Tag Archives: husband

पति-पत्नी और शक (How Suspicion Can Ruin Your Marriage?)

पति की कमीज़ पर किसी लड़की के बाल को देखकर परेशान होना… पत्नी को घर छोड़ने आए पुरुष सहकर्मी को लेकर शंका… पति के कमरे के बाहर जाते ही चोरी-छिपे उसका मोबाइल चेक करना या कभी-कभी अपने साथी के पीछे जासूस लगाना… क्या आप जानते हैं कि अगर इसमें से एक भी लक्षण आप में है, तो आप ‘शक’ नाम की गंभीर बीमारी के शिकंजे में फंसते जा रहे हैं.

Marriage

पति-पत्नी और शक यह एक ऐसा प्रेम त्रिकोण है, जिसकी कहानी का अंत अक्सर ही दुखद होता है. अगर पति-पत्नी की हंसती-खेलती ज़िंदगी में शक की दीवार खड़ी होती है, तो बंटवारा ज़मीन-जायदाद का नहीं, बल्कि परिवारों का होता है. शक नाम की यह बीमारी कोई नई नहीं है. हमारे समाज  में शक और उससे जुड़ी कई कहानियां प्रसिद्ध हैं, पर कभी किसी ने इसे गंभीरता से नहीं लिया.

कैसे बढ़ती है शक की बीमारी?

रिसर्च बताते हैं कि किसी पर शक करना चाहे कोई बहुत बड़ी समस्या न हो, पर हां यह किसी समस्या की ओर पहली सीढ़ी ज़रूर है. शक का अगर व़क्त रहते इलाज नहीं हुआ, तो धीरे-धीरे उस शक पर बिना किसी वजह आप विश्‍वास करने लगते हैं और अपने साथी पर अविश्‍वास. यह अविश्‍वास फिर आपकी झुंझलाहट और चिड़चिड़ेपन का कारण बनता है. यह कभी-कभी शारीरिक तौर पर भी नज़र आता है. यह झुंझलाहट आप में असुरक्षा की भावना को जन्म देती है, जिसके कारण कई सारे डर दिमाग़ में घर कर जाते हैं. ऐसा होने पर जहां एक ओर आप मानसिक बीमारी के शिकार हो जाते हैं, वहीं दूसरी ओर आपका आपके साथी के साथ रिश्ता बिखर जाता है.

यह जानना भी महत्वपूर्ण है कि शक कभी लिंग भेद नहीं करता, सामान्यतौर पर यह माना जाता है कि स्त्रियां ही शक्की होती हैं, पर ऐसा है नहीं. समय आने पर पुरुष भी शक करते हैं. अगर इसका और विश्‍लेषण किया जाए, तो सवाल यह उठता है कि आख़िर हम शक करते क्यों हैं?

ये होती हैं अक्सर शक की वजहें

जब रिश्ता नए माहौल में आगे बढ़ रहा हो

जब भी हम किसी नए जीवन में क़दम रखते हैं, तो मन में आकांक्षाओं के साथ आशंकाएं भी होती हैं. जैसे नई नौकरी हो या कॉलेज का पहला दिन, थोड़ा शक तो मन में रहता ही है. इसी तरह जब कोई रिश्ता आगे नए रास्ते पर बढ़ता है, तो मन में शक तो रहेगा ही.

अपने किसी भय को छिपाने के लिए

रिश्ते में अगर आपको किसी चीज़ से डर लगता है, उदाहरण के तौर पर अगर किसी को सेक्स से डर लगता है या उस रिश्ते के साथ अपने भविष्य का भय, तो उसे छिपाने के लिए शक का सहारा लेते हैं.

जब आप ख़ुद किसी हीनभावना का शिकार हों

हीनभावनाएं अक्सर ही असुरक्षा की भावना लाती हैं और यही असुरक्षा शक को जन्म देती है. असुरक्षा किसी प्रिय व्यक्ति को खो देने की, असुरक्षा अपनी महत्ता खो देने की. मान लीजिए कोई स्त्री या पुरुष हीनभावना से ग्रसित है, तो उसे हमेशा अपने साथी को लेकर शक रहेगा कि कहीं उसका किसी और के साथ अफेयर तो नहीं चल रहा, कहीं मेरा साथी मुझे छोड़कर तो नहीं चला जाएगा. बिना किसी वजह की चिंता शक और अविश्‍वास की जननी है और फिर इसी असुरक्षा के चलते आप साथी को और अधिक जकड़कर-पकड़कर रखने की कोशिश करते हैं, जो अंत में रिश्ते को समाप्त करता है.

अतीत के अनुभव

यह बहुत ही महत्वपूर्ण बिंदु है. अगर किसी के जीवन में पहले कभी धोखा हुआ हो या उसने ख़ुद किसी को धोखा दिया हो, तो शक उसके जीवन का अभिन्न अंग बन जाता है. यह मानव प्रवृत्ति है कि वह अनुभवों से ही सीखता है.

यह भी पढ़ें: किस राशिवाले किससे करें विवाह? (Perfect Life Partner According To Your Zodiac Sign)

Suspicion on Your Marriage

क्या हो सकते हैं शक के परिणाम?

शक को अगर समय रहते ना रोका गया, तो ये दो चीज़ों को बर्बाद करता है- पहला आपका अपना व्यक्तित्व और दूसरा आपका रिश्ता. यह तब और भी भयावह हो जाता है, जब स़िर्फ दो व्यक्ति नहीं, बल्कि दो परिवार टूटते हैं. शक्की व्यक्ति अपने जीवन में किसी भी रिश्ते से संतुष्ट नहीं रह सकता. शक होना वैसे तो काफ़ी सामान्य-सी बात है, पर इस शक को एक सीमा के परे बढ़ने ना देना बेहद आवश्यक है. तो कैसे किया जाए इस शक को नियंत्रित?

मुझे तुमसे प्यार है

सबसे पहले इस जुमले से बाहर आएं और यह कहना शुरू करें कि मुझे तुम पर विश्‍वास है. प्यार कभी अकेला नहीं रहता. यह हमेशा विश्‍वास के साथ रहता है. अगर विश्‍वास ख़त्म हो जाए, तो प्रेम की सुंदरता समाप्त हो जाती है.

सवालों का बोझ

कुछ सवालों के बोझ से ख़ुद को और अपने साथी को भी दूर रखें. सवाल जैसे कि फोन करके यह पूछना कि तुम अभी कहां हो, किसके साथ हो, तुम मुझसे प्यार तो करते/करती हो ना… कहीं तुम मुझसे कुछ छिपा तो नहीं रहे… ये सवाल आपके रिश्ते को कमज़ोर बनाएंगे.

सांस लेने की रखें गुंजाइश

रिश्ते में अपने साथी को और ख़ुद को सांस लेने की जगह दें. इसका अर्थ है कि थोड़ा समय अपने साथी को और ख़ुद को अपनी रुचि का काम करने के लिए दें. स्वतंत्रता का बंधन सबसे अच्छा बंधन होता है. अगर रिश्ते में स्वतंत्रता है, तो शक की कोई गुंजाइश नहीं होगी.

बार-बार करें विश्‍वास

आपको जितनी बार अपने साथी पर बेवजह शक होता है, उतनी बार उस पर फिर से विश्‍वास करें. यह काम है तो मुश्किल, पर करना तो पड़ेगा. इसके लिए आप दोनों एक-दूसरे के साथ क्वालिटी समय बिताएं. चाहें तो खाली समय में एक-दूसरे को एंटरटेन करने के लिए ट्रस्ट गेम्स खेलें. ट्रस्ट गेम्स आपके रिश्ते को मज़बूत बनाते हैं. इंटरनेट पर आपको बहुत से ऐसे ट्रस्ट गेम्स मिल जाएंगे.

अतिविचारी प्रवृत्ति से बचें

ये वे लोग हैं, जो अपने विचारों में ही तिल का ताड़ बना लेते हैं. किसी ऐसी बात को अपने विचारों में रखना जो कभी हुई ही नहीं, आपके रिश्ते के लिए हानिकारक है. ऐसा होगा या वैसा होगा… इन बातों का कोई अंत नहीं है. तो बिना किसी सबूत के होनेवाले शक पर लगाम तो आपको ही कसनी होगी.

खाली दिमाग़ शैतान का घर

अपने आपको कभी इतना खाली मत रखिए कि दिमाग़ में शक का फ़ितूर नाचने लगे. अपने दिमाग़ और ऊर्जा को किसी सकारात्मक कार्य में लगाएं.

शक आपके अपने दिमाग़ की उपज है, इसलिए उसे ख़त्म करने की ज़िम्मेदारी भी आपकी अपनी ही है. हां, आप चाहें, तो किसी दोस्त या एक्सपर्ट की मदद भी ले सकते हैं

          – विजया कठाले निबंधे

यह भीढ़ें:  शादी के बाद क्यों बढ़ता है वज़न? जानें टॉप 10 कारण (Top 10 Reasons For Weight Gain After Marriage)

यह भी पढ़ें:  मायके की तरह ससुराल में भी अपनाएं लव डोज़ फॉर्मूला (Love Dose Formula For Happy Married Life)

कैसे जीतें पति का दिल? (How To Win Your Husband’s Heart?)

तुम्हारा साथ, प्यार की बात,  तुम्हारा हाथ, जन्मभर का साथ,  धड़कनों की ज़रूरत हो तुम, 

तुमसे है मेरी दुनिया हसीं, मेरी मोहब्बत, मेरी ज़िंदगी हो तुम…

यह एहसास हर पति (Husband) को अपनी पत्नी (Wife) के क़रीब ले आता है. प्यार-अपनापन, केयर और सहयोग से किसी का भी दिल जीता जा सकता है. लेकिन जब बात पति की हो, तो मामला थोड़ा नाज़ुक होता है. यह दिल अपने-पराए और आम लोगों के दिलों से थोड़ा अलग और ख़ास होता है. इसलिए इसे जीतने की कला भी थोड़ी ख़ास होनी चाहिए. सबसे पहले पुरुषों के कम्यूनिकेशन कोड को समझने की कोशिश करें.

Win Your Husband's Heart

– कहते हैं, प्यार से दुश्मनों का भी दिल जीता जा सकता है.  रोज़ाना कुछ समय, चाहे फिर घर-बाहर हो या फोन पर ही, उनसे  प्यार से दो मीठे बोल ज़रूर बोलें. इससे जहां दिनभर प्यार की ख़ुमारी बनी रहती है, वहीं रिश्तों में भी ताज़गी रहती है.

–   कोशिश करें कि सुबह की चाय या ब्रेकफास्ट उनके साथ लें. इससे जहां दिनभर के प्लान्स पर बातेें हो जाती हैं, वहीं उन्हें यह एहसास गुदगुदा देता है कि आप उनके साथ का एक पल भी मिस नहीं करना चाहतीं. हां, यदि आप कामकाजी हैं, तो उनके साथ ही ऑफिस के लिए निकल भी सकती हैं.

–    किधर जा रहे हैं?… वहां क्यों जाना है? आपका वो दोस्त ठीक नहीं… वहां पर आपका क्या काम है… बात-बात पर रोक-टोक, सवालों की झड़ी, शिकायतों का पुलिंदा न खोल दें.

–    हर किसी से अपने पति की शिकायतें करती न फिरें. यदि आपको लगता है कि आपके वैवाहिक जीवन में कुछ समस्या है तो भरोसेमंद बड़े-बुज़ुर्ग या फिर काउंसलर की मदद ले सकती हैं.

–    काम से लौटने पर हमेशा मुस्कुराहट के साथ पति का स्वागत करें. इतना भर करना, उनकी आधी थकान दूर कर देगा.

–    शादी-ब्याह हो या फंक्शन-पार्टी, अपनी तैयारी के साथ-साथ पार्टनर का भी ख़्याल रखें, जैसे- वे क्या पहनेंगे, कौन-सा वॉच-शू उन पर स्मार्ट लगेगा, उन्होंने हेयर कट या

शेविंग प्रॉपर किया है या नहीं.

–    स्वादिष्ट भोजन बनाकर भी उनका दिल जीता जा सकता है. वैसे भी कहते हैं कि पति का दिल जीतने के लिए लज़ीज़ व्यंजन से बेहतर कुछ भी नहीं हो सकता.

