Karwa Chauth Tips

करवा चौथ 2020 (Karwa Chauth 2020) इस बार 4 नवंबर बुधवार के दिन है. पूर्णिमा के चांद के बाद जो चौथ पड़ती है, उस दिन करवाचौथ मनाया जाता है. भारतीय महिलाएं इस दिन अपने पति की लंबी उम्र के लिए करवा चौथ का व्रत करती हैं. ऐसी मान्यता है कि जो सुहागन स्त्रियां इस दिन अपने पति के लिए निर्जला व्रत रखती हैं, उनके पति की लंबी उम्र होती है. करवा चौथ 2020 की तिथि, पूजा का शुभ मुहूर्त और चंद्रोदय के समय के बारे में बता रही हैं एस्ट्रो-टैरो, न्यूमरोलॉजिस्ट, नेम थेरेपी, वास्तु-फेंगशुई एक्सपर्ट मनीषा कौशिक.

Karwa Chauth 2020

करवा चौथ मुहूर्त 4 नवंबर 2020 का पूजा का शुभ मुहूर्त और चंद्रोदय का समय

करवा चौथ पूजा मुहूर्त – शाम 5:29 से 6:48
सर्वोत्तम मुहूर्त – शाम 4:16 से 5:38
चंद्रोदय- रात 8:16 बजे
अलग अलग मतों के अनुसार करवा चौथ पूजा मुहूर्त 5:29 से 6:48 के बीच दिया गया है. लेकिन सभी ज्योतिषीय व आध्यात्मिक गणनाओं को ध्यान में रखते हुए सर्वोत्तम मुहूर्त 4:16 से 5:38 के बीच है. जहां तक चंद्रोदय की बात है, तो सामान्य स्थितियों में चतुर्थी तिथि का चांद समय से कुछ देरी से ही निकलता देखा गया है.

यह भी पढ़ें: करवा चौथ से जुड़ी 30 ज़रूरी बातें हर महिला को मालूम होनी चाहिए (30 Important Things About Karwa Chauth)

करवा चौथ के व्रत में सास का बहुत महत्व होता है. सास अपनी बहू से कहती है कि वो उनके बेटे की लंबी उम्र के लिए व्रत रखे. करवा चौथ के व्रत में सास का इतना महत्व क्यों है? बता रही हैं एस्ट्रो-टैरो, न्यूमरोलॉजिस्ट, नेम थेरेपी, वास्तु-फेंगशुई एक्सपर्ट मनीषा कौशिक.

Mother In Law Karwa Chauth

ऐसा इसलिए है, क्योंकि आपको जो पति मिला है, उसे पैदा करने से लेकर, उसके पालन-पोषण की तमाम ज़िम्मेदारियां आपकी सास ने उठाई हैं, आपके पति को जब भी कोई कष्ट होता है, तो सबसे ज़्यादा तकलीफ़ आपकी सास को ही होती है, इसीलिए करवाचौथ के व्रत में सास का महत्वपूर्ण स्थान है. उस मां की पूजा होनी ज़रूरी है. सास जब बहू को सरगी देती है, तो एक तरह से वो आपको ये आशीर्वाद देती है कि जो तप तुम मेरे बेटे के लिए करने जा रही हो, उसे तुम अच्छी तरह से पूरा कर पाओ.

यह भी पढ़ें: करवा चौथ व्रत कथा: इस कथा को करवा चौथ के दिन पढ़ती हैं सुहागिनें

करवा चौथ के दिन सास का महत्व
* सुबह सूरज उगने से पहले सास अपनी बहू को सरगी देती है, जिसमें बहू के लिए कपड़े, उसके सुहान की चीज़ें जैसे चूड़ी, बिंदी, सिंदूर आदि, साथ ही फेनिया, फ्रूट, ड्राईफ्रूट, नारियल आदि रखा जाता है.
* सास द्वारा दी हुई सरगी से बहू अपने व्रत की शुरुआत करती है. अगर सास साथ में नहीं हैं, तो वो बहू को पैसे भिजवा सकती हैं, ताकि वो अपने लिए सारा सामान ख़रीद सके.
* सुबह सूरज निकलने से पहले सास की दी हुई फेनिया बनाकर पहले अपने पित्रों, गाय, कुत्ते और कौए का हिस्सा अलग रख लें. फिर अपने पति और परिवार के लोगों के लिए भी अलग निकाल दें. फिर उस फेनिया और सास के दिए हुए फ्रूट, ड्राईफ्रूट, नारियल खाकर ही व्रत की शुरुआत करें.
* फिर सास के दिए हुए कपड़े और शृंगार की चीज़ें पहनें.

यह भी पढ़ें: करवा चौथ से जुड़ी 30 ज़रूरी बातें

यदि सास न हो या विधवा हो तो क्या करें?
करवाचौथ के व्रत में सास का बहुत महत्व होता है, लेकिन जिन लोगों की सास नहीं हैं या सास विधवा हैं, तो उन्हें क्या करना चाहिए? आइए, जानते हैं.
* यदि आपकी सास जीवित नहीं हैं, तो भी सास के हिस्से का बायना ज़रूर निकालें और उसे किसी ऐसी महिला को दें, जिसे आप सास के समान मानती हैं.
* कई लोग ये मानते हैं कि सास यदि विधवा हैं, तो उनके लिए बायना नहीं निकालना चाहिए, लेकिन ये बिल्कुल ग़लत है. आप अपनी सास के बेटे की लंबी उम्र के लिए व्रत कर रही हैं इसलिए पति के लिए व्रत रखने के लिए उनकी मां से शुभ और कोई नहीं हो सकता. आपके पति की उतनी चिंता किसी को नहीं हो सकती, जितनी आपकी सास को है. अत: विधवा सास के लिए भी बायना ज़रूर निकालें.

यह भी पढ़ें: करवा चौथ के लिए इन 7 चीज़ों की शॉपिंग ज़रूर करें

पूर्णिमा के चांद के बाद जो चौथ पड़ती है, उस दिन करवाचौथ मनाया जाता है. देशभर और विदेशों में भी भारतीय महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए करवा चौथ का व्रत करती हैं. करवा चौथ से जुड़ी 30 ज़रूरी बातें बता रही हैं एस्ट्रो-टैरो, न्यूमरोलॉजिस्ट, नेम थेरेपी, वास्तु-फेंगशुई एक्सपर्ट मनीषा कौशिक.

क्यों मनाया जाता है करवा चौथ?
* स्त्री को शक्ति का रूप माना जाता है इसीलिए उसे ये वरदान मिला है कि वो जिस चीज़ के लिए भी तप करेगी, उसे उसका फल अवश्य मिलेगा.
* हमारी पौराणिक कथाओं में सावित्री अपने पति को यमराज से वापस ले आती है यानी स्त्री में इतनी शक्ति होती है कि वो यदि चाहे, तो कुछ भी हासिल कर सकती है. इसीलिए महिलाएं करवा चौथ के व्रत के रूप में अपने पति की लंबी उम्र के लिए एक तरह से तप करती हैं. तप का मतलब होता है किसी चीज़ को त्यागना और किसी एक दिशा में आगे बढ़ना, पहले के ज़माने में ऋषि-मुनी इसीलिए तप करते थे और सिद्धि प्राप्त करते थे. महिलाएं इस दिन निर्जल व्रत करती हैं.
* चौथ का चांद हमेशा देर से निकलता है, ये एक तरह से महिलाओं की परिक्षा होती है कि वो अपने पति के लिए कितना त्याग कर सकती हैं. कई बार तो देर रात तक चांद नहीं दिखता. ये मौसम ऐसा होता है कि कई बार बादल घिर जाते हैं और चांद नज़र ही नहीं आता. ऐसे में महिलाएं देर रात या अगले दिन तक अपना व्रत नहीं तोड़ती हैं.

कैसे करें व्रत की शुरुआत?
* सुबह सूरज उगने से पहले सास अपनी बहू को सरगी देती है, जिसमें बहू के लिए कपड़े, उसके सुहान की चीज़ें जैसे चूड़ी, बिंदी, सिंदूर आदि, साथ ही फेनिया, फ्रूट, ड्राईफ्रूट, नारियल आदि रखा जाता है.
* सास द्वारा दी हुई सरगी से बहू अपने व्रत की शुरुआत करती है. अगर सास साथ में नहीं हैं, तो वो बहू को पैसे भिजवा सकती हैं, ताकि वो अपने लिए सारा सामान ख़रीद सके.
* सुबह सूरज निकलने से पहले सास की दी हुई फेनिया बनाकर पहले अपने पित्रों, गाय, कुत्ते और कौए का हिस्सा अलग रख लें. फिर अपने पति और परिवार के लोगों के लिए भी अलग निकाल दें. उसके बाद फेनिया और सास के दिए हुए फ्रूट, ड्राईफ्रूट, नारियल खाकर ही व्रत की शुरुआत करें.
* फिर सास का दिए हुए कपड़े और शृंगार की चीज़ें पहनें.

