Tag Archives: House Safety

होम सेफ्टी के 21 बेस्ट रूल्स (21 Home Safety Best Rules)

आमतौर पर हम सभी घर की साफ़-सफ़ाई व होम डेकोर पर अधिक ध्यान देते हैं, लेकिन इसी के साथ घर की सुरक्षा (Home Security) भी बेहद ज़रूरी है. ऐसे में होम सेफ्टी (Home Safety) से जुड़े विभिन्न पहलुओं को जानकर हम अपने घर को बेहतर तरी़के से सुरक्षित रख सकते हैं.

Home Safety

1.यदि घर की सुरक्षा की बात की जाए, तो सबसे ज़रूरी है घर का बीमा कराना यानी होम इंश्योरेंस करवाएं, जिसमें मकान व घर के सभी सामानों का बीमा कराया जाता है.

2. घर के प्रवेशद्वार पर मेटल डोर लगाएं और ये सभी दरवाज़े अंदर की तरफ़ खुलते हों, इस बात का भी ध्यान रखें.

3. घर की सेफ्टी के लिए यह भी ज़रूरी है कि कभी भी घर की चाबी घर के बाहर गमले या डोरमैट के नीचे या फिर किसी अन्य जगह पर नहीं छुपाएं.

4. प्रवेशद्वार पर बर्गलर अलार्म भी लगाएं. साथ ही इसे इस्तेमाल करने के तरी़के के बारे में अच्छी तरह से समझ लें.

5. किसी भी अजनबी को ज़रूरी पूछताछ के बाद संतुष्ट होने पर ही घर के अंदर आने दें.

6. घर में अगर स्लाइडिंग दरवाज़े-खिड़कियां हैं, तो उसे लॉक करने की भी पर्याप्त व्यवस्था करें. स्लाइडिंग ट्रैक पर स्टील का पोल भी लगवाएं.

7. कई बार चोर घर के पीछे की तऱफ़ से घर में घुसने की कोशिश करते हैं. ऐसे में घर के चारों ओर ऊंची व मज़बूत कॉन्क्रीट की दीवार बनाएं, जिससे कोई भी अजनबी उसे फांदकर घर के अंदर न आ सके.

8. इसके अलावा बाउंड़्री वॉल की दीवारों पर कंटीले तारों की फेंसिंग या तारों में करंट या एलेक्ट्रिफाइड फेंसिंग भी लगा सकते हैं. इसमें एक सेंसर भी होता है. इससे यह पता चल जाता है कि चोर ने किस एरिया में छेड़छाड़ की है.

9.दरवाज़े पर पीप होल के अलावा इमर्ज़ेंसी स्मोक, हीट व फायर अलार्म लगाएं.

10. बच्चों के रूम में लॉकिंग सिस्टम न रखें. यदि रखना ही हो, तो टावर बोल्ट लॉकिंग सिस्टम का इस्तेमाल करें.

11. गैस का सिलेंडर खुली जगह पर ही रखें. यहां पर बेवजह की ग़ैरज़रूरी चीज़ें न फैलाएं. साथ ही गैस के पाइप को कभी भी किसी वस्तु आदि से ना ढकें. यदि पाइप में कहीं पर क्रैक नज़र आए, तो तुरंत चेंज करवाएं.

यह भी पढ़ें: कैसे बनाएं घर को बैक्टीरिया फ्री? ( How To Create A Bacteria-Free Home?)

12. होम सेफ्टी के लिए हाईटेक इलेक्ट्रॉनिक सिक्योरिटी सिस्टम बेहतर विकल्प है. इसमें चोर द्वारा छेड़छाड़ करने पर खिड़की-दरवाज़े में लगे कॉन्टेक सेंसर्स सिक्योरिटी अलार्म को एक्टीवेट कर देते हैं, जो पहले से फीड पुलिस स्टेशन सहित 15 लोगों को मैसेज के द्वारा चोरों की जानकारी दे देता है. इसमें सीसीटीवी कैमरों से उनके चेहरे भी रिकॉर्ड किए जा सकते हैं.

13. एक्सिस कंट्रोल सिस्टम विद इलेक्ट्रो मैग्नेटिक लॉक लगाने से चाबी रखने से छुटकारा मिल जाता है. इस सिस्टम के तहत परिवार के सदस्यों के फिंगर रजिस्टर्ड हो जाते हैं और उन्हीं के अंगूठे को पहचानकर लॉक खुलता है.

14. यदि आप अकेली रहती हैं, तो आप पर्सनल पैनिक बटन लगवा सकते हैं. यह छोटा-सा यंत्र होता है, जिसे हमेशा अपने पास रखा जा सकता है. कोई भी मुसीबत पड़ने पर उसका बटन दबाने से उसमें जिस भी व्यक्ति का नाम व नंबर आपने फीड किया है, वह अलर्ट हो जाता है.

