Love

बॉलीवुड में लव स्टोरी बनती-बिगड़ती रहती हैं, लेकिन आज हम एक ऐसे कपल की बात कर रहे हैं, जिनकी जोड़ी बॉलीवुड में बहुत मशहूर थी. जी हां, हम बात कर रहे हैं करीना कपूर और शाहिद कपूर की लव स्टोरी की. कभी ये कपल एक-दूसरे पर जान छिड़कता था, लेकिन फिर ऐसा क्या हुआ कि करीना कपूर और शाहिद कपूर हमेशा के लिए अलग हो गए. ‘जब वी मेट’ फिल्म करीना कपूर और शाहिद कपूर की सुपरहिट फिल्म थी और इस फिल्म के दौरान ही इनका ब्रेकअप हो गया. ‘जब वी मेट’ फिल्म में करीना कपूर और शाहिद कपूर परदे पर रोमांस कर रहे थे, लेकिन असल ज़िंदगी में उसी फिल्म की शूटिंग के दौरान उनका रिश्ता टूटने लगा था. ‘जब वी मेट’ फिल्म में ऐसा क्या हुआ कि करीना कपूर और शाहिद कपूर हमेशा के लिए अलग हो गए.

Kareena Kapoor And Shahid Kapoor

ऐसे शुरू हुई करीना कपूर और शाहिद कपूर की लव स्टोरी
करीना और शाहिद पहली बार फिल्म फिदा के सेट पर मिले थे, जहां करीना कपूर अपना दिल शाहिद को दे बैठी. करीना कपूर ने ही शाहिद को प्रपोज किया और इस तरह इस दोनों की लव स्टोरी शुरू हुई. करीना कपूर और शाहिद कपूर की लव स्टोरी मीडिया में अक्सर सुर्ख़ियों में रहती थी. करीना और शाहिद एक-दूसरे के प्यार में पागल थे. ख़बरों के अनुसार, करीना कपूर ने शाहिद कपूर के लिए नॉन वेजीटेरियन खाना भी छोड़ दिया था. उस दौरान शाहिद और करीना ने कई फिल्में साथ में की. ये अलग बात है कि जब तक ये जोड़ी साथ थी, तब तक इनकी फिल्में बॉक्स ऑफिस पर कोई ख़ास कमाल नहीं दिखा पाई, लेकिन ‘जब वी मेट’ फिल्म में फिल्म में जब ये दोनों अलग हुए, तो वो फिल्म सुपरहिट हुई. करीना कपूर और शाहिद कपूर ने अपने ब्रेकअप के बारे में कभी कुछ नहीं कहा, लेकिन करीना कपूर का अचानक सैफ अली खान को डेट करना उनके फैन्स को चकित कर गया.

यह भी पढ़ें: ‘जब वी मेट’ फिल्म में करीना कपूर ने इस हीरो को हटाकर बॉयफ्रेंड शाहिद कपूर को साइन करवाया था (Bobby Deol Was The First Choice For ‘Jab We Met’ Film, But Kareena Kapoor wanted Boyfriend Shahid Kapoor)

Kareena Kapoor And Shahid Kapoor

क्या सैफ अली खान थे करीना कपूर और शाहिद कपूर के ब्रेकअप की वजह?
करीना कपूर की ज़िंदगी में सैफ अली का आना और करीना-शाहिद का ब्रेकअप, इसे करीना भाग्य का लिखा मानती हैं. शाहिद कपूर से ब्रेकअप के बारे में करीना कपूर ने एक इंटरव्यू में कहा, “भाग्य के अपने कुछ प्लान होते हैं और ज़िंदगी उसके हिसाब से चलती है.” करीना कपूर ने कहा कि ‘जब भी मेट’ फिल्म ने जहां उनके करियर को बदलकर रख दिया, वहीं फिल्म ‘टशन’ के सेट पर करीना की सैफ अली खान से मुलाकात हुई और उस मुलाकात ने करीना की पूरी ज़िंदगी बदल दी. करीना ने कहा, “फिल्म ‘टशन’ के वक्त मैं अपने रोल और फिगर को लेकर बहुत उत्साहित थी. टशन फिल्म ने मेरी ज़िंदगी बदल दी, क्योंकि इस फिल्म के जरिए मैं अपने लाइफ पार्टनर से मिली.” अपने इंटरव्यू में करीना कपूर ने कहा, “फिल्म ‘जब वी मेट’ की शूटिंग के दौरान से लेकर फिल्म ‘टशन’ के बीच में बहुत कुछ ऐसा हुआ, जिसके बाद हमने अपने-अपने रास्ते अलग कर लिए. मेरे लिए उस वक़्त पर्सनली और प्रोफेशनली सबकुछ हैंडल करना बहुत मुश्किल हो रहा था. फिल्म में जिस तरह गीत की ज़िंदगी सेकेंड हाफ के बाद बदल जाती है, ‘जब वी मेट’ फिल्म के बनते वक्त मेरी जिंदगी में भी वैसा ही हो रहा था.”

Kareena Kapoor And Shahid Kapoor

एक-दूसरे के लिए नहीं बनी थी करीना कपूर और शाहिद कपूर की जोड़ी
बता दें कि ‘जब वी मेट’ फिल्म की शूटिंग के दौरान ही करीना और शाहिद के रिश्ते खराब होने लगे थे और फिल्म ‘टशन’ की शूटिंग के दौरान सैफ अली खान और करीना कपूर एक-दूसरे के करीब आ गए थे. फिर सैफ और करीना ने साल 2012 में शादी कर ली. शाहिद कपूर ने भी 2015 में मीरा राजपूत से शादी कर ली. आज करीना कपूर और शाहिद कपूर दोनों अपनी-अपनी शादीशुदा ज़िंदगी में खुश हैं. करीना कपूर एक बेटे तैमूर की मां बन चुकी हैं और शाहिद कपूर भी दो बच्चों के पिता बन चुके हैं. बॉलीवुड की ये क्यूट जोड़ी शायद एक-दूसरे के लिए नहीं बनी थी. लेकिन आज भी जब इनके फैन्स ‘जब वी मेट’ फिल्म देखते हैं, तो उन्हें करीना कपूर और शाहिद कपूर की लव स्टोरी याद आ जाती है.

यह भी पढ़ें: ‘जब वी मेट’ फिल्म की ‘गीत’ करीना कपूर के 10 मशहूर डायलॉग में से आपका फेवरेट कौन सा है? (10 Famous Dialogues Of Geet (Kareena Kapoor) From ‘Jab We Met’ Film)

Kareena Kapoor And Shahid Kapoor

लॉकडाउन में सेलिब्रिटी अपने पेट के साथ काफ़ी अच्छा समय बिता रहे हैं, ख़ासतौर पर डॉगी के साथ. उनके साथ इस क्वारंटाइन के समय बिताने को वे ना केवल ख़ुद एंजॉय कर रहे हैं, बल्कि उनका परिवार भी ख़ूब आनंद ले रहा है. उनके फैन्स भी इसे बेहद पसंद कर रहे हैं. फिल्म स्टार्स के पेट प्रेम के एक-से-एक तस्वीरें व वीडियो सोशल मीडिया अकाउंट पर देखने को मिलते रहते हैं. 

विराट कोहली से लेकर अर्जुन कपूर तक अनुष्का शर्मा से लेकर माधुरी दीक्षित तक कई सितारों के इन मनभावन लम्हों को हम देखते रहे हैं.
स्टार्स के डॉगी के साथ डांस करते हुए, एक्सरसाइज करते हुए और कई बढ़िया तालमेल देखने को मिलते हैं. गुरमीत चौधरी तो अपने पाब्लो के साथ काफ़ी ख़ुशियोंभरे व प्यारे लम्हे बिता रहे और उनकी एक से एक बेहतरीन वीडियो भी शेयर करते रहते हैं. अनुष्का शर्मा और विराट कोहली भी अपने प्यारे डॉगी के साथ कई ख़ास लम्हों को यादगार बनाते रहे हैं. इसी तरह कई सितारे हैं, जो अपने पशु प्रेम को उजागर करते रहे हैं. अर्जुन कपूर अपने डॉगी के साथ किचन में कुक करते हुए स्वीट मूवमेंट शेयर किया था. आइए देखते हैं सितारों के पशु प्रेम के लाजवाब पल को.

Film Stars Pets
View this post on Instagram

A humble appeal to all the pet parents 🙏🏻

A post shared by Arjun Kapoor (@arjunkapoor) on

View this post on Instagram

Bird watching with Carmelo

A post shared by Madhuri Dixit (@madhuridixitnene) on

View this post on Instagram

Every dark cloud had a silver lining. And this time, while it may seem like the worst time and in so many ways it actually is, has also forcefully made us all stop and deal with things we might have been running away from because either we were ‘busy’ or it was convenient to say we were 'busy'. If this time is respected for what it is, it will enable more light to shine through. This time has also made us all realise what's truly important. For me just having food, water and a roof over my head and the good health of my family seems MOST important. Everything else is a bonus that I bow my head in gratitude for. But, that which we call 'basic' is not so basic for everyone after looking at all the people who struggle for just those few things. My prayers with them and their families. May everyone be safe and secure. This time has surely made me more reflective. This need to stay at home with your loved ones has been forced upon the entire world but there is a deep lesson for us all. There is a lesson to strive for work and life balance ( I've valued and strived for this dearly for many years now ), there is a lesson to devote more time in things that actually matter. Today, when I'm surrounded by all the blessings in my life, I just want to tell everyone how much compassion I feel for everyone who I see suffer. I want to help as many possible in the best of my abilities. I feel pride in our resilience to be better human beings. I can instinctively feel this in and around me. We will all have our individual and subjective lessons from this time and hopefully, such lessons will continuously stay with us all.

A post shared by AnushkaSharma1588 (@anushkasharma) on

View this post on Instagram

My furry babies 🐶

A post shared by Hardik Pandya (@hardikpandya93) on

Pahla Affair

पहला अफेयर: तुम कभी तो मिलोगे (Pahla Affair: Tum Kabhi To Miloge)

आज फिर मेघों से रिमझिम वर्षा रूपी नेह बरस रहा है. दूर-दूर तक मेरी प्रिय तन्हाई पसरी हुई है. एकाएक रेडियो पर बज रहे गीत पर ध्यान चला गया-
छोटी-सी ये दुनिया पहचाने रास्ते, तुम कहीं तो मिलोगे, कभी तो मिलोगे..

मेरा दिल यूं ही भर आया. कितने साल गुज़र गए आपसे बिछड़े हुए, पर मेरा पागलपन आज भी आपके साथ गुज़ारे उन सुखद पलों की अनमोल स्मृतियां संजोए हुए है.

अल्हड़ उम्र के वो सुनहरे भावुक दिन… चांदनी रात में जागना, अपनी ही बनाई ख़यालों की दुनिया में खो जाना, यही सब कुछ अच्छा लगता था तब. शरत्चंद,विमल-मित्र, शिवानी आदि के उपन्यासों को प़ढ़ना तब ज़रूरी शौक़ों में शामिल थे. को-एज्युकेशन के बावजूद अपने अंतर्मुखी स्वभाव के कारण मैं क्लास में बहुत कम बोलती थी.

उन दिनों कॉलेज में सांस्कृतिक कार्यक्रम चल रहे थे. आप तब मेरे पास आए थे और एक फ़िल्मी गीत के दूसरे अन्तरे को पूरा करने का आग्रह किया था. उसी गीत को गाने पर आपको प्रथम पुरस्कार मिला था. मेरे बधाई देने पर आपने कितनी आसानी से कह दिया था कि यह गीत तो मैंने तुम्हारे लिए ही गाया था. उसके बाद तो मैं आपसे नज़रें चुराती ही फिरती थी. लेकिन अक्सर ऐसा लगता जैसे आपकी ख़ामोश निगाहें हमेशा मेरा पीछा करती रहती हैं.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: काश, तुम समझे होते (Pahla Affair: Kash Tum Samjhe Hote)

फिर परीक्षा के दिनों में जब मुझे एकाएक बुखार हो गया था, तो आपने बिना परीक्षा की चिंता किए मुझे अस्पताल में भर्ती करवाया था और मेरे माता-पिता के आने तक मेरी पूरी देखभाल की थी.

और जाड़ों में जब हमारी पिकनिक गई थी और मुझे आपके स्कूटर पर पीछे बैठना पड़ा था, उस दिन आपकी पीठ की ओर उन्मुख हो, मैंने जी भर कर बातें की थीं. हम पिकनिक स्पॉट पर सबसे देर से पहुंचे थे, आपका वाहन उस दिन चींटी की ऱफ़्तार से जो चल रहा था.

लेकिन तभी आपके चिकित्सक पिता की विदेश में नियुक्ति हुई और आपका परिवार विदेश चला गया. आपने अपनी मां से आपको यहीं छोड़ने के लिए बहुत अनुरोध भी किया, लेकिन आपका प्रयास असफल रहा. अपने मां-बाप के सामने अपनी पसंद ज़ाहिर करने की आपकी उस व़क़्त न उम्र थी न हालात. और आप अनेक सुनहरे सपने मेरी झोली में डाल सात समंदर पार के राजकुमार बन गए. कुछ वर्षों तक आपके स्नेहिल पत्र मुझे ढा़ंढस बंधाते रहे. फिर एकाएक इस छोटी-सी दुनिया की विशाल भीड़ में आप न जाने कहां खो गये. आपके परिवार की भी कोई खोज-ख़बर नहीं मिली. उन दिनों गल्फ वार (खाड़ी युद्ध) चल रहा था. अनेक प्रवासी-भारतीय गुमनामी के अंधेरे में खो
चुके थे.

मैं अपने प्यार की अजर-अमर सुधियों की शीतल छांव तले जीवन गुज़ारती रही. मुझे ऐसा रोग हो चुका है जिसको प्रवीण चिकित्सक भी समझ पाने में असमर्थ हैं. मुझे अटूट विश्‍वास है कि मेरे जीवन के मंदिर की लौ बुझने से पहले आप ज़रूर मिलेंगे और आपका उजला, हंसता- मुस्कुराता चेहरा ही मेरे जीवन के इंतज़ार को सार्थक बनाएगा. मेरे जीवन का सार बच्चन जी की इन पंक्तियों में है-

स्वागत के साथ ही विदा की होती देखी तैयारी
बंद लगी होने खुलते ही मेरी जीवन मधुशाला

– डॉ. महिमा श्रीवास्तव

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: धूप का टुकड़ा (Pahla Affair: Dhoop Ka Tukda)

Uttam Mehendi Designs (E-Book)

Rs.30

Egg Receipe (E-Book)

Rs.30

150 Veg Delight (E-Book)

Rs.30

Pahla Affair

पहला अफेयर: काश, तुम समझे होते (Pahla Affair: Kash Tum Samjhe Hote)

कभी-कभी अचानक कहे शब्द ज़िंदगी के मायने बदल देते हैं. इसका एहसास पहली बार मुझे तब हुआ जब अचानक एक दिन आदित्य को अपने सामने मेरे जवाब के इंतज़ार में खड़े पाया. मेरी हालत देखकर बोला, ङ्गङ्घदया, ऑफ़िस से जाने के पूर्व सारी औपचारिकताएं होते-होते एक-दो दिन तो लग ही जाएंगे, जाने से पहले तुम्हारा जवाब सुनना चाहता हूं.फफ कहने के साथ वह मुड़ा और मेरे मन-मस्तिष्क में झंझावत पैदा कर गया.

