Home remedies

आपको कई बार लोगों ने गुनगुने पानी में नींबू निचोड़कर पीने की सलाह दी होगी. अक्सर लोग वज़न घटाने के लिए इस नुस्ख़े को आज़माते हैं, मगर वज़न कम करने के अलावा भी नींबू पानी के कई फ़ायदे हैं.

लीवर को डिटॉक्सिफाई करता है


नींबू में मौजूद सीट्रिक एसिड एन्जाइम्स को बेहतर तरी़के से काम करने में मदद करता है. साथ ही लीवर को संतुलित रखकर ये डिटॉक्सिफिकेशन में मदद करता है.

पीएच बैलेंस को बनाए रखता है
एसिडिटी शरीर को नुक़सान पहुंचाती है, नींबू पानी एसिटिडी की समस्या को कम करता है. विशेषज्ञों के मुताबिक, नींबू ब्लड के पीएच बैलेंस में बदलाव करने के साथ ही यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन से लड़ने में भी मदद करता है.

इम्यून सिस्टम को मज़बूत बनाता है


इसमें विटामिन सी की भरपूर मात्रा होती है जो सर्दी से बचाने के साथ ही इम्यून सिस्टम को भी मज़बूत बनाता है. नींबू में मौजूद पोटैशियम ब्रेन (मस्तिष्क) और नर्व (नाड़ी) के काम में संतुलन बनाकर ब्लड प्रेशर को निंयत्रित रखता है.

त्वचा को साफ़ और सुंदर बनाता है
नींबू में मौजूद विटामिन सी त्वचा को जवां बनाए रखने में मदद करता है. विटामिन सी कोलेजन के निर्माण में मदद करता है, जो हेल्दी स्किन के लिए ज़रूरी है. गुनगुने पानी में नींबू मिलाकर पीने से हानिकारक टॉक्सिन शरीर से निकल जाते हैं. साथ ही त्वचा के दाग़-धब्बों पर नींबू का रस लगाने से भी वो हल्के होते हैं.

सांसों की दुर्गंध दूर करता है

Close up of fresh and wet lemons isolated on white background

यदि आपको सांसों के दुर्गंध की समस्या है, तो रोज़ाना गुनगुने पानी में नींबू का रस डालकर पीएं, फ़ायदा होगा. नींबू बैक्टीरिया को दूर करके मुंह के दुर्गंध से छुटकारा दिलाता है.

वेटलॉस में करता है मैजिकल असर
रोज़ाना नियमित रूप से सुबह खाली पेट गुनगुने पानी में नींबू का रस मिलाकर पीने से वज़न कम होता है. साथ ही आप पूरे दिन तरोताज़ा महसूस करेंगे.

डायजेशन को ठीक रखता है


नींबू में फ्लेवनॉयड्स होते हैं जो पाचन तंत्र को ठीक रखते हैं. यही वजह है कि पेट ख़राब होने पर नींबू पानी पिलाया जाता है. इसमें मौजूद विटामिन सी शरीर में पेप्टिक अल्सर नहीं बनने देता.

ब्लड प्यूरिफाई करता है
नींबू में मौजूद साइट्रिक और एस्कोर्बिक एसिड रक्त से तमाम तरह के एसिड दूर करता है. यह मेटाबॉलिज़्म बढ़ाता है जिससे एसिड बाहर निकलते हैं.

गले की खराश दूर करता है
यदि आपको कफ और गले की खराश की समस्या है, तो गुनगुने पानी में नींबू और शहद मिलाकर पीएं. शहद में एंटी बैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर से बैक्टीरिया और जर्म्स को साफ़ करते हैं. गरम पानी कफ साफ़ करने में मदद करता है.

किडनी में पथरी होने से बचाता है


अगर आप किडनी स्टोन से परेशान हैं तो नींबू पानी पीने से आपको फायदा हो सकता है. नींबू में सिट्रिक एसिड होता है, जरे कैलिश्यम स्टोन बनने से रोकता है. ये किडनी को हेल्दी भी रखता है.

डायबि‍टीज में है फायदेमंद
नींबू पानी, हाई शुगर वाले जूस व ड्रिंक का बेहतर विकल्प माना जाता है. डायबिटीज के मरीज हैं या वो लोग् जो वजन कम करना चाहते हैं, उनके लिए ये बेहद असरदार है. यह शुगर को गंभीर स्तर तक पहुंचाए बिना शरीर को रिहाइड्रेट व एनर्जाइज करता है.

कब्ज़ में राहत देता है
अगर आपको कब्ज की समस्या है, तो नींबू पानी आपके लिए बेहद फायदेमंद है. इसके लिए रोज़ाना सुबह गर्म नींबू पानी पीएं.

ब्लड प्रेशर और स्ट्रेस को कंट्रोल करता है
नींबू पानी पीने से ब्लड प्रेशर तो कंट्रोल में रहता ही है, इसमें तनाव, डिप्रेशन और अवसाद कम करने के गुण भी पाये जाते हैं. अगर आप कभी बहुत ज़्यादा स्ट्रेस महसूस करें या लो फील हो रहा हो तो नींबू पानी पिएं. आपको तुरंत अच्छा महसूस होगा.

अनन्नास का स्वाद अन्य फलों से थोड़ा अलग होता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह एक औषधि के रूप में भी काफ़ी फ़ायदेमंद है. अनन्नास के सेवन से कई बीमारियों को ठीक किया जा सकता है. अनन्नास में ब्रोमेलैन एंजाइम होता है, जो पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने में सहायता करता है. इसमें अधिक मात्रा में मौजूद फाइबर शरीर में कब्ज़ की समस्या को दूर करती है. यह आंतों को भी स्वस्थ रखता है. अनन्नास शक्तिवर्धक, भूख को बढ़ाने के साथ रक्त-पित्त विकार की समस्या से निजात दिलाता है. यह बुखार, पेटदर्द, एसिडिटी, रक्त स्त्राव से जुड़ी बीमारी, शारीरिक कमज़ोरी आदि को दूर करता है.

डाउनलोड करें हमारा मोबाइल एप्लीकेशन https://merisaheli1.page.link/pb5Z और रु. 999 में हमारे सब्सक्रिप्शन प्लान का लाभ उठाएं व पाएं रु. 2600 का फ्री गिफ्ट

घरेलू नुस्ख़े

  • एसिडिटी की परेशानी हो, तो पके हुए अनन्नास के जूस में भुनी हुई हींग, सेंधा नमक और अदरक का रस मिलाकर रोज़ सुबह और शाम पीने से एसिडिटी की समस्या दूर होती है.
  • अनन्नास से डायबिटीज़ को भी कंट्रोल किया जा सकता है. 100 मिलीग्राम अनन्नास के रस में 10-10 ग्राम तिल, आंवला, हरड़, बहेड़ा, गोखरू और जामुन के बीज मिलाएं. इसके सूखने पर पाउडर बनाकर रख लें. हर रोज़ एक टीस्पून पाउडर का सेवन करें.
  • 10 मिलीग्राम पके हुए अनन्नास के रस में भुनी हुई हींग और अदरक का रस मिलाकर रोज़ पीने से पेटदर्द में राहत मिलती है.
  • दस्त की समस्या होने पर अनन्नास के पत्तों का काढ़ा बनाकर इसमें बहेड़ा और छोटी हरड़ का चूर्ण मिलाकर लें.


यह भी पढ़ें: अंजीर खाने के 11 बेहतरीन फ़ायदे (11 Amazing Benefits Of Eating Anjeer (Fig)

  • अनन्नास के रस में मुलेठी, बहेड़ा और मिश्री को मिलाकर सेवन करने से सांसों से संबंधित बीमारियों में लाभ होता है.
  • भोजन के बाद यदि पेट फूल जाए और बैचेनी होने लगे, तो 50-100 मिलीग्राम अनन्नास का जूस पीएं.
  • खांसी से परेशान हैं, तो 100 मिलीग्राम पके अनन्नास के रस में 2-2 ग्राम पिप्पली का जड़, सोंठ, बहेड़े का चूर्ण, भुना हुआ सुहागा और शहद मिलाकर लें.
  • बच्चों के पेट में कीड़े की समस्या होने पर पके हुए अनन्नास के रस में अजवायन, छुहारा, खुरासानी और वायविडंग का चूर्ण बराबर मात्रा में लेकर उसमें थोड़ा-सा शहद मिलाएं. इसे 1-2 ग्राम की मात्रा में चटाने से पेट में कीड़े की समस्या ख़त्म हो जाती है.
  • बुखार होने पर अनन्नास के जूस में शहद मिलाकर पीने से बुखार ठीक होता है.


यह भी पढ़ें: हरी मटर के हेल्थ एंड ब्यूटी बेनीफिट्स (Health And Beauty Benefits Of Green Peas)

  • पीरियड्स यानी माहवारी की समस्या में 50 मिलीग्राम कच्चे अनन्नास के रस में 1-1 मिलीग्राम पीपल की छाल का पाउडर और गुड मिलाकर लें.
  • शरीर में सूजन की समस्या हो, तो अनन्नास के रस का लेप लगाने से सूजन ठीक हो जाती है. इसके अलावा अनन्नास के पत्तों पर एरंड का तेल लगाकर थोड़ गर्म करके सूजनवाले हिस्से पर बांधने से भी सूजन दूर होती है.
  • यूरिन से संबंधित समस्या हो, तो अनन्नास के जूस में गुड़ मिलाकर पीएं.

सुपर टिप
पके हुए अनन्नास के टुकड़े में सेंधा नमक और काली मिर्च पाउडर मिलाकर खाने से अपच की समस्या दूर होती है.

Photo Courtesy: Freepik

डाउनलोड करें हमारा मोबाइल एप्लीकेशन https://merisaheli1.page.link/pb5Z और रु. 999 में हमारे सब्सक्रिप्शन प्लान का लाभ उठाएं व पाएं रु. 2600 का फ्री गिफ्ट.

