healthy sex life

भारतीय समाज में शादी के बाद तो क्या शादी के पहले भी मास्टरबेशन को सहज नहीं माना जाता. यहां मानसिकता यही है कि मास्टरबेट करना किसी पाप या घिनौने काम से कम नहीं. जबकि विशेषज्ञ कहते हैं कि हस्तमैथुन एक हेल्दी प्रक्रिया है बशर्ते उसकी अति ना हो.

ऐसे बहुत से लोग हैं जो शादी के बाद भी हस्तमैथुन करते हैं लेकिन वो खुलकर किसी को यह बात कहते नहीं हैं, क्योंकि उन्हें खुद भी यही लगता है कि वो कुछ ग़लत कर रहे हैं या अपने पार्टनर के साथ ग़लत कर रहे हैं. ऐसे में आइए जानने की कोशिश करते हैं कि शादी के बाद मास्टरबेट करना कितना सही है और कितना ग़लत.

मास्टरबेशन को लेकर अमेरिकन फिल्ममेकर वूडी एलन के कुछ कोट्स और बातें मशहूर हैं. उन्होंने मास्टरबेशन को सेल्फ लव से जोड़ा है. वो कहते हैं कि मास्टरबेशन क्यों छोड़ें? सेक्स उसी के साथ किया जाता है जिसे आप प्यार करते हैं तो ऐसे में क्या शादी के बाद आप खुद से प्यार नहीं करते या प्यार करना बंद कर देते हैं? अगर नहीं तो मास्टरबेशन क्यों छोड़ना.
मास्टरबेशन आपको अपने शरीर और सेकसुअल ज़रूरतों को बेहतर तरीक़े से समझने में मदद करता है.

शादी के बाद मास्टरबेशन करने का यह बिल्कुल अर्थ नहीं है कि आपकी सेक्स लाइफ सही नहीं और ना ही शादी के बाद मास्टरबेशन से आपकी सेक्स लाइफ पर बुरा असर होता है.
बल्कि यह इस बात का संकेत है कि आपकी सेक्स लाइफ ज़्यादा एक्टिव और हेल्दी है. यह दर्शता है कि आप सेकसुअली हेल्दी हैं.

महिलायें शुरू शुरू में सेक्स में सहज नहीं हो पातीं और ना ही वो ऑर्गैज़्म प्राप्त कर पाती हैं, ऐसे में मास्टरबेशन उन्हें तनाव से छुटकारा दिलाकर रिलैक्स फील कराता है.

Masturbation And Marriage

मास्टरबेशन से आप अपने शरीर और प्लेज़र पॉइंट्स को बेहतर तरीक़े से समझ पाते हैं जिससे आप सेक्स के दौरान अपने पार्टनर को यह बता सकते हैं कि आपको क्या ज़्यादा एक्साइटिंग लगता है, कौन से पार्ट को छूने से ज़्यादा उत्तेजित महसूस करते हैं.

अगर पार्टनर से दूर हैं तो मास्टरबेशन से खुद को संतुष्ट करना बेहतरीन होता है ताकि आप ग़लत रिश्तों में या अवैध सम्बंधों की गिरफ़्त में ना आ जाएँ.

बहुत से कपल तो सीधे सेक्स ना करके एक दूसरे को मास्टरबेशन से ही संतुष्ट करने में ज़्यादा आनंद महसूस करते हैं.

कुछ देश तो ऐसे हैं जो युवाओं को नियमित रूप से मास्टरबेशन के लिए एजुकेट करते हैं ताकि युवा ग़लत रास्तों पर ना भटकें.

दरअसल मास्टरबेशन से आप अकेले में खुद को प्यार करके संतुष्ट कर सकते हैं जिससे आपके सेक्स की तीव्र इच्छा भी पूरी होती है और एक संतुष्टी का आभास भी होता है. ऐसे में एक्सपर्ट्स मास्टरबेशन को और शादी के बाद भी मास्टरबेशन को ग़लत नहीं बल्कि हेल्दी ही मानते हैं.

Masturbation And Marriage

मास्टरबेशन आपकी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाता है क्योंकि आपको अपने शरीर व उसकी ज़रूरतों की अब बेहतर जानकारी होती है और यही जानकारी आपको बेहतर सेक्स के अनुभव की दिशा में काम आती है.
यह अलग बात है कि हमारे समाज में अब भी यह सोच विकसित नहीं हुई और ख़ासतौर से लड़कियों के मास्टरबेशन को लेकर तो संकुचित सोच बरक़रार है. लेकिन पार्टनर्स को चाहिए कि इन बातों से ऊपर उठें और सहज चीज़ों को स्वभाविक व सहज ही मानें.

एक्सपर्ट्स की माने तो सेक्स और मास्टरबेशन दोनों ही अलग अलग चीज़ें हैं. बेहतर होगा कि पति-पत्नी इस विषय पर आपस में खुलकर बात करें, रोमांस और सेक्स व शरीर की ज़रूरतों के बीच के अंतर को पहचाने और बेहतर सेक्स लाइफ को एंजॉय करें.

यह भी पढ़ें: अपनी सेक्स लाइफ को किस तरह बेहतर बना सकते हैं पुरुष? (How Men Can Make Their Sex Life Better?)

मास्टबेशन (Masturbation) यानी हस्तमैथुन को लेकर पुराने समय से कई भ्रांतियां चली आ रही हैं, जैसे- यह पाप है, हस्तमैथुन करनेवाले अंधे हो सकते हैं, नपुंसक हो सकते हैं, उन्हें मुंहासे ज़्यादा होते हैं और यहां तक कि कुछ लोगों में यह भ्रम इस कदर बैठा है कि उन्हें लगता है कि मास्टरबेशन करनेवाले मानसिक रोगी हो सकते हैं या फिर वे अपने यौनांगों को नुक़सान पहुंचा सकते हैं. पर ये सब महज़ ग़लत भ्रांतियां हैं. सेक्सोलॉजिस्ट और सेक्स एक्सपर्ट्स की मानें, तो मास्टरबेशन आपके लिए काफ़ी हेल्दी है. यह आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बेहद फ़ायदेमंद होता है.

Health Benefits Of Masturbation

1. स्ट्रेस फ्री महसूस करते हैं

जब ऑर्गैज़्म आता है, तो शरीर में एंडॉर्फिन तेज़ी से बढ़ते हैं. ये एक तरह के न्यूरोट्रांसमीटर्स होते हैं, जो हम में पॉज़िटिव एहसास जगाकर हमें ख़ुशी देते हैं. ज़रूरी नहीं कि हर बार मास्टरबेट करने पर आपको ऑर्गैज़्म मिले, लेकिन उससे ज़्यादा ज़रूरी है उस एक्ट की ख़ुशी, जो आपको स्ट्रेस फ्री करता है.

2. डिप्रेशन सेे बचाता है

तनाव और निराशा अक्सर डिप्रेशन का कारण बनते हैं, लेकिन जब आप ख़ुद को अच्छा फील कराना चाहते हैं, तो यह आपको डिप्रेशन से बचाता है. शहरों में बहुत-से लोग अकेलेपन के कारण डिप्रेशन के शिकार होने लगते हैं, ऐसे में ख़ुद से साथ बिताया यह क्वालिटी समय आपको डिप्रेशन से बचाता है.

3. इम्यूनिटी बढ़ाता है

बहुत-से हेल्थ एक्सपर्ट इस बात को दावे के साथ पेश करते हैं कि मास्टरबेशन आपके इम्यून सिस्टम को भी स्ट्रॉन्ग बनाता है. दरअसल, एक रिसर्च में यह बात सामने आई कि ऑर्गैज़्म के बाद शरीर में व्हाइट सेल्स की मात्रा बढ़ जाती है, जो हमें बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं.

4. पेल्विक फ्लोर स्ट्रॉन्ग होता है

मास्टरबेशन एक छोटे-से एक्सरसाइज़ सेशन जैसा होता है, इसलिए इसके करने से पेल्विक फ्लोर मज़बूत होता है, जो महिलाओं को पीरियड्स के दौरान होनेवाले दर्द से राहत दिलाता है.

5. देता है सुकूनभरी गहरी नींद

यह जितना आपको ख़ुशी का एहसास दिलाता है, उतना ही थका भी देता है, जिससे आपको तुरंत बहुत अच्छी नींद आती है. गहरी नींद हमारे शरीर को अच्छी तरह रिकवर होने में मदद करती है. संपूर्ण शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है.

यह भी पढ़ें: सेक्सुअल पावर बढ़ाने की अमेज़िंग किचन रेमेडीज़ (Amazing Kitchen Remedies To Increase Sexual Stamina)

यह भी पढ़ें: पहली बार सेक्सुअल रिलेशन से पहले जानें ये 10 बातें (10 Things To Know Before Having Sex For The First Time)

Health Benefits Of Masturbation
6. हेल्दी हार्ट का सौग़ात

मास्टरबेशन के दौरान जब हम एक्साइटेड हो जाते हैं, तो शरीर में रक्तसंचार बढ़ जाता है. ख़ासतौर से हृदय और यौनांगों में रक्तसंचार बढ़ जाता है, जो हेल्दी हार्ट के लिए बहुत ज़रूरी है. मास्टरबेशन एक तरह की एक्सरसाइज़ है, जो हमें हेल्दी बनाए रखने में मदद करती है.

7. एसटीडी का ख़तरा नहीं

मास्टरबेशन का यह एक और फ़ायदेमंद पहलू है कि इससे आप सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़ से बचे रहते हैं, इसीलिए यह सेफ माना जाता है. साथ ही आपको प्रेग्नेंसी होने का किसी तरह का डर भी नहीं रहता.

8. ख़ुद से प्यार करना सीखते हैं आप

जब आप अपने साथ क्वालिटी समय बिताते हैं, तो ख़ुद के बारे में अच्छा महसूस करते हैं. आप ख़ुद से प्यार करना सीखते हैं. यह एहसास आपका आत्मविश्‍वास बढ़ाता है, जिससे आप हमेशा ख़ुशगवार महसूस करते हैं.

9. पार्टनर से सेक्स एक्सपीरियंस होता है बेहतर

मास्टरबेशन कामोत्तेजना की भावना को बढ़ाता है, जिससे आपकी सेक्स लाइफ और बेहतर होती है. पार्टनर के प्रति आपका आकर्षण और भी बढ़ जाता है, इसीलिए बहुत-से सेक्सोलॉजिस्ट पार्टनर्स से स़िर्फ सेक्स न करके मास्टरबेशन की सलाह भी देते हैं.

10. आपका आत्मविश्‍वास बढ़ता है

जब आप ख़ुश रहते हैं, तो ख़ुद के बारे में पॉज़िटिव महसूस करते हैं, जो आपको हेल्दी और फिट रखने में मदद करता है. आत्मविश्‍वास की कमी अच्छे-ख़ासे रिश्ते को बिगाड़ सकती है, इसलिए आत्मविश्‍वासी रहकर आप जीवन के हर क्षेत्र में तऱक्क़ी कर सकते हैं.

– अनीता सिंह

यह भी पढ़ें: 20 सेक्स फैक्ट्स, जो हर कपल जानना चाहता है (20 Sex Facts Every Couple Must Know)

अपनी रंगत में निखार लाना चाहते हैं या मूड ठीक करना चाहते हैं या फिर कैंसर और हार्ट अटैक के ख़तरे से ख़ुद को बचाना चाहते हैं, तो उसके लिए सबसे जादुई दवाई है सेक्स (Sex). जी हां, यह हम नहीं कहते, बल्कि स्टडी और रिसर्च ने इस बात पर मुहर लगा दी है कि सेक्स न स़िर्फ एक बेहतरीन एक्सरसाइज़ है, बल्कि यह आपको कई गंभीर बीमारियों से बचा भी सकता है. आइए जानें कौन-से हैं वो 7 कारण, जो हर कपल को जानने चाहिए.

Healthy Reasons To Have Sex

1. हेल्दी हार्ट के लिए बेस्ट एक्सरसाइज़

अमेरिकन जरनल ऑफ कार्डियोलॉजी में छपी स्टडी के मुताबिक जो लोग हफ़्ते में दो बार सेक्स करते हैं, वो स्ट्रोक और हार्ट अटैक क ख़तरों से उन लोगों से ज़्यादा सुरक्षित रहते हैं, जो महीने में स़िर्फ एक बार सेक्सुअली इंवॉल्व होते हैं. दरअसल, सेक्स के दौरान औरतन पुरुष एक मिनट में 4 जहां चार कैलोरीज़ बर्न करते हैं, वही महिलाएं तीन कैलोरीज़ यानी आधे घंटे की आपकी सेक्सुअल एक्टिविटी में आप एक ट्रेडमिल पर दौड़ने से ज़्यादा कैलोरीज़ बर्न कर लेते हैं, वो भी फन के साथ. यह बात तो कई रिसर्च में साबित हो चुकी है कि सेक्स एक बेहतरीन एक्सरसाइज़ है, तभी तो हेल्दी हार्ट के लिए इससे बेहतर कुछ हो ही नहीं सकता.

2. बेहतरीन पेनकिलर का काम करता है

कैलीफोर्निया में हुई यह एक स्टडी में यह साबित हुआ कि दर्द के दौरान अगर पार्टनर की रोमांटिक फोटो दिखाई जाए या किसी हैंडसम अजनबी को देखें, तो दर्द से काफ़ी राहत मिलती है. वहीं दूसरी ओर पीरियड्स के दौरान होनेवाले दर्द से राहत पाने के लिए अगर उस दौरान आप सेक्सुअली इंवॉल्व होती हैं, तो दर्द में काफ़ी राहत मिलती है. दरअसल, सेक्स ऑर्गैज़्म एक पेनकिलर की तरह काम करता है, तभी तो सिरदर्द के दौरान अगर सेक्स किया जाए, तो सिरदर्द को छूमंतर होने में व़क्त नहीं लगता.

