Hindi Cinema

यह लम्हा फ़िलहाल जी लेने दे… यह गाना बहुत कुछ कह जाता है. आज भारतीय सिनेमा में ख़ासकर हिंदी सिनेमा में महिला निर्देशकों ने हर उस लम्हे को जिया है, जो एक नई कहानी, नई सोच के साथ बढ़ता है… शुरुआत के दिनों ब्लैक एंड वाइट मूवी से लेकर आज कलर फिल्मों की भव्य दुनिया तक महिला निर्देशकों ने अपनी अलग और विशेष पहचान बनाई है. आइए, उन उम्दा और प्रतिभाशाली महिला निर्देशकों की कुछ कही-अनकही बातें और उपलब्धियों को जानते हैं.

Farah Khan

ऑलराउंडर फराह
बहुमुखी प्रतिभा की धनी फराह खान ने कोरियोग्राफर के रूप में करियर शुरू किया था. फिर वे निर्देशक, निर्माता और एक्ट्रेस भी बनीं. मैं हूं ना, ओम शांति ओम, हैप्‍पी न्‍यू ईयर, तीस मार खान में उनका निर्देशन क़ाबिल-ए-तारीफ़ रहा. आज के दौर में फराह ऐसी निर्देशिका हैं, जिन्होंने लोगों की पसंद और मनोरंजन को ध्यान में रखते हुए अलग-अलग जॉनर की फिल्में बनाई. उन्होंने युवा, परिवार और सोशल ड्रामा पर काफ़ी ध्यान दिया और दर्शकों की पसंद समझने में भी कामयाब रहीं.

  • मुंबई में जन्मी फराह की मां मेनका मशहूर फिल्म पटकथा लेखिका हनी ईरानी की बहन हैं. इस तरह हनी के दोनों बच्चे फरहान और जोया अख्‍तर उनके कजिन्‍स हैं.
  • भाई साजिद खान भी निर्देशक, कॉमेडियन और अभिनेता हैं.
  • उन्होंने मुंबई के सेंट जेवियर्स कॉलेज से सोशियोलॉजी किया.
  • पॉप सिंगर माइकल जैक्‍सन से प्रभावित होकर उन्होंने डांस में करियर बनाने की ठानी और ख़ुद से ही डांस सीख डांस ग्रुप बनाया.
  • फराह ने हिंदी फिल्‍मों की सौ से अधिक गानों की कोरियोग्राफी की और अधिकतर सुपर-डुपर हिट रही.
  • साल 2004 में निर्देशक शिरीष कुंदर से शादी की और उनके एक बेटा और दो बेटी यानी ज़ार, आन्या और दीवा तीन प्यारे बच्चे हैं.
  • फराह के निर्देशन की पहली फिल्म मैं हूं ना कि एडिटिंग शिरीष ने ही की थी. उन्होंने जोकर फिल्‍म का निर्देशन भी किया है.
  • फिल्मों में डांस डायरेक्टर के रूप में फराह की एंट्री कुछ कम दिलचस्प नहीं रही. जब मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान ने जो जीता वही सिकंदर फिल्म छोड़ दी थी, तब फराह को यह फिल्म मिली.
  • शाहरुख खान से उनका गहरा याराना जगजाहिर है. दोनों की मुलाक़ात कभी हां कभी ना फिल्म की शूटिंग के दरमियान हुई थी. उनकी गहरी दोस्ती का ही जलवा रहा कि फराह ने शाहरुख के साथ हैट्रिक मारी यानी तीन बेहतरीन फ़िल्में कीं. मैं हूं ना, ओम शांति ओम, हैप्पी न्यू ईयर… ये सभी बेहद कामयाब रहीं.
  • वे पांच बार फिल्‍मफेयर का बेस्ट कोरियोग्राफी का अवॉर्ड जीत चुकी हैं.
  • बोमन ईरानी के साथ एक्ट्रेस के रूप में शिरीन फरहाद की तो निकल पड़ी फिल्म के यूनीक काॅन्सेप्ट लोगों ने ख़ूब पसंद किया.
  • एमटीवी वीडियो म्यूज़िक अवाॅर्ड्स के लिए फराह ने कोलम्बियन पॉप स्‍टार शकीरा के गाने हिप्‍स डोंट लाई… के हिंदी वर्जन के लिए उन्‍हें ट्रेंनड किया.
  • ब्‍लू फिल्म के चिगी विगी साॅन्ग के लिए काइली मिनोग को कोरियोग्राफ किया.
  • पति के साथ मनोज बाजपेयी, जैकलीन फर्नांडिस और मोहित रैना अभिनीत मिसेज सीरियल किलर भी बनाई.
  • मल्टी टैलेंटेड फराह कई टीवी शो की होस्ट भी रही हैं. उनके मज़ेदार कमेंट्स और लाजवाब सेंस ऑफ ह्यूमर लोगों का ख़ूब मनोरंजन करते रहे हैं.
  • सेलिब्रिटी चैट शो तेरे मेरे बीच मे, बिग बॉस के होस्ट के अलावा वे इंडियन आइडल, जो जीता वही सुपरस्‍टार, एंटरटेनमेंट के लिए कुछ भी करेगा, डांस इंडिया डांस, लिटिल मास्टर्स, जस्‍ट डांस जैसे शोज़ की जज रहीं.
Meghna

सुलझी निर्देशिका मेघना…
यह लम्हा फ़िलहाल जी लेने दे… मेघना गुलज़ार के निर्देशन की पहली फिल्म फ़िलहाल का यह गाना उनके जीवन को भी सार्थक करता है. सुलझी हुई लेखिका और निर्देशक मेघना ने अपनी ज़िंदगी को भी कुछ इसी अंदाज़ में जिया. फ़िलहाल, जस्ट मैरिड, दस कहानियां, तलवार , राज़ी, छपाक जैसी बेहतरीन फ़िल्मों में उनके उम्दा निर्देशन की बानगी देखने मिली.

  • गीतकार-निर्देशक गुलज़ार और अदाकारा राखी की बेटी मेघना को लेखनी-निदर्शन का हुनर पिता से विरासत में मिला. पापा की लाड़ली मेघना ने गुलज़ार पर बिकॉज़ ही इज़ बुक लिखी है.
  • मुंबई में सोशोलाॅजी की डिग्री हासिल करने के बाद वे निर्देशक सईद मिर्ज़ा के साथ असिस्टेंट डायरेक्टर के रूप में जुड़ी.
  • न्यूयॉर्क युनिवर्सिटी में फिल्मों से जुड़ी तमाम बारीकियां जानी और इसमें डिग्री हासिल की.
  • गुलज़ार-राखी की एकलौती पुत्री मेघना ने गोविन्द संधू से शादी की थी और उनका एक बेटा समे भी है.
  • पिता की फिल्म माचिस और हु तू तू में सहायक निर्देशक रहीं. हु तु तू फिल्म की पटकथा भी लिखी.
  • उन्होंने कई शाॅर्ट फिल्म्स व डॉक्यूमेंटरी का निर्देशन किया.
  • साल 2002 सुष्मिता सेन व तब्बू को लेकर फ़िलहाल फिल्म बनाई, जिसे दर्शकों-आलोचकों का अच्छा रिस्पाॅन्स मिला.
Fatima Begum

ब्लैक एंड व्हाइट का दौर…
फिल्म इंडस्ट्री में फातिमा बेगम पहली महिला निर्देशक रहीं. इसके लिए उन्हें बेहद संघर्ष करना पड़ा, क्योंकि हिंदी सिनेमा में पुरुषों का वर्चस्व था. उसके बाद तो उन्होंने शोभना समर्थ, जद्दनबाई जैसी प्रतिभाशाली अभिनेत्री-निर्देशिका के लिए रास्ते आसान कर दिए.
दरअसल, उस दौर में सिनेमा को अच्छी नज़र से नहीं देखा जाता था, इसलिए वुमन डायरेक्टर को बहुत स्ट्रगल करना पड़ता था.

Female Directors

सत्तर-अस्सी का सुनहरा दशक…
पुरुषों के दबदबे के बावजूद सिमी ग्रेवाल, सई परांजपे, अरुणा राजे जैसी कमाल की महिला निर्देशकों ने अपनी छाप छोड़ी. आख़िरकार महिला निर्देशक अपनी क़ाबिलियत और अलग-अलग विषयों पर ख़ूबसूरत फिल्म करने के कारण अपनी पहचान बनाने में सफल रहीं. और बॉलीवुड को उनके उल्लेखनीय योगदान की सराहना करनी ही पड़ी. उन्होंने भारतीय हिंदी सिनेमा की दिशा ही बदल दी. कई शीर्ष की अभिनेत्रियों ने भी निर्देशन में हाथ आज़माया. फिल्मों के साथ-साथ टीवी और डाक्यूमेंट्री में भी उनका रुझान रहा. इनमें विशेष रहीं- शोभना समर्थ, साधना, हेमामालिनी, तब्बसुम, सोनी राजदान, नंदिता दास व पूजा भट्ट. इन्होंने अभिनय के साथ अपने निर्देशन के शौक को भी बनाए रखा. अछूते विषय और प्रभावपूर्ण निर्देशन की जादूगरी विजया मेहता, साईं परांजपे, अपर्णा सेन, अरूणा राजे, दीपा मेहता, कल्पना लाजमी, मीरा नायर, गुरविदंर चड्ढा, फराह खान, तनुजा चंद्रा, लीना यादव, जोया अख्तर, किरण राव, मेघना गुलजार, रीमा कागती, गौरी शिंदे आदि में देखने को मिली.