वो तो चला गया, लेकिन मेरी आंखों के सामने वह दृश्य दौड़ गया, जब एक दिन ऑफ़िस में अंतर्जातीय विवाह को लेकर हो रही चर्चा के दौरान मैंने भी घोषणा कर दी थी कि यूं तो मेरे घर में अंतर्जातीय विवाह के लिए सख़्त मनाही है, लेकिन मैं घरवालों के विरुद्ध जा सकती हूं, बशर्ते लड़का क्लास वन ऑफ़िसर हो.

मुझे सपने में भी इस बात का गुमान न था कि आदित्य मेरे कहे को इतनी संजीदगी से ले लेगा. यूं तो मुझे इस बात का मन-ही-मन एहसास था कि आदित्य के मन में मेरे लिए एक ख़ास जगह है और सच कहूं तो मैं भी उसके सौम्य, सरल व परिपक्व व्यक्तित्व के चुंबकीय आकर्षण में बंधने लगी थी. लेकिन जैसे ही घरवालों के दृष्टिकोण की याद आती, मैं अपने मन को समझा देती कि हमेशा मनचाही मुराद पूरी नहीं होती. इसीलिए आदित्य की लाख कोशिश के बावजूद मैं उससे एक निश्‍चित दूरी बनाए रखती और बातों के दौरान उसे घरवालों के विरोध से सचेत करती रहती.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: उसकी यादें दिल में समाए हूं (Pahla Affair: Uski Yaden Dil Mein Samaye Hoon)

लेकिन होनी को भला कौन टाल सकता था. जब मुझे पता लगा कि उसने ज़ोर-शोर से प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी शुरू कर दी है तो एक अनजाने भय से मैं कांप उठी. उसकी मेहनत रंग लाई और पी. सी. एस. की परीक्षा को अंतिम रूप से पास कर, जब उसने हाथ मांगा तो मैं एक अजीब-सी उलझन में फंस गई. बड़ी कशमकश में थी मैं- मेरे सामने भावी जीवन का निर्णय पत्र था, उसमें हां या ना की मुहर लगानी थी.

ऑफ़िस वालों से विदा लेने से पूर्व वो मेरे पास आया, लेकिन मेरी आंखों से छलकते आंसुओं ने उसके प्रश्‍न का जवाब स्वयं दे दिया. मैं बहुत कुछ कहना चाह रही थी, पर ज़ुबां साथ नहीं दे रही थी. मेरी ख़ामोशी वो बर्दाश्त न कर सका. आख़िरकार वह छटपटा कर कह उठा, दया, मुझे कमज़ोर मत बनाओ, तुम तो मेरी शक्ति हो. आज मैं जो कुछ भी हूं, स़िर्फ तुम्हारी वजह से हूं. हमेशा ख़ुश रहना. ईश्‍वर करे, कोई दुख तुम्हारे क़रीब भी न फटके. इतना कह कर वह थके क़दमों से बाहर निकल गया. उसे जाते हुए देखती रही मैं. चाहती थी उससे कहना कि जीवन पर सबसे पहले जीवन देनेवाले का अधिकार होता है, इस फलसफे को कैसे झुठला सकती थी. लेकिन कहते हैं ना- कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता कहीं ज़मीं तो कहीं आसमां नहीं मिलता.

आज माता-पिता की इच्छा के फलस्वरूप अपने आशियाने में ख़ुश भी हूं, पर सीने में दबी पहले प्यार की चोट आज भी ये एहसास कराती है कि पहले तोलो, फिर बोलो. आज भी लगता है जैसे पहले प्यार की दस्तक अब भी मन- मस्तिष्क में अपनी गूंज दे रही हो.

– दया हीत

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर- हस्ताक्षर! (Pahla Affair: Hastakshar)

Uttam Mehendi Designs (E-Book)

Rs.30

Egg Receipe (E-Book)

Rs.30

150 Veg Delight (E-Book)

Rs.30

Valentine's Day

मुहब्बत बरसा देना तू… सेलिब्रेट सेल्फ लव! इस वैलेंटाइन लेसी लुक के साथ करें अपना डे स्टार्ट! (Valentine’s Day: Celebrate Self Love)

गुलाबों की महक, चॉकलेट्स का टेस्ट और वादियों में गूंजता मुहब्बत का एहसास… जी हां, वैलेंटाइन्स डे होता ही है ख़ास! तो आप इस दिन के लिए क्या ख़ास कर रही हैं? प्यार का मतलब स़िर्फ किसी और को गिफ्ट या ट्रीट देना ही नहीं होता, बल्कि ख़ुद को ख़ास महसूस कराना, ख़ुद को ट्रीट देना और अपने लिए कोई गिफ्ट लेना भी होता है. इस मुहब्बत के सीज़न में क्यों न लेसी लुक अपनाया जाए, क्योंकि लेस डेलीकेट भी होते हैं और ब्यूटीफुल भी.

Valentine's Day

– डेनिम के साथ लेसी टॉप पहनें. चाहें तो जींस के साथ या फिर डेनिम स्कर्ट के साथ. यह आपको ग्लैमरस लुक देगा.

– स्ट्रेट पैंट के साथ लेस टॉप पहनें.

– आप ऐसा ड्रेस या टॉप भी सिलेक्ट कर सकती हैं, जो कंप्लीट लेसी न होकर स़िर्फ स्लीव्स लेसी हों.

– डेनिम टॉप और शॉर्ट लेसी स्कर्ट के साथ लेगिंग्स पहनें.

– आप आउटरवेयर यानी लेयरिंग में भी लेस ट्राई कर सकती हैं, जैसे- फिटेड स्कर्ट या ड्रेस के साथ लेस कोट या जैकेट.

 

– पूरे लेसी लुक चाहिए तो लेसी बॉडी कॉन फिटेड शॉर्ट ड्रेस लें या आपकी एलबीडी भी लेसी हो सकती है.

– चाहें तो लेस आउटफिट को प्लेन नॉन लेसी जैकेट के साथ पेयर कर सकती हैं.

– डेनिम जैकेट के साथ भी लेस ड्रेस पहन सकती हैं या फिर फ्रंट ओपन लॉन्ग लेस ड्रेस को जींस के साथ पेयर कर सकती हैं.

Valentine's Day Self Love

लेसी इनरवेयर

– कुछ कैज़ुअल लुक कैरी करना चाहती हैं, तो लेसी इनर वेयर के साथ एक्सपेरिमेंट कर सकती हैं.

– लेसी ब्रा को शीयर शर्ट या टॉप के साथ पहन सकती हैं.

– लेसी ब्रा ब्लाउज़ के साथ कोट या जैकेट पहनकर ग्लैमरस लुक ट्राई कर सकती हैं.

– डेनिम स्कर्ट या शॉर्ट लेसी स्कर्ट के साथ लेसी ब्रा ट्राई करें.

Valentine's Day

– जींस के साथ लेसी ब्रा और ऊपर से सैटिन जैकेट या ब्लेज़र आपको देगा हॉट लुक.

– ज़िवामे ने भी वैलेंटाइन स्पेशल यानी आपके वी डे को ख़ास बनाने के लिए अपने न्यू कलेक्शन में कई ऑप्शन्स शामिल किए हैं, जिसमें उनका व्हिमसिकल एब्स्ट्रक्ट कलेक्शन और मोरोक्कन लेस कलेक्शन रेडी है आपको ख़ास व न्यू लुक देने के लिए.

– लेस न स़िर्फ ब्यूटीफुल लगता है, बल्कि यह आपको सेक्सी और बोल्ड लुक भी देता है.

– आप भी ट्राई करें लेसी आउटफिट्स और इनरवेयर और अपने वॉर्डरोब को चेंज करके इस वैलेंटाइन को ख़ास बनाएं.

– हो सकता है आपके पार्टनर को भी आपका यह नया अंदाज़ पसंद आए और आप दोनों और भी करीब आएं.