गिलोय की पत्त‍ियां पान के पत्ते की तरह होती हैं. इसकी पत्त‍ियों में प्रोटीन, कैल्शियम और फॉस्फोरस भरपूर मात्रा में होता है. ये पत्ते स्वाद में कसैले, कड़वे व तीखे होते हैं. वात, कफ़ और पित्त की समस्या को गिलोय के इस्तेमाल से ठीक किया जा सकता है. गिलोय पचने में आसान होने के साथ भूख भी बढ़ाता है. ये नुक़सानदायक बैक्टीरिया से लेकर पेट के कीड़ों तक को मार देती है. साथ ही टीबी की बीमारी में बननेवाले जीवाणु को बढ़ने से भी रोकती है. आंत व यूरीन सिस्टम के साथ-साथ पूरे शरीर को प्रभावित करनेवाले रोगाणुओं को भी दूर करती है. गिलोय डायबिटीज़, पीलिया, बुखार, उलटी, सूखी खांसी, हिचकी, बवासीर आदि बीमारियों में फ़ायदेमंद है.

Health Benefits of Giloy

घरेलू नुस्ख़े

  • गिलोय की पत्तियों को पानी में उबालकर पीने से इम्यूनिटी बढ़ती है. साथ ही इसकी पत्तियों को अन्य फलों के साथ जूस में मिलाकर भी पी सकते हैं.
  • गिलोय के 10-20 मि. ली. जूस के साथ गुड़ का सेवन करने से कब्ज़ की समस्या दूर होती है.
  • हिचकी हो रही हो, तो गिलोय व सोंठ के चूर्ण को मिक्स कर लें और इसे सूंघे. इसके अलावा गिलोय व सोंठ के चूर्ण की चटनी बनाकर इसे दूध में मिलाकर पिलाने से भी हिचकी आना बंद हो जाता है.
  • एनीमिया की समस्या हो तो गिलोय में घी और शहद मिलाकर लेने से खून की कमी दूर होती है.
  • गिलोय के तने को पानी में घिसकर गुनगुना कर कान में 2-2 बूंद दिन में दो बार डालने से कान की गंदगी निकल जाती है.
  • एसिडिटी के कारण उलटी हो, तो 10 मि. ली. गिलोय रस में 4-6 ग्राम मिश्री मिला लें. इसे सुबह- शाम पीने से उलटी बंद हो जाती है.
  • हरड़, गिलोय तथा धनिया को समान मात्रा में लेकर आधा लीटर पानी में उबालकर काढ़ा बना लें. इसमें गुड़ डालकर सुबह-शाम पीने से पाइल्स की प्रॉब्लम दूर होती है.


यह भी पढ़ें: हैरान कर देंगे हल्दी के ये चमत्कारिक फ़ायदे… (13 Health Benefits Of Turmeric)

  • गिलोय के 10-20 पत्तों को पीसकर एक ग्लास छाछ में मिलाकर छानकर सुबह के समय पीने से पीलिया ठीक होता है.
  • 10 मि. ली. गिलोय के रस को पीने से डायबिटीज़, वात विकार के कारण होनेवाली बुखार व टायफायड में लाभ होता है.
  • गिलोय के 5-10 मि. ली. रस या 20-30 मि. ली. काढ़ा रोज़ कुछ समय तक सेवन करने से गठिया में लाभ होता है. इसके अलावा सोंठ के साथ सेवन करने से जोड़ों का दर्द मिटता है.
  • 40 ग्राम गिलोय को अच्छी तरह मसलकर मिट्टी के बर्तन में रखें. फिर इसे पाव लीटर पानी मिलाकर रातभर ढककर रख लें. सुबह मसल लें और छानकर 20 मि. ली. की मात्रा में दिन में तीन बार पीने से पुराना बुखार ठीक हो जाता है.
  • 20 मि. ली. गिलोय के रस में एक ग्राम पिप्पली और एक चम्मच शहद मिला लें. इसे सुबह-शाम सेवन करने से पुराना बुखार, कफ़, खांसी, अरुचि आदि परेशानी दूर होती है.
  • ब्लड कैंसर के मरीज़ों पर गेहूं के ज्वारे के साथ गिलोय का रस मिलाकर सेवन करने से लाभ मिलता है.
  • अडूसा छाल और गिलोय को बराबर मात्रा में लेकर आधा लीटर पानी में पकाकर काढ़ा बनाएं. ठंडा होने पर 10-30 मि. ली. काढ़े में शहद मिलाकर पीने से बदहजमी, सूजन, सूखी खांसी, सांस तेज चलना, बुखार आदि परेशानी दूर होती है.
  • गिलोय के 10-20 मि. ली. रस के साथ गुड़ और मिश्री के साथ सेवन करने से एसिडिटी में लाभ होता है.


यह भी पढ़ें: डायबिटीज़ और इन तकलीफ़ों में बेहद फ़ायदेमंद है जामुन (20 Amazing Benefits of Eating Black Plum (Jamun)

  • 10-20 मि. ली. गिलोय के रस को दिन में दो-तीन बार कुछ महीनों तक नियमित रूप से पिलाने से कुष्ठ यानी लिप्रोसी बीमारी में फ़ायदा होता है.
  • 10 मि. ली. गिलोय के रस में 1-1 ग्राम शहद व सेंधा नमक मिक्स करके आंखों में लगाने से आंखों के आगे अंधेरा छाना, चुभन, काला व सफ़ेद मोतियाबिंद ठीक हो जाता है.

सुपर टिप
कफ़ की तकलीफ़ में गिलोय को शहद के साथ लें.

ऊषा गुप्ता


यह भी पढ़ें: दही के इन गुणों के बारे में नहीं जानते होंगे आप… (Health And Beauty Benefits Of Curd)

Photo Courtesy: Freepik

पहले उम्र बढ़ने के बाद जोड़ों का दर्द होता था, लेकिन अब कई लोगों में कम उम्र से ही यह समस्या शुरू हो जाती है, जिसके कारण उठने-बैठने, लंबे समय तक चलने या खड़े रहने से दर्द बढ़ जाता है. ऐसे में जोड़ों के दर्द के 20 घरेलू उपाय आपको दर्द से देंगे तुरंत राहत.

Home Remedies for Joint Pain

जोड़ों के दर्द में अपनाएं ये 20 घरेलू नुस्ख़े

1) अजवायन या नीम के तेल से मालिश करने से जोड़ों के दर्द में आराम मिलेगा.
2) पानी में एक मुट्ठी अजवायन और 1 बड़ा चम्मच नमक डालकर उबालें. उस पर जाली रखकर कपड़ा निचोड़कर तह करके गरम करें और उससे सेंक करें. दर्द दूर हो जाएगा.
3) राई का लेप करने से भी हर तरह का दर्द दूर होता है.
4) अजवायन को पानी में डालकर पका लें और उस पानी की भाप को दर्द वाली जगह पर दें. देखते ही देखते दर्द छूमंतर हो जाएगा.
5) लहसुन की दो कलियां कूटकर तिल के तेल में गरम करें और इससे जोड़ों पर मालिश करें. बहुत लाभ होगा.
6) दर्द से परेशान होने पर कपड़े को गरम करके जोड़ों पर सेंक कर करें. इससे बहुत आराम मिलता है.

Home Remedies for Joint Pain

7) कनेर की पत्ती उबालकर पीस लें और मीठे तेल में मिलाकर लेप करें.
8) लहसुन पीसकर लगाने से बदन के हर अंग का दर्द छूमंतर हो जाता है, लेकिन इसे ज़्यादा देर तक लगाकर न रखें, वरना फफोले पड़ने का डर रहता है.
9) कड़वे तेल में अजवायन और लहसुन जलाकर उस तेल की मालिश करने से हर तरह के दर्द से छुटकारा मिलता है.
10) विनेगर और जैतून के तेल को मिलाकर मालिश करें.
11) कपड़े में 4-5 नींबू के टुकड़े बांधकर गरम तिल के तेल में थोड़ी देर डुबोएं. फिर उसे घुटनों पर लगाएं.
12) राई को पीसकर घुटनों पर उसका लेप करें. तुरंत आराम मिलेगा.

यह भी पढ़ें: बच्चों के रोग: बच्चों को होने वाली आम बीमारियों के 72 घरेलू उपाय (72 Home Remedies For Common Kids’ Ailments)

Home Remedies for Joint Pain

13) अजवायन को पानी में उबालकर उसकी भाप घुटनों पर लेने से दर्द से राहत मिलेगी.
14) सेंधा नमक को गुनगुने पानी में डालकर नहाएं.
15) दालचीनी पाउडर और शहद मिलाकर पेस्ट बनाएं. इससे जोड़ों पर मालिश करें.
16) जोड़ों के दर्द में नीम के तेल की मालिश लाभदायक होती है.
17) लहसुन की दो कलियां कूटकर तिल के तेल में गर्म करके जोड़ों पर मालिश करें.
18) सरसों के तेल में अजवायन और लहसुन गरम करके दर्दवाले भाग पर मालिश करें.

यह भी पढ़ें: 8 वेजाइनल प्रॉब्लम्स और उनके उपाय हर महिला को मालूम होने चाहिए (8 Vaginal Problems Every Woman Should Know About)

Home Remedies for Joint Pain

19) अमरूद के पत्ते पीसकर दर्द वाले स्थान पर लगाएं. अमरूद के पत्ते पानी में उबालकर इस पानी से सिकाई करने से भी लाभ मिलता है.
20) कांच की बॉटल में आधा लीटर तिल का तेल और 10 ग्राम कपूर मिलाकर धूप में रख दें. जब ये दोनों घुलकर एक हो जाएं, तो इस तेल से मालिश करें. जोड़ों के दर्द से आराम मिलेगा.

एलोवेरा में विटामिन ए, सी और ई प्रचुर मात्रा में पाया जाता है. इसमें फॉलिक एसिड, कोलीन, बी1, बी2, बी3 व बी6 भी होता है. इसे घृतकुमारी और ग्वारपाठा भी कहा जाता है. एलोवेरा की पत्तियों में पाए जानेवाले जेल में 99% पानी होता है. औषधीय गुणों से भरपूर एलोवेरा कई बीमारियों से लड़ने में मदद करता है. एलोवेरा में कई ऐसे गुण भी होते हैं, जो त्वचा को हेल्दी और शाइनिंग बनाते हैं. दाग़-धब्बों, त्वचा, बालों, पाचन, डायबिटीज़, पेट की बीमारियों, जोड़े के दर्द, आंखों आदि समस्या में एलोवेरा का इस्तेमाल बेहद फ़ायदेमंद साबित होता है.

