Tag Archives: homemade tips

प्रेग्नेंसी में होनेवाली उल्टी के लिए 9 होम रेमेडीज़ (9 Effective Home Remedies For Vomiting During Pregnancy)

Effective Home Remedies, Vomiting During Pregnancy

Effective Home Remedies, Vomiting During Pregnancy

हर गर्भवती स्त्री को गर्भधारण करने के प्रथम तीन-चार महीनों में उल्टी (Home Remedies For Vomiting During Pregnancy) की शिकायत रहती है. इसका मुख्य कारण शरीर में विजातीय पदार्थों की अधिकता है. बार-बार कै या उल्टी होना बहुत कष्टदायक होता है. ऐसे में निम्न घरेलू नुस्ख़े लाभकारी होते हैं.

* गर्भवती स्त्री को चाहिए कि वह सुबह मुंह धोकर हल्के कुनकुने पानी में एक नींबू का रस निचोड़कर खाली पेट कुछ दिनों तक पीए. इससे उल्टी बंद हो जाती है.
* अधिक उल्टी की दशा में केवल भोजन में तरल पदार्थ, जैसे- नींबू का रस, संतरा-मोसम्बी का जूस, पके आम का रस तथा नारियल का पानी लेना लाभदायक रहता है.
* यदि गर्मी का मौसम हो तो ब़र्फ का पानी सेवन करने से भी बड़ा लाभ होता है.

यह भी पढ़े: बदहज़मी दूर करने के 20 कारगर उपाय
* गर्भवती स्त्री के उदर पर गीली मिट्टी की पट्टी तथा पानी की पट्टी रखने से भी वमन या उल्टी बंद हो जाती है.
* उल्टी की दशा में गर्भिणी को अधिक से अधिक आराम करना चाहिए.
* गर्भिणी की उल्टी में गुलकंद लाभदायक है. गुलकंद और मक्खन बराबर मात्रा में लेकर 10-10 ग्राम की मात्रा में दिन में तीन बार सेवन करने से लाभ होता है. इससे गर्भवती की उल्टी बंद होती है और शरीर को शक्ति भी मिलती है.
* एक काग़ज़ी नींबू को बीच से काटकर दो टुकड़े कर लें. फिर दोनों भागों के ऊपर काली मिर्च का पाउडर तथा नमक डालकर आग पर गर्म करके चूसें. इससे गर्भवती को उल्टी से राहत मिलती है.

यह भी पढ़े: स्वाद व गुणों से भरपूर अदरक
* गर्भवती द्वारा एक-दो अनार के दाने के रस को थोड़ा-थोड़ा करके चूसना भी लाभदायक होता है. नियमित ऐसा करने से उल्टी या वमन का शमन होता है.

उल्टी में धनिया का काढ़ा
धनिया का का़ढ़ा बनाकर उसमें मिश्री व चावल का पानी मिलाकर पिलाने से गर्भवती की उल्टियां बंद हो जाती हैं.
काढ़ा बनाने की विधि: 10 ग्राम धनिया पाउडर 2 कप पानी में उबालें. आधा रह जाने पर उतारकर रख लें. इसमें एक चम्मच मिश्री का पाउडर तथा आधा कप चावल का धोवन मिलाकर पीएं. हरे धनिया का रस भी थोड़ा-थोड़ा 2-3 बार पीने से उल्टी में लाभ होता है.

– जूही पी.

दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें-  Dadi Ma Ka Khazana

अमरूद के 9 अमेज़िंग फ़ायदे ( 9 Amazing Guava Benefits)

Amazing Guava Benefits

Guava Benefits

अमरूद (Guava Benefits) कई पोषक एवं औषधीय गुणों से युक्त होने के कारण सेहत के लिए बेहद फ़ायदेमंद है. आंवला, नींबू, संतरा व चेरी के बाद अमरूद ही ऐसा फल है, जिसमें विटामिन ‘सी’ प्रचुर मात्रा में मिलता है. बारहमासी फल होने की वजह से अमरूद का सामान्य व औषधीय उपयोग पूरे साल किया जा सकता है.

