Tag Archives: Kids Destinations

Top 4 किड्स प्लैनेट (Top 4 Kids Plannet)

Kids Amusement Park

एग्ज़ाम के बाद बच्चों को रिफ्रेशमेंट की ज़रूरत होती है. ऐसे में उन्हें कुछ ऐसी जगहों की सैर कराएं, जिससे वो पूरे साल के लिए रिचार्ज हो जाएं. तो चलिए चलते हैं किड्स प्लैनेट की सैर पर.

Kids Amusement Park

हैलो किटी थीम पार्क, जापान

सालों से आप सभी का मनोरंजन करने वाली किटी की दुनिया भी बहुत रोमांचक है. जापान के टोक्यो में स्थित ये हैलो किटी पार्क आपके बच्चे को रोमांच से भर देगा. तो देर किस बात की इस छुट्टी बच्चे को सैर कराएं किटी वर्ल्ड की. ये एक इंडोर थीम पार्क है.

कैसे जाएं?
दिल्ली, मुंबई आदि महानगरों से आप जापान की राजधानी टोक्यो पहुंच सकते हैं. इसके बाद आप वहां से टामा सेंटर रेलवे स्टेशन पर पहुंचकर वहां से किटी थीम पार्क पहुंच सकते हैं.

मुख्य आकर्षण
– हैलो किटी बोट राइड
– किटीज़ हाउस
– फूड मशीन रेस्टोरेंट
– फेस्टिवल प्लाज़ा

Kids Amusement Park

Must Do
– हैलो किटी थीम पार्क की सभी राइड्स का आनंद अवश्य लें.
– किटी कैफे में बैठकर कॉफी ज़रूर पीएं.
– हैलो किटी प्लेन से सफ़र करें.
– हैलो किटी बस की सैर भी आपके लिए मज़ेदार होगी.
– टोक्यो में बने हैलो किटी स्टोर पर ज़रूर जाएं. यहां 8 फिट की किटी आपका स्वागत करने के लिए खड़ी रहेगी.

शॉपिंग भी है ज़रूरी
किटी वर्ल्ड में जाने के बाद शॉपिंग ज़रूर करें. किटी की दुनिया से अपने बच्चों के लिए बहुत-सी चीज़ें ख़रीदें.

Kids Amusement Park

यह भी पढ़ें: न्यू ईयर सेलिब्रेशन: नहीं बना कोई प्लान, ऐसे करें एंजॉय

पेप्पा पिग वर्ल्ड, इंग्लैंड

इंग्लैंड के हैम्पशायर में 140 एकड़ में बना पेप्पा पिग वर्ल्ड कार्टून पेप्पा पिग पर आधारित है. यह थीम पार्क बच्चों को कार्टून की दुनिया की सैर कराती है. 60 से अधिक राइड्स वाला ये थीम पार्क बच्चों के साथ-साथ आपका भी मनोरंजन करने के लिए तैयार है.

कैसे जाएं?
पेप्पा पिग वर्ल्ड पहुंचने के लिए आप दिल्ली, मुंबई, चेन्नई आदि महानगरों से सीधे हीथ्रो इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लिए उड़ान भर सकते हैं. एयरपोर्ट से लोकल कैब के ज़रिए आप डेढ़ घंटे में पिग वर्ल्ड पहुंच जाएंगे.

Kids Amusement Park

राइड्स
पेप्पा पिग वर्ल्ड में जाने के बाद बच्चों के साथ आप भी राइड करना न भूलें. कुछ मुख्य राइड्स इस प्रकार हैं:
– विंडी कैसल राइड
– ग्रैंडपा पिग्स लिटिल ट्रेन
– ग्रैंडपा पिग्स बोट ट्रिप
– पेपाज़ बिग बलून राइड
– मिस रैबिट्स हेलिकॉप्टर फ्लाइट

मुख्य आकर्षण
– मम्मी पिग एंड डैडी पिग
– पेप्पाज़ हाउस
– द स्कूल
– ग्रैंडपा पिग्स हाउस
– पेप्पाज़ टॉय शॉप

फोटोग्राफी है ज़रूरी
पेप्पा पिग वर्ल्ड में जाने के बाद सभी राइड्स का आनंद ज़रूर लें. राइड्स करते समय फोटो निकालना न भूलें.

