाय दूसरों की ख़ुशियों में शामिल हो जाइए. फिर देखिए, ज़िंदगी कितनी हसीन लगने लगेगी. हर पल ख़ुशी के मौ़के तलाशिए, आपकी ज़िंदगी ख़ुशनुमा हो जाएगी.

Life With Happiness

जीना इसी का नाम है
हमें ज़िंदगी जीने के लिए मिली है, काटने के लिए नहीं. इसे खुलकर जीने के लिए छोटी-छोटी बातों व क़ामयाबियों को अहमियत देना व उनका जश्‍न मनाना सीखिए. ख़ुश रहने का एक और तरीक़ा है- अपना पसंदीदा काम करना. किसी और की देखादेखी में या किसी का दिल रखने के लिए वो काम कभी न करें जो आपको पसंद न हो. ऐसा करके न तो आप काम के साथ न्याय कर पाते हैं और न ही ख़ुद के साथ.

Life With Happiness

ख़ुशी का हेल्थ कनेक्शन
ख़ुश रहने के लिए चुस्त-दुरुस्त रहना भी ज़रूरी है. बीमारियां हमें चिड़चिड़ा बना देती हैं इसलिए अच्छी सेहत के लिए सही खानपान के साथ ही अपनी जीवनशैली में भी बदलाव लाना ज़रूरी है. सही समय पर सोने से लेकर खाने तक हर चीज़ का ध्यान रखकर आप स्वस्थ व ख़ुश रह सकते हैं.

Life With Happiness

स्ट्रेस से रहें दूर
ये काम नहीं हुआ तो मैं क्या करूंगी? मैं समय पर नहीं पहुंची तो क्या होगा? ऐसी बेकार की बातें सोचकर तनावग्रस्त होने की ज़रूरत नहीं. जो चीज़ आपके वश में है उसे दुरुस्त कर लें और जो नहीं है उसके बारे में सोचकर परेशान होने की ज़रूरत नहीं. कल जो होगा देखा जाएगा, ऐसा सोचकर आप ख़ुद को बेकार की चिंताओं से मुक्त कर सकते हैं.

Life With Happiness

गुस्सा ऐसे दूर भगाएं
जब भी ग़ुस्सा आए या किसी बात से नाराज़ हों तो अपनी भावनाओं को काग़ज़ पर उतार दें. जिस तरह कह देने से मन हल्का हो जाता है, उसी तरह अपनी भावनाओं को लिख देने से भी बहुत सुकून महसूस होता है. ज़रूरी नहीं कि आप नकारात्मक बातें ही लिखें, जब कोई बात या चीज़ अच्छी लगे, उसके बारे में भी अपनी डायरी में ज़रूर लिखें.

यह भी पढ़ें: हार कर जीतने वाले को बाजीगर कहते हैं! (How To Overcome Failure)

सफलता ख़ुशी की चाबी नहीं है. ख़ुशी सफलता की चाबी है. आप जो कर रहे हैं अगर उससे प्यार करते हैं, तो आप सफल ज़रूर होंगे.
– हरमन केन

जब आसपास कोई न हो और आप मुस्कुराएं, तो आप वाक़ई में ख़ुश हैं.
– एंडी रूनी

ख़ुद को ख़ुश करने का बेहतरीन तरीक़ा है किसी और को ख़ुश करने की कोशिश करना.
– मार्क ट्वैन

तुम्हारा साथ, प्यार की बात,  तुम्हारा हाथ, जन्मभर का साथ,  धड़कनों की ज़रूरत हो तुम, 

तुमसे है मेरी दुनिया हसीं, मेरी मोहब्बत, मेरी ज़िंदगी हो तुम…

यह एहसास हर पति (Husband) को अपनी पत्नी (Wife) के क़रीब ले आता है. प्यार-अपनापन, केयर और सहयोग से किसी का भी दिल जीता जा सकता है. लेकिन जब बात पति की हो, तो मामला थोड़ा नाज़ुक होता है. यह दिल अपने-पराए और आम लोगों के दिलों से थोड़ा अलग और ख़ास होता है. इसलिए इसे जीतने की कला भी थोड़ी ख़ास होनी चाहिए. सबसे पहले पुरुषों के कम्यूनिकेशन कोड को समझने की कोशिश करें.

Win Your Husband's Heart

– कहते हैं, प्यार से दुश्मनों का भी दिल जीता जा सकता है.  रोज़ाना कुछ समय, चाहे फिर घर-बाहर हो या फोन पर ही, उनसे  प्यार से दो मीठे बोल ज़रूर बोलें. इससे जहां दिनभर प्यार की ख़ुमारी बनी रहती है, वहीं रिश्तों में भी ताज़गी रहती है.

–   कोशिश करें कि सुबह की चाय या ब्रेकफास्ट उनके साथ लें. इससे जहां दिनभर के प्लान्स पर बातेें हो जाती हैं, वहीं उन्हें यह एहसास गुदगुदा देता है कि आप उनके साथ का एक पल भी मिस नहीं करना चाहतीं. हां, यदि आप कामकाजी हैं, तो उनके साथ ही ऑफिस के लिए निकल भी सकती हैं.