–    तक़रीबन हर पति ममाज़ बॉय होते हैं. वे अपनी पत्नी में अपनी मां की ख़ूबियों को तलाशते हैं. यदि आपके पति भी ऐसे हैं, तो अपनी सास से उनकी पसंद के बारे में पूछकर अपनी कुछ आदतें बदलें. सास से उनकी पसंदीदा डिशेज़ बनाना सीखें और सभी को खिलाएं.

–    पति को हमेशा अच्छा कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करती रहें.

–    यदि कभी वे ख़राब मूड में हैं, तो उन्हें तमाम सवाल पूछकर और डिस्टर्ब न करें. उन्हें कूल होने के लिए थोड़ा व़क्त दें और बाद में बात करें.

–    यदि पति टूरिंग जॉब करते हैं, तो जब भी टूर से आएं, तो उन्हें कुछ न कुछ सरप्राइज़ ज़रूर दें. यह कुछ भी हो सकता है, जैसे- आप उनकी पसंद की साड़ी पहन उनके साथ घूमने-फिरने की प्लानिंग कर सकती हैं, उनकी फेवरेट मूवी उन्हें दिखा सकती हैं, उन्हें बाहर खाने काशौक़ है, तो किसी ख़ास रेस्टॉरेंट में डिनर प्लान कर सकती हैं.

–    कई पुरुष स्पोर्ट्स के क्रेज़ी होते हैं, जबकि पत्नियां स्पोर्ट्स कम ही पसंद करती हैं. यदि आपके पति क्रिकेट फैन हैं, तो अधिक नहीं, पर कुछ बेसिक क्रिकेट की जानकारी ज़रूर रखें. उनके साथ बैठकर मैच देखें. ये सारी बातें उन्हें ख़ुशी देने के साथ उत्साहित भी करेंगी. उनके शौक़ और पसंद में आपका दिलचस्पी लेना, उन्हें बेहद अच्छा लगेगा.

–    सेक्सुअल रिलेशन के समय उन्हें किस बात से ख़ुशी मिलती है, क्या अच्छा लगता है, अंतरंग पलों में वे आपसे क्या ख़्वाहिश रखते हैं, इन बातों को समझें और उन्हें अमल में लाएं.

–    पति के लिए कोई स्पेशल ईवनिंग अरेंज करें, जिसमें केवल आप दोनों हों और कोई नहीं, बच्चे भी नहीं.

–    ससुराल के लोगों का, फिर चाहे वो सास-ससुर, देवर-ननद… कोई भी हो, सभी के साथ उचित व्यवहार करें. उनके जन्मदिन या शादी की सालगिरह आदि पर गिफ्ट या सरप्राइज़ पार्टी ज़रूर दें. आपका यह अपनापन पति के दिल को छू जाएगा. उन्हें यह देखकर बेहद अच्छा लगेगा कि आपको उनके साथ-साथ परिवार के हर सदस्य का ख़्याल रहता है.

–    ननद-देवर या अन्य पारिवारिक सदस्यों, रिश्तेदारों को छोटे-छोटे त्योहारों पर घर पर भोजन के लिए आमंत्रित करें. ससुरालवालों के प्रति आपका अपनापन देख पति को  ख़ुशी होगी.

–    जब कभी पति के साथ कहीं बाहर या फिर पारिवारिक फंक्शन आदि में जाएं, तो इस तरह से तैयार हों कि दोनों आइडियल कपल लगें. “मेड फॉर इच अदर.” कॉर्डिनेशन कुछ इस तरह का हो.

–    हरदम प्यार ही प्यार और अच्छी-अच्छी बातें ही हों, यह ज़रूरी नहीं है. कई बार खट्टी-मीठी तक़रार, नोक-झोंक पति-पत्नी को और भी क़रीब ले आती है. ये न भूलें कि रूठने-मनाने का दौर आपसी मिठास को और भी बढ़ाता है.

यह भी पढ़ें: किस राशिवाले किससे करें विवाह? (Perfect Life Partner According To Your Zodiac Sign)

Couple Goals

–    दिनभर की भागदौड़ और काम की आपाधापी में रोमांस के पल भी ज़रूर चुराएं. प्यार भरे लव नोट्स, रोमांटिक बातें, लव-केयर मैसेजेस, हंसी-मज़ाक कपल्स की लाइफ को ख़ुशनुमा और एवरग्रीन बनाते हैं. इन बातों की गहराई को समझें.

–    कभी-कभी एक-दूसरे के शौक़ और पसंद के साथ जीने का भी अलग मज़ा होता है. बदलाव के लिए पति की हॉबीज़ को भी अपनाया जा सकता है. यह जहां उन्हें सुखद आश्‍चर्य में भर देगा, वहीं प्यार से सराबोर भी कर देगा.

–    कभी भी नारी सुलभ कोमलता को खोने न दें. पुरुषों को स्त्रियों का प्रेमपूर्ण ममतामयी व्यवहार आकर्षित करता है.

–    यदि आपके पति हाइजीन आदि का विशेष ध्यान रखते हैं, तो आप भी इस बात का ख़्याल रखें. घर को साफ़- सुथरा रखें. साथ ही ख़ुद को भी.

–    जब कभी लगे कि पार्टनर लो फील कर रहे हैं… ऐसे समय में उन्हें प्रोत्साहित करें. उनकी प्रशंसा करें, उनकी अच्छी बातों को उभारें, कॉम्प्लीमेंट दें. इन सब से उनका आत्मविश्‍वास बढ़ेगा.

–    उन्हें जताएं कि वे दुनिया के सबसे अच्छे पार्टनर हैं. ऐसा सभी पत्नियों को करना चाहिए, इससे रिश्ता मज़बूत होता है.

–    पति को घर की छोटी-छोटी ज़िम्मेदारियां सौंपें. उन्हें पूरा करने पर ‘धन्यवाद’ भी ज़रूर कहें. इससे उन्हें और भी काम करने का प्रोत्साहन मिलेगा और मिल-जुलकर काम करने से रिश्तों में अधिक मधुरता आएगी.

–    पति के साथ जब किसी पार्टी-फंक्शन में या लोगों के बीच हों, तो मैनर्स-एटीकेट्स का ध्यान रखें. अधिक ज़ोर से हंसने-बोलने से बचें.

–    जब भी पार्टनर बात करे, तो उन्हें ध्यान से सुनें. उनकी बात को काटकर अपनी ही समस्याएं न बताने लगें.

–    अधिक शॉपिंग या फ़िज़ूलख़र्ची से बचें. इससे समय व पैसों की बर्बादी होती है.

–    जब वे थके हों और नींद में हों, तो उनसे कोई भी महत्वपूर्ण या विवादित मुद्दे पर विचार-विमर्श न करें. सही समय पर चर्चा करें.

–    पति के अधिकारों का सम्मान करें.

अंततः सभी बातों का निचोड़ इतना भर है कि प्यार-विश्‍वास और केयरिंग नेचर द्वारा जहां आप अपने पति के दिल के क़रीब रहेंगी, वहीं हमेशा उनकी स्वीटहार्ट भी बनी रहेंगी.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ें:  शादी के बाद क्यों बढ़ता है वज़न? जानें टॉप 10 कारण (Top 10 Reasons For Weight Gain After Marriage)

यह भी पढ़ें:  मायके की तरह ससुराल में भी अपनाएं लव डोज़ फॉर्मूला (Love Dose Formula For Happy Married Life)

होनेवाले लाइफ पार्टनर से क्या हैं आपकी अपेक्षाएं? (What Are Your Expectations From Your Future Spouse?)

होनेवाले लाइफ पार्टनर से क्या हैं आपकी अपेक्षाएं? (What Are Your Expectations From Your Future Spouse?)

 हर चेहरे में ढूंढ़ते हैं अक्स उसका… हर तरफ़ महसूस करते हैं वजूद उसका… उसकी हंसी कभी कानों में खनकती है, तो दिल में एक धुंधली-सी तस्वीर उभर आती है… कहीं ये उसकी आहट तो नहीं सोचकर अक्सर चौंक जाते हैं हम… तो कभी ख़्यालोें में बुनते हैं उसकी एक तस्वीर… हम भी क्या करें, दिल के हाथों मजबूर हैं इस कदर कि… उसी को ढूंढ़ते हैं आजकल दर-बदर…

 

Expectations From Your Future Spouse

कोई सपनों का राजकुमार चाहता है, तो कोई हुस्न परी, हर किसी के दिल में एक मूरत होती है, जिसे वो अपना जीवनसाथी बनाना चाहता है. होनेवाले लाइफ पार्टनर को लेकर हर किसी के मन में कुछ इच्छाएं और अपेक्षाएं होती हैं, ऐसी ही कुछ अपेक्षाओं को जानने की हमने कोशिश की.

होनेवाली पत्नी की पति से अपेक्षाएं (Expectations From Your Future Spouse)

एक कॉर्पोरेट फर्म में काम करनेवाली रीना पांचाल कहती हैं कि मेरा होनेवाला पति संस्कारी, समझदार व केयरिंग होना चाहिए. वह एक सुलझा हुआ इंसान हो, एक ऐसा इंसान जिस पर मैं पूरी तरह भरोसा कर सकूं और जो हमारे रिश्ते को पूरी इमानदारी से निभाएगा, जो मेरी ग़लती पर मुझे समझाए और अच्छा करने पर मेरी तारीफ़ भी करे. एक और ज़रूरी बात वह मेरी सैलेरी में कभी हक़ न जताए, अगर मैं उसे अपनी मां के लिए रखना चाहूं, तो उसे कोई एतराज़ न हो.

– मैं जैसी हूं, मुझे वैसे ही अपनाए

हर लड़की यह उम्मीद करती है कि उसका पति उसे वैसे ही अपनाए, जैसी वो है. हर इंसान अलग होता है और यही तो इस रिश्ते की ख़ूबसूरती है कि दो बिल्कुल अलग लोग खट्टी-मीठी यादों के साथ पूरी ज़िंदगी बिताते हैं. महज़ अपनी सहूलियत के लिए दूसरे को बदलना अच्छी बात नहीं.

– पारिवारिक मूल्यों को महत्व देता हो

लड़कियां हमेशा एक फैमिली मैन से शादी करना चाहती हैं, जो अपने परिवार को हमेशा पहली प्राथमिकता देता हो और फैमिली के साथ क्वालिटी टाइम भी बिताता हो. ऐसा व्यक्ति अपनी गृहस्थी को भी सही तरी़के से आगे बढ़ाता है.

– दयालू व धैर्यवान हो

स्वार्थी व उतावले क़िस्म के लोग किसी को पसंद नहीं आते. कोई लड़की नहीं चाहती कि उसका होनेवाला पति दानवीर कर्ण हो, पर कंजूस भी न हो. उसमें सब्र होना चाहिए, ताकि हर नए बदलाव को धैर्य के साथ सोच-समझकर हैंडल कर सके.

– अपनी ज़िम्मेदारियों को बख़ूबी निभाता हो

हर लड़की चाहती है कि जो भी लड़का उसकी ज़िंदगी में आए, वह एक ज़िम्मेदार इंसान हो, क्योंकि अगर वह ज़िम्मेदार है, तो शादी से जुड़ी सभी ज़िम्मेदारियों को भी पूरी इमानदारी से निभाएगा. ऐसे व्यक्ति के साथ ज़िंदगी बेहद आसान हो जाती है.

न्यूज़ चैनल टीवी9 महाराष्ट्र में बतौर प्रोग्रामिंग एंकर काम करनेवाली सुनीता इल्हे के अनुसार, “मेरा होनेवाला जीवनसाथी बहुत प्यार करनेवाला तो होना ही चाहिए, साथ ही साथ इंटेलिजेंट भी होना चाहिए. ज़िंदगी में कुछ कर दिखाना चाहता हो. एक समझदार इंसान हो और हां वेल सेटल्ड होना चाहिए. वह ऐसा हो जिस पर मैं आसानी से भरोसा कर सकूं और अपनी पूरी ज़िंदगी उसके साथ बिताने के लिए तैयार हो जाऊं.”