कब्ज़
* हमेशा कब्ज़ रहने की शिकायत हो, तो लगातार कुछ दिनों तक सुबह खाली पेट पके अमरूद खाएं. कब्ज़ की समस्या हमेशा के लिए ख़त्म हो जाएगी.

अपचन
* दोपहर के भोजन के तुरंत बाद अगर अमरूद खाएंगे, तो अपचन की समस्या कभी नहीं होगी और गरिष्ठ से गरिष्ठ खाना भी पच जाएगा.

सांस की दुर्गंध
* अमरूद का फल ही नहीं, इसकी डाली भी फ़ायदा पहुंचाती है. सांस की दुर्गंध की समस्या हो, तो इसकी डाली से रोज़ एक बार दातून करें. सांस की दुर्गंध का नाश तो होगा ही, दांत भी चमक जाएंगे.
* अमरूद की टहनी से दातून करने से दांत दर्द ठीक हो जाता है और हिलते हुए दांत मज़बूत होते हैं.

यह भी पढ़े: नारियल के 11 चमत्कारी फ़ायदे

ज़ुकाम
* ज़ुकाम और सर्दी होने पर अमरूद का सेवन नहीं करना चाहिए. लेकिन गुनगुने पानी के साथ इसके बीजों का सेवन करने से ज़ुकाम उड़न-छू हो जाता है.

अफरा
* अफरा होने पर अमरूद पर नमक और कालीमिर्च लगाकर खाएं. फ़ायदा होगा.

मुंह के छाले
* अमरूद की पत्तियों में भी औषधीय गुण होते हैं. मुंह में छाले पड़ जाएं, तो इसकी पत्तियों को पानी में उबालें और इस पानी से कुल्ला करें. इससे मुंह के छाले तो ठीक होंगे ही, गला व जीभ भी साफ़ हो जाएंगे.

यह भी पढ़े: सेहत से भरपूर पत्तागोभी का रस 

वीर्यवर्द्धन
* अमरूद को अच्छी तरह धोने के बाद बिना छीले ही काट कर महीन पीस लें और इसमें दूध मिलाएं. फिर इसे छानकर सेवन करें. ऐसा नियमित करने पर वीर्य की वृद्धि होती है.

नशामुक्ति
* अमरूद के बीज, पत्तियां और फल का सेवन करने से भांग, शराब, गांजा आदि का नशा उतर जाता है. यही नहीं, इनका नियमित उपयोग करने से इन नशीली चीज़ों के सेवन की आदत भी छूट जाती है.
* नियमित अमरूद के पत्ते चबाने से सिगरेट पीने और पान खाने की आदत भी छूट जाती है.

भूख कम लगना
* यदि किसी वजह से भोजन में अरुचि हो गई और भूख कम लगती हो तो अमरूद का सेवन करें. यह समस्या नहीं रहेगी. रात में अमरूद न खाएं, इसकी तासीर ठंडी होती है, अत: इसे शाम को और रात में न खाएं. ख़ासकर सर्दियों में दोपहर या तीसरे पहर में ही इसका सेवन करना उचित रहता है.

– भानुमति नारायण

दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें-  Dadi Ma Ka Khazana

 

आम के लाजवाब फ़ायदे (Wonderful Benefits Of Mango)

Benefits Of Mango

Benefits Of Mango
आम (Benefits Of Mango) के पके फल में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, वसा और आयरन पाया जाता है. आम आंतों के लिए टॉनिक का काम करता है और आमाशय संबंधी रोगों को दूर करता है. दूध और घी के साथ आम का सेवन करने से वायु और पित्त संबंधी विकारों का शमन होता है. आम की गुठली सेंककर खाने में मीठी लगती है. साथ ही यह ख़ूनी बवासीर, दस्त, ख़ूनी पेचिश और रक्तपित्त में बहुत उपयोगी भी है. आम में विटामिन ए, बी और सी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं.

