Tag Archives: Love Life

सुष्मिता सेन की फोटो पर क्यूट रेस्पॉन्स देने से ख़ुद को नहीं रोक पाए रोहमन… क्या अब भी है प्यार? (Sushmita Sen’s Pic With A Baby Evokes A Cute Response from Rohman)

Sushmita Sen’s Pic With A Baby

सुष्मिता सेन की फोटो पर क्यूट रेस्पॉन्स देने से ख़ुद को नहीं रोक पाए रोहमन… क्या अब भी है प्यार? (Sushmita Sen’s Pic With A Baby Evokes A Cute Response from Rohman)

सुष्मिता सेन (Sushmita Sen) और रोहमन शॉल (Rohman Shawl) के बीच अब भी है प्यार? हॉट कपल के रूप में जाने जानेवाले सुष्मिता सेन और रोहमन के बीच पिछले दिनों ब्रेकअप की ख़बर काफ़ी चर्चा में थी. रोहमन की इंस्टाग्राम स्टोरीज़ ने सनसनी फैला दी थी और यह ख़बर जंगल में आग की तरह पूरी इंडस्ट्री और मीडिया में फैल गई थी.

लेकिन शुक्रवार को रोहमन की इंस्टाग्राम स्टोरी कुछ और ही बयां कर रही थी. इसमें रोहमन ने सुष्मिता के लिए प्यार और उनके साथ घर बसाने का क्यूट-सा मैसेज दिया था. रोहमन की इसी स्टोरी को सुष्मिता ने भी अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी पर पोस्ट किया, जिससे तो यही लग रहा है कि प्यार अभ भी बाकी है.

यह भी पढ़ें: इस पोस्ट के साथ मलाइका ने कंफर्म किया अर्जुन के साथ रिलेशनशिप (Malaika Arora Makes Her Relationship With Arjun Kapoor Official With Birthday Post On Instagram)

Sushmita Sen

इसके अलावा सुष्मिता ने अपनी एक पिक्चर भी शेयर की है, जिसमें वो एक छोटी-सी बेबी के साथ फ्लाइट में नज़र आ रही हैं, उनकी इस पिक्चर पर भी रोहमन से आठ घंटे पहले ही कमेंट किया है कि- माय बेबी विद ए बेबी!

तो प्यार में तो लड़ाई-झगड़ते होते रहते हैं, बस फैंस यही दुआ करते हैं कि ये हॉट कपल यूं ही हॉट बना रहे. हाल ही में सुष्मिता ने एक इंटरव्यू में भी अपने और रोहमन के पहले इंटरेक्शन की बात कही थी कि उनकी मुलाक़ात इंस्टाग्राम पर ही हुई थी और किस तरह से अंजाने में सुष ने रोहमन का मैसेज ओपन कर लिया था और उसके बाद बातों और डेट्स का सिलसिला शुरू हुआ.

 

rohmanshawl's profile picture

rohmanshawl

Verified

My BABY with a baby ❤️😘

सीखें हस्तरेखा विज्ञान: हृदय रेखा से जानें अपनी पर्सनैलिटी और लव लाइफ के बारे में (Learn Palmistry: Heart Line Tells A Lot About Your Personality And Love Life)

हस्तरेखा विज्ञान (Palmistry) से हम अपने व्यवहार, भविष्य, करियर, लव लाइफ आदि के बारे में आसानी से जान सकते हैं. हस्तरेखा विज्ञान की सबसे बड़ी ख़ासियत ये है कि इसके लिए हमें किसी और के पास जाने की ज़रूरत नहीं है. यदि हमें हस्तरेखा विज्ञान की समझ है तो हम अपना भविष्य खुद ही जान सकते हैं. यदि आप अपनी पर्सनैलिटी और लव लाइफ के बारे में जानना चाहते हैं, तो ज्योतिष व वास्तु एक्सपर्ट पंडित राजेन्द्र जी आपको सिखा रहे हैं हस्तरेखा विज्ञान. रोजेन्द्र जी आपको अपने हाथ की रेखा देखना सिखा रहे हैं, जिससे आप अपने हाथ की रेखा देखकर अपनी पर्सनैलिटी और लव लाइफ के बारे में आसानी से जान सकते हैं.

Palmistry

यदि आपकी हार्ट लाइन यानी दिल की रेखा छोटी है तो क्या होता है, यदि हार्ट लाइन बड़ी है तो क्या होता है, यदि हार्ट लाइन पर स्टार, बिंदु, त्रिकोण के निशान हैं तो क्या होता है, आपकी लव मैरिज होगी या अरेंज, आपकी शादीशुदा ज़िंदगी कैसी होगी, आपका दिल कितना स्वस्थ रहेगा, आप दूसरों की भावनाओं का कितना ख़्याल रखते हैं… आपकी हार्ट लाइन से जुड़े ऐसे कई सवालों के गूढ़ रहस्य बता रहे हैं ज्योतिष व वास्तु एक्सपर्ट पंडित राजेन्द्र जी.

यह भी पढ़ें: सीखें हस्तरेखा विज्ञान: जीवन रेखा से जानें अपने जीवन के रहस्य (Learn Palmistry: How Your Life Line Can Predict Your Life)

 

अपनी हथेली में हृदय रेखा देखकर जानें अपनी पर्सनैलिटी और लव लाइफ के बारे में, देखें वीडियो:

बर्थडे से जानें लव मैरिज होगी या अरेंज मैरिज (Love Or Arranged Marriage: Your Birthdate Can Predict)

 

अपनी शादी (Marriage) को लेकर हर किसी के मन में बेहद उत्सुकता रहती है. यहां पर हम जन्म के अंकों यानी न्यूमरोलॉजी (Numerology) के आधार पर बता रहे हैं कि आपका प्रेम विवाह (Love Marriage) होगा या आप परिवार की सहमति से शादी (Arranged Marriage) करेंगे. इस विषय में ज्योतिषाचार्य व वास्तुशास्त्री पं. राजेंद्रजी ने हमें कई उपयोगी जानकारियां दीं. आइए, इस दिलचस्प तथ्य पर एक नज़र डालते हैं.

* यदि आपके जन्म का अंक एक है, तो आपकी अरेंज मैरिज होने की संभावनाएं अधिक हैं. चूंकि आप थोड़े संकोची व शर्मीले नेचर के हैं. इस कारण प्यार के मामले में आगे नहीं बढ़ पाते हैं, इसलिए आपके लव मैरिज होने की गुंजाइश नहीं है.

* दो नंबरवाले लोग बुद्धिमान व प्रेमी स्वभाव के होते हैं. इनकी भरसक कोशिश रहती है कि वे जिससे प्यार करते हैं, उसी से शादी करें. इनमें एक और ख़ास बात यह रहती है कि वे प्यार के मामले में दूरदर्शी होते हैं. बहुत सोच-विचार कर ही प्यार की दुनिया में क़दम रखते हैं. इनके लिए प्यार से बढ़कर कुछ नहीं होता है, अत: ये प्रेम विवाह ही करते हैं.

* तीन नंबरवाले शख़्स की ख़ासियत यह है कि इनका प्यार कामयाब रहता है. प्रेम में इनका अटूट विश्‍वास होता है. कभी-कभी इनके लिए प्यार ईश्‍वर का रूप भी बन जाता है. प्यार को लेकर इनका जुनून, विश्‍वास इनके प्रेम विवाह को सफल बनाता है.

* चार नंबरवाले थोड़े मस्त व रंगीन स्वभाव के होते हैं. इनके जीवन में प्रेम कई बार कई रूप में आता है. कई बार ये थोड़े असमंजस में भी आ जाते हैं कि लव मैरिज करें या अरेंज मैरिज. वैसे भी प्यार के मामले में थोड़े चंचल भी होते हैं अर्थात् प्यार को लेकर उतनी गंभीरता व मैच्योरिटी नहीं होती, जितनी होनी चाहिए. इसलिए यदि ये लव मैरिज कर भी लेते हैं, तो भी शादी के बाद भी इनके कई संबंध बनने की संभावनाएं रहती हैं. कह सकते हैं कि थोड़े फ्लर्ट क़िस्म के होते हैं. लेकिन अधिकतर इनकी लव मैरिज ही होती है.

* पांच नंबरवाले लोग परंपरागत तरी़के से विवाह करने में विश्‍वास रखते हैं. इनके लिए घर-परिवार, बड़ों की आज्ञा, मान-प्रतिष्ठा काफ़ी मायने रखती है. ज़िंदगी के हर महत्वपूर्ण कार्य में बड़ों की रज़ामंदी लेना नहीं भूलते, इसलिए इनके प्रेम विवाह करने के आसार बहुत कम होते हैं. परिवार की अनुमति और पसंद ही इनके लिए स्वीकार्य है यानी ये अरेंज मैरिज करते हैं.

यह भी पढ़ेलघु उद्योग- कैंडल मेकिंग: रौशन करें करियर (Small Scale Industries- Can You Make A Career In Candle-Making?)

* प्यार की नींव विश्‍वास व समर्पण पर होती है, ख़ासकर जब वो रिश्ते के बंधन में बंधते हैं. यहीं पर छह नंबरवाले व्यक्ति डांवाडोल हो जाते हैं. ये अपने रिश्ते में स्थिर नहीं रह पाते. ये प्यार तो करते हैं, पर एक के प्रति वफ़ादार नहीं रह पाते. इनके कइयों के साथ संबंध बनते हैं. इस कारण कई बार ये अपने रिश्ते को भी बचा नहीं पाते.

* सात फेरे, सात वचन की तरह सात नंबरवाले रिश्ते में ईमानदार और वफ़ादार होते हैं. मूल रूप से शर्मीले स्वभाव के होने के कारण अपने दिल की बात खुलकर नहीं कर पाते. अक्सर किसी के प्रति झुकाव होने के बावजूद ये कह नहीं पाते. दिल की बात दिल में ही रह जाती है. लेकिन एक बात तय है कि चाहे ये अरेंज मैरिज करें या फिर संभावित रूप से लव मैरिज हो, ये पार्टनर के साथ वफ़ादार रहते हैं. एक सच्चे जीवनसाथी की तरह रिश्ते को पूरी ईमानदारी के साथ जीवनभर निभाते हैं.

* जिनका जन्म आठ तारीख़ को होता है, ये यूं तो अरेंज मैरिज ही करते हैं. फिर भी यदि संयोगवश किसी से प्यार हो जाता है, तो प्रेम विवाह करने से भी कतराते नहीं है. अपनी समझदारी और सरलता के कारण ये दोनों ही तरह के रिश्तों को यानी अरेंज  मैरिज व लव मैरिज दोनों में ही कामयाब रहते हैं.

* नौ नंबरवाले लोग प्यार के मामले में नौ दो ग्यारह यानी दूर ही रहने में भलाई समझते हैं. इन्हें प्यार करना ही सही नहीं लगता, क्योंकि इनका यह मानना है कि इस राह में ख़ुशी की जगह ग़म अधिक होते हैं. और रिश्ते में ये कोई रिस्क नहीं लेना चाहते. अत: ये अरेंज मैरिज ही करते हैं.

यह भी पढ़ेहर लड़की ढूंढ़ती है पति में ये 10 ख़ूबियां (10 Qualities Every Woman Look For In A Husband)

शादी को लेकर हर किसी के अपने कुछ अरमान होते हैं. आइए, जानते हैं किस राशिवाले लोग किस तरह शादी करने में यक़ीन रखते हैं.

* मेष राशिवाले लोग पार्टी, धूमधाम और फन के साथ विवाह करने में विश्‍वास रखते हैं.

* वृषभवाले परंपरागत शादी करते हैं और शाही को अधिक महत्व देते हैं.

* मिथुन राशि के शख़्स शादी के हर पल का भरपूर लुत्फ़ उठाते हैं. इनके लिए शादी फेस्टिवल और जश्‍न की तरह होती है.

* सिंपल तरी़के से मैरिज करना कर्क राशिवालों की पहचान होती है. इसी के साथ अपनों के साथ थोड़ा धूमधड़ाका भर कर लेते हैं.

* पूरी प्लानिंग और राजसी ठाट के साथ विवाह करने में यकीन रखते हैं सिंह राशिवाले. रॉयल स्टाइल में सभी कार्यक्रम करना इनकी ख़ासियत होती है.

* जीवन में हर काम सही ढंग से करने में विश्‍वास रखनेवाले कन्या राशिवाले अपनी शादी को भी सुनियोजित व परफेक्शन के साथ करते हैं, फिर चाहे वो ख़ुद की, घर की साज-सज्जा हो या बैंड-बाजा-बरात.

* तुला राशिवाले संतुलित विवाह को अहम् मानते हैं. इसके बावजूद थोड़ी उथल-पुथल हो ही जाती है. ये हक़ीक़त से अधिक ख़्वाबों की दुनिया में अधिक रहते हैं. शादी को लेकर भी सपनों के राजकुमार या ख़्वाबों की शहज़ादीवाली भावनाएं और सोच इनकी होती है. इस कारण कई बार इन्हें अनचाही मुसीबतों का भी सामना करना पड़ता है.

* शादी जीवन में एक बार और यादगार होनी चाहिए, कुछ इस तरह की सोच रहती है वृश्‍चिक राशिवालों की. इनकी यही चाह रहती है कि शादी के अरेंजमेंट से लेकर विदाई तक सब कुछ लाजवाब हो.

* अपनी सुविधा के अनुसार घर से दूर और मनोेरंजन से भरपूर मैरिज करना धनु राशिवालों का उद्देश्य होता है. इनकी शादियां लोगों को ख़ास पसंद आती हैं.

* हर रस्म-रिवाज़ के साथ, परंपरागत और सिंपल तरी़के से शादी करना मकर राशिवालों की विशेषता होती है. शादी से जुड़ा हर कार्यक्रम और रस्म वे पारिवारिक परंपरा के अनुसार निभाते हुए करना पसंद करते हैं.

* मकर राशि से एकदम विपरीत होते हैं कुंभ राशिवाले. इनके लिए मैरिज से जुड़ा हर कार्य आधुनिक ढंग से होना चाहिए. ये मॉडर्निटी से ख़ासे प्रभावित रहते हैं.

* इसमें कोई दो राय नहीं कि मीन राशिवाले थोड़े फिल्मी होते हैं, इसलिए अपनी शादी को भी वही अंदाज़ देना चाहते हैं. प्यार की रोमानियत से भरपूर यादगार शादी होती है इनकी.

– ऊषा गुप्ता

पहला अफेयर: नीली छतरीवाली लड़की… (Pahla Affair: Neeli Chhatriwali Ladki)

Pyar ki Khaniya

पहला अफेयर: नीली छतरीवाली लड़की… (Pahla Affair: Neeli Chhatriwali Ladki)

प्रतिदिन वो नीली छतरीवाली लड़की घर के सामने से गुज़रती थी. किसी बच्चे को स्कूल बस तक छोड़ने के लिए चौराहे तक जाना उसका रोज़ का काम था. लेकिन आज पहली बार मेरी नज़र उसकी नज़र से टकरा गई. वो हौले से मुस्कुराई और आगे बढ़ गई. उसकी आंखों में ओस की बूंदों के समान चमक थी. मुस्कुराते हुए उसके लब ऐसे लग रहे थे मानो गुलाब की कई कलियां अभी-अभी खिली हों.

उसकी नाज़ुक-सी कलाई में एक ब्रेसलेट था, उसी हाथ से उसने छतरी को पकड़ रखा था, दूसरे हाथ की उंगली को बच्चे ने पकड़ रखा था. उसकी सुराहीदार गर्दन में कोई आभूषण नहीं था और सच पूछो तो उसे किसी आभूषण की ज़रूरत भी नहीं थी, बिन शृंगार के ही बेहद ख़ूबसूरत लगती थी वो. पैरों में सिंपल-सी चप्पल और हल्के रंग की सलवार-कुर्ती पहनकर आती थी वो. वेशभूषा भले ही साधारण थी उसकी, पर व्यक्तित्व असाधारण था. उसमें ग़ज़ब का आकर्षण था, एक कशिश थी, जो मुझे उसकी ओर खींच रही थी. वो किसी मत्स्यकन्या की तरह ख़ूबसूरत थी.

मैं उसके वापस लौटने का इंतज़ार करने लगा. कुछ देर बाद वह वापस लौटी. अब उसकी पलकें झुकी हुई थीं. लजाते हुए वो छुईमुई-सी प्रतीत हो रही थी. उसकी मासूम मुस्कान अब भी बनी हुई थी. उसे देखकर मेरे भीतर हज़ारों फूल खिल गए थे. यह पहली नज़र का प्यार नहीं तो और क्या था? मैंने घड़ी को देखा, तो दस बजने को थे. मैं अब रोज़ साढ़े नौ बजे से ही उसका इंतज़ार करने लगा था.

वो रोज़ मुस्कुराते हुए आती और चली जाती. मैं बस उसे देखता रह जाता. इतना ज़रूर समझ गया था कि वो भी मुझे पसंद तो करती थी, पर क्या प्यार भी करने लगी थी? सोचता था उसका नाम पूछूं, पर कभी हिम्मत ही नहीं जुटा पाया.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: वो लड़की… (Pahla Affair: Wo Ladki)

यह सिलसिला कई दिनों तक चलता रहा, फिर अचानक उसका मेरी राह से गुज़रना बंद हो गया. मैं परेशान था. मोहल्ले से पता चला कि उसकी शादी तय हो चुकी है. समय बीतता गया, पर 7-8 महीनों बाद वो फिर दिखाई दी. कलाईभर की चूड़ियां पहने हुए थी वो. मांग में सिंदूर और गले में मंगलसूत्र था. लेकिन ये क्या… उसका सौदर्य यूं मुरझाया हुआ क्यों लग रहा था. उसके चहरे पर पहले-सी आभा नहीं थी. होंठ सूखे और मन उदास लग रहा था. बेहद कमज़ोर और थकी हुई लग रही थी. अब वो मुस्कुराती भी नहीं थी.

वो अक्सर मायके आया करती थी. सुनने में आता कि जाते समय वो मायके से ढेर सारा सामान ले जाया करती थी.

पर कई महीनों से उसके मायके आने का सिलसिला भी ख़त्म हो गया था. फिर एक दिन अचानक ख़बर मिली कि ससुराल ेमं उसकी जलने से मौत हो गई. क्या, कैसे और क्यों हुआ, कोई नहीं जानता… पर अंदाज़ा तो सबको है कि दहेज की बलि चढ़ चुकी थी वो.

इस दुनिया में अब वो नीली छतरीवाली लड़की नहीं है, लेकिन मुझे लगता है कि वो नीली छतरीवाली लड़की आज भी मुझे नीले आकाश से निहारती है और अब हमें कोई जुदा नहीं कर सकता.

– वैभव कोठारी

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: प्यार की परिभाषा (Pahla Affair: Pyar Ki Paribhasha)

सेक्स लाइफ का राशि कनेक्शन (What Does Your Zodiac Sign Say About Your Sex Life?)

आपकी राशि (Zodiac) आपका स्वभाव, पर्सनैलिटी, करियर और भविष्य ही नहीं बताती, बल्कि यह आपकी सेक्स लाइफ (Sex Life) के बारे में भी बहुत कुछ बताती है. जी हां, यकीन नहीं होता, तो अपनी राशि के बारे में पढ़कर देख लें, अपने आप यकीन हो जाएगा.

 Sex Life

 

मेष (20 मार्च-19 अप्रैल)

–     मेष राशिवाले स्वभाव से ऐडवेंचरस होते हैं और यह ऐडवेंचर इन्हें अपनी सेक्स लाइफ में भी पसंद है.

–     किसी का हो जाने की बजाय किसी को अपना बनाने में इन्हें ज़्यादा मज़ा आता है.

–     आमतौर पर सभी मेष राशिवाले थोड़े एग्रेसिव भी होते हैं, इसलिए इन्हें बहुत ज़्यादा ड्रामा और इमोशनल होना पसंद नहीं. सेक्स में भी ये यही पसंद करते हैं.

–     ये बहुत ही पैशनेट लवर्स होते हैं और एक बार जिसके साथ कमिटमेंट कर लेते हैं, तो पूरी ज़िंदगी के लिए उसके हो जाते हैं.

–     अपने पार्टनर को सेक्सी फील कराना इनके बाएं हाथ का काम है.

आइडियल पार्टनर: मेष, सिंह, कुंभ, तुला, मिथुन और धनु राशिवाले.

वृष (20 अप्रैल-20 मई)

–     सभी राशियों में से वृष राशिवाले सबसे सेंसुअल माने जाते हैं.

–     कमरे में मनमोहक ख़ुशबू हो, मदहोश कर देनेवाला संगीत और प्यार से छूकर दिल में उतर जानेवाला पार्टनर- ये इस राशिवालों का ड्रीम होता है.

–     स्वभाव से आलसी होने के कारण ये प्यार को पाने के लिए बहुत ज़्यादा मेहनत करने में विश्‍वास नहीं करते, बल्कि इन्हें यक़ीन होता है कि जब सही व़क्त आएगा, तो इनका पार्टनर इन्हें ख़ुद मिल जाएगा.

–     हालांकि रिश्तों को लेकर इनकी सोच काफ़ी प्रैक्टिकल होती है, पर अपने पार्टनर के लिए बहुत ज़्यादा पज़ेसिव होते हैं.

–     सेंसुअल होने के कारण इनकी लव लाइफ काफ़ी रोमांटिक होती है.

आइडियल पार्टनर: वृष, कन्या, मकर, कर्क, वृश्‍चिक और मीन राशिवाले.

मिथुन (21 मई-21 जून)   

–     मिथुन राशिवाले काफ़ी क्रिएटिव और ज़िंदादिल होते हैं, जो उनकी सेक्स लाइफ में भी साफ़ नज़र आता है.

–     ये अपनी सेक्स लाइफ को कभी बोरिंग नहीं होने देते. रूटीन से हटकर कुछ अलग करते रहना इन्हें बेहद प्रिय है.

–     सेक्सुअल लाइफ में एक्सपेरिमेंट करना इनका पैशन है.

–     सेक्सुअल रिलेशन के दौरान शरारतें और शरारती बातें इनकी पहचान है. यूं कहें तो इन्हें सेक्स के दौरान फनमेकिंग बहुत पसंद है.

–     वैसे तो ये स्वभाव से ही फ्लर्ट होते हैं, पर अपने पार्टनर को लेकर पज़ेसिव होते हैं.

–     सेक्स के दौरान इन्हें एनर्जी से भरपूर लवमेकिंग पसंद है. अपने पार्टनर से भी उसी उत्साह और उमंग की चाह रखते हैं.

आइडियल पार्टनर: मिथुन, तुला, कुंभ, मेष, सिंह और धनु राशिवाले.

कर्क (22 जून-22 जुलाई)  

–     स्वभाव से इमोशनल होने के कारण कर्क राशिवाले सेक्स लाइफ में भी इमोशंस पसंद करते हैं.

–     इनके लिए सेक्स एक प्राइवेट, इमोशनल और पैशनेट अफेयर है, जो दो लोगों को दिल से जोड़ता है और जहां दिखावे की कोई ज़रूरत नहीं.

–     ये काफ़ी सेंसुअल और क्रिएटिव लवर्स माने जाते हैं.

–     रंग-बिरंगे फ्लावर्स, एक ख़ूबसूरत-सा गिफ्ट या फिर प्यार से बनाया हुआ खाना इनके मूड को सेट करने के लिए परफेक्ट चॉइस है, क्योंकि जब ये रोमांटिक मूड में होते हैं, तो अपना बेस्ट परफॉर्मेंस देते हैं.

–    अपनी सेक्स लाइफ में भी कंफर्ट और सेफ्टी को ये बहुत महत्व देते हैं. जिसके साथ ये सेफ महसूस करते हैं, उसी के साथ अपने सेक्सुअल रिलेशनशिप को आगे बढ़ाते हैं.

आइडियल पार्टनर: कर्क, वृश्‍चिक, मीन, वृष, कन्या और मकर राशिवाले.

सिंह (23 जुलाई-22 अगस्त)    

–     सिंह राशिवाले अपने चार्म से किसी को भी अपना दीवाना बना सकते हैं. इनकी पर्सनैलिटी में वो चुंबकीय आकर्षण होता है, जिससे बिरले ही बच पाते हैं.

–     इनकी सेक्स ड्राइव काफ़ी स्ट्रॉन्ग होती है. बस, इन्हें पार्टनर में रोमांटिक केमिस्ट्री नज़र आनी चाहिए, फिर देखिए इनका कमाल.

–     अपने पार्टनर को रिझाना-सताना, फोरप्ले इन्हें बेहद पसंद होता है. उन पर अपना जादू चलाने के लिए ये उन्हें हर तरह से उत्तेजित करते हैं.

–     बेड में इन्हें फनमेकिंग और शरारतें पसंद हैं.

–     इन्हें सेक्सुअल फैंटसीज़ को जीना अच्छा लगता है, इसीलिए इनकी सेक्स लाइफ काफ़ी फिल्मी होती है.

आइडियल पार्टनर: सिंह, मेष, धनु, तुला और कुंभ राशिवाले.

कन्या (23 अगस्त-22 सितंबर)    

–     कन्या राशिवालों का एनर्जी लेवल काफ़ी हाई होता है. यही वजह है कि इनकी सेक्स लाइफ हमेशा हॉट और स्पाइसी बनी रहती है.