घरेलू नुस्ख़े

  • अपच की समस्या में 10-20 ग्राम एलोवेरा के जड़ को उबाल लें. इसे छानकर इसमें भुनी हुई हींग मिला लें. इसे पीने से पेटदर्द में आराम मिलता है और बदहजमी की तकलीफ़ भी दूर होती है.
  • खांसी-ज़ुकाम में एलोवेरा का भस्म तैयार कर पांच ग्राम की मात्रा में मुनक्का के साथ सुबह-शाम सेवन करें. इससे पुरानी खांसी-ज़ुकाम में भी लाभ होता है.
  • पीलिया में 10-20 मि.ग्रा. एलोवेरा के रस को दिन में दो-तीन बार पीने से फ़ायदा होता है.
  • सिरदर्द होने पर एलोवेरा पल्प में थोड़ी मात्रा में दारु हल्‍दी का चूर्ण मिला लें. इसे गर्म करके दर्दवाले स्‍थान पर बांधें. इससे वात और कफ़ से होनेवाले सिरदर्द में लाभ होता है.
  • बुखार हो, तो एलोवेरा की जड़ का काढ़ा बनाएं. 10-20 मि. ग्रा. काढ़े को दिन में तीन बार पिलाने से बुखार ठीक होता है.


यह भी पढ़ें: सेहत से भरपूर पालक के इन 15 फ़ायदों को जानकर हैरान रह जाएंगे आप… (Surprising 15 Health Facts About Spinach)

  • एलोवेरा के कोमल गूदे को नियमित रूप से 10 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम खाने से गठिया में लाभ होता है.
  • यदि आप कमरदर्द की तकलीफ़ से परेशान हैं, तो एलोवेरा का लड्डू खाएं. इसके लिए गेंहू का आटा, घी और एलोवेरा के पल्प लेकर गूंथ लें. इससे रोटी बनाएं. फिर इसका चूर्ण बनाकर लड्डू बना लें. हर रोज़ एक-दो लड्डू खाने से कमरदर्द ठीक होता है.
  • एलोवेरा का गूदा आंखों में लगाने से आंखों की लालिमा और गर्मी दूर होती है. यह आंखों की सूजन और वायरल कंजंक्टिवाइटिस में भी लाभदायक है. साथ ही इसके गूदे पर हल्दी डालकर थोड़ा गर्म करके आंखों पर बांधने से आंखों का दर्द दूर होता है.
  • यदि बवासीर की समस्या है, तो 50 ग्राम एलोवेरा के पल्प में 2 ग्राम पिसा हुआ गेरू मिलाएं. इसे रूई के फाहे पर फैलाकर गुदा स्थान पर बांध दें. इससे मस्सों में होनेवाली जलन और दर्द में आराम मिलता है.
  • कान में दर्द हो तो एलोवेरा के रस को हल्का गर्म करके जिस कान में दर्द हो रहा है, उसके दूसरी तरफ़ के कान में दो-दो बूंद टपकाने से कान के दर्द में आराम मिलता है.


यह भी पढ़ें: कॉर्न (मक्का) खाने के 15 लाजवाब फ़ायदे… (15 Amazing Health Benefits Of Corn (Maize)

  • एलोवेरा के रस को तिल व कांजी के साथ पकाकर घाव पर लेप करने से लाभ होता है.
  • 6 ग्राम एलोवेरा का पल्प, 6 ग्राम गाय का घी, 1 ग्राम हरड़ चूर्ण और 1 ग्राम सेंधा नमक लेकर मिक्स कर लें. इसे सुबह-शाम खाने से वात विकार से होनेवाले गैस की समस्या दूर हो जाती है.
  • एलोवेरा के पत्ते को एक ओर से छीलकर उस पर थोड़ा-सा हरड़ का चूर्ण डालकर हल्का गर्म कर लें. इसे गांठों पर बांधने से गांठों की सूजन दूर होती है.
  • चेचक से होनेवाले घावों पर एलोवेरा के गूदे का लेप करने से लाभ होता है.
  • दो भाग एलोवेरा के पत्तों का रस और एक भाग शहद लेकर उसे चीनी मिट्टी के बर्तन में एक हफ़्ते रखने के बाद सेवन करने पर लीवर से संबंधित बीमारियों में लाभ होता है.

यह भी पढ़ें: औषधीय गुणों से भरपूर लौकी के 31 बेहतरीन फ़ायदे…(31 Health Benefits Of Lauki Or Bottle Gourd)

  • 5-10 ग्राम एलोवेरा जेल में शक्कर मिलाकर खाने से पेशाब में दर्द और जलन से आराम मिलता है.
  • चेहरे पर चकत्ते या फिर खुजली-जलन को दूर करने में भी एलोवेरा फ़ायदेमंद है. इसके लिए रात के समय प्रभावित जगह पर एलोवेरा लगाकर उसे छोड़ दें. फिर सुबह धो लें.
  • एलोवेरा के गूदे को पेट के ऊपर बांधने से पेट की गांठ बैठ जाती है. इससे आंतों में जमा हुआ मल भी सरलता से बाहर निकल जाता है.
  • एलोवेरा को स्क्रब के तौर पर भी इस्तेमाल कर चेहरे पर रौनक और ताज़गी ला सकते हैं. एलोवेरा जेल में ग्राउंड ओटमील मिला लें. ख़राब होने से बचाने के लिए उसमें चुटकीभर बेकिंग सोडा मिला लें. फिर रोज़ाना इससे अपने चेहरे पर स्क्रब करें. इससे चेहरे की रंगत निखर आएगी.

सुपर टिप

  • एलोवेरा के पल्प को आग से जले स्थान पर लगाने से जलन शांत होती है और फफोले भी नहीं उठते.

– ऊषा गुप्ता

गोरी-सुंदर-जवां दिखना है तो होममेड नाइट क्रीम (Homemade Night Cream) लगाएं और अपनी त्वचा (Skin) को दीजिए एक नया निखार. ये बात तो हम सभी जानते हैं कि हमारी त्वचा रात में रिपेयर होने का काम तेज़ी से करती है इसीलिए त्वचा को जवां बनाए रखने के लिए नाइट क्रीम लगाना बेहद ज़रूरी है. हम आपको बता रहे हैं ऐसी होममेड नाइट क्रीम के बारे में, जिसे रात में लगाने से सुबह आपकी त्वचा में आप एक जवां निखार महसूस करेंगी. गोरी-सुंदर-जवां नज़र आने के लिए आप ये होममेड नाइट क्रीम ज़रूर लगाएं.

1) ऑलिव ऑयल त्वचा के लिए बहुत फ़ायदेमंद होता है इसलिए ऑलिव ऑयल से बनी होममेड नाइट क्रीम भी त्वचा को जवां और सुंदर बनाती है. होममेड ऑलिव ऑयल नाइट क्रीम बनाने के लिए आधा कप ऑलिव ऑयल, 1/4 कप विनेगर और 1/4 कप पानी को मिला लें. नियमित रूप से रात को सोने से पहले ऑलिव ऑयल नाइट क्रीम से चेहरे पर मसाज करें. इस नाइट क्रीम को लगाने से त्वचा नर्म-मुलायम और जवां नज़र आती है.

2) यदि आपकी स्किन सेंसिटिव है, तो आप एप्पल नाइट क्रीम ट्राई करें. इसके लिए कद्दूकस किए हुए 1 सेब में 1 टीस्पून ऑलिव ऑयल और 2 टीस्पून गुलाबजल मिलाकर पेस्ट बनाएं. रोज़ाना रात को सोने से पहले एप्पल नाइट क्रीम लगाने से सेंसिटिव स्किन में भी ग्लो आने लगता है.

3) दूध सेहत के लिए ही नहीं त्वचा के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है. यदि आपकी स्किन ड्राई है, तो होममेड मिल्क नाइट क्रीम लगाकर आप अपनी त्वचा को सॉफ्ट और गोरी बना सकती हैं. होममेड मिल्क नाइट क्रीम बनाने के लिए 3 टीस्पून फेंटी हुई मलाई में आधा-आधा टीस्पून गुलाबजल, ऑलिव ऑयल और ग्लिसरीन अच्छी तरह मिला लें. यह नाइट क्रीम स्किन को नेचुरली मॉइश्‍चराइज़ करती है और ड्राई स्किन को सॉफ्ट और जवां बनाती है.

यह भी पढ़ें: खूबसूरत त्वचा पाने के लिए घर पर बनाएं 10 फ्रूट फेस पैक (10 Homemade Face Packs For Glowing Skin)

Homemade Cream For Glowing Skin

4) यदि आपकी स्किन उम्र से पहले बूढ़ी नज़र आने लगी है, तो आप ये होममेड नाइट क्रीम ट्राई करें: 1-1 टेबलस्पून ऑलिव ऑयल और आल्मंड ऑयल को मिलाकर इससे चेहरे पर नियमित रूप से सोने से पहले हल्के हाथों से मसाज करें. ऐसा करने से चेहरे की बारीक़ लाइन्स और झुर्रियां कम होती हैं.

5) गोरी और जवां नज़र आने के लिए ट्राई करें ये होममेड नाइट क्रीम:1 सेब को छोटे टुकड़ों में काट लें और आधा कप ऑलिव ऑयल मिलाकर ब्लेंडर में ब्लेंड कर लें. इस मिश्रण में 1/4 कप गुलाबजल मिलाकर हल्का-सा गर्म करें, ताकि सारी सामग्री अच्छी तरह से मिक्स हो जाए. ध्यान रहे इस मिश्रण को ज़्यादा देर तक न पकाएं. आंच से उतारकर ठंडा करें और फिर 1/4 कप गुलाबजल मिलाकर अच्छी तरह से फेंट लें. इसे कांच की बॉटल में भरकर फ्रिज में रखें. रोज़ रात को सोने से पहले चेहरे और गर्दन पर लगाएं. इस क्रीम को लगाने से स्किन टोन होती है और रंग गोरा होता है. साथ ही बढ़ते उम्र के निशान भी कम होने लगते हैं.