–    किधर जा रहे हैं?… वहां क्यों जाना है? आपका वो दोस्त ठीक नहीं… वहां पर आपका क्या काम है… बात-बात पर रोक-टोक, सवालों की झड़ी, शिकायतों का पुलिंदा न खोल दें.

–    हर किसी से अपने पति की शिकायतें करती न फिरें. यदि आपको लगता है कि आपके वैवाहिक जीवन में कुछ समस्या है तो भरोसेमंद बड़े-बुज़ुर्ग या फिर काउंसलर की मदद ले सकती हैं.

–    काम से लौटने पर हमेशा मुस्कुराहट के साथ पति का स्वागत करें. इतना भर करना, उनकी आधी थकान दूर कर देगा.

–    शादी-ब्याह हो या फंक्शन-पार्टी, अपनी तैयारी के साथ-साथ पार्टनर का भी ख़्याल रखें, जैसे- वे क्या पहनेंगे, कौन-सा वॉच-शू उन पर स्मार्ट लगेगा, उन्होंने हेयर कट या

शेविंग प्रॉपर किया है या नहीं.

–    स्वादिष्ट भोजन बनाकर भी उनका दिल जीता जा सकता है. वैसे भी कहते हैं कि पति का दिल जीतने के लिए लज़ीज़ व्यंजन से बेहतर कुछ भी नहीं हो सकता.

–    तक़रीबन हर पति ममाज़ बॉय होते हैं. वे अपनी पत्नी में अपनी मां की ख़ूबियों को तलाशते हैं. यदि आपके पति भी ऐसे हैं, तो अपनी सास से उनकी पसंद के बारे में पूछकर अपनी कुछ आदतें बदलें. सास से उनकी पसंदीदा डिशेज़ बनाना सीखें और सभी को खिलाएं.

–    पति को हमेशा अच्छा कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करती रहें.

–    यदि कभी वे ख़राब मूड में हैं, तो उन्हें तमाम सवाल पूछकर और डिस्टर्ब न करें. उन्हें कूल होने के लिए थोड़ा व़क्त दें और बाद में बात करें.

–    यदि पति टूरिंग जॉब करते हैं, तो जब भी टूर से आएं, तो उन्हें कुछ न कुछ सरप्राइज़ ज़रूर दें. यह कुछ भी हो सकता है, जैसे- आप उनकी पसंद की साड़ी पहन उनके साथ घूमने-फिरने की प्लानिंग कर सकती हैं, उनकी फेवरेट मूवी उन्हें दिखा सकती हैं, उन्हें बाहर खाने काशौक़ है, तो किसी ख़ास रेस्टॉरेंट में डिनर प्लान कर सकती हैं.

–    कई पुरुष स्पोर्ट्स के क्रेज़ी होते हैं, जबकि पत्नियां स्पोर्ट्स कम ही पसंद करती हैं. यदि आपके पति क्रिकेट फैन हैं, तो अधिक नहीं, पर कुछ बेसिक क्रिकेट की जानकारी ज़रूर रखें. उनके साथ बैठकर मैच देखें. ये सारी बातें उन्हें ख़ुशी देने के साथ उत्साहित भी करेंगी. उनके शौक़ और पसंद में आपका दिलचस्पी लेना, उन्हें बेहद अच्छा लगेगा.

–    सेक्सुअल रिलेशन के समय उन्हें किस बात से ख़ुशी मिलती है, क्या अच्छा लगता है, अंतरंग पलों में वे आपसे क्या ख़्वाहिश रखते हैं, इन बातों को समझें और उन्हें अमल में लाएं.

–    पति के लिए कोई स्पेशल ईवनिंग अरेंज करें, जिसमें केवल आप दोनों हों और कोई नहीं, बच्चे भी नहीं.

–    ससुराल के लोगों का, फिर चाहे वो सास-ससुर, देवर-ननद… कोई भी हो, सभी के साथ उचित व्यवहार करें. उनके जन्मदिन या शादी की सालगिरह आदि पर गिफ्ट या सरप्राइज़ पार्टी ज़रूर दें. आपका यह अपनापन पति के दिल को छू जाएगा. उन्हें यह देखकर बेहद अच्छा लगेगा कि आपको उनके साथ-साथ परिवार के हर सदस्य का ख़्याल रहता है.

–    ननद-देवर या अन्य पारिवारिक सदस्यों, रिश्तेदारों को छोटे-छोटे त्योहारों पर घर पर भोजन के लिए आमंत्रित करें. ससुरालवालों के प्रति आपका अपनापन देख पति को  ख़ुशी होगी.

–    जब कभी पति के साथ कहीं बाहर या फिर पारिवारिक फंक्शन आदि में जाएं, तो इस तरह से तैयार हों कि दोनों आइडियल कपल लगें. “मेड फॉर इच अदर.” कॉर्डिनेशन कुछ इस तरह का हो.

–    हरदम प्यार ही प्यार और अच्छी-अच्छी बातें ही हों, यह ज़रूरी नहीं है. कई बार खट्टी-मीठी तक़रार, नोक-झोंक पति-पत्नी को और भी क़रीब ले आती है. ये न भूलें कि रूठने-मनाने का दौर आपसी मिठास को और भी बढ़ाता है.