यह भी पढ़ें: करवा चौथ व्रत कथा: इस कथा को करवा चौथ के दिन पढ़ती हैं सुहागिनें

कब सुनें करवा चौथ की कथा?
करवा चौथ की पूजा या कथा सूर्यास्त से पहले ही सुन लेनी चाहिए, उसके बाद पूजा और कथा पढ़ने का कोई मतलब नहीं है इसलिए सूर्यास्त से पहले ही पूजा कर लें. शाम के व़क्त जब दिन छुपने और शाम ढलने की शुरुआत होती है, उस समय पूजा नहीं करनी चाहिए, इसलिए करवाचौथ की पूजा सूर्य के ढलने से पहले ही कर लें. सूर्य के रहते ही पूजा कर लेनी चाहिए, कथा सुन लेनी चाहिए और बायना निकाल लेना चाहिए.
* कहानी सुनते समय साबूत अनाज और मीठा साथ में रखते हुए कथा सुनी जाती है.
* करवाचौथ में थाली बंटाने का भी विशेष महत्व होता है. इसमें अमूमन सात सुहागन आपस में गाना गाते हुए थालियां बंटाती हैं और वो तब तक गाना गाती रहती हैं, जब तक उनकी थाली उनके पास नहीं पहुंच जाती.
* जो अकेले पूजा करते हैं, वो थालियां नहीं बटां सकते. ऐसे में आप अकेले कहानी पढ़ सकती हैं, मोबाइल या डेस्कटॉप पर कहानी सुन सकती हैं.
* कहानी सुनते समय हुंकारा ज़रूर भरना चाहिए. ये इस बात का प्रमाण माना जाता है कि आपने कथा सुनी है. पहले के ज़माने में बहुएं दिनभर काम करके इतना थक जाती थीं कि जब सास कथा सुनाती थी, तो वो सो जाती थीं. इसीलिए कहानी सुनते समय हुंकारा भरने की रिवाज़ है, ताकि ये प्रमाणित हो सके कि आपने कथा सुनी है.
* बहू को कथा सुनने के बाद सास के लिए बायना निकालना होता है, जिसमें मठियां, गुलगुले आदि (हर कोई अपने हिसाब से कुछ भी मीठा बायने में ज़रूर रखता है), सास के लिए कपड़े, सुहाग का सामान, पानी का लोटा, जिसके ऊपर कुछ अनाज हो (ताकि हमारे घर में हमेशा धनधान्य भरा रहे),  और हां, शगुन का पैसा ज़रूर रखें. जिस तरह सास आपके लिए सुहाग का सामान, कपड़े, मीठा और शगुन रखती हैं, उसी तरह आपको भी सास के लिए बायना निकालते समय उसमें ये सभी चीज़ें रखनी चाहिए. बहू पूजा करने और कथा सुनने के बाद सास का बायना निकालती है.
* जब बहू व्रत शुरू करती है, तो सास उसे करवा देती है, उसी तरह बहू भी सास को करवा देती है. जब आप पूजा करते हो, कथा सुनते हो, उस समय आपको दो करवे रखने होते हैं- एक वो जिससे आप अर्घ्य देते हो यानी जिसे आपकी सास ने दिया था और दूसरा वो जिसमें पानी भरकर आप बायना देते समय अपनी सास को देती हैं. सास उस पानी को किसी पौधे में डाल देती हैं और अपने पानी वाले लोटे से चंद्रमा को अर्घ्य देती हैं. मिट्टी का करवा महिलाएं इसलिए लेती हैं, क्योंकि आप उसे डिस्पोज़ कर सकती हैं. मिट्टी का करवा न हो तो आप स्टील के लोटे का प्रयोग भी कर सकती हैं. एक ही लोटा अगली बार भी इस्तेमाल कर सकती हैं, स़िर्फ उसमें बंधी मौली बदल दें. उस पर ॐ और स्वस्तिक बना लें.
* सास पूजा करने और कथा सुनने के बाद अपनी बहू को ये इजाज़त देती है कि अब तुम पानी, जूस या चाय आदि पी सकती हो. इसकी एक वजह ये भी है कि पूरा दिन भूखे रहने से एसिडिटी बढ़ सकती है या कोई और हेल्थ प्रॉब्लम हो सकती है. इसी तरह जिन लोगों को कोई दवाई लेनी होती है, उनके लिए भी सुविधा हो जाती है. अत: कथा सुनने के बाद कुछ पी सकती हैं या फल व ड्राईफ्रूट भी खा सकती हैं. जूस या फल का सेवन कथा सुनने के बाद और सास का बायना निकालने के बाद ही करना चाहिए.

