is your sleeping position m...

अच्छी सेहत के लिए अच्छी नींद बेहद ज़रूरी है. ख़राब नींद या अधूरी नींद सेहत के लिए हानिकारक होती है. लेकिन सेहतमंद रहने के लिए स़िर्फ अच्छी नींद लेना ही पर्याप्त नहीं है, आप किस तरह सोते हैं, यह भी बहुत मायने रखता है. ग़लत ढंग से सोने (healthy sleeping positions) से मांसपेशियों में अकड़न, र्दन में तकलीफ़ जैसी कई समस्याएं हो सकती हैं.

Sleeping Position, Making You Sick
बीमारियों से है कनेक्शन

हममें से अधिकांश लोग हर रोज़ एक ही स्थिति में सोते हैं, लेकिन कोई अपने सोने के पोज़िशन पर ग़ौर नहीं करता. भले ही आपको एक ही स्थिति में सोना अच्छा लगता है, लेकिन स्लीपिंग पोज़िशन और बीमारियों के बीच ख़ास कनेक्शन है. जी हां, हमारे सोने का तरीक़ा ही हमें अच्छी सेहत की सौगात दे सकता है और यही हमें बीमार भी बना सकता है. एक अनुमान के मुताबिक़, तक़रीबन 95 फ़ीसदी लोग हर रोज़ एक ही स्थिति में सोते हैं, लेकिन हाल ही में ब्रिटेन में हुई एक स्टडी में यह खुलासा हुआ है कि सोने के सही तरी़के को अपनाकर व्यक्ति ख़ुद को हार्ट बर्न, अल्ज़ाइमर और पार्किंसन जैसी बीमारियों से बचा सकता है, तो चलिए जानते हैं कि किस बीमारी में किस तरह सोने पर आपको आराम मिल सकता है.

सीने में जलन

सोने का ग़लत तरीक़ा सीने में जलन और एसिडिटी की समस्या दे सकता है. सोने से 2-3 घंटे पहले गरिष्ठ भोजन करने से सीने में जलन की तकलीफ़ हो सकती है. इसके अलावा देर रात खाना खाकर तुरंत सो जाने से पाचन क्रिया बाधित होती है. सही ढंग- इससे बचने के लिए आपको दाहिनी तरफ़ करवट लेकर सोना चाहिए और पाचन क्रिया बाधित न हो इसके लिए आपको अपने सिरहाने एक ऊंचा तकिया रखकर सोना चाहिए. दाहिनी करवट लेकर अपने दोनों हाथों को आरामदायक मुद्रा में अपने सामने रखें, अपने दोनों घुटनों को थोड़ा-सा मोड़ते हुए शरीर के ऊपरी हिस्से की तरफ़ लाएं और आराम से सो जाएं.

पीठदर्द

आधुनिक जीवनशैली की वजह से ही आज तक़रीबन 40 फ़ीसदी लोग स्पाइनल यानी पीठदर्द की तकलीफ़ से परेशान नज़र आते हैं. ऐसे में सोने का ग़लत तरीका इस तकलीफ़ को बढ़ा सकता है. इससे बचने के लिए आपको अपने सोने के तरी़के में बदलाव लाने की ज़रूरत है. सही ढंग- इस बात का ख़ास ख़्याल रखें कि सोते व़क्त आपकी रीढ़ की हड्डी स्वाभाविक अवस्था में हो. आप चाहें तो करवट लेकर अपने घुटनों को ऊपर की ओर हल्का-सा मोड़ सकते हैं और अपने घुटनों के बीच एक तकिया रखें. अपने हाथों को अपने सामने आरामदायक मुद्रा में रखें. इस तरह से आप   पीठदर्द से राहत पा सकते हैं.

साइनस या सर्दी-खांसी

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि बदलते मौसम या फिर किसी एलर्जी से होनेवाली सर्दी-खांसी और साइनस की समस्या से आराम दिलाने में आपके सोने का तरीक़ा काफ़ी मददगार साबित हो सकता है. ऐसी समस्या होने पर पेट के बल लेटने से तकलीफ़ और बढ़ सकती है.सही ढंग- इस समस्या से राहत पाने के लिए आप अपनी पीठ के बल लेट जाएं और सिर के नीचे दो से तीन तकिया रखें ताकि सोते समय आपका सिर आपके शरीर के स्तर से ऊपर रहे. इससे सर्दी-खांसी से होनेवाली तकलीफ़ थोड़ी कम ज़रूर हो जाएगी.

कंधों में दर्द

हर रोज़ एक ही तरी़के से सोने की आपकी आदत आपको कंधों में दर्द की शिकायत भी दे सकती है. लेकिन अपने सोने के तरी़के को बदलकर आप इस समस्या से राहत भी पा सकते हैं. सही ढंग- कंधों के दर्द से उबरने के लिए दर्द वाले कंधे के दूसरी ओर करवट लेकर लेट जाएं और अपने पैरों को हल्का-सा मोड़ें.अब एक तकिया लें और उसे अपने दोनों हाथों की मदद से सीने से सटाकर रखें. आप चाहें तो अपनी जांघों के बीच भी एक तकिया रख सकते हैं. अगर दोनों कंधे दर्द कर रहे हैं तो ऐसी स्थिति में पीठ के बल लेट जाएं और हाथों को सीधे आरामदायक मुद्रा में रखकर आराम करें.
पीरियड्स

पीरियड्स के दौरान महिलाओं को पेट और कमर का असहनीय दर्द सहना पड़ता है. इस पर आपके सोने का तरीक़ा आपके इस दर्द को और भी बढ़ा सकता है. इसलिए सोते समय इस बात का ख़ास ख़्याल रखें. सही ढंग- इसके लिए सोते समय बिस्तर पर अपनी पीठ के बल लेट जाएं और पीरियड्स के दर्द से राहत पाने के लिए अपने घुटनों के नीचे एक तकिया रखें. सोने से पहले ये सुनिश्चित करें कि जब आप पीठ के बल लेटी हों तो आपकी रीढ़ झुकी न हो.

कमर दर्द

वयस्क लोगों में कमर दर्द की शिकायत बेहद आम है और इसके कई कारण हो सकते हैं, लेकिन एक ओर करवट लेकर सोना इस समस्या का प्रमुख कारण है. इसके साथ ही दिनभर एक ही जगह पर बैठे रहना या ज़्यादा चलने से भी यह परेशानी हो सकती है.सही ढंग- सोते व़क्त पीठ के बल लेटें और अपने घुटनों के नीचे तकिया लगाएं. इस स्थिति में सोने से आपको बेहतर महसूस होगा. इसके अलावा घंटों एक ही जगह पर बैठे रहने के बजाय बीच-बीच में छोटा-सा ब्रेक लेकर छोटी-सी वॉक लेना न भूलें.

दांत पीसने की समस्या

एक शोध के अनुसार, क़रीब 8 फ़ीसदी लोग रात में सोते समय दांत पीसते हैं. हालांकि यह समस्या तनाव, चिंता और विकार से जु़ड़ी हुई है. लेकिन ग़लत स्थिति में सोकर दांत पीसना, दांतों और जबड़ों दोनों के लिए ही नुक़सानदेह होता है, क्योंकि इससे चेहरे के आकार में भी परिवर्तन आ सकता है, लेकिन आप अपने सोने के तरी़के को बदलकर इस समस्या पर क़ाबू पा सकते हैं. सही ढंग- सोते समय पीठ के बल लेटें, ऐसा करने से आपका निचला जबड़ा अपने स्वाभाविक अवस्था में आ जाएगा और चेहरे के मसल्स को आराम मिलेगा. पीठ के बल लेटने के बाद अपने होंठों को तो बंद करें, लेकिन दांतों के बीच गैप रहने दें. सिर और दोनों हाथों को सीधा रखें और सो जाएं.

गर्दन में अकड़न

कई बार सोने के ग़लत तरी़के से गर्दन में दर्द और अकड़न की तकलीफ़ बढ़ जाती है. ऐसी तकलीफ़ आपको बार-बार न हो इसके लिए आपको अपने सोने के तरी़के में बदलाव लाना चाहिए. सही ढंग- अगर आपके गर्दन में अकड़न आ जाए तो ऐसी स्थिति में पीठ के बल लेटना फ़ायदेमंद रहेगा. इस समस्या से राहत पाने के लिए पीठ के बल लेट जाएं और गर्दन को एकदम सीधा रखें.

खर्राटे

अधिकांश लोग रात में सोते व़क्त खर्राटे लेते हैं. इस समस्या से पीड़ित लोग ख़ुद तो खर्राटे मारकर सोते हैं, लेकिन अपने आस-पास सोनेवाले लोगों की नींद हराम कर देते हैं. पर आपको यह जानकर आश्‍चर्य होगा कि सोने के तरी़के में थोड़ा-सा बदलाव करके आप इस समस्या को काफ़ी हद तक कम भी कर सकते हैं. सही ढंग- खर्राटे की समस्या हो तो पेट के बल लेटना चाहिए. सोने की यह स्थिति खर्राटे की समस्या को रोकने में काफ़ी हद तक मददगार होती है.

ये भी पढ़ेंः थायरॉइड को जड़ से ख़त्म करने के घरेलू उपाय