Tag Archives: happy

सीखें ख़ुश रहने के 10 मंत्र (10 Tips To Stay Happy)

Happy

सीखें ख़ुश रहने के 10 मंत्र

आज की लाइफस्टाइल में खुश रहना भी किसी चुनौती से कम नहीं, पर इन टिप्स को आज़माकर आप भी रह सकते हैं खुश और पॉज़िटिव

1 आप हैं तो सबकुछ है, इसलिए सबसे पहले ख़ुद से प्यार करना सीखें.

2 अगर आप ख़ुश हैं, तो आप दूसरों को भी ख़ुश रखते हैं. इसलिए अपनी ख़ुशियों को प्राथमिकता दें.

3 यदि आपको किसी से कुछ कहना है, तो कह दीजिए, क्योंकि कह देने से मन हल्का हो जाता है. यदि आप मन की बात कह नहीं सकते, तो उसे काग़ज़ पर लिख दीजिए, ऐसा करने से भी आप हल्का महसूस करेंगे.

4 रिश्ते अनमोल होते हैं, इसलिए अपने रिश्तों की क़द्र करें और उन्हें पर्याप्त समय दें.

5 दोस्तों के साथ हम सबसे ज़्यादा ख़ुश रहते हैं, इसलिए दोस्तों के साथ समय गुज़ारें.

6 किसी भी मनमुटाव को मन में रखने से मन भारी हो जाता है और तनाव बढ़ जाता है, ख़ुश रहने के लिए माफ़ करना सीखें.

7 आपकी उम्र चाहे जो होे, अपने भीतर के बच्चे को कभी बड़ा न होने दें. उसे शरारतें करने दें, तभी आप ज़िंदगी की असली ख़ुशी महसूस कर सकेंगे.

8 आप चाहे कितने ही बिज़ी क्यों न हों, अपने शौक़ के लिए समय ज़रूर निकालें. इससे आपको कभी बोरियत नहीं महसूस होगी और आप ज़िंदगी से हमेशा प्यार करेंगे.

9 ख़ुशी पाने से कहीं ज़्यादा ख़ुशी देने से संतुष्टि मिलती है, इसलिए जीवन में ऐसे काम ज़रूर करें जिनसे आप दूसरों के चेहरे पर ख़ुशी बिखेर सकें.

10 स्वस्थ और फिट रहें, क्योंकि बीमार शरीर कभी ख़ुश नहीं  रह सकता.

– वंशज विनय

यह भी पढ़ें: कल कभी नहीं आता (Tomorrow Never Comes)

यह भी पढ़ें: सफलता के 10 सूत्र (10 Ways To Achieve Your Dream)

20 बेस्ट फ्रेंडशिप डे मैसेजेज़ (Friendship Day Messages)

बेस्ट फ्रेंडशिप डे मैसेजेज़

इस बार फ्रेंडशिप डे पर अपने दोस्त को ख़ास अंदाज़ में विश करें. कुछ शेरो-शायरी या कोई ख़ूबसूरत सी बात कहकर हमारे साथ
हैप्पी फ्रेंडशिप डे (Friendship Day) …

बेस्ट फ्रेंडशिप डे मैसेजेज़, meri saeli magazine

1. ज़िंदगी में एक ऐसा दोस्त होना बेहद ज़रूरी है
जिसको दिल का हाल बताने के लिए लफ्ज़ों की ज़रूरत न पड़े

2. व़क्त चलता रहा, ज़िंदगी सिमटती रही
दोस्त बढते गए, दोस्ती घटती गई

3. अब मैंने भी कलम रखना सीख लिया है दोस्तों
जिस दिन भी कोई कहेगा कि हम तुम्हारे हैं
दस्तखत करवा लेंगे

4. कुछ पल ख़ामोशियों में ख़ुद से रूबरू हो लेने दो यारों
ज़िंदगी के शोर में ख़ुद को सुना नहीं मुद्दतों से मैंने

5. इस बार मिलने की शर्त ये रखेंगे
दोनों अपनी घड़ियां उतार फेंकेंगे

6. मसरूफ हम भी बहुत हैं ज़िंदगी की उलझनों में दोस्तों
पर उलझनों में दोस्तों को भुला देना दोस्ती नहीं होती

7. लिखा था आज राशि में
खज़ाना मिल सकता है कि गली में अचानक दोस्त पुराना दिख गया

8. दोस्त शब्द का मतलब बड़ा ही मस्त होता है
हमारे दोष को जो अस्त कर दे वही दोस्त होता है

