International Men’s Day

 

इन दिनों आयुष्मान खुराना अपनी फिल्म बाला को लेकर सुर्खियों में हैं और इसी बीच इंटरनेशनल मेन्स डे (19 नवंबर 2019) के ख़ास मौके पर आयुष्मान खुरानाा ने सोशल मीडिया पर एक कविता शेयर की, आयुष्मान खुराना का ये वीडियो सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हो रहा है. इस कविता में आयुष्मान खुरानाा ने बताया है कि जेंटलमेन किसे कहते हैं. इस कविता में आयुष्मान खुराना ने कहा है कि जिसे दर्द होता है असल में मर्द वही होता है. आप भी सुनें आयुष्मान खुराना की वायरल कविता-

अपनी एक्टिंग से हर बार आयुष्मान खुराना ने समाज की बुराइयों को पर्दे पर दिखाया है और इस बार उन्होंने इंटरनेशनल मेन्स डे के खास अवसर पर पुरुषों के लिए एक इमोशनल कविता शेयर कर के एक बार फिर अपने लाखों फैन्स का दिल जीत लिया है.

यह भी पढ़ें: मूवी रिव्यूः बाला (Movie Review OF Bala)

Ayushman Khurana

इस वीडियो में आयुष्मान खुराना ने जो कविता पढ़ी है, उसे गौरव सोलंकी ने लिखा है. इस कविता में बताया गया है कि पुरुषों की जो छवि समाज में बनाई गई है, हर पुरुष ऐसा ही हो, ये जरूरी नहीं है. असल में जेंटलमेन वही होता है, जिसे दूसरों की तकलीफ देखकर दुख होता है, जो अपनी बीवी का किचन में हाथ बंटाता है, जो किसी लड़की पर अत्याचार होने पर उसके खिलाफ आवाज़ उठाता है, जो दर्द होने पर रोता है, अपने बच्चों की देखभाल करता है… ऐसी तमाम खूबियों वाला मर्द ही असल में जेंटलमेन होता है.

यह भी पढ़ें: आयुष्मान खुराना- मां के सामने उस फैन ने स्पर्म की डिमांड की… (Ayushmann Khurrana- That Fan Demanded Sperm In Front Of My Mother)

समाज में पुरुषों की तथाकथित इमेज अब तेज़ी से बदलने लगी है. आज का युवा अब अपनी भावनाओं को छुपाता नहीं है. वो हारने पर रोता है, अपने बच्चों के साथ अपनी भावनाएं शेयर करता है, किचन में बीवी की मदद करता है, बच्चे की नैपी बदलता है.

समाज में बदलाव ज़रूरी है और बदलाव की आवाज़ यदि आयुष्मान खुराना जैसे एक्टर की तरफ से आए, तो इसका असर तेज़ी से होता है. इंटरनेशनल मेन्स डे के अवसर पर यदि पुरुषों के लिए इतनी खूबसूरत कविता लिखी जाए और उसे आयुष्मान खुराना जैसे एक्टर पढ़ें, तो समाज का चेहरा बदलने में बहुत सहायता मिलेगी.

आयुष्मान खुराना की फिल्म ‘बाला’ बॉक्स ऑफिस पर मचा रही है धूम, आयुष्मान खुराना ने शेयर किया ये वीडियो 

https://www.instagram.com/p/B4uNU_OASg6/