3. ब्लड प्रेशर को कम करके स्ट्रेस से दूर रखता है

सेक्स के दौरान शरीर में एंडॉर्फिन हार्मोन का स्राव होता है, जो मूड को बूस्ट करने में मदद करता है. स्कॉटलैंड की बायोलॉजिकल सायकोलॉजी में छपी रिपोर्ट के मुताबिक सेक्स के कारण स्ट्रेस के दौरान बढ़नेवाले ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में किया जा सकता है. स्टडी में इस बात पर भी फोकस किया कि ज़रूरी नहीं कि आप सेक्सुअली इंवॉल्व हों, अगर आप मास्टबेशन भी करते हैं, तो भी आपको तनावरहित रखता है, जिससे आपका ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है.

यह भी पढ़ें: जानें वो 10 कारण जो आपको ऑर्गैज़्म से वंचित रख रहे हैं? (10 Reasons You’re Not Having An Orgasm)

Healthy Reasons To Have Sex
4. प्रोस्टेट कैंसर के ख़तरे से बचाता है

यूरोपियन यूरोलॉजी में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, जो पुरुष महीने में 21 बार इजैक्यूलेट करते हैं, वो प्रोस्टेट कैंसर के ख़तरे से उन लोगों से 20% ज़्यादा सुरक्षित रहते हैं, जो महीने में चार-से-सात बार इजैक्युलेट करते हैं. पुरुषों के लिए इजैक्यूलेशन के मायने कितने हैं यह तो इसी बात से पता चलता है कि यह उन्हें प्रोस्टेट कैंसर के ख़तरे से बचा सकता है.

5. मिलती है सुकूनभरी नींद

नेशनल स्लीप फाउंडेशन में छपी रिपोर्ट के मुताबिक ऑर्गैज़्म के बाद हमारे शरीर में प्रोलैक्टिन हार्मोन का स्राव होता है, जिससे हमें बहुत अच्छी नींद आती है. आपने भी ग़ौर किया होगा कि सेक्सअल एक्टिविटी के बाद आप और आपके पार्टनर कैसे सुकूनभरी नींद के आगोश में समा जाते हैं और अगली सुबह रिफ्रेश व खिले-खिले नज़र आते हैं. इसका दूसरा पहलू यह भी है कि आप जितनी अच्छी नींद लेते हैं, आपकी सेक्सुअल डिज़ायर उतनी ही अच्छी होती है.

6. पाएं ग्लोइंग-यंग स्किन

अगर अब आप सोचते थे कि कपल्स के चेहरे की चमक का कारण स़िर्फ हेल्दी फूड और एक्सरसाइज़ है, तो आपको बता दें कि इसमें बहुत बड़ा योगदान सेक्स का भी है. सेक्स के दौरान ऑर्गैज़्म शरीर में ब्लड फ्लो की मात्रा बढ़ा देता है, जिससे चेहरे में निखार साफ़ नज़र आता है. यह आपके तनाव को दूर करके आपके मूड को बेहतर बनाता है.

7. हैप्पी मूड से बनता है मज़बूत रिलेशन

हेल्दी सेक्स के कारण शरीर में न्यूरोट्रांसमीटर्स रिलीज़ होते हैं, जिससे आपका मूड बेहतरीन होता है. केमिकल्स और हार्मोंस को छोड़ दें, तो हेल्दी सेक्स आपके रिश्ते को और मज़बूत बनाता है. अपनी मैरिड लाइफ को और ख़ुशहाल और रोमांचक बनाने के लिए हेल्दी सेक्स लाइफ एंजॉय करें.

– अनीता सिंह   

यह भी पढ़ें: कंडोम न इस्तेमाल करने के बहाने, आपका बहाना क्या है? (Ridiculous Excuses By Men For Not Using Condoms)

यह सच है कि शादी (Wedding) के कुछ समय बाद ही प्यार और रोमांस पर ज़िम्मेदारियों की जिल्द चढ़ने लगती है. ऐसे में रूमानी ख़्याल बीते दिनों की बात बनकर रह जाते हैं और उनकी जगह ले लेते हैं बिल्स, ख़र्चे, आटे-दाल के भाव, रिश्ते निभाने का दबाव, बच्चे, परवरिश, लोन आदि. यही वजह है कि मन के साथ-साथ शरीर पर भी ये ज़िम्मेदारियां परत बनकर मोटापे (Fats) व बीमारियों (Diseases) के रूप में उभरने लगती हैं. हम लापरवाह होते जाते हैं और कमर व पेट का साइज़ हमारी मौजूदा परिस्थिति, शादीशुदा ज़िंदगी, हेल्थ, फिटनेस और सेक्स लाइफ की पहचान बन जाते हैं. 

Fitness Tips

हम अक्सर यही सोचते हैं कि जब तक शादी न हो जाए, तब तक हमारे लिए फिट रहना बहुत ज़रूरी है, ताकि हम अट्रैक्टिव लगें. शादी के बाद न स़िर्फ अपनी फिटनेस को लेकर, बल्कि हेल्थ और अट्रैक्शन को लेकर भी हमारी अप्रोच बहुत कैज़ुअल हो जाती है. चाहे लड़कियां हों या लड़के, सबका यही हाल होता है. शादी के शुरुआती समय को छोड़ दें, तो बाद में अपने प्रति इतने लापरवाह हो जाते हैं कि धीरे-धीरे एक-दूसरे के प्रति आकर्षण भी कम होने लगता है और इसका असर उनके रिश्ते व सेक्स लाइफ पर भी पड़ने लगता है.

क्यों हो जाते हैं बेपरवाह?

–    शादी के बाद ज़िंदगी शुरू होती है, जबकि हमारी यह सोच बन जाती है कि अब तो शादी हो चुकी, अब कुछ करने के लिए बचा नहीं लाइफ में, तो हम में एक नीरसता पनपने लगती है.

–     ज़िम्मेदारियों का बोझ जैसे-जैसे बढ़ता जाता है, वैसे-वैसे हेल्थ, आकर्षण, फिटनेस, प्यार-मुहब्बत जैसी बातें गौण होने लगती हैं.

–     कभी घर के लिए लोन की किश्तें, कभी बच्चों की फीस, तो कभी घर के बड़ों की हेल्थ प्रॉब्लम्स हमें अपने प्रति बेपरवाह बना देती हैं.

–     करियर की चुनौतियां और तमाम तरह के तनावों के बीच हेल्थ और फिटनेस जैसी चीज़ों के लिए हमें समय निकालना समय की बर्बादी लगने लगती है.

–     थकान, मोटापा और बेडौल बदन शादी के कुछ समय बाद ही हमारी पहचान बन जाते हैं.

