Tag Archives: Home remedies

औषधीय गुणों से भरपूर राई (10 Incredible Mustard Benefits)

राई बहुत ही गुणकारी एवं पाचक है. दादी मां के खज़ाने में दवा के रूप में इसके घरेलू नुस्ख़े उपलब्ध हैं. लाल व सफेद राई कफ व पित्त को हरने वाली, तीक्ष्ण, गर्म और अग्नि को प्रदीप्त करने वाली होती है. यह खुजली, कोढ़ और पेट के कीड़ों को नष्ट करने वाली होती है. काली वाई में भी यही गुण हैं. परंतु यह अत्यंत तीक्ष्ण होती है. इसके प्रसिद्ध घरेलू नुस्ख़े निम्न हैं.

Mustard Benefits

* राई को बारीक पीसकर पेट पर लेप करने से उल्टी तुरंत बंद हो जाती है.

* राई पीसकर सूंघने से जुकाम शीघ्र दूर हो जाता है. जुकाम की वजह से पैर ठंडे हो जाने पर राई का लेप हितकारी है.

* राई के एक-दो माशे चूर्ण में थोड़ी-सी शक्कर मिलाकर खाने और ऊपर से एक कप पानी पीने से पेटदर्द दूर होता है.

* राई चार रत्ती, सेंधा नमक दो रत्ती और शक्कर दो माशा मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से खांसी में कफ़ गाढ़ा हो गया हो तो पतला होकर सरलता से निकल जाता है.

यह भी पढ़े: अमरूद खाने के 7 चमत्कारी फ़ायदे (7 Health Benefits Of Guava)

* यदि किसी ने जाने-अनजाने विष खा लिया हो, तो आधा तोला पिसी हुईराई और आधा तोला नमक गर्म पानी में मिलाकर पीने से उल्टी होती है, जिससे विष बाहर निकल जाता है.

* राई के तेल में नमक मिलाकर दांत साफ करें. इससे दांत एवं मसूड़े स्वस्थ एवं मजबूत होते हैं.

* वात-व्याधि से जकड़ गए अंगों पर राई की पुल्टिस बांधने अथवा राई का प्लास्टर करने से लाभ होता है.

* गुड़, गुग्गुल और राई को पीसकर पानी में उबालकर लेप करने से कंखवारी मिटती है. कहावत भी है गुड़, गुग्गुल और पिसी राई, क्या करती उसे कंखवारी.

* राई के आटे को आठ गुने गाय के पुराने घी में मिलाकर उसका लेप करने से थोड़े दिनों में सफेद कोढ़ मिट जाता है. इस लेप से खाज-खुजली और दाद में भी फ़ायदा होता है.

* मिर्गी-मूर्च्छा में राई के आटे का नस्य दिया जाता है.

– ओमप्रकाश गुप्ता

दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें-  Dadi Ma Ka Khazana

 

 

होममेड लिप ग्लॉस और लिप प्रोटेक्टिव क्रीम अब मिनटों में घर पर बनाएं (Homemade Lip Gloss And Lip Protective Cream)

होममेड लिप ग्लॉस और लिप प्रोटेक्टिव क्रीम मिनटों में घर पर बनाने का तरीक़ा बहुत आसान है. होममेड लिप ग्लॉस और लिप प्रोटेक्टिव क्रीम मिनटों में घर पर कैसे बनाएं? आइए, हम आपको बताते हैं.

Homemade Lip Gloss

हमारे होंठ बहुत नाज़ुक होते हैं इसलिए उन्हें ख़ास देखभाल की ज़रूरत होती है. नर्म-मुलायम होंठों के लिए घर पर बनाएं लिप ग्लॉस और लिप प्रोटेक्टिव क्रीम.

होममेड लिप ग्लॉस
सामग्रीः 1/2 टीस्पून मोम, 2 टेबलस्पून कोको बटर.
विधिः छोटे बाउल में मोम व कोको बटर डालें. इस बाउल को पानी भरे ऐसे बर्तन में डालें जो इससे बड़ा हो. पानी वाले बर्तन को गरम करें. उबलते हुए पानी में जब बाउल में रखा मोम व कोको बटर पिघलकर अच्छी तरह मिल जाए तो आंच से हटाएं. ठंडा करके इस्तेमाल करें.