यह भी पढ़ें: किस राशिवाले किससे करें विवाह? (Perfect Life Partner According To Your Zodiac Sign)

Couple Goals

–    दिनभर की भागदौड़ और काम की आपाधापी में रोमांस के पल भी ज़रूर चुराएं. प्यार भरे लव नोट्स, रोमांटिक बातें, लव-केयर मैसेजेस, हंसी-मज़ाक कपल्स की लाइफ को ख़ुशनुमा और एवरग्रीन बनाते हैं. इन बातों की गहराई को समझें.

–    कभी-कभी एक-दूसरे के शौक़ और पसंद के साथ जीने का भी अलग मज़ा होता है. बदलाव के लिए पति की हॉबीज़ को भी अपनाया जा सकता है. यह जहां उन्हें सुखद आश्‍चर्य में भर देगा, वहीं प्यार से सराबोर भी कर देगा.

–    कभी भी नारी सुलभ कोमलता को खोने न दें. पुरुषों को स्त्रियों का प्रेमपूर्ण ममतामयी व्यवहार आकर्षित करता है.

–    यदि आपके पति हाइजीन आदि का विशेष ध्यान रखते हैं, तो आप भी इस बात का ख़्याल रखें. घर को साफ़- सुथरा रखें. साथ ही ख़ुद को भी.

–    जब कभी लगे कि पार्टनर लो फील कर रहे हैं… ऐसे समय में उन्हें प्रोत्साहित करें. उनकी प्रशंसा करें, उनकी अच्छी बातों को उभारें, कॉम्प्लीमेंट दें. इन सब से उनका आत्मविश्‍वास बढ़ेगा.

–    उन्हें जताएं कि वे दुनिया के सबसे अच्छे पार्टनर हैं. ऐसा सभी पत्नियों को करना चाहिए, इससे रिश्ता मज़बूत होता है.

–    पति को घर की छोटी-छोटी ज़िम्मेदारियां सौंपें. उन्हें पूरा करने पर ‘धन्यवाद’ भी ज़रूर कहें. इससे उन्हें और भी काम करने का प्रोत्साहन मिलेगा और मिल-जुलकर काम करने से रिश्तों में अधिक मधुरता आएगी.

–    पति के साथ जब किसी पार्टी-फंक्शन में या लोगों के बीच हों, तो मैनर्स-एटीकेट्स का ध्यान रखें. अधिक ज़ोर से हंसने-बोलने से बचें.

–    जब भी पार्टनर बात करे, तो उन्हें ध्यान से सुनें. उनकी बात को काटकर अपनी ही समस्याएं न बताने लगें.

–    अधिक शॉपिंग या फ़िज़ूलख़र्ची से बचें. इससे समय व पैसों की बर्बादी होती है.

–    जब वे थके हों और नींद में हों, तो उनसे कोई भी महत्वपूर्ण या विवादित मुद्दे पर विचार-विमर्श न करें. सही समय पर चर्चा करें.

–    पति के अधिकारों का सम्मान करें.

अंततः सभी बातों का निचोड़ इतना भर है कि प्यार-विश्‍वास और केयरिंग नेचर द्वारा जहां आप अपने पति के दिल के क़रीब रहेंगी, वहीं हमेशा उनकी स्वीटहार्ट भी बनी रहेंगी.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ें:  शादी के बाद क्यों बढ़ता है वज़न? जानें टॉप 10 कारण (Top 10 Reasons For Weight Gain After Marriage)

यह भी पढ़ें:  मायके की तरह ससुराल में भी अपनाएं लव डोज़ फॉर्मूला (Love Dose Formula For Happy Married Life)

ज़िंदगी में हर रोज़ हम कुछ न कुछ नया सीखते या अनुभव करते हैं. कुछ चीज़ें हमें ख़ुशी देती हैं, तो कुछ तकलीफ़, पर ज़्यादातर लोग उन तकलीफ़ों के बोझ को ही रोज़ाना ढोते रहते हैं, जबकि हम सबको पता है कि जो व़क्त बीत रहा है, वो लौटकर कभी नहीं आएगा, तो क्यों न रोने की बजाय उसे हंसकर बिताएं. आज से ही एक नई शुरुआत करें, रोज़ाना कुछ अलग करें और देखें कि आज का आपका हैप्पीनेस मीटर कितना है.

Happiness

दिमाग़ी कचरा साफ़ करें

हम रोज़ अपने सबकॉन्शियस माइंड में न जाने कितने निगेटिव ख़्याल भर देते हैं और जब वो हमें परेशान करने लगते हैं, तो हम बेवजह दुखी रहने लगते हैं. आज ही ये सारा दिमाग़ी कचरा साफ़ करें.

–    आपके बारे में कौन क्या सोचता है, इस सोच को अपने दिमाग़ से निकाल दें, बल्कि ये सोचकर ख़ुश हो जाएं कि कोई आपके बारे में सोचता तो है.

–     अगर बातचीत के दौरान कोई ग़लतफ़हमी हो गई है, तो उसे तुरंत क्लीयर कर लें. जितनी जल्दी निगेटिव ख़्याल निकलेगा, उतनी जल्दी आपको ख़ुशी का एहसास होगा.

–     माफ़ कर देना और माफ़ी मांग लेना उतना भी कठिन नहीं है, जितना लोगों ने बना रखा है, इसलिए सॉरी कहने में बिल्कुल भी देर न करें. ख़ुद भी ख़ुश रहें और दूसरों को भी ख़ुश रखें.

मैजिकल वर्ड्स का करें इस्तेमाल

हमारे पास मैजिकल वर्ड्स का ख़ज़ाना है, पर अफ़सोस कि हम उनका इस्तेमाल ही नहीं करते, तभी तो दुखी रहते हैं.

–     थैंक यू एक ऐसा जादुई शब्द है, जो न स़िर्फ बोलनेवाले के चेहरे पर मुस्कान लाता है, बल्कि सुननेवाला भी ख़ुश हो जाता है. तो फिर इसे कहने में कंजूसी क्यों करें. सुबह की शुरुआत ही भगवान को थैंक यू कहने से करें, यकीन मानें आपका दिन ख़ुशियों भरा होगा.

–     हर कोई चाहता है कि लोग उसे प्यार करें. पार्टनर, मम्मी-पापा, भाई-बहन, दादा-दादी, नाना-नानी या बच्चे सभी को रोज़ाना वो थ्री मैजिकल वर्ड्स ‘आई लव यू’ ज़रूर कहें. उनके चेहरे की मुस्कान आपके हैप्पीनेस मीटर को बढ़ा देगी.

–     ‘आप अच्छी लग रही हो’ या ‘अच्छे लग रहे हो,’ जैसे जादुई शब्द किसी का भी दिन बना सकते हैं. तो दिल खोलकर लोगों की तारीफ़ करें और ख़ुशियां फैलाते रहें.

चुनें अनजानी राहें

जान-पहचान के लोगों से तो हम हमेशा बोलते-बतियाते हैं, कभी अनजानों से भी दोस्ती करके देखें. बस, यूं ही किसी अजनबी से बातें करें, बहुत अच्छा लगेगा.

–     वर्किंग लोग बस, ट्रेन, ऑटो में रोज़ाना न जाने कितने लोगों से टकराते हैं, तो क्यों न उनसे दोस्ती करें और अपने दोस्तों का दायरा बढ़ाएं.

–     एक-दो बार जिन्हें मिले हैं, उन्हें देखकर स्माइल ज़रूर दें, उनकी स्माइल आपका हैप्पीनेस मीटर बढ़ा देगी.

–     रास्ते में चलते हुए कभी किसी अजनबी को देखकर स्माइल करें, वो जब तक सोचेगा कि आपको कहां मिला था, आप हंसते-हंसते आगे बढ़ जाओगे.

–     कोई उम्रदराज़ महिला अगर भारी सामान लेकर जा रही है, तो निस्वार्थ भाव से उनकी मदद करें. उन्हें तो ख़ुशी मिलेगी ही, पर आपको भी कुछ कम सुकून नहीं मिलेगा.

यह भी पढ़ें: सफलता के 10 सूत्र (10 Ways To Achieve Your Dream)

Happy
कुछ रिफ्रेशिंग हो जाएं

–     क्यों न आज थोड़ी मटरगश्ती कर लें. किसी पुराने दोस्त को उसके ऑफिस में या घर पर जाकर सरप्राइज़ दें. यक़ीन मानिए, एक ही दिन में आपके पूरे हफ़्ते का हैप्पीनेस मीटर रीचार्ज हो जाएगा.

–     गाने सुनने के शौक़ीन हैं, तो अपना मनपसंद गाना स़िर्फ सुनें नहीं, बल्कि गुनगुनाएं भी और अगर घर पर हैं, तो गाने पर थिरकें भी. मूड फ्रेश रखने के लिए म्यूज़िक से बेहतर थेरेपी कुछ नहीं.

–     खाने के शौक़ीन हैं, तो कुछ ऐसा चटपटा खाएं, जो बहुत दिनों से खाया न हो. मनपसंद डिश न स़िर्फ आपका मूड अच्छा करेगी, बल्कि एक ख़ुशी भी देगी.

–     हमेशा दूसरों को ही एंटरटेन न करें. कभी ख़ुद को भी एंटरटेन कर लें. आपके साथ-साथ आपकी फैमिली भी ख़ुश रहेगी.

–     मॉनसून तो वैसे ही बहुत रोमांटिक मौसम है, तो आज अपने पार्टनर के लिए कुछ ख़ास करें. उन्हें चॉकलेट, फूल या टेडी दें. इस रोमांटिक मौसम में आपका रोमांटिक अंदाज़ आपके पार्टनर के हैप्पीनेस मीटर को फुल चार्ज कर देगा.

–     हमेशा दूसरों के बारे में ही न सोचें. कभी-कभी ख़ुद के बारे में भी सोचें. ख़ुद की ख़ुशी के लिए भी कुछ चीज़ें करें. थोड़ा स्वार्थी होने में कोई हर्ज़ नहीं.

फैलाएं पॉज़िटिविटी

आजकल ज़्यादातर लोग सोशल मीडिया के ज़रिए आप तक बहुत-सी निगेटिव चीज़ें पहुंचाते रहते हैं, जिससे जाने-अनजाने आप लगातार निगेटिव ख़्यालों  से घिरे रहते हैं. इसे बदलना चाहते हैं, तो शुरुआत ख़ुद से करें.