यह भी पढ़ें: करीना कपूर से लेकर कैटरीना कैफ तक बॉलीवुड एक्ट्रेस को पसंद है रेड साड़ी (Bollywood Actress Likes Red Saree From Kareena Kapoor To Katrina Kaif)

 

Quick Recipes (E-Book)

Quick Recipes (E-Book)

Rs.30

Bridal Guide (E-Book)

Rs.30

Hair Style (E-Book)

Rs.30

परछाई बनकर ज़िंदगीभर

तेरे साथ चलने का इरादा है

तोड़कर दुनिया की सारी रस्में-कसमें

तेरे साथ जीने का वादा है…

Happy Pomise Day

आज हर दिल यही जज़्बे का साथ धड़कता है, क्योंकि आज प्रॉमिस डे जो है. मोहब्बत की राह में साथ चलने का वादा और ताउम्र साथ निभाने का इरादा सरगोशियां करने लगता है इश्क़वालों के दिलों में. प्रेम में कसम देना व लेना तो ख़ूब चलता है, लेकिन इससे जुड़े गानों ने भी इसे ख़ूब हवा दी है.

आशिकी में कसम की ख़ास जगह सदा से रही है. चाहनेवालों के लिए प्यार की कसम इबादत होती है. यही झलकियां हिंदी फिल्मों के गानों में भी देखने को मिलती है. प्रॉमिस, कसम, वादा, खुदा की कसम, तेरी कसम, सनम तेरी कसम… जाने कितने ख़ूबसूरत व कर्णप्रिय गीत सुनते रहे हैं हम. अमर अकबर एंथोनी का अमिताभ बच्चन व परवीन बॉबी पर फिल्माया सॉन्ग- देख के तुमको दिल डोला है गॉड प्रॉमिस… हो या फिर राजेश खन्पना और मुमताज पर फिल्माया गया आपकी कसम का गाना- करवटे बदलते रहे सारी रात हम आपकी कसम… ने हर दिल की धड़कन को ख़ूब धड़काया था. खिलाड़ी फिल्म का अक्षय कुमार और आयशा जुल्का के साथ का गीत- वादा रहा सनम होंगे ना जुदा हम… ने भी गाने के कई रिकॉर्ड तोड़े थे. आइए वेलेंटाइन वीक के इस हफ़्ते में आज के दिन यानी प्रॉमिस डे को इन कसमे-वादे से जुड़े बेहतरीन गानों के साथ सेलिब्रेट करें…

https://youtu.be/txJWp_zQwCQ

 

 

 

यह भी ढ़े: धूमधाम से संपन्न हुई बिग बॉस की एक्स कंटेस्टेंट मोनालिसा के ननद की शादी, देखें वायरल पिक्स (Monalisha Sister In Law Wedding Pics)

Quick Recipes (E-Book)

Quick Recipes (E-Book)

Rs.30

Bridal Guide (E-Book)

Rs.30

Hair Style (E-Book)

Rs.30

प्यारभरे वैलेंटाइन वीक की शुरुआत रोज़ डे हो गई है. आज रोज़ डे है, हर चाहनेवालों के लिए गुलाब के फूल द्वारा अपनी मोहब्बत का इज़हार करने का दिन. फिल्मों में तो गुलाब के फूलों का अच्छा-ख़ासा महत्व रहा है. कभी कोई फिल्म, तो कोई सीन इन ख़ूबसूरत गुलाबों के ज़रिए लव एक्सप्रेस करने का बहाना बन जाती है.

Rose Journey In Hindi Movies

अस्सी के दशक में सुपरस्टार राजेश खन्ना की एक फिल्म आई थी रेड रोज़. प्यार, मिलन-जुदाई, सस्पेंस का लाजवाब मिश्रण था फिल्म में. इसमें राजेश खन्ना के निगेटिव शेड को भी लोगों ने ख़ूब पसंद किया.

मनमोहन देसाई की सुपर-डुपर हिट मूवी अमर अकबर एंथोनी को दर्शकों को बेहद प्यार मिला था. इसके हर सीन, गाने, संवाद आडियंस के जुबां पर थे. इसी फिल्म का एक ख़ास दृश्य जब अमिताभ बच्चन परवीन बॉबी को देखते हैं और गुलाब का फूल देते हुए हिचकिचाते-घबराते हुए अपने वन साइड लव को दर्शाते हैं.

यश चोपड़ा की फिल्मों में फूलों को बेहतरीन तरी़के से दिखाया जाता रहा है, ख़ासकर सूर्ख़ गुलाब के फूलों को. उनकी हर फिल्म में गुलाब के फूल किसी-न-किसी रूप में दिखाई देते हैं. लोगों के ज़ेहन में फिल्म सिलसिला का अमिताभ बच्चन और रेखा के प्रेम को ऊंचाइयां देता गुलाब के फूलों का गुलदस्ता न जाने कितनी ही कहानियों को बयां करता है. फिर तो चांदनी, विजय, डर, दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे, वीर-ज़ारा, जब तक है जान… यशजी के हर फिल्म में गुलाब के फूलों का सिलसिला चलता ही रहा.

गुलाब के फूलों को फिल्मों ने एक नई परंपरा और नया अंदाज़ दिया है इसमें कोई दो राय नहीं है. दिल तो पागल है फिल्म में शाहरुख ख़ान और माधुरी दीक्षित हो या अक्षय कुमार व करिश्मा कपूर हर एक दिल का धड़कन को बढ़ाता रहा रोज़.

ऐसे न जाने कितने मज़ेदार दृश्य, सीन और गाने रहे हैं, जो गुलाब के फूलों के बिना अधूरे हैं. तो क्यों न गुलाब के इस यात्रा का लुत्फ़ उठाया जाए…

 

 

https://youtu.be/LR_vySszl8I

 

https://youtu.be/pelidpxYjg0

 

यह भी पढ़ेफिल्म रिव्यूः शिकारा ( Film Review Of Shikara)

Uttam Mehendi Designs (E-Book)

Rs.30

Egg Receipe (E-Book)

Rs.30

150 Veg Delight (E-Book)

Rs.30

Pahla Affair Kahaniya

पहला अफेयर: उसकी यादें दिल में समाए हूं (Pahla Affair: Uski Yaden Dil Mein Samaye Hoon)

वह अक्सर कहा करता था… मैं आकाश की ऊंचाई को छूना चाहता हूं. इन बादलों में गुम हो जाने पर मैं उस मधुर आवाज़ का इंतज़ार करूंगा, जो तुम मुझे बुलाने के लिए दोगी. तुम गाओगी… न जाओ सैंया, छुड़ाके बहियां, कसम तुम्हारी मैं रो पड़ूंगी… और मैं गाऊंगा… सारंगा तेरी याद में नैन हुए बेचैन, मधुर तुम्हारे मिलन बिना दिन कटते न ही रैन… इसी तरह की अठखेलियों में हंसते-गाते हमारे दिन बीत रहे थे. सौरभ बहुत ही ज़िंदादिल इंसान था. मैंने उसे जितने क़रीब से देखा था, उससे ऐसा आभास होने लगा था कि हम दोनों एक-दूसरे के लिए ही बने हैं और एक-दूसरे के लिए ही हमारा जन्म हुआ है.

उन दिनों सौरभ और मैं रविन्द्र कॉलेज में बी.ए. अंतिम वर्ष में प़ढ़ते थे. सौरभ एयरविंग में सीनियर डिविज़न में था तथा कॉलेज की विंग का कैप्टन था. बुधवार और शनिवार को एयरविंग की परेड होती थी. उस ड्रेस में वो बहुत अच्छा लगता था और सुबह आते ही मुझे सैल्यूट करता था. उसकी इस हरकत पर पूरी क्लास में हंसी का फव्वारा फूट पड़ता था.