यह भी पढ़ें: खुले रोमछिद्र बंद करने के 5 आसान घरेलू उपाय

 

होममेड लिप प्रोटेक्टिव क्रीम
सामग्रीः 2 टीस्पून मोम (बीज़वैक्स), 4 टीस्पून बादाम का तेल, 2 टीस्पून गुलाब जल.
विधिः छोटे बाउल में मोम को पिघलाएं. बादाम तेल मिलाकर फेंटें. आंच से उतारकर गुलाब जल डालें और मिश्रण को तब तक चलाते रहें जब तक कि वह गाढ़ा न होने लगे. हल्का गरम हो तभी इसे बोतल में डालें और उपयोग करें.

गोरी-सुंदर त्वचा के लिए घर पर बनाएं फेस स्क्रब, देखें वीडियो:

 

ऑयली बालों की देखभाल के 5 आसान तरीक़े (5 Easy Tips For Oily Hair)

ऑयली बालों की देखभाल के 5 आसान तरीक़े अपनाकर आप अपने बालों की ख़ूबसूरती मिनटों में बढ़ा सकती हैं. आइए, हम आपको बताते हैं ऑयली बालों की देखभाल के 5 आसान तरीक़े, इन्हें आज़माइए और पाइए ख़ूबसूरत सिल्की-शाइनी बाल.

Tips For Oily Hair


ऑयली बालों की देखभाल के 5 आसान तरीक़े

1) ऑयली बालों को धोने के लिए माइल्ड या बेबी शैम्पू का इस्तेमाल करें.
2) बालों को रोज़ाना धोने से बचें. साथ ही शैम्पू बालों में लगाएं, स्कैल्प पर लगाकर रगड़ने की ग़लती न करें.
3) बालों को हमेशा ठंडे या गुनगुने पानी से धोएं. गरम पानी के इस्तेमाल से स्कैल्प से और ज़्यादा ऑयल निकलता है, जिससे बाल चिपचिपे हो जाते हैं.
4) कंडीशनर का इस्तेमाल करने से बचें, अगर लगाना ज़रूरी है, तो बहुत थोड़ा लगाएं.
5) बालों को ब्लो ड्राई न करें, अगर ज़रूरी हो, तो कम टेम्प्रेचर पर 5-6 इंच की दूरी से ड्रायर का इस्तेमाल करें.

यह भी पढ़ें: 10 जूड़ा हेयर स्टाइल बनाने का आसान तरीक़ा

 

ये घरेलू नुस्ख़े हैं बहुत काम के
* एक भाग शहद में दो भाग नींबू का रस मिलाकर बालों की जड़ों में रोज़ मलें और मलने के आधे घंटे बाद धो डालें. इस प्रयोग को नियमित करने से बाल संबंधी आपकी सारी शिकायतें दूर हो जाएंगी और बाल लंबे, घने और काले बन जाएंगे.
* नींबू के रस में आंवले का चूर्ण मिलाकर बालों की जड़ों में लगाने से बाल बहुत जल्दी बढ़ते हैं.
* आम की गुठली के साथ आंवले पीसकर रात को सोते समय सिर पर लेप करें और सुबह उसे धो डालें. इससे बाल लंबे, काले और मुलायम होते हैं.

यह भी पढ़ें: बालों में तेल लगाते समय कभी न करें 10 ग़लतियां 
जानें बालों की देखभाल के 10 आसान घरेलू उपाय, देखें वीडियो:

 

 

खुले रोमछिद्र बंद करने के 5 आसान घरेलू उपाय (How To Get Rid Of Large Open Pores Naturally)

खुले रोमछिद्र बंद करने के 5 आसान घरेलू उपाय आपको खुले रोमछिद्रों से हमेशा के लिए छुटकारा दे सकते हैं. इसके लिए आप खुले रोमछिद्र बंद करने के 5 आसान घरेलू उपाय ज़रूर ट्राई करें और पाएं ख़ूबसूरत त्वचा.

Get Rid Of Large Open Pores Naturally

खुले रोमछिद्र बंद करने के 5 आसान घरेलू उपाय: 

1) शहद
शहद में नींबू का रस व शक्कर मिलाकर पेस्ट तैयार करें और इससे चेहरे का मसाज करें. 30 मिनट बाद गुनगुने पानी से चेहरा धोएं.

2) गुलाबजल 
अगर आपकी स्किन ऑयली है, तो पोर्स बंद करने के लिए और चेहरे से एक्स्ट्रा ऑयल साफ़ करने के लिए कत्थे (पान में लगाने वाला) में रोज़ वॉटर मिलाकर लगाएं.