Deepa Mehta and Meera Nair

इंटरनेशनल धूम…
दीपा मेहता व मीरा नायर ऐसी लाजवाब निर्देशिका रहीं, जिन्होंने भारतीय फिल्म इंडस्ट्री को देश में ही नहीं, बल्कि विदेश में भी मशहूर किया. सिनेमा को एक अंतर्राष्ट्रीय पहचान दिलाने में अपना योगदान दिया. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इनकी फिल्मों को ढेर सारे पुरस्कार मिले. इन्होंने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया, तभी तो अनुषा रिज़वी जैसी बेहतरीन निर्देशिका की फिल्म पीपली लाइव ऑस्कर तक के लिए नामांकित हुई.

Kalpana Lajmi

नारी-मन को बख़ूबी समझा कल्पना लाजमी ने…
स्त्री की सोच, उसकी दुविधा, उसके मन, चाहत, संघर्ष को गहराई से समझा, जिया और बड़े पर्दे पर दिखाया कल्पना लाजमी ने. वे ख़ुद भी एक विद्रोही डायरेक्टर रहीं. समाज से लड़कर उन्होंने अपनी नई दुनिया और नया रास्ता बनाया. व्यक्तिगत जीवन हो या फिल्म का निर्देशन कल्पना लाजमी हमेशा कुछ अलग करने और दिखाने में विश्‍वास करती थीं और उनकी फिल्मों में यह देखने भी मिला. फिर चाहे उनकी पहली फिल्म एक पल ही क्यों ना हो, जिसमें शादीशुदा स्त्री के पर-पुरुष से संबंध को तर्कसंगत ढंग से दर्शाया गया. उनका जीवन भी संगीतकार भूपेन हजारिका के साथ सदा सुर्ख़ियों में रहा. मिल्स एंड बून के रोमांटिक नॉवेल की शौकीन कल्पना ने अपनी फिल्मों में नारी के दर्द, अस्तित्व की लड़ाई, मुश्किल महिला पात्र को काफ़ी सहजता से दिखाती थीं.

  • कल्पना लाजमी ख़ुद को महिला फिल्ममेकर कहलाना पसंद नहीं करती थीं.
  • रुदाली और दरमियान में उन्होंने लीक से हटकर कुछ नया दिया. इन फिल्मों ने देश-विदेश में कई पुरस्कार जीते.
  • 17 साल की उम्र में सेंट ज़ेवियर्स कॉलेज में सायकोलाॅजी की पढ़ाई के समय ही उनका झुकाव वामपंथी विचारोंवाले क्षेत्रीय कलाकार भूपेन हजारिका पर आ गया. कहा जाता है क़रीब चालीस साल तक बिन फेरे हम तेरे के तर्ज़ पर यह अटूट रिश्ता रहा.
  • चित्रकार पेंटर ललिता लाजमी की बेटी थीं कल्पना और अभिनेता-निर्देशक गुरुदत्त उनके सगे मामा थे.
  • अपनी ज़िंदगी में वे दो पुरुषों से सबसे अधिक प्रभावित रहीं, पिता गोपी लाजमी, जो नेवी में कैप्टन थे और गायक-संगीतकार भूपेन हजारिका.
  • वे श्याम बेनेगल की असिस्टेंट रही. भूमिका फिल्म में कॉस्ट्यूम असिस्टेंट थीं, तो मंडी में असिस्टेंट डायरेक्टर रहीं.
  • उनके मित्र देव आनंद का कहना था कि वो दोस्तों की दोस्त थीं. उनका सेंस ऑफ ह्यूमर ग़ज़ब का था. था. खाने-खिलाने से प्यार और फिल्मों का पैशन ज़बर्दस्त था.
  • देव आनंद ने कल्पना को अपनी फिल्म हीरा पन्ना में ज़ीनत अमान वाला रोल ऑफर किया था, पर उन्होंने मना कर दिया था.
  • साल 1978 में कल्पना ने भूपेन के साथ मिलकर अपनी कंपनी शुरू की. पहली डॉक्यूमेंट्री डी. जी. मूवी पायोनियर का निर्देशन किया. यह बंगाली फिल्ममेकर धीरेन गांगुली के जीवन पर आधारित थी.
  • साल 1986 में शबाना आज़मी, नसीरुद्दीन शाह, फारुख़ शेख़, दीना पाठक और श्रीराम लागू लीड रोल वाली उनकी पहली फिल्म एक पल को क्रिटिक्स ने काफ़ी सराहा. कल्पना व गुलज़ार ने इसकी पटकथा लिखी थी और भूपेन ने संगीत दिया था. यह अपने समय से आगे की मूवी थी. नायिका शादीशुदा होने के बावजूद दूसरे पुरुष से रिलेशन रखती है और उसे इसका कोई पछतावा भी नहीं होता. वह इसके लिए हर जोखिम तक उठाने को तैयार होती है. उस समय एक स्त्री द्वारा इस तरह के बोल्ड सब्जेक्ट पर फिल्म बनाने के बारे में कोई सोच भी नहीं सकता था.
  • उन्होंने दूरदर्शन के लिए लोहित किनारे सीरियल डायरेक्ट किया था.
  • कल्पना लाजमी का कहना था कि एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण उनकी दूर की रिश्तेदार हैं.
  • बंगाली लेखिका महाश्वेता देवी की लिखी लघुकथा पर आधारित रुदाली फिल्म के लिए साल 1993 में डिम्पल कपाड़िया को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय पुरस्कार मिला था. कहानी राजस्थान की ऐसी महिलाओं पर थी, जो किसी की मृत्यु पर पैसे लेकर रोने के लिए जाती थीं. उन्हें रुदालियां (रुदन करनेवाली) कहा जाता था.
  • किरण खेर, आरिफ ज़कारिया, तब्बू, सयाजी शिंदे जैसे मंझे हुए कलाकारों के साथ उनकी दरमियान फिल्म हटकर रही. इसमें 1940-50 के हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को दिखाया गया है. एक अभिनेत्री के करियर का उतार-चढ़ाव भी. जहां उसे ऐसा बेटा होता है, जिसे हर्माफ्रोडाइट की समस्या रहती है, जिसमें वो स्त्री-पुरुष दोनों के सम्मिलित पर अविकसित जननांगों के साथ जन्म लेता है. मां-बेटे के संघर्ष की अनोखी दास्तान है यह फिल्म. पहले इस भूमिका को शाहरुख खान करनेवाले थे, लेकिन उनके इंकार करने पर आरिफ ज़कारिया ने किया.
  • मैरिटल रेप पर केंद्रित उनकी फिल्म दमन भी काफ़ी चर्चा में रही थी. रवीना टंडन को इस फिल्म के लिए बेस्ट एक्ट्रेस का नेशनल अवॉर्ड मिला था.
  • उनकी क्यों और सुष्मिता सेन अभिनीत चिंगारी भी उत्कृष्ट अलग तरीक़े की फिल्म रही.
  • उनकी राजनीति पर आधारित सिंहासन नामक एक स्क्रिप्ट तैयार थी, जिसमें वे ऐश्वर्या राय को लीड रोल में लेना चाहती थीं, पर ऐसा हो ना सका.
  • उन्होंने भूपेन हजारिका- द वे आई निव हिम बुक भी लिखी थी और इस पर द टेम्पेस्ट नाम से फिल्म बनाने वाली थीं, पर इससे पहले उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया.

ये निर्देशिका भी किसी से कम नहीं…

Female Directors
  • आज की संजीदा निर्देशक में तनुजा चंद्रा का नाम भी शुमार है. उन्होंने जहां यश चोपड़ा के साथ दिल तो पागल है फिल्म के लिए पटकथा लिखी, वहीं महेश भट्ट के साथ ज़ख़्म की. टीवी सीरियल ज़मीन आसमान से उन्होंने निर्देशन की शुरुआत की. साल 1998 आई उनकी पहली फिल्म दुश्मन से उन्हें अलग पहचान मिली. संघर्ष, सूर-द मेलोडी ऑफ लाइफ, फिल्म स्टार, होप एंड लिटिल सुगर, सिलवट, क़रीब क़रीब सिंगल जैसी फिल्मों में उनके निर्देशन की बेहद तारीफ़ हुई. बिजनेस वीमेन पर उन्होंने एक बुक भी लिखी है.
  • नंदिता दास, जिनकी मां वर्षा लेखिका और पिता जतिन कलाकार हैं. उन्होंने अभिनेत्री और निर्देशक के रूप में अपना लोहा मनवाया. फायर, अर्थ, बवंडर में उन्हें सराहा गया. फ़िराक़ फिल्म के निर्देशन ने तो उन्हें दुनियाभर में मशहूर कर दिया. उनकी इस पहली फिल्म ने ही बीस से भी अधिक पुरस्कार बटोरे.
  • अश्विनी अय्यर तिवारी की कॉमेडी ड्रामा फिल्म निल बटे सन्नाटा को आलोचनात्मक प्रशंसा मिली थी. उन्होंने इसके तमिल रीमेक अम्मा कनक्कू का भी निर्देशन किया. उनकी आयुष्मान खुराना, कृति सेनन, राजकुमार राव स्टार कास्ट बरेली की बर्फी लोगों ने ख़ूब पसंद की.
  • रेणुका शहाणे निर्देशित त्रिभंगा: टेढ़ी मेढ़ी क्रेज़ी अच्छी फिल्म रही. उन्होंने पहली बार अपनी मां के उपन्यास रीता वेलिंगकर पर आधारित रीता फिल्म का निर्देशन किया था और जल्द ही वे एक डार्क कॉमेडी पर फिल्म बनानेवाली हैं.
  • हेमा मालिनी ने टीवी सीरियल नुपूर और मोहिनी में निर्देशन कौशल का परिचय दिया. फिर दिल आशना है से फिल्म के निर्माण-निर्देशन में कदम रखा.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ें: क्या प्रेग्नेंट हैं गौहर खान? ज़ैद दरबार का वीडियो देखकर फैन्स ने लगाया ये अंदाज़ा (Is Gauahar Khan Pregnant? Zaid Darbar Shares A Video Saying ‘Koi Aa Raha Hai’)

हिंदी फिल्मों 30 हिट डायलॉग्स भुलाए नहीं भूलते. फिल्में भले पुरानी हों, लेकिन डायलॉग्स आज भी हिट हैं. क्या आपको याद हैं हिंदी फिल्मों के ये 30 हिट डायलॉग्स?

1) मैं तुम्हारे बच्चे की मां बनने वाली हूं.

2) अब हम किसी को मुंह दिखाने के लायक नहीं रहे.

3) क्या इसी दिन के लिए तुझे पाला था?

4) दूर हो जा मेरी नज़रों से!

5) भगवान के लिए मुझे छोड़ दो.

6) एक फूटी कौड़ी भी नहीं दूंगा.

7) क़ानून के हाथ बहुत लंबे होते हैं.

8) कुत्ते, कमीने… मैं तेरा ख़ून पी जाऊंगा.

9) अपने आप को पुलिस के हवाले कर दो.

10) ठहरो, ये शादी नहीं हो सकती.

11) घर में दो-दो जवान बेटियां हैं.

12) अपने हथियार डाल दो.

13) इसे धक्के मार के निकाल दो.

14) अब तुम्हारी मां हमारे कब्ज़े में है.

15) मालिक मैंने आपका नमक खाया है.

16) बेटा एक बार मुझे मां कह कर पुकारो.

यह भी पढ़ें: करीना कपूर खान के 10 अनएडिटेड और अनफिल्टर्ड पिक्चर्स, बिना मेकअप के दिखाया अपना असली चेहरा, कैप्शन में लिखा ये (10 Unedited And Unfiltered Pictures Of Kareena Kapoor Khan Without Makeup)

17) एक-एक को चुन-चुन के मारूंगा.

18) तुम्हें पुलिस ने चारों तरफ़ से घेर लिया है.

19) ये सौदा बहुत महंगा पड़ेगा.

20) ख़ामोश…!!!

21) बेटी तो पराया धन है.

22) क़ानून ज़ज़्बात नहीं सबूत मांगता है.

23) जज साहब, मैंने ख़ून नहीं किया है.

24) भगवान, मैंने आज तक तुमसे कुछ नहीं मांगा.

25) मैं तुम्हारे बिना नहीं जी सकती.

26) अजी, सुनती हो भाग्यवान!

27) इस घर के दरवाज़े हमेशा-हमेशा के लिए तुम्हारे लिए बंद हो गए हैं.

यह भी पढ़ें: करीना कपूर से लेकर दीपिका पादुकोण तक, ये हैं बॉलीवुड की टॉप 5 ननद-भाभी (From Kareena Kapoor To Deepika Padukone, These Are The Top 5 Sister-In-Law Of Bollywood)

28) मेरे पास मां है!

29) आज खुश तो बहुत होगे तुम!

30) ये पुलिस स्टेशन है, तुम्हारे बाप का घर नहीं!
(सारी फोटोज़ इंटरनेट से ली गई हैं)

राजकुमार राव भले ही नेशनल अवार्ड हासिल कर चुके हों लेकिन उन्हें आज भी वो स्टारडम नहीं मिला जिसके वो हक़दार हैं. लव सेक्स और धोखा जैसी एक्सपेरिमेंटल मूवी से अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत करनेवाले राजकुमार की गिनती मंजे हुए कलाकारों में होती है और हर किरदार पर उनकी वाहवाही भी होती है लेकिन अन्याय यह है कि उन्हें स्टार या सूपर स्टार की नज़र से आज भी नहीं देखा जाता. अलीगढ़, स्त्री, सिटीलाइट्स, न्यूटन जैसी फ़िल्में करने के बाद भी राजकुमार को बॉलीवुड ने अब तक वो नहीं दिया जिसके वो वाक़ई हक़दार हैं.

Underrated Actors In Bollywood

रणदीप हुड्डा अपने अलग अंदाज़ के लिए जाने जाते हैं और उनके इस अंदाज़ को सभी पसंद करते हैं लेकिन उनका फ़िल्मी सफ़र उन्हें स्टार का दर्जा नहीं दिला पाया. सरबजीत जैसी फ़िल्म करने के बाद भी उन्हें इतना क्रेडिट नाहीं मिला जितना ऐशवर्या को मिला. रणदीप की अदाकारी के क़ायल तो सभी हैं लेकिन बात जब स्टारडम की हो तो उन्हें उनका वो मुक़ाम नहीं मिल पाता जो मिलना चाहिए था. हाइवे जैसी फ़िल्म करने के बाद भी सारी वाहवाही आलिया भट्ट को मिली, हालाँकि रणदीप की भी तारीफ़ ख़ूब हुई लेकिन दबे लफ़्ज़ों में.

randeep hooda

राहुल बोस भले ही हार्डकोर कमर्शियल फ़िल्में नहीं करते लेकिन वो जो करते हैं कमाल करते हैं. अपने काम से उन्होंने यह साबित तो कर दिया कि हुनर की उनमें कोई कमी नहीं लेकिन इंडस्ट्री उन्हें इसके बदले ज़्यादा कुछ ना दे सकी. मिस्टर एंड मिसेज़ अय्यर के अलावा राहुल ने पैरलल सिनेमा में ही ज़्यादा काम किया है लेकिन उनकी चर्चा स्टार के तौर पर कभी नहीं होती.

Rahul Bose

मनोज बाजपेयी ने दूरदर्शन के स्वाभिमान नाम के सीरीयल से अपना करियर शुरू किया था. उसके बाद उन्हें बैंडिट क्वीन में काम मिला. मनोज मंजे हुए कलाकार हैं तभी तो उन्होंने शूल, सत्या, अलीगढ़, अक्स, गैंग्स ओफ वासेपुर जैसी फ़िल्मों में अपनी छाप छोड़ी. उनकी तारीफ़ बहुत होती है लेकिन उन्हें स्टार कलाकार के रूप में आज भी नहीं देखा जाता.

Manoj Bajpayee

अभय देओल के पास ना टैलेंट की कमी है और ना ही गुड लुक्स की लेकिन उन्हें भी इंडस्ट्री से वो नहीं मिला जिसके वो हक़दार थे. रांझना, देव डी, एक चालीस की लास्ट लोकल, ओए लकी लकी ओए… ऐसी कई फ़िल्में हैं जिसमें अभय ने अपने उम्दा अभिनय का लोहा मनवाया, लेकिन वो स्टार नहीं बन पाए.

Abhay Deol

नवाजुद्दीन सिद्दीक़ी भी अलग तरह के किरदार निभाने के लिए जाने जाते हैं. अपनी हर फ़िल्म में वो खूब तारीफ़ें बटोरते हैं लेकिन स्टार का दर्जा उन्हें भी हासिल नहीं हुआ. माँझी द माउंटन मैन जैसी फ़िल्म करने के बाद भी उन्हें पैरलल सिनेमा के लिए परफ़ेक्ट माना जाना लगा लेकिन उन्होंने कमर्शियल सिनेमा में भी उतना ही बेहतरीन काम किया फिर भी स्टार की नज़र से उन्हें नहीं देखा जाता.

Nawazuddin siddiqui

आयुष्मान खुराना को भले ही कामयाब अभिनेता का दर्जा मिला हो लेकिन वो स्टारडम अब तक नहीं मिला जो शायद बहुत पहले मिल जाना चाहिए था. विकी डोनर, ड्रीमगर्ल, अर्टिकल 15 जैसी फ़िल्मों ने ना सिर्फ़ एक कलाकार के रूप में बल्कि सिंगर के तौर पर भी उन्हें स्थापित कर दिया था पर फिर भी ऐसा लगता है कि जितनी उनमें खूबियाँ हैं उसके अनुसार उन्हें सब कुछ नहीं मिला.