–     इन्हें रिश्ते में ईमानदारी बेहद पसंद है, इसलिए पार्टनर से उम्मीद करते हैं कि वो सेक्स लाइफ में धोखा बिल्कुल न करे.

–     इस राशिवालों की ख़ासियत है कि ये सामने से भोले-भाले दिखाई देते हैं, पर बेड में ऐसे बिल्कुल नहीं हैं. इनकी सेक्स लाइफ काफ़ी रोमांचक होती है.

–     स्वभाव से परफेक्शनिस्ट होने के कारण सेक्स लाइफ में भी इन्हें परफेक्शन पसंद है. सेक्सुअल रिलेशन से पहले शावर लेना, साफ़-सुथरा माहौल और हाइजीन का ये बेहद ध्यान रखते हैं.

आइडियल पार्टनर: वृष, कन्या, मकर, कर्क, वृश्‍चिक और मीन राशिवाले.

यह भी पढ़ें: क्या होती है सेक्सुअल फिटनेस? (What Is Sexual Fitness?)

 Zodiac Sex Life
तुला (23 सितंबर-22 अक्टूबर)      

–     तुला राशिवालों को हर ख़ूबसूरत चीज़ पसंद आती है और यह इनकी रोमांटिक सेक्स लाइफ में भी नज़र आता है.

–     ख़ूबसूरत और सेक्सी इनरवेयर, रोमांटिक म्यूज़िक और चॉकलेट्स इन्हें उत्तेजित करने के लिए परफेक्ट चॉइस हैं.

–     सेक्स लाइफ में रोमांस इनकी प्राथमिकता है. नॉटी बातें, छेड़छाड़ और फोरप्ले इनकी सेक्स लाइफ को बूस्ट करते हैं.

–     सेक्सुअल रिलेशन में ये अपने पार्टनर की इच्छाओं का पूरा ध्यान रखते हैं. पार्टनर को ख़ुश करने के लिए कुछ नया और क्रिएटिव भी करते रहते हैं.

–     इनकी सेक्स ड्राइव इतनी स्ट्रॉन्ग होती है कि एक दिन में ये तीन बार भी रिलेशन बना सकते हैं.

आइडियल पार्टनर: मिथुन, तुला, कुंभ, मेष, सिंह और धनु राशिवाले.

वृश्‍चिक (23 अक्टूबर-21 नवंबर)   

–     सभी राशियों में वृश्‍चिक राशिवाले सबसे सेक्सी माने जाते हैं. इतना ही नहीं, इस राशि की महिलाओं को ‘सेक्स गॉडेस’ भी कहा जाता है.

–     ये उम्मीद करते हैं कि सेक्सुअल रिलेशन के दौरान इन्हें संतुष्ट करने के लिए इनका पार्टनर सब कुछ ट्राई करे.

–     अपने स्वभाव के कारण बेड में भी ये काफ़ी डॉमिनेटिंग होते हैं.

–     अगर आपका पार्टनर वृश्‍चिक राशिवाला है, तो आप नकली ऑर्गैज़्म से उन्हें संतुष्ट नहीं कर सकते, क्योंकि इस मामले में ये काफ़ी स्मार्ट होते हैं.

–     इनके लिए शारीरिक संबंध से पहले स्ट्रॉन्ग इमोशनल कनेक्शन बेहद ज़रूरी है.

आइडियल पार्टनर: कर्क, वृश्‍चिक, मीन, वृष, कन्या और मकर राशिवाले.

धनु (22 नवंबर-21 दिसंबर)

–     इस राशिवालों के लिए रोमांस का मतलब अपने पार्टनर के साथ क्वालिटी टाइम बिताना है. इस टाइम को ये मस्ती से भरपूर बनाने की पूरी कोशिश करते हैं.

–     इमोशनल रिलेशन की बजाय ये क्वालिटी टाइम में विश्‍वास रखते हैं, इसलिए इनकी सेक्स लाइफ काफ़ी प्रैक्टिकल होती है.

–     सेक्सुअल लाइफ में इन्हें फ्रीडम और ऐडवेंचर बेहद पसंद है. घर की चार दीवारों के अलावा पब्लिक प्लेसेस पर रोमांस करना इनका शग़ल है.

–     ये फनलविंग होते हैं, इसलिए सेक्सुअल रिलेशन को काफ़ी मज़ेदार बनाते हैं.

–     अगर आपका पार्टनर इस राशि का है, तो आपकी सक्सेसफुल सेक्स लाइफ का एक ही मंत्र होगा कि आप पज़ेसिव होने से बचें.

आइडियल पार्टनर: मेष, सिंह, धनु, मिथुन, तुला और कुंभ राशिवाले.

मकर (22 दिसंबर-19 जनवरी)

–    वृश्‍चिक राशिवालों की ही तरह मकर राशिवाले भी काफ़ी सेंसुअल और रोमांटिक माने जाते हैं.

–     इनके मुताबिक़ पैर और घुटने इनके शरीर के सबसे कामोत्तेजक अंग हैं और इन्हें उत्तेजित करना काफ़ी आसान है.

–     सभी को लगता है कि इस राशिवाले शर्मीले होते हैं, पर ऐसा है नहीं. एक बार अपने पार्टनर से दिल से जुड़ जाएं, फिर देखिए इनका कमाल.

–     ये काफ़ी प्रोटेक्टिव स्वभाव के होते हैं, इसलिए पब्लिक प्लेस की बजाय बेडरूम में रोमांस फरमाना पसंद करते हैं.

–     इनका सेक्सुअल स्टैमिना बेहतरीन होता है, तभी तो अपने साथ-साथ अपने पार्टनर को भी संतुष्ट करना अच्छी तरह जानते हैं.

आइडियल पार्टनर: वृष, कन्या, मकर, कर्क, वृश्‍चिक और मीन राशिवाले.

कुंभ (20 जनवरी-18 फरवरी) 

–     कुंभ राशिवाले बुद्धिमान और आदर्शवादी माने जाते हैं और बात जब सेक्स लाइफ की हो, तो यहां भी वफ़ादारी के मामले में ये सभी राशियों से बाज़ी मार ले जाते हैं.

–     लव लाइफ में इनकी कल्पनाशक्ति कमाल की होती है. इनके पार्टनर इनकी इमैजिनेशन की दाद देते हैं.

–     सेक्स लाइफ में कुछ नया और एक्साइटिंग करना इन्हें अच्छा लगता है, इसलिए अगर आपका पार्टनर इस राशि का है, तो आप भी कई सरप्राइज़ेस के लिए तैयार रहें.

–     इनकी सेक्स लाइफ काफ़ी रोमांचक होती है, क्योंकि ये बेड में कुछ न कुछ नया ट्राई करना पसंद करते हैं.

आइडियल पार्टनर: मिथुन, तुला, कुंभ, मेष, सिंह और धनु राशिवाले.

मीन (19 फरवरी-19 मार्च)

–    इस राशिवालों के लिए सेक्स का मतलब प्यार है, तभी तो इनकी सेक्स लाइफ रोमांस से भरपूर होती है.

–     ये काफ़ी पैशनेट लवर्स माने जाते हैं और अपनी ख़ुशी से ज़्यादा अपने पार्टनर की ख़ुशी का ख़्याल रहते हैं.

–     मीन राशिवालों में एक ग़ज़ब का चुंबकीय आकर्षण होता है, जिसके कारण बहुत से लोग इनकी मनमोहक छवि के आकर्षण में बंध जाते हैं.

–    इनके लिए किसिंग और हगिंग सेक्सुअल रिलेशन से भी ज़्यादा मायने रखती है.

–     पार्टनर की सेक्सुअल फैंटसीज़ को पूरा करने के लिए कुछ न कुछ नया करते हैं.

आइडियल पार्टनर: कर्क, वृश्‍चिक, मीन, वृष, कन्या और मकर राशिवाले.

– संतारा सिंह

यह भी पढ़ें: रोमांटिक लाइफ के लिए अपनाएं ये १२ सेक्स टिप्स (12 Sex Tips For Romantic Life)

रिश्तों में बढ़ रहा है जासूसी का चलन (Why People Are Hiring Detectives To Spy On Their Loved Ones)

Detective Rajani Pandit

जनम-जनम का बंधन कहा जाने वाला शादी का रिश्ता कई बार कुछ क़दम भी साथ नहीं चल पाता… कई बार बाद में पता चलता है कि ये शादी नहीं साजिश थी… शादी जैसे पवित्र रिश्ते में जब मिलता है धोखा, तो क्या होता है… ऐसे ही कुछ पेचीदा सवालों के जवाब जानने के लिए हम मिले देश की पहली महिला जासूस रजनी पंडित (Detective Rajani Pandit) से. रजनी पंडित (Detective Rajani Pandit) ने हमें बताया कि रिश्तों में बढ़ती धोखाधड़ी के कारण अब रिश्तों में जासूसी का ट्रेंड बढ़ गया है. जब रिश्ते में कहीं कोई गड़बड़ी नज़र आने लगती है, तो लोग उसकी सच्चाई जानने के लिए जासूसी का सहारा लेते हैं.

Detective Rajani Pandit

क्यों बढ़ रही है रिश्तों में जासूसी?
डिटेक्टिव रजनी पंडित (Detective Rajani Pandit) के अनुसार, कई लोग अपने रिश्तों के प्रति ईमानदार नहीं होते. उन्हें किसी की भावनाओं से कोई लेना देना नहीं होता. वो बड़ी ख़ामोशी से अपने रिश्तों को धोखा देते रहते हैं. लेकिन जब उन पर शक की सूई घूमने लगती है, तो सच्चाई उजागर करने के लिए जासूसी का सहारा लिया जाता है. डिटेक्टिव रजनी पंडित ने हमारे साथ रिश्तों में जासूसी के कुछ अजीबोगरीब केस कुछ इस तरह शेयर किए:

Detective Rajani Pandit

सोशल मीडिया का प्यार
62 वर्ष की एक बुजुर्ग महिला के पति का देहांत हो चुका था. फिर सोशल मीडिया पर अपने हमउम्र एक विदेश में रहने वाले पुरुष से उनकी दोस्ती हो गई. दोनों घंटों चैट करते रहते थे. विदेश में रहनेवाले उस पुरुष ने बताया कि उसका वहां बहुत बड़ा बिज़नेस है, लेकिन बच्चे अपनी दुनिया में व्यस्त रहते हैं इसलिए वो बहुत अकेलापन महसूस करते हैं. महिला की स्थिति भी कुछ ऐसी ही थी, उनके बच्चे विदेश में रहते थे इसलिए उनकी ज़िंदगी में भी बहुत अकेलापन था. जल्दी ही दोनों को महसूस होने लगा कि अब उन्हें साथ रहना चाहिए. महिला उनके साथ काफ़ी जुड़ाव महसूस करने लगी थी. वो उनके लिए काफ़ी महंगे गिफ्ट भी भेजा करती थी.
हां, जब बदले में उसे कोई गिफ्ट न मिलता तो उसे अजीब ज़रूर लगता, लेकिन उन्होंने सोचा, हर किसी का अपना स्वभाव होता है. शायद उन्हें गिफ्ट लेना-देना पसंद न हो. फिर एक बार पुरुष ने कहा कि वो उनसे मिलने इंडिया आ रहे हैं. वो उनसे मिलने के लिए बहुत ख़ुश थीं. फिर पुरुष ने उनसे एक बड़ा अमाउंट बैंक से निकालकर रखने को कहा. पूछने पर कहा कि मेरे लिए इतना अमाउंट यहां से लाना मुश्किल है इसलिए फिलहाल तुम निकाल लो. बाद में मैं तुम्हारे अकाउंट में ट्रांसफर कर दूंगा.

…और फिर शुरू हुई जासूसी
उन्हें ये बात बड़ी अजीब लगी कि इतना बड़ा बिज़नेसमैन पैसे क्यों नहीं ला सकता. उन्हें शक हुआ, तो उन्होंने ये बात डिटेक्टिव रजनी पंडित से शेयर की. जब रजनी की टीम ने उनकी छानबीन की, तो पता चला सोशल मीडिया पर जो फोटो थी, उससे इस आदमी का चेहरा मैच नहीं करता. वो 30-35 साल का युवा था और उसने उस बुजुर्ग महिला से पैसे ऐंठने के लिए वो फोटो लगा रखी थी.

क्या सबक लें?
अगर सही समय पर वो सतर्क न होतीं, तो वो उन्हें बेवकूफ़ बनाकर उनसे न जाने कितने पैसे ठग लेता. रजनी पंडित की टीम ने उस महिला से कहा कि आप उस आदमी की पुलिस कंप्लेंट करो, लेकिन उन्होंने ये कहकर मना कर दिया कि मेरे बेटे-बहू के सामने मेरी बेइज़्ज़ती हो जाएगी. इसलिए उन्होंने बात को वहीं दबा दिया. समाज के डर से महिलाएं आगे नहीं आतीं, अपने हक़ के लिए आवाज़ नहीं उठातीं, इसीलिए दोषियों का हौसला बढ़ता है और वे बार-बार क्राइम (अपराध) करते हैं.