–     व्हाट्सऐप पर किसी को ऐसी फोटोज़ या वीडियोज़ न भेजें, जिसे देखकर बुरा लगे. जोक्स, मोटिवेशनल बातें या कोट्स आपके साथ-साथ उनको भी ख़ुश करेंगे.

–     अगर आपके आसपास कोई निगेटिव बातें कर रहा है, तो उसे निगेटिव में भी पॉज़िटिव देखना सिखाएं.

–     सकारात्मक सोच आपके चेहरे पर एक मुस्कान की तरह है, जो हर व़क्त आपकी ख़ूबसूरती को निखारती रहती है. तो सुंदर दिखना चाहते हैं, तो मुस्कुराइए, खिलखिलाइए और दूसरों को भी ख़ुश रखिए.

–     निगेविट बात करनेवालों को बताएं कि कैसे सकारात्मक सोच आपके शरीर में अच्छी फीलिंग वाले हार्मोंस का स्राव करती है और आप अच्छा फील करते हैं.

चेक करें हैप्पीनेस मीटर

–     ऐसी कई बातें होती हैं, जो हमारे चेहरे पर मुस्कान लाती हैं. ध्यान दें कि किससे बातें करते समय आप सबसे ज़्यादा ख़ुश रहते हैं और जैसे ही आपको वो शख़्स मिले, जी भरकर उससे बातें करें.

–     कोई न कोई तो ऐसा होता है, जिसके बारे में सोचते ही आपके चेहरे पर मुस्कान आ जाती है. कोशिश करें कि उससे ज़्यादा से ज़्यादा मिलें. उसके साथ ज़्यादा समय बिताने की कोशिश करें.

–     दोस्तों-यारों के संग बिताई कौन-सी पुरानी यादें आपको गुदगुदाती हैं. उन यादों को दोबारा जीने की कोशिश करें.

–     घर से निकलते व़क्त अगर ‘अपना ख़्याल रखना’ कहने भर से आपके चेहरे पर स्माइल आती है, तो इसे अपनी आदत में शुमार करें.

–     पर्सनल लाइफ के अलावा प्रोफेशनल लाइफ में भी रोज़ कुछ अलग व क्रिएटिव करें, कभी काम में, कभी लुक्स में, तो कभी अपने कलीग्स की ख़ुशी के लिए.

–     अपने भीतर के छोटे मासूम बच्चे को कभी सीरियस न होने दें. वह हंसी-मज़ाक और शरारतों से आपको हमेशा ख़ुशहाल बनाए रखेगा.

– सुनीता सिंह

यह भी पढ़ें:  सीखें ख़ुश रहने के 10 मंत्र (10 Tips To Stay Happy)

हम अपने शरीर, घर, आस-पास के वातावरण को साफ़ रखने के लिए तो हर मुमक़िन कोशिश करते हैं, लेकिन कभी हम अपने मन की सफ़ाई के बारे में सोचते हैं? चलिए, ये भी करके देखते हैं.

बॉस के हर हुक्म पर यस बॉस, क्लाइंट की हर हां में हां, रिश्तेदार, पड़ोसी की हर बात पर मुस्कुराना… हर बार हमारे चेहरे पर जो भाव नज़र आते हैं, क्या हमारे मन में वही भाव होते हैं? नहीं… दिनभर में हम अपने चेहरे पर जाने कितने मुखौटे चढ़ाते-उतारते हैं. अपने मन पर दिखावे की जाने कितनी परतें लगाते हैं, जिससे कई बार मन भारी हो जाता है. दूसरों को ख़ुश करने की चाह में हम अपने मन पर इतना बोझ डाल देते हैं कि हमारे मन की ख़ुशी दबती चली जाती है. हम अपने लिए जीना भूल जाते हैं.

उतार दें सारे मुखौटे
दूसरों की ख़ुशी की परवाह करना अच्छी बात है. उसके लिए मुखौटे पहनने में भी कोई बुराई नहीं, लेकिन दिनभर में कुछ समय ऐसा भी होना चाहिए, जब आपके चेहरे पर कोई मुखौटा न हो, आपके मन पर कोई दबाव या बोझ न हो. उस व़क्त आप ख़ुद से बातें कर सकते हैं. सही-ग़लत का आकलन कर सकते हैं. ख़ुद से साक्षात्कार ही हमें सही मायने में जीना सिखाता है. उस व़क्त हम वही सोचते हैं, जो हम चाहते हैं. ऐसा करने से हमारे मन की सारी कड़वाहट धुल जाती है और मन साफ़ हो जाता है.

कह दें जो दिल में है
दूसरों को ख़ुश रखने के लिए कई बार हम उनकी उस बात पर भी रिएक्ट नहीं करते, जो हमें बहुत बुरी लगती है. ऐसा करना ठीक नहीं. इसके दो नुक़सान हैं- एक ये कि हम मन ही मन उस व्यक्ति से चिढ़ने लगते हैं और दूसरा ये कि उस व्यक्ति को अपनी ग़लती का एहसास नहीं होता इसलिए वह बार-बार वही ग़लती दोहराता रहता है. इससे रिश्तों में खिंचाव आने लगता है. ऐसी स्थिति में मन की बात साफ़-साफ़ कह देना बेहद ज़रूरी है. इससे आप मन ही मन कुढ़ेंगी भी नहीं और सामने वाले को भी अंदाज़ा हो जाएगा कि आपको उसकी कौन-सी बात पसंद नहीं.

यह भी पढ़ें: कितने दानी हैं आप? 

रोना भी ज़रूरी है
कई बार हम किसी की बात या किसी घटना से इतने आहत होते हैं कि लाख चाहने के बावजूद उस बात को भूल नहीं पाते और बार-बार उसी के बारे में सोचते रहते हैं. ऐसी स्थिति में मन ही मन दुखी होने की बजाय किसी करीबी से अपने मन की बात कहें. यदि रोने का मन कर रहा है तो उसके सामने जीभर कर रो लें. इससे आप हल्का महसूस करेंगी और हो सकता है, सामने वाला व्यक्ति आपको इस तरह समझाए कि आप उस घटना से आसानी से उबर जाएं.

दूसरों को नहीं, ख़ुद को बदलें
हमारे आस-पास ऐसे कई लोग होते हैं जो हमें पसंद नहीं आते, लेकिन उनके बारे में सोचते रहना समस्या का समाधान नहीं है, क्योंकि लाख कोशिशों के बावजूद आप उन्हें सुधार नहीं पाएंगी. अतः उन्हें उसी रूप में स्वीकारें. इससे आपकी उनके प्रति चिढ़ कम होगी और आप उन्हें उनके तरी़के से हैंडल कर सकेंगी.

यह भी पढ़ें: हम क्यों पहनते हैं इतने मुखौटे?

अगर आप भी हर रोज़ ही ज़िंदगी से नाख़ुश रहने लगे हैं, तो यही समय है अपनी ज़िंदगी से स्ट्रेस और निगेटिविटी को डिलीट करें और ख़ुशहाल ज़िंदगी का रिफ्रेश (Easy Ways to Refresh Your Life) बटन दबाएं.

Easy Ways to Refresh Your Life

छोटे-छोटे रिफ्रेशिंग बटन्स

– बचपन में जिन चीज़ों से आपको ख़ुशी मिलती थी, कभी-कभार उन चीज़ों को दोबारा करें, जैसे- झूला झूलना, फनी वीडियोज़ देखना, पेंटिंग करना आदि.
– टीनएज के दौरान जो फेवरेट गाने या वीडियोज़ थे, उन्हें सुनें या देखें.
– स्कूल या कॉलेज के व़क्त का फोटो अलबम निकालकर देखें. पुरानी यादें ताज़ा होने से चेहरे पर मुस्कुराहट अपने आप आ जाती है.
– सुबह या शाम जब भी व़क्त मिले, थोड़ी देर टहलें. टहलने से न स़िर्फ तनाव दूर होता है, बल्कि सेहत भी दुरुस्त रहती है.
– आप जिस इलाके में रहते हैं, कभी यूं ही उसे देखने निकल जाएं, देखें तो आख़िर वहां क्या-क्या है? ऐसा करने से न सिर्फ़ आपका रूटीन बदलेगा, बल्कि आपकी लाइफ में फ्रेशनेस भी आएगी.
– मूड बदलने के लिए म्यूज़िक से बेहतर भला क्या हो सकता है. अपने मनपसंद गाने सुनें और अपने फेवरेट सिंगर का कलेक्शन अपने फोन में रखें.
– अगर आपको डांस करना पसंद है, तो यह बहुत अच्छा तरीक़ा हो सकता है, लाइफ में फ्रेशनेश लाने का. जब भी, जहां भी मौक़ा मिले, मेक योर मूव्स.
– आपको जो भी पसंद हो, चाय, कॉफी या जूस कप में लेकर सोफे पर बैठ जाएं. घूंट-घूंट पीकर उसके स्वाद का आनंद लें. अक्सर हम जल्दबाज़ी में खाते-पीते हैं, जिससे छोटी-छोटी ख़ुशियों को एंजॉय नहीं कर पाते. यक़ीन मानिए, आपको बहुत अच्छा फील होगा.
– लाइफ को रिफ्रेश करने के लिए योग एक बहुत अच्छा ऑप्शन है. योग व मेडिटेशन आपके मस्तिष्क को शांत रखेगा, जिससे आप अच्छा महसूस करेंगे. अगर रोज़ाना मुमकिन न हो, तो हफ़्ते में तीन दिन ज़रूर ट्राई करें. योग हमेशा एक्सपर्ट्स की देखरेख में करना चाहिए, इसलिए ख़ुद से कोशिश करने की बजाय योगा क्लासेस जॉइन करें.
– रोज़ाना की बोरिंग लाइफ के रूटीन को तोड़ने के लिए कमरे में सेंटेड कैंडल जलाएं और जो जी चाहे, वो करें. आप चाहें, तो किताब पढ़ सकते हैं या तो गाने सुन सकते हैं या फिर अपनी फेवरेट मूवी दोबारा देख सकते हैं. ये छोटे-छोटे बदलाव आपकी लाइफ को रिफ्रेश कर देंगे.
– रोज़ाना हमारी ज़िंदगी में कुछ न कुछ ख़ास होता है, पर ग़ुस्से और चिड़चिड़ेपन के कारण हम उसे अनदेखा कर देते हैं. रात को सोने से पहले दो मिनट का समय निकालकर वो तीन बातें लिखें, जिसके लिए आप शुक्रगुज़ार हैं. ऐसा करने से आपको दिन के सफल होने का एहसास होगा और आप सुकून से सो पाएंगे और अगली सुबह ख़ुशी महसूस होगी.