–     न कोई चार्म रहता है, न कोई ग्लैमर और न ही ऊर्जा.

क्यों ज़रूरी है फिटनेस?

–     फिटनेस का प्रभाव आपके रिश्ते पर भी पड़ता है. शादी के बाद फिटनेस का ख़्याल रखना और भी ज़रूरी हो जाता है, क्योंकि इससे आप में यह एहसास बढ़ता है कि आप एक-दूसरे के लिए हेल्दी और आकर्षक नज़र आना चाहते हैं. इसके अलावा आप अधिक उत्साह व उमंग का अनुभव भी करते हैं.

–     कुछ कपल्स पर किए गए एक सर्वे के अनुसार, फिटनेस पर ध्यान देने के बाद उन्हें यह महसूस हुआ कि फिटनेस से न केवल उनके व्यक्तित्व पर, बल्कि उनके आपसी रिश्ते पर सकारात्मक प्रभाव हुआ.

–     जब कपल्स को यह महसूस कराया गया कि स़िर्फ हेल्दी रहने के लिए ही नहीं, बल्कि उन्हें अपने पार्टनर के लिए भी फिट रहना चाहिए, ताकि उनके बीच का चार्म बना रहे, तो उन्होंने इस सोच के साथ वर्कआउट और डायट करना शुरू किया कि यह कोई पर्सनल एजेंडा नहीं है, बल्कि यह रिश्ते में ताज़गी और गर्माहट बनाए रखने के लिए भी बेहद ज़रूरी है, तो वाकई उनका कॉन्फिडेंस बढ़ा और उनके रिश्ते भी सुधरे.

–     कपल्स को यह कहा गया कि आप अपने पार्टनर से यह कहें कि मुझे तुम्हारे लिए फिट, हेल्दी और आकर्षक बने रहना है. इसके बाद उन्हें महसूस हुआ कि उनकी बॉन्डिंग और स्ट्रॉन्ग हुई.

यह भी पढ़ें: इन 9 आदतोंवाली लड़कियों से दूर भागते हैं लड़के (9 Habits Of Women That Turn Men Off)

How To Stay Fit
कैसे एचीव करें गोल?

–     यह बात सही है कि शादी के कुछ समय बाद ही बहुत-सी चीज़ें बदलने लगती हैं. समय की कमी के साथ-साथ ऊर्जा व उत्साह की कमी भी होने लगती है. ऐसे में नीरसता पनपने लगती है, जो आप दोनों को एक-दूसरे से दूर भी कर सकती है. ऐसे में ज़रूरी है कि आप ख़ुद कोई रास्ता निकालें.

–     अपना टाइमटेबल और शेड्यूल तैयार करें.

–    एक डायरी बनाएं, जिसमें रोज़ की एक्टिविटीज़ और कैलोरीज़ की डिटेल्स रात को सोने से कुछ समय पहले नोट करें.

–    हर संडे उस डायरी में नोट की हुई चीज़ों पर आपस में बातचीत करें और देखें कि कहां क्या कमी रह गई.

–     सुबह जल्दी उठकर एक साथ वर्कआउट, वॉकिंग या जॉगिंग करें. इससे आप एक-दूसरे के साथ अधिक समय बिताएंगे.

–    एक-दूसरे को चैलेंज और मोटिवेट करें कि कौन ज़्यादा फिट और एनर्जेटिक है.

–     एक साथ वर्कआउट करने से पार्टनर एक-दूसरे के क़रीब आते हैं. दोनों में समन्वय व सामंजस्य बेहतर होता है, साथ ही शेयरिंग की भावना भी बढ़ती है.

–     घर के काम मिल-जुलकर करें. इससे एक्सरसाइज़ भी हो जाएगी और बॉन्डिंग भी स्ट्रॉन्ग होगी.

–     रियलिस्टिक गोल्स सेट करें. अगर आपको लग रहा है कि शादी के छह महीने बाद ही 4-5 किलो वज़न बढ़ गया है, तो कोशिश करें धीरे-धीरे डायट व रूटीन में बदलाव लाने की.

–     घर में खाने के हेल्दी ऑप्शन्स रखें. अनहेल्दी स्नैक्स की जगह ड्रायफ्रूट्स, भुने चने, मूंगफली आदि रखें.

–     हर महीने गोल बदलें कि अगले दो महीनों में कितना वज़न कम करना है और दोनों एक-दूसरे को चैलेंज करें.

–     पार्टनर को मोटिवेट करने के लिए आप यह भी कर सकते हैं कि तुम्हारे बर्थडे या हमारी एनीवर्सरी तक अगर तुम इस आउटफिट में फिट आ गए, तो मैं तुम्हें गिफ्ट, पार्टी या हॉलीडे पर ले चलूंगा/चलूंगी.

–     नियमित रूप से हेल्थ टेस्ट्स व चेकअप, जैसे- बीपी, ब्लड शुगर लेवल, कोलेस्ट्रॉल व अन्य टेस्ट्स करवाएं.  बच्चे होने के बाद ख़ुद को महत्वहीन

न समझें

–     अक्सर कपल्स बच्चे होने के बाद ख़ुद के प्रति और भी उदासीन हो जाते हैं. कभी-कभी ऐसा भी होता है कि एक पार्टनर ज़्यादा हेल्थ कॉन्शियस होता है, दूसरा बिल्कुल लापरवाह.

–     ऐसे में आप अपने फिट पार्टनर से ही सीख लें कि क्यों वो आपके सामने ज़्यादा यंग और एनर्जेटिक लगता है.

–     कई बार बच्चों के स्कूल में भी पीटीएम में आप देखेंगे कि कुछ कपल्स परफेक्ट लगते हैं. इसे भगवान की देन समझने की बजाय उनकी मेहनत को श्रेय दें और उनसे सीखें.

–     ख़ुद को चैलेंज करें कि अगली पीटीएम में आप भी परफेक्ट कपल नज़र आएंगे, इसके लिए कोशिश कल से नहीं, आज और अभी से ही शुरू कर दें.

–     यह भी ध्यान में रखें कि स़िर्फ अपने लिए या एक-दूसरे के लिए नहीं, बल्कि आपको अपने बच्चों के लिए भी फिट और हेल्दी रहना है.

–     बच्चों के साथ बहुत एनर्जी की ज़रूरत पड़ती है. ऐसे में आप ही थके-थके रहेंगे, तो बच्चों के साथ एक्टिविटीज़ में पार्टिसिपेट नहीं कर पाएंगे.

–     आप अगर हेल्दी खाएंगे और फिटनेस कॉन्शियस रहेंगे, तो बच्चे भी ऐसा ही करेंगे, क्योंकि बच्चों के पहले रोल मॉडल उनके पैरेंट्स ही होते हैं और वो आपसे ही सीखते हैं.

यह भी पढ़ें: शादी से पहले ज़रूरी है इन 17 बातों पर सहमति (17 Things Every Couple Must Talk About Before Getting Marriage)

Fitness Tips
फिटनेस का संबंध आपकी सेक्स लाइफ से भी है

–     अगर आप फिट होते हैं, तो आपका एनर्जी लेवल अधिक होता है, जिसका असर आपकी बॉडी इमेज व आपसी आकर्षण पर सकारात्मक तौर पर पड़ता है. इससे ज़ाहिर है कि आपकी सेक्स लाइफ बेहतर होती है.

–     हेल्दी डायट से आपकी सेक्स क्षमता भी बेहतर होती है. सेक्स लाइफ अच्छी होगी, तो आपसी संबंध और गहरे होंगे.

–     आप अपने रिश्ते में अधिक ऊर्जा व उत्साह का अनुभव करते हैं, क्योंकि फिटनेस से आपका कॉन्फिडेंस बढ़ता है.

–     आप यदि थके हुए और तनाव में रहेंगे, तो इसका सीधा असर आपकी सेक्स ड्राइव पर पड़ेगा.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स?

–     वर्कआउट, रेग्युलर एक्सरसाइज़, योगा, मेडिटेशन आदि से स्ट्रेस लेवल कम होता है.

–     एक्सपर्ट्स के अनुसार, स्ट्रेस किसी भी व्यक्ति को शारीरिक व भावनात्मक रूप से कमज़ोर बनाता है, जिससे रिश्तों में गर्माहट, जोश व आत्मीयता धीरे-धीरे कम होने लगती है.

–     सेक्स लाइफ को ख़राब करने में सबसे बड़ा रोल स्ट्रेस का ही होता है. जहां सेक्स लाइफ अच्छी नहीं होगी, वहां रिश्ता भी कमज़ोर होता चला जाएगा.

– विजयलक्ष्मी

यह भी पढ़ें: न्यूली मैरिड के लिए मॉडर्न ज़माने के सात वचन (7 Modern Wedding Vows For Newly Married)

ख़ुशहाल वैवाहिक जीवन में सेक्सुअल रिलेशन एक अहम् भूमिका अदा करती है. पर कभीकभी शारीरिक व मानसिक कारणों से इसमें मुश्किलें आने लगती हैं. तो क्यों न सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने के लिए योग व डायट टिप्स को अपनाएंपतिपत्नी के रिश्ते को मज़बूत और ख़ुशनुमा बनाने में सेक्स की भूमिका को नकारा नहीं जा सकता है. लेकिन कई बार अच्छी ख़ुशनुमा सेक्स लाइफ में मुश्किलें आने लगती हैं, जिससे वैवाहिक जीवन में दरार पड़ जाती है. ऐसा इरेक्टाइल डिसफंक्शन (ईडी) यानी लिंग उत्तेजित न होने के कारण होता है. कई बार सेक्स टॉनिक या वियाग्रा जैसी कामोत्तेजक गोलियां लेकर समस्या को सुलझाने की कोशिश की जाती है, पर इससे स्थिति सुधरने की बजाय और भी बिगड़ जाती है. बेहतर सेक्स लाइफ का रहस्य इन गोलियों में नहीं, बल्कि संतुलित डायट और योग में छुपा है. इस संदर्भ में हमें विस्तृत जानकारी दे रही हैं न्यूट्रीशनिस्ट व योग इंस्ट्रक्टर नुपूर पद्मनाभन.

Yoga Diet For Hot, Healthy Spicy Sex Life

कारण

1. रक्त संबंधी बीमारी

लिंग में इरेक्शन (उत्तेजना) ख़ून के ज़्यादा बहाव के कारण आता है. यदि किसी कारणवश ख़ून का बहाव कम हो जाता है, तो इरेक्शन की समस्या होती है. ऐसा रक्त कोशिकाओं के डैमेज होने या धमनियों के कठोर होने से होता है.

2. नर्व डैमेज

डायबिटीज़, प्रोस्टेट सर्जरी या स्पाइनल कॉर्ड के क्षतिग्रस्त होने पर भी इरेक्शन की समस्या होती है.

3. दवाइयां

हाई ब्लडप्रेशर, डिप्रेशन, ह्रदय संबंधी बीमारियों व प्रोस्टेट कैंसर के लिए ली

जानेवाली दवाइयों के प्रयोग से सेक्सुअल क्रियाएं प्रभावित होती हैं.

4. मानसिक कारण

अनेक मानसिक कारणों, जैसेतनाव, डिप्रेशन, व्याकुलता, डर, अपराधबोध से भी सेक्स क्रिया पर असर पड़ता है.

5. हार्मोंस

टेस्टोस्टेरॉन, थायरॉइड एवं पिट्टयूटरी हार्मोंस के असामान्य स्तर से भी सेक्स लाइफ़ प्रभावित होती है.

6. बीमारियां

एनीमिया, डिप्रेशन, आर्थराइटिस, डायबिटीज़, हाइपोथायरॉइड़िज़्म, न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर जैसी बीमारियां भी सेक्स को प्रभावित करती हैं.

समाधान

सेक्स लाइफ़ को बेहतर बनाने के लिए योग बहुत ही लाभकारी है.

  • इससे शरीर रिलैक्स होता है और तनाव भी दूर होता है.
  • इससे हृदय गति व ब्लडप्रेशर सामान्य होने में मदद मिलती है.
  • योग से शरीर में ऑक्सीजन सप्लाई बढ़ जाती है.

ये सारी बातें इरेक्शन पर असर डालती हैं.

बद्ध कोणासन (बटरफ्लाई)

– दोनों पैरों के तलवों को आपस में जोड़कर, दोनों हाथों से पकड़ लें.

– अब इन्हें बटरफ्लाई की तरह हिलाएं.

इस क्रिया को दस बार दोहराएं.

फ़ायदे

इस आसन से पेट, पीठ और पेल्विक एरिया में ब्लड सप्लाई ठीक तरह से होने लगती है. यह आसन किडनी, प्रोस्टेट और यूरिनरी ब्लैडर को हेल्दी रखता है.

बालासन (चाइल्ड पोज़)

दोनों पैरों को घुटने से मोड़ लें एवं एड़ियां जोड़कर उस पर बैठ जाएं (हलासन की स्थिति में).

सिर सामने झुकाकर ज़मीन पर टिका दें. इससे कमर ऊपर उठ जाएगी.

अब दोनों हाथों को पैरों के समानांतर इस तरह रखें कि हथेलियां ज़मीन पर टिकी रहें. (तलवे नहीं).

2 मिनट तक इसी पोज़ में रहें.

ऐसा 5 से 10 बार करें.

फ़ायदे

इस आसन से तनाव दूर होता है और सेक्सुअल क्रियाओं में काफ़ी लाभ मिलता है.

यह भी पढ़ें: 7 स्मार्ट ट्रिक्स से सुपरचार्ज करें अपनी सेक्स लाइफ

Yoga Diet For Hot, Healthy Spicy Sex Life

डायट

इरेक्टाइल डिस़फंक्शन का मुख्य कारण होता हैलिंग की धमनियों के अवरुद्ध होने से रक्त प्रवाह का कम होना. इसलिए इस स्थिति में शाकाहारी डायट की सलाह दी जाती है, ताकि धमनियां अवरुद्ध न होने पाएं.

डायट में ताज़े फल, हरी एवं फली वाली सब्ज़ियां, फिश आदि लें.

मैदा, प्रोसेस्ड व जंक फूड, शक्कर, आर्टिफ़िशियल स्वीटनर, जैसेसैकरीन आदि न लें.

तिल के तेल व ऑलिव ऑयल का प्रयोग बेहतर परिणाम देता है.

सादे नमक की जगह समुद्री नमक या सेंधा नमक का प्रयोग करें.

टमाटर खाएं. टमाटर का लाइक्रोपीन प्रोस्टेट ग्लैंड को हेल्दी रखता है.

कद्दू के बीज, तरबूज आदि पुरुष जननांगों के लिए फ़ायदेमंद होते हैं.

वज़न अधिक न बढ़ने दें. संतुलित भोजन करें और वज़न को नियंत्रित रखें.

तलेमसालेदार एवं कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ न लें.

चाय, कॉफी, सिगरेट व शराब का अधिक सेवन न करें.

डॉ. सुषमा श्रीराव

यह भी पढ़ें: सेक्स से जुड़े टॉप 12 मिथ्सः जानें हक़ीकत क्या है
यह भी पढ़ें: हाथ की रेखाओं से जानें सेक्स लाइफ के बारे में

सेक्स लाइफ के लिए अच्छा खानपान बेहद ज़रूरी है. इसके लिए अपने डायट में ऐसी चीज़ें शामिल करें, जो आपकी सेक्सुअल डिज़ायर को बढ़ाएं. यदि आप बेहतर सेक्स लाइफ चाहते हैं, तो बचें इन सेक्स किलर फूड्स से, जो आपकी सेक्सुअल डिज़ायर को कम कर सकते हैं.

चॉकलेट

इसे सेक्स किलर फूड भी कहते हैं, क्योंकि इसमें ऐसे कंपाउंड्स मिक्स होते हैं, जो सेक्स लाइफ को प्रभावित करते हैं. हालांकि इसे प्यार, उत्साह और रोमांस का प्रतीक मानते हैं, लेकिन एक्सपर्ट्स का मानना है कि यह टेस्टोस्टेरॉन के लेवल को कम करता है.

2727D28200000578-3018945-image-a-51_1427780589612
कॉफी

कॉफी का एक कप आपके मूड को फ्रेश तो करता है, लेकिन इसका बुरा असर आपकी सेक्स लाइफ पर पड़ता है. यह जितनी जल्दी थकान को दूर करती है, उतनी ही जल्दी सेक्स क्षमता को भी कम करती है. अधिक मात्रा में कॉफी का सेवन करने पर एड्रेनल ग्लैंड्स को नुक़सान होता है, जिससे तनाव बढ़ानेवाले हार्मोंस का उत्पादन होता है. यदि एड्रेनल ग्लैंड्स सुचारू रूप से काम नहीं करता है, तो धीरे-धीरे सेक्स हार्मोंस प्रभावित होने लगते हैं.

ये भी पढें: सेक्स का राशि कनेक्शनः जानें किस राशिवाले कितने रोमांटिक?

तेल

घटिया क्वालिटी के तेल और प्रोसेस्ड वेजीटेबल ऑयल का सेवन करने से फैट्स बढ़ता है, जो शरीर को एक्टिव नहीं रहने देता और सेक्स लाइफ के दौरान उत्तेजना को भी कम करता है. घटिया क्वालिटी के तेल का इस्तेमाल करने से कंसीव करने में प्रॉब्लम होती है. इसी तरह से डायटरी फैट्स भी अनेक प्रकार के होते है. इनमें से कुछ फैट्स फ़ायदेमंद होते हैं और कुछ फैट्स को नज़रअंदाज़ करना चाहिए, जो सेक्स एनर्जी को कम करते हैं.

सोयाबीन

यह सेहत के लिए बहुत फ़ायदेमंद होता है, लेकिन सेक्स लाइफ में रुकावट पैदा करता है. शाकाहारी लोगों के लिए मीट की जगह सोयाबीन बेस्ट ऑप्शन है, लेकिन सोयाबीन में मौजूद फोटोएस्ट्रोजन पुरुषों के सेक्स हार्मोंस में बदलाव लाता है, जिससे सेक्स इच्छा में कमी आती है.

पुदीना (मिंट)

मिंट या मिंट बेस्ड प्रोडक्ट्स न केवल माउथफ्रेशनर का काम करते हैं, बल्कि भोजन को पचाने का काम भी करते हैं. मिंट का लगातार सेवन करने से सेक्सुअल डिज़ायर में कमी आती है, साथ ही यह सेक्स ड्राइव को भी शांत करता है. इसीलिए माउथफ्रेशनर के तौर पर मिंट की जगह अन्य हर्ब का इस्तेमाल करें.

पनीर (डेयरी प्रोडक्ट)

इसमें विटामिन और प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होता है, लेकिन बाज़ार में मिलनेवाले इस डेयरी प्रोडक्ट में प्राकृतिक तत्व नहीं होते है, जो सेक्स क्षमता को प्रभावित करते हैं. बाज़ार में मिलनेवाले इस डेयरी प्रोडक्ट में एस्ट्रोजन, टेस्टोस्टेरॉन और प्रोजेस्टेरॉन होते हैं, जो हार्मोंस के उत्पादन को प्रभावित करने के साथ-साथ शरीर में टॉक्सिन्स को बढ़ाते हैं. इन टॉक्सिन्स से यौन रोग होने की संभावना होती है.

फ्राइड और जंक फूड

फ्रेंच फ्राइज़, प़िज़्ज़ा और बर्गर को रोमांस किलर फूड कहते हैं. इनमें मिश्रित हाइड्रोजेनटेड फैट्स टेस्टोस्टेरॉन के स्तर को कम
करते हैं, जिसके कारण पुरुषों में शुक्राणुओं का उत्पादन असामान्य होता है और उनकी गुणवत्ता भी अच्छी नहीं होती. अगर आप अपने पार्टनर को रोमांटिक डेट पर ले जा रहे हैं, तो फास्ट फूड का सेवन न करें, विशेष रूप से तब जब कंसीव करने की प्लानिंग कर रहे हों.

couple-snacking
मीट

इसमें प्रोटीन और जिंक नहीं होता, साथ ही कोलेस्ट्रॉल और वसा की मात्रा भी बहुत अधिक होती है, जो ब्लड सर्कुलेशन और सेक्सुअल लाइफ को स्लो करता है. भोजन में मीट का सेवन करने से सेक्सुअल डिज़ायर में कमी आती है, इसीलिए सेक्सुअल रिलेशन बनाने से पहले भोजन में मीट न खाएं.

