Tag Archives: hichki

Fresh! ‘हिचकी’ का ट्रेलर हुआ रिलीज़, रानी मुखर्जी की दमदार ऐक्टिंग, ज़बरदस्त कमबैक (‘Hichki’ Trailer Out)

Hichki Trailer Out

Hichki Trailer Out

रानी मुख्रजी ने ज़बरदस्त कमबैक किया है फिल्म हिचकी से. यशराज बैनर की इस फिल्म ट्रेलर रिलीज़ हो गया है. फिल्म मर्दानी के बाद रानी ने तीन साल का लंबा ब्रेक लिया था और अब वो एक दमदार फिल्म के साथ वापसी कर रही हैं. ट्रेलर में जो नज़र आ रहा है उसके मुताबिक़ रानी को हिचकी की प्रॉब्लम हैं, लेकिन उनका सपना है टीचर बनने का. उनकी हिचकी की वजह से टीचर का जॉब पाने के लिए उन्हें काफ़ी मेहनत करनी पड़ती है. एक दिन उन्हें मौक़ा मिल जाता है कुछ ऐसे बच्चों को पढ़ाने का जिन्हें राइट टु एजुकेशन के तहत बड़े स्कूल में एडमिशन मिला है. रानी की ऐक्टिंग देखकर आप एक बार फिर उनकी ऐक्टिंग के कायल हो जाएंगे.

इस फिल्म को सिद्धार्थ पी मल्होत्रा डायरेक्ट कर रहे हैं, जबकि आदित्य चोपड़ा ने फिल्म को प्रोड्यूस किया है. हिचकी 23 फरवरी को रिलीज़ होगी. देखें ट्रेलर.

यह भी पढ़ें: स्कूल के Annual Day पर शाहरुख के गाने पर नाचे क्यूट अबराम, आराध्या बच्चन ने भी किया परफॉर्म 

[amazon_link asins=’B00FRIQHCA,B00NCRYDUQ’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’e77f8eaa-e4a6-11e7-b832-d355488c8407′]

हिचकी रोकने के 11 स्मार्ट ट्रिक्स (11 Smart Tricks To Get Rid of Hiccups)

हिचकी, रोकने के, स्मार्ट ट्रिक्स, Smart Tricks, Get Rid, Hiccups

हिचकी (Hiccups) किसी को भी कभी भी आ सकती है. वैसे तो ये बहुत ही सामान्य-सी बात है, लेकिन अगर यह लगातार बनी रही, तो सांस लेने में द़िक्क़त पैदा होने लगती है, इसलिए हिचकी को रोकने के उपाय हर किसी को पता होने चाहिए. आइए जानें, क्यों आती है हिचकी और कैसे दूर करें इसे.

क्यों आती है हिचकी (Hichki in Hindi)?

– हमारे शरीर में छाती के पास डायफ्राम नामक मसल होती है, जिसमें सिकुड़न के कारण हिचकी आती है.
– दरअसल होता यूं है कि डायफ्राम को नियंत्रित करनेवाली नाड़ियों में जब उत्तेजना होती है, तब डायफ्राम बार-बार सिकुड़ता है और हमारे फेफड़े तेज़ी से हवा अंदर खींचते हैं.
– ऐसा जल्दी-जल्दी खाना खाने, ज़ोर-ज़ोर से हंसने, तेज़ मसालेवाला खाना खाने या फिर पेट फूलने से होता है यानी नाड़ियों में उत्तेजना का कारण हवा होती है.
– आमतौर पर यह हवा डकार से निकल जाती है, लेकिन कभी-कभी ये खाने की तहों के बीच फंस जाती है.
– हिचकी इसी फंसी हुई हवा को बाहर निकालने का उपाय है.
– हिचकी रोकने के लिए कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ानी ज़रूरी है, इसलिए सांस रोकना, धीरे-धीरे पानी पीना इसमें कारगर होता है.

 ये भी पढ़ेंः रोज़ 4 मिनट करें ये… और 1 महीने में बन जाएं स्लिम एंड सेक्सी

कई घंटों तक हिचकी आने के कारण

– गैस्ट्रो इंटेस्टाइनल कंडीशन्स
– मेटाबॉलिक डिस्ऑर्डर
– नर्वस सिस्टम में इंफेक्शन होना
– किसी नर्व का डैमेज होना
– किसी दवा का साइड इफेक्ट

हिचकी, रोकने के, स्मार्ट ट्रिक्स, Smart Tricks, Get Rid, Hiccups

 ये भी पढ़ेंः गर्म पानी पीने के चमत्कारी फ़ायदे

तुरंत हिचकी रोकने के उपाय

  1. थोड़ी देर के लिए सांसें रोककर रखें. इससे हिचकी तुरंत बंद हो जाती है.
  2. जीभ को बाहर निकालकर रखें, इससे भी फौरन राहत मिलती है.
  3. जैसे ही हिचकी आए, तुरंत एक चम्मच चीनी फांककर पानी पी लें.
  4. तुरंत एक ग्लास ठंडा पानी पी लें. चाहें, तो पानी में एक टीस्पून शहद मिला लें.
  5. एक पेपरबैग में मुंह डालकर सांस लें. ऐसा करने से कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ जाती है और हिचकी रुक जाती है.
  6. आधा टीस्पून नींबू का रस पीने से हिचकी से तुरंत राहत मिलती है.
  7. ध्यान भटकाने के लिए गाना गाएं, किताब पढ़ें या बातें करें.
  8. अगर आप ठंडा पानी नहीं पीना चाहते, तो गले पर आइस पैक रखें. तुरंत राहत मिलेगी.
  9. एक टीस्पून शहद खाने से भी तुरंत फ़र्क़ पड़ता है.
  10. एक टीस्पून चॉकलेट पाउडर खा लें, हिचकी बंद हो जाएगी.
  11. नमक पानी का घोल बनाकर 2-4 घूंट पीने से भी हिचकी रुक जाती है.
ये भी पढ़ेंः क्यों आती है हिचकी (Hichki) ? जानें तुरंत हिचकी रोकने के उपाय

 

हर बीमारी का आयुर्वेदिक उपचार व उपाय जानने के लिए इंस्टॉल करे मेरी सहेली आयुर्वेदिक होम रेमेडीज़ ऐप

– दिनेश सिंह

 

क्यों आती है हिचकी (Hichki) ? जानें तुरंत हिचकी रोकने के उपाय ( Why get hiccups? Learn to prevent hiccups immediately)

Prevent Hiccups, Hichki, हिचकी

भारत में हिचकी (Hichki) को लेकर काफ़ी अंधविश्‍वास है. कई लोग मानते हैं कि हिचकी आने का मतलब उन्हें कोई याद कर रहा है और याद करनेवाले व्यक्ति का नाम लेने से हिचकी रुक जाएगी. ख़ैर, मन बहलाने के लिए ये बातें ठीक हैं, लेकिन हिचकी के पीछे का विज्ञान कुछ और ही कहता है.

Prevent Hiccups, Hichki, हिचकी
कब आती है हिचकी?

 

छाती और पेट के बीच एक मांसपेशी होती है, जिसे डायफ्राम कहते हैं. डायफ्राम इन दोनों हिस्सों को अलग करती है और सांस लेने की प्रक्रिया में बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. जब कभी किसी वजह से डायफ्राम सिकुड़ती है, तो फेफड़े तेजी से हवा अंदर खींचते हैं और सांस लेने में द़िक्क़त होने लगती है, जिससे हिचकी शुरू हो जाती है.

 

हिचकी आने के कारण

 

– जल्दी-जल्दी भोजन निगलना या तेल मसालेदार भोजन का सेवन करना.

– ज़्यादा खाने से या अल्कोहल का सेवन.

– जोर-ज़ोर से हंसना.

– चिंता, तनाव या ग़ुस्से की वजह से भी हिचकी आ सकती है.

– ख़ून की कमी, रक्तस्राव, गैस्ट्रिक समस्या.

– कुछ दवाइयों का साइड इफेक्ट.

– ब्रेन ट्युमर या कोई पुरानी बीमारी की वजह से.

– हानिकारक धुआं आदि.

 

हिचकी कब है ख़तरनाक?

– हिचकी वैसे कोई मेडिकल इमर्जेंसी नहीं है, लेकिन अगर बार-बार हिचकी आए और उसके साथ बुख़ार, दर्द, सांस लेने में द़िक्क़त, उल्टी जैसे लक्षण हों तो हिचकी ख़तरनाक हो सकती है.

– वैसे तो हिचकी कुछ मिनटों तक ही रहती है, लेकिन अगर हिचकी न रुक रही हो और 3 घंटे से ज़्यादा का व़क्त हो गया हो, तो डॉक्टर से संपर्क करें.

 

तुरंत हिचकी रोकने के उपाय

 

– एक चम्मच चीनी मुंह में डाल लें. हिचकी बंद हो जाएगी.

– एक रिसर्च के मुताबिक़ ध्यान किसी दूसरी ओर ले जाने से भी हिचकी बंद हो जाती है.

– ध्यान भटकाने के लिए उल्टी गिनती गिनें. उल्टी गिनती यानी 100 से 1 तक गिनें.

– जीभ को जितना हो सके, बाहर निकालें. इससे गले का वह भाग खुल जाएगा जो नाक के रास्ते वोकल कॉर्ड को जोड़ता है.

– गहरी सांस लें. सांस को कुछ सेकंड के लिए रोकें. रिसर्च के मुताबिक़ फेफड़े में कार्बन डाइऑक्साइड के भर जाने पर डायफ्राम उसे बाहर निकालता है और इसकी वजह से हिचकी आनी बंद हो जाती है.

– एक ग्लास पानी झट से पी जाएं.

– अगर किसी को हिचकी आ रही है, तो उसे डराने या कोई सरप्राइज़ देने से भी हिचकी बंद हो जाती है.

– नींबू भी हिचकी को रोकने में फ़ायदेमंद होता है. एक चम्मच नींबू के ताज़े रस में एक चम्मच शहद मिलाकर खाएं.

– तीन कालीमिर्च को चीनी या मिश्री के एक टुकडे के साथ चबाएं. कालीमिर्च के रस से हिचकी तुरंत बंद हो जाएगी.

– सिरके का खट्टा स्वाद भी हिचकी को ग़ायब करने में मददगार होता है. एक चम्मच सिरका काफ़ी है.

– चुटकी भर नमक को पानी में मिलाकर एक या दो घूंट पीने से भी हिचकी से आराम मिलता है.

– खाना आराम से चबाकर खाएं.

– अपने कानों को 20 सेकंड के लिए बंद कर लें या कान के नरम हिस्से को हल्के से दबाएं. ऐसा करने से डायफ्राम से जुड़ी वेगस नस तक संदेश जाएगा और हिचकी बंद हो जाएगी.

– मुठ्ठी कसकर बांधने से नर्वस सिस्टम का ध्यान हिचकी पर से हट जाता है और हिचकी बंद हो जाती है.

 

ये भी पढ़ेंः हिचकी रोकने के 11 स्मार्ट ट्रिक्स

 

हर बीमारी का आयुर्वेदिक उपचार व उपाय जानने के लिए इंस्टॉल करे मेरी सहेली आयुर्वेदिक होम रेमेडीज़ ऐप