यह भी पढ़ें: रिश्तों को आजकल हुआ क्या है? (What Is Wrong With Relationship These Days?)

 

लव, शादी और धोखा
अभिषेक का तलाक़ हो चुका था इसलिए माता-पिता ने उसके लिए दूसरी लड़की ढूंढ़ी और सबकी रजामंदी से उसकी दूसरी शादी हो गई. शादी के कुछ ही समय बाद अभिषेक को अपनी पत्नी के अ़फेयर की बात पता चली. सुनकर वो हैरान रह गया. उसने पत्नी से जब इस बारे में बात की, तो पत्नी ने कहा कि उसने माता-पिता के प्रेशर में आकर उससे शादी की, उसका शादी से पहले ही अफेयर चल रहा है. उसने अभिषेक से कहा कि वो उससे तलाक़ चाहती है. पत्नी की बातें सुनकर अभिषेक और परेशान हो गया. उसे समझ नहीं आ रहा था कि वो क्या करे. क्या वो एक बार फिर से तलाक़ ले? लेकिन बार-बार तलाक़ लेने से लोग उसे ही दोषी समझेंगे, ये सोचकर अभिषेक ने चुप रहना ही सही समझा.

…और फिर शुरू हुई जासूसी
पत्नी की हरकतें जब हद से ज़्यादा बढ़ने लगीं, तो अभिषेक ने जासूस रजनी पंडित से कॉन्टेक्ट किया. अभिषेक की पत्नी की जासूसी करने से पता चला कि उसका बॉयफ्रेंड बहुत नशा करता है और उससे अक्सर पैसे मांगता है. वो उसे अभिषेक से तलाक लेकर मोटी रकम बसूलने को कहता है.

क्या सबक लें?
सोच-समझकर रिश्ता तय करें. शादी के बाद तलाक लेने में बहुत मुश्किल होती है, दोनों परिवार डिस्टर्ब हो जाते हैं इसलिए शादी तय करते समय दोनों पक्षों पूरी जांच-पड़ताल कर लें.

Detective Rajani Pandit

जब टूटता है विश्‍वास
शाह परिवार को बहू के रूप में रुचिता बहुत पसंद थी. हां, रुचिता का मोटापा उनकी चिंता का कारण था, लेकिन उन्हें उसका व्यवहार इतना पसंद था कि उन्होंने शादी से पहले उसका वेट लॉस ट्रीटमेंट करवाया, ताकि उनके घर आकर या उनके रिश्तेदारों के बीच उठने-बैठने में उसे किसी तरह हीनभावना न हो. रुचिता ने भी ससुराल वालों के अनुरूप ख़ुद का मेकओवर किया. उसने फैशन डिज़ाइनिंग का कोर्स किया था इसलिए ससुराल वालों ने उसे बुटीक खोलकर दिया. लेकिन मेकओवर के बाद रुचिता का कॉन्फिडेंस इतना ज़्यादा बढ़ गया कि वो न स़िर्फ ज़रूरत से ज़्यादा छोटे कपड़े पहनने लगी, बल्कि शराब भी पीने लगी थी. साथ ही वो काम का हवाला देकर देर रात घर आने लगी.

…और फिर शुरू हुई जासूसी
बहू में आये इस बदलाव को देखकर ससुराल वालों को शक हुआ और उन्होंने रुचिता की जासूसी करवाई. तब पता चला कि उसकी दोस्ती अच्छे लोगों के साथ नहीं है. वो देर रात तक ऐसे लोगों के साथ घूमती-फिरती है, जिनके लिए रोज़ पार्टी, शराब और जिस्मानी रिश्ता आम बात है.

क्या सबक लें?
किसी पर भी आंख मूंदकर विश्‍वास न करें. यदि परिवार के किसी सदस्य में अचानक ऐसे बदलाव नज़र आएं, जो अजीबोगरीब हों, तो इस बात को नज़रअंदाज़ न करें. इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, सचेत होना ज़रूरी है.

यह भी पढ़ें: रिश्ते में बर्दाश्त न करें ये 10 बातें (10 Things Never Adjust In A Relationship)

 

जब बीवी करे ब्लैकमेल
वैभव शादी के बाद बीवी को लेकर विदेश गया. कुछ समय तक तो सबकुछ नॉर्मल था. नियमित रूप से वो अपने माता-पिता को इंडिया में फोन करता था, फिर अचानक सब बंद हो गया. वैभव कहां है, क्या कर रहा है, उसकी पत्नी कैसी है… कोई ख़बर नहीं.

…और फिर शुरू हुई जासूसी
जब बेटे की कोई ख़बर न मिली, तो वैभव के माता-पिता ने जासूस रजनी पंडित की टीम से उसके बारे में पता करने को कहा. रजनी पंडित की टीम ने जब वहां जाकर पता किया तो पता चला कि वैभव अपने माता-पिता को भी अपने साथ बुलाना चाहता था. उनके पेपरवर्क की तैयारी कर रहा था, लेकिन उसकी बीवी ऐसा नहीं चाहती थी इसलिए उसने वैभव को धमकी दी कि यदि उसने अपने पैरेंट्स को बुलाया, तो वो उसे तलाक़ दे देगी. पत्नी के डर से वैभव ने घर फोन करना ही छोड़ दिया.

क्या सबक लें?
डरकर न रहें. अपनी बात परिवार के साथ शेयर करें. यदि आपका पति या पत्नी आप पर ग़लत काम के लिए दबाव डालें, तो पहले उन्हें समझाने की कोशिश करें. इससे भी बात न बने, तो काउंसलर या एक्सपर्ट का सहारा लें.

रिश्तों में जासूसी के ऐसे कई केस अब एक्सपर्ट्स के पास आ रहे हैं और रिश्तों में जासूसी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. बदलती लाइफ स्टाइल ने रिश्तों के मायने बदल दिए हैं. अब रिश्तों में न पहले जैसा समर्पण नज़र आता है और न विश्‍वास इसीलिए रिश्तों में जासूसी का ट्रेंड बढ़ रहा है.

– कमला बडोनी

लव से लेकर लस्ट तक… बदल रही है प्यार की परिभाषा (What Is The Difference Between Love And Lust?)

लव (Love) से लेकर लस्ट तक, प्यार (Love) से लेकर सेक्स (Sex) तक… आज की पीढ़ी को सबकुछ फटाफट चाहिए. इनकी इंस्टेंट लव स्टोरी में सब्र जैसे शब्द के लिए कोई जगह नहीं. आज की युवा पीढ़ी के लिए सेक्स अब बंद कमरे में ढंके-छुपे तौर पर डिस्कस की जाने वाली चीज़ नहीं रही, अब लोग खुलकर अपनी सेक्स डिज़ायर को जाहिर करते हैं और इसे पाने के लिए उन्हें रिश्ते में बंधने का सब्र भी नहीं है. भूख-प्यास की तरह जब सेक्स की चाह हो, लोग इसे पाना चाहते हैं और इसके लिए उन्हें इंतज़ार करना मंज़ूर नहीं. सेक्स में नैतिकता जैसी बातें अब बहुत पुरानी हो गई हैं, आज की पीढ़ी इसे फिज़िकल हंगर से जोड़कर देखती है. बदलाव की ये लहर आख़िर हमें कहां ले जा रही है?

Love And Lust

सेक्स चाहिए, पर बंधन नहीं
साइकोलॉजिस्ट डॉ. माधवी सेठ कहती हैं, आज के कई युवाओं को लगता है कि जब सेक्स आसानी से उपलब्ध है तो शादी के बंधन में में क्यों बंधें? आज की पाढ़ी की शहनशक्ति कम हो गई है, वो किसी भी मामले में एडजस्ट करने को तैयार नहीं, इसीलिए तलाक़ के केसेस बढ़ने लगे हैं. फिर पैरेंट्स भी बच्चों के तलाक़ पर बहुत ज़्यादा हो-हल्ला नहीं मचाते. पहले तलाक़ सोशल स्टिगमा समझा जाता था, लेकिन अब तलाक़ होना बड़ी बात नहीं समझी जाती. तलाक के प्रति लोगों की एक्सेप्टेबिलिटी बढ़ गई है. अब ये नहीं समझा जाता कि तलाक़ के बाद ज़िंदगी खराब हो गई. इसी तरह आज से 10 साल पहले शादी करना ज़रूरी समझा जाता था, लेकिन अब ऐसा नहीं है. अब कोई शादी नहीं करना चाहता तो लोगों को इसमें कोई आश्‍चर्य नहीं होता.

पार्टनर नहीं, पैकेज चाहिए
आजकल प्यार, शादी, बच्चे सबकुछ नाप-तौल कर होता है. लोगों को लाइफ पार्टनर नहीं, कंप्लीट पैकेज चाहिए, जो उनकी शारीरिक, मानसिक, आर्थिक, सामाजिक हर ज़रूरत पूरी करे. जब दिल का रिश्ता ही शर्तों पर हो, तो उसके टिकने की उम्मीद कितनी की जा सकती है. यही वजह है कि आजकल के रिश्ते टिकाऊ नहीं हैं. इन रिश्तों में प्यार के अलावा बाकी सबकुछ होता है इसीलिए प्यार की तलाश बाकी रह जाती है और एक्स्ट्रा मैरिटल रिश्ते बन जाते हैं.

शादी की परिभाषा बदल गई है
साइकोलॉजिस्ट डॉ. माधवी सेठ कहती हैं, पहले शादी के बाद एक-दो साल पति-पत्नी एक-दूसरे को समझने में गुजार देते थे. सेक्स का नया-नया अनुभव उनके रिश्ते में रोमांच बनाए रखता था. फिर बच्चे, उनकी परवरिश, नाते-रिश्तेदार… लंबा समय गुजर जाता था इन सब में. आज के कई युवा शादी के पहले ही सेक्स का अनुभव ले चुके होते हैं, उस पर करियर बनाने के चलते शादियां देर से हो रही हैं, ऐसे में शादी में उन्हें कोई रोमांच नज़र नहीं आता. उन्हें शादी स़िर्फ ज़िम्मेदारी लगती है इसलिए वो शादी से कतराने लगते हैं.
इसका एक बड़ा नुक़सान ये भी है कि युवा जब सेक्स पर जल्दी एक्सपेरिमेंट करते हैं तो इससे जल्दी ऊब भी जाते हैं और 40 की उम्र तक उनकी सेक्स लाइफ बोरिंग हो जाती है. उनका ज़िंदगी से लगाव कम हो जाता है. कोई थ्रिल नहीं रहता.
अब शादी की परिभाषा बदल गई है. लेट मेरिज, लेट चिल्ड्रेन (कई कपल तो बच्चे भी नहीं चाहते), वर्किंग कपल, न्यूक्लियर फैमिलीज़… समय के साथ परिवार का ढांचा और उसकी ज़रूरतें बदल गई हैं. बदलाव की ये लहर बहुत कुछ बदल रही है. 10 साल पहले जहां लोग इंटर कास्ट मैरिज को पचा नहीं पाते थे, अब सहजता से लेने लगे हैं. इसी तरह अब एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर, लिव इन रिलेशन जैसी बातें भी लोगों को चौंकाती नहीं हैं.

यह भी पढ़ें: बेहतर सेक्स लाइफ के 10 सीक्रेट्स (10 Secrets For Better Sex Life)

 

बढ़ रहे हैं एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स
काम के बढ़ते घंटे, ऑफिस में महिला-पुरुष का घंटों साथ काम करना, पति-पत्नी की असंतुष्ट सेक्स लाइफ आदि के कारण एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स की तादाद बढ़ रही है. कई पति-पत्नी सेक्स का पूरा आनंद नहीं ले पाते (ख़ासकर महिलाएं), फिर भी पार्टनर को ख़ुश करने के लिए झूठ बोलते हैं. ऐसे में जब आप अपनी सेक्स लाइफ़ से संतुष्ट ही नहीं हैं, तो आपका ध्यान यहां-वहां भटकेगा ही. अंतरंग रिश्ते में भी हम मुखौटा ओढ़ लेते हैं, तो संतुष्टि मिलेगी कैसे? ऐसे असंतुष्ट कपल्स जहां भी भावनात्मक सहारा पाते हैं, वहीं शारीरिक रूप से भी जुड़ जाते हैं. पति, बच्चे, घर-परिवार, ऑफिस सभी जगह मैकेनिक लाइफ जी रही महिलाएं जाने-अनजाने घर के बाहर सुकून तलाशने की चाह में मन के साथ-साथ तक का रिश्ता भी जोड़ लेती हैं.