3) दही
2 टेबलस्पून दही को अच्छी तरह फेंट लें, फिर इसे चेहरे पर लगाएं और 30 मिनट के बाद गुनगुने पानी से धो लें. पोर्स बंद हो जाएंगे.

4) बेकिंग सोड़ा मास्क 
बेकिंग सोड़ा को पानी में मिलाकर पेस्ट बनाएं और फेशियल की तरह गोलाई में चेहरे पर लगाते हुए हल्के हाथों से मसाज करें. 30 सेकंड बाद चेहरा धो लें.

5) पीच मास्क
पीच और पायनेप्पल के जूस को बराबर मात्रा में मिलाकर चेहरे पर लगाएं. 10-20 मिनट बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें.

यह भी पढ़ें: झुर्रियां हटाने के 10 आसान घरेलू उपाय

 

10 होममेड फेस पैक से पाएं इंस्टेंट ग्लो, देखें वीडियो:

झुर्रियां हटाने के 10 आसान घरेलू उपाय (10 Best Home Remedies For Wrinkles)

चेहरे की झुर्रियां हटाने के 10 आसान घरेलू उपाय बहुत असरदार हैं. ये 10 घरेलू उपाय करेंगी तो सालों तक झुर्रियां नहीं दिखेंगी. चेहरे की झुर्रियां हटाने के 10 आसान घरेलू उपाय अपनाकर आप भी सालों तक झुर्रियों से बची रह सकती हैं.

Home Remedies For Wrinkles

1) नींबू का रस
माथे, मुंह और आंखों के आसपास उभर आई झुर्रियों पर नींबू का रस लगाएं. 15 मिनट बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें. इससे झुर्रियां कम होती हैं.

2) केला
केले को अच्छी तरह मसलकर उसमें थोड़ा-सा शहद मिलाएं. इसे पूरे चेहरे पर लगाएं. इससे झुर्रियां, महीन रेखाएं आदि कम होती हैं.

3) नारियल तेल
नारियल तेल में थोड़ा-सा संतरे का रस मिलाकर चेहरे पर लगाने से भी चेहरे की महीन रेखाएं हल्की हो जाती हैं.

4) अंगूर
अंगूर को काटकर उसका रस झुर्रियों वाली जगह पर लगाएं. 20 मिनट बाद कुनकुने पानी में कॉटन बॉल भिगोकर चेहरा पोंछ लें. नियमित ऐसा करने से झुर्रियां हल्की हो जाती हैं.

5) सेब
कच्चे सेब को पीसकर चेहरे पर लगाएं. 10-15 मिनट बाद कुनकुने पानी से धो दें. सेब त्वचा को साफ़ करता है और महीन रेखाओं को भी हल्का कर देता है.

यह भी पढ़ें: टीनएजर्स के लिए 10 आसान घरेलू स्किन केयर टिप्स

 

6) पपीता
विटामिन ए से भरपूर पपीते को पीसकर चेहरे पर लगाने से त्वचा में कसाव आता है और झुर्रियां कम हो जाती हैं.

7) खीरा
खीरे को कद्दूकस करके उसमें थोड़ा-सा दही मिलाएं. तैयार लेप फाइन लाइन्स पर अप्लाई करें. सूख जाने पर कुनकुने पानी से धो लें.

8) अंडे की जर्दी
एक टीस्पून अंडे की जर्दी में बराबर मात्रा में टमाटर व नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर लगाएं. झुर्रियां कम हो जाएंगी.

9) दही
एक टीस्पून दही में एक चम्मच उड़द दाल का पाउडर डालकर तैयार पेस्ट को चेहरे पर लगाएं. सूखने पर पानी के छींटे मारें और गीले कॉटन से पोंछ लें.

10)
1 टीस्पून बेसन, 2 चुटकी हल्दी, 5-6 बूंद जैतून का तेल मिलाकर चेहरे पर लगाएं. 20 मिनट बाद ठंडे पानी से चेहरा धो दें.