– महिलाओं की इज़्ज़त करता हो

कहते हैं कि जो लड़का अपनी मां को बहुत प्यार करता है और उनकी इज़्ज़त करता है, वह अपनी पत्नी से भी उतना ही प्यार करेगा, इसलिए लड़कियां हमेशा एक ऐसे लड़के से शादी करना चाहती हैं, जो महिलाओं को सच्चे दिल से मान-सम्मान देता हो. पर लड़कियों को ममाज़ बॉय टाइप लड़के बिल्कुल पसंद नहीं आते.

– शादी के महत्व को समझता हो

किसी भी लड़के के लिए यह बहुत ज़रूरी है कि वह जिस बंधन में बंधने जा रहा है, उसके महत्व को समझता हो. शादी महज़ एक संस्कार नहीं एक बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी है, जिसे आपको निभाना होता है. ख़ास तौर से शुरुआती दौर में हर क़दम पर कई समझौते करने पड़ते हैं. उसे पता होना चाहिए कि अपने दांपत्य जीवन को सुखमय बनाने के लिए उसे रिश्ते को इमानदारी से निभाना होगा.

– फाइनेंशियली स्मार्ट हो

हर लड़की चाहती है कि उसका होनेवाला पति भले ही बहुत अमीर न हो, पर इतना मेहनती व स्मार्ट हो कि उसे कभी किसी चीज़ के लिए अपना मन न मारना पड़े. माना कि किसी भी इंसान की हर इच्छा पूरी नहीं हो सकती, पर ज़्यादा-से-ज़्यादा करने की कोशिश तो कर ही सकते हैं.

– जो ख़ुद के साथ-साथ दूसरों का भी ख़्याल रखे

कहते हैं कि जो ख़ुद से प्यार करता है, वो दूसरों से भी उतना ही प्यार करता है. लड़कियों को ऐसे लड़के बिल्कुल अच्छे नहीं लगते, जो स़िर्फ दूसरों का ख़्याल रखते हैं या स़िर्फ अपना ख़्याल रखते हैं. लड़का ऐसा हो, जो अपने साथ-साथ दूसरों का भी ख़्याल रखे.

– जो परिवार के साथ-साथ समाज के प्रति भी जागरूक हो

लड़कियां चाहती हैं कि उनका होनेवाला पति ऐसा हो, जो अपने व अपने परिवार के साथ-साथ समाज के प्रति भी जागरूक हो और समाज की बेहतरी के लिए कुछ कर दिखाना पसंद करता हो.

 – प्रोग्रेसिव सोचवाला हो

समय बदलने के साथ-साथ हमारी लाइफस्टाइल काफ़ी बदली है, ऐसे में लड़कियां चाहती हैं कि उनका होनेवाला पति समय के साथ क़दम से क़दम मिलाकर चलनेवाला हो. वह आगे बढ़ने और कुछ कर दिखाने में विश्‍वास रखता हो. अपने साथ-साथ अपने परिवार की प्रगति का भी पूरा ख़्याल रखता हो. पत्नी की क़ामयाबी को देखकर उसे आगे बढ़ने की प्रेरणा देने वाला एक मज़बूत प्रेरणादायक स्रोत बन सके.

– सेंस ऑफ ह्यूमर अच्छा हो

हंसते रहें, तो ज़िंदगी बड़े आसानी से बीत जाती है. उसका सेंस ऑफ ह्यूमर अच्छा हो, ताकि घर में हंसी-ख़ुशी का माहौल बना रहे. वह मुझे कभी उदास न रहने दे.

मुंबई में काम करनेवाली योगिता शिंदे कहती हैं कि मेरा होनेवाला पति पारिवारिक मूल्यों को सबसे ज़्यादा महत्व देता हो. वह एक समझदार व केयरिंग इंसान हो. उसमें कुछ कर गुज़रने की चाहत हो और वह ज़िंदगी में आगे बढ़ना चाहता हो. उसकी सोच प्रोग्रसिव हो और उसकी ज़िंदगी में एक ख़ास मकसद हो.

ये भी पढें: रिश्ते से डिलीट करें इन 10 आदतों को

Expectations From Your Future Spouse

होनेवाले पति की पत्नी से अपेक्षाएं

पेशे से वकील गजेंद्र वैती कहते हैं कि अपेक्षाएं तो हर किसी की होती हैं, पर मुझे लगता है कि अपनी होनेवाली पत्नी से कुछ अपेक्षाएं करने से पहले मुझे अपनी ज़िम्मेदारियों का एहसास होना चाहिए. एक लड़की जब अपना घर, परिवार सब कुछ मेरी ख़ातिर छोड़कर आती है, तो यह मेरा कर्तव्य है कि मैं उसे अपने घर में पराया महसूस न होने दूं. मैं उसके माता-पिता को अपनों-सा प्यार दूं और उससे भी उम्मीद करूंगा कि वह मेरे माता-पिता को पूरे दिल से अपनाए. अगर उसे कोई परेशानी हो, तो किसी और को बताने से पहले मुझे बताए, ताकि हम मिल-जुलकर किसी भी समस्या को सुलझा सकें.

– मैं उस पर आंख मूंदकर भरोसा कर सकूं

आज भले ही ज़माने में कितने ही बदलाव आ रहे हों, पर हर रिश्ते की नींव आज भी विश्‍वास ही होती है. भरोसे और विश्‍वास पर टिका यह रिश्ता दोनों की समझदारी पर भी निर्भर रहता है. इसलिए हर लड़का चाहता है कि उसकी ज़िंदगी में ऐसी लड़की आए, जिस पर वह आंख मूंदकर विश्‍वास कर सके.

– ज़िंदगी को एंजॉय करना जानती हो

हर लड़के को यह उम्मीद होती है कि उसके जीवन में आनेवाली लड़की ज़िंदगी को एंजॉय करना जानती हो. छोटी-छोटी चीज़ों में ख़ुशियां ढूंढ़कर ख़ुद भी ख़ुश रहे और दूसरों को भी ख़ुश रखे. ऐसे लाइफ पार्टनर के साथ ज़िंदगी बहुत आसान हो जाती है.

– मज़बूत सपोर्ट सिस्टम बन सके

किसी भी परिवार में अकस्मात कोई भी परेशानी आ सकती है. कभी-कभी ऐसी स्थिति में घरवालों को एक मज़बूत सपोर्ट सिस्टम की ज़रूरत होती है. ऐसे में मज़बूत इरादोंवाली लड़की पूरे परिवार को संभाल सकती है. लड़कों को ऐसी ही लड़कियों की तलाश होती हैं.

– मुझे पर्याप्त स्पेस दे

कुछ लड़कियों की आदत होती है, सैटेलाइट की तरह हर व़क्त पति के पीछे पड़े रहना. अगर रिश्ते में पर्याप्त स्पेस न मिले, तो रिश्ते में घुटन पैदा होने लगती है. इसलिए लड़के चाहते हैं कि उनकी होनेवाली पत्नी इतनी प्रैक्टिकल हो कि इस बात को समझ सके.

– जो मेरे बिना कुछ कहे सब समझ जाए

भले ही लड़के व लड़कियों की समझ अलग-अलग होती है, फिर भी सभी लड़के चाहते हैं, कि उनकी होनेवाली पत्नी ऐसी हो, जो बिन कहे उनके दिल की बात समझ सके.

– एक अच्छी मां बन सके

हर लड़का चाहता है कि उसकी होनेवाली पत्नी ऐसी हो, जो एक बहुत अच्छी मां बन सके, ताकि उसके बच्चों की अच्छी परवरिश हो सके. वैसे कहा जाता है कि हर लड़की में जन्म से ही ममता होती है, पर वह कितनी अच्छी मां बनेगी, यह तो तभी पता चलता है, जब वह मां बनती है.

– दूसरों का ख़्याल रखना जानती हो

कुछ लड़कियां पति को तो पूरे मन से अपना लेती हैं, पर उसके घरवालों को हमेशा पराया ही समझती हैं. किसी की पत्नी स़िर्फ उसकी पत्नी नहीं, बल्कि उस परिवार की बहू भी होती है. इसलिए ज़्यादातर लड़के यही चाहते हैं कि जो भी लड़की उसकी ज़िंदगी में आए वह घर के हर सदस्य को अपनाए.

– जिसे अपनी प्राथमिकताएं पता हों

ज़्यादातर लड़किया अपनी ज़रूरतों और चाहतों में अंतर नहीं कर पाती, नतीजतन फिज़ूख़र्ची करने लगती हैं. अपने पति की पॉकेट पर उसका पूरा हक़ होता है, पर घर की ज़िम्मेदारी भी उसके कंधों पर होती है, ऐसे में उसे अपनी प्राथमिकताएं रखनी आती हों.

– मेरे परिवार को अपना परिवार मानकर अपनाए

ज़्यादातर लड़के अपने परिवार से बहुत प्यार करते हैं, इसलिए चाहते हैं कि जो भी लड़की उसकी ज़िंदगी में आए, वह उसके परिवार को अपने परिवार की तरह अपनाए. हालांकि यह कहना जितना आसान है, करना उतना ही मुश्किल. पर अगर मैं उसके परिवार को अपने परिवार की तरह अपनाऊं, तो शायद उसके लिए भी आसान हो जाए.

– समझदार व ज़िम्मेदार हो

हर लड़के की यह दिली तमन्ना होती है कि जो लड़की उसकी ज़िंदगी में आए, वह समझदार व ज़िम्मेदार हो. घर-गृहस्थी की ज़िम्मेदारी को बख़ूबी निभा सके.

एक एनजीओ में काम करनेवाले आसिफ़ सैयद के अनुसार, “उनकी होनेवाली लाइफ पार्टनर अच्छी पढ़ी-लिखी और समझदार हो. वह छोटी-छोटी बातों का बतंगड़ बनानेवाली न हो, साथ ही एक अच्छी कुक हो. मेरे लिए चेहरे की ख़ूबसूरती मायने नहीं रखती, बस वह नेकदिल हो. मैं चाहता हूं कि वह अपने साथ-साथ अपनों का ख़्याल रखना भी जानती हो.”

 – अनीता सिंह 

 

ये भी पढें:पति की इन 7 आदतों से जानें कितना प्यार करते हैं वो आपको
ये भी पढें: रिलेशनशिप हेल्पलाइनः कैसे जोड़ें लव कनेक्शन?

पति की ग़लत आदतों को यूं छुड़ाएं (Make Your Husband Quit His Bad Habits)

Husband, Bad Habits
पति की ग़लत आदतों को यूं छुड़ाएं (Make Your Husband Quit His Bad Habits)
आप उन्हें बेपनाह प्यार करती हैं, पर उनकी ग़लत आदतों से भी परेशान रहती हैं. तो क्यों न कुछ ऐसा करें कि वे सुधर भी जाएं और आपसी प्यार भी बना रहे.

ख़ुशहाल पारिवारिक जीवन में पतिपत्नी के आपसी प्यार व सहयोग का काफ़ी महत्व होता है. ऐसे में पत्नी जहां हर ज़िम्मेदारियों को निभाती है, तो वह अपने पति से भी यह उम्मीद रखती है कि वे भी इसमें उसका भरपूर साथ दें और पतिदेव करते भी हैं. लेकिन इसके बावजूद पतियों की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जिनसे पत्नियां परेशान रहती हैं. वे पति की इन ग़लत आदतों को छुड़ाने की भरसक कोशिश भी करती हैं. इस विषय में वीडिटर्ना डॉट इन के फाउंडर सनीष सुकुमारन ने हमें कई उपयोगी जानकारियां दीं.

Husband, Bad Habits

अल्कोहल व स्मोकिंग की आदत

यह समस्या तक़रीबन अधिकतर घरों में देखने को मिलती है. पत्नी चाहे लाख सेहत की दुहाई दे, पर पतिदेव के कान पर जूं तक नहीं रेंगती. पुरुषों की यह प्रवृत्ति रही है कि वे शराब व सिगरेट को अपनी शान समझते हैं. लेकिन जब इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ने लगता है, तब उनकी ज़िंदगी ही नहीं, पारिवारिक स्थिति भी डांवाडोल होने लगती है.

स्मार्ट ट्रिक्स

पति को शराब व सिगरेट से होनेवाले दुष्प्रभाव से अवगत कराएं.

ऐसे कई परिवारों के उदाहरण दे सकती हैं, जिनका घर इसके कारण बर्बाद हो गया.

अपने व बच्चों के प्रति प्यार का वास्ता देकर भी इसे छुड़ाने का प्रयास कर सकती हैं.

पति को प्यार से समझाएं कि इससे उनकी सेहत ही नहीं, बल्कि परिवार की भी मानसिक स्थिति प्रभावित होती है.

शेविंग न करना

अधिकतर पुरुषों की आदत होती है कि वे शेविंग कम ही करते हैं या नियमित रूप से नहीं करते. उनकी इस आदत से पत्नियां अक्सर चिढ़ती हैं. कई तो ऐसे भी होते हैं कि शादीफंक्शन आदि में भी शेविंग करके जाना ज़रूरी नहीं समझते.

स्मार्ट ट्रिक्स

पति को हाइजीन के महत्व के बारे में समझाएं.

पार्टनर को कहें कि रेग्युलर शेविंग करने से उनकी सेहत ही नहीं, बल्कि पर्सनैलिटी भी निखरती है.

आज के ज़माने में प्रेज़ेंटेबल होना कितना ज़रूरी है. अप टु डेट रहेंगे, तो ऑफिस में भी इम्प्रेशन बना रहेगा.

इस इमोशनल कार्ड को भी इस्तेमाल करना न भूलें कि उनका क्लीन शेव रहना आपको बेहद पसंद है.

पर्सनल बातें शेयर न करना

यह हर कोई जानता है कि अधिकतर पतियों की यह आदत होती है कि वे अपनी पत्नी को हर बात नहीं बताते. ख़ासतौर पर दोस्तों से जुड़ी बातें या किसी के साथ कोई लेनदेन हो या फिर किसी की मदद ही क्यों न की हो. ऐसा वे इसलिए करते हैं ताकि घर में कोई विवाद या कलह न हो, लेकिन वे नहीं जानते कि इसी वजह से भविष्य में उन्हें कई मुसीबतों का सामना भी करना पड़ सकता है.

स्मार्ट ट्रिक्स

आप पति को समझा सकती हैं कि उनका ऐसा करना ठीक नहीं है. पतिपत्नी के रिश्ते में पारदर्शिता का होना बेहद

ज़रूरी है.

कल को कोई धोखा दे दे या फिर कोई उनसे ही किसी बात को लेकर पूछताछ करे, तो उनके लिए उस स्थिति को हैंडल करना मुश्किल हो सकता है.

कई बार बहुतसी बातें अपने तक ही रखने से कई अनजानी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

इससे आपकी सेहत भी प्रभावित हो सकती है और आप खुलकर ज़िंदगी को नहीं जी पाते हैं.

रात को घर देरी से आना

माना आज की फास्ट व बिज़ी लाइफ में वर्कलोड बढ़ता ही जा रहा है, लेकिन पतियों द्वारा अक्सर ओवरटाइम करना, घंटों ऑफिस में समय बिताना, वक़्त पर घर न आना पत्नियों की परेशानी का सबब बनने के साथसाथ उन्हें शंकित भी करने लगता है.

स्मार्ट ट्रिक्स

* पति को समय पर आने के लिए आग्रह करें या फिर कहें कि उनके आने के बाद ही परिवार के सभी डिनर एक

साथ करेंगे.

* आपको और परिवार को समय देने के महत्व को समझाएं.

* काम का महत्व अपनी जगह है और परिवार का अपनी जगहइस पहलू को विस्तार से समझाएं.

* टाइम मैनजमेंट करना सिखाएं. कई बार पति महोदय की लापरवाही और ढुलमुल रवैया भी देरी से आने का कारण

होता है.

यह भी पढ़ें:  क्या करें जब पति को हो जाए किसी से प्यार?

Husband, Bad Habits

अपनों को छोड़ दूसरों को अधिक महत्व देना

पतियों की यह ख़ास आदत होती है कि घर की मुर्गी दाल बराबर यानी अपने घरपरिवार के लोगों के गुणों को कम आंकेंगे और दूसरों के परिवार, ख़ासकर अपने दोस्तों व उनके परिवार की जी भरकर तारीफ़ करेंगे. उनके गुणों की बखान करेंगे.

स्मार्ट ट्रिक्स

* मुसीबत आने पर अपने ही काम आते हैं, इसे पति महोदय को समझाएं.

* बारबार दूसरों के सामने अपने परिवार को कमतर आंकना ख़ुद उनके व्यक्तित्व पर भी प्रश्‍नचिह्न लगाता है.

* पति को आगाह करें कि इससे आप व बच्चे हतोत्साहित होते हैं. कभीकभी आपमें हीनभावना भी पनपने लगती है.

* पार्टनर को बताएं कि बच्चे पिता को महत्व कम देने लगे हैं. उनके दिलोदिमाग़ में यह बात घर कर गई है कि पापा को तो बस अपने दोस्तों के ही बीवीबच्चे अच्छे लगते हैं. अतः पति को इन सभी बातों से अवगत कराएं और उनका व्यवहार बैलेंस रखने के लिए कहें.

इन्हें भी आज़माएं

* पतिपत्नी एकदूसरे के साथ अधिक समय बिताएं.

* पति को क्रोध में व चिढ़कर नहीं, बल्कि संयम व प्रेम से समझाएं.

* हालात व स्थिति के अनुसार पति को उनकी ज़िम्मेदारियों का एहसास करवाएं.

* घरपरिवार व अपनों के महत्व को

समझाएं. ध्यान रहे पहले परिवार, बाक़ी सब बाद में.

* बच्चे बड़ों से ही सीखते हैं, पति की ग़लत आदतों का बच्चों पर भी बुरा प्रभाव पड़ सकता है. इस पहलू पर पति महोदय का ध्यान आकर्षित करें.

* मास्टर स्ट्रोक तो यही होगा कि पत्नी पति को अपनी आदत बना लें, तब उन्हें आपके सिवा किसी और में दिलचस्पी कम

ही होगी.

परमिंदर निज्जर

यह भी पढ़ें: किस राशिवाले किससे करें विवाह?

हर लड़की ढूंढ़ती है पति में ये 10 ख़ूबियां (10 Qualities Every Woman Look For In A Husband)

Qualities, Woman, Husband, Relationship with husband, qualities of good husband
भावी पति को लेकर हर लड़की की पसंद अलग-अलग हो सकती है, पर ऐसी कुछ बातें व विशेषताएं होती हैं, जिन्हें हर लड़की अपने होनेवाले पति में ढूंढ़ती (Qualities Every Woman Look For In A Husband) है. आइए, उन दिलचस्प पहलुओं के बारे में जानते हैं.

Qualities, Woman, Husband, Relationship with husband, qualities of good husband

1. तक़रीबन हर तीसरी लड़की की यह ख़्वाहिश ज़रूर होती है कि उसका हसबैंड स्मार्ट व गुड लुकिंग हो. वे गुण पर कम, रूप पर अधिक आकर्षित होती हैं, इसलिए उनकी इस खोज में सुंदर लड़का होना टॉप मोस्ट डिमांड पर होता है.

2. हर किसी के लिए रिश्ते में केयरिंग नेचर का होना सर्वोपरि होता है. यही लड़कियों में भी देखा गया है. उनकी शिद्दत से यह चाह रहती है कि उनका पति उनका ख़्याल रखे. उन्हें लाड़ करे, एक तरह से पैंपर करे. यानी लड़कियां केयरिंग नेचर के लड़के को अधिक महत्व देती हैं.

3. हर लड़की यह ज़रूर देखती है कि उसका पति कमाऊ हो यानी अच्छी नौकरी या फिर बिज़नेस करता हो. भावी जीवन में मज़बूत आर्थिक स्थिति का होना उनके लिए बहुत ज़रूरी होता है. वे अपने भविष्य को सुनिश्‍चित करने के लिए अच्छे सेटल्ड यानी नौकरीपेशा लड़कों को अधिक पसंद करती हैं.

4. वैसे आजकल की लड़कियां ख़ुशमिज़ाज लड़कों को भी अधिक महत्व देती हैं. उनका यह मानना है कि लड़का ज़िंदादिल व हंसमुख होगा, तो ज़िंदगी मज़े से हंसतेहंसते कट जाएगी.

5. यदि पतिदेव घूमने के शौक़ीन हैं, तो पत्नी के लिए ज़िंदगी का सफ़र मौजमस्ती के साथ गुज़ारना आसान हो जाता है. इसलिए लड़कियों की यह दिली ख़्वाहिश होती है कि उनके भावी पति को घूमने का शौक़ ज़रूर हो, ताकि वे भी समयसमय पर घूमतेफिरते ज़िंदगी के लुत्फ़ उठा सकें.

6. लड़कियां मैनर्स व एटीकेट्स को भी गंभीरता से लेती हैं. जो लड़के शालीन स्वभाव के होते हैं और जगह व व्यक्ति के अनुसार उन्हें उचित मानसम्मान देते हैं, ऐसे व्यक्तित्ववाले लड़के उन्हें अधिक आकर्षित करते हैं.

यह भी पढें: पति की इन 7 आदतों से जानें कितना प्यार करते हैं वो आपको

Qualities, Woman, Husband, Relationship with husband, qualities of good husband

7. लड़कियां अपने पार्टनर में इमोशनल फैक्टर को भी ख़ूब देखती हैं. यदि पति संवेदनशील होंगे, तभी तो पत्नी की भावनाओं व दुखदर्द को भलीभांति समझ सकेंगे. यही ख़्याल उन्हें अपने पार्टनर में इमोशंस को देखने के लिए मजबूर करता है.

8. रिश्तों की कद्र करनेवाले और जीवनसाथी को पर्याप्त समय देनेवाले लड़के की ख़्वाहिश भी लड़कियों में होती है. यदि पतिदेव ऑफिस के कामों व टूर में ही बिज़ी रहेंगे, तो भला पत्नी को कितना वक़्त दे पाएंगे. इसलिए जो पुरुष रिश्तों की गरिमा को बनाए रखते हैं और पार्टनर को भी क्वालिटी टाइम देते रहते हैं, ऐसे पार्टनर पत्नी को बेहद पसंद आते हैं.

9. पत्नी का सम्मान करनेवाले और उसकी बातों को भी अहमियत देनेवाले साथी की चाह भी ख़ूब होती है. अधिकतर घरों में देखा गया है कि पति महाशय घरेलू मामलों को छोड़कर अन्य आर्थिक मामलों मेंं पत्नी को उतना तवज्जो नहीं देते, जितना कि देना चाहिए. ऐसे में लड़कियां यह ज़रूर चाहती हैं कि घरबाहर हर मामले में पति उनकी बातों को भी अहमियत दें. ऐसे शख़्स से वे बहुत अधिक प्रभावित होती हैं.

10. व्यक्तिगत स्पेस देनेवाले पार्टनर को हर लड़की पसंद करती है. उन्हें ऐसे पति पसंद हैं, जो हर समय पत्नी पर रोकटोक नहीं लगाते, जासूसी नहीं करते, उनकी सहेलियों से मिलने की पूरी आज़ादी देते हैं, मायके जाने पर अधिक पाबंदी नहीं लगाते.

भावना अमित

यह भी पढ़ें:  क्या करें जब पति को हो जाए किसी से प्यार?

यह भी पढ़ें: अपने दरकते रिश्ते को दें एक लव चांस

सेक्स प्रॉब्लम्स- मेरे पति सेक्स के समय काफ़ी वाइल्ड हो जाते हैं (Sex Problems- My Husband Gets Too Wild During Sex)

Sex Problems wild sex

Sexual Health, Sex Problems wild sex

मेरी शादी को 6 महीने हुए हैं. मेरे पति सेक्स के समय काफ़ी वाइल्ड हो जाते हैं, जिससे मैं बहुत असहज महसूस करती हूं. लेकिन मैं डर की वजह से उनसे कुछ कह नहीं पाती. क्या करूं, क्योंकि इसी तरह चलता रहा, तो मेरी सेक्स में रुचि ख़त्म हो जाएगी और मेरे मन में डर बढ़ता जाएगा.

– रितु सिंह, पटना.