ये भी पढें: सफल शादी के 25+ Amazing बेनीफिट्स

– ज़िंदगी का रिफ्रेश बटन दबाने के लिए छुट्टी का दिन सबसे बेस्ट है. उस दिन ख़ुद को सुबह देर तक सोने की आज़ादी दें. हफ़्तेभर की थकान मिटाने का यह सबसे अच्छा तरीक़ा है. एक बार आपकी थकान दूर हो गई, तो आप ख़ुद हल्का और ख़ुश महसूस करेंगे.
– अगर आपको पौधों का शौक़ है, तो कोई ख़बसूरत-सा पौधा लगाएं और उसकी देखभाल करें. अगर बालकनी या गार्डन नहीं है, तो कोई इंडोर प्लांट लगाएं. बढ़ता हुआ पौधा आपकी लाइफ में रोज़ाना रिफ्रेशमेंट भरेगा.
– रोज़मर्रा के रूटीन को तोड़ने के लिए बाहर से अपनी फेवरेट डिश मंगवाएं या बाहर डिनर पर जाएं.
– अगर कुछ अलग करना चाहते हैं, तो अपनी मां की फेवरेट रेसिपी बनाकर मां को खिलाएं. उनके चेहरे की चमक आपकी लाइफ में ताज़गी भर देगी.
– कहते हैं, किताबें इंसान की सबसे अच्छी दोस्त होती हैं. अगर लाइफ बोरिंग हो गई है, तो कोई कहानी या प्रेरणादायी किताबें मंगाकर पढ़ें, इससे आपकी सोच बदलेगी और ज़िंदगी की तरफ़ देखने का नज़रिया बदलेगा.
– अपनी गर्लफ्रेंड या बॉयफ्रेंड के लिए सरप्राइज़ प्लान करें. अचानक उनके ऑफिस पहुंचकर डिनर पर ले जाएं या घर पर बुके या कोई गिफ्ट भेजकर उसे ख़ुश कर दें.
– किसी ऐसे दोस्त या रिश्तेदार से फोन पर बात करें, जिससे आपने कई महीनों से बात न की हो. हो सकता है आपका यह फोन कॉल आपकी लाइफ को इंट्रेस्टिंग बना दे.

कुछ नया ट्राई करें

– कुछ दिनों की छुट्टी पर घूमने चले जाएं. कोई ऐसी जगह चुनें, जहां आप कभी नहीं गए. और ऐसी जगह पर अकेले जाएं, ताकि नई जगह पर नए-नए लोगों से मिल सकें. नए दोस्त हमारी ज़िंदगी में अक्सर बदलाव लाते हैं.
– कोई नई हॉबी ट्राई करें. बचपन से आपके दिल में कोई न कोई ऐसी हॉबी होगी, जिसे आप सीखना चाहते थे, तो उसे अभी करें.
– अगर अपनी जॉब से आप बोर हो चुके हैं या कई सालों से एक ही जगह काम करने के कारण ऊब गए हैं, तो तुरंत नई जॉब ढूंढ़कर वहां से निकल जाएं.
– किसी एनजीओ से जुड़कर उनके लिए कुछ काम करें. अपने फ्री टाइम में दूसरों की मदद करने से भी आपकी ज़िंदगी में फ्रेशनेस आएगी. किसी की मदद करनेवाली फीलिंग्स इंसान को हमेशा ख़ुश और उत्साहित रखती हैं.
– अपने घर के इंटीरियर को चेंज करें. घर में छोटे-मोटे बदलाव करने से भी लाइफ में बड़े बदलाव आते हैं. माहौल बदलेगा, तो आपका मूड अपने आप बदलेगा.
– कुकिंग का शौक़ है, तो कोई रेसिपी सीखें और घरवालों को खिलाकर वाहवाही लूटें.
– एक बात याद रखें, जितना हो सकता है, उतना ही काम करें, चाहे घर हो या ऑफिस. जिन कामों के कारण आपको बेवजह का तनाव हो रहा है, उन्हें किसी और को करने के लिए दे दें.
– सकारात्मक सोच की शक्ति बढ़ाएं. नुक़सान होने पर घबराएं नहीं, बल्कि सोचें कि जो हो रहा है, उसके पीछे ज़रूर कुछ अच्छाई छिपी है.

ये भी पढें: 40 Secrets शादी को सक्सेसफुल बनाने के 

– अनीता सिंह

बुज़दिल होते हैं वो लोग जो ज़िंदगी को छोड़ मौत को गले लगाते हैं. ईश्‍वर ने हमें जो अनमोल जीवन दिया है, उसे यूं ही बस छोटी-सी परेशानी के दबाव में आते ही क्यों अक्सर लोग त्याग देते हैं. दुखों को सहने की क्षमता जिनमें नहीं होती अक्सर वही लोग सुंदर से जीवन को ख़त्म कर देते हैं. कभी समझदार तो कभी कोमल मन वाले बच्चे भी परीक्षा में कम नंबर मिलने के कारण आत्महत्या कर लेते हैं. आपका जीवन आपके अपनों और ख़ुद आपके लिए अनमोल है. इसे इस तरह ज़ाया न करें. छोटी-छोटी परेशानियों से तंग आकर इस पर फुलस्टॉप न लगाएं.