9. मुझे लिखकर कहीं महफूज़ कर लो दोस्तों
आपकी यादों से निकलता जा रहा हूं मैं

10. किस्मत वालों को ही मिलती है पनाह दोस्तों के दिल में
यूं ही हर शख़्स जन्नत का हकदार नहीं होता

यह भी पढ़ें: रक्षाबंधन के लिए 25+ स्मार्ट गिफ्ट आइडियाज़

यह भी पढ़ें: Shayeri

11. क्या फर्क है दोस्ती और मुहब्बत में
रहते दोनों दिल में हैं, लेकिन फरक बस इतना है
बरसों बाद मिलने पर मुहब्बत नज़र चुरा लेती है
और दोस्ती गले से लगा लेती है

12. ज़रूरत ही नहीं अल्फाज़ की
दोस्ती तो चीज़ है बस एहसास की
पास होते तो मंज़र ही क्या होता
दूर से ही ख़बर है हमें आपकी हर सांस की

13. गए तो सोचकर बात बचपन की होगी
दोस्त मुझे अपनी तरक्की के किस्से सुनाने लगे

14. कुछ मीटी सी ठंडक है आज इन हवाओं में
शायद दोस्तों की यादों का कमरा खुला रह गया है

15. गुण मिले तो गुरु बनाओ
चित्त मिले तो चेला
मन मिले तो मित्र बनाओ
वरना रहो अकेला

16. सारे साथी काम के सबको अपनो मोल
जो मुश्किल में साथ दें, वो सबसे अनमोल

17. फ्रेंड्स की कमी को जानते हैं हम
दुनिया के दर्द को पहचानते हैं हम
साथ है आप जैसे फ्रेंड्स का तभी तो
ज़िंदगी हंसकर जीना जानते हैं हम

18. दोस्त के साथ अंधेरे में चलना उजाले में अकेले चलने से बेहतर होता है

19. फोन होल्ड पर रख सकते हैं दोस्ती नहीं….

20. रूठना-मनाना ही तो दोस्ती का टॉनिक है

 

 

 

बर्थडे स्पेशल: किसान की बेटी से गोल्डन गर्ल मैरी कॉम तक का सफ़र (Happy Birthday Mary Kom)

Mary_Kom3

1 मार्च 1983 को मणिपुर के एक छोटे-सा गांव में किसान के घर जन्म लेनेवाली मैरी कॉम को मेरी सहेली (Meri Saheli) की ओर से जन्मदिन की शुभकामनाएं. एक किसान की बेटी के लिए बॉक्सिंग रिंग में अपना करियर बनाना कोई आसान काम नहीं था. गांव में न प्रैक्टिस करने की जगह और न ही उतनी सुविधाएं. बॉक्सर की डायट भी मुश्किल से ही मिल पाती थी. ऐसे में बॉक्सिंग रिंग में भारत का नाम रोशन करनेवाली मैरी कॉम देश के लिए बेहद ख़ास खिलाड़ी बन गई हैं. आइए, एक नज़र डालते हैं मैरी कॉम की कुछ दिलचस्प बातों पर.

  • मैरी कॉम का जन्म 1 मार्च, 1983 को मणिपुर के चुराचांदपुर जिले में एक गरीब किसान के परिवार में हुआ था.
  • मैरी कॉम का पूरा नाम मैंगते चंग्नेइजैंग मैरी कॉम है.
  • एशियन महिला मुक्केबाज़ी प्रतियोगिता में उन्होंने 5 स्वर्ण और एक रजत पदक जीता है.
  • महिला विश्‍व वयस्क मुक्केबाज़ी चैम्पियनशिप में भी उन्होंने 5 स्वर्ण और एक रजत पदक जीता है.
  • एशियाई खेलों में मैरी ने 2 रजत और 1 स्वर्ण पदक जीता है.
  • 2012 के ओलिंपिक में मैरी ने कांस्य पदक जीता था.
  • मैरी ने इंडोर एशियन खेलों और एशियन मुक्केबाज़ी प्रतियोगिता में भी स्वर्ण पदक जीता है.
  • साल 2001 में पहली बार नेशनल वुमन्स बॉक्सिंग चैंपियनशिप जीतने वाली मैरी कॉम अब तक 10 राष्ट्रीय खिताब जीत चुकी हैं.
  • मैरी कॉम को साल 2003 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया.
  • मैरी कॉम के जीवन पर एक फिल्म भी बनी. इसमें प्रियंका चोपड़ा ने मैरी कॉम की भूमिका निभाई.
  • मैरी कॉम पहली भारतीय महिला एथलीट हैं, जिन पर फिल्म बनी.

श्वेता सिंह

बर्थडे स्पेशल: क्यों डैनी ने ठुकराया था गब्बर का रोल? जानिए डैनी के बारे में ऐसी ही 5 दिलचस्प बातें (Birthday Special: 5 interesting facts about Danny)

Danny Denzongpa

Danny Denzongpa

बॉलीवुड के चुनिंदा विलेन का नाम लिखा जाए और डैनी डेंग्जोंग्पा का नाम न लिया जाय, हो ही नहीं सकता. फिल्मों में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों के दुश्मन बनने वाले डैनी का अभिनय वहीं साबित हो जाता है, जब दर्शक उनको परदे पर देखकर ग़ुस्सा हो जाते हैं. एक अभिनेता होने के नाते डैनी के लिए ये बहुत बड़ी बात है. 25 फरवरी 1948 को गंगटोक में जन्में डैनी को मेरी सहेली (Meri Saheli) की ओर से जन्मदिन की बहुत-बहुत शुभकामनाएं! डैनी के बर्थडे के मौ़के पर आइए, जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें.

मां के कहने पर बने ऐक्टर
अगर आपको लगता होगा कि डैनी का सपना एक एक्टर बनना था, तो आप ग़लत हैं. बचपन से ही डैनी इंडियन आर्मी की पोशाक पहनना चाहते थे. वो इंडियन आर्मी जॉइन करना चाहते थे, लेकिन मां के दिल ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया. मां के मना करने पर डैनी ने फिल्म इंडस्ट्री में क़िस्मत आज़मायी और बेस्ट ऐक्टर बनकर नाम कमाया.

जया बच्चन ने दिया डैनी नाम
अगर आपको लगता होगा कि डैनी का ये नाम उनके घरवालों या दोस्तों ने रखा, तो आप ग़लत हैं. उन्हें ये नाम जया बच्चन ने दिया. पुणे के फिल्म एंड
टेलीविज़न संस्थान में दोनों ने साथ में पढ़ाई की है. उस दौरान जया ने डैनी को ये नाम दिया. असल में डैनी का ओरिज़नल नाम शेरिंग फिंस्टो डेंज़ोंग्पा है. जया ने कहा कि फिल्म इंडस्ट्री में इस तरह का नाम नहीं चलेगा. उन्हें कुछ शॉर्ट और स्वीट नाम रखना चाहिए. तब ख़ुद जया ने ही उन्हें यह नाम सुझाया.

क्यों ठुकराया था गब्बर का रोल?
फिल्म शोले के गब्बर का रोल माइलस्टोन था और अमज़द ख़ान इस एक फिल्म से वो नाम कमा गए, जो शायद ही कई फिल्में करने के बाद भी एक्टर्स नहीं कमा पातें. क्या कभी आप सोच भी सकते हैं कि गब्बर के रोल के लिए निर्देशक की पहली पसंद डैनी ही थे. कई दिन डैनी के आगे-पीछे चक्कर काटने के बाद
जब निर्देशक रमेश शिप्पी को डैनी की डेट्स नहीं मिली, तो वो अमज़द ख़ान को ये रोल ऑफर कर दिएं.

danny

बेहतरीन सिंगर और बांसुरी वादक
आपको जानकर हैरानी होगी कि परदे पर हीरोइनों के साथ छेड़खानी करने वाला, हीरो के साथ फाइटिंग करने वाला विलेन अपने रियल लाइफ में एक बेहतरीन सिंगर है. जी हां, डैनी बहुत अच्छा गाते हैं. इतना ही नहीं बेहतरीन सिंगर होने के साथ ही डैनी बहुत अच्छा फ्लूट भी बजा लेते हैं. वो एक अच्छे बांसुरी वादक हैं.

संडे के दिन नहीं करते शूटिंग
डैनी के काम करने का अपना एक उसूल है. वो काम के पीछे अपना 100 परसेंट देते हैं, लेकिन संडे का दिन वो स़िर्फ अपनी फैमिली के लिए रखते हैं. डैनी संडे के दिन कभी शूटिंग नहीं करते. ये बहुत बड़ी बात है, क्योंकि फिल्म इंडस्ट्री में काम दिन और समय देखकर नहीं होता. लगातार शेड्यूल चलता रहता है. ऐसे में डैनी का अपनी शर्त पर काम करना इस बात को दर्शाता है कि वो काम के साथ-साथ अपनी फैमिली को भी बहुत एहमियत देते हैं.

डैनी के 5 बेस्ट डायलॉग

अपना उसूल कहता है… अगर फ़ायदा हो,
तो झूठ को सच मान लो, दुश्मन को दोस्त बना लो.

इंसान और लक, दोनों का कोई भरोसा नहीं.

 कमज़ोर की दोस्ती ताक़तवर के वार को कम कर देती है.

पैसा होने से लक नहीं बनता है,
मगर लक होने से पैसा बनता है.

चांद पर पहुंचना हो, तो सितारों पर नहीं रुका करते,
वो तो ख़ुद गिरते रहते हैं.

– श्वेता सिंह

फेंगशुई के 7 लकी चार्म आपकी लव लाइफ को बनाएंगे हेल्दी और हैप्पी (Fengshui 7 lucky charm for happy & healthy love life)

Fengshui

FotorCreated

सुखी दाम्पत्य जीवन के लिए रिश्ते की नींव का मज़बूत होना ज़रूरी है. इससे आपसी प्रेम के साथ-साथ पति-पत्नी के बीच विश्‍वास भी गहरा होता है. आप अपने दाम्पत्य जीवन की नींव को कैसे मज़बूत बना सकते हैं? आइए, जानते हैं.

 

जीवनसाथी के साथ तस्वीर

मकान की दक्षिण-पश्‍चिम दीवार पर जीवनसाथी के साथ अपनी मुस्कुराती हुई तस्वीर लगाएं. इससे पति-पत्नी के बीच प्रेम संबंध और भी गहरा होता है और रिश्ते को मज़बूती मिलती है.

स्मार्ट टिप
मगर इस बात का ध्यान रखें कि तस्वीर में आप दोनों एकसाथ हों, दोनों की अलग-अलग तस्वीर लगाने की भूल न करें.

प्रेमी परिंदों की पेंटिंग

अगर आप अपनी तस्वीर लगाना नहीं चाहते हैं, तो मकान की दक्षिण-पश्‍चिम दीवार पर दो प्रेमी परिंदों की पेंटिंग भी लगा सकती हैं. इससे पति-पत्नी के बीच म्युचुअल अंडरस्टैंडिंग बढ़ती है. ऐसी पेंटिंग न्यूली मैरिड कपल के लिए ज़्यादा असरदार और लाभदायक होती है. आप चाहें तो न्यूली मैरिड कपल को ये तस्वीर गिफ्ट भी कर सकते हैं.

स्मार्ट टिप
इस बात का विशेष ध्यान रखें कि प्रेमी परिंदे पिंजड़े में कैद न हों. दोनों खुले आसामां में या किसी डाली पर एकसाथ हों.

डांसिंग डॉलफिन की तस्वीर

दाम्पत्य जीवन की ख़ुशहाली के लिए डॉलफिन फिश भी शुभ मानी जाती है, ख़ासकर डांसिंग डॉलफिन यानी नाचती हुई डॉलफिन फिश की तस्वीर. प्रेमी परिदों की तरह डॉलफिन फिश की तस्वीर भी जोड़ी में लगाएं, परंतु इसे दक्षिण-पश्‍चिम दिशा में नहीं, बल्कि दक्षिण-पूर्व दिशा में लगाएं.
स्मार्ट टिप
स़िर्फ एक या दो अलग-अलग डॉलफिन की तस्वीर को एकसाथ न लगाएं और ये भी ध्यान रहे कि डॉलफिन डांस करती हों.

4476080-red-rose-wallpapers

फ्रेश रेड फ्लावर्स

न स़िर्फ लाल रंग, बल्कि फूल भी प्रेम का प्रतीक माने जाते हैं. इसलिए इनकी मौजूदगी से पति-पत्नी के रिश्ते और भी मज़बूत होते हैं. आपसी प्रेम बढ़ाने के लिए ताज़े लाल रंग के
फूल मकान के दक्षिण-पूर्व दिशा में रखें. ऐसा करने से प्रेम के साथ-साथ रिश्तों में गरमाहट भी बनी रहेगी.

स्मार्ट टिप
कांटे वाले फूल न रखें और जब फूल मुरझा जाएं, तो उन्हें हटा दें. मुरझाए हुए फूल नकारात्मक ऊर्जा के संचार में सहायक होते हैं.

ब्राइट लाइट बल्ब

ख़ुशहाल शादीशुदा ज़िंदगी के लिए यदि आपके घर के सामने गार्डन है, तो गार्डन के दक्षिण-पश्‍चिम दिशा में खंभे पर ब्राइट शेड के छोटे-छोटे लाइट्स लगाएं. शीघ्र परिणाम के लिए यलो शेड का लाइट भी चुन सकती हैं.

स्मार्ट टिप
डल शेड्स के लाइट्स चुनाव न करें और जब भी लाइट में ख़राबी हो, तो उसे तुरंत ठीक करवाएं.

Duck-1

मैडरिन बत्तख की प्रतिमा

मैडरिन बत्तख भी प्रेम का प्रतीक माने जाते हैं. अपने रिश्ते को और भी मज़बूत बनाने के लिए बेडरूम की दक्षिण-पश्मिच दिशा में मैडरिन बत्तख की प्रतिमा रखें. इससे शादी के शुरुआती दिनों वाले प्रेम के लम्हें वापस लौट आएंगे.

स्मार्ट टिप
मैडरिन बत्तख भी जोड़ी में होने चाहिए. इसका ख़ास ख़्याल रखें.

स़फेद घोड़ों की पेंटिंग

तरक्क़ी का प्रतीक माने जाने वाला घोड़ा लव लाइफ के लिए भी लाभदायक होता है. मकान की उत्तर-पश्‍चिम दिशा में
स़फेद रंग के दो घोड़ों की तस्वीर लगाने से पति-पत्नी के रिश्ते को मज़बूती मिलती है और रिश्ते में गरमाहट भी बनी रहती है.

स्मार्ट टिप
घोड़ा स़फेद रंग का हो और तस्वीर में जोड़ी में हो, इस बात का ध्यान रखें.

 

 

कहानी- पासवाले घर की बहू ( Hindi Kahani – Paswale Ghar Ki Bahu )

हैप्पी बर्थडे राकेश शर्मा (Happy Birthday Rakesh Sharma)

rakesh-sharma

बचपन में जब जनरल नॉलेज की बुक में राकेश शर्मा का नाम अंतरिक्ष में जानेवाले पहले भारतीय के रूप में पढ़ते थे, तो गर्व से भर जाते थे. समझ तो तब बहुत ज़्यादा नहीं थी, लेकिन इतना पता था कि भारत की ओर से यह अद्भुत काम करनेवाला ज़रूर कोई महान व्यक्ति है. देश को गौरवान्वित करनेवाले राकेश शर्मा को उनके जन्मदिन पर मेरी सहेली की ओर से बहुत-बहुत शुभकामनाएं!

सारे जहां से अच्छा…
8 दिन की अंतरिक्ष यात्रा के दौरान जब राकेश शर्मा से इंदिरा गांधी ने पूछा कि ऊपर से भारत कैसा लगता है? तब राकेश ने स़िर्फ इतना कहा, सारे जहां से अच्छा. राकेश शर्मा का ये जवाब दूसरे दिन अख़बारों की सुर्खियां बन गया. हर हिंदुस्तानी गर्व से भर गया.

rakesh-sharma05_145266865

स्पेस में खिलाया सबको भारतीय व्यंजन
अब का समय और पहले का समय बहुत अलग था. आज आप देश में रहते हुए भी किसी दूसरे देश के खाने का स्वाद चख सकते हैं. उस समय ये इतना आसान नहीं था. स्पेस में जाने के बाद पहली बार किसी रशियन ने इंडियन फूड का स्वाद चखा था. ये खाना राकेश शर्मा लेकर गए थे.

स्पेस योगा के जन्मदाता
फिट और फाइन रहने के लिए भले ही आप रोज़ाना योगा नहीं कर पाते हों, लेकिन उस समय अंतरिक्ष में जाने के बाद हर दिन 10 मिनट तक राकेश शर्मा योगा किया करते थे.

– श्वेता सिंह 

 

बर्थडे स्पेशल: संगीत प्रेमियों के चितचोर यसुदास के टॉप 5 गाने (Birthday Special: top 5 songs of Yesudas)

yesu1

साउथ से लेकर नार्थ तक को अपनी आवाज़ से जोड़नेवाले संगीत प्रेमियों के चितचोर यसुदास को मेरी सहेली की ओर से जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई! आवाज़ के इस जादूगर ने अपनी आवाज़ से न केवल दक्षिण भारत, बल्कि पूरे देश को अपना दीवाना बना दिया. आमतौर पर ऐसा होता नहीं. फिल्म इंडस्ट्री बंटी हुई है. भले ही एक-दो फिल्म इधर-उधर लोग कर लें, लेकिन साउथ के लोग वहां और बॉलीवुड के लोग यहां अपनी सफलता कमाते हैं. यसुदास ने इस लाइन को पूरी तरह से क्रॉस करते हुए दोनों जगह के लोगों को अपना दीवाना बनाया और ख़ूब सफलता प्राप्त की.

आवाज़ के जादूगर
यसुदास की आवाज़ में ग़ज़ब की खनक है. उनके गाने को बिना संगीत के भी पिरोया जा सकता था. इसका मुख्य कारण है, उनकी खनकती आवाज़. लोग उन्हें आवाज़ का जादूगर कहते हैं. 10 जनवरी 1940 में केरल के कोच्चि शहर में जन्में यसुदास नेे मलयालम, तमिल, कन्नड़, हिंदी सहित कई भाषाओं में गीत गाए हैं. तभी तो केवल साउथ ही नहीं, बल्कि पूरे देश में उनके दीवाने हैं.

जब देश के लिए जुटाए फंड
आज की तरह के गायकों से एकदम अलग यसुदास स़िर्फ अपने लिए नहीं गाते. ऐसे कई मौ़के आए हैं, जब उन्होंने देश को अपनी तरफ़ से आर्थिक मदद की है. साल 1965 में जब भारत और चीन के बीच युद्ध हुआ, तो यसुदास रिकॉर्डिग रूम से बाहर निकले और कई जगह गाना गाकर युद्ध के लिए फंड जुटाने लगे. इसी तरह 1971 में भी जब बांग्लादेश को पाकिस्तान से आज़ाद कराने के लिए भारत ने युद्ध शुरू किया, तो यसुदास सड़कों पर उतर आए और खुले ट्रक में गाने गाते हुए राष्ट्र के लिए एक बार फिर फंड जुटाया.

एक नज़र यसुदास के माइल स्टोन गानों पर
चांद जैसे मुखड़े पे बिंदिया सितारा… गोरी तेरा गांव बड़ा प्यारा… जैसी कई रोमांटिक गाने आज भी पॉप्युलर हैं. यसुदास की खनकती आवाज़ में गाए इन गानों को एक बार फिर सुनिए आप.

 

श्वेता सिंह

बर्थडे स्पेशल: हैप्पी बर्थडे कपिल पा जी (Happy Birthday Kapil Dev)

kapil dev

kapil dev

भारत को पहला विश्‍व कप दिलानेवाले कपिल पा जी को जन्मदिन की ढेर सारी बधाइयां. 6 जनवरी 1959 को जन्में कपिल देव हरफनमौला खिलाड़ी थे. आपको ये जानकर हैरानी होगी कि कपिल पा जी फिटनेस के चलते कभी भी टीम से बाहर नहीं रहे यानी वो मैदान के अंदर और बाहर दोनों जगह फिट एंड फाइन रहते थे. आज भी कॉमेंट्री बॉक्स में कपिल देव की कॉमेंट्री लोगों में जोश भर देती है.

कपिल देव को साल 1979-80 में अर्जुन अवॉर्ड, 1982 में पद्मश्री, 1983 में विसडन क्रिकेटर ऑफ द ईयर, 1991 में पद्म भूषण, 2002 में विसडन इंडियन क्रिकेटर ऑफ द सेंचुरी से सम्मानित किया गया.  इसके अलावा कपिल के योगदान को देखते हुए उन्हें 24 सितंबर 2008 को भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल का दर्जा दिया गया.

देश को पहली बार वर्ल्डकप जिताने वाले कपिल देव को एक बार मैच फिक्सिंग का आरोप भी झेलना पड़ा था. बात उस समय की है, जब उन्हें भारतीय क्रिकेट टीम के कोच के रूप में चुना गया था. उस समय मनोज प्रभाकर ने उनके ऊपर फिक्सिंग का आरोप लगाया, जिसके चलते कपिल देव ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया.

श्वेता सिंह 

बर्थडे स्पेशल: ग़लती से बने राजनेता, लेकिन देश को लाए सही राह पर (Birthday Special: happy birthday Atal Bihari Vajpayee)

atal-bihari-vajpayee5

मेरे प्रभु!
मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना,
ग़ैरों को गले न लगा सकूं,
इतनी रुखाई कभी मत देना.

कविता की चंद लाइनें अपने आप कह जाती हैं कि ये किसी महान हस्ती द्वारा रचित हैं. ख़ुद लाइनें भी गौरवांन्वित हो उठती हैं, जब अटल जैसा कोई उन्हें पन्नों पर स्याही से उकेरता है. जी हां, कविता की ये चंद लाइनें हम आपके लिए लाए हैं. अपनी कविता की लाइन की ही तरह एक अद्भुत और अटल व्यक्तिव के धनी अटल बिहारी वाजपेयी जी को मेरी सहेली की ओर से जन्मदिन की हार्दिक बधाई! आइए, आज के इस स्पेशल डे पर जानते हैं अटल जी से जुड़ी कुछ ऐसी बातें, जो शायद ही आप जानते हों.

* 15 साल की उम्र में ही अटजी आरएसएस के फॉलोअर बन गए थे. ऐसे में वो वहां खाकी की हाफ पैंट पहनकर जाते थे. यह बात 1939 के आसपास की है. उस समय उनके पिता सरकारी स्कूल में पढ़ाते थे, इसलिए अटलजी का वो खाकी पैंट पहनकर बाहर निकलना उनके पिता की जॉब के लिए नुक़सानदायक साबित हो सकता था, इसलिए उनकी बहन उनकी उस पैंट को कभी घर के बाहर, तो कभी घर में ही कहीं फेंक देती थीं.

* फैमिली और कुछ ख़ास दोस्त अटलजी को बापजी कहकर बुलाते हैं.

* वाजपेयी पहले भारतीय प्रधानंत्री हैं, जिन्होंने यूएन में पहली बार हिंदी में भाषण दिया.

* अच्छे इंसान होने के साथ-साथ वाजपेयी एक उम्दा कवि भी हैं.

* कानपुर के डीएवी लॉ कॉलेज में अटल बिहारी वाजपेयी और उनके पिता एक-साथ क़ानून की पढ़ाई किए. दोनों ने हॉस्टल का कमरा भी शेयर किया.

श्वेता सिंह 

Happy Birthday First Indian tennis Icon विजय अमृतराज ( Happy Birthday First Indian tennis Icon Vijay Amritraj)

Vijay Amritraj

Vijay Amritraj

इंडियन टेनिस को दुनिया में पहचान दिलानेवाले विजय अमृतराज को जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई! विजय का जन्म 14 दिसंबर 1953 को चेन्नई में मैगी और रॉबर्ट अमृतराज के घर हुआ था. वर्ल्ड टेनिस में इंडिया को रिप्रेज़ेंट करनेवाले विजय पहले भारतीय खिलाड़ी हैं. विजय ने अपने करियर में काफ़ी उपलब्धियां हासिल कीं. 16 सिंगल्स और 13 डबल्स खिताब जीतनेवाले अमृतराज को डेविस कप टूर्नामेंट का हीरो कहा जाता था, क्योंकि उन्होंने डेविस कप में कई विश्‍व प्रसिद्ध दिग्गज खिलाड़ियों को मात दी थी.

टेनिस खेलते हुए विजय वर्ल्ड रैंकिंग में 16वें स्थान तक पहुंचे थे, जो कि भारत के लिए गर्व की बात थी. वैसे भी टेनिस का माहौल तब भारत में अनुकूल नहीं था. उसके लिए कोर्ट, और कोच, दोनों ही मिलना बहुत मुश्किल होता था. ऐसे में देश का नाम दुनिया में रोशन करनेवाले विजय अमृतराज देश के लिए एक बेहतरीन उपलब्धि साबित हुए. विजय अमृतराज देश के दूसरे खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा स्रोत बन गए. अपने खेल के साथ-साथ उन्होंने देश के नवोदित खिलाड़ियों को काफ़ी सहयोग किया.

टेनिस कोर्ट ही नहीं, बल्कि फिल्मों में भी विजय ने क़िस्मत आज़माया. जेम्स बांड फिल्म ऑक्टोपसी और स्टार र्टैक फोर में वो नज़र आए थे. इसके साथ ही विजय अमृतराज एक बेहतरीन कमेंटेटर भी हैं. उनकी कॉमेंट्री दुनिया के दिग्गज कॉमेंटेटरों में से एक है.

– श्वेता सिंह 

हैप्पी बर्थडे युवराज- लाइफ का असली युवराज (happy birthday Yuvraj- you are real yuvraj)

yuvraj singh

yuvraj singh

क्रिकेट के युवराज को मेरी सहेली की ओर से जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई !

युवराज से बने कीच के किंग
क्रिकेट और ज़िन्दगी में कमाल करनेवाले यूवी हाल ही में ही शादी के बंधन में बंधे हैं. टीम इंडिया का युवराज अब किंग बन गया है. फिलहाल यूवी अपनी नई नवेली दुल्हन के साथ एन्जॉय कर रहे हैं.
एक ओवर में ६ छक्के का कमाल
टी-२० वर्ल्ड कप २००७ की वो रात तो आपको याद ही होगी. सामने अंग्रेजों की टीम के हैंडसम स्टुअर्ट ब्रॉड बॉलिंग कर रहे थे और सामने थे इंडिया के युवराज. उस ओवर में यूवी ने ६ छक्के लगाकर रिकॉर्ड बना दिया. ऐसा करने वाले यूवी इंडिया ही नहीं दुनिया के एक मात्र बल्लेबाज़ हैं.
क्या है यूवी का कनेक्शन-१२ 
नंबर १२ का यूवी से ख़ास कनेक्शन है. बात चाहे १२ नंबर की जर्सी हो या कोई ख़ास फंक्शन, यूवी अपना हर स्पेशल काम इस डेट को करना चाहते हैं. ऐसा इसलिए है, क्योंकि यूवी को १२ नंबर से बहुत लगाव है. यूवी का बर्थ मंथ भी १२ है.
इंटरेस्टिंग फैक्ट्स
  • बचपन में यूवी को टेनिस और रोलर स्केटिंग बहुत पसंद था.
  • यूवी ने कई फिल्मों में भी बतौर बाल कलाकार काम किया है.
  • एनीमेशन फिल्म में युवराज ने अपनी आवाज़ दी थी.
  • यूवी अपने अफ़ेयर्स के लिए भी काफी चर्चा में रहे.
ज़िन्दगी की मुश्किल लड़ाई जीते युवी 
ज़िन्दगी और मौत के बीच कैंसर से लड़ रहे यूवी ने मौत को हराकर ज़िन्दगी को ज़िंदा रखा. क्रिकेट का ये युवराज कैंसर को हराकर असली खिलाड़ी बन गए. पूरी दुनिया ने यूवी के जज़्बे को सलाम किया.
– श्वेता सिंह 

हैप्पी बर्थडे सर जडेजा (Happy Birthday Sir Jadeja)

Ravindra Jadeja

Ravindra Jadeja

इंडियन क्रिकेट टीम के रॉकस्टार रविंद्र जड़ेजा को मेरी सहेली की पूरी टीम की ओर से जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई! गुजरात के जामनगर ज़िले में जन्मे जडेजा की कहानी बेहद रोचक है. जडेजा से वो टीम इंडिया के सर जडेजा बन गए हैं. टीम में उनकी मौजूदगी ही टीम को मज़बूती देती है. ये हैं टीम के बेस्ट ऑलराउंडर. इस स्पेशल डे पर आइए, जानते हैं इस रॉकस्टार की कुछ इंटरेस्टिंग बातें.

रविंद्र जडेजा के पिता चाहते थे कि वो आर्मी स्कूल में पढ़ें और आर्मी जॉइन करें.

जडेजा के पिता सिक्योरिटी गार्ड थे.

टीम इंडिया के इस सर को रॉकस्टार के नाम से भी जाना जाता है. उनको यह नाम ऑस्ट्रेलियन प्लेयर शेन वॉर्न ने दिया.

जडेजा जब टीनएज में थे तभी उनकी मां की डेथ हो गई.

क्रिकेट खेलने के अलावा जडेजा को घोड़ों का बहुत शौक़ है. रविंद्र के पास दो हॉर्स हैं. एक का नाम गंगा और दूसरे का केसर है.

राजकोट में जडेजा का एक रेस्टॉरेंट भी है. इसका नाम जद्दूस फूड फील्ड है.

जडेजा का लकी नंबर 12 है.

जडेजा को टीम इंडिया का बैंकर गेंदबाज़ कहा जाता है.

– श्वेता सिंह