यह भी देखें: करवा चौथ के व्रत में सास का इतना महत्व क्यों होता है? 

करवा के साथ गणेश जी की कथा क्यों सुनी जाती है?
ऐसा कहा जाता है कि कथा कभी भी अकेले नहीं सुननी चाहिए इसलिए करवा के साथ गणेशजी की कथा भी सुनी जाती है. गणेश जी को बच्चे का रूप माना जाता है और हम उस दिन ख़ुद को पार्वती का रूप मानते हैं. करवाचौथ का व्रत स्त्री के पति और मां के बेटे के लिए रखा जाता है यानी सास अपनी बहू से कहती है कि तुम मेरे बेटे की लंबी उम्र के लिए व्रत रखो. फिर आगे चलकर आप भी अपने बेटे के लिए अपनी बहू से व्रत रखने को कहेंगी, इसीलिए गणेशजी की पूजा की जाती है, ताकि हमें एक पत्नी और एक मां की शक्ति भी मिल सके.

वर्किंग वुमन कैसे रखें करवाचौथ का व्रत?
* जो महिलाएं वर्किंग हैं, वो एक साफ़ बोटल में सास के दिए हुए करवे का पानी ऑफ़िस में ले जाएं. हां, सास का दिया हुआ करवा एकदम खाली न करें यानी उसमें थोड़ा पानी रहने दें. साथ ही अनाज वाले करवे में से थोड़ा-सा साबूत अनाज और सास के बायने के शगुन का पैसा ले जाएं. जिस समय आप कथा पढ़ या सुन रही हों, उस समय अनाज और पानी अपने पास रखें. कथा सुनते समय सामने एक प्लेट या टीशू पेपर रख लें और हुंकारा भरते हुए अनाज का एक-एक दाना उस प्लेट या टिशू पेपर में रखते जाएं. यदि आपके पास कहानी सुनने की कोई व्यवस्था नहीं है तो आप ख़ुद भी कथा पढ़ सकती हैं. फिर ऑफ़िस से लौटकर करवे में वो पानी डाल दें, जिसे आप ऑफ़िस ले गई थीं और साबूत अनाज को अर्घ्य देने के लिए रख लें. शाम को उसी पानी और साबूत अनाज से चंद्रमा को अर्घ्य दें.
* चंद्रमा को चांदी पसंद है, क्योंकि वो शीतलता प्रदान करता है इसलिए अर्घ्य देते समय चांदी का लोटा, सिक्का या अंगूठी हाथ में ज़रूर रखें. फिर जिस जल और अनाज को साथ में रखकर आपने कथा सुनी, उसी से चांद्रमा को अर्घ्य दें.
* यदि आप ऑफिस में बहुत सारी चूड़ियां पहनकर नहीं जा सकतीं, तो दो-चार-छह इस तरह के ईवन नंबर में चूड़ियां पहनकर जा सकती हैं.

कुवांरी लड़कियां कैसे रखें करवाचौथ का व्रत?
* कई लोगों को ये कन्फ्यूज़न रहती है कि कुवांरी लड़कियां क्या करवाचौथ का व्रत रख सकती हैं? जी हां, कुवांरी लड़कियां भी करवाचौथ का व्रत ज़रूर रख सकती हैं.
* कुवांरी लड़कियां चांद को न देखकर तारों को देखकर अपना व्रत खोल सकती हैं. जिस तरह डोली तारों की छांव में जाती है और दुल्हन तब तक अपने चांद को नहीं देख पाती है, ठीक उसी तरह कुवांरी लड़कियां अपने पति से नहीं मिली होती हैं इसलिए उन्हें तारों को देखकर व्रत खोलना होता है.
* उन्हें किसी से सरगी नहीं मिलती इसलिए उन्हें भी किसी को सुहाग का सामान नहीं देना होता है.
* कुवांरी लड़कियों को तारे देखने के लिए छलनी का इस्तेमाल नहीं करना होता है, क्योंकि उन्हें छलनी में किसी की सूरत भी नहीं देखनी होती है.

यह भी देखें: करवा चौथ के लिए इन 7 चीज़ों की शॉपिंग ज़रूर करें

अर्घ्य देते समय पूजा की थाली में क्या-क्या होना ज़रूरी है?
* दिनभर व्रत रखने के बाद, दिन में पूजा और कथा सुनने के बाद शाम को जब महिलाएं चंद्रमा को अर्घ्य देती हैं, तो उनकी पूजा की थाली में ये चीज़ें होनी बहुत ज़रूरी है. छलनी, आटे का दीपक (देशी घी का दीया और आटे का दीपक इसलिए रखा जाता है, क्योंकि आटा भी अनाज ही है), फल, ड्राईफ्रूट, मिठाई (मिठाई की जगह घर में जो मीठा बना है, उसे भी रख सकती हैं) और दो पानी के लोटे- एक चंद्रमा को अर्घ्य देने के लिए और दूसरा वो जिससे आप पहले पति को पानी पिलाती हैं और फिर वो आपको पिलाते हैं. पति को पहले पानी इसलिए पिलाया जाता है कि हम उन्हें परमेश्‍वर मानकर पहले उन्हें भोग लगाते हैं और फिर उसे ख़ुद भी खाते हैं. जिस तरह हम नवरात्रि, शिवरात्रि आदि व्रत में पहले भगवान को भोग लगाते हैं, फिर उसे ग्रहण करते हैं, ठीक उसी तरह करवाचौथ के दिन पति को परमेश्‍वर मानकर पहले उन्हें भोग लगाया जाता है और फिर ख़ुद उसे ग्रहण किया जाता है. अर्घ्य वाले लोटे का पानी न पीएं. फिर आप पति को फ्रूट, ड्राईफ्रूट और मीठा खिलाएं और पति भी आपको ये सब चीज़ें खिलाएंगे.
* अर्घ्य देते जाते समय वो चुन्नी साथ ज़रूर ले जाएं, जिसे आपने कथा सुनते समय पहना था. चंद्रमा को छलनी में दीया रखकर उसमें से देखें, फिर उसी छलनी से तुरंत अपने पति को देखें. छलनी में दीया रखने का रिवाज़ इसलिए बना, क्योंकि पहले के ज़माने में जब स्ट्रीट लाइट्स नहीं हुआ करती थीं, तो महिलाएं चांद देखने के बाद छलनी में रखे दीये के प्रकाश से अपने पति को देख सकें. कई लोग जलते हुए दीये को पीछे फेंक देते हैं, ऐसा नहीं करना चाहिए. आप उस आटे के दीये को वहीं जलता हुआ छोड़ आएं. कई लोग दीये के बुझने को भी अपशकुन मानते हैं, लेकिन ऐसा नहीं है. यदि तेज़ हवा से दीया बुझ भी जाता है, तो उससे कोई अपशगुन नहीं होता है.
* फिर घर आकर साथ मिलकर खाना खाएं.
* किसी भी पूजा के दिन सात्विक यानी बिना लहसुन-प्याज़ वाला खाना खाया जाता है, इसीलिए करवाचौथ के दिन भी ऐसा ही सात्विक भोजन करें. किसी भी तरह का तामसिक आहार न लें. करवाचौथ को सेलिब्रेट करने के लिए आप अपने पसंद की कोई भी चीज़ बना सकती हैं.

ज़रूरी टिप्स
* हाथों की मेहंदी पर पति का नाम लिखवाया ही जाए ये ज़रूरी नहीं, महिलाएं प्यार बढ़ाने के लिए ऐसा करती हैं, लेकिन मेहंदी से पति का नाम लिखवाना ही चाहिए, ऐसा कोई नियम नहीं है.
* पीरियड्स में भी करवाचौथ का व्रत रख सकती हैं.
* आप चाहें तो घर के मंदिर में पूजा कर सकती हैं या फिर अलग से चौकी लगाकर भी पूजा कर सकती हैं.
* आजकल करवाचौथ के कैलेंडर भी आते हैं, यदि आपके पास वो नहीं है तो भी कोई बात नहीं. पहले के ज़माने में लोग दीवार पर इसका प्रतीक बना लेते थे. भगवान श्रद्धा के भूखे हैं, नियमों के नहीं.
* पूजा करते समय आपका चेहरा पूर्व की तरफ होना चाहिए.
* करवाचौथ के दिन सेक्स से दूर रहें.

– कमला बडोनी

करवा चौथ के दिन यदि आप भी रेड साड़ी पहन रही हैं, तो दीपिका पादुकोण, प्रियंका चोपड़ा से लेकर शिल्पा शेट्टी, विद्या बालन… इन 8 अभिनेत्रियों की तरह पहनें लाल साड़ी. प्यार और ख़ूबसूरती के प्रतीक लाल रंग को करवा चौथ के दिन पहनकर आप दुल्हन जैसी खूबसूरत नजर आएंगी.

Bollywood Actress in Red Saree

1) प्रियंका चोपड़ा
प्रियंका चोपड़ा साड़ी में बेहद खूबसूरत लगती हैं, उनका फिगर बहुत अच्छा है इसलिए उन पर साड़ी बहुत अच्छी लगती है. प्रियंका जब पहली बार निक जोनस के साथ रेड साड़ी में नज़र आईं, तो उनका ये लुक सबको बहुत पसंद आया. आज की मॉडर्न वुमन के लिए करवा चौथ का ये लुक परफेक्ट है.

Priyanka Chopra

2) विद्या बालन
विद्या बालन भी उनकी खूबसूरत साड़ियों के लिए जानी जाती हैं. विद्या बालन हर खास मौके पर साड़ी पहनती हैं और वो साड़ी को बहुत अच्छी तरह कैरी करती हैं. इस लाल साड़ी में भी विद्या बहुत सुंदर दिख रही हैं.

Vidya balan

3) दीपिका पादुकोण
दीपिका पादुकोण खास फंक्शन में अधिकतर साड़ी पहनती हैं और साड़ी पहनकर दीपिका बहुत सुंदर दिखती हैं. दीपिका पादुकोण की ये रेड बनारसी साड़ी सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हुई थी.

यह भी पढ़ें: ऐश्वर्या राय, दीपिका पादुकोण से लेकर विद्या बालन तक इन 5 बॉलीवुड अभिनेत्रियों ने निभाए बंगाली किरदार, आपको कौन-सा किरदार पसंद है? (5 Bengali Characters Of Bollywood Actresses, Which Character Do You Like?)

Deepika Padukone

4) करीना कपूर खान
करीना कपूर साड़ी में बहुत सुंदर दिखती हैं. इस रेड साड़ी में करीना का मिनिमल लुक बहुत अच्छा लग रहा है. यदि आप भी करवा चौथ के दिन हैवी साड़ी नहीं पहनना चाहती, तो करीना कपूर की तरह सिंपल रेड साड़ी पहनें.

Kareena Kapoor Khan

5) माधुरी दीक्षित
माधुरी दीक्षित जिस अंदाज़ में साड़ी पहनती हैं, उससे उनकी खूबसूरती और भी निखर जाती है. माधुरी दीक्षित पर रेड कलर की साड़ी बहुत अच्छी लगती है, आप भी ऐसी साड़ी पहन सकती हैं.

Madhuri Dixit

6) अनुष्का शर्मा
अनुष्का शर्मा ने अपनी शादी के रिसेप्शन में लाल रंग की ख़ूबसूरत बनारसी साड़ी पहनी थी और उनका ये लुक फैन्स को बहुत पसंद आया था. आप भी करवा चौथ के दिन यदि नई दुल्हन की तरह दिखना चाहती हैं, तो अनुष्का का लुक फॉलो कर सकती हैं.

यह भी पढ़ें: करवा चौथ पर अनुष्का शर्मा, विद्या बालन से लेकर दीपिका पादुकोण, सोनम कपूर… इन 6 बॉलीवुड एक्ट्रेस की तरह पहनें बनारसी साड़ी (Anushka Sharma, Vidya Balan, Deepika Padukone, Sonam Kapoor… Bollywood Actress Who Elegantly Carried Banarasi Saree Perfect For Karwa Chauth)

Anushka Sharma

7) काजोल
कालोज पर साड़ी बहुत अच्छी लगती है. इस डीप मैरून साड़ी में काजोल का ट्रेडिशनल लुक लाजवाब लग रहा है. आप भी ये लुक ट्राई कर सकती हैं.

Kajol

8) शिल्पा शेट्टी
शिल्पा शेट्टी से आप साड़ी ड्रेपिंग के आयडियाज़ सीख सकती हैं. शिल्पा शेट्टी के साड़ी पहनने के स्टाइल से लेकर उनके ब्लाउज़ के डिज़ाइन तक सबकुछ बहुत स्टाइलिश होता है. करवा चौथ के दिन यदि आप भी स्टाइलिश दिखना चाहती हैं, तो शिल्पा शेट्टी का लुक फॉलो करें.

Shilpa shetty

करवा चौथ के दिन दुल्हन जैसी सुंदर दिखने के लिए घर पर खुद बनाइए ये स्टाइलिश हेयर स्टाइल. हम आपको ये 5 हेयर स्टाइल्स बनाने की विधि स्टेप बाय स्टेप बता रहे हैं, ताकि आप आसानी से ये हेयर स्टाइल खुद बना सकें. करवा चौथ के दिन ट्रेडिशनल आउटफिट के साथ ये हेयर स्टाइल आप पर बहुत अच्छी लगेगी.

Stylish Bun Hairstyles For Karwa Chauth

1) ट्रेडिशनल ब्राइडल बन

Stylish Bun Hairstyles For Karwa Chauth
  • कान से कान तक मांग निकालकर बालों को दो सेक्शन में बांट लें.
  • आगे के सेक्शन में बीच में मांग निकालें और दोनों तरफ़ के बालों को हल्का-सा ट्विस्ट करते हुए कान के पास पिनअप कर लें.
  • पीछे के बालों की पोनीटेल बनाएं और छोटे-छोटे फिंगर रोल्स बनाकर पिनअप करती जाएं.
  • हेयर एक्सेसरीज़ से डेकोरेट कर लें.

2) हाई बन

Stylish Bun Hairstyles
  • कान से कान तक मांग निकालकर बालों को दो सेक्शन में बांट लें.
  • पीछे के सेक्शन के बालों का हाई बन बना लें.
  • आगे के सेक्शन से बालों का छोटा-छोटा सेक्शन लें.
  • हर सेक्शन को ट्विस्ट करते हुए बन पर लपेटती जाएं.

यह भी पढ़ें: दुल्हन के लिए 5 न्यू इंडियन ब्राइडल हेयर स्टाइल (5 New Indian Bridal Hairstyles Trending This Wedding Season)

3) कर्ली ब्राइडल बन

Stylish Bun Hairstyles
  • ये हेयर स्टाइल कर्ली बालों में आसानी से बनती है. अगर आपके बाल कर्ली नहीं हैं, तो पहले उसे कर्ल कर लें.
  • बीच में मांग निकालकर आगे के बालों को ट्विस्ट करते हुए कान के पास पिनअप कर लें.
  • पीछे के बालों के एक-एक कर्ल को फिंगर रोल बनाते हुए बन शेप में पिनअप करती जाएं.
  • हेयर एक्सेसरीज़ से डेकोरेट कर लें.

4) ट्रेंडी ब्रेडेड बन

Stylish Bun Hairstyles
  • आगे-पीछे से बाल छोड़ते हुए टॉप से बाल का एक सेक्शन अलग करें.
  • इसे बैक कॉम्बिंग करते हुए पफ बनाकर पिनअप करें.
  • अब एक कान से फ्रेंच चोटी बनाना शुरू करें और पीछे पफ के पास गोलाई में गूंथते हुए दूसरे कान तक गूंथें.
  • चोटी को पिन से पफ पर सेक्योर कर लें. फूल से डेकोरेट कर लें.

यह भी पढ़ें: 10 पार्टी हेयर स्टाइल बनाने का आसान तरीक़ा (10 Easy Party Hairstyles For Every Special Occasion)

5) ट्रेडिशनल ब्रेडेड बन

Stylish Bun Hairstyles
  • साइड में मांग निकालकर एकदम आगे वन साइडेड सागर चोटी बनाएं.
  • साइड बन बनाकर इस चोटी को बन पर रैप करें.
  • दूसरी साइड भी सागर चोटी बनाएं और बन को कवर करते हुए चोटी बनाते जाएं.
  • पिन से बन पर चोटी को सेक्योर कर लें.
  • फूलों से सजाएं.

करवा चौथ (Karwa Chauth) भारतीय महिलाओं का एक महत्वपूर्ण व्रत है, जिसे देशभर की महिलाएं बड़ी श्रद्धा से मनाती हैं. करवा चौथ (Karwa Chauth) से कई दिन पहले से ही महिलाएं इसकी तैयारियां शुरू कर देती हैं. करवा चौथ के व्रत में सोलह शृंगार का विशेष महत्व है. करवा चौथ के दिन सुहागन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं और शाम के समय सज-धजकर चंद्र दर्शन के बाद पति का चेहरा देखकर व्रत खोलती हैं. करवा चौथ (Karwa Chauth) के दिन मेहंदी (Mehndi) लगाने का भी रिवाज़ है इसलिए व्रत के दिन महिलाएं हाथों पर मेहंदी ज़रूर रचाती हैं.

