India Fights Corona

नीम के ओषधीय गुण हम सभी जानते हैं. यही वजह है कि अब नीम को कोरोना के इलाज में इस्तेमाल की दिशा में कामकिया जा रहा है. 

ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद (AIIA) ने निसर्ग हर्ब्स कंपनी के साथ मिलकर एक समझौता किया है. अब ये दोनोंसंस्थाएं मिलकर ये परीक्षण करेंगी कि नीम कोरोना वायरस से लड़ने में कितना कारगर है और उसके ज़रिए कोरोनासंक्रमण से किस हद तक लड़ा जा सकता है.

ये परीक्षण फरीदाबाद के ESIC अस्पताल में किया जाएगा. इस परीक्षण का नेतृत्व AIIA की निदेशक डॉ. तनुजा नेसारीकरेंगी. वो इस परीक्षण की मुख्य परीक्षणकर्ता हैं. इस परीक्षण में डॉ. तनुजा के साथ साथ ESIC अस्पताल के डॉ. असीमसेन भी होंगे. 

इस पूरे परीक्षण के कुल 6 डॉक्टर्स की टीम बनाई गई है.

ये टीम 250 लोगों पर रिसर्च करेगी कि नीम आख़िर किस हद तक कोरोना को रोकने में कारगर होगा. यह प्रयोग 28 दिनों तक चलेगा. इसमें आधे लोगों को निसर्ग का नीम कैप्सूल दिया जाएगा और बाक़ी को प्लेसिबो. इस दौरान ट्रायल में शामिल लोगों के नाक एवं मुंह से सैंपल लेकर कोरोना जांच की जाएगी. अगर कोईपाजिटिव पाया जाता है, तो संबंधित व्यक्ति के शरीर में कोरोना वायरस के प्रभाव की जांच की जाएगी.

ह्यूमन ट्रायल के पहले चरण की शुरुआत 7 अगस्त से हो चुकी है. 

निसर्ग बायोटेक के संस्थापक और सीईओ गिरीश सोमन ने कहा कि उन्हें भरोसा है कि उनकी ये दवा कोरोना की रोकथाममें असरदार एंटी वायरल दवा साबित होगी.

आयुष मंत्रालय का भी मानना है कि नीम कोरोना के इलाज में कारगार साबित हो सकता है. इसके चलते नीम पर शोधकरने का फैसला लिया गया है. नीम में एंटीबायोटिक तत्व काफी मात्रा में होते हैं. 

नीम में मौजूद होते हैं 76 तरह के एंज़ाइम्स व 136 से अधिक अन्य कंपाउंड होते हैं. नीम के पत्तों में एंटी−बैक्टीरियल गुण होते हैं जो कई तरह के रोगों से लड़ने में कारगर है. नीम का काढ़ा रोग प्रतिरोधक शक्ति का विकास करता है. नीम मलेरिया का बुख़ार उतारने में भी लाभकारी है. शुगर के मरीज़ों के लिए भी रामबाण है नीम. अल्सर से लड़ने में भी यह कारगर है. ऐसे में उम्मीद है कि नीम कोरोना को भी मात दे दे. 

इसके अलावा भी नीम से कोरोना के इलाज को लेकर अन्य कई शोध भी चल रहे हैं. कामयाबी मिली तो जल्द ही भारत सेकोरोना का ख़ात्मा होगा.

यह भी पढ़ें: वेटलॉस के 40+ इफेक्टिव होम रेमेडीज (40+ Effective Home Remedies For Quick Weight Loss)