Ayushman Khurana

के के मेनन ने अलग तरह का सिनेमा ज़रूर किया है लेकिन उनका हुनर बहुत ज़्यादा है. गुलाल, लाइफ इन ऐ मेट्रो जैसी फ़िल्मों के अलावा उन्होंने गुजराती, मराठी, तेलुगु और तमिल फ़िल्में भी की हैं और स्टेज व टीवी पर भी वो उतने ही एक्टिव हैं. लेकिन इतना सब होने के बाद भी इंडस्ट्री ने उन्हें बदले में देने में कंजूसी ही की.

Kk menon

आशुतोष राणा एक समय में सबके फेवरेट थे. उन्होंने भी स्वाभिमान धारावाहिक से अपना सफ़र शुरू किया और बड़े पर्दे पर अपना जोहार भी खूब दिखाया. दुश्मन का वो सिरफिरा पोस्ट मैन हो या फिर संघर्ष का वो डरावना अवतार आशुतोष ने हर भूमिका के साथ न्याय किया लेकिन इंडस्ट्री ने उनके साथ अन्याय किया इसीलिए देखते ही देखते इतना उम्दा कलाकार लगभग ग़ायब सा हो गया.

Ashutosh Rana

अक्षय खन्ना ने कम ही फ़िल्में की हैं लेकिन हमराज़, दिल चाहता है, ताल, हंगामा और गांधी माय फादर जैसी फ़िल्मों में उन्होंने अपने अभिनय से सबको जता दिया कि वो किसी से कम नाहीं लेकिन इंडस्ट्री उनके हुनर को वो सम्मान नहीं दे सकी जो उन्हें मिलना चाहिए था.

Akshay Khanna

इरफ़ान खान भले ही हमारे बीच नहीं रहे लेकिन उनकी बेजोड़ कलाकारी ने सबको मंत्र मुग्ध किया हुआ है. इंडस्ट्री के मोस्ट टैलेंटेड अभिनेताओं में इरफ़ान का नाम सबसे ऊपर रहा है लेकिन उन्हें भी वो स्टारडम कभी नहीं मिला जिसका सपना हर कलाकार करता है. सलाम बॉम्बे, पान सिंह तोमर, मक़बूल, अंग्रेज़ी मीडियम, लंच बॉक्स जैसी फ़िल्मों के अलावा इरफ़ान ने ब्रिटिश व अमेरिकन सिनेमा में भी काम किया है. उन्हें नेशनल अवार्ड के अलावा पद्मश्री से भी नवाज़ा जा चुका है.

Irrfan Khan

सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या ने सबको जहां चौंका दिया वहीं कई सवाल इस इंडस्ट्री के लिए भी खड़े कर दिए. धोनी, पीके, काई पो चे, छिछोरे जैसी फ़िल्मों के ज़रिए उन्होंने यह साबित कर दिया था कि वो यहां लम्बी पारी खेलने आए हैं लेकिन उन्हें भी कुछ ना कुछ तो साल रहा था इसीलिए वो स्टारडम नहीं मिला जिसके वो हक़दार थे.

Sushant Singh Rajput

सोनम कपूर (Sonam Kapoor) कम फिल्में करती हैं, पर जो भी करती हैं दिलचस्प होती हैं, जैसे द ज़ोया फैक्टर. इसके व उनकी पर्सनल लाइफ से जुड़ी बातों के बारे में जानते हैं.

Sonam Kapoor

* मुझे ख़ुशी है कि अनुजा चौहान के उपन्यास पर आधारित अभिषेक शर्मा द्वारा निर्देशित मेरी फिल्म द ज़ोया फैक्टर को लोगों ने पसंद किया. जब इस फिल्म के लिए सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट किया, तब भी मुझे बेहद ख़ुशी हुई थी. इस तरह की फिल्म करने का एक अलग ही मज़ा है.

* फिल्म इंडस्ट्री में हमेशा से ही पुरुषों का बोलबाला रहा है. यहां तक कि महिला निर्देशक भी एक्टर को ध्यान में रखकर पुरुष प्रधान फिल्में ही अधिक करती हैं, जबकि उन्हें महिला प्रधान फिल्मों पर अधिक ध्यान देना चाहिए, फिर चाहे वो फराह ख़ान हों या ज़ोया अख़्तर. नायिका प्रधान फिल्में बहुत कम ही बनती हैं. बॉलीवुड में हीरोइन को अपनी पहचान बनाने के लिए अधिक संघर्ष करना पड़ता है.

* हीरोज़ भी महिला प्रधान फिल्मों में काम नहीं करना चाहते. मेरी कई फिल्में, जो नायिका प्रधान थीं, के लिए हीरोज़ ढूंढ़ने में मुश्किलें आईं.

* मेरा यह मानना है कि अपने बेस्ट फ्रेंड से शादी करना हमेशा अच्छा रहता है. मेरे और पति आनंद के बीच ग़ज़ब की ट्यूनिंग है, ऐसा हमारी दोस्ती के कारण है. हम एक-दूसरे के विचारों व मूल्यों का पूरा सम्मान करते हैं.

Sonam Kapoor

* मैं जब उठती हूं, तब आनंद बिस्तर पर नहीं होते. दरअसल, उन्हें सुबह जल्दी उठने की आदत है और वे रात में 10 बजे तक सो भी जाते हैं. जबकि मैं थोड़ा देरी से सोती हूं. वैसे हम दोनों को लेट नाइट पार्टीज़ पसंद नहीं, तो हम रात में कहीं बाहर भी नहीं जाते हैं.

* आनंद बहुत अच्छे जीवनसाथी हैं. वे शांत स्वभाव के हैं. मुझे पूरा स्पेस भी देते हैं. मेरा यह मानना है कि शादी के बाद हमें एक और नया परिवार मिलता है. तब हमारी ख़ुशियां, ज़िम्मेदारियां व प्राथमिकताएं भी बदल जाती हैं. हम दोनों के साथ भी ऐसा ही हुआ, पर हम दोनों ने आपने दोनों परिवारों के साथ अच्छा बैलेंस बनाकर रखा है. हम ख़ुश हैं और हर लम्हे को एंजॉय करते हैं.

Sonam KapoorSonam Kapoor Sonam Kapoor Sonam Kapoor

सोनमनामा…

* सोनम के सना, जिराफ व सोंज निक नेम्स हैं.

* हिंदी व अंग्रेज़ी के अलावा उन्हें पंजाबी, मराठी व उर्दू भाषा की अच्छी जानकारी है.

* उन्हें लिखना-पढ़ना, शॉपिंग, वीडियो गेम, बास्केट बॉल व स्न्वॉश खेलने का बहुत शौक है.

* शास्त्रीय संगीत, कत्थक व लेटिन डांस का भी उन्होंने बाक़ायदा प्रशिक्षण लिया है.

* जेब ख़र्च के लिए सोनम ने वेट्रेस के रूप में नौकरी भी की है.

* मोटापे के लिए आलोचना करने पर उन्होंने अपने बॉयफ्रेंड के साथ रिश्ता तोड़ दिया था.

* उन्होंने सिंगापुर में थिएटर व आर्ट की पढ़ाई की है.

* ब्लैक फिल्म में संजय लीला भंसाली के असिस्टेंट डायरेक्टर से करियर की शुरुआत की.

* अपनी पहली फिल्म सांवरिया के लिए सोनम ने दो साल में 35 किलो वज़न कम किया था.

* स्टाइल आयकॉन सोनम की मां सुनीता कॉस्ट्यूम डिज़ाइनर हैं, साथ ही वे मॉडल भी रह चुकी हैं.

* जल्द ही सोनम को पॉलिटिक्स करते हुए भी देखा जाएगा. दरअसल, सोनम का इरादा राजनीति में आने का है.

ऊषा गुप्ता

Sonam Kapoor

यह भी पढ़ेआयुष्मान खुराना- मां के सामने उस फैन ने स्पर्म की डिमांड की. (Ayushmann Khurrana- That Fan Demanded Sperm In Front Of My Mother)

विकी डोनर से लेकर ड्रीम गर्ल तक आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने अलग-अलग क़िरदारों में बेहतरीन अदाकारी से हर किसी को प्रभावित किया. वे युवाओं के रोल मॉडल बनते जा रहे हैं. गीत-संगीत, गायकी के साथ अपने प्रभावशाली अभिनय से उन्होंने अपनी एक अलग पहचान बना ली है. बधाई हो, अंधाधुन, आर्टिकल 15, ड्रीम गर्ल, शुभ मंगल ज़्यादा सावधान, बाला फिल्मों की कामयाबी ने उन्हें शिखर पर ला दिया है. आज उनका जन्मदिन है, मेरी सहेली की तरफ़ से ढेर सारी शुभकामनाएं! इस मौक़े पर उनसे ही उनकी कुछ कही-अनकही दास्तान सुनते हैं.