एमएसजी

मोनोसोडियम ग्लूटामेट का इस्तेमाल भोजन में स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है. इसका अधिकतर प्रयोग डिब्बाबंद खाद्य पदार्थों में किया जाता है, ताकि उनका स्वाद बना रहे. मेडिकल एक्सपर्ट्स के अनुसार, खाने में एमएसजी का अधिक उपयोग करने पर कार्डियोवैस्कुलर और डिप्रेशन संबंधी समस्याएं होती हैं और डिप्रेशन बढ़ने पर सेक्सुअल डिज़ायर कम होने लगती है.

ये भी पढें: 7 Unbelievable सेक्स एटीकेट्स, जो आपकी रिश्ते को बनाएंगे सुपर रोमांटिक

ऐरिएटेड ड्रिंक्स

द न्यू इंग्लैंड जनरल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, शुगर स्वीटेन्ड बे्रवरेज (चीनी मिश्रित पेय ड्रिंक्स) का सेवन करने से वज़न बढ़ना और डायबिटीज़ जैसी बीमारियां होती हैं, इसके अतिरिक्त मीठे जहर (जिन ऐरिएटेड ड्रिंक्स में शुगर बहुत अधिक मात्रा में हो) का सेवन करने से डेंटलकैवेटीज़, मोटापा, डीहाइड्रेशन और हड्डियों का कमज़ोर होना जैसी समस्याएं होती हैं इन सब बीमारियों के कारण भी सेक्सुअल डिज़ायर कम होती है.

अल्कोहलिक ड्रिंक्स 

इनका लगातार सेवन करने से शरीर में सेक्स हार्मोन प्रभावित होता है और सेक्स पावर कम होने लगती है. शोधों से भी यह साबित हुआ है कि अधिक मात्रा में अल्कोहल का सेवन करनेवाले पुरुषों में टेस्टोस्टेरॉन का स्तर कम होता है, जिसका असर उनकी सेक्स लाइफ पर पड़ता है.

– पूनम शर्मा

Healthy Sex Recipes

अगर आप सेक्स पावर बढ़ाना चाहते हैं या आपको कोई सेक्स प्रॉब्लम है, तो ये सेक्स बूस्टर रेसिपीज़ (Healthy Sex Recipes) आज़माएं, जो आसानी से घर पर ही तैयार की जा सकती हैं. ये रेसिपीज़ न स़िर्फ आपकी सेक्स पावर को बढ़ाएंगी, बल्कि आपको सेहतमंद भी बनाएंगी.

  1. उड़द के लड्डू

सामग्री- 500 ग्राम उड़द की दाल, 750 ग्राम देशी घी, 125 ग्राम छुहारा, 500 ग्राम कद्दूकस किया गाजर, 350 ग्राम कद्दूकस  किया हुआ पेठा (स़फेद कुम्हड़ा), 2 लीटर गाय का दूध, 50-50 ग्राम- छिलकारहित बादाम गिरी, पिस्ता, अखरोट, खसखस, 10-10 ग्राम सोंठ और दालचीनी, सूखे मेवे आवश्यकतानुसार व 1 किलो गुड़ की चाशनी.

विधि- उड़द की धुली हुई दाल पीसकर 250 ग्राम देशी घी में अच्छी तरह से भूनें. फिर गाय के दूध में छुहारा, गाजर और पेठा डालकर पकाएं. जब दूध जलकर खोवा (मावा) बन जाए, तो उसमें 500 ग्राम देशी घी डालकर उसे भूनें और भुनी हुई दाल भी उसमें मिला दें. बादाम गिरी, पिस्ता, अखरोट, खसखस के बीज पीसकर व घी में भूनकर मिला दें. अब आंच से उतारकर सूखे मेवे, सोंठ और दालचीनी का चूर्ण मिला दें. इसके बाद गुड़ की चाशनी बनाकर उसमें सभी चीज़ों को मिलाकर 50-50 ग्राम के लड्डू बनाकर रख लें.

कैसे और कितनी मात्रा में खाएं? 1 से 2 लड्डू सुबह नियमित रूप से खाएं और ऊपर से दूध पीएं.

फ़ायदे- इससे मर्दाना कमज़ोरी, नपुंसकता, शीघ्रपतन आदि यौन विकार दूर होते हैं और शारीरिक शक्ति बढ़ती है.

  1. बादाम के लड्डू

सामग्री- 400 ग्राम छिलकारहित बादाम, 100 ग्राम मावा, 600 ग्राम शक्कर, 200 ग्राम घी, 10-10 ग्राम – छोटी इलायची, दालचीनी, तमालपत्र, नागकेशर व 5-5 ग्राम – लौंग, जायफल, जावित्री व केसर.

विधि- बादाम को बारीक पीस लें. फिर पिसे हुए बादाम और मावा को अलग-अलग घी में भूनें. इसके बाद अन्य सभी चीज़ों का बारीक चूर्ण बनाकर रख लें. अब शक्कर की चाशनी बनाकर उसमें चूर्ण को मिलाएं. बादाम और मावा डालकर मिला लें और 40-40 ग्राम के लड्डू बनाकर रख लें.

कैसे और कितनी मात्रा में खाएं? रोज़ाना एक लड्डू खाकर ऊपर से दूध पीएं.

फ़ायदे- यह स्वादिष्ट और पौष्टिक होने के साथ-साथ शक्तिवर्द्धक  भी है. इसका सेवन करने से शीघ्रपतन की समस्या से छुटकारा मिलता है और वीर्य की वृद्धि होती है. इससे सेक्स पावर बढ़ता है. अगर ठंडी के मौसम में बादाम लड्डू खाया जाए तो और भी लाभ होता है.

यह भी पढ़ें: सेफ सेक्स के 20 + असरदार ट्रिक्स

  1. गाजर का हलवा

सामग्री- 1 किलो कद्दूकस किया हुआ गाजर, 500 ग्राम मावा, 500 ग्राम घी, डेढ़ किलो शक्कर, ढाई लीटर दूध, 10 ग्राम- छुहारा, 25 ग्राम मिश्री चूर्ण, 50 ग्राम बादाम गिरी, 15-15 ग्राम- पिस्ता, चिरौंजी व आवश्यकतानुसार गुलाबजल.

विधि- पहले गाजर को दूध में डालकर पकाएं. जब वह पककर सूख जाए, तो मावा व घी डालकर उसे अच्छी तरह भूनें. फिर उसमें शक्कर डालकर हलवा बना लें. सभी सूखे मेवों को गुलाबजल में पीसकर तथा अन्य चीज़ों का बारीक चूर्ण बनाकर हलवे में मिला दें और सुरक्षित रख लें.

