health benefits of turmeric...

हल्दी वाला दूध हमारे किचन में मौजूद एक ऐसी प्राकृतिक दवा है, जो कई रोगों को तुरंत ठीक कर देता है. हमारी दादी-नानी रात में सोने से पहले हल्दी वाला दूध पीने की सलाह इसीलिए देती थीं, ताकि हम रोगों से बचे रहें और हमेशा स्वस्थ रहें. यहां पर हम आपको हल्दी वाले दूध के 10 ऐसे हेल्थ बेनिफिट्स बता रहे हैं, जिनके बारे में शायद आप नहीं जानते होंगे.

Turmeric Milk

ये हैं हल्दी वाले दूध के 10 हेल्थ बेनिफिट्स
हल्दी वाला दूध बड़े और बच्चे सभी पी सकते हैं. हमेशा स्वस्थ रहने के लिए हल्दी वाला दूध पीना बहुत फायदेमंद है. हल्दी वाला दूध पीने से कई समस्याओं से छुटकारा मिल जाता है.

1) जोड़ों के दर्द से छुटकारा मिलता है
आजकल कम उम्र के लोगों को भी जोड़ों के दर्द की समस्या होने लगी है. जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए हल्दी वाले दूध का सेवन किया जा सकता है. हल्दी में एंटी इंफ्लेमेट्री गुण होता है, इसलिए हल्दी वाला दूध पीने से जोड़ों की सूजन कम हो जाती हैं और मांसपेशियों के ऐंठन से भी आराम मिलता है. हल्दी वाले दूध में मौजूद करक्यूमिन और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण जोड़ों के दर्द को कम करने के साथ-साथ इसे अंदर से रिपेयर करने का काम भी करता है.

2) हड्डियां मजबूत बनाता है
हल्दी और दूध दोनों में कैल्शियम की मात्रा ज्यादा होती है, इसलिए रोजाना दो बार हल्दी वाला दूध पीने से हड्डियां मज़बूत होती है. इसके अलावा किसी भी तरह के फ्रैक्चर या बोन डैमेज के वक्त भी आप हल्दी वाला दूध पी सकते हैं. डॉक्टर्स भी ये सलाह देते हैं कि दिन में एक ग्लास दूध ज़रूर पीना चाहिए.

3) लिवर को डिटॉक्सीफाई करता है
हल्दी वाला दूध नेचुरल तरी़के लिवर को डिटॉक्सीफाई करता है. जब लिवर से सभी टॉक्सिन बाहर हो जाते हैं तब वो अच्छी तरह से ब्लड प्यूरीफाई कर देता है, इसलिए रोजाना रात को हल्दी वाला दूध पीएं.

4) कैंसर से लड़ता है
हल्दी में करक्यूमिन मौजूद होता हैं जो कैंसर को रोकने में मदद करता है, इसलिए हल्दी वाले दूध का सेवन करें. दूध में थोड़ी मात्रा में हल्दी डालकर आप कैंसर जैसी ख़तरनाक बीमारी से बच सकते हैं.

यह भी पढ़ें: दांतों की देखभाल के 5 आसान घरेलू उपाय (5 Homemade Dental Care Remedies)

Turmeric Milk

5) अनिद्रा से बचाता है
जिन लोगों को रात में नींद न आने की बीमारी है, उनके लिए हल्दी वाला दूध बेहतरीन दवा है. पुराने ज़माने में लोग सोने से पहले हल्दी वाला दूध पीया करते थे, क्योंकि हल्दी में ट्रायटोफन होता है जिससे अच्छी नींद आती है. यदि आपको भी अनिद्रा की समस्या है, तो रोज़ रात में सोने से पहले हल्दी वाला दूध जरूर पीएं.

6) पाचन शक्ति बढ़ाता है
दूध में हल्दी मिलाकर पीने से पाचन शक्ति बढ़ती है, लेकिन हल्दी वाला दूध पीते समय इस बात का ध्यान रखें कि आप टोन्ड मिल्क ही पीएं, क्योंकि ज्यादा फैट वाला दूध आसानी से नहीं पचता.

7) अंदरूनी चोट को ठीक करता है
यदि आपके शरीर के किसी बाहरी या अंदरूनी हिस्से में चोट लग गई है, तो तुरंत हल्दी वाला दूध पीएं. हल्दी वाले दूध में मौजूद एंटी बैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुण शरीर के अंदर बैक्टीरिया को पनपने नहीं देते और चोट को बहुत जल्दी ठीक कर देते हैं.

8) ऐंठन दूर करता है
हल्दी एंटीस्पैसमोडिक गुण के लिए जानी जाती है, क्योंकि ये मांसपेशियों की ऐंठन को भी ख़त्म कर देती है. अगर आप पीरियड्स के दो हफ्ते पहले से गरम हल्दी वाले दूध का सेवन करेंगी, तो आपको पीरियड्स के दौरान ऐंठन कम होगी.

Turmeric Milk

9) सर्दी-खांसी दूर भगाता है
हल्दी वाला दूध अपने एंटीवायरल और एंटी-बैक्टीरियल गुणों के कारण सर्दी-खांसी से तुरंत राहत देता है, इसीलिए सर्दी-जुकाम होने पर हल्दी वाला दूध पिलाया जाता है.

10) वजन घटाता है
मोटापा आजकल सबसे बड़ी समस्या हो गई है. यदि आप भो मोटापे से परेशान हैं, तो हल्दी वाला दूध पीएं. हल्दी वाला दूध शरीर से फैट कम करता है, जिससे वजन घटने लगता है और शरीर फिट रहता है.

यह भी पढ़ें: नींबू पानी के ये 10 हेल्थ बेनिफिट्स नहीं जानते होंगे आप (10 Health Benefits Of Lemon Juice)

ख़ूबसूरती भी बढ़ाता है हल्दी वाला दूध
ख़ूबसूरत त्वचा की ख़्वाहिश हर किसी को होती है आपकी भी होगी, तो इसके लिए पार्लर पर पैसे ख़र्च करने की बजाय हल्दी का पेस्ट बनाकर इसे स्क्रब के रूप में चेहरे पर लगाएं. फिर गुनगुने पानी से चेहरा धो लें. इससे न सिर्फ त्वचा दमकेगी, बल्कि मुंहासों की समस्या भी दूर हो जाएगी.

Health Benefits Of Turmeric (Haldi)

Health Benefits Of Turmeric (Haldi)

बरसों से भोजन व घरेलू उपचार के रूप में हल्दी का उपयोग (Health Benefits Of Turmeric) होता रहा है. हल्दी प्रोटीन, विटामिन, आयरन, कार्बोहाइड्रेट आदि गुणों से भरपूर है.
सर्दी-ज़ुकाम, कफ़, सूजन, दर्द आदि में इसका औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है. हल्दी में वात, पित्त व कफ़ को शमन करनेवाले व रक्त को शुद्ध करने के गुण भी हैं.

* हल्दी को पीसकर घी में भूनकर और शक्कर मिलाकर कुछ दिन खाने से डायबिटीज़ में लाभ होता है.
* यदि गले में दर्द या सूजन हो, तो कच्ची हल्दी अदरक के साथ पीसकर गुड़ मिलाकर गर्म कर लें और इसका सेवन करें.
* कान के दर्द में स़फेद फिटकरी व हल्दी एक-एक ग्राम लेकर पीस-छानकर एक-एक चुटकी कानों में डालें. दर्द व बहते हुए कान की यह रामबाण दवा है.
* हल्दी के साथ थोड़ी फिटकरी पीसकर लगाने से घाव जल्दी भरते हैं. चोट लगने के कारण ख़ून बहने लगे, तो इससे रुक जाता है.
* दांतों के पीलेपन को दूर करने के लिए हल्दी में सेंधा नमक मिलाकर मलें. यदि इसमें सरसों का तेल मिला दिया जाए, तो यह पायरियानाशक मंजन बन जाता है.
* यदि कोई ज़हरीला कीड़ा काट ले, तो प्रभावित हिस्से पर ताज़ा हल्दी का रस लगाने से लाभ होता है.
* मुंह में छाले हो जाने पर हल्दी पाउडर को गुनगुना करके छालों पर लगाएं या गुनगुने पानी में हल्दी पाउडर घोलकर उससे कुल्ला करें.
* हल्दी की गांठ तुअर की दाल में पकाकर उसे छाया में सुखा लें. इसे पानी में घिसकर सूर्यास्त के पहले, दिन में दो बार आंखों में लगाने से आंखों की लालिमा दूर होती है.
* हल्दी के टुकड़े को सेंककर रात में सोते समय मुंह में रखने से ज़ुकाम, कफ़ और खांसी में लाभ होता है. कष्टदायक खांसी भी इससे कम हो जाती है.
* चोट लगने या मोच आने पर हल्दी व फिटकरी को पीसकर तेल के साथ गर्म करके उसका पेस्ट बना लें. उससे गर्म-गर्म सेंक करें और उसकी पट्टी बांध लें. इससे दर्द में जल्द आराम होगा.

यह भी पढ़े: तुलसी के 15 हेल्थ बेनिफिट्स

यह भी पढ़े: जलने पर इन 21 घरेलू उपायों को आज़माएं

* गाय के मूत्र में हल्दी का चूर्ण और गुड़ मिलाकर सेवन करने से कुछ दिनों में हाथीपांव का रोग दूर हो जाता है.
* हल्दी की गांठ को आग में भूनकर उसका चूर्ण बना लें. इस चूर्ण को तीन ग्राम की मात्रा में एलोवीरा में मिलाकर सुबह-शाम सात दिन तक सेवन करने से बवासीर में लाभ होता है.
* आंखों की रोशनी को बढ़ाने के लिए हल्दी के कोमल पत्तों का रस निकालकर छान लें और इसकी दो-दो बूंद हर रोज़ डालें. इससे नेत्र ज्योति बढ़ती है.
* आंखों में सूजन या दर्द हो, तो पानी में हल्दी डालकर गर्म कर लें. ठंडी हो जाने पर छानकर इस पानी से आंखें धोएं.
* सनबर्न से यदि त्वचा झुलस जाए या काली पड़ जाए, तो हल्दी पाउडर में बादाम का चूर्ण और दही मिलाकर प्रभावित हिस्से पर लगाएं.
* यदि पैरों में बिवाइयां हों, तो उन पर सरसों का तेल लगाएं और ऊपर से थोड़ा-सा हल्दी पाउडर डालें.
* पीलिया की बीमारी में छाछ में हल्दी घोलकर लेने से भी लाभ होता है.
* यदि पेट में कीड़े हो गए हों, तो गुड़ और हल्दी मिलाकर सेवन करने से कीड़े मर जाते हैं.
* त्वचा संबंधी रोगों से निजात पाने के लिए हल्दी के चूर्ण को तिल या नारियल के तेल में मिलाकर लगाने से चर्मरोग में लाभ होता है.

– ऊषा गुप्ता

दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें-  Dadi Ma Ka Khazana