* आम की गुठली की गिरी का बारीक चूर्ण उदरकृमि रोग में लाभदायक होता है. इसे 3 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम पानी के साथ सेवन करना चाहिए. यह नुस्ख़ा रक्तप्रदर और ख़ूनी बवासीर में भी लाभप्रद है.

* नकसीर फूटने (नाक से ख़ून बहना) पर आम का ताज़ा बौर सूंघने से लाभ होता है.

* लू पीड़ित व्यक्ति को आम का पना देना चाहिए. आम को आग में भूनकर उसका रस बनाकर छान लें. फिर इसमें जीरा चूर्ण और सेंधा नमक मिलाकर मरीज़ को पिलाएं. इससे तुरंत लाभ होगा. यदि हर रोज़ थोड़ी मात्रा में भोजन के साथ इसका सेवन किया जाए, तो लू का दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है.

* आम के बौर को पीसकर उसे एरंडी के तेल में पकाकर कपड़े से छानकर रख लें. इस तेल की दो-दो बूंदें कान में डालने से कान का दर्द दूर हो जाता है.

* बिच्छू-बर्रे आदि के काटने पर आम्रमंजरी को पीसकर लगाने से विष का प्रभाव कम हो जाता है.

* संग्रहणी रोग में आम के सूखे बौर का चूर्ण 3 ग्राम की मात्रा में दिन में तीन बार पानी के साथ लेने पर लाभ होता है.

* आम के पेड़ की अंतरछाल का स्वरस और आम के छिलके का रस सम मात्रा में निकालें. इसमें से एक चाय का चम्मच रस 50 ग्राम ठंडे पानी में मिलाकर पीएं. ऐसा दिन मेंं 5-6 बार करने से गर्भाशय, फेफड़े और आंतों से होनेवाला रक्तस्राव शीघ्र रुक जाता है.

* 200 ग्राम आम का रस और 150 ग्राम शुद्ध शहद मिलाकर कांच के बर्तन में रख लें. इसे 20 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम सेवन करें और ऊपर से गाय या बकरी का दूध पीएं. इससे रतिशक्ति बढ़ती है. यह योग पुराना ज्वर, खांसी आदि में भी लाभदायक है.

* आम की गुठली से तेल निकाला जाता है, जो संधिवात (गठिया) और शूल में लाभदायक है. इस तेल से मालिश करने से हृदय की जलन दूर होती है.

* आम के पेड़ की अंतरछाल का शीत रस और चूने का पानी 10 ग्राम मिलाकर एक सप्ताह तक पीने से प्रदर रोग, ख़ूनी बवासीर, प्रमेह, उदरकृमि आदि विकार दूर हो जाते हैं.

* आम को छीलकर मोटे टुकड़ों में काट लें. फिर पानी में थोड़ी फिटकरी डालकर उबालें. जब वह खटाई रहित हो जाए, तो उसे उतार लें. इसके बाद इसे घी में भूनकर रख लें. इसके बाद आम के टुकड़ों का चार गुना शक्कर लेकर चाशनी बनाएं और उसमें टुकड़ों को डालकर पका लें. ऊपर से इलायची, केसर आदि भी डाल दें. यह मुरब्बा 10 से 20 ग्राम प्रतिदिन खाने से पित्त दोष का शमन होता है.

– ओमप्रकाश गुप्ता

दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें- Dadi Ma Ka Khazana

17 आयुर्वेदिक घरेलू नुस्ख़े मिटाते हैं चेहरे के दाग़-धब्बे (17 Best Ayurvedic Home Remedies To Get Rid Of Acne, Pimples, Dark Spots, Deep Scars)

Ayurvedic Home Remedies for Dark Spots

आयुर्वेद में हर चीज़ का आसान उपाय मिल जाता है, वो भी बिना किसी साइडइफेक्ट के. चेहरे के दाग़-धब्बे यदि आपकी रंगत बिगाड़ रहे हैं, तो ये 17 आयुर्वेदिक घरेलू नुस्ख़े (Ayurvedic Home Remedies) आपके बहुत काम आएंगे.

Ayurvedic Home Remedies for Dark Spots
* मसूर की दाल घी में भून लें और फिर इसका चूर्ण बना लें. इस चूर्ण को दूध में मिलाकर उबटन की तरह चेहरे पर मलें. यह उबटन सूखने तक लगाकर रखें, फिर चेहरा धो लें. इसके नियमित प्रयोग से मुंहासे और झाइयां कुछ समय बाद ही गायब हो जाते हैं.
* गेहूं का चोकर लगभग 100 ग्राम लेकर उसे शाम को एक कप में भिगोकर रख दें. सुबह उसे मसल कर चेहरे पर हल्की-हल्की मालिश करें. मुंहासों और चेहरे के दाग़-धब्बों से छुटकारा मिल जाएगा.

यह भी पढ़ें: 2 दिनों में पाएं मुंहासों से छुटकारा

* जामुन की गुठलियों को पानी में पीसकर लेप करें, इससे कील-मुंहासों के दाग़ ख़त्म हो जाते हैं.
* कलौंजी को सिरके में पीसकर रात के समय चेहरे पर लेप करके सुबह धो लें. इससे मुंहासे मिटते हैं.
* 30-40 ग्राम अजवाइन बारीक़ पीस कर 25-30 ग्राम दही में मिलाकर रात को मुंहासों पर लगाएं. सुबह कुनकुने पानी से चेहरा धो लें. मुंहासे साफ़ हो जाएंगे. इस प्रयोग से चेहरे की सुंदरता भी निखरती है और आंखों के नीचे उभरने वाले काले धब्बे भी मिट जाते हैं.
* आंवला और तिल बराबर मात्रा में लेकर उन्हें दूध में पीसकर मुंह पर मलने से चेचक के दाग़ कम होने लगते हैं.
* चिरौंजी, मसूर की दाल और पीली सरसों, तीनों का बारीक चूर्ण बनाएं. रात में गर्म पानी से मुंह धोकर इसका लेप करें.
* मसूर की दाल इतने पानी में भिगोएं कि वह भीगकर उस पानी को अच्छी तरह सोख लें. फिर उस दाल को पीसकर दूध या दही में मिलाकर सुबह शाम दो बार चेहरे पर लगा कर मलें. कुछ देर बाद कुनकुने पानी से चेहरा धो डालें. चेहरे के दाग़ मिट जाएंगे और सुंदरता बढ़ जाएगी.
* रात को सोने से पहले चेहरे पर दही की मलाई से मालिश करें. पंद्रह मिनट बाद धोकर सो जाएं. इससे रूखापन, झाइयां और दाग़ मिट जाते हैं.
* हल्के गर्म दूध से मालिश करें, चेहरे की रंगत निखर जाएगी.

यह भी पढ़ें: Ooops!!! 6 ग़लतियां जो आपके बालों को करती हैं ख़राब

Ayurvedic Home Remedies for Dark Spots

[amazon_link asins=’B00REG2BDW,B00D8X0DQM,B004JW8FY8′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’bcc388aa-b0cb-11e7-b8ea-f504dbc1b8d9′]

* एक दिन का बासी मट्ठा सुबह नहाने से पहले चेहरे पर मलें और 10 मिनट बाद स्नान कर लें.
* नींबू मलने से भी झाइयां व दाग़ ठीक हो जाते हैं और चेहरे पर चमक व निखार आ जाता है.
* चेहरे की झाइयों और झुर्रियों को मिटाने के लिए नींबू का रस और शहद मिलाकर चेहरे पर लगाएं और नियमपूर्वक जैतून के तेल से चेहरे पर मालिश करें.
* अगर एक सप्ताह तक रोज़ाना एक कप मूली का रस निकाल कर सेवन करें, तो चेहरे के सारे दाग़ अपने आप ग़ायब हो जाएंगे.
* जामुन की गुठलियों को घिस कर चेहरे पर लगाने से मुंहासे दूर होते हैं और झाइयों से भरा चेहरा साफ़ होने लगता है.
* शहद को नमक और सिरके में मिलाकर मलने से झाइयां मिटती हैं.
* मसूर को नींबू के रस के साथ पीसकर लेप करने या मलने से चेहरे की झाईं मिटती हैं.