यह भी पढ़ें: मुहांसों से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय

 

बच्चों के दस्त (Diarrhoea) रोकने के 13 प्रभावकारी घरेलू नुस्ख़े (13 Home Remedies To Cure Diarrhoea In Babies)

Diarrhoea In Babies

 

दूध व भोजन की अधिकता, संक्रमण आदि कारणों से बच्चों को दस्त होने लगता है. दूध पीते बच्चों को बार-बार दस्त होने से उनके रक्त व शरीर से पानी व अन्य आवश्यक खनिज निकल जाते हैं. दस्तों की कमी या अधिकता के अनुसार अनेक लक्षण पैदा हो जाते हैं. इससे ज्वर, चिड़चिड़ापन, भूख न लगना, उल्टी, चेहरा व शरीर पीला पड़ जाना, बेहोशी, आंखें अंदर धंस जाना आदि विकार उत्पन्न हो जाते हैं.

जिन बच्चों को गाय व डिब्बों का दूध पिलाया जाता है, उन्हें कीटाणुओं के संक्रमण से यह रोग अधिक होता है. इस रोग में पहले पतले हरे रंग के बदबूदार दस्त होते हैं. कभी दस्तों में आंव और रक्त भी आ जाता है.

* मीठे सेब का रस कपड़े से छानकर बार-बार पिलाने से दस्त रुक जाते हैं और रक्त व शरीर में तरल तत्वों की कमी भी दूर हो जाती है.

* जौ का पानी और अंडे की स़फेदी पानी में घोलकर बार-बार थोड़ा-थोड़ा पिलाते रहने से लाभ होता है.

* फलों का रस, सब्जियों के पके रस और पानी बार-बार पिलाते रहने से शरीर में तरल तत्व पहुंच जाता है.

* छोटे बच्चे को लगातार पतली दस्त हो रही हो, तो 6 मि.ग्रा. सौंफ को 6 मि.ली. पानी में उबालें. जब आधा पानी रह जाए, तो 1 चम्मच       की मात्रा में दिन में तीन बार पिलाएं. शीघ्र लाभ होगा.

यह भी पढ़े: आम के 8 औषधीय गुण

* शिशुओं को दस्त होने पर जायफल, लौंग, सफेद जीरा व सुहागा खील- इन चारों को समान मात्रा में लेकर कपड़छान चूर्ण बना लें. 50 से     100 मि.ग्रा. तक की मात्रा आवश्यकतानुसार शहद के साथ दिन में 1-1 बार चटाएं.

* 60 मि.ग्रा. से 125 की मात्रा में कपूर रस शहद के साथ सुबह-शाम देने से   विशेष लाभ होता है.

* दस्त होते हों, तो भी शिशु का दूध बंद नहीं करना चाहिए, बल्कि साथ-साथ नारियल का पानी, अनार का रस, सेब का रस एवं नींबू पानी     दें.

* बगैर दूध की चाय या कॉफी बनाकर उसमें नींबू का रस डालकर पिलाने से लाभ होता है.

* जायफल घिसकर शहद के साथ बच्चे को सुबह-शाम चटाएं.

यह भी पढ़े: हिस्टीरिया का घरेलू इलाज

* तेजपत्ते का चूर्ण एक भाग, बेलफल की गिरी 2 भाग गुड़ के साथ दें.

* सौंफ और सोंठ का काढ़ा बनाकर शिशु को 1-2 चम्मच की मात्रा में पिलाएं. इससे दस्त बंद होगा.

* सोंठ का चूर्ण 125 मि.ग्रा. की मात्रा में गुड़ में मिलाकर देने से बच्चे को दस्त से राहत मिलती है.

* यदि शिशु बार-बार हरे रंग की दस्त करता है, तो घबराइए नहीं. आप उंगली पर एरंड का तेल लगाकर चटाएं. दो-तीन दिन में ही आराम     हो जाएगा.

–  रेखा कुंदर

दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें-  Dadi Ma Ka Khazana

 

 

 

 

वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) से राहत पाने के 5 घरेलू उपाय (5 Home Remedies To Cure Vaginal Infection)

वजाइनल इंफेक्शन (योनि में संक्रमण) से राहत पाने के घरेलू उपाय आपको जल्दी ही वजाइनल इंफेक्शन से राहत दिलाएंगे. वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) महिलाओं को होने वाली एक आम समस्या है, इसके बारे में महिलाएं जल्दी खुलकर बात भी नहीं करतीं. ऐसे में वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) से राहत पाने के घरेलू उपाय आपके बहुत काम आएंगे.