आप घबराएं नहीं और अपने मन से सारे डर निकाल दें. अक्सर कुछ पुरुषों को ऐसा लगता है कि वो सेक्स के समय जो भी करते हैं, वो सही होता है, लेकिन यह आपकी ज़िम्मेदारी है कि अपने पति से बात करें, उन्हें प्यार से समझाएं कि आप कैसा महसूस करती हैं. उनका विश्‍वास जीतें और बात करें, वो ज़रूर समझेंगे. यदि ज़रूरी लगे, तो आप दोनों काउंसलर के पास भी जा सकते हैं.

यह भी पढ़े: सेक्स प्रॉब्लम्स- क्या मास्टरबेशन से शारीरिक कमज़ोरी आती है? 

यह भी पढ़े: सेक्स प्रॉब्लम्स- बेटियों से सेक्स से संबंधित बातचीत नुक़सानदेह तो नहीं रहेगी?… 

मैं 28 साल का हूं. शादी तय हो गई है, लेकिन मैं अपनी फिटनेस को लेकर बहुत परेशान हूं. मेरा वज़न कुछ ज़्यादा है और टमी भी निकल रही है. मेरी मंगेतर ने भी इशारों-इशारों में कहा है कि मुझे शादी से पहले फिट हो जाना चाहिए, क्योंकि वो अपनी फिटनेस को लेकर काफ़ी मेहनत करती है. क्या इससे मेरी सेक्स लाइफ पर असर पड़ेगा? क्या करूं?

– विक्रम भारद्वाज, पंजाब.

फिटनेस न स़िर्फ अट्रैक्टिव नज़र आने के लिए, बल्कि अच्छी सेहत के लिए भी ज़रूरी है. आपकी मंगेतर भी ज़रूर चाहेगी कि आप फिट रहें, ताकि आप और भी हेल्दी व आकर्षक नज़र आएं. फिटनेस से आपकी सेक्स लाइफ प्रभावित हो सकती है, क्योंकि अगर आप अनफिट हैं, तो आप अनहेल्दी हैं. आपकी पार्टनर अगर आपके प्रति अट्रैक्शन महसूस नहीं करेंगी, तो सेक्स के प्रति उसकी भी रुचि कम होती जाएगी. बेहतर होगा कि आप अभी से अपनी डायट व फिटनेस पर काम करना शुरू करें.

[amazon_link asins=’B01N8QD6QH,B06XK4ZXM1,B0765ZNY1P’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’b08b0efc-b4ab-11e7-82a9-ad29c0864482′]

डॉ. राजीव आनंद
सेक्सोलॉजिस्ट
([email protected])

सेक्स संबंधित अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करेंSex Problems Q&A

पति की इन 7 आदतों से जानें कितना प्यार करते हैं वो आपको (These 7 Habits Can Tell How Much Your Husband Loves You)

यूं तो पति-पत्नी का रिश्ता बेहद जटिल होता है. लेकिन इस रिश्ते को समझना भी आसान हो सकता है अगर आप पार्टनर के बॉडी लैंग्वेज को पढ़ना सीख जाएं. उनकी आदतों से भी आप अपने रिश्ते की गहराई जान सकती हैं. कैसे, आइए जानते हैं.

iStock_000061970850_Small

उनके हाथ पकड़ने की स्टाइल

यदि पुरुष आपका हाथ कसकर पकड़े और उसकी उंगलियां इंटरलॉक्ड हों तो इसका मतलब है कि वह आपसे बेइंतहा मुहब्बत करता है और अपनी मुहब्बत का खुलेआम इज़हार करने में भी नहीं झिझकता. ऐसे पुरुष का साथ आपकी ज़िंदगी में ख़ुशियां लेकर आएगा. लेकिन अगर हाथ पकड़ते समय पुरुष के हाथ का कसाव ढीला हो या दबाव हल्का हो तो इसका मतलब है कि या तो आपके रिश्ते अभी शुरुआती दौर में हैं या अभी तक वो आपको समझ नहीं पाया है.

ये भी पढें: स्त्रियों की 10 बातें, जिन्हें पुरुष कभी समझ नहीं पाते

पैरों की पोज़ीशन

अगर पुरुष आपके साथ बैठा हो, उसके पैर क्रॉस हों, लेकिन पैरों की दिशा आपकी ओर न हो तो ये संकेत ठीक नहीं. इसका मतलब है कि उसे आपमें ख़ास रुचि नहीं है. लेकिन अगर उसके क्रॉस पैरों की दिशा आपकी ओर हो तो इसका अर्थ है कि वो आपसे प्यार करता है, आपमें दिलचस्पी लेता है और आपका साथ उसे पसंद आता है.

अचानक ज़्यादा प्यार जताने लगे

अचानक आपका पार्टनर आपसे बहुत अधिक प्यार जताने लगे तो ख़ुश न हो जाएं और ये सोचें कि कहीं दाल में कुछ काला तो नहीं है. अगर घर देर से लौटने पर वो आपकी ख़ुशामद करने लगे तो समझ जाइए कि वो अपनी किसी ग़लती को छिपाने की कोशिश कर रहा है. इसके अलावा अक्सर अगर वो ओवरटाइम का बहाना बनाकर देर से घर लौटता हो, मोबाइल या कंप्यूटर के साथ ़ज़्यादा समय बिताने लगा हो तो समझ जाएं कि वो किसी और की ओर आकर्षित हो रहा है.

अगर वो आई कॉन्टैक्ट किए बिना बात करे

अगर वो आपके साथ तो है, लेकिन आपकी आंखों में झांके बिना बात कर रहा है तो या तो वो शर्मीले स्वभाव का है या फिर आपसे कुछ छिपा रहा है. आपके साथ होने के बावजूद अगर वो इधर-उधर देख रहा है तो इसका मतलब है कि वो वफ़ादार नहीं है और ऐसे पुरुष अच्छे लाइफ़ पार्टनर नहीं बन सकते और आपका साथ कभी भी छोड़कर जा सकते हैं.

 यदि बात करते समय पुरुष नाख़ून कुतरे या बार-बार बाल ठीक करे

तो इसका मतलब है कि वो झूठ बोल रहा है या डींगें हांक रहा है. अगर वो हाथ बांधकर बैठे तो ये उसमें आत्मविश्‍वास की कमी को दर्शाता है. या फिर ये भी हो सकता है कि वो नर्वस हो और इस बात से डरा हुआ कि पता नहीं आप उसके मन को समझेंगी या नहीं. ऐसे में रिश्ते में आपको ही पहल करनी होगी और उसकी नर्वसनेस को ख़त्म करना होगा.

यदि वो अक्सर अकेले में मिलने का प्रस्ताव रखे

अगर वो हमेशा इस बात पर जोर दे कि आप दोनों जब भी मिलें, अकेले में ही मिलें तो इसका अर्थ है कि वो आपसे प्यार नहीं करता और उसका प्यार शारीरिक है. ऐसे रिश्ते ़टिकाऊ नहीं होते. इसलिए ऐसे पुरुषों से दूर रहना ही बेहतर है.

ये भी पढें: 10 बातें जो पति को कभी न बताएं 

यदि वह अपने बारे में बात करने से बचे

तो समझ जाएं कि दाल में कुछ काला है. या तो उसने आपसे अपने बारे में जो कुछ बताया है, वो सब झूठ है और पोल खुल जाने के डर से या सच्चाई मुंह से निकल जाने के डर से वो कम से कम बात करना चाह रहा है या फिर ये भी हो सकता है कि वो आपको अपनी ज़िंदगी में शामिल ही नहीं करना चाहता. दोनों ही स्थितियां आपके रिश्ते के लिए ठीक नहीं, इसलिए सावधान हो जाएं.

[amazon_link asins=’B075LPVD3L,B00TZLSD18,B01MU9ZLPM,B075Z1MD6D’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’88099f5d-b8b6-11e7-b5bc-bfe32ed2eefc’]

ना उम्र की सीमा हो, पति से उम्र में बड़ी हैं ये बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़ (7 Bollywood celebrities are older than their husband)

Bollywood celebrities

FotorCreated

किसी ने सच ही कहा है प्यार में उम्र की कोई सीमा नहीं होती, ये कभी भी, कहीं भी, किसी से भी हो सकता है और इसकी जीती-जागती मिसाल है वो सितारें जिन्होंने प्यार की ख़ातिर बेझिझक अपने से कम उम्र के हमसफ़र का हाथ थामना स्वीकार किया.

704570
सोहा अली-कुणाल खेमू
2009 में फिल्म ढूंढ़ते रह जाओगे की शूटिंग के दौरान एक-दूसरे को दिल दे बैठे सोहा और कुणाल अपने रिश्ते को लेकर हमेशा ख़ामोश रहें. 2013 में वो दोनों चुपचाप घर से निकल गए और लिव इन में रहने लगें. कुणाल ने सोहा को पेरिस में प्रपोज़ किया और जनवरी 2015 में ये कपल शादी के बंधन में बंध गया. सोहा कुणाल से पांच साल बड़ी हैं, मगर इनकी बॉन्डिंग देखकर  यक़ीन हो जाता है कि प्यार में उम्र मायने नहीं रखती.

bipasha-karan
बिपाशा बासु-करन सिंह ग्रोवर

पिछले साल शादी के बंधन में बंधने वाली इस जोड़ी में भी उम्र का काफ़ी फ़ासला है. बिपाशा करन से 4 साल बड़ी हैं. उम्र में बड़ी होने के कारण ही करन की मां इस रिश्ते के लिए राज़ी नहीं थीं, मगर बाद में मान गईं. वैसे हमेशा एक-दूसरे का हाथ थामें ख़ुश दिखने वाले बिपाशा और करन की जोड़ी को देखकर भी यही लगता है कि प्यार में उम्र एक नंबर से ज़्यादा और कुछ नहीं होता.

farhan-adhuna-story+fb_647_042716012021
अधुना-फरहान अख़्तर

डायरेक्टर से एक्टर बनें फरहान अख़्तर ने भी अपने से 6 साल बड़ी अधुना अख़्तर से शादी की है. फरहान और अधुना की मुलाक़ात उस व़क्त हुई जब फरहान सुपरहिट फिल्म दिल चाहता है कि स्क्रिप्ट लिख रहे थे. साल 2000 में दोनों ने शादी कर ली, हालांकि शादी के 16 साल बाद कुछ मनमुटाव के बाद दोनों फिलहाल अलग हो चुके हैं.

download

मेहर-अर्जुन रामपाल
शादी के सालों बाद भी बॉलीवुड के जेंटलमैन अर्जुन रामपाल का अपनी पत्नी मेहर के प्रति प्यार कम नहीं हुआ है. अर्जुन ने 1998 में सुपरमॉडल मेहर से शादी की. मेहर उनसे 2 साल बड़ी हैं, मगर दोनों का रिश्ता बहुत मज़बूत है. पिछले साल ऋतिक-सुजैन का रिश्ता टूटने के बाद सुजैन का नाम अर्जुन रामपाल के साथ जोड़ा जाने लगा, मगर इन विवादों का उनके रिश्ते पर कोई असर नहीं हुआ.

Aishwarya and Abhishek at amfar dinner
ऐश्‍वर्या-अभिषेक बच्चन

बॉलीवुड के सबसे हॉट कपल में शुमार जूनियर बच्चन यानी अभिषेक बच्चन की जीवनसंगिनी ऐश्‍वर्या भी उनसे क़रीब 2 साल बड़ी हैं. दोनों की प्रेम कहानी फिल्म धूम-2 के सेट पर शुरू हुई. हालांकि दोनों फ़िल्म में एक-दूसरे के ऑपोज़िट नहीं थे, लेकिन वे साथ वक़्त बिताते थे. सूत्रों की माने तो फिल्म गुरु की शूटिंग के दौरान दोनों बेहद क़रीब आ गए और टोरंटो में फिल्म के प्रीमियर के बाद जूनियर बच्चन ने ऐश्‍वर्या को प्रपोज़ किया औैर ऐश ने बिना किसी देरी के हां कर दी और गुरु फिल्म की ये हिट जोड़ी रियल लाइफ की हॉट जोड़ी बन गई.

