Laproscopic surgery

मेरी उम्र 35 वर्ष है. मेरे दो बच्चे हैं और दोनों बच्चों की नॉर्मल डिलीवरी हुई थी. कुछ दिनों से मुझे लग रहा है कि मेरी योनि से कुछ बाहर आ रहा है. मुझे योनि में ढीलापन भी महसूस होता है और पेशाब करने में परेशानी होती है.
– रीमा कपूर, दिल्ली.

आपकी समस्या से लगता है कि आपकी योनि की मांसपेशियों में ढीलापन आने से यूटेरस अपनी जगह से हिल गया है. ऐसा अक्सर नॉर्मल डिलीवरी के बाद होता है, ख़ासतौर पर तब, जब बच्चा बड़े आकार का हो या वैक्यूम की मदद से हुआ हो. ऐसे में यूटेरस योनि में या योनि से बाहर आ जाता है. कभी-कभी तो ज़्यादा कफ़ होने से ब्लैडर व रेक्टम भी बाहर आ जाता है, क्योंकि उन्हें सपोर्ट नहीं मिल पाता. इसका इलाज सर्जरी से ही संभव है. इसके लिए योनि या लेप्रोस्कोपिक सर्जरी द्वारा यूटेरस को कस दिया जाता है. यदि मरीज़ की उम्र ज़्यादा है तो यूटेरस को ही निकाल दिया जाता है.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: एक्टॉपिक प्रेग्नेंसी क्या होती है? (What Is Ectopic Pregnancy?)

Vaginal Laxity
मेरी उम्र 44 वर्ष है. मुझे 2 साल से अत्यधिक रक्तस्राव हो रहा है, जिसके कारण मुझे बहुत ज़्यादा थकान महसूस होती है. मेरी रिपोर्ट भी नॉर्मल है. डॉक्टर का कहना है कि मेनोपॉज़ के दौरान अक्सर ऐसा हो जाता है, लेकिन मेरे लिए अब इस परेशानी को सहना मुश्किल हो गया है. कृपया, उपाय बताएं.
– माधवी कंज़रकर, नागपुर .

आपकी समस्या को देखकर लगता है कि आपको डिस़फंक्शनल यूटेराइन ब्लीडिंग है. इस स्थिति में सोनोग्राफ़ी में यूटेरस व ओवरीज़ नॉर्मल नज़र आते हैं, लेकिन मरीज़ को रक्तस्राव होता रहता है. इस प्रॉब्लम के लिए आप गायनाकोलॉजिस्ट से बात करके दवाएं ले सकती हैं. यदि आप परमानेंट सोल्यूशन चाहती हैं, तो आपके पास दो विकल्प हैं, यूटेरस में हार्मोन इंटरायूटेराइन डिवाइस इंसर्ट करवा लें. यह कॉपर टी की तरह ही होता है. इससे अगले 5 साल के लिए आपका रक्स्राव रुक जाएगा. दूसरा विकल्प है- यूटेराइन बलून एब्लेशन, जिसमें एक बलून को ट्यूब में लगाकर योनि मार्ग द्वारा अंदर डाला जाता है. बलून में गर्म पानी भरकर कंप्यूटर द्वारा यूटेरस की दीवारों को नष्ट किया जाता है. लेकिन यह प्रक्रिया वेे महिलाएं ही करवा सकती हैं, जो भविष्य में मां नहीं बनना चाहतीं.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: क्या गर्भनिरोधक गोलियों से वज़न बढ़ता है? (Do Contraceptive Pills Cause Weight Gain?)

Dr. Rajshree Kumar

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा ऐप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

Personal Problems: फायब्रॉइड्स होने पर क्या गर्भाशय निकलवाना पड़ेगा? (Do I Need To Remove Uterus For Fibroids?)

पीरियड्स की समस्या हो या किसी तरह का इन्फेक्शन, प्रेगनेंसी से जुडी कोई समस्या या फिर फैमिली प्लानिंग से जुड़ा कोई सवाल, जानें मेरी सहेली के पर्सनल प्रॉब्लम्स में नारी स्वास्थ्य से जुड़ी हर समस्या का समाधान. 

मैं 38 वर्षीया गृहिणी हूं. अभी-अभी मुझे पता चला है कि मेरे गर्भाशय में फायब्रॉइड्स हैं. क्या इसका यह मतलब है कि मुझे गर्भाशय निकलवाना होगा या फिर कोई और विकल्प भी है?
– दीप्ति गिल, अमृतसर.

सबसे पहली बात यह कि आप अभी स़िर्फ 38 साल की हैं, इसलिए गर्भाशय निकलवाने के बारे में भूल जाइए, क्योंकि मेडिकल साइंस ने बहुत तऱक्क़ी कर ली है और इसके अलावा कई और विकल्प भी हैं. आप मायओमेक्टमी के लिए जा सकती हैं, जिसमें सर्जरी के ज़रिए फायब्रॉइड्स निकाले जाते हैं. इसके अलावा कई छोटी-छोटी सर्जरीज़, जैसे- लैप्रोस्कोपी, हिस्टेरोस्कोपी, द विंसी रोबोटिक मायओमेक्टमी, यूटेराइन आर्टरी इंबोलाइज़ेशन आदि हैं, जिनके ज़रिए फायब्रॉइड्स निकाले जा सकते हैं. पर सबसे पहले दवाइयां लें. अगर यह दवाइयों से ठीक नहीं हो रहा है, तभी बाकी के विकल्प चुनें.

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है? 

Remove Uterus, Fibroids, female health

मैं 28 वर्षीया महिला हूं और कुछ महीने पहले ही मेरी नॉर्मल डिलीवरी हुई है, पर उसके कुछ हफ़्तों बाद से ही मुझे प्रोलैप्स जैसे लक्षण महसूस हो रहे हैं. क्या मुझे तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए?
– इशिता शुक्ला, जबलपुर.

कभी-कभी महिलाओं को प्रोलैप्स जैसा महसूस होता है, पर वैसा होता नहीं. हो सकता है कि गर्भाशय अपनी जगह से हल्का-सा खिसक गया हो, पर यह तो कीगल एक्सरसाइज़ से भी ठीक हो जाएगा. सबसे पहले आप किसी गायनाकोलॉजिस्ट से मिलकर ज़रूरी टेस्ट्स करवा लें, ताकि पता चल सके कि प्रोलैप्स है या नहीं. फ़िलहाल के लिए डॉक्टर आपको दवाएं देकर 6 हफ़्तों तक ऑब्ज़र्व कर सकते हैं. दरअसल, डिलीवरी के बाद आयरन पिल्स लेने के कारण महिलाओं को कब्ज़ की शिकायत हो जाती है और इंट्रा एब्डॉमिनल प्रेशर से पेल्विक मसल्स कमज़ोर हो जाती हैं, जिसके कारण ऐसा महसूस होता है. आप हेल्दी डायट लें और कुछ पेल्विक एक्सरसाइज़ेज़ करें.

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: गर्भधारण नहीं कर पा रही हूं, क्या मुझमें कोई प्रॉब्लम है?

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 
हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies
मैं 27 वर्षीया महिला हूं. मेरी शादी को चार साल हो गए हैं, पर अभी तक मैं कंसीव नहीं कर पाई हूं. डायग्नॉस्टिक लैप्रोस्कोपिक जांच में पता चला कि मेरे यूटेरस और ओवरीज़ तो नॉर्मल हैं, पर फैलोपियन ट्यूब्स नहीं हैं. क्या ऐसा हो सकता है? डॉक्टर ने बच्चे के लिए आईवीएफ की सलाह दी है. मैं क्या करूं, कृपया मार्गदर्शन करें. 
– दीपा नाइक, नागपुर.

फैलोपियन ट्यूब्स का न होना एक दुर्लभ अवस्था है, जो बहुत ही कम महिलाओं को होती है. इस समय आपको सकारात्मक सोच रखनी चाहिए कि आपका गर्भाशय और ओवरीज़ नॉर्मल हैं और आप अपने बच्चे को जन्म दे सकती हैं. दरअसल, आप हर महीने ओव्यूलेशन से गुज़रती हैं, पर ट्यूब्स न होने के कारण कंसीव नहीं कर पातीं.

ये भी पढें: बार-बार वेजाइनल इंफेक्शन क्यों होता है?

Pregnant Without Fallopian Tubes
18 साल की उम्र में मेरी शादी हो गई, पर शादी के बाद मेरे और मेरे पति के बीच शारीरिक संबंध नहीं बन पाए. जांच के बाद पता चला कि मेरा गर्भाशय व ट्यूब्स नहीं हैं, जबकि ओवरीज़ नॉर्मल हैं. शायद यही वजह थी कि बाकी लड़कियों की तरह मेरे पीरियड्स कभी नहीं आए. क्या किसी सर्जरी से यह ठीक हो जाएगा? क्या मैं कभी मां
बन पाऊंगी?
– जानकी पराशर, मेरठ.

आपकी स्थिति जानकर दुख हुआ. आमतौर पर ऐसी समस्याओं के बारे में टीनएज के दौरान ही पता लग जाता है, जब उन्हें बाकी लड़कियों की तरह पीरियड्स नहीं आते. ऐसे मामलों में अक्सर यूटेरस इतना छोटा होता है कि सही तरी़के से क्रियाशील नहीं होता. चूंकि आपकी ओवरीज़ हैं, इसलिए आप अपने बायोलॉजिकल बच्चे की मां बन सकती हैं, पर यूटेरस न होने के कारण आपको सरोगेट मदर की मदद लेनी पड़ेगी.

ये भी पढें: क्या कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स से सर्वाइकल कैंसर हो सकता है?

क्या है मुलेरियन एप्लेसिया?

मुलेरियन एप्लेसिया ऐसी अवस्था है, जो महिलाओं के रिप्रोडक्टिव सिस्टम को प्रभावित करती है. इसमें यूटेरस, फैलोपियन ट्यूब्स, सर्विक्स या वेजाइना का ऊपरी हिस्सा पूरी तरह विकसित नहीं होता. यह एक असामान्य अवस्था है, पर इसे दुर्लभ नहीं कह सकते, क्योंकि लगभग 5000 में से 1 नवजात बच्ची इस समस्या के साथ पैदा होती है. इसके कारणों के बारे में अभी तक कुछ साफ़-साफ़ पता नहीं चल पाया है, पर इसे आनुवांशिकता से जोड़कर देखा जा सकता है. सर्जरी ही इसका सबसे सही इलाज है. इन मामलों में लड़कियों को पारिवारिक व भावनात्मक सपोर्ट की बहुत ज़रूरत होती है, क्योंकि अपनी सहेलियों से अलग होने के कारण इनमें आत्मविश्‍वास की कमी होती है.

 

rajeshree-kumar-167x250

डॉ. राजश्री कुमार

स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

 

हर बीमारी का आयुर्वेदिक उपचार  उपाय जानने के लिए इंस्टॉल करे मेरी सहेली आयुर्वेदिक होम रेमेडीज़ ऐप