मज़बूत बनो
मज़बूत हो इरादा तो बड़े से बड़ा दुख भी आपके हौसले को पस्त नहीं कर सकता. इसका ताज़ा उदाहरण 2015 की आईएएस टॉपर इरा सिंहल हैं. शारीरिक रूप से कमज़ोर होने के बाद भी इरा ने हार नहीं मानी और अंत में जीतकर ही दम लिया. अक्सर कमज़ोर दिल के लोग झट से जीवन की आस छोड़ देते हैं. जीवन के उतार-चढ़ाव को झेलने में समर्थ नहीं होते और कमज़ोंरों की तरह अपने आपको ही ख़त्म कर लेते हैं. उन्हें ऐसा लगता है कि उनके इस क़दम से परेशानी ख़त्म हो जाएगी. वो ये नहीं जानते कि उनके इस तरह से दुनिया से जाने के बाद उनके अपनों के सामने मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ता है. किसी भी परेशानी के सामने जब आपको लगे कि अब आप दम तोड़ देंगे, तभी बस एक कोशिश और करें. यक़ीन मानिए आपके इस हौसले को देखकर ख़ुद परेशानी आपके सामने घुटने टेक देगी.

ख़ुद पर विश्वास रखो
12 अप्रैल 2012 में ट्रेन हादसे में अपना एक पैर गंवा देने वाली नेशनल लेवल की वॉलीवॉल प्लेयर अरुणिमा सिन्हा का वो अपने ऊपर विश्‍वास ही था, जो उन्हें एवरेस्ट पर फतह करने से नहीं रोक पाया और वो एवरेस्ट पर फतह करने वाली भारत की पहली विकलांग महिला बनीं. एक पैर गंवा देने के बाद भी अरुणिमा के हौसले को कोई हिला नहीं सका, तो सही सलामत होते हुए भी आप क्यों छोटी-सी मुश्किल के आते ही डर जाते हैं. परेशानियों से हारकर जीवन को ख़त्म कर देना तो बहुत आसान है, लेकिन उसे जीना उतना ही मुश्किल. कायरों की तरह आप भी इस तरह का क़दम उठाने से पहले अपने ऊपर एक बार फिर से विश्‍वास करके देखिए. क्या पता अगले दिन का उगता सूरज आपके लिए नई रोशनी के साथ आया हो.

यह भी पढ़ें: हार से हारे नहीं…


दुख बांटे

इस संसार में आए हैं, तो निश्‍चय ही ईश्‍वर ने आपके लिए कुछ स्पेशल करने को छोड़ा है. ऐसे में उसकी मर्ज़ी के बग़ैर बीच में ही जीवन को समाप्त करना उचित नहीं. इस बात को जान लें कि अगर दुख है, तो दुख का कोई न कोई हल भी है. इस बात को गांठ बांध लें. कुछ दिनों से अगर आप किसी बात से परेशान हैं और समझ नहीं आ रहा है कि क्या करें, तो किसी अपने से उसे बांटकर देखें. हो सकता है कि जो परेशानी आपके लिए बहुत बड़ी हो, उसका हल आपके अपने के पास हो. दुखों से परेशान होकर झट से आत्महत्या करना किसी तरह का समाधान नहीं है.

ख़ुद से प्यार करें
अपने आप से बहुत ज़्यादा अपेक्षाएं करना बंद कीजिए. अपनी क्षमता के अनुसार ही अपने ऊपर ज़िम्मेदारियों का बोझ डालिए. जब आप ख़ुश और सुखी रहेंगे तभी तो परिवार को ख़ुश रख पाएंगे. शायद आप ये बात नहीं जानते, लेकिन ये सच है. जिस तरह से आपको परिवार की चिंता लगी रहती है, ठीक उसी तरह से परिवार भी आपके बारे में सोचता है. ऐसे में अपने आपको दूसरों से अलग करके और अपना ख़्याल न रखकर आप अपने साथ-साथ परिवार को भी दुखी करते हैं. कुछ लोग ख़ुद ही अपने बारे में ये फैसला कर लेते हैं कि वो अपनी ज़िम्मेदारियों को सही तरह से नहीं निभा पा रहे हैं और अंत में एक दिन इन्हीं सब से परेशान होकर वो ग़लत क़दम उठाते हैं. जीवन का अंत करके आप अपने लोगों को कितनी बड़ी परेशानी में डालकर जा रहे हैं, ये आपको पता नहीं. जिन अपनों के लिए आप दिन-रात एक कर देते हैं, उन्हें एक दिन यूं अकेले छोड़कर जाना कितना उचित है?

जिन्होंने कभी नहीं मानी हारी
– क्लासिकल डांसर और अभिनेत्री सुधा चंद्रन
– म्यूज़िक डायरेक्टर रविंद्र जैन
– स्काई डाइवर साईं प्रसाद विश्‍वनाथन
– पेंटर एंड फोटोग्राफर साधना धंड

अधिक जीने की कला के लिए यहां क्लिक करें: JEENE KI KALA