सौरभ कहता था, अवनि, तुम्हारे प्रति एक अनजाना-सा आकर्षण महसूस करता हूं मैं. एक किताब में भी पढ़ा था मैंने कि यूं तो दुनिया में करोड़ों स्त्री-पुरुष हैं, लेकिन किसी विशेष के प्रति हमारा आकर्षण इसलिए होता है, क्योंकि कुछ हार्मोन्स हमें आकर्षित करने के लिए प्रेरित करते हैं- और उससे आकर्षित होने को ही हम कहते हैं कि मुझे उससे प्यार हो गया है. दिल की धड़कनें बढ़ जाती हैं, उसके इंतज़ार में दिन-रात एक हो जाते हैं.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: पहले प्यार की आख़िरी तमन्ना (Pahla Affair: Pahle Pyar Ki Akhri Tamanna)

फिर सौरभ ने एयरविंग के माध्यम से एयरक्राफ्ट की ट्रेनिंग शुरू कर दी थी. वह छोटे प्लेन उड़ाने लगा था. उसका सपना पायलेट बनकर वायुसेना में जाने का था, जहां वह हिमालय की ऊंची-ऊंची वादियों में उड़ सके. लेकिन जब भी वो प्लेन उड़ाने जाता, मेरा दिल बहुत डरता. एक अनजाने भय से मैं कांप जाती.

इसी बीच हमारे फाइनल ईयर की परीक्षाएं ख़त्म हो गई थीं. सौरभ ने वायु सेना में जाने के लिए फॉर्म भरा था, जिसमें उसका सिलेक्शन भी हो गया था. उस समय वो बहुत ख़ुश था. और बोला था, ङ्गङ्घबस मेरी ट्रेनिंग पूरी हुई, नौकरी लगी कि इसके बाद हमारी शादी पक्की समझो.फफ हमारे घरवालों को भी हमारी पसंद पर कोई ऐतराज़ नहीं था.

उसके जाने के बाद रात-रात मैं सौरभ की कुशलता की कामना किया करती थी. हर पल मन बोझिल-सा रहता था, किसी काम में मन नहीं लगता था.

दिसंबर की ठंडी सुबह थी वो. फ़ोन की घंटी लगातार बज रही थी, बेमन से मैंने फ़ोन का रिसीवर उठाया. फ़ोन कानपुर से था. सौरभ के पिताजी बोल रहे थे, अवनि, एक प्रशिक्षण उड़ान के दौरान सौरभ का प्लेन क्रेश हो गया है… इसके आगे कुछ सुुनने की मेरी हिम्मत नहीं हुई और रिसीवर मेरे हाथ से छूट गया.

सौरभ हम सबसे बहुत ऊंचाई पर पहुंच गया था. इस आकाश, इस ब्रह्मांड से भी ऊपर. एक सुखद स्वप्न की तरह कॉलेज की यादें अब केवल यादें ही रह गई हैं. सौरभ की ज़िंदादिली, हंसमुख स्वभाव इतने सालों के बाद भी ज़ेहन में अपना सुरक्षित स्थान बनाये हुए है.

– अवनि

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: ख़्वाब (Pahla Affair: Khwab)

रिलेशनशिप एक्सपर्ट्स के मुताबिक़ नवंबर में शादी करनेवाले कपल्स सबसे ज़्यादा ख़ुशहाल रहते हैं, जबकि वैलेन्टाइन्स डे के दिन शादी करनेवाले 18-36% कपल्स के तलाक़ हो जाते हैं. आपकी शादी किस महीने में हुई है और आपकी शादीशुदा ज़िंदगी कैसी होगी, आइए जानते हैं.

Married Life

जनवरी

इस महीने में जिन लोगों की शादी होती है, उन पर कुंभ राशि का प्रभाव पड़ता है. इनका दांपत्य जीवन ख़ुशहाल रहता है. दोनों पार्टनर्स में आपसी समझ काफ़ी अच्छी रहती है. दोनों एक-दूसरे के प्रति वफ़ादार होते हैं. समय-समय पर इन कपल्स को रोमांटिक सरप्राइज़ेस और गिफ्ट्स मिलते ही रहते हैं.

लव टिप: हर रिश्ता उसे निभानेवाले पर निर्भर करता है, इसलिए अपने रिश्ते को ख़ुशहाल बनाए रखने के लिए अपना सौ प्रतिशत दें.

फरवरी

इस महीने शादी करनेवाले कपल्स की शादीशुदा ज़िंदगी को आप ‘इमोशनल जर्नी’ कह सकते हैं, क्योंकि दोनों ही पार्टनर्स एक-दूसरे के प्रति इमोशनल होते हैं. आप पर मीन राशि का प्रभाव पड़ता है, जिसके कारण आप एक-दूसरे के प्रति सारी ज़िम्मेदारियां निभाते हैं. कुछ मामलों में यह भी देखा गया है कि पति या पत्नी में से एक बहुत वफ़ादार होता है, पर दूसरा उतना वफ़ादार नहीं होता और रिश्ता बिखर जाता है. यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबॉर्न में हुई स्टडी में पता चला है कि जो लव बर्ड्स वैलेंटाइन्स डे के दिन शादी करते हैं, उनके रिश्ते के टूटने के चांसेस 18 से 36% होता है.

लव टिप: जब भी आपको लगे कि रिश्ता कमज़ोर पड़ रहा है, तभी एक रोमांटिक हनीमून प्लान करें. अपने रिश्ते को ट्रैक पर लाने का इससे बेहतर उपाय नहीं हो सकता.

मार्च

अगर आपकी शादी इस महीने में हुई है, तो आपकी शादी पर मेष राशि का प्रभाव पड़ता है. आपका रिश्ता काफ़ी उतार-चढ़ाव के दौर से गुज़रता है, जहां अच्छे समय के साथ-साथ आप दोनों बुरा समय भी देखते हैं. कभी-कभी ऐसा भी हो सकता है कि आपको अपने पार्टनर का रवैया ही समझ में न आए. कल जिस बात पर वो आपसे सहमत थे, आज उसी चीज़ के लिए आपकी बहस हो जाए. छोटी-छोटी बातों पर इनकी बहस हो सकती है.

लव टिप: इतना याद रखें कि नोक-झोंक हर रिश्ते में होती है, इसलिए उसे मन में रखकर न बढ़ाएं. एक-दूसरे के व्यक्तित्व व विचारों को समझने का प्रयास ही आपके रिश्ते को मज़बूत बनाएगा.

अप्रैल

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, यह महीना विवाह के लिए सबसे अनुकूल समय लेकर आता है. तभी तो आज भी ज़्यादातर शादियां अप्रैल के महीने में होती हैं. इस महीने शादी करनेवालों पर वृषभ राशि का प्रभाव पड़ता है. इनकी सेक्स लाइफ भी काफ़ी रोमांटिक होती है. वृषभ के प्रभाव के कारण कुछ पार्टनर्स में से एक बहुत डॉमिनेटिंग होता है, पर दूसरे के कूल होने के कारण रिश्ता आसानी से निभ जाता है.

लव टिप: अपने प्यार को जताने में ज़रा भी कंजूसी न करें. कभी चॉकलेट्स, कभी फूल, तो कभी प्रेमपत्र के ज़रिए समय-समय पर अपने प्यार को जताते रहें.

मई

इस महीने शादी करनेवालों पर मिथुन राशि का प्रभाव पड़ता है. जैसा कि इस राशि की ख़ूबी है, दो पहलू या दो रूप होने की, इस ख़ूबी का असर आपके रिश्ते पर भी पड़ता है. ऐसा माना जाता है कि इस महीने शादी करनेवालों के रिश्ते के सफल होने की जितनी गुंजाइश होती है, उतनी ही गुंजाइश इसके असफल होने की भी होती है. मतलब या तो आप जन्म-जन्मांतर तक साथ निभानेवाले कपल बनते हैं या फिर जल्द ही अपनी-अपनी नई राह चुन लेते हैं. ऐसा भी हो सकता है कि दो में से एक साथी का स्वभाव बहुत बुरा हो या फिर बहुत ही अच्छा हो.

लव टिप: अपने रिश्ते को सफल या असफल बनाना आप दोनों के हाथ में है. सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ शादी को पूरे दिल से निभाएं. कभी कुछ बुरा लगे, तो भी रिश्ते को बचाने की पूरी कोशिश करें.

यह भी पढ़ें: राशि के अनुसार चुनें लाइफ पार्टनर (Who Is Your Life Partner Based On Your Zodiac Sign?)

Married Life
जून

प्यार-दुलार के साथ-साथ दया भाव इन कपल्स में कूट-कूटकर भरा होता है, तभी तो लोग इनकी सफल शादी और प्यार की मिसालें देते हैं. अगर आपकी शादी इस महीने हुई है, तो आप पर कर्क राशि का प्रभाव पड़ता है. ये कपल्स एक-दूसरे के साथ एक-दूसरे के परिवार को भी बख़ूबी संभालते हैं. इसके अलावा अपनी आनेवाली पीढ़ी को सुरक्षित भविष्य देने की पूरी कोशिश करते हैं. कुल-मिलाकर कहें, तो ये सबसे ज़िम्मेदार और केयरिंग कपल्स होते हैं.

लव टिप: जब भी पार्टनर आपके या परिवार के लिए कुछ ख़ास करता है, तो उसके प्रयासों की सराहना करें. उन्हें जताएं कि वो आपके लिए कितने बहुमूल्य हैं.

जुलाई

इस महीने शादी करनेवालों पर सिंह राशि का प्रभाव पड़ता है. आप दोनों ही अपने रिश्ते को सफल बनाने के लिए अपना सौ प्रतिशत देते हैं और उसमें पूरी तरह सफल भी होते हैं. इस राशि का ऐसा प्रभाव है कि आप एक-दूसरे के प्रति हमेशा आकर्षण महसूस करते हैं. एक-दूसरे को आगे बढ़ाने की पूरी कोशिश करते हैं. आपका शाही अंदाज़ आप अपने पार्टनर कोे भी देते हैं, जिससे आपकी शादीशुदा ज़िंदगी रौनक़ से भरपूर होती है. आप अपने शादीशुदा रिश्ते से हमेशा संतुष्ट रहते हैं.

लव टिप: सेक्स लाइफ को बूस्ट करने के लिए हमेशा बेडरूम में कुछ नया ट्राई करें. आप चाहें, तो दोनों किसी एडवेंचर ट्रिप पर भी जा सकते हैं. यह आपके रिश्ते में नई जान डाल देगा.

अगस्त

एक्सपर्ट्स के मुताबिक़ इस महीने शादी करनेवाले कपल्स को बच्चे बहुत पसंद होते हैं, इसीलिए वो दो से ज़्यादा बच्चे पैदा करते हैं. इन्हें बड़ा परिवार  अच्छा लगता है. इस महीने शादी करनेवालों पर कन्या राशि का प्रभाव पड़ता है. इनकी ज़िंदगी में कई परेशानियां भी आती हैं, पर दोनों मिलकर उनका समाधान निकाल लेते हैं. अगर ये एक-दूसरे की पसंद-नापसंद का ध्यान रखें, तो इनका रिश्ता बहुत मज़बूत साबित होता है.

लव टिप: पतियों के लिए बहुत ज़रूरी है कि ‘तुम’ या ‘मैं’ की बजाय ‘हम’ शब्द का इस्तेमाल ज़्यादा करें. ‘हमें ऐसा करना चाहिए, हमारे लिए यह सही होगा…’ जैसे वाक्यों का ज़्यादा उपयोग करें. पत्नी को कभी अलग-थलग पड़नेवाली भावना का एहसास न होने दें.

यह भी पढ़ें: न्यूली मैरिड के लिए मॉडर्न ज़माने के सात वचन (7 Modern Wedding Vows For Newly Married)

Married Life
सितंबर

अगर आपकी शादी भी इस महीने में हुई है, तो आप पर तुला राशि का प्रभाव रहता है. तुला की ख़ूबियों के कारण ये कपल काफ़ी बैलेंस्ड रहते हैं और इसीलिए ‘परफेक्ट कपल’ कहलाते हैं. इनके बीच शायद ही कभी बड़ा झगड़ा होता हो. हर तरह के विवाद को ये आपसी सहमति से सुलझाते हैं. दोनों के बीच का तालमेल ही इनकी ख़ुशहाल शादीशुदा ज़िंदगी का राज़ है.

लव टिप: हर रोज़ रोमांस के लिए थोड़ा समय निकालें. एक-दूसरे को यूं ही निहारना, बांहों में भरना, चुपके से किस कर लेना… इन छोटी-छोटी शरारतों से लाइफ में रोमांस बनाए रखें.

अक्टूबर

इस महीने शादी करनेवालों के वैवाहिक जीवन पर वृश्‍चिक राशि का प्रभाव पड़ता है. वृश्‍चिक राशि के गुणों के प्रभाव के कारण इनकी सेक्स लाइफ बेहद रोमांटिक होती है. ये कपल एक-दूसरे के प्रति अपने प्यार और आकर्षण को बिल्कुल छिपाते नहीं. ज़िंदगी को खुलकर जीने के इनके फलस़फे का असर इनकी सक्सेसफुल मैरिड लाइफ में नज़र आता है. इनकी एक और ख़ूबी है कि ये किसी भी विपरीत परिस्थिति में पार्टनर को अकेला नहीं छोड़ते.

लव टिप: ‘तुम कितनी अच्छी हो…’ ‘मैं हमेशा तुम्हारे साथ हूं…’ ‘मैं समझता हूं…’ ‘मुझे माफ़ कर दो…’ ‘थैंक यू जी…’ ये वो वाक्य हैं, जो आपके रिश्ते में मिठास भरते हैं. रोज़ाना इन शब्दों का इस्तेमाल करें और देखें, किस तरह आपकी मैरिड लाइफ में मिठास बनी रहती है.

नवंबर

इस महीने शादी करनेवाले कपल्स सबसे ज़्यादा ख़ुशहाल या यूं कहें ‘हैप्पीएस्ट कपल’ माने जाते हैं. इन पर धनु राशि का प्रभाव होता है, जिसके कारण ये काफ़ी संवेदनशील होते हैं. एक-दूसरे की कमियों और ख़ामियों को समझकर रिश्ता निभा लेना ही इनके रिश्ते की ख़ूबी है. ये कपल अपने प्यार को पहली प्राथमिकता देते हैं.

लव टिप:  रोज़ाना ऑफिस से आने के बाद एक-दूसरे को गले लगाएं. शादी के पहलेवाले रोमांच को बनाए रखने के लिए शादी के बाद भी हर महीने या दो महीने में डेट पर ज़रूर जाएं. प्यार के ख़ूबसूरत एहसास से अपने रिश्ते को सराबोर रखें.

दिसंबर

इस महीने शादी करनेवालों पर मकर राशि का प्रभाव रहता है. ऐसा देखा गया है कि सबसे रोमांटिक कपल्स दिसंबर में शादी करते हैं. सुरक्षित भविष्य की चाह में ये सेविंग्स और इन्वेस्टमेंट को बहुत तवज्जो देते हैं, जिससे कभी-कभी एक-दूसरे के लिए समय नहीं निकाल पाते, पर प्यार हमेशा इनकी पहली प्राथमिकता बना रहता है.

लव टिप: उतार-चढ़ाव हर क्षेत्र में लगा रहता है, इसलिए फाइनेंस संबंधी मामलों में कभी ज़िद न करें.  रोज़ाना 10 मिनट का ‘वी टाइम’ ज़रूर निकालें. एक-दूसरे से दिनभर की बातें और क़िस्से शेयर करें.

– संतारा सिंह

यह भी पढ़ें: शादी के दिन दूल्हा-दुल्हन न करें ये 18 ग़लतियां (18 Common Mistakes Brides And Grooms Must Avoid)

Pahla Affair

पहला अफेयर: पहले प्यार की आख़िरी तमन्ना (Pahla Affair: Pahle Pyar ki Akhri Tamanna)

कहते हैं, इंसान कितना भी चाहे, पर वो अपने पहले प्यार को कभी नहीं भुला पाता. पहले प्यार का एहसास, उसकी यादें उम्रभर जेहन में ज़िंदा रहती हैं. उम्र के किस मोड़ पर, कब कोई अपना-सा लगे कोई नहीं जानता. मुझे भी कहां पता था कि आज से बीस बरस पीछे छूट गई उन यादों की गलियों में मुझे फिर से भटकना पड़ेगा, जिन्हें मैं पीछे छोड़ आई थी.

आज उनके अचानक मिले इस संक्षिप्त पत्र ने फिर से मुझे उनके क़रीब पहुंचा दिया है. उनसे मेरी मुलाक़ात कॉलेज फंक्शन में हुई थी. वो मेरे सीनियर थे. मुलाक़ातें धीरे- धीरे दोस्ती में बदलीं और दोस्ती कब प्यार में बदल गयी, पता ही नहीं चला.

एक दिन वो मेरे पास आए और अपने प्यार का इज़हार कर दिया. मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि मैं क्या कहूं. दिल के ज़ज़्बात ज़बान तक लाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रही थी. कैसे कहती उनसे कि उनके सिवा कोई ख़यालों में आता ही नहीं, उनके अलावा किसी और को चाहा ही नहीं. पर बात दिल की दिल में ही रह गयी, मैं उनसे कुछ नहीं कह पायी. मेरे जवाब न देने की स्थिति में उन्होंने अपना फ़ोन नंबर देते हुए कहा कि वो मेरे फ़ोन का इंतज़ार करेंगे.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: तुमसा कोई न मिला (Pahla Affair: Tumsa Koi Na Mila)

घर पहुंच कर आईने के सामने न जाने कितनी बार ख़ुद को उनके जवाब के लिए तैयार किया, पर दिल की बात ज़बान तक नहीं ला सकी. मैं जितना ही उनके बारे में सोचती, उतना ही ख़ुुद को उनके क़रीब महसूस करती.
लेकिन मेरे प्यार के परवान चढ़ने से पहले ही उसे मर्यादाओं की बेड़ी में जकड़ जाना पड़ा. माता- पिता ने रिश्ता पक्का करने के साथ-साथ शादी की तारीख़ भी पक्की कर दी. मुझमें विरोध करने का साहस नहीं था, इसलिए चुपचाप घरवालों की मर्ज़ी से शादी कर ली- जवाब देना तो दूर, आख़िरी बार उन्हें देखना तक नसीब न हुआ.

शादी के बाद ज़िम्मेदारियों के बोझ तले कभी- कभार पहले प्यार की यादें ताज़ा हो भी जातीं तो मैं उन्हें ख़ुुद पर हावी न होने देती. पति-ससुराल वालों से कोई शिकायत नहीं थी, फिर भी हमेशा ये लगता कि कहीं कुछ छूट गया है. पति बहुत प्यार करते, लेकिन फिर भी मेरे मन में किसी और का ख़याल रहता. मगर तक़दीर का लिखा कौन टाल पाया है. आज इतने सालों बाद अचानक उनका पत्र आया है जिसमें लिखा है-
प्रिये,
सदा ख़ुुश रहो. मैंने तुम्हारा बहुत इंतज़ार किया,पर अब और न कर सकूंगा, क्योंकि शरीर ने साथ न देने का ़फैसला कर दिया है. व़क़्त बहुत कम है, आख़िरी बार तुम्हें देखने की तमन्ना है. हो सके तो आ जाओ.
तुम्हारा-आकाश

पत्र पढ़कर मुझे अपने कायर होने का एहसास हो रहा है. मुझमें तो अब भी साहस नहीं कि मैं दुनिया वालों को क्या, उन्हें ही बता सकूं कि मैं उन्हें कितना प्यार करती हूं. आज एक बार फिर मुझे औरत होने का हर्जाना चुकाना है, अपने पहले प्यार की आख़िरी तमन्ना भी पूरी न करके. शायद ङ्गमेरी सहेलीफ के माध्यम से ही उन्हें मेरा जवाब मिल जाए- और उनकी ज़िंदगी से पहले उनका इंतज़ार ख़त्म
हो जाए.

– दीपमाला सिंह

यह भी पढ़ें: तुम्हारी कत्थई आंखें (Pahla Affair: Tumhari Kathai Ankhen)

Quick Recipes (E-Book)

Quick Recipes (E-Book)

Rs.30

Bridal Guide (E-Book)

Rs.30

Hair Style (E-Book)

Rs.30

Pyar Ki Kahani
पहला अफेयर: ख़ामोशियां चीखती हैं… (Pahla Affair: Khamoshiyan Cheekhti Hain)

हमारी दोस्ती का आग़ाज़, शतरंज के मोहरों से हुआ था. जब शबीना अपने प्यादे से मेरे वज़ीर को शह देती, तो पूरा हॉल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठता… और कहीं मेरा ऊंट उसके प्यादे को भगा-भगाकर बेहाल कर देता, तब उसके ग़ुस्सैल चेहरे की मायूसी देखती बनती.

आज उसकी वही बचकाना हरक़तें याद आती हैं, तो मन से एक हूक उठती है. एक साथ घूमना-फिरना, मौज-मस्ती के वो दिन… न जाने कहां गुम हैं? नहीं जानता वो दोस्ताना हाथ क्यों पीछे हट गया. उफ़़्फ्! व़क्त की गर्द ने मुझे अपनी आग़ोश में लपेट लिया है.
जब-जब मैंने गंभीर हो उसके भविष्य के बारे में कुछ कहा, तो उसने हर बात हंसकर हवा में उड़ा दी. जैसे कोई जासूसी किताब पढ़ रही हो. मैं नादान कहां पढ़ पाया उसके भीतरी निबंध!

न जाने कितने ख़त लिख-लिख पानी में बहाए हैं और कितने किताबों में ़कैद हैं. जो उसकी सहेली शमीम के हाथ भेजे, उनका भी कोई जवाब न आया. व़क्त मुट्ठी से रेत-सा कैसे फिसलता रहा… मैं कहां जान पाया! बस, उसकी चुप्पी अंदर-ही-अंदर सालती है.

शमीम की बातों ने मेरा पूरा वजूद हिला दिया. शमीम से जाना कि उसने किसी अमीर साहिबज़ादे से दोस्ती कर ली है. इस ख़बर ने तो जैसे मेरे जीवन में सूनामी-सा बवंडर ला खड़ा किया.

“जब भंवर में आ गई कश्ती मेरी, नाख़ुदा ने क्यों किनारा कर लिया…”

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: मंज़िल (Pahla Affair: Manzil)

हिम्मत जुटाकर एक दिन मैंने फोन घुमाया… उधर से मर्दाना आवाज़ थी, “हैलो, अरे तुम… राशिद! कहो कैसे फोन किया?”

मैं जल्द ही बोला, “अब्बाजान आदाब! ज़रा सबीना से बात कराएंगे?”

उनके अब्बा की आवाज़ अटकी, “उनसे मिलने कोई आया है. वे गुफ़्तगू में मशग़ूल हैं.”

“आप कहें राशिद का फोन था.” मेरी बात काट उन्होंने खट से फोन रख दिया. कुछ समय मुझ पर बेख़ुदी का आलम रहा, फिर एक दिन

मैंने रात को फोन घुमाया. उधर से सबीना की आवाज़ थी,“कौन?”

“हम हैं राशिद! अरे, इतनी जल्दी आवाज़ भी भूल गई.”

उसने तरकश से ज़हर बुझा तीर छोड़ा, “सुनो, मैंने अपनी ज़िंदगी का मक़सद पा लिया है. अच्छा होगा, तुम भी अपनी कश्ती का रुख मोड़ दो…” और खटाक से फोन कट गया.