291102-shirish-kunder-farah-khan
फराह ख़ान-शिरीष कुंदर

बॉलीवुड सितारों को अपने इशारों पर नचाने वाली कोरियोग्राफर फराह ख़ान का दिल भी जब अपने से 8 साल छोटे शिरीष कुंदर पर आया, तो उन्होंने भी प्यार की ख़ातिर उम्र के इस अंतर को दरकिनार कर दिया. आज तीन ख़ूबसूरत बच्चों की मां फराह शिरीष के साथ ख़ुश हैं और शिरीष को भी अपने से बड़ी उम्र की फराह से कोई शिकायत नहीं है. यानी अगर दिल मिल जाएं तो उम्र का फ़ासला कोई मायने नहीं रखता.

saif-and-amrita
अमृता सिंह-सैफ़ अली ख़ान

1991 में सैफ़ अली ख़ान ने अपने से 12 बड़ी एक्ट्रेस अमृता सिंह से शादी करके सबको चौंका दिया. उम्र के इस फासले की वजह से ही दोनों की शादी ने ख़ूब सुर्ख़ियां बटोरी. सैफ़ ने अपने माता-पिता की इजाज़त के बिना बस कुछ ख़ास दोस्तों की मौजूदगी में अमृता से मंदिर में शादी कर ली. दोनों के रिश्ते पर कई सवाल भी उठे, लेकिन इन्होंने ज़िंदगी के 12 ख़ूबसूरत साल साथ बिताएं. 2004 में तलाक़ के बाद दोनों की राहें जुदा हो गई. 2012 में सैफ ने अपने से 10 साल छोटी करीना कपूर से शादी कर ली. हाल ही में करीना कपूर एक बेटे की मां बनी हैं.

– कंचन सिंह

पत्नी की कौन-सी 6 आदतें पसंद नहीं करते पति?( 6 Habits which your husband never likes)

Habits which your husband never likes

शादी के बाद कुछ महीनों तक तो पति-पत्नी में बहुत प्यार रहता है. उस दौरान पति को पत्नी में कोई बुराई नज़र नहीं आती, मगर कुछ सालों बाद उन्हें पत्नी की कुछ आदतें बहुत इरिटेटिंग (Habits which your husband never likes) लगने लगती हैं. आपकी कौन-सी आदतें उन्हें रास नहीं आतीं? आइए, हम बताते हैं.

Habits which your husband never likes

  1. बच्चों की तरह ट्रीट करना

कुछ महिलाओं की आदत होती है कि पति के प्रति एक्स्ट्रा केयर दर्शाने के लिए वो उन्हें मेरा बेबी/बच्चा/सोना कहकर पुकारती हैं. सबके सामने भी यदि आप पति को ऐसे संबोधन से बुलाती हैं, तो उन्हें ये बिल्कुल पसंद नहीं आता, वो इन्सल्टिंग फील करते हैं.
स्मार्ट टिप: हर पति चाहता है कि पत्नी उसकी केयर करे, मगर बच्चों की तरह नहीं. अतः पति का ख़्याल रखें और उनके सम्मान का भी.

2. सवालों की बौछार

कहां हो, कब आ रहे हो, इतनी देर क्यों हो गई, अब मैं शॉपिंग के लिए कब जाऊंगी..? पति को फोन करके उनका जवाब सुने बिना अक्सर पत्नियां इसी तरह सवालों की झड़ी लगा देती हैं. ज़ाहिर है, पति को उनकी ये आदत अच्छी नहीं लगती.
स्मार्ट टिप: पति से ढेर सारे सवाल इकट्ठे पूछने की बजाय पहले उनके जबाव का इंतज़ार करें, फिर दूसरा सवाल करें.

3. बहुत ज़्यादा मीनमेख निकालना

कुछ महिलाओं की आदत होती है कि हर काम में कुछ न कुछ मीनमेख निकालती ही हैं, भले ही वो कितनी भी अच्छी तरह क्यों न किया गया हो. पति ने बड़े प्यार से आपके लिए कोई डिश बनाई है, ऐसे में यदि आप कहेंगी कि इसका स्वाद उतना अच्छा नहीं है, तो ज़ाहिर है उन्हें बुरा लगेगा. इसी तरह वो आपके लिए अपनी पसंद की कोई साड़ी लेकर आए और थैंक्यू कहने की बजाय उल्टा आप चिढ़कर कहने लगें कि ये क्या उठा लाए हो? तो उनका नाराज़ होना लाज़मी है.
स्मार्ट टिप: भले ही पति की बनाई डिश बहुत अच्छी न हो, मगर उन्होंने आपके लिए इतनी मेहनत की, तो क्या आप उनकी तारीफ़ में दो शब्द नहीं बोल सकतीं? हर चीज़ में ख़ामियां निकालने की आदत बदल दीजिए.

4. अपनी लड़ाई में किसी तीसरे को लाना

पति-पत्नी में अनबन आम बात है, मगर पति को ये बात बिल्कुल पसंद नहीं आती कि उनके आपसी झगड़े के बीच पत्नी अपने मायके वालों को घसीट लेती है. पत्नी के मायके वालों की बेकार की नसीहतें उन्हें ज़रा भी अच्छी नहीं लगतीं और अपने बेडरूम की बात बाहर ले जाने की पत्नी की आदत पर उन्हें ग़ुस्सा आता है.
स्मार्ट टिप: पति-पत्नी के बीच की लड़ाई को बेडरूम के अंदर ही सुलझाएं, किसी तीसरे को बीच में लाने से बात बनने की बजाय और बिगड़ जाती है.

5. अपनी मर्ज़ी थोपने की कोशिश

कुछ महिलाएं पति को हर बात में टोकती रहती हैं और उन्हें अपनी पसंद का कुछ पहनने/खाने नहीं देतीं. बाहर जाते समय भी वो क्या पहनेंगे ये पत्नी ही डिसाइड करती है. ज़ाहिर है, आपकी ऐसी हरक़तों से वो चिढ़ेंगे ही.
स्मार्ट टिप: कपल्स को एक-दूसरे को स्पेस देना चाहिए. शादी का ये मतलब नहीं है कि पार्टनर हर काम आपकी मर्ज़ी से करे. रिश्तों में दूरियां न आएं, इसलिए ज़रूरी है कि आप उन पर अपनी मर्ज़ी थोपने की ग़लती न करें.

6. सलाह न मानना

कुछ महिलाएं अपने ईगो की वजह से, तो कुछ ख़ुद को ज़्यादा समझदार दिखाने के लिए उसी राह पर चलती हैं, जिस पर जाने के लिए पति ने मना किया हो. ऐसा करके उन्हें लगता है कि वो अपनी मर्ज़ी की मालकिन हैं. पत्नी की ये आदत पति को नाग़वार गुज़रती है.
स्मार्ट टिप: हमेशा ख़ुद को बेहतर साबित करने की आदत बदल दीजिए. पति-पत्नी के बीच कोई कॉम्पटिशन नहीं होती, बल्कि दोनों एक-दूसरे के पूरक होते हैं. दोनों को एक-दूसरे की भावनाओं व बातों का सम्मान करना चाहिए.

 

5 शिकायतें हर पति-पत्नी एक दूसरे से करते हैं (5 Biggest Complaints Of Married Couples)

करीना के बाद अब मॉम-टु-बी श्वेता तिवारी का स्टाइलिश मैटर्निटी लुक (Mom-to-be Shweta Tiwari’s maternity photoshoot is super cute)

maternity photoshoot

श्वेता तिवारी जल्द ही मां बनने वाली हैं और अपनी इस ख़ुशी को उन्होंने कैमरे में कैद किया है. श्वेता ने अपने पति अभिनव कोहली और बेटी के साथ मैटर्निटी फोटोशूट कराया है, जिसकी पिक्चर्स को उन्होंने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर की हैं. श्वेता दूसरी बार मम्मी बनने जा रही हैं. इस फोटोशूट के अलावा श्वेता ने बेबी बंप दिखाते हुए और भी कई पिक्चर्स शेयर किए हैं.

❤️ @abhinav.kohli024 #PC @sachin113photographer

A photo posted by Shweta Tiwari Kohli (@shweta.tiwari) on

Happy Karvachauth ❤️

A photo posted by Shweta Tiwari Kohli (@shweta.tiwari) on

Happiness….❤️ #myLove @palaktiwarii #PhotoCourtesy @sachin113photographer ?

A photo posted by Shweta Tiwari Kohli (@shweta.tiwari) on

Morning ❤️

A photo posted by Shweta Tiwari Kohli (@shweta.tiwari) on

@mattyadav Thanks..:)

A photo posted by Shweta Tiwari Kohli (@shweta.tiwari) on

@vajor Thank you for this lovely 'Swing Dress' ..?? I love it ❤️ #2gift #moretocome

A photo posted by Shweta Tiwari Kohli (@shweta.tiwari) on

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर- क्यों हो जाता है दिल बेइमान? (How extra marital affair affect relationship?)

बदलती लाइफस्टाइल, बढ़ती आकांक्षाएं, उम्मीदें या विश्‍वास की कमज़ोर होती डोर… वजह चाहे जो भी हो, मगर ये सच है कि पिछले एक-डेढ़ दशक से हमारे देश में एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के मामले बढ़े हैं. आख़िर क्यों लोगों को अपने घर के बाहर प्यार तलाशना पड़ रहा है, क्यों शादी का रिश्ता कमज़ोर होता जा रहा है? पेश है मेरी सहेली की ख़ास रिपोर्ट.

 

shutterstock_78516709

प्रिंजल और सिद (परिवर्तित नाम) का दो वर्ष पूर्व प्रेम विवाह हुआ था, दोनों ही अपनी शादीशुदा ज़िंदगी से बहुत ख़ुश थे, मगर धीरे-धीरे दोनों के बीच न जाने कब शारीरिक फिर मानसिक दूरियां पनपने लगी. जिसकी वजह से प्रिंजल डिप्रेशन का शिकार हो गई. अपनी नीरस ज़िंदगी से परेशान प्रिंजल जब पति सिद के साथ मनोवैज्ञानिक के पास पहुंची, तो सवाल-जवाब के दौरान उसे पता चला कि उसके पति सिद का उसकी सहेली के साथ अफेयर चल रहा है. बहुत पूछने पर सिद ने सच कुबूल किया, मगर उसके अनुसार एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की वजह ख़ुद प्रिंजल थी, जो बाकी मामलों में तो बहुत अच्छी थी, मगर अपने काम में इस कदर व्यस्त रहती कि वो सिद को समय नहीं दे पाती थी और न ही सेक्स में उसकी ख़ास रुचि थी. दूसरी ओर प्रिंजल की सहेली जो शादीशुदा और स्मार्ट थी, वो भी अपने पति से असंतुष्ट थी, ऐसे में जब उसकी मुलाक़ात सिद से हुई, तो दोनों बहुत जल्दी एक-दूसरे के क़रीब आ गए, मगर सही समय पर मनोवैज्ञानिक से संपर्क करने से सिद और प्रिंजल की शादीशुदा ज़िंदगी बर्बाद होने से बच गई, मगर हर किसी की क़िस्मत इतनी अच्छी नहीं होती. कई मामलों में तो एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के कारण कई ज़िंदगियां बर्बाद हो जाती है.

क्या कहते हैं आकड़ें?

* महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर अधिक होते हैं. जहां महिलाओं की संख्या 12% है, वहीं पुरुषों की संख्या 28% है.

* एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर में लिप्त ज़्यादातर पुरुष इसके लिए ख़ुद को दोषी नहीं मानते, जबकि महिलाओं के मन में मलाल बना रहता है.

* सेक्स के लिए स़िर्फ पुरुष ही नहीं, बल्कि पुरुषों में नपुंसकता के चलते महिलाएं भी एक्स्ट्रा मैरिटल करने से नहीं हिचकिचातीं.

* शहरों की बात की जाए तो सबसे अधिक एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के मामले मुंबई में समाने आए हैं. राजधानी दिल्ली का नंबर दूसरा है.

* कुछ एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर ऐसे भी हैं जो जीवनसाथी की रज़ामंदी से चलते, तो कुछ जीवनसाथी जानकर भी अनजान बने रहते हैं.

दो तरह के होते हैं एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स
विशेषज्ञों की मानें तो एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर ख़ासकर दो तरह के होते हैं, पहला सेक्सुअल और दूसरा इमोशनल. सेक्सुअल एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर में दो ऐसे लोग क़रीब आते हैं, जो अपने-अपने पार्टनर से संतुष्ट नहीं होते और अपनी सेक्सुअल डिज़ायर को पूरा करना चाहते हैं. इमोशनल एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर दो लोग एक-दूसरे से भावनात्मक रूप से जुड़ने के लिए क़रीब आते हैं. रिसर्च के अनुसार, अधिकांशतः महिलाएं इमोशनल अटैचमेंट यानी भावनात्मक ज़ुडाव के चलते एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की ओर क़दम बढ़ाती हैं जबकि पुरुष अक्सर सेक्सुअल डिज़ायर को पूरा करने के लिए.

क्यों बाहर तलाशते हैं प्यार?
आख़िर क्यों आए दिन एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के केसेस बढ़ते जा रहे हैं? आइए, जानने की कोशिश करते हैं.

कमज़ोर होते रिश्ते
प्रोफेसर एवं काउंसलर रश्मि अग्निहोत्री के अनुसार, “वो दिन लद गए जब पति-पत्नी एक-दूसरे के लिए मरने-जीने को तैयार रहते थे. आज रिश्तों की डोर कमज़ोर हो गई है. जिसे टूटने में पलभर का भी समय नहीं लगता. इसकी सबसे बड़ी वजह है प्यार में कमी. यंगस्टर्स प्यार से ज़्यादा अब अपने कंफर्ट को महत्व देने लगे हैं. वो जीवनसाथी का चुनाव इसलिए नहीं करते, क्योंकि वो उनसे प्यार करते हैं, बल्कि अपनी सहूलियत के लिए ऐसे जीवनसाथी का चुनाव करते हैं, जिनके साथ को नहीं, बल्कि जिनके साथ वो ज़िंदगी को एंजॉय कर सकें. ऐसे में जब रिश्ते की नींव ही कमज़ोर होती है, तो रिश्ता टूटने में देरी नहीं लगती.”

shutterstock_131708831

समय की कमी ने लाई प्यार में कमी
रिसर्च के अनुसार, वर्क प्लेस पर एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की संभावना अधिक होती है. आज मेट्रो सिटीज़ में अच्छी लाइफस्टाइल के लिए कपल्स ने ख़ुद को इस हद तक बिज़ी कर दिया है कि उनके पास घर-परिवार की छोड़िए, एक-दूसरे के लिए भी समय नहीं है. 8-10 घंटे की जॉब और ट्रैवलिंग में 1-2 घंटे बर्बाद करने के बाद वो इस क़दर थक जाते हैं कि एक-दूसरे से बात करने कि बजाय नींद की आगोश में जाना ज़्यादा पसंद करते हैं. नतीजतन दोनों के बीच दूरियां बढ़ती जाती हैं और पार्टनर की प्यार की कमी की भरपाई के लिए वो बाहर प्यार तलाशने लगते हैं.

ज़रूरत से ज़्यादा प्रैक्टिकल होना
सबसे आगे निकलने की होड़ और बढ़ती प्रतिस्पर्धा ने युवाओं बहुत कम उम्र में प्रैक्टिकल बना दिया है. प्रोफेशनल लाइफ के साथ-साथ वो अब अपनी पर्सनल लाइफ के बारे में भी प्रैक्टिकल होकर सोचने लगे हैं. एक-दूसरे के इमोशन्स, फिलिंग आदि से उन्हें कोई ख़ास मतलब नहीं होता. ऐसे में ख़ुद को ख़ुश रखने के लिए वो प्रैक्टिकल तरी़के से सोचते हुए एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर को ग़लत नहीं समझते.

स्ट्रेस कम करने के लिए भी रखते हैं अफेयर
रिसर्च की मानें तो मेट्रो सिटीज़ में रहने वाले कपल्स हेक्टिक लाइफस्टाइल और स्ट्रेस को कम करने के लिए एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर रखते हैं. इस विषय में मनोवैज्ञानिक निमिषा रस्तोगी कहती हैं “वर्क प्लेस पर होने वाले एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की एक वजह स्ट्रेस भी है, जिससे छुटकारा पाने के लिए कुछ पाटर्नर अपने कलीग के साथ सेक्सुअल रिलेशन बनाते हैं. इससे उन्हें सुख का एहसास होता है और वो ख़ुद को संतुष्ट भी महसूस करते हैं. ऐसे लोग एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर को ज़्यादा एंजॉय करते हैं, क्योंकि ऐसे अफेयर्स में पार्टनर के प्रति उन पर किसी तरह की कोई ज़िम्मेदारी नहीं होती है.”

है सबसे बड़ा रुपइया
कई बार पैसों की अधिकता तो कभी पैसों की कमी की वजह से भी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर बनते हैं. पार्टनर यदि अपने जीवनसाथी की इच्छाओं को पूरा करने में आर्थिक रूप से सक्षम नहीं होता है, तो दूसरा पार्टनर अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए भी किसी दूसरे की ओर आकर्षित होने लगता है, तो कुछ पार्टनर ख़ासकर पुरुष ऐसे भी होते हैं जो पैसों की अधिकता के चलते भी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का शौक़ रखते हैं.

ईगो भी है एक वजह
जहां प्यार होता है, वहां अहंकार की कोई जगह नहीं होती, लेकिन आज कपल्स के बीच प्यार के लिए कोई जगह नहीं है, उनकी नज़र में ईगो ही सबसे बड़ा हो जाता है, जिसकी वजह से न वो पार्टनर के आगे कभी झुकते हैं और ना ही कभी आपसी सहमति से रिश्तों की नींव को मज़बूत बनाने की कोशिश करते हैं. नतीजतन अहंकारवश हमसफ़र के आगे झुकने की बजाय वो किसी और से रिश्ता जोड़ना बेहतर समझते हैं.

मीडिया भी है ज़िम्मेदार
मनोवैज्ञानिक निमिषा रस्तोगी कहती हैं, “एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयर के लिए बहुत हद तक मीडिया और फिल्म इंडस्ट्री भी ज़िम्मेदार है. कई ऐसी फिल्में हैं, जो एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर को बढ़ावा देती हैं. तो कई बार मीडिया भी एक्स्ट्रा मैरिटल के मुद्दे को इस तरह से पेश करता है जैसे एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर होना हर एक के लिए आम बात है या सामाजिक तौर पर ग़लत नहीं है.”

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से बढ़ रहे हैं अपराध
मुंबई की फैमिली कोर्ट के अनुसार, प्रत्येक तीन में से एक तलाक़ की वजह एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर है. एडवोकेट मनोज कुमार पाण्डेय के अनुसार, “एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के चलते न स़िर्फ दिनों दिन तलाक़ के मामलों में इज़ाफा हो रहा है, बल्कि अपराध भी तेज़ी से बढ़ रहे हैं. कभी प्रेमी को पाने के लिए पत्नियां अपने प्रेमी के साथ मिलकर पति की, तो कभी पैर की बेड़ी बने बच्चों की भी बलि चढ़ा देती हैं, तो वहीं दूसरी तरफ़ अपनी धोखेबाज़ पत्नी को सबक सिखाने के लिए पति भी हत्यारे बन जाते हैं. कुछ पति-पत्नी ऐसे भी हैं, जो जीवनसाथी से धोखा पाने के बाद ख़ुद ही फांसी के फंदे पर चढ़ जाते हैं. ग़ौर फरमाया जाए तो अधिकाशतः एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर महज अपराध को बढ़ावा दे रहे हैं.”

एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का दर्दनाक अंत

पिछले कुछ सालों में एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयर के चलते हुए दिल दहलाने वाले वारदातों पर एक नज़र.

* मार्च, 2014 (गुड़गांव) :  44 वर्षीय रजनीश कुमार सिंह को जब इस बात की जानकारी मिली कि उसकी 36 वर्षीया पत्नी श्‍वेता बिंद्रा का किसी ग़ैर  मर्द के साथ अफेयर चल रहा है, तो उसने अपनी पत्नी की चाकू घोंपकर हत्या कर दी.

* अक्टूबर, 2014 (जयपुर) : योगा टीचर दिनेश कुमार ने अपनी 32 वर्षीया पत्नी एवं दो बच्चों की मां कविता कुमावत के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की   ख़बर सुनते ही उस पर अनगिनत बार चाकू से वार करके मौत के घाट उतार दिया.

* नवंबर, 2013 (मुंबई) : 23 वर्षीया पत्नी तृप्ति का कुछ सालों से अफेयर चल रहा है, जब इसकी जानकारी पति जयेश राउत को मिली, तो उसने    सिलिंग फैन से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली.

* दिसंबर, 2012 (कोलकत्ता) : दो बच्चों की मां निलोफर (29 वर्षीया) का ऑटो रिक्शा चालक के साथ प्रेम संबंध है, ये जानने के बाद निलोफर के बड़े  भाई मेहताब आलम ने आरी से गला रेतकर निलोफर की हत्या कर दी.

एक्स्पर्ट स्पीक

मनोवैज्ञानिक निमिषा रस्तोगी के अनुसार, “एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का अंत तलाक़ है, ऐसा बिल्कुल भी नहीं है. ग़लतियां इंसान से ही होती हैं और हर किसी को सुधरने का एक मौक़ा ज़रूर देना चाहिए. अनजाने में ही सही मगर हो सकता है कि आपकी ओर से भी कुछ ग़लती हुई हो, जिसके चलते आपके पार्टनर किसी दूसरे की तरफ़ आकर्षित हुए हों. ऐसे में न स़िर्फ उन्हें, बल्कि ख़ुद को भी बदलने का मौक़ा दीजिए और सब कुछ भूलाते हुए नई शुरुआत करें.”

प्रोफेसर एवं काउंसलर रश्मि अग्निहोत्री के अनुसार, “एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का एकमात्र हल तलाक़ नहीं है. कपल्स चाहें तो आपसी सहमति से एक नई पारी की शुरुआत कर सकते हैं. बशर्ते जीवनसाथी को अपनी ग़लती का एहसास हो और वो दिल से ख़ुद को गुन्हगार मानते हुए आपके साथ नए सिरे से ज़िंदगी शुरू करना चाहता हो. लोग क्या सोचेंगे, समाज क्या कहेगा? जैसी बातें सोचकर ऐसे रिश्ते में रहने की भूल न करें.”

एडवोकेट मनोज कुमार पाण्डेय के अनुसार, “पिछले कुछ सालों की बात करें, तो तक़रीबन 20% तलाक़ की वजह एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर है, मगर 10% मामले ऐसे भी हैं, जो तलाक से पहले होने वाले मैरिज कॉन्सलिंग से सुलझ भी गए हैं, लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि आप किसी धोखेबाज़ इंसान के साथ अपनी ज़िंदगी बिताएं.”

मनोवैज्ञानिक डॉ. अंशु कुलकर्णी के अनुसार, “एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का अंत तलाक़ है या नहीं, ये इस बात पर निर्भर करता है कि सामने वाला पार्टनर किस हद तक एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर में इंवॉल्व है, अगर उनके मन में गिल्ट है या वो ख़ुद उससे बाहर निकलना चाहता है, तो बेझिझक आप उसे एक मौक़ा दे सकते हैं, मगर वो ख़ुद नहीं चाहता तो ऐसे रिश्ते को आगे बढ़ाने का कोई मतलब नहीं. बेहतर है कि आप तलाक़ लेकर अपनी ज़िंदगी अपने तरी़के से जिएं.”

ताकि न आए ऐसी नौबत

किसी ने सच ही कहा है ताली एक हाथ से नहीं बजती, अगर आप दोनों के बीच किसी तीसरे ने जगह ले ली है, तो इसका मतलब स़िर्फ ये नहीं कि आपका पार्टनर ही ग़लत है, हो सकता है कि कमी आपमें भी हो. अपनी शादी को एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर से बचाने के लिए निम्न बातों का ध्यान रखेंः

* झगड़ा छोटा हो या बड़ा, एक-दूसरे से बातचीत बंद न करें, अपनी नाराज़गी ज़ाहिर करें और समस्या का हल ढूंढ़ें. वरना आपकी चुप्पी आपके रिश्ते में  दरार डाल सकती है.

* न स़िर्फ शारिरीक संतुष्टि, बल्कि पार्टनर की मानसिक संतुष्टि का भी ख़्याल रखें, कई बार पार्टनर मानसिक सुख और सुकून की आस में भी किसी  तीसरे की ओर क़दम बढ़ाते हैं, ख़ासकर महिलाएं.