Cure Vaginal Infection

 

वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) से राहत पाने के आसान और उपयोगी घरेलू उपाय:
* धनिया का 5-10 ग्राम चूर्ण रात को भिगोकर रख दें. सुबह इसे छानकर पीएं.
* खट्टी-मीठी चीज़ें, तेल-मिर्च, ज़्यादा मसालेदार चीज़ों से परहेज़ करें.
* गुप्तांगों को नियमित साफ़ करें.
* ख़ून की कमी को पूरा करने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें.
* बंदगोभी, पालक, टमाटर, सिंघाड़ा, गूलर आदि फलों का नियमित सेवन करें.

यह भी पढ़ें: स्तनों (Breast) को बड़ा और सुडौल बनाने 5 अचूक घरेलू उपाय

 

वजाइनल इंफेक्शन (योनि संक्रमण) से राहत पाने के 5 आसान घरेलू उपाय जानने के लिए देखें वीडियो:

 

मुहांसों से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय (5 Home Remedies To Get Rid Of Pimples Naturally)

Home Remedies, Pimples

मुहांसों से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय अपनाकर आप भी अपनी त्वचा की ख़ूबसूरती लौटा सकती हैं. मुहांसे ख़ूबसूरत चेहरे की रंगत बिगाड़ देते हैं. मुहांसों से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय आज आज ही अपनाएं और पाएं बेदाग़-निखरी त्वचा.

Rid Of Pimples

१) एलोवीरा जेल को पिंपल पर लगाएं और 20 मिनट बाद पानी से धो लें.
२) रात में सोने से पहले पिंपल पर टूथपेस्ट लगाएं और सुबह उठकर ठंडे पानी से चेहरा धोएं.
३) पपीते को पीसकर पेस्ट बना लें. अब इसे चेहरे पर लगाएं और थोड़ी देर बाद धो लें.
४) कॉटन के पतले कपड़े को शहद में डुबोकर पिंपल वाली जगह पर रखें. 30 मिनट बाद गुनगुने पानी से चेहरा धोएं.
५) कॉटन बॉल पर टी ट्री ऑयल लगाकर पिंपल वाली जगह पर लगाएं. 20-30 मिनट बाद पानी से चेहरा धो लें.

यह भी पढ़ें: 7 दिनों में पाएं गोरी-बेदाग़ रंगत
10 होममेड फेस पैक से पाएं ख़ूबसूरत त्वचा: देखें वीडियो

 

स्तनों (Breast) को बड़ा और सुडौल बनाने 5 अचूक घरेलू उपाय (Breast Enhancement: 5 Home Remedies To Increase Breast Size)

Breast Enhancement

स्तनों (Breast) को बड़ा और सुडौल बनाने 5 अचूक घरेलू उपाय अपनाकर आप भी अपने स्तनों का आकार बढ़ा(Breast Enhancement) सकती हैं. स्तनों (Breast) के आकार को लेकर महिलाएं बहुत चिंतित रहती हैं. बड़े और सुडौल स्तन महिलाओं की ख़ूबसूरती को बढ़ाते हैं इसलिए महिलाएं अपने स्तनों के आकार को लेकर बहुत कॉन्शियस रहती हैं. महिलाओं के स्तनों (Breast) को बड़ा और सुडौल बनाने में ये 5 अचूक घरेलू उपाय बहुत लाभदायक हैं.

Breast Enhancement

स्तनों (Breast) को बड़ा और सुडौल बनाने 5 अचूक नुस्ख़े:
१) स्तनों के चारों ओर गोलाई में जैतून के तेल से दिन में दो बार, नहाने के पहले व रात में सोने से पहले दस मिनट तक मालिश कीजिए. इससे स्तन विकसित होने लगते हैं.
२) गर्म-शीत सेंक करने से भी उरोज़ पुष्ट होते हैं. पहले 5 मिनट तक गर्म पानी में भीगा कपड़ा, फिर 5 मिनट तक ठंडे पानी में भीगा कपड़ा उरोजों पर रखें.
३) रोज़ाना 3-4 कली लहसुन खाने से स्तनों का ढीलापन दूर होता है और वे दृढ़ बनते हैं.
४) बरगद के पेड़ की लटकती डाली की नरम टहनी तोड़कर उसे छाया में सुखा लें. इसे पानी के साथ पीसकर स्तनों पर लेप करने से लटकते हुए स्तन पुष्ट और कड़े हो जाते हैं.
५) अनार का छिलका पीसकर स्तनों पर लगातार सात दिन तक सोने से पूर्व लगाने से स्तनों का ढीलापन दूर होता है.

यह भी पढ़ें: बांझपन से छुटकारा पाने के 5 चमत्कारी घरेलू उपाय

 

महिलाओं के सौंदर्य का मुख्य आधार है पुष्ट और उन्नत स्तन (Breast). स्त्री का सौंदर्य, आकर्षण और मोहकता उसके सुडौल, स्वस्थ व उभरे हुए स्तनों में ही है. परंतु किन्हीं कारणों से कई युवतियों के स्तनों का आकार बहुत छोटा होता है. उनके स्तनों का वैसा विकास नहीं हो पाता जैसा कि सामान्य स्वस्थ स्त्री का होना चाहिए. यह एक बीमारी है, जिसे स्तन क्षय कहा जाता है. जिन लड़कियों को यह रोग होता है, वे एक तरह की हीनभावना से ग्रस्त हो जाती हैं.

स्तनों (Breast) को बड़ा और सुडौल बनाने 5 अचूक घरेलू उपाय जानने के लिए देखें ये वीडियो:

 

हिस्टीरिया का घरेलू इलाज (Home Remedies for Hysteria)

Home Remedies for Hysteria

हिस्टीरिया स्नायु संस्थान या नर्वस सिस्टम की विकृति से होनेवाले रोगों में एक प्रमुख रोग है. यह बीमारी 15 से 25 वर्ष की लड़कियों को अधिक होता है. इस रोग से पीड़ित महिलाओं का मस्तिष्क, स्मरणशक्ति और स्नायुमंडल कमज़ोर हो जाता है. अत्यधिक चिंता, भय, शोक, पारिवारिक कष्ट, मानसिक आघात, धन हानि, गर्भाशय विकार आदि कारणों से ये बीमारी हो सकती है. इसके अलावा लाड़-प्यार में पली युवतियों की इच्छा की पूर्ति न होना, विवाह में देरी, पति की पौरुषहीनता, तलाक़, किसी क़रीबी के मृत्यु का गंभीर सदमा जैसे कारणों से महिलाएं हिस्टीरिया की शिकार हो जाती हैं.

लक्षण
इससे पीड़ित महिला बिना कारण या बहुत मामूली कारणों से हंसने या रोने लगती है. आवाज़ या प्रकाश उसे अप्रिय लगता है. चक्कर आना, सांस फूलना, चिंता, थकान, सिरदर्द, कमज़ोरी, अपच, शरीर के विभिन्न अंगों में पीड़ा, पीरियड्स में गड़बड़ी, सेक्स व्यवहार में विषमताएं आदि अनेक लक्षण हिस्टीरिया में प्रकट हो सकते हैं.

* सबसे पहले पीड़ित को होश में लाएं. होश में आने पर उसे सांत्वना दें. शरबत, फलों का रस, मीठा दूध पीने को दें.
* केले के तने का ताजा रस हिस्टीरिया के रोगिणी को ठीक करने का अचूक नुस्ख़ा है. प्रतिदिन दिन में तीन बार एक-एक ग्लास केले के तने के ताज़े रस के सेवन से लाभ होता है. 3-4 माह इस नुस्ख़े का सेवन करने से अच्छा प्रभाव देखा जा सकता है.

यह भी पढ़े: औषधीय गुणों से भरपूर केला
* हिस्टीरिया रोग में धनिया अत्यंत लाभदायक है. 25 ग्राम धनिया और 10 ग्राम सर्पगंधा मिलाकर बारीक़ चूर्ण बनाएं. 1 से 2 ग्राम की मात्रा में रात में सोते समय पानी के साथ सेवन करें. इस नुस्ख़े को निरंतर कुछ दिनों तक सेवन करने से अवश्य लाभ होता है.
* तीन दिन तक तीनों समय (सुबह-दोपहर-शाम) गुनगुने पानी के साथ त्रिफला लें. इसके बाद 100-100 ग्राम पांचों नमक लेकर उसे पीसकर एक साथ मिलाकर किसी साफ़ बर्तन में रख लें. ग्वारपाठा धोकर उसका एक लंबा टुकड़ा लेकर छील लें. फिर उसके छोटे-छोटे टुकड़े करके उस पर मिश्रित नमक डालकर एक महीने तक सेवन करें. इससे हिस्टीरिया रोग से अवश्य राहत मिलेगी.
* चुकंदर के एक कप ताज़ा जूस में एक चम्मच आंवले का जूस मिलाकर प्रतिदिन सुबह पीना चाहिए. एक महीने तक इसे नियमित पीने से अवश्य ही हिस्टीरिया का शमन होता है.