यह भी पढ़ें: गोरी रंगत पाने के जांचे-परखे नुस्खे

फेयरनेस के घरेलू नुस्ख़े (Home Remedies For Fairness)

मेरे दिल की ज़मीं पर तेरी यादों के फूल खिलते हैं… तू ये माने या न माने, ख़्वाबों में हम रोज़ ही मिलते हैं… बेपर्दा होता है जब ये हुस्न तेरा… तो चांद भी हो जाता है शर्मिंदा, तेरी बज़्म में जब मेरा इश्क़ देता है सदाएं… गूंजती हैं वादियों में हमारी चाहत की वफ़ाएं… चांदनी लिपटी है तेरे बदन से, आफ़ताब भी रौशन होता है तेरी चिलमन से… है नूर की बूंद-सी तुझमें पाक़ीज़गी… अब जाने कहांले जाएगी मुझे ये तुझसे मेरे दिल की लगी…
चांदी-सी रंगत और बेपनाह हुस्न सभी को आकर्षित करता है. तो फिर देर किस बात की, इन होममेड पैक्स और उबटन से अपनी रंगत निखारें और चांद से भी हसीं बन जाएं.

टी वॉटर-हनी फेस पैक
1 कप चाय का पानी (ठंडा किया हुआ), 2 टेबलस्पून चावल का आटा, आधा टीस्पून शहद. सबको मिला लें और चेहरे पर लगाएं. 20 मिनट के बाद या जब मास्क सूख जाए, तो ठंडे पानी से धो लें. मास्क धोने से पहले गोलाकार में चेहरे पर मसाज करते हुए मास्क उतारें.
– राइस फ्लोर स्क्रब का काम करता है.
– शहद त्वचा को मॉइश्‍चराइज़ करता है.
– इस मास्क से आपकी रंगत निखरेगी और स्किन टोन भी होगी.

ओट्स-लेमन फेस पैक
1-1 टेबलस्पून ओट्स (पके व मैश किए हुए) और नींबू का रस (अगर आपकी त्वचा सेंसिटिव है, तो नींबू के रस में थोड़ा पानी मिला लें). दोनों को मिलाकर मसाज करते हुए चेहरे पर लगाएं. 20 मिनट बाद धो लें.
– ओट्स त्वचा को हील करता है, ख़ासतौर से इंफ्लेम्ड स्किन को.
– नींबू रंगत निखारता है.

यह भी पढ़ें: 10 फेस पैक्स खिली-खिली व बेदाग़ त्वचा के लिए

टर्मरिक-लेमन फेस पैक
थोड़ी-थोड़ी मात्रा में बेसन, हल्दी, नींबू का रस और दूध लें. सबको मिलाकर चेहरे पर अप्लाई करें. लगभग 5 मिनट तक इससे स्क्रब करें और 20 मिनट बाद चेहरा धो लें.
– हल्दी एंटीसेप्टिक है.
– बेसन व नींबू रंगत निखारते हैं.
– दूध रंगत निखारने के साथ-साथ त्वचा को मॉइश्‍चराइज़ भी करता है.

टर्मरिक-टोमैटो फेस पैक
थोड़ी-सी हल्दी और टमाटर का रस लें. मिलाकर चेहरे पर लगाएं. सूखने पर धो लें.
– इसकी जगह आप टमाटर के पल्प से भी चेहरे पर मसाज कर सकती हैं. 15-20 मिनट बाद चेहरा धो लें.
– इसे रोज़ाना इस्तेमाल करने से कॉम्प्लेक्शन में निखार आता है.