* घर या बाहर की अनगिनत ज़िम्मेदारियां भले ही आपके कंधों पर हों, मगर जीवनसाथी को नज़रअंदाज़ करने की ग़लती न करें. आपकी ओर से  ध्यान हटने पर हो सकता है कि उनका ध्यान किसी दूसरे में लग जाए.

* ख़ुशहाल शादीशुदा ज़िंदगी के लिए स़िर्फ एकसाथ घर में रहना काफ़ी नहीं, पार्टनर के साथ क्वालिटी टाइम बिताना भी ज़रूरी है.

* न स़िर्फ पार्टनर, बल्कि शादी जैसे पवित्र बंधन पर भी विश्‍वास रखें.

* पार्टनर पर हावी न हों. जीवनसाथी को उनके मन मुताबिक जीने दें. कई मामलों में पार्टनर का डॉमिनेटिंग होना भी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की वजह  होता है.

फैक्ट फाइल

* रिसर्च के अनुसार, ऐसी महिलाएं जिनके पति कई महीनों या वर्षों के लिए घर-देश से दूर रहते हैं, वो एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की ओर जल्दी आकर्षित होती हैं.

* रिसर्च के अनुसार, पत्नी की प्रेग्नेंसी के चलते सेक्सुअल डिज़ायर पूरी न होने से पुरुषों के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की संभावना बढ़ जाती है.

– कंचन सिंह

वर्किंग वाइफ, तो हाउस हसबैंड क्यों नहीं? (Rising Trend Of House Husbands And Their Working Wives)

Rising Trend Of House Husbands

काम के आधार पर लिंग भेद या फिर लिंग के आधार पर काम में अंतर हमारे समाज के लिए कोई नई बात नहीं है. लेकिन इन दिनों जो नई बात हो रही है, वो यह है कि अब पुरुष होममेकर (Rising Trend Of House Husbands) की भूमिका में नज़र आने लगे हैं और महिलाएं ब्रेड अर्नर का रोल निभाने लगी हैं. ज़ाहिर-सी बात है कि हमारा समाज अब तक इतना परिपक्व तो नहीं हुआ है कि स्त्री-पुरुष की इन बदली भूमिकाओं को आसानी से पचा पाए, लेकिन बदलते दौर ने इन बदलावों को जन्म दे ही दिया है, तो इसे स्वीकारने में हर्ज़ ही क्या है?

Rising Trend Of House Husbands

भारत में जन्म ले चुका है हाउस हसबैंड्स का ट्रेंड (Rising Trend Of House Husbands)
– हालांकि हमारे देश के लिए यह कॉन्सेप्ट नया है, लेकिन यहां भी यह ट्रेंड आ रहा है.
– पतियों को और पत्नियों को भी इसमें कोई बुराई नज़र नहीं आती कि अगर पत्नी अच्छा कमा रही है, तो पति घर संभालकर कोई दूसरा काम कर सकता है.
– इसे कपल्स स्वीकारने में अब उतना नहीं हिचकिचाते, जितना कुछ वर्ष पूर्व संकोच किया करते थे.
– इसका सबसे बेहतर उदाहरण है मशहूर लेखक चेतन भगत, जो अपने हाउस हसबैंड  के रोल से संतुष्ट थे. उनकी पत्नी अनुषा फुल टाइम जॉब पर हैं और उनका करियर बेहद सफ़ल है. चेतन भगत ने अपने जुड़वां बच्चों की देखभाल के लिए बैंक की अच्छी-ख़ासी नौकरी छोड़कर घर पर रहकर लेखनी पर ध्यान केंद्रित किया.
– इसी तरह से जानीमानी बिज़नेस वुमन इंदिरा नुई के पति राज किशन नुई ने भी अपनी दो बेटियों की देखभाल के लिए अपना फुल टाइम जॉब छोड़कर कंसल्टेंट बनना अधिक पसंद किया.
– केशव जोशी, जो एक हाउस हसबैंड हैं, अपने अनुभव के बारे में बताते हैं, “मैं और मेरी पत्नी राधा दोनों ही वर्किंग थे, लेकिन शादी के 2 साल बाद हमारी बेटी हुई. जॉइंट फैमिली तो थी नहीं, इसलिए परेशानी होने लगी कि बच्ची को कैसे संभाला जाए. मेरी पत्नी सरकारी नौकरी में थी. उसका करियर और सैलेरी भी मुझसे बेहतर थे, ऐसे में उसका नौकरी छोड़ना सही नहीं लगा और हम दोनों ने ही यह निर्णय लिया कि मैं जॉब छोड़कर बेटी को संभालूंगा और आज 15 साल हो गए हैं, हम दोनों को ही अपने निर्णय पर बेहद संतुष्टि और ख़ुशी है कि हमने सही समय पर सही फैसला लिया.
हां, यह अलग बात है कि मुझे आसपास व यहां तक कि रिश्तेदारों से भी बहुत कुछ सुनना पड़ा, जैसे- पत्नी की कमाई खानेवाले पति की घर में व समाज में भी कोई इज़्ज़त नहीं होती… मेरे दोस्तों ने तो यह भी कहा कि पत्नी और बच्ची दोनों ही तुम्हारा सम्मान नहीं करेंगी, उनकी नज़रों में भी एक समय के बाद तुम नाकारा बन जाओगे…  मेरे भाइयों ने कहा था कि पुरुष होकर तुम औरतों की तरह घर पर बैठोगे? बच्ची का नैप्पी बदलोगे? क्या इससे तुम्हारा स्वाभिमान आहत नहीं होगा…लेकिन हमने इन बातों की परवाह नहीं की. न मेरा सो कॉल्ड मेल ईगो हमारे बीच आया और न ही मेरा आत्मसम्मान इससे आहत हुआ, मेरी पत्नी ही नहीं, मेरी बेटी भी गर्व से सबको हमारे एडजेस्टमेंट्स के बारे में बताती है और हमसे बहुत प्यार करती है.”
– हालांकि हर पुरुष केशव जोशी की तरह परिपक्व सोचवाले नहीं होते, लेकिन सकारात्मक बात यह है कि इस तरह के लोग भी हैं हमारे समाज में.

हाउस हसबैंड्स की चुनौतियां
– हम पुरुषों को डोमिनेटिंग रोल में देखते आए हैं और इस सोच के साथ पले-बड़े होते हैं कि महिलाओं का काम होता है घर संभालना.
– ऐसे में यदि पति कमाने नहीं जाता, तो उसे नाकारे का तमगा पहना दिया जाता है.
– भले ही पति-पत्नी के रिश्ते इससे प्रभावित न हों, लेकिन दूसरों को ज़रूर आपत्ति होती है.
– कई तरह के ताने उन्हें सुनने पड़ते हैं. बार-बार यह एहसास कराया जाता है कि वो पत्नी की कमाई पर जी रहे हैं और उनकी कोई इज़्ज़त नहीं.
– यहां तक कि ख़ुद पुरुषों की यह मानसिकता होती है कि अगर वो पत्नी से कम कमाते हैं, तो वो रिश्तों में अपनी भूमिका को कमतर समझते हैं, जिससे उनका ईगो हर्ट होता है. क्योंकि उनकी परवरिश ही इसी तरह से होती है, तो उनकी मानसिकता इस बदलाव को आसानी से स्वीकार नहीं सकती.
– हम अक्सर पुरुष दर्ज़ी और शेफ को तो आसानी से स्वीकार कर लेते हैं, लेकिन यदि पति घर में इस तरह के या कोई भी घरेलू काम करते नज़र आते हैं, तो उनसे कहा जाता है कि ‘क्या औरतोंवाले काम कर रहे हो…’
– औरतोंवाले काम और मर्दोंवाले काम- स्त्री-पुरुष के बीच काम का बंटवारा लिंग के आधार पर हमने ही किया है और सबसे बड़ी विडंबना तो यह है कि यदि स्त्रियां पुरुषों के वर्चस्व वाले कार्यक्षेत्र में प्रवेश करती हैं, तो उनकी सराहना की जाती है, लेकिन यदि पुरुष महिलाओं के काम समझे जानेवाले कार्यों में हाथ आज़माते हैं, तो उन्हें हेय दृष्टि से देखा जाता है, उनकी आलोचना भी की जाती है और ताने भी दिए जाते हैं.
– यह हमारे समाज के दोहरे मानदंड ही हैं, जो पुरषों को हमेशा एक स्तर ऊपर का दर्जा देता आया है और स्त्रियों को कमतर समझता आया है. यही वजह है कि पुरुषों से जुड़े कामों को भी उच्च दर्जे का माना जाता है और स्त्रियों से जुड़े काम और ख़ासतौर से घरेलू कामों को निम्न दर्जे का समझा जाता है.
– यही नहीं, ख़ुद स्त्रियां भी ऐसी ही सोच रखती हैं. वर्किंग वुमेन हाउस वाइफ को अपने से निम्न समझती हैं और ख़ुद हाउस वाइफ भी यही सोच रखती हैं कि हम तो स़िर्फ घरेलू काम करती हैं, जिसमें कोई बड़ी या महान बात नहीं.
– जबकि हर काम में मेहनत और लगन की ज़रूरत होती है, चाहे वो घर का काम हो या बाहर का. लेकिन ये सोच जब तक नहीं बदलेगी हाउस हसबैंड का कॉन्सेप्ट तब तक हमारे समाज में सफल नहीं हो पाएगा.

क्या पुरुष हो सकते हैं बेहतर होम मेकर?
– व़क्त की ज़रूरत ही है कि अब रोल्स बदलने लगे हैं और आज की जनरेशन अपने ईगो व परंपरागत दायरों से बाहर निकलकर सोचने लगी है.
– पुरुष अब एडजेस्ट करने लगे हैं, यही वजह है कि बच्चों को संभालने से लेकर घर तक संभालने में उन्हें हिचक नहीं.
– “मेरी मॉम बचपन से ही मुझसे और मेरे भाई से घर के काम में हेल्प लेती थीं. हमारी कोई बहन नहीं थी, ऐसे में हम दोनों भाइयों के मन में कभी भी काम को लेकर लिंग भेद की बात आई ही नहीं.” यह कहना है 29 वर्षीय विपुल सिंह का. विपुल ने अपना अनुभव हमारे साथ बांटा, “मेरी शादी को 2 साल हो गए हैं. एक बेटी है और मेरी वाइफ वर्किंग नहीं है, लेकिन बावजूद इसके मैं घर के कामों में उसकी मदद करता हूं. मुझे लगता है कि वह भी दिनभर बच्ची की देखभाल व घर के कामों से थक जाती होगी, तो मैं उसे कभी अपने हाथों से परांठे बनाकर खिलाता हूं, तो कभी उसकी फेवरेट डिश तैयार करता हूं. मुझे रिश्तेदारों से यह सुनने को मिलता है कि तुम्हारी वाइफ तो वर्किंग भी नहीं है, फिर भी तुम उसकी हेल्प क्यों करते हो? लेकिन मेरी यह सोच नहीं है. मैं जब अपनी मॉम की हेल्प करता था, तब भी अपनी ज़िम्मेदारी समझ के करता था और आज भी अपनी ज़िम्मेदारी समझ के ही करता हूं.”

हम कितने तैयार हैं हाउस हसबैंड के कॉन्सेप्ट के लिए?
– यह सच है कि समाज की सोच अब धीरे-धीरे बदल रही है, लेकिन फिर भी अधिकतर पुरुष व स्त्रियां भी इस बात को नहीं पचा पातीं कि पुरुष घरेलू काम करें.
– सभी पुरुषों की सोच उतनी खुली व परिपक्व भी नहीं होती कि पत्नी के अच्छे करियर की ख़ातिर अपने सामान्य करियर को छोड़कर घर संभालें और पत्नी की मदद करें.
– अक्सर ऐसे उदाहरण हम देखते हैं, जहां महज़ पुरुष अपने अहंकार की वजह से पत्नी की अच्छी कमाई व करियर को पचा नहीं पाते और इसके चलते रिश्ता टूटने तक की भी नौबत आ जाती है.
– ऐसे में हाउस हसबैंड का ट्रेंड भारतीय समाज को अपनाने में लंबा समय लगेगा.