यह भी पढ़े: नारियल के 11 चमत्कारी फ़ायदे
* जो रोगी बालवच के चूर्ण को शहद में मिलाकर हर रोज़ 40 दिन तक खाता है और भोजन में केवल दूध-चावल का सेवन करता है, उसका भयानक और पुराना हिस्टीरिया रोग भी शांत हो जाता है.
* हिस्टीरिया का दौरा पड़ने पर हींग सुंघाने से राहत मिलती है. आधा ग्राम से एक ग्राम तक हींग नियमित खाने से लाभ होता है. साथ में 120 मि.ली. पानी में 2 ग्राम हींग मिलाकर एनिमा भी लेना चाहिए.

– रेषा गुप्ता

दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें-  Dadi Ma Ka Khazana

 

औषधीय गुणों से भरपूर केला (Health Benefits of Banana)

Health Benefits of Banana

Health Benefits of Banana

केले में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन, आयरन, मैग्नीशियम व विटामिन बी 6 है. केला खाने से कब्ज़ व गैस की समस्या दूर होती है. हर रोज़ केले व दूध का सेवन करने से तंदुरुस्ती बढ़ने के साथ-साथ शरीर में ख़ून की मात्रा भी बढ़ती है. केले में पाए जानेवाले फाइबर से पाचन क्रिया अच्छी रहती है. यह खून को पतला कर धमनियों में ख़ून के संचालन को भी ठीक करता है. दरअसल, इसमें पाया जानेवाला मैग्नीशियम शरीर में जाकर रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है. कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होने से धमनियों में रक्त का संचालन सही रहता है.

* पीलिया यानी जॉन्डिस के मरीज़ को कच्चा या अधपका केला खिलाने से फ़ायदा होता है.

* पेचिश होने पर पके केले को मसलकर नमक और पिसा जीरा मिलाकर मरीज़ को खिलाएं.

* जीभ पर पड़े छालों को दूर करने के लिए दो-तीन दिन तक लगातार सुबह दही के साथ केला खाएं और इसके बाद ही कुछ खाएं. छाले ठीक हो जाएंगे.

* सूखी खांसी होने पर दो केले को मिक्सर में पीसकर उसमें दूध व स़फेद इलायची मिलाकर पीने से राहत मिलती है.

* यदि प्रदर रोग की समस्या हो, तो केला व दूध की खीर बनाकर हर रोज़ सुबह-शाम खाएं या फिर भोजन करने के बाद दो केले नियमित रूप से लें.

* दस्त यानी लूज़ मोशन होने पर पके हुए केले को मक्खन की तरह फेंटकर उसमें थोड़ी-सी कुछ दाने मिश्री मिलाकर दिनभर में दो-तीन बार खाने से राहत मिलती है.

* यदि चोट लग जाए और ख़ून बंद न हो, तो वहां पर केले के डंठल का रस लगाएं या फिर केले का छिलका लगाने से भी लाभ होता है.

यह भी पढ़े: तिल के 11 अमेज़िंग हेल्थ बेनिफिट्स

* बेचैनी व घबराहट होने पर पके हुए केले को फेंटकर उसमें एक टीस्पून मिश्री व एक छोटी इलायची पीसकर मिलाएं और खाएं.

* दाद होने पर केले के गूदे को नींबू के रस में पीसकर पेस्ट बनाकर दाद पर लगाएं.

* अल्सर की शिकायत होने पर कच्चा केला खाने से लाभ होता है.

* यदि आपको बार-बार यूरिन होने की समस्या है, तो केले के रस में घी मिलाकर पीएं.

* जलने पर केले को मसलकर जले हुए स्थान पर लगाएं.

* छोटे बच्चे को दस्त हो, तो पके केले को इतना घोंटें कि वह मक्खन की तरह पतला हो जाए और इसे बच्चे को चटा दें. दस्त बंद हो जाएगा.

* पके केले को घी के साथ खाने से पित्त रोग तुरंत शांत होता है.

* एक पका हुआ केला मीठे दूध के साथ लगातार आठ दिन तक सेवन करने से नकसीर की समस्या दूर हो जाती है.