Kids Amusement Park
डिज़्ज़ी वर्ल्ड, चेन्नई

चेन्नई से 35 किलोमीटर दूर ईस्ट कोस्ट रोड पर बना डिज़्ज़ी वर्ल्ड देश के बड़े अम्यूज़मेंट पार्क में से एक है. 45 एकड़ में बना ये पार्क बच्चों के लिए बेहतरीन डेस्टिनेशन है. पढ़ाई के प्रेशर को कम करने के लिए बच्चों को यहां ज़रूर ले जाएं.

कैसे जाएं?
किसी भी शहर से आप फ्लाइट/ट्रेन/बस/कार के माध्यम से चेन्नई पहुंच सकते हैं. उसके बाद वहां से डिज़्ज़ी वर्ल्ड जा सकते हैं.

Kids Amusement Park

यह भी पढ़ें: Top 4 कूल एंड अमेज़िंग वॉटर किंगडम

राइड्स
– बैट मैन जेट
– डिज़्ज़ी एक्सप्रेस
– टोरा स्पिन
– एलिफैंट सफ़ारी
– ग्रैनी बग
– रॉकेट टावर

मुख्य आकर्षण
– रेन ट्री
– ट्री हाउस
– कार्निवल गेम्स
– इमैजिन

Kids Amusement Park
वन्ड्रेला पार्क, कोचि

बच्चों को मैजिकल चीज़ें बहुत पसंद आती हैं. ऐसे में उन्हें कोचि का वन्ड्रेला अम्यूज़मेंट पार्क बहुत पसंद आएगा. बच्चों के साथ फन टाइम स्पेंड करना चाहते हैं, तो कोचि के इस पार्क में ज़रूर जाएं. कोचि शहर से 12 किलोमीटर दूर पल्लिक्कर पहाड़ी की चोटि पर बना ये पार्क आपके हॉलिडे को और भी मज़ेदार बनाने के लिए तैयार है.

कैसे जाएं?
वन्ड्रेला अम्यूज़मेंट पार्क पहुंचने के लिए आप देश के किसी भी महानगर से सीधे फ्लाइट के ज़रिए कोचि एयरपोर्ट पहुंच सकते हैं. एयरपोर्ट से लोकल वेहिकल के ज़रिए आप आसानी से पार्क पहुंच सकते हैं. ट्रेन से यात्रा करने की सोच रहे हैं, तो कोचि रेलवे स्टेशन नज़दीकी रेलवे स्टेशन है.

Kids Amusement Park

राइड्स
– फ्लाइंग अम्मू
– बलून टॉवर
– हैप्पी कंगारू
– मैजिक प्लेन
– जंपिंग फ्रॉग

मुख्य आकर्षण
– बलराम केव
– रॉकिन टग
– एक्सडी मैक्स
– म्यूज़िकल फाउंटेन एंड लेज़र शो
– सिनेमैजिक राइड

अधिक ट्रैवल आर्टिकल के लिए यहाँ क्लिक करें: Travel Articles

किड्स टूर: टॉप 4 किड्स डेस्टिनेशन्स (Kids Tour: Top 4 Kids’ Destinations)

Kids Destinations

Kids Destinations

सालभर की पढ़ाई के बाद बच्चों के लिए अगला दो महीना सुकून भरा रहता है. ऐसे में कभी नानी के घर, तो कभी बुआ के घर जाकर वो अपनी छुट्टी का आनंद उठाते हैं. इस बार की छुट्टी में अपने बच्चों को ऐसी जगहों की सैर कराएं, जिससे उनका फन टाइम बन जाए और भी ख़ास. आज पढ़ाई का बोझ इतना बढ़ गया है कि बच्चों को कुछ और बताने या सिखाने के लिए समय ही नहीं मिलता. स्कूल से कोचिंग क्लास और फिर घर में सेल्फ स्टडी, इसी चक्कर में आज के बच्चों का बचपन बीत रहा है. पैरेंट्स होने के नाते आपकी ये ज़िम्मेदारी बनती है कि बच्चों को अपनी सभ्यता और संस्कृति के बारे में बताएं. तो चलिए इस माह हमारे साथ एक ऐसे ट्रिप पर जो आपके बच्चों का मनोरंजन करने के साथ ही उनका नॉलेज भी बढ़ाएगा.

Kids Destinations

प्रकृति की गोद में बसा तेनमला
केरल का तेनमला भारत का पहला प्लान्ड ईको-टूरिज़्म डेस्टिनेशन है. मलयालम में तेनमला का मतलब बहुत ही प्यारा होता है. ‘तेन’ का मतलब हनी और ‘मला’ का मतलब हिल. यानी हनी हिल. ऐसा माना जाता है कि यहां का शहद देश के बाकी इलाकों से बहुत अलग और स्वादिष्ट होता है. घने जंगलों और ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों से घिरा तेनमला पर प्रकृति मेहरबान है. हरे पहाड़ों से गिरते झरनों का दृश्य बेहद ख़ूबसूरत होता है. तेनमला में बिखरी हरियाली को देखकर ऐसा लगता है जैसे मानों तेनमला को किसी ने हरे रंग से रंग दिया हो. अपने बच्चों को असली भारत और ख़ासतौर पर प्रकृति की अनुपम छटा से रू-ब-रू करवाना चाहते हैं, तो तेनमला ज़रूर घुमाएं.

ज़रूर देखें
सस्पेंशन ब्रिज, पलारुवि वॉटरफॉल, म्यूज़िकल डांसिंग फाउंटेन, बटरफ्लाई सफारी पार्क आदि देखने ज़रूर जाएं.

कैसे पहुंचें?
तेनमला पहुंचने के लिए त्रिवेंद्रम सबसे नज़दीकी एयरपोर्ट है और शेंकोट्टाह नज़दीकी रेलवे स्टेशन.

Kids Destinations

ऐतिहासिक धरोहर दिल्ली
बच्चों का ऐतिहासिक ज्ञान बढ़ाने के लिए उन्हें दिल्ली की सैर ज़रूर कराएं. किस तरह से देश में बदलाव हुए ये दिल्ली की आबो हवा से पता चल जाएगा. यह दुनिया के प्रमुख पर्टन स्थल में से एक है. राजधानी होने के नाते देश के प्रमुख कार्यालय भी दिल्ली में ही हैं. इस शहर का महत्व न केवल इसके अतीत में राजाओं की गद्दी और भव्य महलों के कारण है, बल्कि इसकी संपन्नता और बहुमुखी संस्कृति के कारण भी है.

ज़रूर देखें
दिल्ली घूमने का मतलब है कि पूरे भारत की एक झलक आपको यहां मिल जाएगी. इन जगहों को ज़रूर देखें.
– लाल किला
– कुतुब मिनार
– जामा मस्जिद
– पुराना किला
– संसद भवन
– राष्ट्रपति भवन
– इंडिया गेट
– अक्षरधाम मंदिर
– बिरला मंदिर
– राजघाट आदि

कैसे पहुंचें?
हवाई, रेल और सड़क मार्ग से आप दिल्ली जा सकते हैं. इंदिरा गांधी इंटरनेशनल हवाई अड्डा और नई दिल्ली तथा पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के साथ ही हज़रत निज़ामुद्दीन रेलवे स्टेशन यहां का मुख्य रेलवे स्टेशन है.

Kids Destinations

एनिमल फ्रेंडली रणथंभौर
1980 में नेशनल पार्क में शामिल किया गया रणथंभौर उत्तर भारत के बड़े नेशनल पार्क में से एक है. स़िर्फ किताबों में ही जानवरों को देखने वाले अपने बच्चों की मुलाक़ात असली जानवरों से ज़रूर कराएं. ये उनके लिए बहुत ख़ास ट्रिप होगी. यहां पर चीता, तेंदुआ, हिरण, हाइना, मगरमच्छ, जंगली सुअर, जंगली बिल्लियां, लोमड़ी, नीलगाय जैसे और भी बहुत से जानवरों से भरा है ये पार्क. जानवरों के अलावा हज़ारों प्रजातियों के पक्षि भी इस पार्क की शोभा बढ़ाते हैं.

ज़रूर देखें
– रणथंभौर किला
– त्रिनेत्र गणेश मंदिर
– पदम तालाब
– जोगी महल
– सर्वल झील
– कचीदा वैली आदि

रणथंभौर से 160 किलोमीटर दूर जयपुर भी जाएं.
बच्चों को जयपुर की कुछ विशेष जगहों की सैर
ज़रूर कराएं. आमेर पैलेस, हवा महल,
जंतर-मंतर, जल महल, सिटी पैलेस,
राज मंदिर सिनेमा हॉल आदि
जगहों पर अपने बच्चों को
ज़रूर ले जाएं.

कैसे पहुंचें?
हवाई, रेल और सड़क मार्ग से आप रणथंभौर जा सकते हैं. सांगानेर हवाई अड्डा सबसे नज़दीकी एयरपोर्ट और सवाई माधोपुर नज़दीकी रेलवे स्टेशन है.

Kids Destinations

पानी की दुनिया अंडमान एंड निकोबार
अंडमान और निकोबार द्वीप समूह अपने साफ़, शांत और सुंदर समुद्र तटों के लिए जाना जाता है. प्रदूषण से दूर कुछ दिन अपने बच्चों को यहां ज़रूर घुमाने ले जाएं. स्कूबा डाइविंग के ज़रिए पानी के अंदर के जीव-जंतुओं और पौधों को देखने का मौक़ा मिलता है. इसके साथ ही यहां के जंगलों में तरह-तरह के पक्षि और सुंदर फूल देखने को मिलते हैं.

ज़रूर देखें
– सेल्युलर जेल
– माउंट हैरियट
– रोज़ एंड स्मिथ आइलैंड
– रंगत द्वीप
– मायाबंदर
– मत्स्य संग्रहालय
– वन संग्रहालय
– महात्मा गांधी मरीन नेशनल पार्क
– सीपीघाट पार्क
– जॉगर्स पार्क
– मधुबन

कैसे पहुंचें?
कोलकाता, भुवनेश्‍वर और चेन्नई से आप पोर्टब्लेयर के वीर सावरकर एयरपोर्ट के लिए सीधी उड़ान भर सकते हैं. चेन्नई, कोलकाता और विशाखापत्तनम से पोर्टब्लेयर के लिए समुद्री जहाज़ जाती है. समुद्री यात्रा में 50 से 60 घंटे लगते हैं.

किड्स डेस्टिनेशन: चलें ज़ू की सैर पर (Kids’ destination: fantastic trip of zoo)

Kids Destinations

मॉल और अर्बन लाइफ स्टाइल से दूर बच्चों को कुछ और घुमाना और दिखाना चाहते हैं, तो उन्हें नेचर के क़रीब ले जाएं. टीवी और बुक में दिखने वाले जानवरों और पंछियों से उनकी मुलाक़ात कराएं. मॉडर्न लाइफ स्टाइल को फॉलो करते-करते हम प्रकृति और उसकी बनाई तमाम ख़ूबसूरत चीज़ों से महरूम होते जा रहे हैं. ऐसे में आने वाली पीढ़ी का नेचर के प्रति लगाव कम होता जा रहा है. कहीं आपके बच्चों के साथ भी कुछ ऐसा ही तो नहीं हो रहा. फैमिली ट्रिप को और भी मज़ेदार बनाने के लिए करें दुनिया के कुछ चुनिंदा ज़ू की सैर.

Kids Destinations
मैसूर ज़ू

मैसूर ज़ू देश का सबसे पुराना और प्रसिद्ध ज़ू है. 157 एकड़ में बना ये ज़ू मैसूर पैलेस के पास ही स्थित है. 1892 में यह बनकर तैयार हुआ. पहले इसे पैलेस ज़ू भी कहते थे. राजा चामाराजेंद्र ने इसे बनवाया. इसलिए इसे चामाराजेंद्र ज़ूलोजिकल गार्डन भी कहते हैं. शुरुआत में स़िर्फ रॉयल फैमिली के लोग ही इस ज़ू में जाते थे, लेकिन 1902 में इसे आम लोगों के लिए खोला गया. झूले पर बैठकर आराम फरमाता गोरिल्ला, अफ्रिकन एलिफैंट, ज़ेब्रा, जिराफ आदि के साथ हज़ारों जीव-जंतुओं, पंछियों से ये ज़ू भरा है. ज़ू के अंदर जगह-जगह बैठने के लिए कुर्सियां लगाई गई हैं. हैंडिकैप लोगों के लिए व्हील चेयर की भी व्यवस्था है. बच्चों के खेलने के लिए ज़ू के अंदर सुंदर पार्क भी है. इसके साथ ही रेस्ट रूम, कैफेटेरिया आदि की भी व्यवस्था है.

कैसे जाएं?
फ्लाइट, ट्रेन, बस, कार के माध्यम से आप मैसूर पहुंच सकते हैं. मैसूर रेल्वे स्टेशन से मैसूर ज़ू की दूरी स़िर्फ 3 किलोमीटर है.

मैसूर ज़ू में संडे और दूसरे नेशनल हॉलिडे
पर पैलेस बैंड ऑर्केस्ट्रा के माध्यम से
पर्यटकों का मनोरंजन किया जाता
है. इस बैंड के माध्यम से भारतीय
संस्कृति और सभ्यता की एक
झलक भी पर्यटकों को
दिखायी जाता है.

Kids Destinations

यह भी पढ़ें: विलेज टूर ताकि बच्चे जुड़े रहें अपनी संस्कृति से

नेहरू ज़ूलोजिकल पार्क

हैदराबाद में मीर आलम टैंक के पास स्थित नेहरू ज़ूलोजिकल पार्क 26 अक्टूबर 1959 को बनकर तैयार हुआ. 6 अक्टूबर 1963 को इसे आम लोगों के लिए खोला गया. 380 एकड़ में बने इस ज़ू को हैदराबाद ज़ू के नाम से भी जाना जाता है. पक्षियों की 100 से भी ज़्यादा प्रजातियां और 1100 जानवरों से भरा ये ज़ू पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है. ज़ू के अंदर सफारी ट्रिप भी सैलानियों को ख़ूब भाती है.

कैसे जाएं?
प्लेन, ट्रेन, बस के माध्यम से आप हैदराबाद पहुंच सकते हैं. उसके बाद वहां के लोकल वेहिकल से आप ज़ू तक पहुंच सकते हैं.

ज़ू का पूरा लुत्फ़ उठाने के लिए टॉय ट्रेन, सफारी ट्रिप,
चिल्ड्रेन पार्क, जुरासिक
पार्क, बटरफ्लाई पार्क,
अक्वेरियम, म्यूज़ियम, बोटिंक आदि की
व्यवस्था भी है.

Kids Destinations
बर्लिन ज़ूलोजिकल गार्डन

यूरोप के बेहतरीन और सबसे ज़्यादा पसंद किए जाने वाले में से ये एक है. यहां पर सालभर पर्यटकों की भीड़ रहती है. 1844 में बना ये जर्मनी का पहला ज़ू है. 84 एकड़ में फैले इस ज़ू में 20 हज़ार से ज़्यादा जानवर आपको देखने को मिलेंगे. तरह-तरह के पक्षी, मछलियां आदि यहां के मुख्य आकर्षण के केंद्र हैं. खुले आसमान के नीचे अपनी फैमिली के साथ आराम फरमाते जानवरों को देखना आपके बच्चों के लिए किसी आश्‍चर्य से कम नहीं होगा.

कैसे जाएं?
मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, कोलकाता आदि जगहों से आप सीधे जर्मनी के लिए उड़ान भर सकते हैं. जर्मनी पहुंचने के बाद बर्लिन ज़ूलोजिकल गार्डन ज़ू रेल्वे स्टेशन से आप वहां के प्राइवेट वेहिकल से ज़ू तक पहुंच सकते हैं.

जिस दिन ज़ू का प्लान बनाएं उस दिन किसी
और जगह घूमने का प्लान न बनाएं. ज़ू
के खुलने के समय से देर शाम तक
बच्चों के साथ यहां पर
समय बिताएं.

Kids Destinations

यह भी पढ़ें: Top 4 किड्स प्लैनेट

टोरंटो ज़ू

कनाडा के सबसे बड़े शहर टोरंटो में स्थित टोरंटो ज़ू दुनिया के बड़े ज़ू में से एक है. 5000 से ज़्यादा जानवर और पक्षियों की 500 से ज़्यादा प्रजातियां इस ज़ू के मुख्य आकर्षण हैं. 15 अगस्त 1974 को इसे कनाडा वासियों के लिए खोला गया. दुनियाभर के सैलानी यहां पर दुनियाभर के जानवरों, पक्षियों और दूसरे जीवों को देखने आते हैं. टोरंटो ज़ू की सबसे बड़ी ख़ासियत ये है कि यहां पर पूरी दुनिया के अलग-अलग हिस्सों से आए पशु-पक्षी पर्यटकों को देखने को मिलते हैं.

कैसे जाएं?
मुंबई, चेन्नई, दिल्ली, बैंग्लोर जैसे महानगरों से आप फ्लाइट के माध्यम से टोरंटो पहुंच सकते हैं. टोरंटो पहुंचने के बाद आप वहां के लोकल वेहिकल से ज़ू तक पहुंच सकते हैं.

टोरंटो ज़ू सात अलग-अलग भागों में बटा है. इंडो-मलया, अफ्रिका,
कनेडियन डोमेन, अमेरिकाज़, ऑस्ट्रेले़शिया, यूरेशिया, टुंड्रा-ट्रेक
और डिस्कवरी ज़ोन. हर भाग में उस जगह के जानवर और
पेड़-पौधों को पर्यटक देख सकते हैं. ये नज़ारा आपको
दुनिया के किसी और ज़ू में नहीं मिलेगा.

स्मार्ट टिप्स
– ज़ू घूमते समय जल्दबाज़ी में न रहें, लेकिन एक ही जगह बहुत ज़्यादा समय भी न बिताएं.
– ज़ू में घूसते ही बोर्ड पर लिखे निर्देश को ज़रूर पढ़ें. उसके बाद ही अपनी यात्रा शुरू करें. इससे आप ज़ू के नियम से भलीभांति परिचित हो जाएंगे.
– धूप से बचने के लिए हैट और गॉगल्स ले जाना न भूलें. कपड़े और जूतों का सही चुनाव करें.
– अपने पास हेल्दी स्नैक्स और पीने के लिए पानी, जूस आदि ज़रूर रखें.
– ज़ू के हर एक क्षण को ़कैद करने के लिए कैमरा ज़रूर ले जाएं.
– ज़ू जाने से पहले निर्धारित कर लें कि आपको क्या देखना है.
– जल्दबाज़ीं में फोटोग्राफी करने की बजाय स्पेशल मोमेंट का इंतज़ार करें.
– जानवरों को देखते समय उसके बारे में जो लिखा है, वो अपने बच्चों को पढ़कर ज़रूर सुनाएं. बच्चों को अकेला न छोड़ें.
– किसी भी जानवर को देखने के लिए जितनी दूरी निर्धारित की गई है, उसका पालन करें. इससे किसी भी तरह की दुर्घटना से आप दूर रहेंगे. ज़ू के किसी भी जानवर या दूसरे जीवों से छेड़छाड़ न करें.
– अपनी पूरी ट्रिप को टुकड़ों में बांटे. समय-समय पर ब्रेक लें. इससे थकान भी मिट जाएगी और आप पूरे ज़ू का लुत्फ़ भी उठा सकेंगे.

– श्वेता सिंह 

अधिक ट्रैवल आर्टिकल के लिए यहाँ क्लिक करें: Travel Articles