Ayushmann Khurrana

* ड्रीम गर्ल में मेरी अदाकारी पर भले ही सब फ़िदा हों, पर मैं बचपन से ही नाच-गाना करते हुए होंठों को हिलाना, अभिनय करना जैसी नौटंकी-ड्रामा करता रहा हूं. इन्हीं सबके कारण एक बार तो मां ने मुझे फ्रॉक तक पहना दिया था.

* एक बार एक गे कास्टिंग डायरेक्टर ने मेरा ऑडिशन लिया और मुझसे मेरा प्राइवेट पार्ट दिखाने को कहा. मुझे यह सुनकर अजीब लगा. मैंने हंसते हुए कहा कि क्या बात कर रहे हो? क्या तुम सीरियस हो? मैं तुम्हें ऑडिशन दूंगा, लेकिन जो तुम कह रहे हो, वह नहीं करूंगा.

* पहली ही फिल्म विकी डोनर बेहद सफल रही, पर एक्ट्रेस यामी गौतम को किए गए एक किस के कारण मेरी शादीशुदा ज़िंदगी में तूफ़ान आ गया. मेरी पत्नी ताहिरा नहीं चाहती थीं कि मैं ऑनस्क्रीन किसी एक्ट्रेस को किस करूं. तब हमारे बीच कई बार अनबन व टकराव भी हुए. मुझे इससे उबरने में क़रीब तीन साल लग गए.

* एक और दिलचस्प वाकया विकी डोनर के समय का ही है. मैं अपनी मां के साथ मॉल में था. तब एक लड़की, जो मेरी फैन थी, ने मुझसे मेरे स्पर्म की डिमांड की. इस पर जहां मां चौंक गईं, वहीं मैंने शरारत में कहा कि मां साथ हैं, वरना दे देता.

* मैं स्कूलिंग तक बॉयज़ स्कूल में पढ़ा था. फिर ताहिरा से ट्यूशन के दौरान मुलाक़ात, फिर प्यार हो गया. वो स्कूल के प्रिंसिपल की बेटी थी. वो बाद में हमारे थिएटर ग्रुप मंचतंत्र से भी जुड़ी. मैंने ताहिरा के साथ मिलकर अपने फिल्मी सफ़र पर एक किताब भी लिखी है.

* गाने का बचपन से ही बेहद शौक रहा है. फिल्मों में विकी डोनर से जो गाने की शुरुआत हुई, वो अब तक बरक़रार है.

Ayushmann KhurranaAyushmann KhurranaAyushmann KhurranaAyushmann Khurrana

ज़िंदगी का सफ़र…

* चंडीगढ़ के आयुष्मान को बचपन से क्रिकेट का बहुत शौक रहा है. घर-बाहर, टूर्नामेंट आदि में वे ख़ूब क्रिकेट खेला करते थे.

* साइकिल चलाना, मार्केट्स में घूमना-फिरना, वेफर्स आदि खाना उन्हें ख़ूब पसंद है.

* उनके पिता पी. खुराना ज्योतिष विशेषज्ञ हैं. एस्ट्रोलॉजी में रुचि होने के कारण अपनी सरकारी नौकरी छोड़ वे पूरी तरह से इससे जुड़ गए. विदेशों से भी उनके क्लाइंट आते हैं. उन्होंने आयुष्मान को भी कई उपयोगी उपाय बताए, जिससे उन्हें करियर में आगे बढ़ने में मदद मिली.

* उनके पिता ढोलक व हार्मोनियम भी बजाया करते थे और घर में संगीतमय माहौल रहता था. इसी से प्रेरित हो आयुष्मान का संगीत के प्रति रुझान बढ़ा. उनकी मां पूनम गृहिणी हैं.

* अपने आगाज़ ग्रुप के एक नाटक के लिए आयुष्मान ने अपने सिर के बाल मुंडवा लिए थे.

* एक थी राजकुमारी टीवी सीरियल में उन्होंने नकारात्मक क़िरदार भी निभाया था.

* टीनएज में ही वी चैनल के लिए पॉप स्टार्स शो किए.

* कॉलेज में मास कॉम की पढ़ाई करते हुए टीवी रियालटी शो रोडीज़ सीज़न 2 जीता.

* बिग एफएम में आरजे फिर वीजे भी रहे और एंकरिंग तक की.

* आध्यात्मिक इतने कि जब कभी दुखी या तनाव में रहते हैं, तो श्रीमद् भगवदगीता पढ़ने लगते हैं.

* आयुष्मान बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं. कॉन्वेंट में पढ़ने के बावजूद उनकी हिंदी में बेहद रुचि है. वे हिंदी में अच्छी कविताएं व ब्लॉग लिखते हैं. उनका जन्मदिन आज हिंदी दिवस (14 सितंबर) को होता है. इसलिए वे स्कूल के दिनों से ही हिंदी के वाद-विवाद प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेते रहते थे.

ऊषा गुप्ता

Ayushmann Khurrana

यह भी पढ़ेअक्षय कुमार- हमें नहीं भूलना चाहिए कि पैरेंट्स भी बूढ़े हो रहे हैं… (Akshay Kumar- We Should Not Forget That Parents Are Getting Old Too…)

 

हिंदी (Hindi) हमारी आन-बान-शान है. देश की आज़ादी से लेकर आपसी लगाव और एकता में भी हिंदी ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. दिलों को जोड़ने में हिंदी फिल्मों (Hindi Films) का भी बहुत योगदान रहा है. देश-विदेश यानी एक तरह से पूरी दुनिया को हिंदी फिल्मों ने एक सूत्र में बांधा है.

Hindi Diwas Special

हमारे हिंदी फिल्मों के सितारों को विश्‍वभर में प्यार-अपनापन मिला है. फिर चाहे वो अमिताभ बच्चन हो, रितिक रोशन, अक्षय कुमार, शाहरुख, आमिर, सलमान ही क्यों न हो. फिल्मों ने भी हिंदी के प्रचार-प्रसार में अहम् भूमिका निभाई है. हिंदी की सरलता, चुटीली शैली और हास्य व्यंग्य ने भी सभी का ख़ूब मनोरंजन किया है. आइए, ऐसे ही कुछ फिल्मों पर एक नज़र डालते हैं…

Hindi Diwas Special

* अमिताभ-जया बच्चन, धर्मेंद्र, शर्मिला टैगोर, ओमप्रकाश अभिनीत ‘चुपके-चुपके’ फिल्म आज भी हिंदी के मज़ेदार प्रयोग के कारण सभी को ख़ूब हंसाती है. फिल्म में धर्मेंद का शुद्ध हिंदी वार्तालाप सुन हर कोई हंसी से लोटपोट हो जाता है. साथ ही ओमप्रकाशजी की प्रतिक्रियाएं सोने पे सुहागा का काम करती हैं.

Hindi Diwas Special

* अमोल पालेकर-उत्पल दत्त की हास-परिहास से भरपूर ‘गोलमाल’ ने हर दौर में दर्शकों को हंसने के मौक़े दिए हैं. इसमें भी अन्य साथी कलाकारों ओमप्रकाश, बिंदिया गोस्वामी, दीना पाठक, युनुस परवेज ने भी भरपूर साथ दिया. फिल्म में हिंदी के महत्व के साथ-साथ इसकी उपेक्षा की ओर भी लोगों का ध्यान आकर्षित किया गया.

Hindi Diwas Special

* अक्षय कुमार की ‘नमस्ते लंदन’ में तो भारत देश के महत्व, हिंदी पर गौरव, हिंदी भाषा, हमारी संस्कृति, सभ्यता को बेहतरीन ढंग से महिमामंडित किया गया. फिल्म के एक दृश्य में तो अक्षय कुमार भारत की आन, परिवेश, महत्व की अपनी हिंदी में कही गई बात को लंदन में अंग्रेज़ों को कैटरीना कैफ के ज़रिए अंग्रेज़ी में जतला कर उन्हें करारा जवाब देते हैं.

Hindi Medium

* हिदी मीडियम फिल्म ने तो हिंदी के प्रति हमारे सौतेले व्यवहार पर ही हास्य के रूप में ही सही सशक्त व्यंग्य किया है. इसमें इरफान ख़ान व सबा कमर ने उम्दा अभिनय के ज़रिए दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया.

Hindi Diwas Special

साल १९१८ में महात्मा गांधीजी ने हिंदी साहित्य सम्मेलन में हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने पर ज़ोर दिया था. उन्होंने इसे जनमानस की भाषा भी कहा था. आख़िरकार फिर १४ सितंबर, १९४९ के दिन हिंदी को राजभाषा का दर्जा मिल. तब से हर साल यह दिन ‘हिंदी दिवस’ के रूप में मनाया जाता है.

हिंदी है हम!..