यह भी पढ़ें: ब्राइडल स्किन केयर: दुल्हन के लिए 90 दिनों का ब्यूटी कैलेंडर (Bridal Skin Care Routine For Indian Bride)

घरेलू उबटन की मदद से घर बैठे चेहरे का निखार आसानी से पाया जा सकता है. आपके किचन में मौजूद चीज़ें ही आपके चेहरे की खूबसूरती बढ़ा सकते हैं और आप आसानी से गोरी-निखरी त्वचा पा सकती हैं. इसके लिए आपको स़िर्फ 10-15 मिनट का समय निकालना होगा और मिनटों में आप इन घरेलू उबटन की मदद से घर बैठे चेहरे का निखार आसानी से पा सकती हैं. आइए, हम आपको कुछ ऐसे घरेलू उबटन के बारे में बताते हैं, जिनकी मदद से आप घर बैठे चेहरे का निखार आसानी से पा सकती हैं.

Homemade Face Packs For Glowing Skin

गोरी रंगत के लिए लगाएं ये उबटन
हर कोई चाहता है निखरी व ख़ूबसूरत त्वचा, ऐसे में ये उबटन आपका रूप निखारने व गोरी रंगत पाने में मदद करेंगे.
* एक टेबलस्पून शहद और दो टेबलस्पून बादाम पाउडर में आधा टीस्पून नींबू का रस मिलाकर उबटन बना लें. इस उबटन को चेहरे पर मसाज करते हुए लगाएं. थोड़ी देर बाद चेहरा धो लें. इससे त्वचा का रूखापन दूर होता है, दाग़-धब्बे मिटते हैं और चेहरा गोरा नज़र आने लगता है.
* गुलाब की पंखुड़ियों को पीसकर पेस्ट बना लें. इस पेस्ट में दूध मिलाकर उबटन बनाएं. इस उबटन को चेहरे और शरीर के दूसरे हिस्सों पर लगाते हुए मालिश करें. एक घंटे बाद नहा लें. इस उबटन से आपकी त्वचा गुलाब-सी निखर जाएगी.
* मसूर की दाल को घी में भून लें. फिर उसे दूध में भिगो दें. जब मसूर की दाल अच्छी तरह फूल जाए, तो उसे पीसकर उबटन तैयार करें. इसे चेहरे पर लगाएं और 2 घंटे बाद धो लें. आपकी त्वचा गोरी और सुंदर नज़र आने लगेगी. इस उबटन को आप फ्रिज में रख सकती हैं और ज़रूरत के अनुसार इस्तेमाल कर सकती है.
* शहद और गुलाबजल को मिलाकर चेहरे पर लगाएं. इसे आधे घंटे तक लगा रहने दें. फिर गरम पानी से चेहरा धो लें. ऐसा नियमित रूप से करने से कुछ ही दिनों में ही आपकी त्वचा नर्म-मुलायम और ख़ूबसूरत नज़र आने लगेगी.
* दूध की मलाई में थोड़ा-सा केसर मिलाकर चेहरे पर लगाएं. इसे आधे घंटे तक रहने दें, फिर चेहरा धो लें. मलाई और केसर के उबटन से चेहरा गोरा नज़र आता है और त्वचा नर्म-मुलायम बनी रहती है.
* ओटमील में ताज़ा दही मिलाकर उबटन बनाएं. इस उबटन को चेहरे पर 10-15 मिनट तक लगा रहने दें. फिर हल्के हाथों से मालिश करते हुए चेहरा धो लें. दही और ओटमील के प्रयोग से त्वचा में कसाव आता है और त्वचा निखरने लगती है.
* एक टेबलस्पून बेसन, एक चुटकी हल्दी व थोड़ा-सा दूध मिलाकर चेहरे पर लगाने से रंग निखरता है.

यह भी पढ़ें: ऐलोवेरा जेल के 10 ब्यूटी बेनिफिट्स स्किन और बालों के लिए (10 Beauty Benefits Of Aloe Vera Gel For Skin And Hair)

Homemade Face Packs For Glowing Skin

सर्दियों में लगाएं ये उबटन
सर्दियों में त्वचा रूखी हो जाती है, इसलिए त्वचा की ज़रूरतें भी बदल जाती हैं. ऐसे में आपके लिए ये उबटन फ़ायदेमंद हैं:
* सर्दियों में नहाने से पहले उबटन ज़रूर लगाएं. इससे आपकी त्वचा रूखी नहीं होगी और त्वचा में निखार भी आएगा. इसके लिए जैतून का तेल, मुल्तानी मिट्टी का पाउडर और गुलाबजल मिलाकर उबटन बनाएं. इसे चेहरे, गले और हाथ-पैर पर 20-30 मिनट तक लगाकर रखें. फिर गुनगुने पानी से स्नान कर लें.
* संतरे के छिलकों को छाया में सुखाकर पाउडर बना लें. इस संतरे के पाउडर में शहद मिलाकर उबटन बनाएं. इस उबटन को चेहरे पर लगाएं और सूखने पर चेहरा धो लें. सर्दियों में इस उबटन के नियमित प्रयोग से त्वचा गोरी हो जाती है और चेहरे का रूखापन भी दूर हो जाता है.
* आधा टीस्पून ककड़ी (खीरा) का रस, आधा टीस्पून मूली का रस, आधा टीस्पून टमाटर का रस और आधा टीस्पून गुलाबजल को मिक्स करें. इसमें पांच-छह बूंदें नींबू का रस भी डालें. फिर इसमें एक टीस्पून मक्खन और आधा टीस्पून हल्दी पाउडर मिलाकर उबटन तैयार करें. इस उबटन को आधे घंटे तक चेहरे पर लगाकर रखें. फिर गुनगुने पानी से चेहरा धो लें. इससे त्वचा का रूखापन तथा दाग़-धब्बे दूर होते हैं और स्किन सुंदर नज़र आती है.
* एक चम्मच बेसन, एक चम्मच मलाई, चुटकीभर हल्दी पाउडर और आवश्यकतानुसार दूध मिलाकर उबटन बना लें. इसे चेहरे पर 15-20 मिनट तक लगा रहने दें. सूखने पर चेहरा धो लें. सर्दियों में त्वचा का रूखापन दूर करने के लिए ये उबटन बहुत फ़ायदेमंद है. इससे त्वचा का रूखापन दूर होता है और त्वचा निखर जाती है.

यह भी पढ़ें: नीम तेल के 10 ब्यूटी बेनिफिट्स (10 Beauty Benefits Of Neem Oil)

Homemade Face Packs For Glowing Skin

ये उबटन भी हैं फ़ायदेमंद
* कच्चे दूध में ओट्स को एक घंटे के लिए भिगोकर रखें. जब ये पूरी तरह फूल जाए, तो इसे चेहरे पर लगाएं और थोड़ी देर बाद स्क्रब करते हुए छुड़ाकर ठंडे पानी से धो लें. इस उबटन के नियमित उपयोग से आपका चेहरा चमक उठेगा.
* एक टेबलस्पून बेसन में एक टेबलस्पून मलाई मिलाएं. इसमें कुछ बूंदें नींबू का रस और चुटकीभर हल्दी मिलाकर पेस्ट तैयार करें. इस पेस्ट को चेहरे व गले पर लगाकर कुछ देर के लिए छोड़ दें. सूखने पर गुनगुने पानी से धो लें.
* कच्चे दूध में ब्रेड को भिगो दें. कुछ देर बाद इसे मसलकर पेस्ट बनाएं व चेहरे पर लगाएं. आधे घंटे बाद गुनगुने पानी से चेहरा धो लें. इस उबटन से चेहरा तो निखरेगा ही, चेहरे के दाग़-धब्बे भी मिट जाएंगे.
* मसूर की दाल को रातभर पानी में भिगोएं. सुबह कच्चा दूध मिलाकर पीसकर पेस्ट बना लें. इस उबटन को चेहरे पर लगाएं और हल्के हाथों से रगड़ें. बाद में पानी से चेहरा धो लें. इस उबटन से चेहरे के अनचाहे बालों से छुटकारा मिलता है और रूप भी निखरता है.
* संतरे के छिलकों को सुखाकर पीसकर पाउडर बना लें. इसमें कच्चा दूध और थोड़ा-सा गुलाबजल मिलाकर उबटन बनाएं और चेहरे पर लगाएं. आधे धंटे बाद पानी से चेहरा धो लें.
* दो टेबलस्पून ब्रेड क्रम्ब्स में दो टेबलस्पून बेसन, दो टेबलस्पून गेहूं का आटा, दो टेबलस्पून नींबू का रस, दो टेबलस्पून खीरे का रस, दो टेबलस्पून आलू का रस, चुटकीभर हल्दी पाउडर और दो टेबलस्पून मिल्क क्रीम मिलाकर उबटन तैयार करें. इसे चेहरे पर लगाकर सर्कुलर मोशन में मसाज करें. इसे तब तक रगड़ें, जब तक उबटन सूख न जाए. फिर गुनगुने पानी से चेहरा धो लें. इस उबटन से चेहरे के सारे दाग़-धब्बे साफ़ हो जाएंगे.

5 घरेलू फेसपैक से मिनटों में पाएं गोरी त्वचा, देखें वीडियो:

* दूध का बर्तन खाली होने पर उसमें चुटकीभर हल्दी, आटा व तेल की कुछ बूंदें डालकर उबटन बनाएं. इसे चेहरे, गले व हाथ-पैर पर लगाकर 20 मिनट के लिए छोड़ दें. फिर रगड़कर छुड़ाएं. ऐसा नियमित रूप से करने पर रंग निखरता है.
मुंहासे हटाने के लिए उबटन मुंहासे चेहरे की ख़ूबसूरती बिगाड़ देते हैं, इसलिए आपके चेहरे पर यदि मुंहासे हैं, तो आप ये उबटन लगाना शुरू कर दें-
* पुदीने के पत्ते और जई के पाउडर का उबटन बनाकर चेहरे पर लगाएं. 20 मिनट बाद गुनगुने पानी से धो लें. इस उबटन के नियमित प्रयोग से मुंहासे कम हो जाएंगे.
* नीम, तुलसी और हरे धनिया का रस बराबर मात्रा में मिला लें और चेहरे पर लगाएं. 15 मिनट बाद चेहरा धो लें. प्राकृतिक गुणों से भरपूर नीम, तुलसी व हरा धनिया मुंहासों से निजात दिलाते हैं.
* आधा टीस्पून हल्दी, आधा टीस्पून कपूर, दो-तीन बूंद सरसों का तेल और आधा नींबू का रस मिलाकर उबटन बना लें. इसे नहाने से पहले चेहरे पर लगाएं. इससे मुंहासे तो दूर होंगे ही, त्वचा भी निखर जाएगी.
* जायफल या जामुन के बीज के पाउडर को गुलाबजल में डालकर पेस्ट बना लें. सूख जाने पर साफ़ पानी से चेहरा धो लें. ऐसा करने से मुंहासों से मुक्ति मिलती है.
* तीन टीस्पून शहद में 1 टीस्पून दालचीनी पाउडर डालें और मुंहासों पर रातभर लगाकर रखें. सुबह गुनगुने पानी से धो दें. नियमित दो सप्ताह तक ऐसा करें. मुंहासों से लंबे समय तक छुटकारा मिलेगा.
* एक केले को मैश करके उसमें एक टीस्पून शहद मिलाकर चेहरे पर लगाएं. 20 मिनट लगा रहने दें. फिर हल्के हाथों से रगड़ते हुए गुनगुने पानी से चेहरा धो लें.

