Jeev

Jeev Milkha Singh

महज़ 13 साल की उम्र में अमेरिकन एक्सप्रेस चैंपियनशिप जीतनेवाले जीव मिल्खा सिंह को जन्मदिन की शुभकामनाएं! विदेशों में भारतीय गोल्फ का परचम लहरानेवाले जीव ने छोटी उम्र से ही गोल्फ खेलना शुरू कर दिया था.

खेल में ही बीता बचपन
बचपन से घर में भी खेल के माहौल ने जीव को खेल के प्रति आकर्षित किया. ये अलग बात है कि अपने पिता मिल्खा सिंह की तरह रनिंग ट्रैक पर भागने की बजाय उन्होंने गोल्फ स्टिक को पकड़ना ज़्यादा उचित समझा. करियर के शुरुआती साल जीव के लिए काफ़ी संघर्षपूर्ण थे. एक ओर वो खेल में कुछ अच्छा नहीं कर पा रहे थे और दूसरी ओर पिता मिल्खा सिंह का फेम उन पर प्रेशर बनाए हुए था. इन सब के बीच जीव को ख़ुद पर भरोसा था. उन्हें पता था कि आनेवाला कल उनका है. हुआ भी कुछ ऐसा ही.

गोल्डन ईयर 2006
साल 2006 जीव का साल था. अप्रैल 2006 में जीव ने वाल्वो चाइना ओपन जीता. इस ख़िताब को जीतनेवाले अर्जुन अटवाल के बाद वो दूसरे भारतीय हैं. इस जीत ने जीव को उत्साह से भर दिया. इसके बाद जैसे जीत उनका पीछा छोड़ना ही नहीं चाहती थी. जीव ने इस दौरान कई ओपन जीते. नवम्बर 2006 में जीव मिल्खा सिंह ने पहला कैसियो वर्ल्ड ओपन गोल्फ ख़िताब जापान में जीता. इस जीत ने जीव का कॉन्फिडेंस और बढ़ा दिया.

अवॉर्ड
जीव मिल्खा सिंह को साल 1999 में अर्जुन अवॉर्ड से नवाज़ा गया. यह अवॉर्ड पानेवाले वो तीसरे गोल्फर हैं. 2007 में जीव को पद्मश्री से नवाज़ा गया.