– ऊषा गुप्ता 

 

प्रभास व श्रद्धा कपूर की साहो फिल्म आज भारतभर में तीन हज़ार स्क्रिन के साथ रिलीज़ हो गई है. इसके पहले कल यह यूईए में रिलीज़ हुई थी, जहां पर इसे दर्शकों का अच्छा प्रतिसाद मिला. सुजीत द्वारा लिखित व निर्देशित क़रीब पौने तीन घंटे की साहो मारधाड़, रहस्य-रोमांच, एक्शन, लव-रोमांस के साथ भरपूर मनोरंजन करती है. सभी की जिज्ञासा दूर करते हुए ये बता दे कि साहो का अर्थ है ‘जय हो’ यानी ‘ऑल हेल’ (सभी का स्वागत है).

Saaho

यूवी क्रिएशंस व टी-सीरीज़ द्वारा निर्मित साहो की कहानी कई बार देखी गई आम-सी है. एक शख़्स यानी एक्टर प्रभास शहर के लोगों की जान बचाने के लिए ढेरों हथियारों से लैस खलनायकों से अकेला लड़ता है. वह हर क़दम पर उनका डटकर मुक़ाबला करता है. प्रभास का एक्शन, स्टंट, फाइटिंग सीन काबिल-ए-तारीफ़ है. इसमें कई बार उसकी मदद पुलिस के रोल में श्रद्धा कपूर भी करती हैं. ज़बर्दस्त एक्शन के साथ कुछ सस्पेंस भी है, जिसे जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी. पुलिसवाली के क़िरदार में श्रद्धा कपूर ने कई लाजवाब एक्शन व फाइट सीन किए हैं. वे दुश्मनों से लड़ने में प्रभास का भरपूर साथ देती हैं. फाइटिंग के सीन के अलावा गानों में वे बेहद हॉट व दिलकश लगी हैं. इसमें कोई दो राय नहीं कि प्रभास व श्रद्धा कपूर की केमेस्ट्री लाजवाब है.

Saaho

साहो में वीएफएक्स का बेहतरीन इस्तेमाल किया गया है. फिल्मों में खलनायकों की भरमार है और सभी लोग दो लाख करोड़ रुपए ढूंढ़ रहे हैं.

हिंदी के अलावा तमिल व तेलगू में भी फिल्म रिलीज़ हुई है, पर गौर करनेवाली बात यह है कि यह डब नहीं हुई है, बल्कि इसे तीनों ही भाषाओं में शूट किया गया है. इसी कारण लोगों की पसंद में फ़र्क़ पड़ सकता है, क्योंकि हिंदी फिल्मों के दर्शक व साउथ फिल्मों के ऑडियंस की पसंद में थोड़ा अंतर है. इसलिए यह कहा जा सकता है कि हिंदी फिल्मों के फैन्स को भले ही फिल्म उतनी ग्रेट न लगे, पर दक्षिण भारतीयों के लिए यह प्रभास की स्पेशल फिल्म है. आख़िरकार बाहुबली 2 के बाद इस फिल्म को उन्होंने दो साल दिए हैं. उनकी मेहनत व जुनून फिल्म में दिखती है.

Saaho Reviews

चंकी पांडे विलेन की भूमिका में सभी से बाज़ी मार ले जाते हैं. अन्य कलाकारों में नील नितिन मुकेश, जैकी श्रॉफ, महेश मांजरेकर, टीनू आनंद, एवलिन शर्मा, अरुण विजय, मंदिरा बेदी, मुरली शर्मा सभी ने अपनी-अपनी भूमिकाओं के साथ न्याय किया है.

इसके कई संगीतकार है, जिसमें शंकर-एहसान-लोय, गुरु रंधवा, तनिष्क बागची, बादशाह, एम. घिंबरण हैं. सभी ने अपनी तरफ़ से बेस्ट म्यूज़िक दिया है. शंकर महादेवन, बादशाह, नीति मोहन, तुलसी कुमार, हरिचरण, श्‍वेता मोहन, सिद्धार्थ महादेवन द्वारा गाए गीत सुमधुर हैं. इसमें सायको सैंया… बेहद ख़ूबसूरत बन पड़ा है. बेबी वोन्ट यू टेल मी, इन्नी सोनी, ये छोटा नुवुना, बेड बॉय गाने भी पसंद किए जा रहे हैं.

Saaho

क़रीब 350 करोड़ के बजट में बनी साहो दर्शकों को कितनी पसंद आती है, यह तो कुछ दिनों में ही पता चल जाएगा. लेकिन प्रभास के फैन इससे निराश नहीं होंगे. प्रभास का हर एक्शन, रिएक्शन, डायलॉग उन्हें ख़ूब पसंद आएगा.

Saaho

Saaho

Saaho

Saaho

Saaho

Saaho

 

– ऊषा गुप्ता

रेखा (Rekha) ऐसी अदाकारा हैं, जिन्हें अधिकतर अभिनेत्रियां अपना आदर्श मानती हैं. कंगना (Kangana) भी उनमें से एक हैं. दरअसल, रेखाजी में एक ख़ास आकर्षण भी है, जिस कारण वे जहां कहीं भी जाती हैं छा जाती हैं. कुछ ऐसा ही हुआ जब वे कंगना के साथ एक अवॉर्ड फंक्शन में जमकर नाचीं. सभी दोनों की जुगलबंदी को देख दंग रह गए.

Rekha and Kangana

 

 

समारोह की ख़ास बात रही रेखाजी द्वारा दी गई कांजीवरम साड़ी को पहनकर कंगना का फंक्शन में शामिल होना. रेखाजी ने साल 2015 में क्वीन फिल्म के लिए बेस्ट एक्ट्रेस का अवॉर्ड देने के लिए कंगना के घर पर गई थीं. उस समय उन्होंने कंगना को साड़ी भी तोह़फे में दी थी. संयोग की बात है कि दोनों ही कलाकारों ने कांजीवरम साड़ी पहनी थी और बेहद ख़ूबसूरत लग रही थीं.

कंगना को अवॉर्ड देने जब रेखा स्टेज पर आईं, तो उन्होंने कंगना के कहने पर उन्हें कई डांस स्टेप्स भी सिखाएं, ख़ासतौर पर उमराव जान का गाना इन आंखों की मस्ती के… और मि. नटरवलाल का परदेसिया… साथ ही रेखा-कंगना मराठी गानों पर भी बिंदास होकर ख़ूब नाचीं. इन दोनों की जुगलबंदी सोशल मीडिया पर ख़ूब वायरल हो रही है.

इस मराठी ज़ी टॉकीज़ अवॉर्ड फंक्शन में कई जानी-मानी हस्तियां शामिल हुईं. रेखा, कंगना रनौत के अलावा आशा पारेख, जया प्रदा, सरोज ख़ान, सारा अली ख़ान आदि ने भी शिरकत की. आइए, देखें तस्वीरें.

Rekha and Kangana

Rekha with Kangana

 

Rekha and Kangana

 

Rekha and Kangana

Rekha and Kangana

Rekha

Rekha with Kangana

यह भी पढ़े: दीपिका के बाद अब इस सुंदरी को लॉन्च करेंगी फराह ख़ान? (After Deepika Farah Khan Will Launch This New Face?)

हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता बहुमुखी प्रतिभा के धनी कादर ख़ान (Kadar Khan) हमारे बीच नहीं रहे. वे एक नेकदिल इंसान के साथ-साथ एक सच्चे हमदर्द व दोस्त थे. अपने हो या पराए सभी के साथ उनका अपनापन उन्हें बेहद ख़ास बना देता था. हम सभी उन्हें उनकी लाजवाब अभिनय, फिर चाहे वो चरित्र अभिनेता, खलनायक, कॉमेडी ही क्यों न हो के लिए हमेशा याद करते रहेंगे.

Kadar Khan

अभिनय के साथ-साथ उनकी कथा, पटकथा, संवाद की लेखनी भी दमदार थी. उन्होंने मनमोहन देसाई और प्रकाश मेहरा के साथ मिलकर कई सुपरहिट फिल्मों की स्क्रिप्ट भी लिखी है. इसमें धर्म वीर, अमर अकबर एंथनी, देश प्रेमी, सुहाग, कुली, गंगा जमुना सरस्वती, मुकद्दर का सिकंदर, लावारिस, कुली नंबर वन, मैं खिलाड़ी तू अनाड़ी, कर्मा आदि ख़ास हैं. उन्होंने क़रीब ढाई सौ फिल्मों के संवाद लिखे और तीन सौ से भी अधिक फिल्मों में काम किया.

उनकी कॉमेडी तो इतनी उम्दा थी कि जब भी वे पर्दे पर आते थे दर्शकों के चेहरे पर मुस्कान आ जाती थी. यूं तो उन्होंने अमिताभ बच्चन से लेकर शाहरुख ख़ान तक सभी कलाकारों के साथ काम किया, पर गोविंदा के साथ उनकी जोड़ी सुपरहिट रही. दोनों के कॉमेडी के पंच और सीन्स आज भी लोगों को ख़ूब हंसाते-गुदगुदाते हैं.

आज कादर ख़ान भले ही हमसे दूर चले गए हों, पर उनके संवाद व सशक्त अभिनय हमारे दिलों में सदा ज़िंदा रहेंगे.

