immunity booster food

मेडिकल एक्सपर्ट्स और डॉक्टर्स बार बार कह रहे हैं कि इम्यू‍निटी के कमजोर होने से कोरोना का खतरा बढ़ जाता है, इसलिए कोरोना से बचना है तो सबसे ज़रूरी है स्ट्रॉन्ग इम्युनिटी. और इम्युनिटी बढ़ाने के लिए लोग योग, प्राणायाम से लेकर आयुर्वेदिक नुस्खे, काढ़ा तक सब कुछ ट्राई कर रहे हैं. इस बीच सरकार ने भी नेचुरल इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए कुछ डायट प्लान की लिस्ट जारी की है.

Diet Plan To Boost Natural Immunity

सरकार की ओर से mygovindia ट्विटर हैंडल के ज़रिए एक बेसिक डाइट प्लान की सिफारिश की गई है, जो बेहतर इम्यूनिटी के साथ ही मसल्स बनाने और एनर्जी लेवल को ठीक रखने में मदद करेगी. इस ट्वीट में कोविड पेशेंट्स को डार्क चॉकलेट, हल्दी वाला दूध और प्रोटीन रिच डायट लेने की सलाह दी गई है.


सरकारी की गाइडलाइंस के अनुसार

– कोरोना पेशंट्स को अपने डायट में साबुत अनाज जैसे रागी, ओट्स शामिल करने चाहिए.

Diet Plan To Boost Natural Immunity

– प्रोटीन रिच फ़ूड जैसे चिकन, मछली, अंडे, पनीर, सोया भी इम्युनिटी बूस्टर फ़ूड हैं, इन्हें भी डायट में ज़रूर शामिल करें.

– इसके अलावा, सरकार ने अखरोट, बादाम, ऑलिव ऑयल जैसे हेल्दी फैट खाने को भी कहा है.

– ज़रूरी विटामिन और मिनरल के लिए कलरफुल फ्रूट्स और सब्ज़ियां दिन में पांच बार खाने को रिकमेंड किया गया है.

Diet Plan To Boost Natural Immunity


– स्ट्रेस फ्री और पॉजिटिव रहने के लिए डार्क चॉकलेट खाने को कहा गया है.

– जबकि इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए दिन में एक बार हल्दी वाला दूध पीने की सलाह दी गई है.

Diet Plan To Boost Natural Immunity



– चूंकि कोरोना पेशंट्स को न महक आती है और न ही किसी चीज में स्वाद. इसके अलावा उनकी भूख और खाना चबाने की क्षमता भी खो जाती है. इसलिए उन्हें थोड़े थोड़े अंतराल पर सॉफ्ट फ़ूड खाने को कहा गया है.

– साथ ही अमचूर खाने की भी सलाह दी गई है.

– गाइडलाइन में ये भी कहा गया है कि सभी को अपनी क्षमतानुसार फ़िज़िकल एक्टिविटीज भी ज़रूर करनी चाहिए.

– योग-प्राणायाम, ब्रीदिंग एक्सरसाइज आपको फायदा पहुंचाएगी.

गौरतलब है भारत इस समय कोविड के विस्फोट से परेशान है. रोज़ाना लाखों की संख्या में कोविड के मरीज मिल रहे हैं. डॉक्टर्स, मेडिकल सेवाओं, ऑक्सीजन, दवाओं के अभाव से लोग परेशान हैं. ऐसे में सरकार, प्रशासन और मेडिकल एक्सपर्ट्स लोगों को सभी जरूरी एहतियात बरतने को कह रहे हैं, ज़रूरी गाइडलाइन फॉलो करने की अपील कर रहे हैं. ये डायट प्लान भी सरकार की उसी कोशिश का एक हिस्सा है.


अगर आपकी इम्युनिटी अच्छी है तो आप कई रोगों और संक्रमणों सेअपने आप बचे रह सकते हैं या उनसे बेहतर तरीक़े से लड़ सकते हैं. यहीवजह है कि फिट रहने के लिए इम्युनिटी बेहतर रखना बेहद ज़रूरी हैऔर यह आसन भी है. आपके किचन में ही ऐसी चीज़ें और मसाले हैं जो आपकी इम्युनिटी को बेहतर बना सकते हैं. इन्हें अपने डायट में शामिल करें और हेल्दी रहें.

अदरक: इसमें एंटी इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं जो इम्युनिटी को बेहतर बनाते हैं. यह सर्दी-ज़ुकाम व गले की सूजन आदि से भीआपका बचाव करती है. अदरक की चाय शहद व नींबू मिला के पियें या अदरक के टुकडों पे काला नमक व नींबू का रसडाल के खाने के साथ लें.

नींबू: विटामिन सी से भरपूर नींबू में एंटीसेप्टिक व एंटीफंगल गुण होते हैं जो आपकी इम्युनिटी को बेहतर करते हें. इसेकिसी भी रूप में अपने खानपान में शामिल ज़रूर करें.

लहसुन: यह इम्युनिटी को बढ़ाने में एक तरह से सप्लीमेंट का काम करता है. यह भी आपको सर्दी-ज़ुकाम से बचाता है. इसमें अलाइसिन नाम का तत्व होता है, जो इंफेक्शन्स और बैक्टीरिया से लड़ता है. जो लोग एक हफ़्ते में लहसुन की 6 कलियां खाते हैं, उन्हें पेट के कैंसर की संभावना 50% तक कम होती है. इसे खाने में शामिल करें. अगर आपको ऐसिडिटीकी समस्या है तो रोज़ सुबह खाली पेट लहसुन की दो कलियां पानी के साथ निगल जायें.

शहद: यह अमृत की तरह काम करता है. यह एनर्जी बूस्टर है और आयुर्वेद में इसे बेहद गुणकारी बताया गया है. यह हार्ट डिसीज़, बीपी, अस्थमा से लेकर सर्दी-ज़ुकाम व एलर्जी तक से बचाव करता है. 

काली मिर्च: इसमें भी एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं. विटामिन सी से भरपूर होती है, यह शरीर से ज़हरीले तत्वों को दूर करने का काम करती है.

हल्दी: यह नेचुरल एंटीसेप्टिक है और इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं. खाने में इसका नियमित प्रयोग रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाता है. 

दही: यह कैल्शियम, विटामिन ई व प्रोटीन से भरपूर होता है. दही में ज़िंक होता है, जिसकी कमी से इम्यून सिस्टम कमज़ोरहो जाता है. यह प्रोबायोटिक है यानी गुड बैक्टीरिया दही में भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं. इनका नियमित सेवन इम्यूनिटीबढ़ाता है. दही खायें इम्युनिटी बढ़ाएं. 

हींग: इसमें एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीबायोटिक और एंटीवायरल गुण होते हैं. जिससे हमारी इम्युनिटी बढ़ती है.

Immunity Boosters

आंवला: यह विटामिन सी का बेहतरीन स्रोत है और इम्यून सिस्टम को मज़बूत बनाता है. नियमित रूप से सुबह आंवले कारस व शहद मिलाकर लें, तो कई बीमारियों व संक्रमण से बचाव होता है.

आजवाइन: यह बेहद गुणकारी है. एक टीस्पून आजवाइन को पानी में उबालकर पीने से, बुख़ार, बीमारियों व इंफेक्शन सेबचाव होता है. 

पालक: इसमें आयरन, कैल्शियम काफ़ी मात्रा में होता है. पालक व अन्य हरी सब्ज़ियों में विटामिन, मिनरल, फॉलिकएसिड व फाइबर्स होते हैं. हरी पत्तेदार सब्ज़ियां एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती हैं, जो इम्यून सिस्टम को मज़बूत करकेआपको हेल्दी रखती हैं. यह नई कोशिकाओं के निर्माण व डीएनए के रिपेयर में मदद करता है. यही वजह है कि इसे सुपरफूड कहा जाता है.

लौंग: इसमें मौजूद विटामिन सी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाता है. यह गले के व दांतों के इंफेक्शनको कम करती है.

गाजर: गाजर एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती है, इसके अलावा यह विटामिन ए व कैरोटिनाइड का स्रोत है.

पत्तागोभी: यह ग्लूटामाइन से भरपूर होती है. ग्लूटामाइन दरअसल इम्यूनिटी बढ़ानेवाला तत्व है.

दालचीनी: इसमें एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो हर तरह के इंफेक्शन से लड़ने में मदद करते हैं. इसकापाउडर दही, सलाद या चाय में मिलाके भी लिया जा सकता है. अगर गले में ख़राश है तो चुटकीभर दालचीनी पाउडर ले केऊपर से पानी पी लें. खांसी होने पे शहद में दालचीनी पाउडर मिलाके लें.

Immunity Boosters

टमाटर: इसमें लाइकोपीन होता है, जो शरीर में मौजूद फ्री रेडिकल्स को न्यूट्रलाइज़ कर देता है और कैंसर से बचाव करताहै. ये एलडीएल यानी बैड कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम करने में भी सहायक होता है.

ग्रीन टी: शोध बताते हैं कि इसमें मौजूद पॉलीफीनॉल्स इंफ्लूएंज़ा के वायरस का ख़ात्मा करने में सहायक हैं. यहएंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती है और इम्यून सिस्टम पर सकारात्मक प्रभाव डालती है.

ओट्स/जौ: यह कई तरह की बीमारियों व फ्लू से रक्षा करता है, क्योंकि इनमें बीटा-ग्लूकैन नाम का फाइबर है, जोइम्यूनिटी बढ़ाता है. जिसमें एंटीमाइक्रोबियल और एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज़ भी होती हैं.

ब्लैक टी: इसमें मौजूद अमीनो एसिड इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए ज़िम्मेदार है और यह संक्रमण से लड़ने की क्षमता बढ़ाती है.

तुलसी: इसके हेल्थ बेनिफिट्स से हम सभी वाक़िफ़ हैं इसीलिए इसे पूजा जाता है. यह एंटीवायरल, एंटीबैक्टीरियल औरएंटीइन्फ्लामेट्री है. यह सर्दी-ज़ुकाम में राहत देती है. तुलसी की पत्तियां खाने से कई तरह के संक्रमणों से बचाव होता हैऔर इसका काढ़ा बनाकर पीने से भी काफ़ी लाभ होता है.

बादाम: इसमें मौजूद विटामिन ई इम्यूनिटी को बढ़ाता है, साथ ही इसमें राइबोफ्लेविन और नायसिन भी होता है, जो स्ट्रेससे बेहतर तरीक़े से लड़ने में मदद करता है.

अनार: यह विटामिन्स, फॉलिक एसिड और एंटीऑक्सीटेंड के गुणों से भरपूर है और कई तरह के कैंसर से बचाव करता है. 

सरसों का तेल: इसमें काफ़ी मात्रा में मैग्नीशियम पाया जाता है, जो अस्थमा व सर्दी से राहत दिलाता है. इसका सेवनइम्यूनिटी बढ़ाता है. जिन्हें सांस की बीमारी या सर्दी की समस्या हो तो सरसों के तेल को गर्म करके उसमें लहसुन या सेंधानमक मिलाकर सीने पे लगाने से राहत मिलती है. 

Immunity Boosters

इस तरह बढ़ायें इम्यूनिटी

  • रोज़ योग, ध्यान और कसरत करें.
  • सिगरेट-शराब का कम सेवन करें.
  • एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर चीज़ों का सेवन करें,जैसे- नट्स, ब्रोकोली, हरी मिर्च, पपीता, संतरा, शकरकंद, कीवी, स्ट्रॉबेरी, हरी पत्तेदार सब्ज़ियां.
  • जिंक इम्यूनिटी बढ़ाने व बनाए रखने के लिए बहुत ज़रूरी है. डार्क चॉकलेट, कद्दू के बीज व फलियां जिंक केबेहतरीन स्रोत हैं. इनका सेवन समय-समय पर करें.
  • वज़न को नियंत्रण में रखें.
  • जंक फ़ूड कम खायें.
  • नींद पूरी लें.
  • स्ट्रेस कम लें.
  • हाईजीन का ख़्याल रखें.
  • हाइड्रेटेड रहें, पानी भरपूर पियें.
  • हेल्दी सूप पियें. बेहतर होगा घर पे ही तैयार किया हुआ सूप लें, ताकि आर्टिफिशियल कलर व प्रिज़र्वेटिव से बचेरहें.
  • कोल्ड ड्रिंक्स की बजाय ताज़ा फलों का रस, सब्ज़ी का जूस, नींबू पानी या नारियल पानी पियें.
  • इम्यूनिटी बढ़ानेवाले फ़ूड्स को डायट में शामिल करें.
  • डायट के चक्कर में पोषण कम ना होने दें, वर्ना इम्यूनिटी कमज़ोर होने लगेगी.
  • बेवजह दवाएं ना खायें और ख़ासतौर से बिना डॉक्टर की सलाह के पेनकिलर ना लें.
  • डायट को बैलेंस रखने की कोशिश करें यानी आपकी थाली में तरह-तरह के रंग की सब्ज़ियाँ व फल हों.
  • मौसम के अनुसार खाने व लाइफस्टाइल में बदलाव करें. 
  • प्रदूषण से बचाव करें.
  • बहुत अधिक शुगर, आर्टिफ़िशियल स्वीटनर व प्रोसेस्ड फ़ूड से बचें, ये इम्यूनिटी को कमज़ोर करते हें.

गणपति

यह भी पढ़ें: हेल्दी रहना है, तो रखें अपने पाचन तंत्र और मेटाबॉलिज़्म को फिट! (Maintaining Digestive Health: Easy Ways To Boost Your Metabolism)

मौसम बदलने के साथ सर्दी-ज़ुकाम, ख़ासी-बुख़ार और वायरल इंफेक्शन्स बच्चों को अपनी चपेट में ले लेते हैं. उनका
बार-बार बीमार पड़ना इस बात की ओर संकेत करता है कि आपके बच्चे का इम्युनिटी सिस्टम कमज़ोर है. हम यहां पर कुछ ऐसे ही ङ्गइम्युनिटी बूस्टर फूडफ के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें खिलाकर आप अपने बच्चों की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं.

 

shutterstock_283623725 (1)

दही:

हाल ही में हुए एक शोध में यह सिद्ध हुआ है कि जो बच्चे दही खाते हैं, उन्हें कान-गले का संक्रमण और सर्दी-ज़ुकाम के होने की संभावना 19% तक कम होती है. दही में गुड बैक्टीरिया होते हैं, जो बच्चों के इम्युनिटी सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाने में मदद करते हैं. गुड बैक्टीरिया (जिन्हें प्रोबायोटिक्स भी कहते हैं) की संख्या बढ़ने से रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, साथ ही दही खाने से सूजन, संक्रमण और एलर्जी संबंधी समस्याएं भी दूर होती हैं.
कैसे खिलाएं?
– सादा दही खिलाने की बजाय स्मूदी व शेक बनाकर बच्चों को दें. दही में इच्छानुसार कोई भी फल काटकर बच्चोें को खाने के लिए दें.
– दही में शक्कर और रोस्टेड ड्राइफ्रूट्स मिलाकर चॉकलेट सॉस से सजाकर उन्हें खाने के लिए दें.
टिप: रोज़ाना बच्चों को 1 कटोरी दही ज़रूर खिलाएं.

नट्स:

नट्स खाने में जितने स्वादिष्ट होते हैं, उतने ही पौष्टिक भी होते हैं. इनमें सैचुरेटेड फैट्स की मात्रा कम और प्रोटीन व फाइबर प्रचुर मात्रा में होते हैं. नट्स में रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ानेवाले ज़िंक, आयरन और विटामिन बी जैसे तत्व ही नहीं होते, बल्कि ऐसे मिनरल्स और विटामिन्स भी होते हैं, जो बच्चों के इम्युनिटी सिस्टम को सपोर्ट भी करते हैं.
कैसे खिलाएं?
– बच्चों को दलिया या सीरियल्स में नट्स डालकर खाने को दें. इसके अलावा स्नैक्स के तौर पर नट्स खा सकते हैं.
– फ्रूट सलाद, वेज स्टर फ्राई, करी आदि में डालकर भी बच्चों को नट्स खिला सकते हैं
टिप: स्नैक्स के तौर पर जंक फूड की बजाय भुने हुए नट्स उन्हें खाने के लिए दें.

बेरीज:

बेरीज़ में ऐसे एंटीऑक्सीडेंट्स और पोषक तत्व होते हैं, जो बच्चों की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं. इसलिए उन्हें किसी न किसी रूप में बेरीज़ ज़रूर खिलाएं. बेरीज़ का लाल, नीला और पर्पल कलर इस बात की ओर संकेत करता है कि उनमें
एंथोसायनिन्स की मात्रा बहुत अधिक है. एंथोसायनिन्स बहुत पावरफुल एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो अनेक बीमारियों से बच्चों की
रक्षा करता है. बेरीज़ में विटामिन सी भी प्रचुर मात्रा में होता है, जो इम्युनिटी को मज़बूत बनाने के साथ-साथ बच्चों में संक्रमण के
ज़ोखिम को भी कम करता है.
कैसे खिलाएं?
– ब्रेकफास्ट या हेल्दी स्नैक्स के तौर पर बेरीज़ को दलिया, दही या बेक्रफास्ट सीरियल में मिलाकर खिला सकते हैं.
टिप: चाहें तो बेरीज़ की प्यूरी, स्मूदी (शेक) या जूस बनाकर भी बच्चों को पिला सकते हैं.

अंडा:

विटामिन और प्रोटीन का सबसे बेहतरीन स्रोत है अंडा. यह भी ङ्गसुपर फूडफ की श्रेणी में आता है. एग योक (अंडे के पीले भाग) में ऐसे पावरफुल एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो बच्चों की इम्युनिटी क्षमता को बढ़ाते हैं. एग योक में ज़िंक, सेलेनियम और मिनरल्स भी होते हैं, जो बच्चों के मस्तिष्क का विकास और आंखों की रोशनी को भी तेज़ करते हैं.
कैसे खिलाएं?
– एग पुलाव, एग उपमा, एग पकौड़ा, एग सैंडविच व एग परांठा बनाकर बच्चों को खिला सकते हैं.
टिप: बच्चों को कम से कम 1 अंडा रोज़ाना खिलाएं. एक अंडे में 6 ग्राम प्रोटीन होता है, जो बच्चों को स्ट्रॉन्ग बनाने में मदद करता है.

सालमन:

ओमेगा 3 फैटी एसिड का सबसे उत्तम स्रोत है सालमन. इसमें मौजूद फैट्स बच्चों के मानसिक विकास और इम्युनिटी सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाने में मदद करता है. सालमन में ज़िंक, मिनरल्स और विटामिन डी भी प्रचुर मात्रा में होते हैं, जो इम्युनिटी सिस्टम को बूस्ट करते हैं.
कैसे खिलाएं?
– सालमन फिश के पकौड़े, टिक्की, कबाब और कटलेट बनाकर बच्चों को खिलाएं.
टिप: बच्चों के इम्युनिटी सिस्टम को मज़बूत बनाने के लिए उन्हें सप्ताह में 2-3 बार सालमन फिश ज़रूर खिलाएं.

लहसुन:

इसमें ऐसे एंटीवायरल और एंटीबैक्टीरियल ऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो बच्चों की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं. लहसुन में ऐसे पोषक तत्व भी होते हैं, जो इम्युनिटी सेल्स में होनेवाले इंफेक्शन से लड़ने में सहायता करते हैं. यह बच्चों के शरीर में मौजूद सल्फर नामक तत्व को नियंत्रित करता है, ताकि उनके शरीर में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स की एक्टिविटीज़
तेज़ हो सके. इसलिए इसे ङ्गइम्युनिटी बूस्टर फूडफ भी कहते हैं.
कैसे खिलाएं:
– दाल-सब्ज़ी के अलावा बच्चों को उनके फेवरेट फूड, जैसे- स्पेगेटी, पास्ता, सूप, गार्लिक ब्रेड, डिप्स-चटनी और ड्रेसिंग में भी लहसुन डालकर खिला सकते हैं.
टिप: कुकिंग करते समय लहसुन को केवल हल्का-सुनहरा होने तक भूनें, नहीं तो लहसुन में स्थित इम्युनिटी बढ़ानेवाले एंटीऑक्सीडेेंट्स नष्ट हो जाते हैं.

टमाटर:

लाल टमाटर में ऐसे पावरफुल एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो बच्चों में फ्री रैडिकल्स से होनेवाले डेमैज को रोकते हैं और उनकी इम्युनिटी क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं. इसमें विटामिन सी और बीटा-कैरोटीन नामक एंटीऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में होता है, जो इम्युनिटी सिस्टम में होनेवाले संक्रमण से बच्चों की रक्षा करता है.
कैसे खिलाएं?
– दाल-सब्ज़ी के अलावा टोमैटो प्यूरी, सॉस, सूप, सलाद, डिप बनाकर बच्चों को खिलाएं.
टिप: 8 महीने से कम उम्रवाले बच्चों को टमाटर से बनी प्यूरी, डिप आदि न दें. इससे उन्हें रैशेज़ होने की संभावना होती है.

रंग-बिरंगी सब्ज़ियां:

लाल-पीली-हरी शिमला मिर्च, गाजर, आलू, फूलगोभी और पत्तागोभी आदि सब्ज़ियों में कलरफुल कंपोनेंट केरोटेनाइड्स (जैसे- बीटा कैरोटीन) नामक एंटीऑक्सीडेंट्स होता है, जो बच्चों की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है. गाजर में विटामिन्स ए, बी, सी और जी, पोटैशियम और सोडियम बहुत अधिक मात्रा में होते हैं, जो बच्चों की ग्लोइंग स्किन, आंखों की रोशनी, पाचन तंत्र और दांतों के लिए फ़ायदेमंद होते हैं. इसी तरह से लाल शिमला मिर्च में बीटा कैरोटीन और विटामिन सी बहुत अधिक मात्रा में होता है, जो बच्चों की आंख और त्वचा को हेल्दी बनाए रखने में मदद करता है.
कैसे खिलाएं?
– कलरफुल वेजीटेबल्स से सैंडविच, परांठा, रोल्स, कबाब, टिक्की आदि बनाकर बच्चों को खिला सकते हैं.
टिप: कलरफुल वेजीटेबल्स में मौज़ूद बीटा कैरोटीन बच्चों में बार-बार होनेवाले कोल्ड एंड फ्लू से उनकी रक्षा करता है.

हरी पत्तेदार सब्ज़ियां:

पालक, मेथी, बथुआ आदि हरी पत्तेदार सब्ज़ियों में आयरन प्रचुर मात्रा में होता है, जो बच्चों के इम्युनिटी सिस्टम को मज़बूत बनाने में मदद करता है. आयरन में मौजूद तत्व शरीर में व्हाइट ब्लड सेल्स और एंडीबॉडीज़ के उत्पादन का काम करते हैं. जिन बच्चों में आयरन की कमी होती हैं, उन्हें बार-बार कोल्ड और फ्लू होने की संभावना होती है. हरी पत्तेदार सब्ज़ियों में बीटा-कैरोटीन सहित ऐसे अनेक एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो बच्चों के इम्युनिटी सिस्टम को हेल्दी बनाए रखने के साथ-साथ अन्य बीमारियों से भी उनका बचाव करते हैं.
कैसे खिलाएं?
– सब्ज़ी व परांठे के अलावा हरी पत्तेदार सब्ज़ियों से बने हेल्दी स्नैक्स, चीला, डोसा और पूरी भी बच्चों को खिला
सकते हैं.
टिप: हरी सब्ज़ियों में मौज़ूद पोषक तत्व इम्युनिटी सेल्स को नियंत्रित करके पाचन तंत्र को हेल्दी बनाए रखने में मदद करते हैं.

ब्रोकोली:

इसे सुपर फूड भी कहते हैैं. ब्रोकोली में ऐसे एंटीऑक्सीडेंट्स, एंटीइनफ्लेमेट्री और डिटॉक्सिफाइंग कंपोनेंट होते हैं, जो इम्युनिटी सिस्टम को मज़बूत बनाने में मदद करते हैं. इसमें उपस्थित मिनरल्स और विटामिन्स ए, सी व ई बच्चों की शारीरिक क्षमता को ब़ढ़ाने में सहायता करते हैं.
कैसे खिलाएं?
– पास्ता, सूप और डिप के साथ बच्चों को ब्रोकोली खिला सकते हैं. इसके अलावा उबली हुई ब्रोकोली में चीज़ डालकर अवन में सुनहरा होने तक बेक करें. फिर उन्हें खाने के लिए दें.
टिप: कुकिंग करते समय ब्रोकोली को बहुत देर तक पकाना नहीं चाहिए. अधिक देर तक पकाने से इसमें मौजूद पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं.

बीन्स:

काबुली चना और दालें: बीन्स और दालों में फाइबर और अघुलनशील स्टार्च प्रचुर मात्रा में होते हैं, जो पेट को स्ट्रॉन्ग बनानेवाले गुड बैक्टीरिया का निर्माण करते हैं, जिससे पाचन तंत्र और इम्युनिटी सिस्टम मज़बूत होता है.
कैसे खिलाएं?
– दाल-बीन्स आदि से कबाब, टिक्की, रोल्स और पकौड़े बनाकर बच्चों
को खिलाएं.
टिप: दालों में प्रोटीन बहुत अधिक मात्रा में होता है, जो बच्चों के शरीर में ऊतकों के निर्माण में मदद करता है.

– पूनम नागेंद्र शर्मा

क्या आप अक्सर सर्दी-ज़ुकाम की शिकार हो जाती हैं या आपको इंफेक्शन बहुत जल्दी हो जाता है? इन सबका कारण कमज़ोर इम्यून सिस्टम है, जिसकी वजह से आप जल्दी बीमार हो जाती हैं. डायट से कैसे सुधारें इम्यून सिस्टम?

immunity booster food

इम्यून सिस्टम यानी प्रतिरोधक प्रणाली दुरुस्त न हो, तो हम बहुत जल्द बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं. इम्यून सिस्टम के कमज़ोर होने का सबसे बड़ा कारण है डायट में न्यूट्रीएंट्स की कमी. तो आइए जानते हैं, प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले कुछ खाद्य पदार्थों के बारे में, ताकि इन्हें अपनी रोज़मर्रा की डायट में शामिल कर आप हमेशा सेहतमंद बने रहें.

सब्ज़ियां

सब्ज़ियां खाने से कोलेस्ट्रॉल व हृदय रोग की संभावना कम होती है. इनसे शरीर को विटामिन व मिनरल्स मिलते हैं, जिनसे इम्यून सिस्टम तंदुरुस्त रहता है.
मेथी
– रोज़ाना मेथी खाने से एनीमिया से राहत मिलती है.
– मेथी डायबिटीज़ के मरीज़ों के लिए भी लाभदायक है.
– डिलीवरी (प्रसव) के बाद इसे खाने से मां को अच्छा दूध आता है.
पालक
– इसमें आयरन, कैल्शियम काफ़ी मात्रा में होता है, जो एनीमिया में लाभदायक है.
– पालक व अन्य हरी सब्ज़ियों में विटामिन, मिनरल, फॉलिक एसिड व फाइबर्स होते हैं.
गाजर
– गाजर विटामिन ए, कैरोटिनाइड और एंटी ऑक्सीडेंट का स्रोत है.
– गाजर के सेवन से लंग कैंसर की संभावना कम होती है.
– विटामिन ए आंखों के लिए अच्छा होता है एवं मोतियाबिंद की संभावना को भी कम करता है.
टमाटर
– टमाटर का नियमित सेवन दिल की बीमारी में आराम पहुंचाता है.
– कोलेस्ट्रॉल हाई हो, तो नियमित रूप से टमाटर का जूस पीएं.
– टमाटर एलडीएल (बैड कोलेस्ट्रॉल) का लेवल कम करने में भी सहायक होता है.
– इसमें लाइकोपेन होता है, जो शरीर में मौजूद फ्री रेडिकल्स को न्यूट्रलाइज़ कर देता है, जिससे फ्री रेडिकल्स हमारे शरीर को नुक़सान नहीं पहुंचा पाते.
– इसके नियमित सेवन से त्वचा पर पड़ने वाली झुर्रियों से लेकर हार्ट अटैक जैसी संभावित स्वास्थ्य समस्याओं का ख़तरा कम हो जाता है.

फल

ये एंटी-ऑक्सीडेंट के भंडार होते हैं. इन्हें रोज़ खाया जाना चाहिए.
सेब
– सेब विटामिन सी व पोटैशियम का अच्छा स्रोत है.
– यदि 1 या 2 सेब रोज़ खाए जाएं, तो एनर्जी लेवल में बढ़ोतरी होती है.
– इससे इम्यून सिस्टम स्ट्रॉन्ग होता है और ब्लडप्रेशर भी कम होता है.
संतरा
– यह विटामिन ङ्गसीफ का स्रोत है.
– संतरा कैंसर से बचाव, ब्लड सर्कुलेशन (रक्तसंचार) बढ़ाने, घावों को जल्दी भरने मेें भी सहायक है.
अंगूर
– हरे व काले दोनों तरह के अंगूरों में एंटी ऑक्सीडेंट होते हैं.
– ये नसों को संकीर्ण और कड़ा होने से बचाते हैं.
– अंगूर में पाए जाने वाले इलॉजिक एसिड में एंटी कैंसर गुण भी होते हैं.
– इसमें एन्थोसाएनिन्स की मात्रा अधिक होती है.
– ये शरीर में मौजूद ख़राब एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को नष्ट करता है और ख़ून के थक्के नहीं जमने देता.
बेरीज़
– सभी बेरीज़, जैसे- स्ट्रॅाबेरी, ब्लूबेरी, केनबेरी आदि विटामिन एवं फाइटोकेमिकल्स के अच्छे स्रोत हैं.
– फाइटोकेमिकल्स ऐसे पदार्थ हैं, जो बीमारियों से बचाते हैं.
– स्ट्रॉबेरी में एंटी कैंसर गुण भी होते हैं.
– इसे खाने से कमज़ोरी और डिप्रेशन दूर होता है.
केला
– इसे ङ्गइंस्टेंट एनर्जी बूस्टरफ कहना सही होगा, क्योंकि इसे खाने पर तुरंत एनर्जी मिलती है.
– इसमें 3 प्रकार की प्राकृतिक शर्करा होती है- ग्लूकोज़, सूक्रोज़ और फ्रक्टोज़.
– इसमें पाए जानेवाले हाई फाइबर कब्ज़ दूर करने में सहायक होते हैं.
– इसके अलावा केले का सेेवन अल्सर, एनीमिया, ब्लडप्रेशर, डिप्रेशन आदि में भी उपयोगी होता है.
नाशपाती
– यह पेक्टीन फाइबर व पोटैशियम का स्रोत है.
– पेक्टीन कोलेस्ट्रॉल कम करता है, शरीर को टॉक्सीन से मुक्त रखता है.
– इसमें सोडियम, फॉस्फोरस, कॉपर, विटामिन ए, सी भी होता है. यह व्हाइट सेल्स को इंफेक्शन से लड़ने के लिए उत्तेजित करता है और फ्री रेडिकल्स से होनेवाले नुक़सान से बचाता है.
तरबूज़
– इसमें प्रचुर मात्रा में लाइकोपेन पाया जाता है.
– ये प्रोस्टेट कैंसर के ख़तरे को कम करता है.
आड़ू
– इसमें प्रोटीन, कार्बोहाइट्रेट विटामिन सी, ए और फाइबर होते हैं.
– मेनोपॉज़ के बाद की समस्याओं से बचने के लिए रोज़ 2 पीचेज़ खाना लाभदायक है, क्योंकि इसमें पाया जानेवाला ङ्गबोरोनफ एस्ट्रोजन हार्मोन लेवल को बढ़ाता है.
आंवला
– आंवले में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो इम्यून सिस्टम को बहुत मज़बूत बनाता है.
– रोज़ सुबह आंवले का रस और शहद मिलाकर खाया जाए, तो अनेक बीमारियों से बचाव होता है.

सलाद

सलाद में खाए जानेवाले पदार्थ भी इम्यून सिस्टम दुरुस्त करने में सहायक होते हैं.
खीरा
– यह ठंडी प्रकृति का, डाययूरेटिक (मूत्रवर्द्धक) व त्वचा के लिए फ़ायदेमंद होता है.
– खीरे का ताज़ा रस सीने की जलन, एसिडिटी, एक्ज़िमा, आर्थराइटिस, गेस्ट्राइटिस व अल्सर में भी फ़ायदा
पहुंचाता है.
शतावरी
– इसमें कैलोरीज़ न के बराबर और विटामिन व मिनरल प्रचुर मात्रा में होते हैं, जैसे- विटामिन ए, बी, सी, बी 9 आदि.
– एस्पेरेगस में पाया जानेवाला विटामिन ए त्वचा व बालों के लिए एवं फाइबर आंतों की सफ़ाई के लिए फ़ायदेमंद होता है.
मूली
– इसमें ज़िंक काफ़ी मात्रा में होता है.
– यह मूत्रवर्द्धक होती है.
– इसकी पत्तियों में आयरन, कैल्शियम व विटामिन सी होता है.
बीटरूट
– इसमें आयरन, पोटैशियम व विटामिन सी होता है.
– यह लिवर को डिटॉक्स करता है और इम्यून सिस्टम को तंदुरुस्त रखता है.
नींबू
– इसमें इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाने वाला विटामिन सी व फ्लेवोनॉइड नामक कंपाउंड पाया जाता है.
– इसमें एंटी-कैंसर व एंटी-ऑक्सीडेंट के गुण भी होते हैं.
– यह त्वचा और मसूड़ों को हेल्दी बनाता है.
हरी धनिया
– इसमें आयरन होता है.
– यह भोजन का स्वाद बढ़ाता है तथा एलर्जी व अपचन से बचाता है.
दही
– दही में ज़िंक होता है, जिसकी कमी से इम्यून सिस्टम कमज़ोर हो जाता है.
– इसमें कैल्शियम, विटामिन ई व प्रोटीन होता है.
– दही खाने से मुंह से आनेवाली बदबू कम होती है.
– पाचन नली के हानिकारक बैक्टीरिया से लड़ने में मदद मिलती है, जिससे पाचन क्रिया ठीक रहती है.
साथ ही पेट संबंधी सारी समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है.
शहद
– इसमें प्राकृतिक शर्करा व कार्बोहाइड्रेट होेता है, जो शरीर में आसानी से अवशोषित हो कर इंस्टेंट एनर्जी देते हैं, जिसका असर लंबे समय तक रहता है. अतः एथलीट व रनर्स अपनी डेली डायट में इसका उपयोग करते हैं.
– यह स्ट्रेस बूस्टर व एंटीसेप्टिक भी है.
पार्सले
– इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन सी, कैल्शियम, पोटैशियम, मैगनीज़, आयरन होता है.
– यह भी इम्यून सिस्टम को दुरुस्त रखने में सहायक है.
तुलसी
– इसके पत्ते गैस की समस्या, मितली व पेट की समस्या से भी निजात दिलाते हैं.
– हेपेटाइटिस व टाइफ़ाइड से बचने के लिए इसके 5 पत्ते रोज खाएं.
ड्रायफ्रूट्स
– सभी ड्रायफ्रूट्स विटामिन्स, फ़ाइबर, मिनरल आयरन व कैल्शियम के स्रोत हैं.
– ये बहुत हेल्दी होते हैं. इनमें हाई प्रोटीन व फैट होता है.
– ब्रेनफूड बादाम विटामिन ई का स्रोत है, जो त्वचा की झुर्रियां व कोलेस्ट्रॉल कम करता है.
– अखरोट में ओमेगा 3 ़फैटी एसिड होता है, जो आर्थराइटिस कम करता है.

अनाज

विभिन्न अनाजों में मौजूद उपयोगी पदार्थ भी इम्यून सिस्टम बढ़ाते हैं, जिससे हम बने रहते हैं सेहतमंद.
दालें (सभी तरह की)
– इनमें सभी आवश्यक एमीनो एसिड्स होते हैं.
– इनमें 20-25% प्रोटीन होता है, जो गेहूं में पाए जाने वाले प्रोटीन से दुगुना और चावल के प्रोटीन से तिगुना होता है.
सोयाबीन
– इसमें ओमेगा 3 व ओमेगा 6 फैटी एसिड्स होते हैं, जो हेल्थ के लिए अच्छे हैं.
– मेनोपॉज़ व ऑस्टियोपोरोसिस में इसका उपयोग बहुत फ़ायदा पहुंचाता है.
बीन्स
– बीन्स में विटामिन बी व पोटैशियम होता है.
– ये कोलेस्ट्रॉल कम करने, ब्लड शुगर नियंत्रित करने और ब्लडप्रेशर, कैंसर व मोटापे का रिस्क कम करने में
सहायक हैं.
ओट्स (जई)
– इसमें कैल्शियम, पोटैशियम, मैग्नीशियम, सिलिकॉन, विटामिन बी व ई होते हैं. नाश्ते में इनका सेवन सेहतमंद होता है.
ये पाचन में भी मदद करते हैं.
– कोलेस्ट्रॉल कम करने व डायबिटीज़ के लिए फ़ायदेमंद हैं.
फ्लेक्स सीड्स (अलसी)
– फ्लेक्स सीड्स में ओमेगा 3 फैटी एसिड प्रचुर मात्रा में होता है, अतः इसके सेवन से हृदय रोग, कैंसर, आर्थराइटिस जैसी बीमारियों से बचाव होता है.
– इसमें मैगनीज़, फ़ॉलिक एसिड, कॉपर, फ़ॉस्फ़ोरस व विटामिन बी 6 होता है.
– यदि रोज़ इसका सेवन किया जाए तो सोरायसिस, ऑस्टियोपोरोसिस, डायबिटीज़ व एलर्जी में फ़ायदा
होता है.
तिल
– इसमें विटामिन ए, बी, ई के अलावा कैल्शियम, कॉपर, फ़ॉस्फ़ोरस, मैगनीज़, पोटैशियम व ज़िंक भी होता है.
पॉपी सीड्स (खसखस)
– यह गर्भवती व दूध पिलाने वाली मांओं के लिए बहुत फ़ायदेमंद है.
– इसमें कैल्शियम, फॉस्फोरस होता है.
– यह शरीर के पाचन तंत्र को दुरुस्त रखता है.

 

10 गुड फूड, 10 बैड फूड (10 Good Food 10 Bad Food)