यह भी पढ़ें: क्या आप भी चेहरे पर वैक्सिंग कराती हैं? जानें कितना सुरक्षित है फेस वैक्सिंग (Is Face Waxing Safe?)

 

झाइयां हटाने के लिए उबटन
यदि आपको झाइयों की समस्या है, तो दो टीस्पून मलाई में चुटकीभर हल्दी पाउडर डालकर गाढ़ा पेस्ट बना लें. इसे चेहरे पर 15 मिनट लगाकर रखें, फिर चेहरा साफ़ कर लें. ऐसा करने से झाइयों से राहत मिलती है.

ब्लैकहेड्स हटाने के लिए उबटन
यदि आपके चेहरे पर ब्लैकहेड्स हैं, तो हल्दी पाउडर में धनिया की पत्ती को पीसकर लगाएं. कुछ समय तक लगातार इस प्रयोग को करने से आपके चेहरे के ब्लैक हेड्स दूर हो जाएंगे और चेहरा निखर उठेगा.

बदलते मौसम का असर शरीर और सेहत पर भी पड़ता है और कई तरह की हेल्थ प्रॉब्लम्स होने लगती हैं. अगर समर में हेल्थ प्रॉब्लम्स से बचना है और हेल्दी रहना है, तो इससे बचाव के तरी़के जानना बेहद ज़रूरी है.

डीहाइड्रेशन


गर्मियों में अत्यधिक और बार-बार पसीना आने से शरीर में पानी की कमी और डीहाइड्रेशन की समस्या होने लगती है और जो लोग एक्सरसाइज़ करते हैं या जिम जाते हैं, उन्हें तो डीहाइड्रेशन की समस्या होने की संभावना ज़्यादा होती है.
 
शरीर में पानी की कमी के लक्षण

Summer Care Home Remedies

– अत्यधिक प्यास लगना
– सामान्य से कम पेशाब  होना
 – पेशाब का रंग गहरा होना
 – बेवजह थकान महसूस होना
 – रोने पर आंखों से आंसू न आना
–  सिरदर्द और चक्कर आना

क्या करें

– ज़्यादा-से-ज़्यादा पानी पीएं.
 – नमक की कमी को दूर करने के लिए स्पोर्ट्स ड्रिंक पीएं.
– ज़्यादा लिक्विड पीने के लिए पानी में ऑरेंज जूस, पुदीने की पत्तियां या नींबू निचोड़ें. इससे आप ज़्यादा पानी पी पाएंगी.
– चाय या कॉफी का सेवन कम करें.
– हल्के-फुल्के कपड़े पहनें.

एसिडिटी

गर्मियों में एसिडिटी की प्रॉब्लम ज़्यादा होती है, जिससे शरीर में भारीपन, खट्टी डकारें, पेटदर्द, जी मिचलाना आदि शिकायतें होती हैं. ऐसी स्थिति में-
– बार-बार थोड़ी-थोड़ी मात्रा में पानी पीएं. इससे खाना जल्दी पच जाता है और एसिडिटी से राहत मिलती है.
– हरड़, सोंठ और सेंधा नमक तीनों को मिलाकर रख लें. एसिडिटी की शिकायत होने पर एक टीस्पून की मात्रा में ये चूर्ण ठंडे पानी के साथ लें.

बार-बार प्यास लगना

– छुहारे की गुठली मुंह में रखें.
– आलूबुखारा चूसने से भी लाभ होता है.
– धनिया को पानी में भिगो दें. दो घंटे बाद उसे मसलकर छान लें. इस पानी में शहद और शक्कर मिलाकर पीने से फ़ायदा होता है.


गर्मी में सिर चकराए तो

-गर्मी के दिनों में सिर चकराता हो या जी घबराता हो, तो आंवले का शर्बत पीएं. तुरंत राहत मिलेगी.

लू लगने पर

– लू लगने पर प्याज़ के रस से कनपटियों और छाती पर मालिश करें.
 – नारियल के दूध के साथ काला जीरा पीसकर शरीर पर मलने से लू की जलन कम होती है.
– धनिया के पानी में शक्कर मिलाकर पीने से लू का असर कम हो जाता है.
– तुलसी के पत्तों के रस में शक्कर मिलाकर पीने से लू नहीं लगती.

Summer Care Home Remedies


फूड पॉयज़निंग

गर्मियों में बासी या बाहर का खाना खाने, खाने-पीने में गड़बड़ी होने या अधिक गर्मी के कारण फूड पॉयज़निंग की प्रॉब्लम हो सकती है, जिसके कारण उल्टी, पेटदर्द, दस्त, तेज़ बुख़ार व डीहाइड्रेशन की शिकायत हो सकती है.
– खाना बनाने से पहले, वॉशरूम इस्तेमाल करने के बाद व पालतू जानवर को छूने के बाद मेडिकेटेड साबुन से हाथ धोएं. खाने से पहले भी हाथों को अच्छी तरह धोएं.
– बाहर का खाना या बासी खाना खाने से परहेज़ करें.
– मौसमी फल व सब्ज़ियां धोकर ही खाएं.
– ज़्यादा-से-ज़्यादा लिक्विड फूड का सेवन करें और हल्का खाना खाएं.

अगर आपके चेहरे पर दाग-धब्बे हो गए हैं, तो ये 10 घरेलू नुस्ख़े आपके बहुत काम आएंगे. ये 10 घरेलू नुस्ख़े चेहरे के दाग़-धब्बे मिटाकर स्किन को स्वस्थ और सुंदर बनाते हैं.

Home Remedies To Get Rid Of Acne

1) एक दिन बासी छाछ को सुबह नहाने से पहले चेहरे पर मलें और 10 मिनट बाद स्नान कर लें. इससे चेहरे के दाग़-धब्बे मिटते हैं और स्किन ग्लो करती है.

2) मसूर की दाल इतने पानी में भिगोएं कि वह भीगकर उस पानी को अच्छी तरह सोख लें. फिर उस दाल को पीसकर दूध या दही में मिलाकर सुबह-शाम दो बार चेहरे पर लगा कर मलें. कुछ देर बाद कुनकुने पानी से चेहरा धो डालें. ऐसा नियमित रूप से करने से चेहरे के दाग़ मिट जाएंगे और स्किन खूबसूरत नज़र आएगी.

3) शहद को नमक और सिरके में मिलाकर चेहरे पर मलने से झाइयां मिटती हैं. ऐसा नियमित रूप से करें.

4) कलौंजी को सिरके में पीसकर रात के समय चेहरे पर लेप करके सुबह धो लें. इससे मुंहासे मिटते हैं और चेहरा खूबसूरत बनता है.

Home Remedies To Get Rid Of Acne

5) रात को सोने से पहले चेहरे पर दही की मलाई से मालिश करें. पंद्रह मिनट बाद धोकर सो जाएं. इससे त्वचा का रूखापन, झाइयां और दाग़ मिट जाते हैं.

6) चेहरे पर नींबू मलने से झाइयां व दाग़ ठीक हो जाते हैं और चेहरे पर चमक व निखार आ जाता है.

7) 30-40 ग्राम अजवाइन बारीक़ पीस कर 25-30 ग्राम दही में मिलाकर रात को मुंहासों पर लगाएं. सुबह कुनकुने पानी से चेहरा धो लें. ऐसा करने से मुंहासे साफ़ हो जाते हैं और चेहरा निखर जाता है. इस घरेलू नुस्खे से आंखों के नीचे उभरने वाले काले धब्बे भी मिट जाते हैं.

8) मसूर की दाल को नींबू के रस के साथ पीसकर लेप करने या मलने से चेहरे की झाईं मिटती हैं और स्किन ग्लो करने लगती है.

यह भी पढ़ें: 5 तेल मिनटों में निखारते हैं खूबसूरती, जानें आपके लिए कौन सा तेल है बेस्ट (5 Best Natural Oils For Every Skin Type)

Home Remedies To Get Rid Of Acne

9) गेहूं का चोकर लगभग 100 ग्राम लेकर उसे शाम को एक कप में भिगोकर रख दें. सुबह उसे मसल कर चेहरे पर हल्की-हल्की मालिश करें. मुंहासों और चेहरे के दाग़-धब्बों से छुटकारा मिल जाएगा.

10) एक सप्ताह तक रोज़ाना एक कप मूली का रस निकाल कर सेवन करें, तो चेहरे के सारे दाग़ अपने आप ग़ायब हो जाएंगे.

हर किसी के बाल एक जैसे नहीं होते. ऑयली, ड्राई, नॉर्मल बालों की ज़रूरतें अलग-अलग होती है. बालों की सही देखभाल के लिए पहले आपको अपना हेयर टाइप पता होना चाहिए, तभी आप अपने लिए सही हेयर केयर रूटीन फॉलो कर सकते हैं.

Hair Care Tips

ऐसे करें ऑयली हेयर की देखभाल

ऑयली बालों को मैनेज करना थोड़ा मुश्किल होता है. साथ ही चिपचिपे होने के कारण ऐसे बालों से कोई भी हेयर स्टाइल आसानी से सेट नहीं होती. अगर आपके बाल भी ऑयली हैं, तो उन्हें मैनेज करने के लिए निम्न बातों का ख़्याल रखें.