आप भी यदि करवा चौथ (Karwa Chauth) के व्रत के लिए हाथों पर मेहंदी लगाना चाहती हैं, लेकिन आपको समझ नहीं आ रहा है कि कौन-सी डिज़ाइन लगाएं, तो आपकी मुश्किल आसान बनाने के लिए हम आपको बता रहे हैं 5 नए और आसान मेहंदी डिज़ाइन्स (Mehndi Designs). करवा चौथ (Karwa Chauth) के ख़ास मौ़के पर आप ये मेहंदी डिज़ाइन्स (Mehndi Designs) अपने हाथों पर रचा सकती हैं.

यह भी पढ़ें: करवा चौथ से जुड़ी 30 ज़रूरी बातें (30 Important Things About Karwa Chauth)


Click Here To Download Mehndi Design App By Meri Saheli

करवा चौथ (Karwa Chauth) के लिए 5 मेहंदी डिज़ाइन्स (Mehndi Designs) स्टेप बाय स्टेप सीखने के लिए देखें वीडियो:

बनारसी साड़ी का क्रेज़ कभी कम नहीं होता इसीलिए दुल्हन के लिए हमेशा बनारसी साड़ी ली जाती है. करवा चौथ सुहागिनों का त्यौहार है इसलिए आप भी करवा चौथ के शुभ अवसर पर बनारसी साड़ी पहन सकती हैं. अनुष्का शर्मा, विद्या बालन, दीपिका पादुकोण, सोनम कपूर… इन 6 बॉलीवुड एक्ट्रेस ने बनारसी साड़ी को बहुत अच्छी तरह कैरी किया है, आप भी करवा चौथ पर बनारसी साड़ी पहनकर दुल्हन जैसी सुंदर नज़र आएं.

Bollywood Actress in Banarasi Saree

1) अनुष्का शर्मा (Anushka Sharma)
अनुष्का शर्मा ने अपनी शादी के रिसेप्शन में लाल रंग की ख़ूबसूरत बनारसी साड़ी पहनी थी. लाल रंग की बनारसी साड़ी पहनकर अनुष्का बेहद ख़ूबसूरत नज़र आ रही थीं. अनुष्का के इस लुक पर ख़ूब चर्चा भी हुई. साथ ही अनुष्का के लुक को लेकर ये ख़बर भी सुर्ख़ियों में रही कि अनुष्का ने अपनी शादी के रिसेप्शन में दीपिका पादुकोण का लुक कॉपी किया है.

Anushka Sharma

2) दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone)
बनारसी साड़ी को सबसे ज़्यादा प्रमोट किया दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) ने. दीपिका की बनारसी साड़ी ने यंगस्टर्स को भी साड़ी पहनने के लिए प्रेरित किया है.

यह भी पढ़ें: सीखें बनारसी साड़ी पहनने के स्टाइलिश तरीके (How To Wear Banarasi Saree?)

Deepika Padukone

3) सोनम कपूर (Sonam Kapoor)
स्टाइल दिवा सोनम कपूर ने एक अवॉर्ड फंक्शन में हरे रंग की बनारसी साड़ी पहनी. सोनम कपूर का ये लुक बहुत चर्चा में रहा.

Sonam Kapoor

4) जैकलीन फर्नांडीज (Jacqueline Fernandez)
जैकलीन फर्नांडीज ने एक पार्टी में गुलाबी रंग की बनारसी साड़ी पहनी थी, जैकलीन का ये लुक उनके फैन्स को बहुत पसंद आया.

यह भी पढ़ें: प्लस साइज़ महिलाएं विद्या बालन, सोनाक्षी सिन्हा, किरण खेर की तरह पहनें साड़ी (10 Saree Tips For Plus Size Women)

Jacqueline Fernandez

5) माधुरी दीक्षित (Madhuri Dixit)
धक-धक गर्ल माधुरी दीक्षित इस गुलाबी बनारसी साड़ी में बहुत सुंदर लग रही हैं. माधुरी दीक्षित हर ख़ास मौके पर साड़ी पहनती हैं और साड़ी में वो बला की खूबसूरत दिखती हैं.

Madhuri Dixit

6) विद्या बालन (Vidya Balan)
अभिनेत्री रेखा की तरह विद्या बालन भी उनकी खूबसूरत साड़ियों के लिए जानी जाती हैं. विद्या बालन हर खास मौके पर साड़ी पहनती हैं और वो साड़ी को बहुत अच्छी तरह कैरी करती हैं.

Vidya Balan