Love And Lust

सेक्स का विकृत रूप सामने आया है
मीडिया प्रोफेशनल अरुण कुमार कहते हैं, हमारे देश में आज भी लोग सेक्स पर बात करने से तो कतराते हैं, लेकिन हर पहलू को घोलकर पी जाना चाहते हैं. पहले भी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर होते थे, पति नपुंसक हो तो परिवार के किसी और सदस्य के साथ सेक्स करके बच्चा पैदा किया जाता था, लेकिन तब इन बातों पर इतना हो-हल्ला नहीं मचाया जाता था. अब सेक्स को एक प्रोडक्ट के रूप में देखा जाने लगा है. सेक्स टॉनिक, कंडोम आदि बेचने वाली कंपनियां अपने विज्ञापनों में स्त्री के शरीर को अश्‍लील रूप में पेश करके सेक्स को भुनाती हैं, ऐसे विज्ञापान युवाओं को सेक्स पर एक्सपेरिमेंट करने के लिए उकसाते हैं. बदलते परिवेश में सेक्स विकृत रूप में सामने आ रहा है, तभी तो बाप ने बेटी का रेप कर दिया, भाई-बहन के शारीरिक संबंध बन गए जैसी ख़बरें देखने-सुनने को मिलती हैं. हम लोग सेक्स पर खुलकर बात करने से जितना ज़्यादा कतराते हैं, इसका उतना ही विभत्स रूप हमारे सामने आता है. हर कोई जैसे इसी में उलझ कर रह जाता है, सेक्स पर हर तरह की रिसर्च कर लेना चाहता है.

सेक्स में संतुष्टि ज़रूरी है
बैंक कर्मचारी रोहित सिंह कहते हैं, सेक्स अब इतनी छोटी चीज़ हो गई है कि किसी को नीचा दिखाने, बदला लेने, अपना कोई काम निकालने, झूठी शान बघारने, प्रमोशन पाने तक के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है. सेक्स को साधना के रूप में किया जाए तो इसके आनंद को समझा जा सकता है. जो मिला उसी से शारीरिक संबंध बना लिया, नोच-खंसोटकर, बलात्कार करके शारीरिक भूख मिटा ली, ऐसा करके कभी तृप्ति नहीं मिलती, बल्कि लालसा बढ़ती जाती है और व्यक्ति इसी में उलझकर रह जाता है.

यह भी पढ़ें: सेक्सुअल परफॉर्मेंस बढ़ाने के 10 मैजिक ट्रिक्स (10 Magic Tricks For Best Sexual Performance)

 

ये है सेक्स का सच
* 33 प्रतिशत महिलाएं मानती हैं कि शादी के कुछ सालों बाद उनकी सेक्स लाइफ बोरिंग हो गई है.
* 60% पुरुष चाहते हैं कि सेक्स के लिए महिला पहल करे.
* हर पुरुष हर सात मिनट में कम से कम एक बार सेक्स के बारे में ज़रूर सोचता है.
* पुरुष तथा महिलाएं दोनों ही एक दिन में कई बार ऑर्गेज़्म का अनुभव कर सकते हैं.
* जर्नल ऑफ सेक्सुअल मेडिसिन में छपी रिपोर्ट के अनुसार, बर्थ कंट्रोल पिल्स लेने से महिलाओं में सेक्स करने की इच्छा कम हो जाती है.
* एक रिसर्च के अनुसार, कॉलेज के दौरान जो लड़के सेक्स में लिप्त रहते हैं, वे अक्सर डिप्रेशन में चले जाते हैं. जबकि सेक्स न करने वाले विद्यार्थी नॉर्मल रहते हैं.
* ऐसे पुरुष जिनके अनेक स्त्रियों से संबंध होते हैं, वे सेक्स को बहुत महत्वपूर्ण तो समझते हैं, लेकिन अपने रिलेशनशिप से पूरी तरह संतुष्ट नहीं रहते.
* जो पुरुष ज़्यादातर सेक्सुअल फैंटेसी में रहते हैं, वे अपने रोमांटिक रिलेशनशिप से कम संतुष्ट रहते हैं.

– कमला बडोनी

ये प्यार इतना कॉम्प्लिकेटेड क्यों है? जानने के लिए देखें वीडियो:

 

5 शिकायतें हर पति-पत्नी एक दूसरे से करते हैं (5 Biggest Complaints Of Married Couples)

5 शिकायतें हर पति-पत्नी एक दूसरे से करते हैं और यही शिकायतें उनके बीच नोकझोंक की वजह भी बनती हैं. वो कौन-सी 5 शिकायते हैं जो हर कपल एक-दूसरे से करता है? आइए, हम आपको बताते हैं.

Complaints Of Married Couples

1) तुम अब पहले जैसे नहीं रहे
शादी के कुछ साल बाद हर शादीशुदा जोड़े की यही शिकायत रहती है. शादी के शुरुआती सालों में तो सब कुछ अच्छा लगता है, लेकिन साल-दो साल में ही मुहब्बत की स्किप्ट कमज़ोर पड़ने लगती है. दूसरे शब्दों में कहें तो तुम्हारे दीदार से सुबह की शुरुआत हो, तुम्हारे पहलू में ही हर शाम ढले के दावे धीरे-धीरे दम तोड़ने लगते हैं. शादी के बाद घर-परिवार की ज़िम्मेदारियों के बोझ तले मुहब्बत अपना असर खोने लगती है और एक-दूसरे में सिर्फ ख़ूबियां ढूढ़ने वाले शख़्स बात-बात पर एक-दूसरे की ख़ामियां गिनाने लगते हैं.

2) तुम अब मुझे पहले जैसा प्यार नहीं करते
शादी के कुछ साल बात पति-पत्नी की एक-दूसरे से शिकायत रहती है कि वो अब अपने पार्टनर को पहले जैसा प्यार नहीं करते. ऐसा क्यों होता है, इसका भी एक वैज्ञानिक कारण है. रॉबर्ट फ्रेयर द्वारा किये गए प्रयोगों के अनुसार, जब किसी को प्यार हो जाता है तो एक ख़ास तरह के न्यूरो कैमिकल फ़िनाइल इथाइल अमीन की वजह से उसे प्रेमी/प्रेमिका में ख़ामियां नज़र आना बंद हो जाता है. लेकिन यह रसायन हमेशा एक ही स्तर पर नहीं रहता. एक-दो बाद साल शरीर में इसका स्तर कम होता जाता है और चार-पांच साल बाद इसका प्रभाव शरीर पर बिल्कुल बंद हो जाता है. अतः इसके उतार-चढ़ाव का प्रभाव प्रेमियों के स्वभाव में भी साफ़ नज़र आता है. यानी जब प्रेम का उफान कम होने लगता है तो एक-दूसरे की ख़ूबियां ख़ामियों में बदलने लग जाती हैं.

3) तुम से कुछ उम्मीद करना ही बेकार है
पति-पत्नी की शिकायतों में से ये भी एक आम शिकायत है. एक-दूसरे पर दोषारोपण की एक ख़ास वजह होती है पति-पत्नी की एक-दूसरे से ज़रूरत से ़ज़्यादा उम्मीदें, जिसमें महिलाएं पुरुषों से कहीं आगे होती हैं. पुरुष पत्नी के साथ वैसा ही व्यवहार करता है, जैसा उसने अपने पिता का मां के प्रति देखा था, लेकिन पत्नी उसे एक अच्छे दोस्त, बहुत प्यार करने वाले प्रेमी, जिम्मेदार पिता के रूप में देखना चाहती है. क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट सीमा हिंगोरानी कहती हैं, हमारे पास ऐसे कई केस आते हैं जहां बीवी की शिक़ायत होती है कि पति उसका हाथ नहीं पकड़ते, ऑफ़िस जाते समय उसे किस नहीं करते. जबकि पुरुष की शिकायत होती है कि बीवी ज़रूरत से ज़्यादा उम्मीदें रखती है. दरअसल, स्त्री-पुरुष के ब्रेन की वायरिंग ही अलग-अलग होती है. पत्नी चाहती है कि पति उसे दिन में 2-3 बार फ़ोन करे, एसएमएस करे, जबकि पति को लगता है कि जब शाम को घर ही जाना है तो फ़ोन या एसएमएस की ज़रूरत क्या है.

यह भी पढ़ें: 10 झूठ पति-पत्नी एक दूसरे से बोलते हैं (10 Lies Husband And Wives Tell Each Other)

 

4) तुम्हें तो मुझमें स़िर्फ कमियां नज़र आती हैं
शादी के कुछ समय बाद पति-पत्नी हर बात में एक-दूसरे की कमियां गिनाने लगते हैं. ऐसा वो जानबूझकर या सोच-समझकर नहीं करते, लेकिन फिर भी उनकी शिकायतें बनी रहती हैं. एक ऐड एजेंसी में कार्यरत मेघना पुरी कहती हैं, पुरुष समझते हैं कि पत्नी को हमेशा उनसे शिकायत रहती है, लेकिन इसके पीछे वजह भी तो साफ़ है, क्योंकि तकलीफ़ पत्नियों को ही ज़्यादा होती है. आज ज़्यादातर औरतें घर, ऑफिस, फायनांस सारा कुछ एक साथ संभाल रही हैं, इसके बावजूद उनकी स्थिति पहले जैसी, बल्कि पहले से बदतर हो गई है. उनकी एडिशनल ज़िम्मेदारियों को तो पति एक्सेप्ट कर लेते हैं, बाहरी दुनिया में उनसे मॉडर्न अप्रोच भी रखते हैं, लेकिन जहां घर की बात आती है तो उन्हें वैसी ही पारंपरिक पत्नी चाहिए होती हैं जैसी उनकी मां या दादी थीं.

5) तुम मुझे चैन से जीने क्यों नहीं देती?
शादी के बाद लगभग हर पुरुष की ये शिकायत होती है कि उनकी बीवी बात-बात में उन्हें टोकती है, उन्हें आज़ादी से जीने नहीं देती. ऐसे में पुरुष या तो पत्नी से झूठ बोलकर मनमानी कर लेते हैं या फिर ढीठ बन जाते हैं. एक प्राइवेट फ़र्म में कार्यरत प्रणव सिन्हा कहते हैं, जहां तक फ्रीडम की बात है तो मुझे इसमें किसी का हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं. मैं प्राची (पत्नी) के पर्सनल मैटर में ख़ुद भी हस्तक्षेप नहीं करता, लेकिन जब वो इतनी स्मोकिंग क्यों करते हो, तुम्हारा यूं रात-रात तक दोस्तों से घिरे रहना मुझे बिल्कुल पसंद नहीं, तुम्हारे ऑफ़िस की लड़कियां इतनी रात गये फोन क्यों करती हैं, इतना वल्गर एसएमएस किसने भेजा जैसी बेहूदा कम्प्लेंट्स करती है तो मैं चिढ़ जाता हूं. भई मैं क्यों किसी के लिए अपनी ख़ुशी को दांव पर लगाऊं, फिर चाहे वो मेरी पत्नी ही क्यों न हो.

यह भी पढ़ें: ये 7 राशियां होती हैं मोस्ट रोमांटिक (7 Most Romantic Zodiac Signs)

 

प्यार जताने या एक-दूसरे पर दोषारोपण करने का सभी कपल्स का तरीक़ा भले ही अलग-अलग हो, लेकिन ये बात तो तय है कि जब भी पार्टनर से ज़रूरत से ज़्यादा उम्मीद की जाती है तब रिश्ते में कड़ुवाहट का सिलसिला भी शुरू हो जाता है. प्यार के इतिहास, भूगोल पर टीका-टिप्पणी किये बिना यदि प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो की तर्ज़ पर स़िर्फ महसूस किया जाए या निभाया जाए तो शायद हम प्यार के इस ख़ूबसूरत रिश्ते का उम्रभर लुत्फ़ उठा सकते हैं.

प्यार में आसक्ति ज़रूरी है 
रटगर्स यूनिवर्सिटी की शोधकर्ता और ‘व्हाई वी लव’ किताब की लेखिका हेलन फिशर के अनुसार, प्यार हमारे पास तीन रूपों में आता है. पहला वासना, दूसरा चाहत और तीसरा आसक्ति. वासना और चाहत तो समय के साथ ख़त्म होने लगते हैं, लेकिन यही चाहत यदि आसक्ति में बदल जाए तो फिर यह बंधन ज़िंदगीभर का साथ बन जाता है.

यह भी पढ़ें: पुरुषों में होते हैं महिलाओं वाले 10 गुण (10 Girly Things Men Do And Are Proud To Admit)

 

सीखें प्यार निभाने के 5 असरदार तरी़के
1) ज़रूरत से ज़्यादा अपेक्षाओं से बचें.
2) प्यार करें, अधिकार जताएं, पर हुकूमत न करें.
3) पति-पत्नी के परंपरागत फ्रेम से बाहर निकलकर अच्छे दोस्त बनें.
4) पज़ेसिव होने से बचें.
5) क़रीब रहें, पर इतना भी नहीं कि सांस लेना मुश्क़िल लगने लगे. रिश्तों के स्पेस को समझें.

– कमला बडोनी

ये प्यार इतना कॉम्प्लिकेटेड क्यों है? जानने के लिए देखें वीडियो:

सेक्स पावर बढ़ाने के 5 चमत्कारी उपाय (5 Home Remedies To Increase Your Sexual Power)

सेक्स पावर बढ़ाने के 5 चमत्कारी उपाय आपकी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाते हैं. आप भी सेक्स पावर बढ़ाने के 5 चमत्कारी उपाय अपनाएं और अपनी लव लाइफ में रोमांच के पल बढ़ाएं. सेक्स पावर बढ़ाने के लिए आपको क्या करना है? आइए, हम आपको बताते हैं.

Increase Your Sex Power

सेक्स पावर बढ़ाने के 5 चमत्कारी उपाय:
1) लहसुन को सेक्स शक्ति बढ़ाने और सेक्स संबंधी कमज़ोरी को दूर करने में बहुत उपयोगी माना जाता है. लहसुन की दो-तीन कलियां रोज़ाना खाने से सेक्स क्षमता बढ़ती है.
2) प्याज़ भी सेक्स शक्ति बढ़ाने में काफ़ी सहायक है, ख़ासतौर से स़फेद प्याज़. जिन्हें सेक्स संबंधी कोई भी कमज़ोरी हो, उन्हें प्याज़ का सेवन करना चाहिए. 6 मि.ली. प्याज़ का रस, 3 ग्राम घी और ढाई चम्मच शहद एक साथ मिलाकर रोज़ सुबह-शाम पीकर ऊपर से शक्कर मिला हुआ दूध पीएं. यह प्रयोग 2-3 महीनों तक करने से वीर्य में वृद्धि होती है और सेक्स शक्ति बढ़ती है.
3) दिन में दो बार जामुन खाने से भी काफ़ी फ़ायदा होता है.
4) 200 मि.ली. गाय के दूध में एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से वीर्य की कमी पूरी होती है.
5) 15 ग्राम स़फेद मूसली की जड़ को 1 कप दूध में उबालकर दिन में दो बार लें. इसके नियमित सेवन से नपुंसकता और शीघ्रपतन से छुटकारा मिलता है.

यह भी देखें: बेस्ट सेक्स एक्सपीरियंस के लिए अपनाएं ये नॉटी बातें (Must Do Naughty Things For Best Ever Sex Experience)

 

सेक्स शक्ति बढ़ाने के अन्य घरेलू नुस्ख़े:
* सेक्स इच्छा बढ़ाने के लिए 150 ग्राम गाजर को काटकर हाफ बॉयल्ड अंडा और 1 टेबलस्पून शहद मिलाकर दो महीने तक दिन में एक बार खाएं.
* सर्दी के मौसम में सुबह दो-तीन खजूर को घी में भूनकर नियमित रूप से खाएं.
* 1 ग्राम जायफल का चूर्ण सुबह ताज़े पानी के साथ लेने से सेक्स क्षमता बढ़ती है.
* सेक्स शक्ति को बढ़ाने के लिए रोज़ाना 100 ग्राम छुहारे खाएं.
* कूटे हुए छुहारे, बादाम, पिस्ता व बेल फल के बीज को समान मात्रा में मिलाकर खाने से भी सेक्स संबंधी कमज़ोरी दूर होती है.
* कुछ मुनक्कों को अच्छी तरह से पानी से धोकर दूध में उबालें. इससे वो फूलकर मीठे हो जाएंगे. इन्हें खाने के बाद दूध भी पी लें.
* सुबह नाश्ते में एक ग्लास टमाटर के रस में थोड़ा-सा शहद मिलाकर पीने से शरीर की शक्ति बढ़ती है.
* 1 टीस्पून कटी हुई हरी धनिया को एक कप पानी में 15 मिनट तक ढंककर उबालें. इसे छानकर 2-4 टेबलस्पून दिन में एक बार लें.

यह भी देखें: कंडोम से जुड़े 10 Interesting मिथ्स और फैक्ट्स (10 Interesting Myths And Facts Related To Condoms)
सेक्स पावर बढ़ाने के 5 चमत्कारी उपाय जानने के लिए देखें वीडियो:

 

10 झूठ पति-पत्नी एक दूसरे से बोलते हैं (10 Lies Husband And Wives Tell Each Other)

10 झूठ पति-पत्नी एक दूसरे से बोलते हैं…. जी हां, ये बिल्कुल सच है. पति-पत्नी के बीच जितना प्यार होता है, तकरार भी उतनी ही ज़्यादा होती है. और झूठ… इसकी तो कोई सीमा नहीं. पति-पत्नी इतनी सफ़ाई से एक-दूसरे से झूठ बोलते हैं कि पकड़े जाने की कोई गुंजाइश ही नहीं बचती. वो कौन-से झूठ हैं, जो पति-पत्नी अक्सर एक-दूसरे से कहते हैं? आइए, हम आपको बताते हैं.

Couple Lies

10 झूठ जो पति कहते हैं पत्नी से
पति कभी बीवी को सताने के लिए, तो कभी ख़ुद को बीवी के तानों से बचाने के लिए अक्सर अपनी पत्नी से झूठ बोलते हैं. वो कौन-से झूठ हैं जो पति अक्सर अपनी पत्नी से कहते हैं? आइए, जानते हैं:

Lies

1) बस यूं ही नज़र पड़ गई उस लड़की पर
ख़ूबसूरत महिलाओं को देखते ही पुरुष उन्हें निहारने से ख़ुद को नहीं रोक पाते. भले ही उनकी नीयत ख़राब न हो, लेकिन सुंदर महिलाओं को निहारना पुरुषों की कमज़ोरी है. जब तक वे पकड़े नहीं जाते, तब तक तो सब ठीक चलता है, लेकिन जैसे ही उनकी यह चोरी उनकी पत्नी पकड़ लेती है, तो वे तुरंत झूठ बोल देते हैं कि मैं तो बस उस तरफ़ देख ही रहा था कि उस लड़की पर नज़र पड़ गई. मैं उसे बुरी नज़र से नहीं देख रहा था. इतनी ख़ूबसूरत बीवी के होते हुए भला मैं किसी और को क्यों निहारुंगा.

2) मैं तो ऑफिस में था, दोस्तों के साथ नहीं
पति के दोस्तों से पत्नी को सख़्त चिढ़ होती है, क्योंकि जब वे अपने दोस्तों के साथ होते हैं, तो पत्नी को बिल्कुल भूल ही जाते हैं. दोस्तों के साथ उनके पति हर चीज़ की अति करते हैं, फिर चाहे लेट नाइट पार्टी करना हो, ड्रिंक करना हो, जंक फूड खाना हो या घूमने जाना हो, दोस्तों के साथ उनका किसी चीज़ पर कोई कंट्रोल नहीं रहता. ऐसे में जब पत्नी उन्हें दोस्तों के साथ जाने से रोकती है, तो ऑफिस से दर से घर आने पर वे अक्सर पत्नी से झूठ बोल देते हैं कि मैं तो ऑफिस में था, दोस्तों के साथ नहीं.

3) तुम बहुत ख़ूबसूरत हो
अपनी तारीफ़ सुनना हर औरत को बहुत पसंद होता है और पति ये बात अच्छी तरह जानते हैं. पत्नी को ख़ुश रखने और उससे अपनी हर बात मनवाने के लिए वे अक्सर इस हथियार का इस्तेमाल करते हैं. पुरुषों को जब भी पत्नी से कोई काम करवाना होता है या अपनी किसी ग़लती के लिए उसे मनाना होता है, तो वे उसकी तारीफ़ करने लगते हैं, अपनी तारीफ़ सुनकर पत्नी पिघल जाती है और पति का काम आसान हो जाता है.

4) ये काम कल ज़रूर कर दूंगा
महिलाएं जिस तरह घर की छोटी-छोटी चीज़ों का ध्यान रखती हैं, पुरुष ऐसा नहीं कर पाते. हालांकि वे ऐसा जान-बूझकर नहीं करते, फिर भी घर कामों में उनसे लापरवाही हो ही जाती है. ऐसे में जब वे पत्नी द्वारा बताया कोई काम करना भूल जाते हैं, तो पत्नी की डांट से बचने के लिए तुरंत बोल देते हैं कि मैं ये काम कल ज़रूर कर लूंगा, लेकिन ऐसा होता नहीं है.

5) सॉरी, आगे से ऐसा कभी नहीं होगा
पत्नी का जन्मदिन, शादी की एनीवर्सरी, बच्चे के स्कूल की पैरेंट्स-टीचर मीटिंग… ऐसे कई ज़रूरी मौ़के पुरुषों को अक्सर याद नहीं रहते. वे ऐसा जान-बूझकर नहीं करते और न ही उनके प्यार में कोई कमी होती है, वो अनजाने में ही भूल जाते हैं. ऐसे में जब पत्नी को ग़ुस्सा आता है, तो उसे मनाने के लिए पुरुष पत्नी से झूठ बोल देते हैं कि आगे से ऐसा कभी नहीं होगा, लेकिन ऐसा होता नहीं, पुरुषों की भूलने की फितरत जारी रहती है.

यह भी पढ़ें: ये 7 राशियां होती हैं मोस्ट रोमांटिक (7 Most Romantic Zodiac Signs)

 

6) मैं बिल्कुल नहीं बदला
शाद के शुरुआती दिनों में पत्नी को ख़ुश रखने के पति आसमान से चांद-तारे तोड़कर लाने तक की बात कर लेते हैं. पत्नी को ख़ुश रखने के लिए हर मुमकिन कोशिश करते हैं, जैसे- हर रोज़ ऑफ़िस से जल्दी घर आना, बात-बात पर सरप्राइज़ देना, बाहर घुमाने ले जाना, कार का दरवाज़ा खोलना आदि. फिर शादी के कुछ साल बीतते ही ये सारी चीज़ें अचानक ख़त्म हो जाती हैं. ऐसे में जब पत्नी शिकायत करती है कि अब तुम बदल गए हो, तो पति इस बात से साफ़ मुकर जाते हैं और झूठ बोलते हैं कि मैं बिल्कुल नहीं बदला.

7) उस लड़की से अब मेरा कोई रिश्ता नहीं
लड़कियों के मामले में कुछ पुरुष अपने बीते हुए कल और आज दोनों को साथ लेकर चलना चाहते हैं यानी शादी के बाद भी अपनी एक्स गर्लफ्रेंड से मिलना-जुलना जारी रखते हैं. ऐसे में जब कभी वे पकड़े जाते हैं, तो ख़ुद को बचाने के लिए पत्नी से झूठ बोल देते हैं कि उस लड़की से अब मेरा कोई रिश्ता नहीं है.

8) मैं बिल्कुल ठीक हूं
पुरुषों को बचपन से ये सिखाया जाता है कि वे स्ट्रॉन्ग हैं, उन्हें कभी भी, किसी के भी सामने कमज़ोर नहीं पड़ना चाहिए. ऐसे में शादी के बाद जब भी ऐसा मौक़ा आता है जहां पुरुष ख़ुद को कमज़ोर पाता है, तो वह पत्नी को अपनी यह कमज़ोरी नहीं बताना चाहता, इसलिए जब पत्नी कुछ पूछती है, तो पति साफ़ झूठ बोल देता है कि मैं बिल्कुल ठीक हूं.

9) मुझे पता है, तुम्हें बताने की ज़रूरत नहीं
पुरुषों को ये भी बचपन से सिखाया जाता है कि वे घर के मुखिया हैं और घर के सभी निर्णय वे ले सकते हैं. ऐसे में शादी के बाद जब कभी किसी ज़रूरी निर्णय पर पत्नी अपनी राय देना चाहती है, तो कई बार पत्नी की राय से सहमत होते हुए भी पति उसे ये ज़ाहिर नहीं होने देते कि वो सही बोल रहे हैं. ऐसे में पत्नी का मुंह बंद कराने के लिए पति उससे झूठ बोलते हैं कि मुझे तुमसे पूछने की ज़रूरत नहीं है, मैं जानता हूं कि मुझे क्या करना है.

10) मैं सब संभाल सकता हूं
भारतीय समाज में पुरुषों को महिलाओं से ऊंचा दर्जा मिला है. घर की पहली और महत्वपूर्ण इकाई पुरुष ही माने जाते हैं. पति ये बख़ूबी जानते हैं कि घर का कोई भी काम पत्नी के बिना नहीं हो सकता, फिर भी वो उसके सामने ये झूठ बोलने से नहीं कतराते कि वो सब कुछ संभाल लेंगें, क्योंकि घर के बॉस हैं वो.

यह भी पढ़ें: पुरुषों में होते हैं महिलाओं वाले 10 गुण (10 Girly Things Men Do And Are Proud To Admit)

Husband And Wives

10 झूठ जो पत्नी कहती है पति से
यदि आपको लगता है कि आपकी बीवी आपसे कभी झूठ नहीं बोलती, तो आप ग़लतफ़हमी में हैं, क्योंकि बीवियां भी झूठ बोलने में कम नहीं होतीं. पत्नी अपने पति से अक्सर कौन-से झूठ बोलती है? आइए, इस पर भी रिसर्च कर लेते हैं:

1) सेल लगी थी इसलिए ख़रीद ली
शॉपिंग के मामले में महिलाओं पर कोई रोक नहीं लगाई जा सकती. शॉपिंग के लिए वो कोई भी जोखिम उठाने के लिए तैयार रहती हैं. महिलाएं अक्सर बजट से बाहर शॉपिंग कर लेती हैं और पति के पूछने पर झूठ बोल देती हैं कि सेल लगी थी इसलिए ख़रीद ली.

2) मैं कैसी लग रही हूं?
पत्नी चाहे कितनी ही मोटी या बदसूरत क्यों न हो, वो पति से हमेशा अपनी तारीफ़ ही सुनना चाहती है. ऐसे में जब कभी वो अपने फिगर को ध्यान में न रखते हुए कोई ऊल-जुलूल कपड़े ख़रीद लेती है और ये अच्छी तरह जानती है कि उन कपड़ों में वो अच्छी नहीं लग रही, फिर भी पति से ये पूछती है कि कैसी लग रही हूं. वो जानती है कि वो अच्छी नहीं लग रही, फिर भी अपनी तसल्ली के लिए पति से जानना चाहती है कि वो कैसी लग रही है.

3) कल से पक्का वॉक पर चलूंगी
महिलाएं स्लिम-ट्रिम दिखना तो चाहती हैं, लेकिन उसके लिए कोई मेहनत नहीं करना चाहती. फिट रहने के जब पति उसे वॉक पर चलने के लिए कहते हैं, तो पत्नी रोज़ उनसे प्रॉमिस करती है कि वो कल से ज़रूर वॉक पर चलेगी, लेकिन उसका कल कभी आता नहीं है.

4) आप अब मुझे प्यार नहीं करते
शादी के शुरुआती दिनों में पति-पत्नी का प्यार एक सपनीली दुनिया की तरह होता है, जहां सबकुछ बहुत हसीन होता है. फिर जब गृहस्थी की ज़िम्मेदारियां बढ़ने लगती हैं, तो प्यार जताने के तरीके में कमी आने लगती है. हालांकि दोनों जानते हैं कि उनके बीच प्यार कम नहीं हुआ है, स़िर्फ ज़िम्मेदारियों के चलते अब वे पहले की तरह हर पल साथ नहीं रह पाते. पत्नी सबकुछ जानते हुए भी पति से अक्सर यही कहती है कि आप अब मुझे प्यार नहीं करते. पति की लाख दलीलों के बाद भी पत्नी की ये शिकायत बनी रहती है.

5) मैं कहां दिनभर सीरियल देखती हूं
टीवी सीरियल्स से महिलाओं का ऐसा नाता होता है कि उनके लिए वो किसी भी चीज़ का त्याग कर सकती हैं. यहां तक कि रिश्तेदार के घर जाने या घूमने जाने पर भी महिलाओं को घर की सुरक्षा से ज़्यादा इस बात की चिंता रहती है कि इस दौरान उनका सीरियल मिस हो जाएगा. ऐसे में जब पति शिकायत करते हैं कि क्या दिनभर सीरियल देखती रहती हो, तो पत्नी इस बात से साफ़ मुकर जाती है और झूठ बोल देती है कि मैं कहां दिनभर सीरियल देखती हूं.

यह भी पढ़ें: महिलाओं की गॉसिप के 10 दिलचस्प टॉपिक (10 Most Interesting Gossip Topics Of Women)

 

6) मैं ठीक हूं, कुछ नहीं हुआ मुझे
महिलाओं का सबसे बड़ा हथियार उनके आंसू होते हैं. जब भी उनके मन की नहीं होती वो रोने लग जाती हैं. फिर जब पति उनके आंसुओं से डरकर उन्हें मनाने लगते हैं या उनसे पूछते हैं कि उन्हें क्या हुआ है, तो वो झूठ बोल देती हैं कि मैं ठीक हूं, कुछ नहीं हुआ मुझे. जबकि सच तो ये है कि वो पति का अटेंशन चाहती हैं और जब पति उन्हें मनाते हैं, पत्नी को ये अच्छा लगता है.

7) मुझे तुम्हारी मदद की ज़रूरत नहीं है
महिलाएं अपने पति पर इतना ज़्यादा आश्रित हो जाती हैं कि वो चाहती हैं कि पति हर काम में उनकी मदद करें या उन्हें गाइड करें. ख़ास बात ये कि वो चाहती हैं कि उनके कहे बिना ही पति ये समझ जाएं कि उन्हें पत्नी की मदद करनी चाहिए. जब ऐसा नहीं हो पाता, तो वो पति से रूठ जाती हैं. फिर जब पति उन्हें मनाने आते हैं और सही बात का खुलासा होता है, तो पत्नी ग़ुस्से में पति से झूठ कहती हैं कि मुझे तुम्हारी मदद की ज़रूरत नहीं है, मैं अपने काम ख़ुद कर सकती हूं.

8) किसके साथ थे आप?
पत्नियों की पति पर शक करने की आदत कभी नहीं जाती. पति कहां गए हैं, किसके साथ हैं, ये सब जानते जानते हुए भी वो अक्सर पति से सवाल करती हैं कि वे किसके साथ थे. इसे उनकी चिंता कहें या डर, लेकिन ये झूठा सवाल पत्नियां अक्सर अपने पति से करती हैं.

9) मम्मी-पापा/ फ्रेंड ने दी है
दुनिया की लगभग हर औरत पति से छुपाकर कुछ पैसे अपने पास ज़रूर रखती है और इस पैसे का इस्तेमाल वो अपनी या घर की ज़रूरत की चीज़ों के लिए इस्तेमाल करती है. ऐसे में पत्नी के पास कोई नई चीज़ देखकर जब पति सवाल करते हैं कि ये चीज़ कहां से आई, तो पत्नी उनसे झूठ बोल देती है कि ये चीज़ उन्हें उनके मम्मी-पापा/ फ्रेंड ने दी है.

10) मुझे भूख नहीं है
आंसू की तरह भूख भी महिलाओं का एक बड़ा हथियार है. जब भी वो पति से नाराज़ होती हैं या उन्हें पति से अपनी बात मनवानी होती है, तो वो खाना छोड़ देती हैं. फिर जब पति पूछते हैं कि खाना क्यों नहीं खाया, तो वो झूठ बोल देती हैं कि मुझे भूख नहीं है.

यह भी पढ़ें: हर लड़की ढूंढ़ती है पति में ये 10 ख़ूबियां (10 Qualities Every Woman Look For In A Husband)

क्या कहते हैं आंकड़े?
* महिलाओं की अपेक्षा पुरुष ज़्यादा झूठ बोलते हैं. एक साल में पुरुष लगभग 1092 झूठ बोलते हैं, जबकि महिलाएं 728 बार झूठ बोलती हैं.
* 75% पुरुष किसी को ख़ुश करने के लिए झूठ बोलते हैं.
* पुरुष सबसे ज़्यादा झूठ अपनी ड्रिंकिंग हैबिट्स को लेकर बोलते हैं.
* महिलाएं अपनी स्वास्थ्य से जुड़ी बातों को लेकर सबसे ज़्यादा झूठ बोलती हैं.

सीखें प्यार की 5 भाषाएं, देखें वीडियो:

अब ब्रेकअप एक्सपर्ट्स करेंगेे आपके दर्द-ए-दिल का इलाज… (Break Up Experts For Broken Hearts)

अब ब्रेकअप एक्सपर्ट्स करेंगेे आपके दर्द-ए-दिल का इलाज… (Break Up Experts For Broken Hearts)

दिल टूटने पर आवाज़ नहीं होती, लेकिन बेहिसाब दर्द ज़रूर होता हैप्यार जैसी भावना में जब विश्‍वास टूटता और साथ छूटता है, तो उस तकलीफ़ को बर्दाश्त करने की शक्ति नहीं होती. यही वजह है कि प्यार में हारे लोग कभी गहरे अवसाद यानी डिप्रेशन में चले जाते हैं, तो कभी ज़िंदगी से पूरी तरह हारकर अपनी जान तक दे देते हैंलेकिन अब ऐसा नहीं होगा, क्योंकि आपके टूटे दिल का इलाज करने के लिए ब्रेकअप एक्सपर्ट्स जो आ गए हैं.

Break Up Experts For Broken Hearts

एक समय था, जब शायद यह कल्पना भी नहीं की जा सकती थी कि ब्रेकअप के दर्द से बाहर निकालने के लिए भी एक्सपर्ट्स होंगे, लेकिन समय बदल रहा है और उसके साथ हमारे रिश्ते भी.

अकेलेपन से जूझना होता है एक बड़ा चैलेंज

ब्रेकअप के बाद अचानक आपको महसूस होता है कि आप पूरी तरह से तन्हा हो गए हैं.

बारबार अपने रिश्ते के बारे में सोचते रहते हैं.

अपने पार्टनर की यादें आपके ज़ेहन से जाती नहीं हैं.

आप अपने पार्टनर के सोशल मीडिया अकाउंट्स पर जाकर उसकी तस्वीर देखते हैं.

किसी तरह से उसके बारे में जानकारी हासिल करने की कोशिश में रहते हैं.

किसी काम में आपका मन नहीं लगता.

आपको लगता है आप अब भविष्य में कभी कोई रिश्ता नहीं बना पाएंगे.

नकारात्मक भावनाओं से आप चाहकर भी बाहर नहीं आ पाते.

कैसे करते हैं ब्रेकअप रिकवरी?

कई ऐसे मैरिज काउंसलर और सायकोलॉजिस्ट हैं, जो अब बतौर ब्रेकअप एक्सपर्ट्स काम करते हैं, क्योंकि वो रिश्तों की उलझनों में उलझे लोगों से अक्सर दोचार होते हैं, उनके दर्द को महसूस करते हैं. यही वजह है कि वो ब्रेकअप रिकवरी प्रोग्राम चलाते हैं, ताकि लोग टूटे रिश्ते की डोर से हमेशा के लिए न बंधे रहें, वो बाहर आ पाएं और ज़िंदगी में आगे बढ़ सकें.

ब्रेकअप चैलेंजेस

अपने पार्टनर के ख़्याल को दिल से निकालना बहुत बड़ी चुनौती होती है.

उसके साथ भविष्य में किस तरह के रिश्ते रखने हैं?

दोस्ती रखनी है या नहीं?

किस तरह से हेल्दी बाउंड्रीज़ क्रिएट करें?

दोस्तों व परिवारवालों का किस तरह से सामना करें?

ख़ुद को दोष देने से कैसे बचें?

अपने एक्स के प्रति ग़ुस्से को कैसे मैनेज करें?

ज़िंदगी में आगे तो बढ़ना चाहते हैं, लेकिन वे समझ नहीं पाते.

इस तरह की तमाम चुनौतियां ब्रेकअप से जूझ रहे लोगों के सामने होती हैं और इनसे बाहर निकलने का रास्ता उन्हें नहीं सूझता.

यह भी पढ़ें: क्या करें जब पति को हो जाए किसी से प्यार?

Break Up Experts For Broken Hearts

कैसे काम करते हैं एक्सपर्ट्स?

एक्सपर्ट्स का कहना है कि आप इन सबसे बाहर आ सकते हैं और हम आपकी मदद करेंगे.

प्राइवेट काउंसलिंग और कोचिंग के ज़रिए आपकी मदद हो सकती है.

दरअसल इस दौर में आपको किसी ऐसे शख़्स की ज़रूरत होती है, जो आपको सुने और आपकी तकलीफ़ को समझे.

ब्रेकअप एक्सपर्ट्स इसी तरह का भावनात्मक सहारा देते हैं, जिससे अवसाद की भावना दूर हो और आप ज़िंदगी में आगे बढ़ सकें.

ब्रेकअप एक्सपर्ट्स यह भी कहते हैं कि वो हर रिश्ते को अलग तरह से ट्रीट करते हैं, क्योंकि उनके लिए यह जांचनापरखना भी ज़रूरी होता है कि क्या यह रिश्ता पूरी तरह ख़त्म हो चुका है या इसमें संभावनाएं बची हैं?

यदि संभावनाएं होती हैं, तो वो रिश्ता दोबारा जोड़ने में भी मदद करते हैं.

एक्सपर्ट्स का कहना है कि ब्रेकअप के बाद हीलिंग के भी अलगअलग स्तर होते हैं.