15. लाइट टाइमर भी बेहतरीन ऑप्शन है, जो फिक्स टाइम पर जलती व बंद होती है. इसके अलावा इसे रेडियो से भी जोड़ सकते हैं, जिससे गाने बजने लगते हैं. ऐसे में चोरों को लगेगा कि घर में लोग हैं.

16. किसी भी अजनबी कॉल द्वारा घर पर आकर कोई गोल्ड ज्वेलरी को दुगुना करने या फिर कोई डबल मुना़फेवाली स्कीम बताने के लिए आना चाहे, तो आप उसे बिल्कुल एंटरटेन न करें और न ही घर पर अकेले होने पर बुलाएं.

17. दरवाज़े पर सिक्योरिटी लॉक की जगह डेथ बोल्ट भी लगा सकते हैं. यह भी काफ़ी मज़बूत रहता है.

18. घर के नौकर या मेड या फिर किसी भी अपरिचित व्यक्ति के सामने आलमारी न खोलें. न ही अपनी ज्वेलरी, पैसे या अन्य क़ीमती सामान या फिर पैसों का लेन-देन उनके सामने करें.

19. बच्चे घर में अकेले रहते हों, तो उनकी सुरक्षा के लिए खिड़की और बालकनी पर बनी रेलिंग यानी लोहे की जाली 42 इंच ऊंची बनवाएं. रेलिंग के दो रॉड्स के बीच कम से कम 4 इंच से अधिक का गैप न रखें, वरना खेलते हुए बच्चे का सिर रॉड्स के बीच फंस सकता है.

20. मेन डोर पर सामान्य तालों की बजाय बायोमैट्रिक्स न्यूमैरिक लॉकिंग, प्री टाइम सेटिंग, कार्ड स्वैपिंग लॉक लगा सकते हैं. ये काफ़ी सेफ रहते हैं. इसमें एक छोटी-सी स्क्रीन होती है, उसमें स्कैनर लगा होता है. यह आपके उंगलियों की पहचान करती है और आपसे चार अंकों का पिन कोड मांगता है. यदि कोई इसे खोलने की कोशिश करता है, तो घर के अंदर लगा सायरन बजने लगेगा और आपको पता चल जाएगा. इसी प्रकार का एक लॉक है न्यूमैरिक लॉक. यह मोबाइल में रखे पासवर्ड की तरह होता है, जिसमें आप अपनी पहचान के लिए चार अंकों का कोड डालते हैं.

21. घर में इंट्रूजन अलार्म जैसे हाईटेक उपकरण लगा सकते हैं. आपकी ग़ैरमौजूदगी में यदि कोई घर के अंदर प्रवेश करता है या घर में कुछ असामान्य होता है, तो यह उपकरण उसकी पहचान कर अलार्म बजा देता है. इसमें कुछ फोन नंबर भी फीड कर सकते हैं, जिससे आपको मैसेज भी मिल सकता है.

यह भी पढ़ें: बरसात में घर की रिपेयरिंग कराते समय रखें इन 24 बातों का ख़्याल (Take Care Of These 24 Things While Keeping House Repair In Monsoon)

इन बातों पर भी ध्यान दें…

* अगर आप कुछ दिनों के लिए घर से बाहर जा रहे हैं, तो पड़ोसियों को घर पर ध्यान रखने के लिए कह जाएं.

* बाथरूम में थर्मोस्टेट लगवाएं और गरम पानी का तापमान हमेशा नियंत्रित रखें. इससे यदि आपकी अनुपस्थिति में बच्चा बाथरूम में पानी से खेलता है, तो कोई दुर्घटना नहीं होगी.

* होम सेफ्टी के लिए घर में डॉगी रखना भी फ़ायदेमंद रहता है.

* घर के कमरों में नीचे की तरफ़ इलेक्ट्रिक प्लग-वायर आदि न लगाएं, क्योंकि छोटे बच्चे खेलते हुए इन्हें छू सकते हैं. इलेक्ट्रिक सॉकेट में उंगली डाल सकते हैं.

* बुज़ुर्गों के लिए सेफ्टी वॉक स्टेप्स बनाएं.

* कभी भी छोटे बच्चों को किचन में अकेला न छोड़ें. वे गैस चूल्हा, सिलेंडर आदि को छेड़ सकते हैं.

* धुएं के लिए स्मोक एंड फायर डिटेक्टर लगाएं.

* होम क्लीनिंग व केमिकल प्रोडक्ट्स को शिशुओं की पहुंच से दूर रखें.

* कमरों के नीचे के रैक में दवाइयां, सिरप आदि न रखें.

* इलेक्ट्रॉनिक सामान बच्चों के पहुंच से दूर रखें. वे इसे लेकर एक्सपेरिमेंट्स कर सकते हैं.

– ऊषा गुप्ता