* दो केले को एक टीस्पून शहद में मिलाकर खाने से सीने के दर्द में आराम मिलता है.

* बाल गिरने की समस्या होने पर केले के गूदे में नींबू का रस मिलाकर बालों में लगाएं.

यह भी पढ़े: बदहज़मी दूर करने के 20 कारगर उपाय

सुपर टिप

ब्लड प्रेशर की समस्या होने पर नियमित रूप से केला खाएं. यह रक्त की अशुद्धियों को दूर करने के साथ-साथ शरीर में रक्त के बहाव को भी सही करता है.

रिसर्च

रिसर्च के अनुसार, अवसाद यानी डिप्रेशन के मरीज़ों के लिए केला फ़ायदेमंद है. दरअसल, केले में ऐसे प्रोटीन पाए जाते हैं, जो शरीर को रिलैक्स करते हैं. इसी कारण डिप्रेशन के मरीज़ जब भी केला खाते हैं, तो उन्हें आराम मिलता है.

हेल्थ अलर्ट

केला फ़ायदेमंद तो है, पर इसमें कुछ परहेज़ भी रखें.

* रात में केला न खाएं.

* केला खाने के बाद पानी न पीएं.

* पाचनशक्ति कमज़ोर होने पर इसे न खाएं.

* गठिया और डायबिटीज़ के मरीज़ भी इसे न खाएं.

* केला खाली पेट न खाकर भोजन के बाद ही खाएं, तो अधिक लाभप्रद होगा, क्योंकि यह कब्ज़नाशक और पाचक दोनों है.

– नरेंद्र भुल्लर

दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें-  Dadi Ma Ka Khazana

बांझपन से छुटकारा पाने के 5 चमत्कारी घरेलू उपाय (Top 5 Home Remedies For Female Infertility)

Female Infertility

बांझपन (Female Infertility) से छुटकारा पाने के 5 चमत्कारी घरेलू उपाय अपनाकर आप भी इस समस्या से छुटकारा पा सकती हैं. बांझपन (Female Infertility) के कारण महिलाओं को पर्सनल लाइफ में बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ता है. यदि आपको भी बांझपन (Female Infertility) की समस्या है, तो ये 5 घरेलू उपाय आपके बहुत काम आएंगे.

Home Remedies For Female Infertility

बांझपन (Female Infertility) से छुटकारा पाने के उपयोगी घरेलू नुस्ख़े:
* 50 ग्राम गुलकंद में 20 ग्राम सौंफ़ मिलाकर चबाकर खाएंं और ऊपर से 1 गिलास दूध नियमित रूप से पीएं. इससे बांझपन से मुक्ति मिलेगी.
* पलाश का एक पत्ता गाय के दूध में औटाएं और उसे छान कर पीएं. मासिक धर्म के बाद से शुरू करके यह प्रयोग 7 दिनों तक करना चाहिए.
* 5 ग्राम की मात्रा में त्रिफलाघृत सुबह-शाम सेवन करने से गर्भाशय की शुद्धि होती है जिससे स्त्री गर्भधारण करने योग्य हो जाती है.
* मासिक धर्म की शुद्धि के बाद से 1 हफ़्ते तक 2 ग्राम नागकेशर के चूर्ण को दूध से साथ सेवन करना चाहिए.
* पीपल के सूखे फलों का चूर्ण बनाकर रख लें. मासिक धर्म के बाद 5-10 ग्राम चूर्ण खाकर ऊपर से कच्चा दूध पीएं. यह प्रयोग नियमित रूप से 14 दिन तक करें.
* सेमर की जड़ को पीसकर 250 ग्राम पानी में पकाएं और फिर छान लें. मासिक धर्म के बाद चार दिन तक इसका सेवन करें.
* गुप्तांगों की साफ़-सफ़ाई पर ध्यान दें और खाने में जौ, शालि चावल, मूंग का यूष, घी, करेला, सहिजन, परवल, मूली, तिल का तेल आदि ज़रूर शामिल करें.

यह भी पढ़ें: व्हाइट डिस्चार्ज (श्‍वेत प्रदर) की समस्या के 5 आसान घरेलू उपाय

 

बांझपन (Female Infertility) से छुटकारा पाने के 5 चमत्कारी घरेलू उपाय जानने के लिए देखें ये वीडियो: