Tag Archives: IUCD

पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या सीज़ेरियन डिलीवरी में आईयूसीडी सेफ है? (Is IUCD Safe in Cesarean Delivary?)

IUCD Safe in Cesarean

दो महीने पहले ही मेरी पहली सीज़ेरियन डिलीवरी हुई है. डॉक्टर ने अगला बच्चा 2-3 साल बाद प्लान करने की सलाह दी है. मैं जानना चाहती हूं कि क्या मैं इंट्रा यूटेराइन कॉन्ट्रासेप्टिव डिवाइस (आईयूसीडी) इस्तेमाल कर सकती हूं? क्या यह सीज़ेरियन डिलीवरी में सेफ है और इसे कितने समय तक इस्तेमाल कर सकते हैं?

– सरस्वती मेहता, जयपुर.

सीज़ेरियन डिलीवरी में आईयूसीडी का कोई विपरीत प्रभाव नहीं पड़ता. दरअसल, यह एक बेहतरीन गर्भनिरोधक है. अगर आपको वेजाइनल ब्लीडिंग, जेनिटल कैंसर, गर्भ का असामान्य आकार, गर्भाशय में फायब्रॉइड्स, बार-बार पेल्विक इंफेक्शन आदि की समस्या नहीं है, तो यह आपके लिए एक सुरक्षित विकल्प है. बस, एक बार इसे इंसर्ट कराएं और आप बेफ़िक़्र रह सकती हैं. पर हर महीने आपको पीरियड्स के दौरान इसे चेक करते रहना होगा कि कहीं धागा बाहर तो नहीं आ रहा है, क्योंकि पीरियड्स के दौरान ही इसके बाहर निकलने की संभावना सबसे अधिक होती है.
शुरू-शुरू में पीरियड्स के दौरान हैवी ब्लीडिंग और दर्द हो सकता है, पर 2-3 महीने में यह ठीक हो जाएगा. इसमें आप कॉपर टी 380ए अगले
10 सालों के लिए इस्तेमाल कर सकती हैं.

Cesarean Delivary

 

मैं 29 वर्षीया एक बच्चे की मां हूं. हाल ही में मुझे शुरुआती स्टेज पर ब्रेस्ट कैंसर डिटेक्ट हुआ है. हालांकि सर्जरी में स़िर्फ गांठ कट करके निकालेंगे, पर फिर भी डॉक्टर ने कीमोथेरेपी की संभावना जताई है. इसलिए दूसरे बच्चे के लिए अपने एग्स को स्टोर करके रखने की सलाह दी है.
हम क्या करें?

– पल्लवी राणे, नागपुर.

यह अच्छी बात है कि शुरुआत में ही ब्रेस्ट कैंसर का पता चल गया. दरअसल, कीमो थेरेपी का असर आपके एग्स की क्वालिटी पर पड़ सकता है, इसलिए अगर आप दूसरे बच्चे के बारे में सोच रही हैं, तो आपके डॉक्टर ने बहुत अच्छी सलाह दी है. आप अपने एग्स को स्टोर कर लें. इसके लिए एक पूरी प्रक्रिया है, जिससे गुज़रने के बाद आपके एग्स को आपके पति के स्पर्म के साथ फर्टिलाइज़ करके फ्रीज़ करके रखा जाएगा, जिससे भविष्य में आप इसका इस्तेमाल कर सकती हैं.

 

 

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

 

 

 

पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या है हार्मोनल इंट्रायूटेराइन कॉन्ट्रासेप्टिव? (How Good Is Hormonal Intrauterine Contraceptive (IUCD)?)

Hormonal Intrauterine Contraceptive

मेरा 2 साल का एक बच्चा है और फ़िलहाल मैं दूसरा बच्चा नहीं चाहती, इसलिए हार्मोनल इंट्रायूटेराइन कॉन्ट्रासेप्टिव (IUCD) इंसर्ट करवाया है. डॉक्टर के मुताबिक़ हैवी ब्लीडिंग के मामले में यह एक उचित गर्भनिरोधक है. पर अगर यह एक अच्छा गर्भनिरोधक है, तो सभी महिलाएं इसका इस्तेमाल क्यों नहीं करतीं?

– समीरा यादव, कानपुर.

इंट्रायूटेराइन कॉन्ट्रासेप्टिव डिवाइस (IUCD) काफ़ी लोकप्रिय गर्भनिरोधक है. प्रोजेस्टेरॉन हार्मोंसयुक्त यह डिवाइस हैवी ब्लीडिंग वाली महिलाओं को दिया जाता है. यह एक स्पेशल डिवाइस है, क्योंकि इसके टी शेप प्लास्टिक फ्रेम के साथ हार्मोंस भी होते हैं. आप 5 साल तक इसका इस्तेमाल कर सकती हैं. दरअसल, महंगा होने के कारण यह बहुत लोकप्रिय नहीं हुआ है.

यह भी पढ़ें: शारीरिक संबंध के बाद १-२ दिन तक ब्लीडिंग क्यों होती है?

Hormonal Intrauterine Contraceptive

मेरी नौंवें महीने की प्रेग्नेंसी के शुरुआती चेकअप के बाद डॉक्टर ने तुरंत अल्ट्रासाउंड कराने की सलाह दी. टेस्ट के बाद उन्होंने बताया कि मुझे ओलिगोहाइड्रामिनियॉस है और मुझे सीज़ेरियन डिलीवरी ही करवानी होगी. यह क्या है?

– ख्याति झा, रायपुर.

गर्भाशय में बच्चा पानी की थैली के भीतर रहता है, जिसे एम्नियॉटिक फ्लूइड कहते हैं. अल्ट्रासाउंड के ज़रिए उसकी जांच की जाती है. ओलिगोहाइड्रामिनियॉस इसी की कमी की अवस्था है. आम भाषा में कहें, तो गर्भाशय में पानी की कमी है. इसके कई कारण हो सकते हैं, जैसे पानी की थैली में दरार पड़ना, बच्चे की किडनी में एब्नॉर्मिलिटी के कारण यूरिन कम होना, जीन डिफेक्ट, मां को हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज़ आदि. पानी की कमी के कारण बच्चे को सांस लेने में तकलीफ़ हो सकती है. यही कारण है कि आपके डॉक्टर ने सीज़ेरियन डिलीवरी की सलाह दी है.

यह भी पढ़ें: खाने के तुरंत बाद ये 6 चीज़ें न करें

क्या आप पहचानती हैं प्रेग्नेंसी के ये शुरुआती लक्षण?

– जिस प्रकार हर महिला अलग होती है, उसी प्रकार उसकी प्रेग्नेंसी के लक्षण भी अलग होते हैं. यहां तक कि एक ही महिला की  दो प्रेग्नेंसीज़ के लक्षण भी अलग-अलग हो सकते हैं. ज़रूरी नहीं जैसा वो पहली प्रेग्नेंसी में महसूस कर रही थी, वैसा भी दूसरी बार भी करे.

– पीरियड्स मिस होना इसका सबसे बड़ा लक्षण है, हांलाकि पीरियड्स मिस होने के पहले ही बहुत-सी

– कॉन्सेप्शन के बाद महिलाओं को हल्की-सी ब्लीडिंग होती है और पेट में मरोड़ भी होता है.

– शरीर में हो रहे बदलावों के कारण ब्रेस्ट हैवी लगने लगते हैं.

– थकान प्रेग्नेंसी के शुरुआती लक्षणों में से एक है.

– ज़्यादातर महिलाओं को सुबह-सुबह चक्कर आते हैं.

यह भी पढ़ें: क्या हीमोग्लोबिन की कमी के लिए हार्मोनल पिल्स लेनी चाहिए ?

डॉ. राजश्री कुमार
डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]  

 

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies