kitchen spices


अगर आपकी इम्युनिटी अच्छी है तो आप कई रोगों और संक्रमणों सेअपने आप बचे रह सकते हैं या उनसे बेहतर तरीक़े से लड़ सकते हैं. यहीवजह है कि फिट रहने के लिए इम्युनिटी बेहतर रखना बेहद ज़रूरी हैऔर यह आसन भी है. आपके किचन में ही ऐसी चीज़ें और मसाले हैं जो आपकी इम्युनिटी को बेहतर बना सकते हैं. इन्हें अपने डायट में शामिल करें और हेल्दी रहें.

अदरक: इसमें एंटी इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं जो इम्युनिटी को बेहतर बनाते हैं. यह सर्दी-ज़ुकाम व गले की सूजन आदि से भीआपका बचाव करती है. अदरक की चाय शहद व नींबू मिला के पियें या अदरक के टुकडों पे काला नमक व नींबू का रसडाल के खाने के साथ लें.

नींबू: विटामिन सी से भरपूर नींबू में एंटीसेप्टिक व एंटीफंगल गुण होते हैं जो आपकी इम्युनिटी को बेहतर करते हें. इसेकिसी भी रूप में अपने खानपान में शामिल ज़रूर करें.

लहसुन: यह इम्युनिटी को बढ़ाने में एक तरह से सप्लीमेंट का काम करता है. यह भी आपको सर्दी-ज़ुकाम से बचाता है. इसमें अलाइसिन नाम का तत्व होता है, जो इंफेक्शन्स और बैक्टीरिया से लड़ता है. जो लोग एक हफ़्ते में लहसुन की 6 कलियां खाते हैं, उन्हें पेट के कैंसर की संभावना 50% तक कम होती है. इसे खाने में शामिल करें. अगर आपको ऐसिडिटीकी समस्या है तो रोज़ सुबह खाली पेट लहसुन की दो कलियां पानी के साथ निगल जायें.

शहद: यह अमृत की तरह काम करता है. यह एनर्जी बूस्टर है और आयुर्वेद में इसे बेहद गुणकारी बताया गया है. यह हार्ट डिसीज़, बीपी, अस्थमा से लेकर सर्दी-ज़ुकाम व एलर्जी तक से बचाव करता है. 

काली मिर्च: इसमें भी एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं. विटामिन सी से भरपूर होती है, यह शरीर से ज़हरीले तत्वों को दूर करने का काम करती है.

हल्दी: यह नेचुरल एंटीसेप्टिक है और इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं. खाने में इसका नियमित प्रयोग रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाता है. 

दही: यह कैल्शियम, विटामिन ई व प्रोटीन से भरपूर होता है. दही में ज़िंक होता है, जिसकी कमी से इम्यून सिस्टम कमज़ोरहो जाता है. यह प्रोबायोटिक है यानी गुड बैक्टीरिया दही में भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं. इनका नियमित सेवन इम्यूनिटीबढ़ाता है. दही खायें इम्युनिटी बढ़ाएं. 

हींग: इसमें एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीबायोटिक और एंटीवायरल गुण होते हैं. जिससे हमारी इम्युनिटी बढ़ती है.

Immunity Boosters

आंवला: यह विटामिन सी का बेहतरीन स्रोत है और इम्यून सिस्टम को मज़बूत बनाता है. नियमित रूप से सुबह आंवले कारस व शहद मिलाकर लें, तो कई बीमारियों व संक्रमण से बचाव होता है.

आजवाइन: यह बेहद गुणकारी है. एक टीस्पून आजवाइन को पानी में उबालकर पीने से, बुख़ार, बीमारियों व इंफेक्शन सेबचाव होता है. 

पालक: इसमें आयरन, कैल्शियम काफ़ी मात्रा में होता है. पालक व अन्य हरी सब्ज़ियों में विटामिन, मिनरल, फॉलिकएसिड व फाइबर्स होते हैं. हरी पत्तेदार सब्ज़ियां एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती हैं, जो इम्यून सिस्टम को मज़बूत करकेआपको हेल्दी रखती हैं. यह नई कोशिकाओं के निर्माण व डीएनए के रिपेयर में मदद करता है. यही वजह है कि इसे सुपरफूड कहा जाता है.

लौंग: इसमें मौजूद विटामिन सी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाता है. यह गले के व दांतों के इंफेक्शनको कम करती है.

गाजर: गाजर एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती है, इसके अलावा यह विटामिन ए व कैरोटिनाइड का स्रोत है.

पत्तागोभी: यह ग्लूटामाइन से भरपूर होती है. ग्लूटामाइन दरअसल इम्यूनिटी बढ़ानेवाला तत्व है.

दालचीनी: इसमें एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो हर तरह के इंफेक्शन से लड़ने में मदद करते हैं. इसकापाउडर दही, सलाद या चाय में मिलाके भी लिया जा सकता है. अगर गले में ख़राश है तो चुटकीभर दालचीनी पाउडर ले केऊपर से पानी पी लें. खांसी होने पे शहद में दालचीनी पाउडर मिलाके लें.

Immunity Boosters

टमाटर: इसमें लाइकोपीन होता है, जो शरीर में मौजूद फ्री रेडिकल्स को न्यूट्रलाइज़ कर देता है और कैंसर से बचाव करताहै. ये एलडीएल यानी बैड कोलेस्ट्रॉल का लेवल कम करने में भी सहायक होता है.

ग्रीन टी: शोध बताते हैं कि इसमें मौजूद पॉलीफीनॉल्स इंफ्लूएंज़ा के वायरस का ख़ात्मा करने में सहायक हैं. यहएंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती है और इम्यून सिस्टम पर सकारात्मक प्रभाव डालती है.

ओट्स/जौ: यह कई तरह की बीमारियों व फ्लू से रक्षा करता है, क्योंकि इनमें बीटा-ग्लूकैन नाम का फाइबर है, जोइम्यूनिटी बढ़ाता है. जिसमें एंटीमाइक्रोबियल और एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज़ भी होती हैं.

ब्लैक टी: इसमें मौजूद अमीनो एसिड इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए ज़िम्मेदार है और यह संक्रमण से लड़ने की क्षमता बढ़ाती है.

तुलसी: इसके हेल्थ बेनिफिट्स से हम सभी वाक़िफ़ हैं इसीलिए इसे पूजा जाता है. यह एंटीवायरल, एंटीबैक्टीरियल औरएंटीइन्फ्लामेट्री है. यह सर्दी-ज़ुकाम में राहत देती है. तुलसी की पत्तियां खाने से कई तरह के संक्रमणों से बचाव होता हैऔर इसका काढ़ा बनाकर पीने से भी काफ़ी लाभ होता है.

बादाम: इसमें मौजूद विटामिन ई इम्यूनिटी को बढ़ाता है, साथ ही इसमें राइबोफ्लेविन और नायसिन भी होता है, जो स्ट्रेससे बेहतर तरीक़े से लड़ने में मदद करता है.

अनार: यह विटामिन्स, फॉलिक एसिड और एंटीऑक्सीटेंड के गुणों से भरपूर है और कई तरह के कैंसर से बचाव करता है. 

सरसों का तेल: इसमें काफ़ी मात्रा में मैग्नीशियम पाया जाता है, जो अस्थमा व सर्दी से राहत दिलाता है. इसका सेवनइम्यूनिटी बढ़ाता है. जिन्हें सांस की बीमारी या सर्दी की समस्या हो तो सरसों के तेल को गर्म करके उसमें लहसुन या सेंधानमक मिलाकर सीने पे लगाने से राहत मिलती है. 

Immunity Boosters

इस तरह बढ़ायें इम्यूनिटी

  • रोज़ योग, ध्यान और कसरत करें.
  • सिगरेट-शराब का कम सेवन करें.
  • एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर चीज़ों का सेवन करें,जैसे- नट्स, ब्रोकोली, हरी मिर्च, पपीता, संतरा, शकरकंद, कीवी, स्ट्रॉबेरी, हरी पत्तेदार सब्ज़ियां.
  • जिंक इम्यूनिटी बढ़ाने व बनाए रखने के लिए बहुत ज़रूरी है. डार्क चॉकलेट, कद्दू के बीज व फलियां जिंक केबेहतरीन स्रोत हैं. इनका सेवन समय-समय पर करें.
  • वज़न को नियंत्रण में रखें.
  • जंक फ़ूड कम खायें.
  • नींद पूरी लें.
  • स्ट्रेस कम लें.
  • हाईजीन का ख़्याल रखें.
  • हाइड्रेटेड रहें, पानी भरपूर पियें.
  • हेल्दी सूप पियें. बेहतर होगा घर पे ही तैयार किया हुआ सूप लें, ताकि आर्टिफिशियल कलर व प्रिज़र्वेटिव से बचेरहें.
  • कोल्ड ड्रिंक्स की बजाय ताज़ा फलों का रस, सब्ज़ी का जूस, नींबू पानी या नारियल पानी पियें.
  • इम्यूनिटी बढ़ानेवाले फ़ूड्स को डायट में शामिल करें.
  • डायट के चक्कर में पोषण कम ना होने दें, वर्ना इम्यूनिटी कमज़ोर होने लगेगी.
  • बेवजह दवाएं ना खायें और ख़ासतौर से बिना डॉक्टर की सलाह के पेनकिलर ना लें.
  • डायट को बैलेंस रखने की कोशिश करें यानी आपकी थाली में तरह-तरह के रंग की सब्ज़ियाँ व फल हों.
  • मौसम के अनुसार खाने व लाइफस्टाइल में बदलाव करें. 
  • प्रदूषण से बचाव करें.
  • बहुत अधिक शुगर, आर्टिफ़िशियल स्वीटनर व प्रोसेस्ड फ़ूड से बचें, ये इम्यूनिटी को कमज़ोर करते हें.

गणपति

यह भी पढ़ें: हेल्दी रहना है, तो रखें अपने पाचन तंत्र और मेटाबॉलिज़्म को फिट! (Maintaining Digestive Health: Easy Ways To Boost Your Metabolism)

Cancer Prevention

कैंसर से बचाएंगी ये किचन रेमेडीज़ (Cancer Prevention: Best Home Remedies To Lower Your Risk)

पूरी दुनिया में ही नहीं, भारत में भी कैंसर (Cancer) के रोगी लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन हमारे किचन में ही ऐसी बहुत सारी चीज़ें उपलब्ध हैं, जिनका नियमित सेवन कैंसर से लड़ने में सहायता कर सकता है. एक नजर किचन में मौजूद कुछ ऐसी ही एंटी कैंसर चीज़ों पर.

हल्दीः खाने में हल्दी का इस्तेमाल ज़रूर करें. इसमें मौजूद करक्यूमिन तत्व कैंसर से लड़ने में मदद करता है. हल्दी ख़ासकर ब्रेस्ट कैंसर, पेट के कैंसर और त्वचा के कैंसर में ज़्यादा प्रभावी है.

केसरः केसर में क्रोसेटिन नाम का तत्व होता है, जो कैंसर से लड़ने में प्रभावी है. ये ना स़िर्फ कैंसर को स्प्रेड होने से रोकता है, बल्कि ट्यूमर के साइज़ को भी कम करता है.

जीराः जीरा खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ ही कैंसर से भी बचाता है. इसमें थाइमोक्वीनोन नाम का पदार्थ होता है, जो प्रोस्टेट कैंसर बनानेवाले सेल्स को बढ़ने से रोकता है. लिहाज़ा अगर कैंसर से बचना है और हेल्दी रहना है, तो अपने डेली डायट में जीरा शामिल करें.

दालचीनीः आयरन और कैल्शियम से भरपूर दालचीनी शरीर में ट्यूमर के साइज़ को कम करने में मदद करती है. हर रोज़ अपने दिन की शुरुआत दालचीनी की चाय से करें और सोने से पहले शहद और दालचीनी के साथ एक ग्लास दूध का सेवन करें. इससे आप कैंसर से सुरक्षित रहेंगे.

ऑरिगेनोः ऑरिगेनो का इस्तेमाल स़िर्फ पिज़्ज़ा, पास्ता की टॉपिंग के रूप में ही नहीं होता, बल्कि ये प्रोस्टेट कैंसर के ख़िलाफ़ भी एक सशक्त एजेंट का काम करता है.

Cancer Prevention

अदरक: औषधीय गुणों से भरपूर अदरक के सेवन से कोलेस्ट्रॉल कम होता है, मेटाबॉलिज़्म बढ़ता है और कैंसर सेल्स भी ख़त्म होते हैं. अदरक का अर्क कीमोथेरेपी या रेडियोथेरेपी से होनेवाली परेशानी को भी कम कर सकता है. ये अन्य कई बीमारियों से भी बचाता है.

तुलसीः तुलसी की पत्तियों में यूजेनॉल नामक तत्व होता है, जो कैंसर से सुरक्षा देता है. इस तत्व का इस्तेमाल एंटी कैंसर दवाएं बनाने के लिए भी किया जाता है.

नारियल तेलः रोज़ खाली पेट एक चम्मच नारियल तेल का सेवन करने से कैंसर से बचाव होता है. इसमें मौजूद लॉरिक एसिड कैंसर की कोशिकाओं को ख़त्म करने में सहायक होता है.

लहसुन और प्याज़ः लहसुन और प्याज़ में मौजूद सल्फर कंपाउंड बड़ी आंत, बे्रस्ट कैंसर, लिवर और प्रोस्टेट कैंसर की कोशिकाओं को मार देते हैं. यह इंसुलिन के प्रोडक्शन को कम करके शरीर में ट्यूमर नहीं बनने देते.

एंटी कैंसर सब्ज़ियां: फूलगोभी और ब्रोकोली कैंसर की कोशिकाओं को मारती हैं और ट्यूमर को बढ़ने से रोकती हैं. ये लिवर, प्रोस्टेट, मूत्राशय और पेट के कैंसर के ख़तरे को कम करती हैं.

फलियां और दाल: दाल और फलियां प्रोटीन का बेहतरीन स्रोत होने के साथ ही फाइबर और फोलेट से भरपूर होती हैं, जो पैंक्रियाज़ के कैंसर के ख़तरे को कम कर सकती हैं.

यह भी पढ़ें: दिशा पटानी के फिटनेस मंत्र (Fitness Mantra Of Disha Patani)

 

×