टर्मरिक फेस पैक
थोड़ा-सा बेसन, चुटकीभर हल्दी और दूध लें. सबको मिलाकर चेहरे पर 5 मिनट तक स्क्रब करें. 20 मिनट बाद चेहरा धो लें.
– बेसन बहुत ही अच्छा एक्सफॉलिएटर है.
– हल्दी स्किन को फेयर बनाता है.
– दूध मॉइश्‍चराइज़ करता है.

योगर्ट-ऑरेंज पील
1-1 टेबलस्पून संतरे के छिलके का पाउडर (सुखाकर पिसे हुए छिलके) और ताज़ा दही लें. दोनों को मिलाकर चेहरे पर 15-20 मिनट तक लगाएं. सूखने पर धो लें.
– संतरे के छिलके व दही दोनों ही रंगत निखारकर त्वचा को मॉइश्‍चराइज़ भी करते हैं.

योगर्ट-लेमन मास्क
1 टेबलस्पून ताज़ा दही में 1 टीस्पून नींबू का रस मिलाएं. चेहरे पर लगाकर 20 मिनट बाद धो लें.
– यह पैक न स़िर्फ रंगत निखारेगा, बल्कि कील-मुंहासों के दाग़ व डार्क स्पॉट्स से भी निजात दिलाएगा.

मिल्क-लेमन-हनी पैक
1-1 टीस्पून दूध, नींबू का रस और शहद लें. सबको मिलाकर चेहरे पर लगाएं. 15-20 मिनट बाद चेहरा धो लें.
– दूध और नींबू का रस रंगत निखारता है.
– शहद मॉइश्‍चराइज़ करके स्किन को टोन भी करता है.

मिल्क-सैफ्रन
2-3 टीस्पून ठंडा व कच्चा दूध. थोड़ा-सा केसर. केसर को दूध में 3-4 घंटे तक भिगोकर रखें. चेहरा और गर्दन साफ़ करके पैक लगाएं. 15-20 मिनट बाद गुनगुने पानी से चेहरा धो लें.
– रंगत निखारने का यह सबसे प्रभावी तरीक़ा है.
– यह त्वचा को नर्म-मुलायम भी बनाता है.

पपाया-मुल्तानी मिट्टी क्लींज़र
1 टेबलस्पून पपीते का पल्प और 1 टीस्पून मुल्तानी मिट्टी लें. दोनों को मिला लें. चेहरे पर लगाएं और सूखने पर धो लें.
– यह पैक रंगत निखारने के साथ-साथ क्लींज़ भी करता है.

पोटैटो मास्क
आलू के स्लाइसेस का पल्प या पेस्ट तैयार कर लें या फिर उसका जूस भी इस्तेमाल कर सकते हैं. चेहरे पर लगाएं. 15-20 मिनट बाद चेहरा धो लें.
– यह पैक आप दिन में दो बार भी यूज़ कर सकती हैं.
– यह स्किन टैनिंग दूर करके निखार लाता है.

यह भी पढ़ें: उबटन से निखारें सुंदरता

लेमन-ऑरेंज पैक
नींबू और संतरे के छिलके और थोड़ा-सा कच्चा दूध लें. छिलकों को कद्दूकस कर लें और पाउडर तैयार कर लें. इसे एयर टाइट कंटेनर में पैक कर लें. इसमें से थोड़ा-सा पाउडर लेकर दूध में मिलाएं और चेहरे पर लगाएं. सूखने पर गुनगुने पानी से धोएं. धोने के फ़ौरन बाद कूलिंग स्किन टोनर का इस्तेमाल करें.
– त्वचा निखरती है और दाग़-धब्बे भी दूर होते हैं.

Fairness Tipsफेयरनेस उबटन

उबटन फेस वॉश
उबटन का सबसे आसान तरीक़ा है कि नहाते समय उसका इस्तेमाल किया जाए. 1 टेबलस्पून चंदन पाउडर, 2-2 टेबलस्पून बेसन और दूध, आधा टेबलस्पून हल्दी पाउडर. सबको मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें. नहाते समय इसे फेस वॉश की तरह इस्तेमाल करें. 2-3 दिनों में ही फ़र्क़ नज़र आने लगेगा.

उबटन फेस स्क्रब
यह न स़िर्फ रंगत निखारता है, बल्कि दाग़-धब्बे, कील-मुंहासों से भी छुटकारा दिलाता है. अगर किसी की शादी होनेवाली है, तो वो शादी से एक महीने पहले से इस उबटन का रोज़ाना इस्तेमाल कर सकती है.
3 टेबलस्पून चने का आटा, 1 टेबलस्पून नीम पाउडर,
2-2 टेबलस्पून चंदन का पाउडर और पिसा हुआ कुकुंबर, चुटकीभर हल्दी पाउडर. सबको मिला लें. चेहरे पर इस पेस्ट से गोलाकार में 15 मिनट तक मसाज करें. गुनगुने पानी से धो लें. नहाने से 15 मिनट पहले इसे रोज़ाना इस्तेमाल करें.

डीप मॉइश्‍चराइज़िंग उबटन
स्किन लाइटनिंग के साथ-साथ यह उबटन मॉइश्‍चराइज़ भी करेगा. 6-7 ब्लांच किए हुए बादाम को छील लें और आधा कप फ्रेश क्रीम में रातभर भिगोकर रखें. अगले दिन 2 टेबलस्पून तिल का तेल और 1 टेबलस्पून तुलसी पाउडर लें. सारी सामग्री को मिलाकर पीस लें और स्टोर कर लें. नहाने से पहले इसे चेहरे पर 1-2 मिनट तक रब करें. इसे आप रोज़ाना मॉइश्‍चराइज़िंग के लिए इस्तेमाल कर सकती हैं.

यह भी पढ़ें: गोरी-निखरी रंगत पाने के 15 घरेलू उपाय

फेयर कॉम्प्लेक्शन उबटन
यह न स़िर्फ रंगत निखारेगा, बल्कि डार्क व पैची कॉम्प्लेक्शन और सन टैन से भी छुटकारा दिलाएगा. 4 ब्रेड स्लाइसेस
के ब्रेड क्रम्ब्स लें, 2-2 टेबलस्पून बेसन, गेहूं का आटा, नींबू का रस, ककड़ी का रस, आलू का रस और मलाई व चुटकीभर
हल्दी लें. सबको मिलाकर पेस्ट बना लें. चेहरे पर इससे
गोलाई में मसाज करें. जब तक पेस्ट सूखकर पाउडर जैसा न हो जाए, तब तक रब करते रहें. गुनगुने पानी से धो लें. हफ़्ते में एक बार ज़रूर इस्तेमाल करें. एक महीने में ही काफ़ी फ़र्क़ नज़र आएगा.

अन्य टिप्स
– हेल्दी डायट भी त्वचा को ताज़गी देती है. विटामिन सी से भरपूर डायट लें. ताज़ा फल व सब्ज़ियों का सेवन करें.
– एंटीऑक्सीडेंट्स भी लें.
– उचित मात्रा में प्रोटीन और अनसैचुरेटेड फैट्स लें.
– डेली स्किन केयर रूटीन फॉलो करें.
– बाहर जाते समय प्रोटेक्शन का इस्तेमाल करें. कम से कम 30 एसपीएफ का इस्तेमाल करें.
– सन टैन होने पर बेसन, हल्दी और दही के उबटन का प्रयोग करें. हल्दी डार्क स्पॉट्स दूर करती है, दही टैनिंग दूर करता है और बेसन क्लींज़िंग का काम करता है. यह आप रोज़ाना इस्तेमाल कर सकती हैं.
– सन बर्न होने पर विनेगर का इस्तेमाल करें. एक स्प्रे बॉटल में इसे भर लें और प्रभावित जगह पर स्प्रे करें. यह कूलिंग इफेक्ट देगा. विनेगर में एंटीऑक्सीडेंट्स भी होते हैं और यह बैक्टीरियल व फंगल इंफेक्शन को भी दूर करता है.

– विजयलक्ष्मी

यह भी पढ़ें: बेकिंग सोडा से पाएं गोरी-निखरी त्वचा