  • बालों को धोने के लिए माइल्ड या बेबी शैंपू का इस्तेमाल करें.
  • ऐसे बालों को रोज़ाना धोना ज़रूरी है, लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि स्काल्प पर शैंपू का बहुत ज़्यादा इस्तेमाल न हो.
  • बालों को हमेशा ठंडे या गुनगुने पानी से धोएं. गरम पानी के इस्तेमाल से स्काल्प से और ज़्यादा ऑयल निकलत है, जो बालों को चिपचिपा बना देता है.
  • गरम तेल से स्काल्प का मसाज करें फिर शैंपू से बाल धो लें.
  • अगर आपके बाल बहुत ऑयली हैं, तो कंडीशनर का इस्तेमाल न करें.
  • ऑयली हेयर शाइनी होते हैं. इसलिए हेयर ग्लॉस जेल और शाइन हेयर केयर प्रॉडक्ट्स यूज़ न करें.
  • अगर बाल बहुत ज़्यादा ऑयली है, तो 1 भाग विनेगर में 4 भाग पानी मिलाकर बाल धोएं, लेकिन सीधे स्काल्प पर विनेगर का इस्तेमाल न करें.
  • बालों को बार-बार ब्रश करने से बचें. क्योंकि इससे स्काल्प से अतिरिक्त तेल निकलता है.
  • पानी में नींबू मिलाकर बाल धोने से भी बालों से एक्स्ट्रा ऑयल निकल जाता है.
  • हेल्दी डायट और पर्याप्त पानी पीने से ऑयली बालों की समस्या से छुटकारा मिल सकता है.
  • बालों को ब्लो ड्राय न करें, और अगर करना ज़रूरी है, तो कम टेम्प्रेचर पर 5-6 इंच की दूरी से ड्रायर का इस्तेमाल करें.
Hair Care Tips

ऐसे करें ड्राई हेयर की देखभाल

बहुत ज़्यादा धूप और पसीने से बाल ड्राई हो जाते हैं. इसके अलावा हेयर कलर, कर्ल करवाने, स्ट्रेटटिंग या कोई भी केमिकल ट्रीटमेंट बालों के नैचुरल ऑयल को नुक़सान पहुंचाता है, जिससे बाल ड्राई हो जाते हैं. ड्राई बालों को हेल्दी और शाइनी बनाने के लिए इन टिप्स पर अमल करें.

  • गीले बाल आसानी से टूटते हैं इसलिए अतः गीले बालों में कंघी करते समय सावधानी बरतें.
  • पतले दांत वाली कंघी की बजाय मोटे दांत वाली कंघी का इस्तेमाल करें, इससे बाल आसानी से सुलझ जाएंगें और टूटेंगे भी नहीं.
  • बालों को ब्रश करने के लिए सॉफ्ट ब्रिसल्ड ब्रश यूज़ करें.
  • अगर आपके बाल रूखे हैं तो रोज़ाना शैंपू करने से बचें. क्योंकि इससे स्काल्प के नैचुरल ऑयल को नुक़सान पहुंचता है और बाल ज़्यादा रूखे हो जाते हैं.
  • ज़्यादा प्रोटीन वाला शैंपू यूज़ करें.
  • रूखे व बेजान बालों के लिए माइल्ड और एसिडिक शैंपू बेस्ट होते हैं.
  • हर बार शैंपू करने के बाद कंडीशनर का इस्तेमाल करें. इससे बाल मुलायम और चमकदार बनेंगे.
  • हीट एक्टिवेटेड मॉश्च राइज़िंग कंडिशनर का इस्तेमाल करें या हफ़्ते में एक बार ऑयल ट्रीटमेंट लें.
  • हेयर ड्रायर और हॉट आयरन के इस्तेमाल से बचें. ड्रायर, कर्लिंग, स्ट्रेटनिंग और ऑयरन बालों को रूखा और बेजान बनाती है. अगर ड्रायर का इस्तेमाल ज़रूरी हो, तो मिनिमम टेम्प्रेचर पर इसका इस्तेमाल करें.
  • हेयरस्प्रे, हेयर जेल और दूसरी केमिकल युक्त स्टाइलिंग क्रीम से दूर रहें. ये बालों को रूखा बनाते हैं.
  • बाल धोने के बाद जड़ों में नारियल का तेल लगाएं.
  • नमी के लिए बालों में थोड़ा-सा सनफ्लावर ऑयल लगाएं.
  • गरम ऑलिव ऑयल से बालों को मसाज करें और इसे आधे घंटे के लिए प्लास्टिक से कवर कर दें. फिर शैंपू से बाल धो लें.

यह भी पढ़ें: 7 होममेड हेयर ऑयल और हेयर स्प्रे हेल्दी बालों के लिए हैं बहुत जरूरी (7 Homemade Hair Oil And Hair Spray For Long And Strong Hair)

Hair Care Tips

ऐसे करें नॉर्मल हेयर की देखभाल

नॉर्मल बालों को एक्स्ट्रा केयर की ज़रूरत नहीं होती. ये आसानी से मैनेज हो जाते हैं और ऐसे बालों पर कोई भी स्टाइल अप्लाई की जा सकता है. नॉर्मल बालों की देखभाल के लिए निम्न बातों का ख़्याल रखें.

  • हफ़्ते में दो बार माइल्ड शैंपू से बाल धोएं और कंडीशनर भी अप्लाई करें. कंडिशनर लगाकर स्काल्प पर सर्कुलर मसाज करें.
  • हर महीने में बालों को थोड़ा ट्रिम करती रहें.
  • बाल धोने के लिए हमेशा ठंडे या गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें.
  • महीने में एक बार हेयर मास्क अप्लाई करें.
  • बालों की सेहत के लिए हेल्दी डायट भी ज़रूरी है.

यह भी पढ़ें: सफेद बालों से पाएं छुटकारा: ट्राई करें 10 घरेलू नुस्खे (10 Easy Ways To Get Rid Of White Hair Naturally At Home)

Hair Care Tips

ख़ूबसूरत बालों के लिए 8 होम रेमेडीज़

1) बालों को सही पोषण देने के लिए सप्ताह में 2 बार गुनगुने तेल से मसाज करें. ऑयल मसाज से ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है, साथ ही उचित पोषण भी मिलता है.
2) बाल धोने से 2-3 घंटे पहले नारियल के गुनगुने तेल से मसाज करें. फिर गर्म पानी में डुबोकर निचोड़े हुए तौलिए से बालों को लपेटकर रखें. एक-डेढ़ घंटे बाद धो लें.
3) 1 टीस्पून ग्लिसरीन, एक अंडे की स़फेदी और 2 टीस्पून कैस्टर ऑयल- तीनों को मिलाकर बालों की जड़ों में लगाएं. एक-डेढ़ घंटे बाद बाल धो लें.
4) बालों की डीप कंडीशनिंग के लिए दही, बीयर और अंडे का प्रयोग करें.
5) बालों को हेल्दी बनाने के लिए खाना सनफ्लावर ऑयल में पकाएं. सनफ्लावर ऑयल में एसेंशियल फैटी एसिड होता है, जो बालों को नमी प्रदान करता है.
6) बालों की अच्छी ग्रोथ के लिए कैस्टर ऑयल (एरंडी का तेल) लगाएं. कैस्टर ऑयल हेयर टॉनिक का काम करता है.
7) सनफ्लावर ऑयल से बालों की जड़ों में मसाज करने से बालों का रूखापन दूर होता है.
8) बालों में चमक लाने के लिए 2 टीस्पून मेहंदी पाउडर में 1 टीस्पून दही, 1 टीस्पून मेथीदाना पाउडर, 1 टेबलस्पून कॉफी, 2 टेबल्सपून पुदीने का रस, 2 टेबलस्पून तुलसी का रस मिलाकर पेस्ट बनाएं और 2 घंटे तक बालों में लगाकर रखें. फिर बाल धो लें. अगर डार्क कलर चाहती हैं तो 3-4 घंटे रखें.

शिशु व बहुत छोटे बच्चे, जो अपनी तकलीफ़ बता भी नहीं सकते, जब उन्हें कोई रोग हो जाए, तो माता-पिता परेशान हो जाते हैं. बच्चे को लगातार रोते देखकर उन्हें कई बार समझ नहीं आता कि आखिर बच्चे को क्या तकलीफ़ हो रही है. हम आपको बता रहे हैं बच्चो के आम रोगों के 72 घरेलू उपाय, जो आपके बच्चे को रोग से जल्दी राहत देंगे.

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चे को बुखार हो जाए

बच्चे को बुखार होने पर माता-पिता बेचैन हो जाते हैं. यदि आपके यदि बच्चे को बुखार हो जाए, तो ये घरेलू उपाय बच्चे को तुरंत आराम पहुंचाएंगे.
1) काली मिर्च के 125 मि.ग्रा. पाउडर में तुलसी का रस और शहद मिलाकर बच्चे को दिन में तीन बार दें. बच्चे को बुख़ार से राहत मिलेगी.
2) बुख़ार तेज़ हो तो प्याज़ को बारीक़ काटकर पेट और सिर पर रखें. बुख़ार कम होने लगेगा.
3) बुख़ार में सिरदर्द हो तो गरम पानी या दूध में सोंठ पाउडर मिलाकर सिर पर लेप करें या जायफल में पीसकर लगाएं.
4) बुख़ार में पसीना अधिक हो, हाथ-पैरों में ठंड लगे तो सोंठ पाउडर को हल्के हाथों से लगाएं. आराम मिलेगा.

यदि बच्चे को गैस की समस्या हो जाए

अक्सर शिशु जब दूध पीता है, तो दूध के साथ बहुत सारी हवा भी निगल लेता है. यह हवा ही शिशु के पेट की गैस है. पेट में गैस हो जाने से शिशु असहज महसूस करने लगता है और रोने लगता है. पेट में गैस होने से शिशु ठीक से दूध नहीं पी पाता, सो नहीं पाता, बस रोता रहता है. ऐसे में ये घरेलू नुस्ख़े अपनाकर आप अपने बच्चे को गैस की समस्या से राहत दिला सकती हैं.
5) सबसे पहले शिशु को गैस की समस्या से बचाने के लिए दूध पिलाने के बाद उसे डकार ज़रूर दिलाएं. इसके लिए दूध पिलाने के बाद शिशु को अपने कंधे से लगाएं और दूसरे हाथ से उसकी पीठ थपथपाएं. ये शिशु को डकार दिलाने का सबसे आसान तरीक़ा है.
6) हींग को भूनकर उसे पानी में घिसकर बच्चे की नाभि के चारों ओर लेप करें.
7) एक चम्मच लहसुन के रस में आधा चम्मच घी मिलाकर बच्चे को पिलाएं. तुरंत गैस से राहत मिलेगी.
8) ज़रा-सी हींग पाउडर को घी में मिलाकर बच्चे को पिलाने से गैस से राहत मिलेगी.
9) जीरा या अजवायन को पीसकर पेट पर लेप करने से शिशु को गैस की समस्या से राहत मिलेगी.

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चे के पेट में कीड़े हो जाएं


बच्चों के पेट में कीड़े एक आम समस्या है, लेकिन कई लोगों को इसकी जानकारी नहीं होती. यदि बच्चे के पेट में कीड़े हों, तो ये घरेलू उपाय बच्चे को आराम पहुंचाएंगे.
10) बच्चे को काले जीरे का पाउडर शहद में मिलाकर चटाने से कीड़े मर जाते हैं.
11) बच्चे को अजवायन के तीन दाने के साथ पान खिलाएं, इससे कीड़े मर जाते हैं.
12) बच्चे को दो चम्मच अनार का जूस पिलाने से पेट में पनप रहे कीड़े मर जाते हैं.
13) करेले का जूस निकालकर उसे गुनगुने पानी के साथ पिलाने से बच्चे के पेट के कीड़े मर जाते हैं.
14) 10-10 ग्राम नीम की पत्तियों का रस और शहद मिलाकर बच्चे को दिन में 3-4 बार पिलाएं. ऐसा करने से बच्चे के पेट के कीड़े मर जाते हैं.
15) सौंफ का पाउडर कपड़े से छानकर 1/4 टेबलस्पून शहद के साथ बच्चे को सुबह-शाम चटाएं.

यदि बच्चे को दस्त हों


दस्त होने पर बच्चे को डीहाइड्रेशन की तकलीफ हो सकती है और बच्चा कमजोर हो सकता है इसलिए बच्चे को दस्त होने पर तुरंत ये घरेलू उपाय करें.
16) मीठे सेब का रस कपड़े से छानकर समय-समय पर पिलाने से मोशन्स (दस्त) रुक जाते हैं और ख़ून व शरीर में लिक्विड की कमी भी दूर हो जाती है.
17) बच्चे को फलों का रस, सब्ज़ियों का रस और पानी थोड़ी-थोड़ी देर में पिलाएं. इससे बच्चे को कमज़ोरी नहीं होगी.
18) अगर बच्चे को लगातार पतली दस्त हो रही हो तो 1 ग्राम खसखस पीसकर 10 ग्राम दही में मिलाकर देने से दस्त की तकलीफ़ दूर होती है.
19) दस्त हो रहा हो तो भी बच्चे का दूध बंद न करें, बल्कि साथ-साथ नारियल पानी, अनार का रस, सेब का रस और नींबू पानी दें.
20) सोंठ का चूर्ण 125 मि.ग्रा. की मात्रा में गुड़ में मिलाकर देने से बच्चे को दस्त से राहत मिलती है.
21) जौ का पानी और अंडे की सफेदी को घोलकर बार-बार थोड़ा-थोड़ा बच्चे को पिलाते रहने से लाभ होता है.
22) यदि शिशु बार-बार हरे रंग के दस्त करता है, तो थोड़ा-सा एरंडी का तेल यानी कैस्टर ऑयल चटाएं.
23) सौंफ और सोंठ का काढ़ा बनाकर शिशु को 1-2 चम्मच की मात्रा में पिलाएं.
24) जायफल घिसकर शहद के साथ बच्चे को सुबह-शाम चटाएं.

यह भी पढ़ें: अपने बढ़ते बच्चों को ऐसे सिखाएं बॉडी हाइजीन का ख्याल रखना (Personal Hygiene Tips For Pre-Teens And Teenagers)

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चा बिस्तर में पेशाब करे


कई बच्चे बड़ी उम्र में भी बिस्तर में पेशाब करते हैं, जिसके कारण माता-पिता बच्चे को दोस्तों व रिश्तेदारों के घर ले जाने से कतराते हैं. बच्चा बिस्तर में पेशाब न करे इसके लिए ये घरेलू उपाय करें.
25) बच्चा यदि रोज़ाना बेड पर पेशाब करने लगे तो उसे छुहारा खिलाएं.
26) थोड़े बड़े होने पर भी बेड पर पेशाब करने वाले बच्चों को नियमित रूप से दो अखरोट और 10-12 किशमिश खिलाने से उनकी आदत छूट जाएगी.
27) बच्चों को 15-20 दिनों तक सोते समय एक टीस्पून शहद चटाने से यह आदत छूट जाती है.
28) छुहारे को बारीक पीसकर चटाने से या खिलाने से बिस्तर में पेशाब करने की आदत छूट जाती है.

यदि शिशु को नैपकिन रैश हो जाएं


नवजात शिशु को नैपकिन रैश हो जाना आम बात है, ऐसे में ये घरेलू उपाय आपके बच्चे को नैपकिन रैश से जल्दी ही आराम पहुंचाएंगे.
29) लहसुन की 8-10 कलियों का रस निकालकर 4 गुना पानी में मिलाकर रैश वाले स्थान को धोएं.
30) तुलसी के पत्तों का रस निकालकर या उसके पत्तों को पीसकर उसका लेप लगाने से नैपकिन रैश में राहत मिलती है.
31) मक्खन में हल्दी मिलाकर उसका लेप करने से लाभ होगा.
32) हरी दूब को अच्छी तरह पीसकर लेप करने से भी बच्चों को नैपकिन रैश में राहत मिलती है.

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चे को सर्दी-ज़ुकाम हो जाए


मौसम बदलते ही बच्चों को अक्सर सर्दी-ज़ुकाम की तकलीफ हो जाती है. ऐसे में इन घरेलू उपायों पर अमल करने से बच्चों को खांसी-ज़ुकाम से तुरंत राहत मिलती है.
33) रात में सोते समय तुलसी का रस बच्चे की नाक, कान और माथे पर मलें.
34) बच्चे की छाती में कफ जम जाए तो थोड़ा-सा गाय का घी मलें. कफ पिघलकर बाहर आ जाएगा.
35) आधा इंच अदरक व 1 ग्राम तेजपत्ता को एक कप पानी में भिगोकर काढ़ा बनाएं. इसमें एक चम्मच मिश्री मिलाकर 1-1 चम्मच की मात्रा में तीन बार पिलाएं. दो दिन में ही खांसी-ज़ुकाम ठीक हो जाएगा.
36) थोड़ा-सा सरसों का तेल रोज़ाना बच्चे की छाती और गुदा पर लगाएं, जल्द आराम मिलेगा.
37) थोड़ा-सा सोंठ का चूूर्ण गुड़ व घी के साथ मिलाकर चटाने से बच्चे की खांसी-ज़ुकाम ठीक होता है.
38) आधा चम्मच तुलसी के रस में आधा चम्मच शहद मिलाकर दिन में तीन बार बच्चे को पिलाएं. सर्दी-खांसी में आराम मिलेगा.
39) बादाम की 5 गिरी, 5 मुनक्का और 5 काली मिर्च- इन्हें मिश्री के साथ पीसकर गोली बना लें. 4-4 घंटे पर एक गोली बच्चे को चूसने को दें. इससे खांसी दूर हो जाएगी.
40) बड़ी इलायची का पाउडर 2-2 ग्राम दिन में तीन बार पानी के साथ पिलाने से बच्चे को खांसी से आराम मिलता है.

यह भी पढ़ें: बच्चों के न खाने के बहाने: सेलिब्रिटी मॉम के ईज़ी सॉल्यूशन (4 Celebrity Mom Share Diet Tips To Kids)

यदि नवजात शिशु को ठंड लग जाए


सर्दियों में नवजात शिशु को ठंड लग जाए तो वह बहुत बेचैन हो जाता है. नवजात शिशु को ठंड लग जाने पर ये घरेलू उपाय करें और शिशु को ठंड से बचाएं.
41) यदि नवजात शिशु को ठंड लग जाए, तो रात में सोते समय तुलसी का रस उसकी नाक, कान और माथे पर मलें. ऐसा करने से शिशु को जल्दी ही आराम मिलेगा.
42) ठंड लग जाने पर नवजात शिशु को शहद चटाएं. इससे उसे राहत मिलेगी.
43) ठंड लग जाने पर या ठंड के मौसम में शिशु के सोने वाली जगह के आस-पास कपड़े की पोटली में प्याज़ को कुचल कर बांध कर रख दें. ऐसा करने से शिशु को आराम मिलेगा.
44) ठंड के मौसम में कभी-कभी कुनकुने पानी में नीम की पत्तियां उबालकर शिशु को उससे स्पंज करें.
45) नहलाने से पहले शहद में नींबू का रस निचोड़कर बच्चे की छाती पर मलें. यह बच्चे को सर्दी से बचाने के लिए कवच की तरह काम करेगा.
46) नवजात शिशु के शरीर पर हल्के हाथों से राई के तेल की मालिश करके कम से कम कपड़े पहनाकर सुबह के समय गुलाबी धूप में थोड़ी देर सुलाएं. इससे बच्चे को कभी भी सर्दी नहीं होगी और न कभी न्यूमोनिया होगा.

यह भी पढ़ें: अल्ज़ाइमर: क्या युवाओं को भी हो सकती है भूलने की बीमारी? (Can Alzheimer’s Begin In Our young age? These Are the Signs of Early Onset Alzheimer’s Disease)

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चे को खसरा हो जाए


बच्चे को खसरा हो जाने पर उसे बहुत तकलीफ होती है और बच्चे को परेशान देखकर माता-पिता भी बेचैन हो जाते हैं. बच्चे को खसरा होने पर ये घरेलू उपाय करें.
47) खसरों के दानों में खुजली और जलन होने पर चंदन को पत्थर पर घिसकर लेप लगाएं.
48) 100 ग्राम नारियल के तेल में 20 ग्राम कपूर मिलाकर शरीर पर तीन-चार बार लगाएं. इससे खसरे में राहत मिलती है.
49) खसरा निकलने के कारण अगर शरीर में खुजली या जलन हो तो सूखे आंवले को पानी में उबालकर, उसे ठंडा कर लें और फिर उसमें कपड़ा भिगोकर शरीर में फेरें. बच्चे को आराम मिलेगा.
50) आंवले को पीसकर उसका लेप लगाने से भी लाभ होता है.
51) एक लीटर पानी उबालें. 250 मि.ली. पानी शेष रहने पर उतार कर और ठंडा कर बच्चे को थोड़ा-थोड़ा पिलाएं. इससे खसरे मेें बार-बार लगने वाली प्यास शांत होगी.
52) ब्राह्मी के रस में शहद मिलाकर पिलाने से भी लाभ होता है.

बच्चे के दांत निकलने पर


बच्चों को दांत निकलते समय तकलीफ होती है, जिसके चलते बच्चे जो चीज़ सामने आए उसे मुंह में डालते हैं. बच्चों के दांत आसानी से निकलें इसके लिए ये घरेलू उपाय करें.
53) कच्चे आंवले या कच्ची हल्दी का रस मसूड़ों पर मलने से दांत आसानी से निकलते हैं.
54) अनार के रस में तुलसी का रस मिलाकर बच्चे को चटाने से दांत आसानी से निकल आते हैं.
55) शहद में सुहागा पीसकर मसूड़ों पर मलने से दांत आराम से निकलतेें हैं.
56) भुना हुआ सुहागा और मुलहठी 2-2 ग्राम बारीक पीसकर बच्चों के मसू़ड़ोेंं पर एक हफ्ते तक मलने से दांत आसानी से निकल आते हैं.

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चे को मतली हो तो


58) मतली की समस्या होने पर 1-1 टीस्पून अदरक का रस, नींबू का रस और शहद को मिलाकर बच्चे को चटाएं.
59) आधा-आधा टीस्पून अदरक व प्याज़ का रस मिलाकर बच्चे को पिलाएं.
60) चुटकीभर अजवायन और लौंग का चूर्ण शहद के साथ मिलाकर बच्चे को चटाएं.
61) छोटी इलायची को भूनकर उसका चूर्ण बनाएं. चुटकीभर चूर्ण आधा चम्मच नींबू के रस में मिलाकर बच्चे को खिलाएं.
62) इलायची के छिलकों को जलाकर उसकी भस्म चटाने से भी मतली में लाभ होता है.

यदि बच्चा नींद में डरता हो तो


63) सर्दी के मौसम में 1 से 2 ग्राम सौंफ पानी में उबालकर छान लें. इसे रात को सोने से पहले बच्चे को पिला दें. इससे नींद में डरने की शिकायत दूर होगी.
64) गर्मी के मौसम में छोटी इलायची का एक ग्राम अर्क सौंफ के उबले हुए पानी के साथ पिलाएं. नींद में डरने की आदत छूट जाएगी.
65) बच्चे को रात में सोने से दो घंटा पहले खाना खिला दें, ताकि उसका खाना भलीभांति पच जाए.

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चा तुतलाता हो तो


66) बड़े बच्चे को रोज़ाना सुबह आंवला चबाने को दें और रात को सोते समय एक टीस्पून आंवला पाउडर कुनकुने पानी के साथ दें.
67) यदि 2-3 साल का होने के बाद भी बच्चा तुतलाए, तो ब्राह्मी के हरे पत्ते (अगर वह खा सके तो) खिलाएं. इससे जीभ का मोटापन व कड़ापन दूर होगा और वह साफ़ बोलने लगेगा.

यदि बच्चे को कब्ज़ हो


68) नीम के तेल का फाहा बच्चे के गुदामार्ग में लगाने से कब्ज़ की शिकायत दूर होती है.
69) रात को भिगोए हुए छुहारे का पानी बच्चे को आवश्यकतानुसार 3-4 बार पिलाएं. इससे कब्ज़ की शिकायत दूर होगी.
70) बड़ी हरड़ को पानी के साथ घिसकर उसमें मूंग के दाने के बराबर काला नमक मिलाएं. इसे कुछ गुनगुना करके आवश्यकतानुसार दिन में 2-3 बार दें. अवश्य लाभ होगा.

यह भी पढ़ें: मां से मॉम तक: ये हैं बॉलीवुड की मॉडर्न मॉम (Bollywood Actress And Most Stylish Mom In Real Life)

Home Remedies For Kids Ailments

यदि बच्चे की हिचकी हो तो


71) अदरक की 2-3 बूंद रस में चुटकी भर पीसी हुई सोंठ, काली मिर्च और दो बूंद नींबू का रस मिलाकर बच्चे को चटाएं, तुरंत आराम मिलेगा.
72) नारियल के ऊपर का भाग (जटा) जलाकर उसकी थोड़ी-सी राख 1-3 ग्राम पानी में घोलकर उसे छानकर बच्चे को पिलाने से हिचकी बंद हो जाती है.

पालक में ऐसे अनेक औषधिय गुण हैं, जो अधिकतर विभिन्न फलों में पाए जाते हैं. यह महिलाओं के लिए विशेष फ़ायदेमंद है, क्योंकि इसमें खून की कमी (एनीमिया) को दूर करने और ख़ूबसूरती निखारने के विशेष गुण है. पालक में प्रचुर मात्रा में आयरन, विटामिन्स व मिनरल्स हैं. इसमें मौजूद बीटा-कैरोटीन, ल्यूटिन व जैक्सैंटिन जैसे कैरोटीनाइड्स गुण आंखों की रोशनी बढ़ाने में मदद करते हैं. इम्यूनिटी सिस्टम को मज़बूत बनाने में भी उपयोगी है पालक, क्योंकि इसमें विटामिन ए, विटामिन बी 2, सी, ई, के, कैल्शियम, सेलेनियम, प्रोटीन, फास्फोरस, मैग्नीशियम व फाइबर होता है. गर्भवती महिलाओं को पालक ज़रूर खाना चाहिए, इससे उनका वज़न नियंत्रित रहता है. तनाव को कम करने और ब्लड प्रेशर को सही बनाए रखने के लिए पालक खाना लाभप्रद होता है.

घरेलू नुस्ख़े

  • थायरॉइड की परेशानी हो, तो पालक के रस में एक चम्मच शहद और आधा टीस्पून जीरा पाउडर मिलाकर रोज़ रात को सोने से पहले सेवन करने से लाभ होता है.
  • आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए जैतून के तेल के साथ तैयार पालक के सलाद को खाएं.
  • दाद-खुजली की तकलीफ़ में पालक के बीजों को पीसकर लगाने से आराम मिलता है.

यह भी पढ़ें: औषधीय गुणों से भरपूर लौकी के 31 बेहतरीन फ़ायदे…(31 Health Benefits Of Lauki Or Bottle Gourd)

  • कब्ज़ से परेशान हैं, तो नियमित रूप से पालक का सूप सुबह-शाम पिएं.
  • आंखों के नीचे होनेवाले काले घेरे की समस्या में रुई से पालक के रस को प्रभावित जगह पर लगाएं.
  • यदि पेट में कीड़े की समस्या हो, तो पालक के पत्तों को अजवाइन के साथ पीसकर पानी में घोलकर सोने से पहले तीन दिन तक पीने से पेट के कीड़े मर जाते हैं या निकल जाते हैं.
  • नियमित रूप से गर्म-गर्म पालक का सूप पीने से शरीर की कमज़ोरी और खून की कमी दूर होती है.
  • आंतों की बीमारियों में हर रोज़ पालक की सब्ज़ी खाना फ़ायदेमंद है.
  • पालक में मौजूद एमिनो एसिड स्किन एजिंग की समस्या में राहत दिलाता है. इसके लिए दो कप कटे हुए पालक का पेस्ट बनाकर त्वचा पर लगाएं. पांच मिनट बाद धो लें. इसे हफ़्ते में दो बार करें.
  • पालक का क्षार शरीर की सूजन कम करता है.
  • नाक से खून गिरने यानी नकसीर की तकलीफ़ में पालक को अनार के दाने के साथ मिलाकर कच्चा खाने या फिर सब्ज़ी बनाकर खाने से आराम मिलता है और खून गिरना बंद हो जाता है.

यह भी पढ़ें: सोंठ- नेचुरल पेनकिलर (Dry Ginger- Natural Painkiller)

  • दाद व खुजली पर पालक के बीजों को छाछ के साथ पीस कर लगाएं.
  • त्वचा खिली-खिली रहे, इसके लिए आधा कप कटे हुए पालक में 1-1 टीस्पून नींबू रस, शहद और जैतून का तेल मिक्स करके पेस्ट बना लें. स्किन को पानी से धोकर अच्छी तरह पोंछकर इस पेस्ट को लगाएं. 15-20 मिनट बाद धो लें. ऐसा हफ़्ते में दो बार करें.
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए एक ग्लास
    पालक जूस पिएं. सुबह पीना अधिक फ़ायदेमंद है.
    इन सब के अलावा पालक को सब्ज़ी, सूप, सलाद, जूस, परांठे, पालक पनीर, दाल पालक आदि रूप में नियमित रूप से उचित मात्रा में खाएं.
Spinach

कैंसर से बचाता है…
कैंसर के लिए भी पालक फ़ायदेमंद साबित हो सकता है. दरअसल, पालक में बीटा कैरोटीन और विटामिन सी होता है. ये दोनों पोषक तत्व विकसित हो रही कैंसर कोशिकाओं से सुरक्षा प्रदान करते हैं. इसके अलावा यह एंटीऑक्सीडेंट की तरह फ्री रेडिकल्स और कार्सिनोजन पदार्थ, जिससे कैंसर हो सकता है को भी रोकते हैं. पालक खाने से ब्रेस्ट कैंसर होने की संभावनाओं को 44% कम किया जा सकता है.

हेल्थ अलर्ट
एक्सपर्ट के अनुसार, ज़रूरत से ज़्यादा पालक का इस्तेमाल करने से भी बचना चाहिए, वरना इससे पेट फूलना, कब्ज़, डायरिया, किडनी की पथरी जैसी समस्या हो सकती है.

Spinach

यह भी पढ़ें: दही खाएं और सेहतमंद जीवन पाएं (Eat Curd And Have A Healthy Life)

सुपर टीप
फोड़े-फुंसी की समस्या में पालक के पत्तों को पीस कर बांधे या फिर पालक का काढ़ा बनाकर उससे धोएं.

– ऊषा गुप्ता

×