ज़िंदगी के सफ़र पर एक नज़र…

* कादर ख़ान का जन्म काबुल में 22 अक्टूबर 1937 को हुआ था.

* उन्होंने अपनी फिल्मी करियर की शुरुआत दाग़ फिल्म से की थी.

* फिल्म में अभिनय करने से पहले उन्होंने फिल्म जवानी दीवानी के संवाद लिखे थे.

* मेरी आवाज़ सुनो और अंगार फिल्मों के लिए उन्हें बेस्ट डायलॉग के लिए फिल्मफेयर अवॉर्ड भी मिला था.

* हिंदी सिनेमा में उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए उन्हें साहित्य शिरोमणि पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था.

* वे मुंबई के इंजीनियरिंग कॉलेज में लेक्चरर भी रहे थे.

* शक्ति कपूर के साथ उनकी यादगार जोड़ी रही थी. दोनों ने सौ से भी अधिक फिल्मों में साथ काम किया.

* उनकी आख़िरी फिल्म दिमाग़ का दही थी, जो साल 2015 में आई थी.

* अभिनय से रिटायरमेंट लेने के बाद वे मुंबई से कनाडा अपने बेटे सरफराज़ के यहां चले गए.

* 81 वर्षीय कादर ख़ान के अंतिम समय में उनकी पत्नी हिज्रा, उनके बेटे, बहू, नातियां उनके साथ थीं.

* उनके बेटे के अनुसार, कनाडा में ही उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

* फिल्म इंडस्ट्री व अन्य लोगों ने सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धांजलि दी. अमिताभ बच्चन, अनुपम खेर, स्मृति ईरानी, असरानी, परेश रावल, अनिल कपूर, अक्षय कुमार, अर्जुन कपूर, वरुण धवन, मधुर भंडराकर के साथ-साथ अन्य लोगों ने अपनी भावनाएं व्यक्त की.

* अमिताभ बच्चन ने भावुक होते हुए कहा कि कादर ख़ान बहुमुखी प्रतिभा के धनी व समर्पित कलाकार थे. उनकी लेखनी भी ग़ज़ब की थी. मेरे अधिकतर सफल फिल्में, जैसे- मुकद्दर का सिकंदर, कुली, हम, शहंशाह, मि. नटरवरलाल, सुहाग, अदालत सहित तक़रीबन 21 फिल्मों में अभिनेता, संवाद, पटकथा लेखक के रूप में उन्होंने काम किया था.

* ज़िंदगी का सफ़र हमें कहां से कहां ले जाता है, कई बार इसे हम भी नहीं समझ पाते. तभी तो कादर ख़ान अफगानिस्तान के काबुल में जन्मे, भारत में मुंबई में अपनी अदाकारी-लेखनी का लोहा मनवाया, अंतिम पड़ाव पर परिवार के साथ कनाडा में बिताए.

मेरी सहेली परिवार की ओर से भानभीनी श्रद्धांजलि!

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े2018 में ये फिल्में हुईं बुरी तरह फ्लॉप (Check Out The Biggest Flops Of 2018)

Bhaiaji Superhit Review

इन दिनों सनी देओल की कई सालों से अटकी फिल्में सिलसिलेवार आ रही हैं. पिछले हफ़्ते मौहल्ला अस्सी आई, जो काफ़ी समय से बन रही थी. अब आज भैयाजी सुपरहिट सिनेमा के पर्दे पर आ पाई है. दोनों ही फिल्मों में अभिनय के मामले में सनी देओल ने काबिल-ए-तारीफ़ अभिनय किया है.

भैयाजी अपनी पत्नी सपना के छोड़कर चले जाने से परेशान हैं. वे किसी भी क़ीमत पर अपनी पत्नी को वापस लाना चाहते हैं. इसके लिए फिल्मों में काम करने के लिए मुंबई आना, अभिनय करना, कुछ पुराने दुश्मनों से भिड़ना आदि चलता रहता है. इसमें निर्देशक व लेखक के रूप में अरशद-श्रेयस की जुगलबंदी देखते ही बनती है.

भैयाजी सुपरहिट में भी सनी देओल दबंग के क़िरदार में अपना दबदबा दिखाने में सफल रहे हैं. वे अपनी पत्नी सपना (प्रीति ज़िंटा) को बेइंतहा चाहते हैं और उससे डरते भी हैं. सपना के क़िरदार में प्रीति ने बेहतरीन काम किया है. वे बोलती कम और गोली ज़्यादा चलाती हैं. हमेशा शरारती-चुलबुली अंदाज़ में दिखनेवाली प्रीति एक नए ही अंदाज़ में सपना के रूप में चटक साड़ियों, भरी चूड़ियों में प्रभावशाली पत्नी के ज़बर्दस्त रोल में नज़र आती हैं. लंबे समय बाद प्रीति ज़िंटा को पर्दे पर देखना सुकून की तरह रहा. जब-जब पर्दे पर अरशद और श्रेयस की एंट्री होती है, लोगों के चेहरे पर मुस्कान आ जाती है. दोनों ही कलाकारों की कॉमेडी टाइमिंग लाजवाब है. कह सकते हैं कि प्रीति ज़िंटा के अलावा अन्य सभी कलाकारों यानी अमीषा पटेल, अरशद वारसी, श्रेयस तलपड़े, मिथुन चक्रवर्ती, मुकुल देव, जयदीप अहलावत, पंकज त्रिपाठी, संजय मिश्रा, प्रकाश राज, एवलिन शर्मा सभी ने अपनी-अपनी भूमिकाओं को पूरी ईमानदारी से निभाया है.

नीरज पाठक का निर्देशन स्तरीय है. थोड़ी-सी और मेहनत करते तो फिल्म के सभी उम्दा कलाकारों से और भी बढ़िया काम करवा सकते थे. निर्माता चिराग धारीवाल और फौजिया अर्शी के साहस की दाद देनी होगी कि इतने सालों बाद ही सही फिल्म रिलीज़ तो हुई. साजिद-वाजिद, संजीव-दर्शन, जीत गांगुली, राघव सच्चर, अमजद नजीम, फौजिया अर्शी जैसे संगीतकारों का जमावड़ा है, पर एक भी गाना दिलोदिमाग़ पर ठहर नहीं पाता है. सुखविंदर सिंह, असीस कौर, यासेर देसाई के गाए गीत बस थोड़ी-सी राहत भर दे पाते हैं. फिल्म में एक्शन, कॉमेडी के साथ ईमोशंस भी है. भैयाजी सुपरहिट  होगी की नहीं पता नहीं पर भैयाजी तो हमेशा ही हिट हैं.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ेदेखें Top 10 सुपरहिट पंजाबी गानें (Superhit Punjabi Songs)

 

 Mohalla Assi/Pihu
मोहल्ला अस्सी- धर्म, संस्कृति, राजनीति पर करारा व्यंग्य

एक ओर सनी देओल अलग व दमदार अंदाज़ में नज़र आते हैं मोहल्ला अस्सी में, तो वहीं पीहू में दो साल की बच्ची की मासूम अदाकारी बेहद प्रभावित करती है.

हिंदी साहित्यकार काशीनाथ सिंह की काशी का अस्सी पर आधारित मोहल्ला अस्सी फिल्म धर्म, राजनीति, आस्था, परंपरा आदि के माननेवाले को बहुत पसंद आएगी. भारतीय सोच पर भी करारा व्यंग्य किया गया है. वैसे भी जो मज़ा बनारस में वो न पेरिस में है, न फारस में… इसी चरितार्थ करती है फिल्म. निर्माता विनय तिवारी की यह फिल्म चाणक्य सीरियल व पिंजर मूवी फेम डॉ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी  के बेहतरीन निर्देशन के कारण बेहद आकर्षक व ख़ास बन गई है. बनारस के निवासी, गंगा नदी, घाट, गली-मोहल्ले, वहां के तौर-तरी़के, लोगों की विचारधारा, राजनीति का प्रभाव, धर्म, कर्मकांड सभी का ख़ूबसूरत चित्रण किया गया है.

कहानी बनारस के मोहल्ला अस्सी की है, जहां पर धर्मराज पांडे यानी सनी देओल ब्राह्मणों की बस्ती में अपनी पत्नी साक्षी तंवर और बच्चों के साथ रहते हैं. वे जजमानों की कुंडली बनाते हैं और संस्कृत भी पढ़ाते हैं. अपने धर्म व उससे जुड़ी अन्य बातों को लेकर वे इतने सख़्त रहते हैं कि अपने मोहल्ले में विदेशी सैलानियों को किराए पर घर रहने के लिए नहीं देते और न ही अन्य लोगों को ऐसा करने देते हैं. उनका मानना है कि विदेशियों के खानपान व आचरण के सब गंदा व अपवित्र हो रहा है. लेकिन हालात करवट बदलते हैं और उन्हें आख़िरकार न चाहते हुए वो सब करना पड़ता है, जिसके वे सख़्त ख़िलाफ़ थे. फिल्म में पप्पू चाय की दुकान भी है, जो किसी संसद से कम नहीं. जहां पर वहां के लोग हर मुद्दे पर गरमागरम बहस करते हैं, फिर चाहे वो राजनीति का हो या फिर कुछ और.

