Tag Archives: How to Help Someone After Bypass Surgery

हार्ट सर्जरी के बाद कैसे करें मरीज़ की देखभाल (How to Help Someone After Bypass Surgery)

Bypass Surgery

बहुत से लोगों को जैसे ही पता चलता है कि उनकी बायपास सर्जरी (Bypass Surgery) करनी पड़ेगी, वे बहुत घबरा जाते हैं, क्योंकि लोगों को लगता है कि यह बहुत बड़ी सर्जरी है और उसके बाद सामान्य जीवन व्यतीत नहीं किया जा सकता. जबकि वास्तविकता यह है कि आधुनिक तकनीक के कारण ओपन हार्ट सर्जरी बेहद आसान हो गई है और सर्जरी के बाद रिकवरी भी फटाफट हो सकती है. इस बारे में ज़्यादा जानकारी के लिए हमने बात की सर एच.एन. रिलायंस फाउंडेशन हॉस्पिटल और रिसर्च सेंटर के कार्डियो-थोरैकिक सर्जन डॉ बिपिनचंद्र भाम्रे से.

Bypass Surgery

दो महीने में सामान्य दिनचर्या
आजकल लोग पहले से ज़्यादा जागरूक हो गए हैं. डॉ. बिपिन कहते हैं,“ज़्यादातर पैशेंट्स सर्जरी(Bypass Surgery)  के बाद दो महीने के अंदर ही नॉर्मल रूटीन फ्लो करने लगते हैं. ऑपरेशन के बाद हफ़्ते-दर-हफ़्ते मरीज़ को अपनी स्ट्रेथ और ऐक्टिविटीज़ बढ़ानी चाहिए.” वे आगे कहते हैं,“मैं पेशेंट्स से कहता हूं कि हर दिन एक जैसा नहीं होता. सर्जरी के बाद पहले कुछ हफ़्ते भावनात्मक रूप से उतार-चढ़ाव भरे हो सकते हैं. कभी आपको बहुत कमज़ोरी महसूस होगी और कभी आपको फ्रेश लगेगा. बायपास सर्जरी से रिकवर कर रहे सभी पेशेंट्स को ऐसा महूसस होता है. बायपास सर्जरी करने के लिए छाती के बीचोंबीच स्थित ब्रेस्ट बोन को काटा जाता है, जिसे ठीक होने में कम से कम 6 से 8
हफ़्ते लगते हैं.”

दिनभर ख़ुद को व्यस्त रखें
बायपास(Bypass Surgery) के पेशेंट को रीडिंग, राइटिंग इत्यादि करके अपना दिन बिताना चाहिए. डॉ. बिपिन इस बारे में सलाह देते हुए कहते हैं,“मरीज़ को बिना भूले फिज़ियोथेरैपिस्ट द्वारा बताए गए एक्सरसाइज़ करने चाहिए. सर्जरी के बाद पहले 6 हफ़्तों तक कोई भी भारी चीज़ न उठाएं. झुकना भी मना होता है. किसी भी तरह का मूवमेंट, जिससे चेस्ट में असंतुलन की स्थिति हो, से बचना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से स्टर्नम बोन हिलेगा और इससे छाती के टांकों में दर्द होगा. अगर टांकों में दर्द हो तो पेन किलर खाएं.”

ये भी पढ़ेंः 7 नैचुरल ट्रिक्स अाज़माइए, कोलेस्ट्रॉल घटाइए

हॉस्पिटल स्टे के दौरान
इस दौरान मिक्स फिलिंग होगी. सर्जरी के बाद पहले कुछ हफ़्तों तक नींद की कमी, ब्लड काउंट घटने और ज़्यादा मूवमेंट की मनाही के कारण मरीज़ को हदासा का अनुभव हो सकता है. पहले दो हफ़्तों तक मरीज़ को किसी चीज़ पर ध्यान लगाने में दिक्कत हो सकती है. नहाते समय टांके को जोर से न रगड़ें. डिस्चार्ज के बाद घर वापस जाते समय जर्क से बचने के लिए कार की बैक सीट पर बैठें.

घर पर
डॉ. बिपिन सलाह देते हुए कहते हैं,“दिनभर लेटे रहने से बचें. ध्यान रखें कि छोटे-मोटे काम करते रहने से जल्दी रिकवरी में मदद मिलती है. दो हफ़्ते बाद वॉक पर जाना शुरू करें और धीरे-धीरे वॉक की अवधि बढ़ाते रहें. टहलने से ह्रदय बायपास(Bypass Surgery) किए हुए ग्राफ्ट्स से रक्त एक्सट्रैक्ट करेगा. अगर सीढ़ी चढ़ते हुए थकान महसूस हो या सांस फूलने से थोड़ी देर बैठ जाएं. बायपास सर्जरी के बाद पहले कुछ हफ़्तों तक जल्दी थकान महसूस होना बेहद सामान्य बात है. सर्जरी के 2-3 महीने बाद आप अपनी सामान्य दिनचर्या का पालन कर सकते हैं. सर्जरी के बाद चार 4 से 6 हफ़्तों तक ड्रायविंग करने से बचना चाहिए.”

भूख कम लगती है
अत्यधिक दवाओं के सेवन और ऐक्टिविटीज़ की कमी के कारण भूख कम लगती है. जितनी भूख हो, उतना ही खाएं. आप चाहें तो हाई कैलोरी शेक्स भी ले सकते हैं. घाव भरने के लिए प्रोटीन रिच फूड्स का सेवन करना चाहिए. डॉ. बिपिन चंद्रा इस बारे में सलाह देते हुए कहते हैं,“मैं सर्जरी के बाद मरीज़ों को खानपान बदलने की सलाह नहीं देता. डिस्चार्ज होने के बाद कम तेल में बना घर का खाना पर्याप्त होता है.” डॉ. बिपिन कहते हैं,“अलग अलग मरीज़ों को अलग-अलग तरह की दवाएं दी जाती हैं. उन्हें सही समय पर दवा लेनी चाहिए. सर्जरी(Bypass Surgery) के कुछ महीनों बाद एकोस्प्रिन और कोलेस्ट्रॉल मेडिसिन को छोड़कर ज़्यादातर दवाएं बंद कर दी जाती हैं.”

डॉक्टर से संपर्क करें
अगर सर्जरी(Bypass Surgery) के बाद सांस लेने में दिक्कत, सीने में तेज़ दर्द, टांके में सूजन या ख़ून निकलने जैसी परेशानी हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करके आवश्यक ट्रीटमेंट कराएं.

ये भी पढ़ेंः दिल के लिए घातक हैं ये 6 आदतें