कैसे और कितनी मात्रा में खाएं? इस हलवा को 50 ग्राम की मात्रा में रोज़ सुबह खाकर ऊपर से दूध पीएं.

फ़ायदे- यह हलवा मर्दाना शक्ति और वीर्य को बढ़ाकर पूरे शरीर को शक्ति देता है. इसका सेवन करने से बूढ़े व्यक्ति भी युवाओं की तरह शक्तिशाली हो जाते हैं. इसे खाने से शरीर सुंदर तथा सभी रोगों से मुक्त हो जाता है.

  1. सिंघाड़े का हलवा

सामग्री- 150 ग्राम सिंघाड़े का आटा, 50 ग्राम पिसा हुआ छुहारा, 15 ग्राम सोंठ का चूर्ण, 150 ग्राम घी, 500 ग्राम शक्कर व दो लीटर दूध.

विधि- पहले सिंघाड़े का आटा, छुहारा और सोंठ चूर्ण को दूध में डालकर धीमी आंच पर पकाएं. जब यह खोवा की तरह बन जाए, तो उसे घी में भून लें. इसके बाद शक्कर डालकर अच्छी तरह मिलाकर रख लें.

कैसे और कितनी मात्रा में खाएं? यह हलवा स्वादिष्ट तथा पौष्टिक होता है. इसे 10 से 20 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम दूध के साथ लें.

फ़ायदे- इससे पुरुषों में कामशक्ति की कमी दूर होती है. यह धातुस्राव, स्वप्नदोष और वीर्य के पतलेपन की रामबाण औषधि है. स्त्रियों में कामशीतलता में भी यह बेहद उपयोगी है.

Healthy Sex Recipes

  1. मेथी पाक

सामग्री-  350-350 ग्राम मेथी, सोंठ व घी, ढाई किलो शक्कर, 40-40 ग्राम प्रत्येक का सूक्ष्म चूर्ण- पीपर, सोंठ, पीपरामूल,  अजवायन, जीरा, धनिया, कलौंजी, सौंफ, जायफल, जावित्री, दालचीनी, तेजपत्ता एवं नागरमोथा, 60 ग्राम कालीमिर्च का चूर्ण और साढ़े पांच लीटर दूध.

विधि- पहले मेथी व सोंठ को कूट-पीसकर कपड़छान चूर्ण बना लें. फिर दूध में इस चूर्ण और घी को डालकर धीमी आंच पर पकाएं. जब यह अच्छी तरह से मिलकर गाढ़ा हो जाए, तो इसमें शक्कर डालकर अच्छी तरह पाक बनाकर उतार लें. अब इसमें सभी चूर्ण को डालकर अच्छी तरह मिला लें और रख लें.

कैसे और कितनी मात्रा में खाएं? 10 से 15 ग्राम की मात्रा में इस पाक को सुबह दूध के साथ लें.

फ़ायदे- यह शरीर के लिए काफ़ी पौष्टिक है और वीर्यवर्द्धक भी है. साथ ही मेथीपाक खाने से आमवात एवं अन्य वातरोग, मलेरिया, जॉन्डिस, अम्लपित्त, सिरदर्द, प्रदररोग आदि दूर होते हैं.

यह भी पढ़ें: सेक्स से जुड़े टॉप 12 मिथ्सः जानें हक़ीकत क्या है

यह भी पढ़ें: 7 टाइप के किस: जानें कहां किसिंग का क्या होता है मतलब?

  1. पेठा पाक

सामग्री- 2 किलो पेठा (स़फेद कुम्हड़ा), 325 ग्राम घी, ढाई किलो पुराना गुड़, 40-40 ग्राम प्रत्येक का बारीक चूर्ण- दालचीनी, तेजपत्ता, धनिया, सोंठ, कालीमिर्च, पिप्पली, स़फेद जीरा, छोटी इलायची, पीपरामूल, सोंठ, सिंघाड़ा, 150 ग्राम शहद व आवश्यकतानुसार पानी.

विधि- पेठे (स़फेद कुम्हड़ा) को छीलकर उसे काटकर बीज निकाल दें. फिर उसके छोटे-छोटे टुकड़े करके उबाल लें. उबल जाने पर उसका पानी निचोड़कर अलग रख लें और इस निचोड़े हुए पेठे को  घी में भूनें. इसके बाद पेठे के स्वरस यानी पेठे के निचोड़े हुए पानी को ढाई लीटर की मात्रा में लेकर उसमें ढाई किलो पुराना गुड़ घोलकर छान लें और उसे धीमी आंच पर रखकर दो तार की चाशनी बनाएं. चाशनी बन जाने पर उसमें भुने हुए पेठे को डालकर पाक बना लें. फिर दालचीनी, तेजपत्ता, धनिया, सोंठ, कालीमिर्च, पिप्पली, स़फेद जीरा, छोटी इलायची, पीपरामूल, सोंठ व सिंघाड़े को पाक में डालकर अच्छी तरह मिलाएं. फिर पाक को आंच  पर से नीचे उतार लें और ठंडा होने पर उसमें शहद मिलाकर रख लें.

कैसे और कितनी मात्रा में खाएं? इसे 25-30 ग्राम की मात्रा में रोज़ाना खाएं.

फ़ायदे- यौनक्षमता बढ़ाता है.

  1. पौष्टिक खीर

सामग्री- 250 मि.ली. गाय का दूध, 1 लीटर गोखरू का काढ़ा, 1 किलो विदारीकंद का रस, 50-50 ग्राम उड़द व साठी चावल व घी.

विधि- गाय का दूध, गोखरू का काढ़ा व विदारीकंद का रस सबको एक साथ मिलाकर धीमी आंच पर पकाएं. जब दूध आधा रह जाए, तब उसमें उड़द और साठी चावल डालकर अच्छी तरह धीमी आंच पर पकाएं. इसमें थोड़ा घी भी डाल दें. जब चावल अच्छी तरह पक जाए, तब उतार लें.

फ़ायदे- इस खीर के सेवन से यौनशक्ति बढ़ती है.

Healthy Sex Recipes

  1. रतिशक्तिवर्द्धक वटी

सामग्री- 200 ग्राम मिश्री, 100 ग्राम घी, 50 ग्राम शहद व 50 ग्राम गेहूं का आटा.

विधि- मिश्री, घी व शहद लेकर उसमें थोड़ा-सा पानी मिलाकर चाशनी बनाएं. जब चाशनी गाढ़ी हो जाए, तब उसमें ताज़ा घी मिलाएं. फिर गेहूं का आटा मिलाकर अच्छी तरह गूंध लें. फिर इसकी छोटी-छोटी रोटियां बनाकर सेंक लें.

फ़ायदे- यह एक असरदार सेक्स बूस्टर रेसिपी है, जिससे पुरुषों की सेक्स पावर बढ़ती है.

Amazing! सेक्स पावर बढ़ाने के 25 चमत्कारी फॉर्मूले (25 Homemade Tips To Boost Your Sex Power)