उसका फेंका हुआ वह एक जुमला मेरा जिगर चाक-चाक कर गया. उफ़़्फ्! हुस्न पर इतना ग़ुरूर? जी चाहा सबीना को पकड़कर पूछूं कि ये सुनहरे सपनों का जाल क्यों बिछाया? इतने रंगीन नज़ारों की सैर क्यों कराई? यूं शतरंज के मोहरे-सा उठाकर पटकना कहां की वफ़ादारी है? वाह! क्या दोस्ती निभाई!

अब तो हर तरफ़ दमघोंटू माहौल है… उसकी बेवफ़ाई का कारण अब तक नहीं जान पाया और अगर उसने तय ही कर रखा था कि साथ नहीं निभाना, तो मन से, भावनाओं से क्यों ऐसा खेलकर चली गई. साफ़-साफ़ कह देती कि बस दोस्ती रखनी है, उसके बाद हमारे रास्ते अलग हैं… क्यों मुझे मुहब्बत की हसीन दुनिया दिखाई और क्यों मैं उसकी आंखों को ठीक से पढ़ नहीं पाया. अब तो बस, मैं हूं और मेरी तन्हाई! ये ख़ामोशियां अब चीखने लगी हैं. मेरे पहले प्यार का यह हश्र होगा… नहीं जानता था. अब तो ये ख़ामोशियां ही मुझसे बतियाती हैं… मेरा मन बहलाती हैं…!

कहीं दूर से एक आवाज़ आ रही है…

“धीरे-धीरे अंदर आना… बिल्कुल शोर न करना तुम…
तन्हाई को थपकी देकर… मैंने अभी सुलाया है…”

– मीरा हिंगोरानी

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: खिला गुलाब की तरह मेरा बदन… (Pahla Affair: Khila Gulab Ki Tarah Mera Badan)

Quick Recipes (E-Book)

Quick Recipes (E-Book)

Rs.30

Bridal Guide (E-Book)

Rs.30

Hair Style (E-Book)

Rs.30

मास्टबेशन (Masturbation) यानी हस्तमैथुन को लेकर पुराने समय से कई भ्रांतियां चली आ रही हैं, जैसे- यह पाप है, हस्तमैथुन करनेवाले अंधे हो सकते हैं, नपुंसक हो सकते हैं, उन्हें मुंहासे ज़्यादा होते हैं और यहां तक कि कुछ लोगों में यह भ्रम इस कदर बैठा है कि उन्हें लगता है कि मास्टरबेशन करनेवाले मानसिक रोगी हो सकते हैं या फिर वे अपने यौनांगों को नुक़सान पहुंचा सकते हैं. पर ये सब महज़ ग़लत भ्रांतियां हैं. सेक्सोलॉजिस्ट और सेक्स एक्सपर्ट्स की मानें, तो मास्टरबेशन आपके लिए काफ़ी हेल्दी है. यह आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बेहद फ़ायदेमंद होता है.

Health Benefits Of Masturbation

1. स्ट्रेस फ्री महसूस करते हैं

जब ऑर्गैज़्म आता है, तो शरीर में एंडॉर्फिन तेज़ी से बढ़ते हैं. ये एक तरह के न्यूरोट्रांसमीटर्स होते हैं, जो हम में पॉज़िटिव एहसास जगाकर हमें ख़ुशी देते हैं. ज़रूरी नहीं कि हर बार मास्टरबेट करने पर आपको ऑर्गैज़्म मिले, लेकिन उससे ज़्यादा ज़रूरी है उस एक्ट की ख़ुशी, जो आपको स्ट्रेस फ्री करता है.

2. डिप्रेशन सेे बचाता है

तनाव और निराशा अक्सर डिप्रेशन का कारण बनते हैं, लेकिन जब आप ख़ुद को अच्छा फील कराना चाहते हैं, तो यह आपको डिप्रेशन से बचाता है. शहरों में बहुत-से लोग अकेलेपन के कारण डिप्रेशन के शिकार होने लगते हैं, ऐसे में ख़ुद से साथ बिताया यह क्वालिटी समय आपको डिप्रेशन से बचाता है.

3. इम्यूनिटी बढ़ाता है

बहुत-से हेल्थ एक्सपर्ट इस बात को दावे के साथ पेश करते हैं कि मास्टरबेशन आपके इम्यून सिस्टम को भी स्ट्रॉन्ग बनाता है. दरअसल, एक रिसर्च में यह बात सामने आई कि ऑर्गैज़्म के बाद शरीर में व्हाइट सेल्स की मात्रा बढ़ जाती है, जो हमें बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं.

4. पेल्विक फ्लोर स्ट्रॉन्ग होता है

मास्टरबेशन एक छोटे-से एक्सरसाइज़ सेशन जैसा होता है, इसलिए इसके करने से पेल्विक फ्लोर मज़बूत होता है, जो महिलाओं को पीरियड्स के दौरान होनेवाले दर्द से राहत दिलाता है.

5. देता है सुकूनभरी गहरी नींद

यह जितना आपको ख़ुशी का एहसास दिलाता है, उतना ही थका भी देता है, जिससे आपको तुरंत बहुत अच्छी नींद आती है. गहरी नींद हमारे शरीर को अच्छी तरह रिकवर होने में मदद करती है. संपूर्ण शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है.

यह भी पढ़ें: सेक्सुअल पावर बढ़ाने की अमेज़िंग किचन रेमेडीज़ (Amazing Kitchen Remedies To Increase Sexual Stamina)

यह भी पढ़ें: पहली बार सेक्सुअल रिलेशन से पहले जानें ये 10 बातें (10 Things To Know Before Having Sex For The First Time)

Health Benefits Of Masturbation
6. हेल्दी हार्ट का सौग़ात

मास्टरबेशन के दौरान जब हम एक्साइटेड हो जाते हैं, तो शरीर में रक्तसंचार बढ़ जाता है. ख़ासतौर से हृदय और यौनांगों में रक्तसंचार बढ़ जाता है, जो हेल्दी हार्ट के लिए बहुत ज़रूरी है. मास्टरबेशन एक तरह की एक्सरसाइज़ है, जो हमें हेल्दी बनाए रखने में मदद करती है.

7. एसटीडी का ख़तरा नहीं

मास्टरबेशन का यह एक और फ़ायदेमंद पहलू है कि इससे आप सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़ से बचे रहते हैं, इसीलिए यह सेफ माना जाता है. साथ ही आपको प्रेग्नेंसी होने का किसी तरह का डर भी नहीं रहता.

8. ख़ुद से प्यार करना सीखते हैं आप

जब आप अपने साथ क्वालिटी समय बिताते हैं, तो ख़ुद के बारे में अच्छा महसूस करते हैं. आप ख़ुद से प्यार करना सीखते हैं. यह एहसास आपका आत्मविश्‍वास बढ़ाता है, जिससे आप हमेशा ख़ुशगवार महसूस करते हैं.

9. पार्टनर से सेक्स एक्सपीरियंस होता है बेहतर

मास्टरबेशन कामोत्तेजना की भावना को बढ़ाता है, जिससे आपकी सेक्स लाइफ और बेहतर होती है. पार्टनर के प्रति आपका आकर्षण और भी बढ़ जाता है, इसीलिए बहुत-से सेक्सोलॉजिस्ट पार्टनर्स से स़िर्फ सेक्स न करके मास्टरबेशन की सलाह भी देते हैं.

10. आपका आत्मविश्‍वास बढ़ता है

जब आप ख़ुश रहते हैं, तो ख़ुद के बारे में पॉज़िटिव महसूस करते हैं, जो आपको हेल्दी और फिट रखने में मदद करता है. आत्मविश्‍वास की कमी अच्छे-ख़ासे रिश्ते को बिगाड़ सकती है, इसलिए आत्मविश्‍वासी रहकर आप जीवन के हर क्षेत्र में तऱक्क़ी कर सकते हैं.

– अनीता सिंह

यह भी पढ़ें: 20 सेक्स फैक्ट्स, जो हर कपल जानना चाहता है (20 Sex Facts Every Couple Must Know)