Hydrabad Gangrape

निर्भया की मौत को आठ साल हो गए, लेकिन हमारे देश में अब भी कुछ नहीं बदला. एक बार फिर उत्तरप्रदेश के हाथरस में एक बेटी गैंगरेप की शिकार हुई और उसकी भी निर्मम मौत हो गई. बलात्कारियों ने हैवानियत की सारी हदें पार कद दी. बलात्कारियों ने उस बेटी को इतनी पीड़ा दी है ,जिसकी हम और आप कल्पना भी नहीं कर सकते. बलात्कारियों ने उस बेटी की जीभ काट ली, रीढ़ की हड्डी पर गंभीर चोट की और उसे गला घोंटकर मारने की भी की. और आखिरकार उसकी मृत्यु हो गई. हाथरस में गैंगरेप की शिकार हुई देश की इस बेटी की निर्मम मृत्यु कई सवाल खड़े करती है. क्या इस देश में बेटी होना गुनाह है? क्या इस देश में बेटियों की स्थिति कभी नहीं सुधरेगी? क्या इस देश में कोई भी, किसी भी लड़की के साथ दुष्कर्म कर सकता है? इस देश में बेटियों की सुरक्षा के लिए ठोस कदम कब उठाए जाएंगे?

Hathras Gangrape Case

ये है हाथरस गैंगरेप का सच
यूपी के हाथरस में 19 साल की एक दलित लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार ने एक बार फिर पूरे देश की झकझोर कर रख दिया है. घटना 4 सितंबर की है, जब चार वहशी दरिंदों ने 19 साल की लड़की के साथ न सिर्फ दुष्कर्म किया, बल्कि उसकी जीभ काट ली, रीढ़ की हड्डी पर गंभीर चोट की और उसे गला घोंटकर मारने की भी की. इतने जख्मों के साथ पीड़िता का अलीगढ़ के स्थानीय अस्पताल में इलाज चल रहा था, लेकिन जब उसकी हालत में सुधार नहीं हुआ तो उसे दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल लाया गया. वहां भी उसकी हालत नहीं सुधरी और आखिरकार उसकी मृत्यु हो गई.

अंतिम संस्कार में माता-पिता को शामिल नहीं किया गया
हाथरस गैंगरेप की शिकार लड़की का अंतिम संस्कार रात 3 बजे किया गया और उसके अंतिम संस्कार में उसके माता-पिता को शामिल नहीं किया गया. लड़की की मां अपनी बेटी को हल्दी लगाकर आखिरी विदाई देना चाहती थीं, लेकिन उनकी ये इच्छा भी पूरी नहीं हो सकी. यहां पर सवाल ये उठता है कि आखिर रात 3 बजे अंतिम संस्कार करने की जरूरत क्या थी? अंतिम संस्कार के लिए उसके मृत शरीर को उसके माता-पिता को क्यों नहीं सौंपा गया?

यह भी पढ़ें: निर्भया को मिला न्याय: निर्भया के चारों दोषियों को मिली फांसी की सज़ा (Nirbhaya Gets Justice: Nirbhaya’s All Four Convicts Hanged Till Death)

क्या निर्भया की तरह इस बेटी को भी न्याय मिलने में लंबा समय लगेगा?
निर्भया को इन्साफ मिलने में पूरे आठ साल लग गए. निर्भया के साथ हुए बलात्कार के समय पूरा देश सड़कों पर आ गया था, तब ऐसा लग रहा था कि अब देश में बेटियों की स्थिति सुधरेगी, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ. कुछ समय पहले हैदराबाद में एक डॉक्टर के साथ हुए बलात्कार के समय जब पुलिस ने आरोपियों का एनकाउंटर कर दिया था, तो पूरे देश ने इसका समर्थन किया था कि ऐसे दोषियों के लिए यही सज़ा सही है. एक बार फिर देश की एक और बेटी गैंग रेप का शिकार हुई और आज वो हमारे बीच नहीं है. आपको क्या लगता है, उसके दोषियों को क्या सज़ा मिलनी चाहिए?

Hathras Gangrape Case

हाथरस गैंगरेप पर फूटा बॉलीवुड सेलेब्स का गुस्सा, ट्वीट करके मांगा इंसाफ
हाथरस गैंगरेप मामले में बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़ ने ट्वीट करके अपना गुस्सा जाहिर किया है और इन्साफ की मांग की है. कंगना रनौत से लेकर अक्षय कुमार, विराट कोहली, स्वरा भास्कर समेत कई सेलिब्रिटीज़ ने पीड़िता के लिए इंसाफ मांगा है. आप भी पढ़िए सेलिब्रिटीज़ के ये ट्वीट:

यह भी पढ़ें: निर्भया की मां आशा देवी के संघर्ष को सलाम! आशा देवी ने देश को दी न्याय की आशा (Salute To The Struggle Of Asha Devi, Nirbhaya’s Mother! Asha Devi Gave Hope To The Country For Justice!)

हैदराबाद में हुए पशु चिकित्सक महिला के साथ सामूहिक बलात्कार के बाद जलाकर मार डालने के वाकये से पूरा देश आक्रोश में है. आज इस मुद्दे पर राज्यसभा सदस्य व अभिनेत्री जया बच्चन भी खुलकर बोलीं. ख़ासकर उनका बयान की ऐसे बलात्कारियों को जनता के हवाले कर देना चाहिए और लोग इन रेपिस्ट को कड़ी से कड़ी सज़ा दे… इस पर मिलीजुली प्रतिक्रियाएं हो रही हैं. कुछ इसे सही मान रहे हैं, तो कुछ ने इसे क़ानून हाथ में लेने की बात कही.

Jaya Bachchan

बकौल जयाजी यह गंभीर घटना है, इसे हल्के से नहीं लेना चाहिए. सरकार को भी यह बताना चाहिए कि वे इस तरह के गैंग रेपिस्ट को सज़ा देने के लिए क्या कदम उठा रही है. मेरा यह मानना है कि इस तरह के लोगों को पब्लिक को दे देना चाहिए. जब उनका बुरा हश्र होगा, तब अन्य लोगों को भी सबक मिलेगा. विदेशों में कई जगहों पर इस तरह की न्याय प्रक्रिया होती रही है.

वाकई जया बच्चन ने कठोर बात कही है, पर अब बहुत हो चुका. राजनीति, महिला आयोग, सेलिब्रिटीज़ हर किसी ने हैदराबाद गैंगरेप पर खुलकर कड़ी प्रतिक्रियाएं दी हैं. फिर चाहे वो क्रिकेटर विराट कोहली हो, ऐक्टर सलमान ख़ान ही क्यों न हो.

निर्भया गैैंगरेप के केस में न्याय मिलने में सालों लग गए थे. निर्भया की मां का भी कहना है कि दोषियों को जल्द से जल्द कड़ी से कड़ी सज़ा मिलनी चाहिए, ताकि भविष्य में अन्य कोई इस तरह करने के बारे में सोच भी न सकें.

27 नवंबर बुधवार की रात को हैदराबाद के पास स्थित शमशाबाद के टोल प्लाज़ा पर 27 वर्षीया महिला डॉक्टर की स्कूटी पंक्चर हो गई थी. तब चार लोगों ने मदद की पेशकश की. उन्होंने धोखे से शहर के बाहर ले जाकर गैंगरेप किया व शरीर पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी. गैंगरेप-मर्डर के इस केस के 20 से 26 वर्षीय चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

आख़िर क्यों हर रोज़ छेड़खानी, बलात्कार, गैंगरेप जैसी घटनाएं पढ़ने-सुनने को मिलती हैं. कब तक समाज सोया रहेगा और पुलिस-प्रशासन ढुलमुल रवैया अपनाता रहेगा. अब व़क्त आ गया है कि दोषियों को कठोर दंड दिया जाए. इस बारे में आपकी क्या राय है और इस तरह की घटनाएं न हो, इसके लिए क्या किया जाना चाहिए… कृपया, अपनी राय ज़रूर दें.

यह भी पढ़ेस्टेज पर दर्शकों के सामने फूट-फूटकर रोईं आलिया भट्ट, देखें वीडियो (Alia Bhatt Cries Her Heart Out As Sister Shaheen Bhatt Shares Her Ordeal With Depression)