Kadar Khan

कादर खान एक बड़ा नाम, पहले विलेन, फिर हास्य कलाकार और फिर कैरेक्टर रोल्स… इन सबके बीच कादर खान एक बेहद अच्छे डायलॉग राइटर भी थे. कम लोग ही जानते हैं कि फिल्म रोटी में राजेश खन्ना ने कादर खान को बतौर डायलॉग राइटर ब्रेक दिया था और इसके बाद कादर ने कई कामयाब फ़िल्मों के डायलॉग लिखे. इसी तरह सुपर स्टार अमिताभ बच्चन की भी कई फ़िल्मों के डायलॉग कादर ने ही लिखे.

ऐसे में अगर यह कहा जाए कि अमिताभ की कामयाबी में कादर का भी बड़ा हाथ है तो ग़लत नहीं होगा. अमिताभ और कादर बेहद अच्छे दोस्त भी थे. अमिताभ की कामयाब फ़िल्में- लावारिस, शराबी, अमर अकबर एंथनी और अग्निपथ की स्क्रिप्ट भी कादर खान ने लिखी थी. अमिताभ और कादर खान ने कई फ़िल्मों में साथ काम भी किया लेकिन फिर एक छोटी सी बात की वजह से दोनों के बीच दरार आ गई.

Kader Khan and Amitabh Bachchan

कादर खान ने खुद इंटरव्यू में इस घटना का ज़िक्र किया था कि अमिताभ को मैं अमित अमित कहता था. एक बार साउथ के एक प्रोड्यूसर कादर खान के पास आकर बोले क्या आप सर जी से मिले, कादर ने कहा कौन सर जी, वो प्रोड्यूसर बोला- आप सर जी को नहीं जानते? वो देखिए लंबे से, कादर बोले- ये तो अमित है, सर जी कबसे हो गया!

Amitabh Bachchan

सोशल मीडिया पर कादर खान का वो इंटरव्यू मौजूद है जिसमें उन्होंने इस पूरे घटनाक्रम का ज़िक्र किया है.

कादर ने बताया कि तबसे लोग अमित को सर जी सर जी कहने लगे लेकिन मेरे मुंह से कभी निकला नहीं, बस मेरे मुंह से सर जी ना निकला इसलिए मैं उस ग्रुप से निकल गया. मेरी समझ में नहीं आता कि क्या कोई अपने दोस्त या अपने भाई को किसी और नाम से बुला सकता है?

मैं खुदा गवाह से निकला, गंगा जमुना सरस्वती भी आधी लिख कि छोड़ दी और कई फ़िल्में जो छूट गई.

Video courtesy: Twitter/BUSINESSOFCINEMA

अपने आख़री दिनों में कादर खान कनाडा शिफ़्ट हो गए थे और उनके बेटे ब खुद कादर का भी कहना था कि इंडस्ट्री ने उन्हें नज़रअंदाज़ कर दिया, इस बात की तकलीफ़ उन्हें हमेशा रही.

यह भी पढ़ें: टीवी में हिट, बॉलीवुड में अनफिट: टीवी के बड़े स्टार्स, जो बड़े पर्दे पर रहे सुपर फ्लॉप (Popular TV Stars With Super Flop Bollywood Career)

हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता बहुमुखी प्रतिभा के धनी कादर ख़ान (Kadar Khan) हमारे बीच नहीं रहे. वे एक नेकदिल इंसान के साथ-साथ एक सच्चे हमदर्द व दोस्त थे. अपने हो या पराए सभी के साथ उनका अपनापन उन्हें बेहद ख़ास बना देता था. हम सभी उन्हें उनकी लाजवाब अभिनय, फिर चाहे वो चरित्र अभिनेता, खलनायक, कॉमेडी ही क्यों न हो के लिए हमेशा याद करते रहेंगे.

Kadar Khan

अभिनय के साथ-साथ उनकी कथा, पटकथा, संवाद की लेखनी भी दमदार थी. उन्होंने मनमोहन देसाई और प्रकाश मेहरा के साथ मिलकर कई सुपरहिट फिल्मों की स्क्रिप्ट भी लिखी है. इसमें धर्म वीर, अमर अकबर एंथनी, देश प्रेमी, सुहाग, कुली, गंगा जमुना सरस्वती, मुकद्दर का सिकंदर, लावारिस, कुली नंबर वन, मैं खिलाड़ी तू अनाड़ी, कर्मा आदि ख़ास हैं. उन्होंने क़रीब ढाई सौ फिल्मों के संवाद लिखे और तीन सौ से भी अधिक फिल्मों में काम किया.

उनकी कॉमेडी तो इतनी उम्दा थी कि जब भी वे पर्दे पर आते थे दर्शकों के चेहरे पर मुस्कान आ जाती थी. यूं तो उन्होंने अमिताभ बच्चन से लेकर शाहरुख ख़ान तक सभी कलाकारों के साथ काम किया, पर गोविंदा के साथ उनकी जोड़ी सुपरहिट रही. दोनों के कॉमेडी के पंच और सीन्स आज भी लोगों को ख़ूब हंसाते-गुदगुदाते हैं.

आज कादर ख़ान भले ही हमसे दूर चले गए हों, पर उनके संवाद व सशक्त अभिनय हमारे दिलों में सदा ज़िंदा रहेंगे.

ज़िंदगी के सफ़र पर एक नज़र…

* कादर ख़ान का जन्म काबुल में 22 अक्टूबर 1937 को हुआ था.

* उन्होंने अपनी फिल्मी करियर की शुरुआत दाग़ फिल्म से की थी.

* फिल्म में अभिनय करने से पहले उन्होंने फिल्म जवानी दीवानी के संवाद लिखे थे.

* मेरी आवाज़ सुनो और अंगार फिल्मों के लिए उन्हें बेस्ट डायलॉग के लिए फिल्मफेयर अवॉर्ड भी मिला था.

* हिंदी सिनेमा में उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए उन्हें साहित्य शिरोमणि पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था.

* वे मुंबई के इंजीनियरिंग कॉलेज में लेक्चरर भी रहे थे.

* शक्ति कपूर के साथ उनकी यादगार जोड़ी रही थी. दोनों ने सौ से भी अधिक फिल्मों में साथ काम किया.

* उनकी आख़िरी फिल्म दिमाग़ का दही थी, जो साल 2015 में आई थी.

* अभिनय से रिटायरमेंट लेने के बाद वे मुंबई से कनाडा अपने बेटे सरफराज़ के यहां चले गए.

* 81 वर्षीय कादर ख़ान के अंतिम समय में उनकी पत्नी हिज्रा, उनके बेटे, बहू, नातियां उनके साथ थीं.

* उनके बेटे के अनुसार, कनाडा में ही उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

* फिल्म इंडस्ट्री व अन्य लोगों ने सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धांजलि दी. अमिताभ बच्चन, अनुपम खेर, स्मृति ईरानी, असरानी, परेश रावल, अनिल कपूर, अक्षय कुमार, अर्जुन कपूर, वरुण धवन, मधुर भंडराकर के साथ-साथ अन्य लोगों ने अपनी भावनाएं व्यक्त की.

* अमिताभ बच्चन ने भावुक होते हुए कहा कि कादर ख़ान बहुमुखी प्रतिभा के धनी व समर्पित कलाकार थे. उनकी लेखनी भी ग़ज़ब की थी. मेरे अधिकतर सफल फिल्में, जैसे- मुकद्दर का सिकंदर, कुली, हम, शहंशाह, मि. नटरवरलाल, सुहाग, अदालत सहित तक़रीबन 21 फिल्मों में अभिनेता, संवाद, पटकथा लेखक के रूप में उन्होंने काम किया था.

* ज़िंदगी का सफ़र हमें कहां से कहां ले जाता है, कई बार इसे हम भी नहीं समझ पाते. तभी तो कादर ख़ान अफगानिस्तान के काबुल में जन्मे, भारत में मुंबई में अपनी अदाकारी-लेखनी का लोहा मनवाया, अंतिम पड़ाव पर परिवार के साथ कनाडा में बिताए.

मेरी सहेली परिवार की ओर से भानभीनी श्रद्धांजलि!

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े2018 में ये फिल्में हुईं बुरी तरह फ्लॉप (Check Out The Biggest Flops Of 2018)