heavy menstrual bleeding

पीरियड्स में अधिकतर महिलाएं आज भी सेनेटरी पैड का ही इस्तेमाल करती हैं, लेकिन यदि तुलना की बात की जाए, तो ये जानना ज़रूरी है कि सेनेटरी पैड, टैम्पून और मेंस्ट्रुअल कप में से आपके लिए क्या है बेहतर? इसके साथ ही महिलाओं को पीरियड्स में हेल्थ और हाइजीन का ध्यान कैसे रखें, इसकी जानकारी भी होनी चाहिए.

Sanitary Pads, Tampons And Menstrual Cups

क्या आप पीरियड्स में सेनेटरी पैड का उपयोग करती हैं?
ज़्यादातर महिलाएं पीरियड्स में सेनेटरी पैड यानी सेनेटरी नैपकिन का उपयोग करती हैं. सेनेटरी पैड्स कॉटन या अन्य फैब्रिक से बने होते हैं. इनमें लिक्विड को सोखने की क्षमता अधिक होती है और ये पांच से छह घंटे तक ब्लीडिंग को सोख सकते हैं. कुछ महिलाओं को सेनेटरी पैड्स के उपयोग के दौरान रैशेज़, खुजली जैसी तकलीफ़ों का सामना करना पड़ता है. ऐसी महिलाओं को अच्छी क्वालिटी के सेनेटरी पैड्स का इस्तेमाल करना चाहिए और सेनेटरी पैड्स को उचित समय पर बदलते रहना चाहिए. साथ ही हाइजीन का भी ख़ास ध्यान रखना चाहिए.

यह भी पढ़ें: पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय (5 Home Remedies To Reduce Period Pain)

Sanitary Pads

क्या आप पीरियड्स में टैम्पून का उपयोग करती हैं?
टैम्पून कॉटन और विशेष फैब्रिक से बना हुआ एक स्टिक जैसा होता है, जिसमें नीचे की ओर एक धागा लटका रहता है. टैम्पून का इस्तेमाल इसे वजायना में डालकर किया जाता है. जब टैम्पून पर्याप्त ब्लड को सोख लेता है, तो धागे की मदद से टैम्पून को वजायना के बाहर निकालकर उसे डिस्पोज़ कर दिया जाता है. कुछ महिलाएं पीरियड्स में टैम्पून का उपयोग करती हैं. टैम्पून चार-पांच घंटे तक ब्लीडिंग को सोख सकता है. हमारे देश में बहुत कम महिलाएं टैम्पून का इस्तेमाल करती हैं. कुछ महिलाओं को टैम्पून के उपयोग से यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन होने की शिकायत रहती है.

Tampons

क्या आप पीरियड्स में मेंस्ट्रुअल कप का उपयोग करती हैं?
मेंस्ट्रुअल कप मुलायम और लचीले लेटेक्स का बना एक कप है, जिसे पीरियड्स के दौरान कई बार इस्तेमाल किया जा सकता है. मार्केट में सिंगल यूज के लिए भी मेंस्ट्रुअल कप उपलब्ध हैं. पैड्स, टैम्पून और मेंस्ट्रुअल कप की तुलना में मेंस्ट्रुअल कप ज़्यादा सुरक्षित है यानी इसमें लीकेज का रिस्क कम होता है, इसके बावजूद हमारे देश में बहुत कम महिलाएं ही मेंस्ट्रुअल कप का इस्तेमाल करती हैं.

Menstrual Cups

सेनेटरी पैड, टैम्पून और मेंस्ट्रुअल कप, ये तीनों ही पीरियड्स में इस्तेमाल किए जाने वाले भरोसेमंद प्रोडक्ट्स हैं, आप अपनी सुविधा और ज़रूरत के अनुसार इनका चुनाव कर सकती हैं.

योनि संक्रमण (Vaginal Yeast Infection) का उपचार जानने के लिए देखें ये वीडियो:

मैं 46 वर्षीया महिला हूं और ट्रीटमेंट (Treatment) के बावजूद पिछले कई सालों से हेवी ब्लीडिंग (Heavy Bleeding) से परेशान हूं. डॉक्टर ने मुझे हिस्टेरेक्टॉमी की सलाह दी है. कृपया, इसके साइड इफेक्ट्स के बारे में बताएं.
– रेखा वर्मा, कानपुर.

हिस्टेरेक्टॉमी में सर्जरी के ज़रिए यूटरस और सर्विक्स निकाल दी जाती हैं. यह सर्जरी एब्डॉमिनल, वेजाइनल और लैप्रोस्कोपिक तरीक़ों से की जा सकती है. वेजाइनल और लैप्रोस्कोपिक दोनों ही बेहतरीन तरी़के हैं, क्योंकि इनमें रिकवरी तेज़ी से होती है और ज़्यादा ब्लीडिंग भी नहीं होती. कुछ ही हफ़्तों में आप अपनी नॉर्मल लाइफ शुरू कर सकती हैं. सर्जरी के दौरान ओवरीज़ भी निकाल देने से एस्ट्रोजेन की कमी हो जाती है, जिससे मेनोपॉज़ के सभी लक्षण महसूस होते हैं. हालांकि सर्जरी के बाद डॉक्टर आपको क्या करें, क्या न करें की पूरी लिस्ट देंगे. सर्जरी के बाद आपको हाई फाइबर डायट लेना होगा, ताकि कफ़ या कब्ज़ की शिकायत न हो, वरना आपकी सर्जरी पर इसका असर पड़ेगा.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: क्या पहली प्रेग्नेंसी में बहुत ज़्यादा चक्कर आते हैं? (Is Extreme Dizziness In First Pregnancy Normal?)

Heavy Menstrual Bleeding

मैं 16 वर्षीया लड़की हूं. मेरी बाकी सहेलियों की तरह मुझे पीरियड्स नहीं आते, जबकि 14 साल की उम्र से ही हर महीने मुझे पेटदर्द होता है. अल्ट्रासाउंड से पता चला है कि मेरे गर्भाशय और योनि में खून जमा है. डॉक्टर के मुताबिक़ पीरियड्स के लिए मुझे एक छोटा-सा ऑपरेशन करवाना होगा. क्या ऐसा होता है?
– प्रगति सिन्हा, रायपुर.

आमतौर पर 11 से 14 साल के बीच लड़कियों के पीरियड्स आ जाते हैं, पर आपकी जो स्थिति है उसे हेमाटोकोल्पोस और हेमाटोमेत्रा कहते हैं, जिसमें ब्लड वेजाइना और यूटरस में जमा होता रहता है. आपकी वेजाइनल ओपनिंग बंद है, जिसके कारण ब्लड वेजाइना और यूटरस में जमा हो रहा है. जैसा कि आपने बताया कि 14 साल की उम्र से ही आपको हर महीने दर्द होता है, पर पीरियड्स नहीं होते, दरअसल तभी से आपके पीरियड्स शुरू हो गए हैं, पर वेजाइनल ओपनिंग के बंद होने के कारण ब्लड बाहर नहीं निकल पाया. आपको डरने की कोई ज़रूरत नहीं. बस, एक छोटे-से ऑपरेशन से सब ठीक हो जाएगा और आपके पीरियड्स नॉर्मल हो जाएंगे.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: क्या मेडिकल एबॉर्शन सेफ और इफेक्टिव है? (Is The Medical Abortion Safe?)

Dr. Rajshree Kumar

 

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा ऐप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies