lock down

लॉकडाउन के दौरान सोनू सूद का अलग ही व्यक्तित्व उभरकर आया और वो बन गए ग़रीबों के मसीहा. जब जहां से जो भी मदद मांगता सोनू उनकी मदद के लिए आगे हाथ बढ़ा देते. सोनू को इस काम के लिए काफ़ी वाहवाही और लोगों का प्यार भी मिला. इसके बाद भी सोनू कई तरह के समाजिक काम करते रहे, कभी किसी बच्चे के इलाज के लिए आगे आए तो कभी किसी की अन्य मदद के लिए… लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्हें सोनू की नेकी रास नहीं आ रही और वो इसे शक की निगाह से देख रहे हैं.

Sonu Sood

ऐसा ही एक बंदा ट्वीटर पर सोनू से सवाल करने लगा और उनकी मंशा पर संदेह जताने लगा. उसने लिखा- एक नया ट्विटर अकाउंट, सिर्फ 2 या 3 ही फॉलोअर, एक ही ट्वीट, कभी सोनू को टैग भी नहीं किया… कोई लोकेशन नहीं, कोई कॉन्टैक्ट डीटेल, इमेल एड्रेस नहीं, पर फिर भी सोनू ने इस ट्वीट को ढूंढ लिया और मदद की पेशकश की. पीआर टीम इसी तरह काम करती है.
पहले भी जो हैंडल्स मदद मांगने आए थे, वे सब अपने ट्वीट डिलीट कर चुके हैं. कुल मिलाकर इस बंदे ने सोनू की मदद को पीआर स्टंट बता दिया.

Sonu Sood
Sonu Sood

सोनू ने भी इसे जवाब देने में देर नहीं की, सोनू ने रसीद और टेस्ट्स की रिपोर्ट्स के स्क्रीन शॉट शेयर करते हुए लिखा- ये सही है भाई, मैंने ज़रूरतमंद को खोजा और उन्होंने ने भी किसी तरह मुझे ढूँढ लिया, ये सब इरादों की बात है जो तुम नहीं समझोगे! आगे सोनू ने लिखा कि वो मरीज़ कल अस्पताल में होगा बेहतर होगा उसके लिए कुछ फल भेज दें, 2-3 फॉलोअर वाला व्यक्ति भी बहुत खुश होगा, जब उसे कई फॉलोअर्स वाले व्यक्ति से कुछ प्यार मिलेगा…

Sonu Sood

लेकिन हैरानी की बात यह है कि यह व्यक्ति इसके बाद भी बाल की खाल निकालते हुए सोनू पर सवाल उठाता रहा और अपनी बात को सही साबित करने के लिए मदद माँगने की तारीख़, मदद की पेशकश की तारीख़ ढूँढता रहा और कहता रहा कि आपने पहले से इलाज करवा रहे किसी व्यक्ति को मदद का आश्वासन दिया. यह सब पीआर स्टंट ही है और आप फ़र्ज़ी काम कर लोगों को धोखा दे रहे हैं.

यह भी पढ़ें: ना अश्लील डायलॉग, ना फूहड़ता, अपनी नेचुरल कॉमेडी से दर्शकों को खूब हंसाया और जीता सबका दिल इन 12 क्लासिक हास्य कलाकारों ने! (12 Classic Bollywood Comedians Who Made Us Laugh Really Hard)

कोरोना के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम संदेश देते हुए २४ मार्च रात बारह बजे से १४ एप्रिल तक यानी पूरे २१ दिनों के लॉकडाउन की घोषणा कर दी. मोदी जी ने यह कड़ा कदम इसलिए भी उठाया क्योंकि लोग कर्फ़्यू को भी गम्भीरता से नहीं ले रहे थे और बाहर निकलकर कोरोना के ख़तरे को बढ़ा रहे थे.

PM Modi

इसके बाद गृह मंत्रालय ने आपात बैठक बुलाई और गाइडलाइन जारी की कि इस दौरान ज़रूरी चीजों यानी आवश्यक वस्तुओं की दुकान व सर्विसेज़ जारी रहेंगी, जिसमें दूध, फल, सब्ज़ी, मेडिकल, बैंक, ATM और LIC आदि शामिल हैं.