सनी देओल अपनी भाव-भंगिमाएं व प्रभावशाली संवाद अदाएगी से बेहद प्रभावित करते हैं. उनका बख़ूबी साथ देते हैं साक्षी तंवर, रवि किशन, सौरभ शुक्ला, राजेंद्र गुप्ता, मिथलेश चतुर्वेदी, मुकेश तिवारी, सीमा आज़मी, अखिलेंद्र मिश्रा आदि. अमोद भट्ट का संगीत स्तरीय है. विजय कुमार अरोड़ा की सिनेमाटोग्राफी क़ाबिल-ए-तारीफ़ है.

Mohalla Assi/Pihu

Pihu

 

पीहू- नन्हीं बच्ची का कमाल

निर्देशक विनोद कापड़ी की मेहनत, लगन और धैर्य की झलकियां बख़ूबी देखने मिलती है पीहू फिल्म में. आख़िरकार उन्होंने दो साल की बच्ची से कमाल का अभिनय करवाया है. कथा-पटकथा पर भी उन्होंने ख़ूब मेहनत की है. निर्माता सिद्धार्थ रॉय कपूर, रोनी स्क्रूवाला व शिल्पा जिंदल बधाई के पात्र हैं, जो उन्होंने विनोदजी और फिल्म पर अपना विश्‍वास जताया. बकौल विनोदजी यह सच्ची घटना पर आधारित है और इस पर फिल्म बनाना उनके लिए किसी चुनौती से कम न था.

फिल्म की जान है पीहू यानी मायरा विश्‍वकर्मा. उस नन्हीं-सी बच्ची ने अपने बाल सुलभ हरकतों, शरारतों, मस्ती, सादगी, भोलेपन से हर किसी का दिल जीत लेती है.

कहानी बस इतनी है कि पीहू की मां (प्रेरणा विश्‍वकर्मा) का देहांत हो चुका है और उनकी बॉडी के साथ वो मासूम बच्ची घंटों घर के कमरे में अकेले व़क्त बिताती है. उसे नहीं पता कि उसकी मां अब इस दुनिया में नहीं है, वो मासूम उनसे बात करती है, घर में इधर-उधर घूमती है, भूख लगने पर गैस जलाकर रोटी भी सेंकने की कोशिश करती है, घर को अस्त-व्यस्त, उल्टा-पुल्टा कर देती है. सीन दर सीन उत्सुकता, डर, घबराहट, बेचैनी भी बढ़ती जाती है. कम बजट में विनोदजी ने लाजवाब फिल्म बनाई है.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े: Deepveer Wedding: शादी में दीपिका ने ओढ़ी ख़ास चुनरी (Deepika Wore Special Chunni On Wedding)

Amitabh Bachchan Birthday

आज युग पुरुष अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) 79 साल के हो गए हैं, मानो एक युग बीत गया हो उनके अभिनय को देखते, गाते, हंसते-मुस्कुराते. उम्दा कलाकार, बेजोड़ अभिनय, लाजवाब एक्शन… उनका हर रूप, हर रंग, हर अदा बेमिसाल…

सात हिंदुस्तानी से जो सफ़र शुरू हुआ, वो आज भी बरकरार है. कितने दशक सतत काम करते रहे… हर युवा के लिए प्रेरणास्त्रोत हैं वे. उनकी ख़ूबसूरत फिल्में, सशक्त अभिनय, बहुमुखी भूमिकाएं सदा हमारा मनोरंजन करने के साथ-साथ प्रेरणा भी देती हैं कि हम सदा कर्मठ बने रहें…

वैसे कौन बनेगा करोड़पति टीवी शो के ज़रिए आज भी वे उतने ही जवां, हरफनमौला परफॉर्मेंस को अंजाम दे रहे हैं और करोड़ों दिलों पर राज़ कर रहे हैं. वे यूं ही ताउम्र अभिनय करते रहें, यही दुआ और शुभकामनाएं!

मेरी सहेली परिवार की तरफ़ से उन्हें जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई!

एबी जर्नी…

* अमिताभ बच्चन का जन्म इलाहाबाद में 11 अक्टूबर को हुआ था.

* उनके पिता हरिवंश राय बच्चन हिंदी के जाने-माने लेखक थे और मां तेजी बच्चन भी बहुमुखी प्रतिभा की धनी थीं.

* पहले उनका नाम इंकलाब रखा गया था, पर बाद में अमिताभ रखा गया, जिसका मतलब ऐसा प्रकाश जो कभी नहीं बुझेगा.

* बहुत कम लोग जानते हैं कि अमिताभ बच्चनजी का सरनेम श्रीवास्तव है, पर चूंकि उनके पिता कवि हरिवंश रायजी उपनाम बच्चन लगाते थे, उन्होंने भी अपने नाम के साथ यही उपनाम रहने दिया.

* अमितजी ने दो बार एमए किया था. इलाहाबाद और नैनीताल में अपनी शिक्षा पूरी की.

* करियर के शुरुआती दौर में उन्होंने कोलकता की एक शिपिंग कंपनी में जॉब भी किया था.

* 3 जून 1973 को अपनी साथी कलाकार जया भादुड़ी के साथ उन्होंने विवाह किया. उनके दो बच्चे अभिषेक और श्‍वेता हैं.

* अपनी पहली ही फिल्म सात हिंदुस्तानी के लिए उन्हें न्यूकमर का नेशनल अवॉर्ड मिला था.

* आनंद फिल्म में उनके बेहतरीन परफॉर्मेंस के लिए उन्होंने बेस्ट सर्पोेंटिंग एक्टर का फिल्मफेयर अवॉर्ड जीता था.

* फिल्मी करियर के शुरुआती दिनों में उन्होंने परवाना फिल्म में खलनायक की भी भूमिका निभाई थी.

* वे अपने संघर्ष के दिनों में कई सालों तक हास्य कलाकार महमूद के घर भी रहे थे.

* ज़ंजीर फिल्म उनके करियर का टर्निंग प्याइंट रहा. यही से उनके एंग्री यंग मैन का क़िरदार मशहूर हुआ.

* इसी दौर में उनके अभिमान और नमक हराम फिल्म को काफ़ी पसंद किया गया. राजेश खन्ना और रेखा के साथ की नमक हराम के लिए तो उन्हें फिल्मफेयर का बेस्ट सर्पोंटिंग एक्टर का अवॉर्ड भी मिला.

* फिर चुपके-चुपके, दीवार, शोले, अमर अकबर एंथोनी, कभी-कभी फिल्मों से जो कामयाबी का सिलसिला चल पड़ा, वो अब तक बरकरार है.

* रेखा के साथ की फिल्म मि. नटवरलाल के गाने मेरे पास आओ मेरे दोस्तों एक क़िस्सा सुनाऊ… गाने से उन्होंने पहली बार फिल्मों में अपनी आवाज़ दी. इसके लिए उन्हें पुरस्कार भी मिला.

* साल 1982 में कुली फिल्म की शूटिंग के दौरान लगे चोट और गंभीर स्थिति होने, फैन्स व लोगों के प्यार, दुआओं के सिलसिले ने यह साबित कर दिया कि अमिताभ बच्चन कितने बड़े स्टार बन गए थे और दर्शकों के लिए उनके दिल में किस कदर प्यार है.

* साथ ही फिल्म के निर्देशक मनमोहन देसाई पर भी इसका ऐसा असर हुआ कि उन्होंने फिल्म का अंत बदल दिया. उनका कहना था कि यह महान शख़्स मौत को जीतकर वापस आया है, तो भला मैं फिल्म में ऐसे कैसे दिखा सकता था. आज भी कुली फिल्म के उस फाइट सीन में जिसमें अमिताभ बच्चन घायल हुए थे, फिल्म देखते समय पॉज़ करके नीचे इसके बारे में कैप्शन दिखाया जाता है.

* उन्हें राजनीति में भी न चाहते हुए दोस्ती की ख़ातिर आना पड़ा, पर आख़िरकार इसे उन्होंने अलविदा कह दिया.

* राजनीति, फिल्म से जुड़े तमाम विवादों के चलते उन्होंने काफ़ी लंबे समय तक मीडिया से भी दूरी बनाए रखी.

* शहंशाह से उनकी ज़बर्दस्त दूसरी इनिंग शुरू हुई. फिर हम, अग्निपथ फिल्मों की सफलता ने उन्हें फिर से स्थापित किया. अग्निपथ के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला.

* एबीसीएल के बैनर तले उन्होंने कई फिल्में भी बनाई.

* साल 2000 में टीवी शो कौन बनेगा करोड़पति उनके करियर का मील का पत्थर साबित हुई. इस शो के ज़रिए अमितजी को लोगों का भरपूर प्यार, सराहना, मान-सम्मान मिला. जो अब तक बरकरार है.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े: HBD Rekha: देखिए इस सदाबहार अदाकारा की 10+ दिलकश, हॉट व ख़ूबसूरत पिक्स (HBD Rekha: Hot, Sexy Pics Of Rekha)

×