हमारे रिकवरी प्रोग्राम के लिए काम कर रहे एक्सपर्ट्स ब्रेकअप से जूझ रहे व्यक्ति को पूरे धैर्य से सुनते हैं, वो कहीं से भी जजमेंटल नहीं होते और पूरी तरह से भावनात्मक सपोर्ट भी देते हैं.

ब्रेकअप एक्सपर्ट्स अपने ऑनलाइन रिकवरी प्रोग्राम भी चलाते हैं, ताकि अधिक से अधिक लोगों तक आसानी से मदद पहुंच सके.

रिकवरी में सैडनेस यानी दुख की भावना से ध्यान हटाकर सेल्फ केयर की भावना पर ले जाया जाता है.

ब्रेकअप इतना बुरा भी नहीं होता, क्योंकि इसके बाद ही तो आप अपने प्रति सजग होते हो, अपने लिए सोचते हो, अपने स्वाभिमान के लिए लड़ते हो.

दरअसल, ब्रेकअप का प्रभाव अन्य चीज़ों पर भी निर्भर करता है, जैसेरिश्ता कितना गहरा और पुराना था, रिश्ता टूटने का कारण क्या था, फिज़िकल एब्यूज़ था या नहीं, इमोशनल सपोर्ट, फाइनेंशियल सपोर्ट आदि.

ब्रेकअप आपके मानसिक स्वास्थ्य के साथसाथ शारीरिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है.

बहुत से लोग ब्रेकअप के बाद अपने फिज़िकल अपीयरेंस के प्रति लापरवाह हो जाते हैं और मोटापे का शिकार हो जाते हैं.

रिकवरी प्रोग्राम के ज़रिए एक्सपर्ट्स सेल्फ केयर पर ही सबसे ज़्यादा ध्यान दिलाते हैं, ताकि आप पहले से कहीं अधिक फिट, सुंदर, स्वस्थ, कॉन्फिडेंट और पॉज़िटिव लगें.

थेरेपीज़ में सेल्फ एस्टीम, एंगर और सैडनेस को दूर करने पर फोकस किया जाता है.

कई बार व्यक्ति ख़ुद को ही दोषी मानने लगता है अपने ब्रेकअप के लिए, ऐसे में उसकी सोच को बदलना पड़ता है और उसका खोया विश्‍वास फिर लौटाने पर ज़ोर दिया जाता है.

नकारात्मक भावनाओं से कैसे बाहर निकला जाए, ताकि व्यक्ति आत्महत्या जैसा क़दम न उठा सके या फिर गहरे अवसाद में न चला जाए, इस पर सबसे ज़्यादा ज़ोर दिया जाता है.

बुख़ार होने पर या शरीर पर ज़ख़्म होने पर हम डॉक्टर के पास जाते हैं, तो जब दिल पर चोट लगती है, तो उसके ज़ख़्मों को छिपाना क्यों चाहते हैं? बेहतर होगा दिल के डॉक्टर यानी रिलेशनशिप एक्सपर्ट के पास जाएं और ज़िंदगी में फिर से मुस्कुराएं.

विजयलक्ष्मी

यह भी पढ़ें: आख़िर क्यों बनते हैं अमर्यादित रिश्ते?

यह भी पढ़ें: ज़िद्दी पार्टनर को कैसे हैंडल करेंः जानें ईज़ी टिप्स

जानें सेक्स से जुड़े दिलचस्प सर्वे (Interesting Sex Survey)

Interesting Sex Survey
सफल सेक्स लाइफ़ पर हुए रिसर्च के अनुसार सेक्स लाइफ एंजॉय करने के लिए डेली एक्सरसाइज़ और हेल्दी डायट बहुत ज़रूरी है. आइए जानते हैं कुछ इंटरेस्टिंग सेक्स रिसर्च की रिपोर्ट्स की संक्षिप्त जानकारी.

Interesting Sex Survey

– एक सर्वे के अनुसार, 60% पुरुष चाहते हैं कि सेक्स के लिए औरत पहल करे.

सप्ताह में दो या तीन बार सेक्स करनेवाले लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है.

सेक्स के दौरान हार्ट अटैक से मरनेवाले पुरुषों में से 85% पुरुष ऐसे होते हैं, जो अपनी पत्नी को धोखा दे रहे होते हैं.

जिन लोगों को अनिद्रा की शिकायत हो, उनके लिए सेक्स से बेहतर कुछ हो ही नहीं सकता, क्योंकि सेक्स के बाद अच्छी नींद आती है. रिसर्च के अनुसार, ये नींदवाली दूसरी दवाओं की तुलना में 10 गुना ज़्यादा कारगर है.

हर पुरुष हर सात सेकंड में कम से कम एक बार सेक्स के बारे में ज़रूर सोचता है.

20% पुरुषों को ओरल सेक्स से आनंद आता है, जबकि 6% महिलाओं को ये महज़ फोरप्ले का हिस्सा लगता है.

अमेरिका में 12-15 साल के किशारों में ओरल सेक्स का चलन तेज़ी से बढ़ रहा है और मज़ेदार बात तो ये है कि वो इसे सेक्सुअल क्रिया मानते ही नहीं.

25 % महिलाएं सोचती हैं कि पुरुष रुपएपैसे से सेक्सी बनता है.

ज़्यादा सेक्स करनेवाले पुरुषों की दाढ़ी अपेक्षाकृत तेज़ी से बढ़ती है.

लेटेक्स कंडोम की औसत लाइफ़ 2 साल होती है.

रोमांटिक उपन्यास पढ़नेवाली औरतें ऐसे उपन्यास न पढ़नेवाली औरतों की तुलना में सेक्स का ज़्यादा आनंद उठा

सकती हैं.

यूनिवर्सिटी ऑफ रोचेस्टर्स के मनोवैज्ञानिकों द्वारा किए गए शोध के अनुसार, पुरुष किसी भी दूसरे रंग के मुक़ाबले लाल रंग के परिधान में महिलाओं की ओर ज़्यादा आकर्षित

होते हैं.

हाल ही में हुए शोध के अनुसार, जिन महिलाओं में इमोशनल इंटेलिजेन्स (अपनी भावनाओं को समझने के साथसाथ अपने आसपास रहनेवाले लोगों की भावनाओं व ज़रूरतों की समझ) बेहतर होती है, वे सेक्स में उतनी ही अच्छी पार्टनर साबित होती हैं.

अक्सर कहा जाता है कि महिलाओं को सेक्स के लिए उत्तेजित होने में कम से कम 20 मिनट का समय लगता है, परंतु शोध से पता चला है कि किसी पुरुष की कल्पना और फोरप्ले से उत्तेजित होने में उन्हें मात्र 10 मिनट लगता है.

पुरुष तथा महिलाएं दोनों ही एक दिन में कई बार ऑगैऱ्ज्म का अनुभव कर सकते हैं.

अगर किसी महिला में सेक्स उत्तेजना उत्पन्न नहीं होती, तो एक बार ङ्गबर्थ कंट्रोल पिल्सफ को बदलकर देखें, क्योंकि कई बार अलगअलग पिल्स में पाए जानेवाले हार्मोंस सेक्स की उत्तेजना को प्रभावित करते हैं. इन्हें बदलने से समस्या हल हो सकती है.

कई बार सीमेन (वीर्य) से ब्लीच जैसी गंध आती है. इससे कोई हानि नहीं है. यह प्राकृतिक डिसइं़फेक्टेंट होता है एवं स्पर्म्स को योनि में पाए जानेवाले एसिड के बुरे प्रभाव से बचाता है.

एंकलबोन के नीचे एड़ी में सर्कुलर मसाज करने से सेक्सुअल उत्तेजना बढ़ती है.

पुरुष रात्रि की नींद के दौरान औसतन 4 या 5 बार इरेक्शन अनुभव करते हैं.

रिसर्च द्वारा पता चला है कि जो लड़कियां साइकिल रेस में हिस्सा लेती हैं या हर हफ़्ते 100 मील साइकिल चलाती हैं, उनकी बाह्य जननेंद्रियों का सेंसेशन कम हो जाता है.

यह भी पढ़ें: सेक्स रिसर्च: सेक्स से जुड़ी ये 20 Amazing बातें, जो हैरान कर देंगी आपको

पेनिस की लंबाई का ऑर्गैज़्म से कोई संबंध नहीं होता, क्योंकि योनि का केवल 1/3 भाग ही संवेदनशील होता है. अगर सेक्स पोज़ीशन सही हो, तो छोटा पेनिस भी ऑर्गैज़्म दे सकता है.

जर्मन शोधकर्ताओं के अनुसार, सुरक्षित रिलेशनशिप में महिलाओं की सेक्सुअल इच्छा कम हो जाती है. 4-5 साल साथसाथ रहने के बाद महिलाएं पुरुषों की इच्छानुसार सेक्स करती हैं.

ऐसे पुरुष, जिनके अनेक स्रियों से संबंध होते हैं, वे सेक्स को बहुत महत्वपूर्ण तो समझते हैं, परंतु अपने रिलेशनशिप से पूरी तरह संतुष्ट नहीं होते.

एक सर्वे के अनुसार, सेक्स के लिए कपल्स की सबसे पसंदीदा जगह बेडरूम के अलावा कार होती है.

यूनिवर्सिटी ऑफ ट्रॉम्प में हुए रिसर्च के अनुसार, नीली आंखोंवाले पुरुष अक्सर नीली आंखोंवाली स्री को ही पसंद करतेे हैं. यदि उनका बच्चा भूरी आंखोंवाला हुआ, तो वे सोचते हैं कि उनकी पत्नी ने उनके साथ धोखा किया है. वैसे आनुवांशिकता का नियम भी यही कहता है.

यह भी पढ़ें: सेक्सुअल हेल्थ के 30+ घरेलू नुस्खे

महिलाएं पीरियड्स के दौरान या उसके ठीक पहले ज़्यादा सुखद ऑर्गैज़्म का अनुभव करती हैं. ऐसा उनके पेल्विक एरिया में रक्तसंचार के बढ़ने के कारण होता है.

सेक्स के दौरान पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं ज़्यादा कल्पनाशील हो जाती हैं. इस तरह की सेक्सुअल फेंटेसी से उन्हें संतुष्टि तो मिलती ही है, आपसी संबंध भी मज़बूत होते हैं.

जो पुरुष ज़्यादातर सेक्सुअल फेंटेसी में रहते हैं, वे अपने रोमांटिक रिलेशनशिप से कम संतुष्ट रहते हैं.

कई पुरुषों में स्खलन (इजाक्युलेशन) के बाद भी पेनिस में इरेक्शन रहता है, जो बहुत दर्दनाक होता है. इसे प्रीएटिसिज़्म कहते हैं.

एक रिसर्च के अनुसार, कॉलेज के दौरान जो लड़के सेक्स में लिप्त रहते हैं, वे अक्सर डिप्रेशन में चले जाते हैं, जबकि सेक्स न करनेवाले विद्यार्थी नॉर्मल रहते हैं.

 कुछ महिलाओं को सीमेन (वीर्य) से एलर्जी होती है. सीमेन में मौजूद प्रोटीन के कारण उनके जननांग एवंं शरीर के अन्य हिस्सों पर जलन व खुजली की समस्या हो जाती है.

अध्ययन बताते हैं कि सेक्स से सिरदर्द व जा़ेडों का दर्द दूर होता है. वास्तव में ऑर्गैज़्म के तुरंत बाद ऑक्सीटोसिन हार्मोन का लेवल 5 गुना बढ़ जाता है, जिससे एंडॉरफिन हार्मोन का स्राव होता है. यह दर्द को दूर भगाता है.

सामान्यतः ऐसा समझा जाता है कि प्रेग्नेंसी से सेक्स की इच्छा मर जाती है, परंतु ऐसा नहीं है. गर्भावस्था के दौरान ज़्यादातर महिलाओं की सेक्स की इच्छा या तो बढ़ जाती है या पहले जैसी ही होती है.

रिसर्च के अनुसार, सिगरेट नहीं पीनेवालों की सेक्स की इच्छा, आनंद व संतुष्टि सिगरेट पीनेवालों की अपेक्षा ज़्यादा होती है.

जर्नल ऑफ सेक्स रिसर्च के अनुसार, कपल्स सामान्य तौर पर फोरप्ले में 11 से 13 मिनट लगाते हैं.

एक सर्वे के अनुसार, हफ़्ते में 3 या 4 बार सेक्स करने की इच्छा रखनेवाले पुरुषों व महिलाओं की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है.

जर्नल ऑफ सेक्सुअल मेडिसिन में छपी रिपोर्ट के अनुसार, बर्थ कंट्रोल पिल्स लेने से महिलाओं में सेक्स करने की इच्छा कम हो जाती है.

यह भी पढ़ें: 7 तरह के सेक्सुअल पार्टनरः जानें आप कैसे पार्टनर हैं