कोरोना वायरस के डर से इस समय पूरी दुनिया लॉकडाउन हो गई है. सबके मन में डर, चिंता, तनाव, असमंजस, घबराहट, बेचैनी जैसे कई भावनाएं उमड़-घुमड़ रही हैं, जिससे लोगों का मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित हो रहा है. लेकिन इस समय लोगों पर शारीरिक, सामाजिक, आर्थिक समस्याएं इतनी हावी हो गई हैं कि कई लोग अपने मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान ही नहीं दे रहे हैं. बहुत से लोगों के मन में बहुत से सवाल हैं, कई लोगों को समझ नहीं आ रहा है कि इस समय वो अपने बच्चों और घर के बुज़ुर्गों का ध्यान कैसे रखें. ऐसी स्थिति में सभी के लिए ये बहुत ज़रूरी है कि वो अपने और अपने परिवार के मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें. इस समय व्यक्तिगत स्वच्छता और सुरक्षा के साथ सबसे ज़्यादा ज़रूरी है कि हम अपने मानसिक स्वास्थ्य का बैलेंस बनाए रखें. अपने मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य में संतुलन बनाने के बारे में विस्तार से बता रही हैं क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट, काउंसलिंग साइकोथेरेपिस्ट और मल्टीपल डिसएबिलिटीज (रेमेडियल स्पेशलिस्ट) की विशेषज्ञ रिया धीर, जिनके दिए गए कुछ उपायों का उपयोग करके आप सक्षम और सफल हो सक्ते हैं.

How To Take Care Of Yourself, Your Children And The Elderly At Home In The corona Lockdown Period

कोरोना लॉकडाउन अवसर की अवधि को आत्म-वृद्धि के लिए संशोधित करें

इस समय जब पूरे विश्व में डर और नकारात्मकता की दशा छाई हुई है, ऐसे में सकारात्मक सोच आपकी ज़िंदगी बदल सकती है. इस समय आपके मन में भी आनेवाले कल को लेकर असमंजस और डर की भावना घर कर रही होगी. दिनभर घर में बैठना बोझ लग रहा होगा, लेकिन इस समय को यदि आप अच्छे अवसर की तरह देखें, तो आपको कुछ भी नकारात्मक नहीं लगेगा. कोरोना लॉकडाउन पीरियड में नेगेटिव बातों और खबरों से बचने की कोशिश करें. सही सोर्स व स्पेशलिस्ट से जानकारी हासिल करें, ताकि आप उचित सावधानी बरतें और विपरीत परिस्थिति में सही निर्णय लें. दरअसल, परिस्थिति चाहे कितनी ही मुश्किल क्यों न हो, यदि हम उस स्थिति से बाहर निकलने की ठान लें, तो कुछ भी नामुमकिन नहीं. रात चाहे कितनी ही काली, कितनी ही गहरी क्यों न हो, रात के बाद सवेरा होता ही है. इसी तरह जीवन में चाहे कितनी ही तकलीफ क्यों न आए, दुःख के बादल छंट ही जाते हैं और ज़िंदगी खुशियों से मुस्कुराने लगती है.

स्वस्थ और सुरक्षित रहने के लिए जितना ज़रूरी शारीरिक स्वास्थ्य पर ध्यान देना है, इस कठिन समय से जूझने के लिए उतना ही ज़रूरी है मानसिक रूप से स्वस्थ और संतुलित रहना. यदि आप मानसिक रूप से मज़बूत हैं, तो आप इस मुश्किल समय को भी पॉज़िटिव तरीके से देख सकेंगे. कई लोग मुंह से भले ही कुछ न कहें, लेकिन जाने-अनजाने उनके मन में डर, चिंता, तनाव बढ़ सकता है. इस मुश्किल दौर में जो लोग घर से काम कर रहे हैं तथा बड़े-बुज़ुर्गों व बच्चों के साथ घर में हैं, उनके लिए इस स्थिति को संभालना बहुत मुश्किल हो रहा है. इस स्थिति में वो घर और ऑफिस की ज़रूरतों को पूरा करते हुए इतना स्ट्रेस महसूस करते हैं कि मानसिक रूप से थक जाते हैं. शारीरिक रूप से भले ही वो एक्टिव नज़र आते हैं, लेकिन मानसिक रूप से वो थकान और तनाव महसूस करते हैं.

यह भी पढ़ें: Corona Virus: कोरोना वायरस से डरें नहीं बचें, ये लक्षण दिखें तो हो जाएं सावधान (Corona Virus: Do Not Be Afraid Of Corona Virus, Be Careful If You See These Symptoms)

How To Take Care Of Yourself, At Home In The corona Lockdown Period

कोरोना लॉकडाउन पीरियड में ये मनोवैज्ञानिक उपाय आपके बहुत काम आ सकते हैं 

जीवन के हर पड़ाव पर, फिर चाहे बचपन हो या बुढ़ापा, आपका मानसिक रूप से स्वस्थ होना बहुत आवश्यक है, तभी आप हर स्थिति का डटकर सामना कर सकते हैं. इसके लिए हम सब मिलकर प्रयास कर सकते हैं. आइए, इस वैश्विक संकट के समय में एक-दूसरे की मदद करें, इसका सामना करें और इससे साथ में बाहर निकलें.

* इस समय प्रसाशन द्वारा जारी नियमों का पालन करना बेहद ज़रूरी है. स्वच्छ रहें और अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएं, अच्छी तरह से सोएं और अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहें, स्वस्थ पोषक तत्वों से भरपूर भोजन करें, शारीरिक स्वास्थ्य बनाए रखें और घर से बाहर केवल आवश्यक चीजों के लिए जाएं अन्यथा कृपया नियमों का पालन करें और बाहर जाने से बचें. ये न भूलें कि इस समय आपका घर में रहना समय की मांग है और इसमें ही आपकी और आपके परिवार की सुरक्षा है.

* ऐसी स्थिति में आमतौर पर मन में ये विचार आते हैं कि, “कहीं ये मुझे न हो जाए, कहीं मैं इसका शिकार न हो जाऊं, अगर मुझे ये हो गया तो क्या होगा, मैं कोरेन्टाइन नहीं होना चाहता, मुझे डर लग रहा है, मैं इसके बारे में सोचे बिना नहीं रह पा रहा हूं”. ऐसी स्थिति में मन में ऐसे विचार आना स्वाभाविक है, जिसके कारण गुस्सा और बेचैनी बढ़ने लगती है. जब हम सोशल डिस्टेंस या कोरेन्टाइन की बात करते हैं, तो इससे मानसिक रूप से उलझने के बजाय ये सोचना ज़रूरी है कि ये आपकी और आप जिन्हें प्यार करते हैं, उनकी सुरक्षा के लिए बहुत ज़रूरी है.

* घर में रहना कुछ लोगों को बंधन लग सकता है, कुछ लोगों के लिए ये फ़्रस्ट्रेशन या कैद हो जाना हो सकता है, लेकिन कई लोगों के लिए ये रिफ्रेशिंग और ‘मी-टाइम’ भी हो सकता है. ये इस बात पर निर्भर करता है कि आप अपने समय का कैसे प्रयोग करते हैं.

* जो लोग बहुत सक्रिय रहते हैं, उन्हें इस समय घबराहट, बेचैनी, चिंता, स्ट्रेस, प्रेशर महसूस हो सकता है, जिसके कारण उनका मूड खराब हो सकता है, वो डिप्रेस्ड हो सकते हैं. यदि आप इस स्थिति का सामना नहीं कर पाते, आपके मन में हर समय डर, घबराहट, चिंता रहती है, तो इससे आपकी मानसिक स्थिति पर जोर पड़ सकता है, जिससे आपका शारीरिक स्वास्थ्य भी प्रभावित हो सकता है, आपकी इम्यूनिटी प्रभावित हो सकती है, इसलिए इस स्थिति का डटकर सामना करें और पॉज़िटिव सोचें.

* गतिविधि जो आप घर पर कर सकते हैं: एक मूड मॉनिटरिंग जर्नल बनाएं, जहां आप एक दिन में अपने सभी नकारात्मक विचारों और प्रतिक्रियाओं पर ध्यान केंद्रित करते हैं, इसे लिखें. फिर दिन के अंत तक सुधार के साथ बैठें और उसी स्थिति के लिए अपना दृष्टिकोण बदलने के लिए सकारात्मक सुदृढीकरण का उपयोग करने का प्रयास करें.

* नए स्वास्थ्य नियम निर्धारित करें, योग करें, व्यायाम करें और कसरत करें, एक नया आहार चार्ट बनाएं और अपनी जीवनशैली में बदलाव करें. स्वास्थ्य के लिए ध्यान और प्राणायाम सांस लेना आपके श्वसन तंत्र को मजबूत करता है और प्रतिरक्षा का निर्माण करता है

* कोरोना लॉकडाउन पीरियड को अवसर में बदलें और इस समय वो सारे काम करें जो आप कई समय से नहीं कर पा रहे थे. इस समय को अच्छा अवसर मानकर आप इसका सदुपयोग अपनी क्रिएटिविटी बढ़ाने के लिए कर सकते हैं, अपनी कला को बाहर ला सकते हैं.

यह भी पढ़ें: कोरोनावायरस से बचने के लिए करें ये घरेलू उपाय (10 Home Remedies To Avoid Coronavirus)

कोरोना लोकडाउन में बच्चों और बुज़ुर्गों का ध्यान कैसे रखें

कोरोना के लॉकडाउन के दौरान बच्चों और बुज़ुर्गों के साथ रहना आपके लिए एक चुनौती हो सकती है क्योंकि वे बहुत संवेदनशील हैं, लेकिन ऐसे समय में उन्हें भावनात्मक रूप से समझना और उनकी मदद करना उनके और आपके लिए शांति बनाए रखने में मदद कर सकता है.

कोरोना लोकडाउन पीरियड में बच्चों का ध्यान कैसे रखें

कामकाजी माता-पिता को अपने बच्चों को समय देना चाहिए और उनकी गतिविधियों में शामिल होना चाहिए. आपके बढ़ते बच्चों के मन में कई सवाल होते हैं और बच्चे बहुत सवाल भी करते हैं. उनके मन में बहुत कुछ जान लेने की इच्छा होती है. कोरोना लोकडाउन की स्थिति में आपके बच्चे आपसे एक ही सवाल कई बार पूछ सकते हैं, वो बोर होने के कारण चिड़चिड़े भी हो सकते हैं, ओवर रिएक्ट भी कर सकते हैं. ऐसी स्थिति में आप उनके सवालों के जवाब किस तरह देते हैं, इससे उनके बालमन पर बहुत असर हो सकता है. बच्चों के सवालों का जवाब देते समय आपको बहुत ध्यान रखना चाहिए, क्योंकि कभी-कभी आपके जवाब या आपकी प्रतिक्रिया उन्हें डर की ओर ले जाती है, बच्चे असुरक्षित भी महसूस कर सकते हैं, इसलिए आपको बच्चों के मासूम सवालों का जवाब बहुत सोच-समझकर देना चाहिए. ऐसी स्थिति में आप घर में क्या बातें करते हैं, इसका भी बच्चों पर बहुत असर होता है.

How To Take Care Of Yourself, Your Children  At Home In The corona Lockdown Period

* ऐसी स्थिति में बच्चों के सामने टीवी, फोन आदि पर कोरोना से जुड़ी ख़बरें ज़्यादा न देखें, बच्चों को ऐसी खबरें अकेले ना देखने दें, क्योंकि जानकारी के अभाव में बच्चे डर सकते हैं, असुरक्षित महसूस कर सकते हैं और बेचैन हो सकते हैं.

* इस समय बच्चों को हाइजीन का महत्व समझाएं और उन्हें वर्तमान स्थिति की सही जानकारी दें. बच्चों के साथ कोई मज़ेदार गेम खेलते हुए आप खेल-खेल उन्हें इसकी जानकारी दे सकते हैं.

* लॉकडाउन पीरियड में बच्चों के साथ बात करें, उनके मन को समझने की कोशिश करें, उनके साथ इनडोर गेम खेलें, उनके साथ किताबें पढ़ें, डांस, ड्रॉइंग जैसी गतिविधियों में बच्चों को बिज़ी रखकर उनकी क्रिएटिविटी बढ़ाएं.

* स्पेशल बच्चे जिन्हें ज़्यादा देखभाल की ज़रूरत होती है, कृपया उनकी ख़ास देखभाल करें. यदि आपको किसी तरह की सहायता और गाइडेंस की ज़रूरत हो, तो कृपया अपने स्पेशलिस्ट या हम जैसे साइकोलॉजिस्ट और चाइल्ड स्पेशलिस्ट को कभी भी फोन कर लें. आपकी मानसिक ज़िम्मेदारियों में आपकी मदद करना हमारा कर्तव्य भी है. स्पेशल चाइल्ड को इस समय आपकी स्पेशल केयर की ज़रूरत होती है इसलिए उनका ख़ास ध्यान रखें.

* कोरोना लोकडाउन पीरियड में घर बैठे-बैठे आपकी और आपके बच्चों की मानसिक सुरक्षा आपके हाथ में है, अतः ये आपकी ज़िम्मेदारी है कि आप अपने बच्चों को आपका समय और प्रयास देकर बच्चे को भावनात्मक रूप से सुरक्षित महसूस कराएं.

कोरोना लोकडाउन पीरियड में बुज़ुर्गों का ध्यान कैसे रखें

* कोरोना लोकडाउन पीरियड में बुज़ुर्गों के लिए अलग से समय निकालें. वे भावनात्मक रूप से बहुत संवेदनशील हैं और कुछ मामलों में पहले से मौजूद स्वास्थ्य सम्मेलनों के आधार पर आपके लिए एक पूर्णकालिक जिम्मेदारी हो सकते हैं. ऐसी स्थिति में उनके मन में अनजाना डर बैठ सकता है, वो असुरक्षित महसूस कर सकते हैं, इसलिए आपका उन्हें समय देना बहुत ज़रूरी है. इस समय अपने घर के बुज़ुर्गों से बात करके आप न सिर्फ उनका डर दूर कर सकते हैं, बल्कि उन्हें सुरक्षित महसूस करा सकते हैं और उनके साथ अपने रिश्ते को और ज़्यादा मज़बूत बना सकते हैं.

How To Take Care Of Yourself, Your Children And The Elderly At Home In The corona Lockdown Period

* उन्हें स्थिति से अवगत कराएं, उन्हें बताएं कि इस समय उन्हें अपना और ज़्यादा ध्यान रखने की ज़रूरत है. अपने घर के बुज़ुर्गों को बताएं कि उनके लिए सोशल डिस्टेंस क्यों ज़रूरी है. आपकी बातों से वो डर सकते हैं, चिढ़ सकते हैं, आपसे कई तरह के सवाल या बहस कर सकते हैं. ऐसे में उनके साथ शांति से पेश आएं. उन्हें डेली ब्रीदिंग एक्सरसाइज़ कराएं, उन्हें पौष्टिक भोजन दें, उनकी दवाओं पर नज़र रखें, उन्हें समग्र अभ्यास का अनुभव दें, ताकि उनके मन की शांति बनी रहे. उनके मन के डर को हटाने के लिए उन्हें स्वस्थ बातचीत में शामिल करें और उनसे उनके जीवन के अनुभवों के बारे में पूछें जो उन्हें खुश करते हैं, उन्हें प्रेरित महसूस करने के लिए उनकी उपलब्धियों पर चर्चा करें. उनके साथ वो चीज़ें करें जो उन्हें पसंद हैं.  

* हर किसी को यह मौका नहीं मिलता, तो अपने माता-पिता को आप आज वो समय दें जो उन्होंने आपकी परवरिश, आपकी ज़रूरतों पर दिया था. उन्हें भी आज आपकी जरूरत है.

सरकार अपने काम को सही तरीक़े से निभा रही है. आपको सही जानकारी से अवगत करा रही है. इस जागरूकता को समझना आवश्यक है और ये समझना ज़रूरी है कि लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंस आपकी मजबूरी नहीं, परंतु आपका सामाजिक कर्तव्य है, ताकि आप अपने परिवार को और अपने समाज को सुरक्षित रखें. ऐसा करके आप अपनी और अपने परिवार की सुरक्षा कर सकते हैं, प्रसाशन और देश को सहयोग कर सकते हैं और एक ज़िम्मेदार नागरिक होने का फर्ज़ निभा सकते हैं.

“अपनी समस्याओं के बारे में सोचकर दुखी होते समय, हम ये भूल जाते हैं कि हमें जो ज़िंदगी मिली है, कई लोगों ने अपनी जान गंवाई और जीवन का वो अवसर भी खो दिया है, इसलिए हमें अपने जीवन के प्रति हमेशा आभारी होना चाहिए. मेरी तरफ से मैं आप सभी के लिए टेलीफोन पर किसी भी तरह के रिकमन्डेशन और सलाह के लिए उपलब्ध हूं. जो लोग अपने बच्चों, घर के बुज़ुर्गों के बारे में चिंतित हैं, जो लोग अपनी लाइफस्टाइल में आए बदलावों, मनोवैज्ञानिक परिवर्तनों में संतुलन नहीं बना पा रहे हैं, जो लोग डर, चिंता, चिड़चिड़ापन, स्ट्रेस, डिप्रेशन महसूस कर रहे हैं, ऐसे सभी लोगों की मदद करने की मैं पूरी कोशिश करूंगी. आप मुझे अपनी समस्याएं बता सकते हैं, आपकी समस्याओं को दूर करने में मैं आपकी हर संभव सहायता करूंगी.”
– रिया धीर
मुंबई स्थित क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट, काउंसलिंग साइकोथेरेपिस्ट और मल्टीपल डिसएबिलिटीज (रेमेडियल स्पेशलिस्ट) की विशेषज्ञ
Contact: (+91) 750-608-8917


आज जनता कर्फ्यू पूरे देश में ऐतिहासिक रूप से सफल रहा. हर किसी ने अपने स्तर पर इसमें योगदान दिया. साथ ही शाम को पांच बजे हर किसी ने कोरोना वायरस को लेकर इस आपातकालीन घड़ी में काम कर रहे डॉक्टर, नर्स, अस्पताल के कर्मचारी, सेना, पुलिस, इस कार्य से जुड़े व सेवा कर रहे सभी का आभार प्रकट किया. लोगों ने ताली, थाली, मंजीरा, ड्रम बजाकर, शंखनाद करके अपने-अपने तरीक़े से धन्यवाद कहा.
इस मुहिम में फिल्मी सितारे भी पीछे नहीं रहे. अमिताभ बच्चन से लेकर अनुपम खेर, अनिल कपूर, रणवीर सिंह, दीपिका पादुकोण, वरुण धवन, कपिल शर्मा हर किसी ने अपने-अपने ढंग से धन्यवाद-शुक्रिया-थैंक यू… कहा. फिल्मी सितारों के अलावा संगीत से जुड़े संगीतकार, गीतकार, फिल्म निर्माताओं, नेता, अभिनेता आदि ने भी इसमें योगदान दिया.
अक्षय कुमार और ऋतिक रोशन ने अपने घर की दीवार पर खड़े होकर ताली व थाली बजाकर धन्यवाद किया. साथ में फिल्म निर्माता साजिद नाडियाडवाला भी उन्हें सहयोग दे रहे थे. आभार प्रकट करने के इस नेक काम में सितारों के प्रशंसक ने भी उनकी हौसलाअफजाई की.
अमिताभ बच्चन अपने बंगले के छत पर बेटे अभिषेक, बहू ऐश्वर्या, पोती आराध्या, बेटी श्वेता, नातिन सभी के साथ मिलकर ताली बजाकर, घंटी बजाकर, हाथ हिलाकर कोरोना कमांडो का धन्यवाद प्रकट किया. साथ ही उन्होंने बहुत सुंदर बात भी कही- आज 22 मार्च को 5 बजे जनता कर्फ्यू में देश ने एकता की मिसाल पेश की.. “शंख बजे औ ताल बजे.. औ बजी है गणपत आरती.. अद्भुत दृश्य सुना विश्‍व ने हम उत्तम उज्जवल भारती… Historic.. We are ONE.. and we have WON!!… PROUD TO BE AN INDIAN.. JAI HIND!🇮🇳 उनकी इस कथन से हर कोई अभिभूत हुआ.
अनुपम खेर हमेशा की तरह देशभक्ति के रंग में रंगे हुए दिखाई दिए. उन्होंने भी अपने घर से ही थाली बजाते हुए सभी आपातकालीन कर्मचारियों का आभार व्यक्त किया.
रणवीर सिंह पत्नी दीपिका पादुकोण के साथ घर की बालकनी में खड़े होकर ताली बजाते, हाथ हिलाते दिखाई दिए. वहीं दीपिका हाथ में मंदिर की घंटी से सुमधुर ध्वनि कर रही थीं. रणवीर ड्रम भी बजाते नज़र आए. इस तरह संगीत के साथ उन्होंने सलामी दी उन सभी हमारे वीरों को.
वरुण धवन अपने माता-पिता, भाई-भाभी, भतीजे के साथ अपने घर की बालकनी से खड़े होकर घंटी, मंजीरा बजाकर, हाथ से ताली बजाकर सभी को धन्यवाद कहा. इसी तरह से हेमा मालिनी ने भी अपने पूरे परिवार के साथ यानी ईशा, अपने दामाद और घर के सहयोगियों के साथ शंख बजाकर भक्तिमय के साथ धन्यवाद प्रकट किया.
कॉमेडियन कपिल शर्मा अपनी बेटी को गोद में लिए हुए घर की बालकनी में आकर बेटी के साथ हाथ से ताली बजाते सब का आभार व्यक्त किया. उन्होंने इस ख़ास मौक़े पर अपने साथी मीका सिंह को भी घर पर बुलाया था. मीका ने जहां गीत और संगीत के साथ समा बांध दिया और कपिल शर्मा ने भी ड्रम बजाकर उन्हें सहयोग दिया. साथ ही उनके अगल-बगल के सब बिल्डिंगवालों को हाथ हिलाकर इसमें सहयोग देने की गुज़ारिश की. एक अलग ही माहौल बन गया था. हर कोई तहेदिल से कोरोना की लड़ाई में शामिल भारतीय वीरों को धन्यवाद देने की कोशिश कर रहा था.
फिल्म निर्माता-एक्टर करण जौहर अपनी मां हीरू और दोनों बच्चों के साथ घर की छत पर ताली और थाली बजाते नज़र आए. उनके साथ उनका स्टाफ भी था, जो हौसलाअफजाई कर रहा था.
विकी कौशल अपने घर की बालकनी में अपनी मां और भाई सनी कौशल के साथ ताली बजाते हुए दिखे. साथ ही उनके अगल-बगल की जितनी बिल्डिंग थीं, वे सब भी ताली बजाते हुए दिखाई दे रहे थे. सबने एक स्वर, एक साथ धन्यवाद का आह्वान किया.
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और सभी जाने-माने नेता, अभिनेता, बिजनेसमैन मुकेश अंबानी हर किसी ने अपने परिवार के साथ घर के छत पर, बालकनी में, खिड़की पर खड़े रहकर ताली बजाते हुए, थाली बजाते हुए, शंख बजाते हुए, घंटी बजाते हुए.. अपने-अपने स्तर पर आभार व्यक्त किए.
इसी तरह विवेक ओबेरॉय, कियारा आडवाणी, शिल्पा शेट्टी, सोनाली बेंद्रे, रवीना टंडन, ईशान खट्टर, करिश्मा कपूर, तुषार कपूर, हिमेश रेशमिया, प्रिंस नरूला, मनीष पॉल, पूजा हेगड़े आदि भी आभार प्रकट करने के इस अभियान से जुड़े.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी द्वारा आव्हान किए गए जनता कर्फ्यू और आभार मुहिम को देशवासियों ने ज़बर्दस्त सफल बनाया. प्रधानमंत्री मोदीजी ने भी इसके लिए सभी को धन्यवाद कहते हुए उनका आभार प्रकट किया. भारत के लिए यह ऐतिहासिक दिन रहा, क्योंकि ऐसी एकता पहली बार देखी गई. भारत देश दुनिया के लिए धन्यवाद और एकता का प्रतीक बन गया. साथ ही एक उदाहरण पेश किया कि भारत एक साथ एकजुट होकर मिलकर हर मुसीबत से सामना कर सकता है, फिर कोरोना वायरस की क्या बिसात है!.. सभी अपना और अपनों का ख़्याल रखें.. सावधानी बरतें.. सुरक्षित रहें.. यानी स्वस्थ व मस्त रहें…