karwa chauth trends

करवा चौथ के व्रत में सास का बहुत महत्व होता है. सास अपनी बहू से कहती है कि वो उनके बेटे की लंबी उम्र के लिए व्रत रखे. करवा चौथ के व्रत में सास का इतना महत्व क्यों है? बता रही हैं एस्ट्रो-टैरो, न्यूमरोलॉजिस्ट, नेम थेरेपी, वास्तु-फेंगशुई एक्सपर्ट मनीषा कौशिक.

Mother In Law Karwa Chauth

ऐसा इसलिए है, क्योंकि आपको जो पति मिला है, उसे पैदा करने से लेकर, उसके पालन-पोषण की तमाम ज़िम्मेदारियां आपकी सास ने उठाई हैं, आपके पति को जब भी कोई कष्ट होता है, तो सबसे ज़्यादा तकलीफ़ आपकी सास को ही होती है, इसीलिए करवाचौथ के व्रत में सास का महत्वपूर्ण स्थान है. उस मां की पूजा होनी ज़रूरी है. सास जब बहू को सरगी देती है, तो एक तरह से वो आपको ये आशीर्वाद देती है कि जो तप तुम मेरे बेटे के लिए करने जा रही हो, उसे तुम अच्छी तरह से पूरा कर पाओ.

यह भी पढ़ें: करवा चौथ व्रत कथा: इस कथा को करवा चौथ के दिन पढ़ती हैं सुहागिनें

करवा चौथ के दिन सास का महत्व
* सुबह सूरज उगने से पहले सास अपनी बहू को सरगी देती है, जिसमें बहू के लिए कपड़े, उसके सुहान की चीज़ें जैसे चूड़ी, बिंदी, सिंदूर आदि, साथ ही फेनिया, फ्रूट, ड्राईफ्रूट, नारियल आदि रखा जाता है.
* सास द्वारा दी हुई सरगी से बहू अपने व्रत की शुरुआत करती है. अगर सास साथ में नहीं हैं, तो वो बहू को पैसे भिजवा सकती हैं, ताकि वो अपने लिए सारा सामान ख़रीद सके.
* सुबह सूरज निकलने से पहले सास की दी हुई फेनिया बनाकर पहले अपने पित्रों, गाय, कुत्ते और कौए का हिस्सा अलग रख लें. फिर अपने पति और परिवार के लोगों के लिए भी अलग निकाल दें. फिर उस फेनिया और सास के दिए हुए फ्रूट, ड्राईफ्रूट, नारियल खाकर ही व्रत की शुरुआत करें.
* फिर सास के दिए हुए कपड़े और शृंगार की चीज़ें पहनें.

यह भी पढ़ें: करवा चौथ से जुड़ी 30 ज़रूरी बातें

यदि सास न हो या विधवा हो तो क्या करें?
करवाचौथ के व्रत में सास का बहुत महत्व होता है, लेकिन जिन लोगों की सास नहीं हैं या सास विधवा हैं, तो उन्हें क्या करना चाहिए? आइए, जानते हैं.
* यदि आपकी सास जीवित नहीं हैं, तो भी सास के हिस्से का बायना ज़रूर निकालें और उसे किसी ऐसी महिला को दें, जिसे आप सास के समान मानती हैं.
* कई लोग ये मानते हैं कि सास यदि विधवा हैं, तो उनके लिए बायना नहीं निकालना चाहिए, लेकिन ये बिल्कुल ग़लत है. आप अपनी सास के बेटे की लंबी उम्र के लिए व्रत कर रही हैं इसलिए पति के लिए व्रत रखने के लिए उनकी मां से शुभ और कोई नहीं हो सकता. आपके पति की उतनी चिंता किसी को नहीं हो सकती, जितनी आपकी सास को है. अत: विधवा सास के लिए भी बायना ज़रूर निकालें.

यह भी पढ़ें: करवा चौथ के लिए इन 7 चीज़ों की शॉपिंग ज़रूर करें

करवा चौथ (Karwa Chauth) महिलाओं का एक महत्वपूर्ण व्रत है, जिसे देशभर में बड़ी ही श्रद्धा और प्यार से मानाया जाता है. महिलाएं कई दिन पहले से करवा चौथ की तैयारियां शुरू कर देती हैं. करवा चौथ (Karwa Chauth) की शॉपिंग करते समय कौन-सी सात चीज़ें ज़रूर ख़रीदनी चाहिए? बता रही हैं एस्ट्रो-टैरो, न्यूमरोलॉजिस्ट, नेम थेरेपी, वास्तु-फेंगशुई एक्सपर्ट मनीषा कौशिक.

Woman Must Buy On Karwa Chauth

1) कपड़े: हर व्रत स्वच्छता मांगता है यानी साफ़ तन और साफ़ मन, इसीलिए हर बड़े त्योहार जैसे दिवाली आदि में हम घर की सफ़ाई करते हैं. अतः करवाचौथ (Karwa Chauth) जैसे ख़ास मौके पर भी नए या फिर स्वच्छ कपड़े पहनने चाहिए. इसीलिए महिलाएं करवाचौथ के दिन नए कपड़े पहनती हैं.
2) सिंदूर-बिंदी: सिंदूर सुहाग का प्रतीक माना जाता है इसलिए करवा चौथ के लिए सिंदूर ज़रूर ख़रीदें. इसी तरह लगभग सभी सुहागिन महिलाएं बिंदी लगाती हैं इसलिए बिंदी ख़रीदना न भूलें.
3) काजल: शृंगार में काजल का विशेष महत्व है इसलिए काजल भी ज़रूर ख़रीद लें.
4) मेहंदी: करवा चौथ (Karwa Chauth) के लिए मेहंदी (Mehndi) लगाने का रिवाज़ है इसलिए हाथों पर मेहंदी ज़रूर रचाएं.
5) चुनरी: हर शुभ मुहूर्त पर महिलाएं चुनरी (Chunari) पहनती हैं इसलिए करवा चौथे के लिए भी चुनरी ज़रूरी ख़रीदें. (इसे हर साल ख़रीदने की ज़रूरत नहीं है. अमूमन महिलाएं ससुराल से चढ़ाई गई शगुन की चुनरी को ही घर में होने वाली हर पूजा के लिए इस्तेमाल करती हैं, आप भी ऐसा कर सकती हैं. अगर आपके पास चुनरी नहीं है, तो सास या पति से पैसे लेकर चुनरी ख़रीद लें और उसे घर की हर पूजा में पहनें).
6) मंगलसूत्र, पायल और बिछिया: सुहान के प्रतीक माने जाने वाले ये गहने भी आपकी शॉपिंग लिस्ट में ज़रूर होने चाहिए.
7) चूड़ियां: करवा चौथ में शगुन के सामान के साथ सास और बहू एक-दूसरे को चूड़ियां ज़रूर देती हैं इसलिए आप भी चूड़ियां ख़रीदना न भूलें.

यह भी पढ़ें: करवा चौथ से जुड़ी 30 ज़रूरी बातें
यह भी पढ़ें: करवा चौथ व्रत कथा: इस कथा को करवा चौथ के दिन पढ़ती हैं सुहागिनें
यह भी पढ़ें: करवा चौथ के व्रत में सास का इतना महत्व क्यों होता है? 

प्यार के इज़हार से लेकर दुल्हन के श्रृंगार (Style Guide For Karwa Chauth) तक लाल रंग की अपनी अलग अहमियत है. प्यार और ख़ूबसूरती के प्रतीक लाल रंग को करवा चौथ के दिन किस अंदाज़ में पहनें? आइए, हम आपको बताते हैं.

Style Guide For Karwa Chauth

 

एक्सपर्ट एडवाइज़
फैशन डिज़ाइनर श्रुति संचेति के अनुसार, करवा चौथ के ख़ास मौ़के पर महिलाएं ख़ासकर रेड कलर पहनना पसंद करती हैं. आप भी रेड कलर का चुनाव कर सकती हैं. इसके लिए-
* करवा चौथ के दिन ज़्यादातर महिलाएं साड़ी पहनना पसंद करती हैं. स्लिम और स्टाइलिश नज़र आने के लिए जॉर्जेट या शिफॉन की रेड कलर की साड़ी के साथ स्लीवलेस या हॉल्टर नेक वाला डिज़ाइनर ब्लाउज़ पहनें.

4
* साड़ी नहीं पहनना चाहतीं, तो रेड कलर का ट्रेंडी लहंगा-चोली, अनारकली ड्रेस या ट्रेडिशनल गाउन पहन सकती हैं.

7
* सॉफ्ट लुक के लिए एम्ब्रॉयडरी, सीक्वेंस जैसे हैवी वर्क की बजाय रफल्स, लेयरिंग, लेस आदि को प्राथमिकता दें.

यह भी देखें: फेस्टिव लुक के लिए 10 ट्रेंडिंग इंडो-वेस्टर्न डिज़ाइन्स

11

स्मार्ट आइडियाज़
* रेड कलर का चुनाव करते समय अपने स्किन टोन का ध्यान ज़रूर रखें, जैसे- आपका रंग यदि ज़्यादा गहरा है, तो आप सुर्ख लाल रंग पहनने से बचें और न ही रेड कलर की लिपस्टिक लगाएं. रेड की बजाय आप मरून शेड ट्राई कीजिए.

यह भी देखें: 15+ डिज़ाइनर ब्लाउज़ पैटर्न्स

8
* यदि आपका रंग गोरा है, तो आप बेझिझक रेड का कोई भी शेड ट्राई कर सकती हैं.

यह भी देखें: 20 बेस्ट डिज़ाइनर सलवार-कमीज़

5
* रेड कलर का आउटफिट नहीं पहनना चाहतीं, तो रेड कलर की एक्सेसरी़, जैसे- शूज़, बैग, ज्वेलरी पहनकर बनें सेंटर ऑफ अट्रेक्शन.

यह भी देखें: स्लिम लुक के लिए स्टाइलिंग ट्रिक्स

9

फ़ायदे लाल रंग के
लाल रंग उत्प्रेरक, उत्तेजक और जोशीला माना जाता है. ये आपमें एक नई ऊर्जा और उत्साह पैदा करता है, इसलिए करवा चौथ के ख़ास मौ़के पर लाल रंग पहनकर अपने प्यार को और रोमांचक बनाइए.

यह भी देखें: फेस शेप के अनुसार ज्वेलरी सिलेक्शन

12

– कमला बडोनी                                                              Photo Courtesy- Jashn, Triveni Sarees, Sahiba Limited, Nargis