Maa Durga

कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी
या देवी सर्वभूतेषु मां कात्यायनी रूपेण
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः

नवरात्रि के छठवें दिन मां कात्यायनी की आराधना की जाती है.
मां कात्यायनी फलदायिनी मानी गई हैं.
हाथ में फूल लेकर देवी को प्रणाम कर उपरोक्त मंत्रोच्चार करना चाहिए.
यदि देवी कात्यायनी की पूरी निष्ठा और भक्ति भाव से पूजा करते हैं, तो अर्थ व मोक्ष की प्राप्ति होती है.
चार भुजाधारी मां कात्यायनी सिंह पर सवार हैं.
इनके एक हाथ में तलवार और दूसरे में कमल है.
अन्य दोनों हाथ वरमुद्रा और अभयमुद्रा में हैं.

  • शास्त्रों के अनुसार, कात्यायन ऋषि के घर देवी ने पुत्री के रूप में जन्म लिया, इसलिए इनका नाम कात्यायनी पड़ा.
  • इसी रूप में देवी ने महिषासुर दानव का वध किया था, इसलिए मां कात्यायनी को महिषासुरमर्दिनी के नाम से भी जाना जाता है.
  • मां कात्यायनी ने महिषासुर से युद्ध के समय अपनी थकान को दूर करने के लिए शहदयुक्त पान का सेवन किया था, इसलिए मां कात्यायनी के पूजन में शहदयुक्त पान ज़रूर चढ़ाना चाहिए.
  • इस दिन लाल रंग विशेष रूप से शुभ माना जाता है, इसलिए लाल रंग का वस्त्र धारण करें.
  • मां कात्यायनी की पूजा-अर्चना करने से जीवन की सारी परेशानियां व बाधाएं स्वतः ही दूर हो जाती हैं.
  • यदि किसी कन्या के शादी में अड़चनें व परेशानियां आ रही हो, तो उसे मां कात्यायनी का व्रत व पूजन करना चाहिए.
  • विद्यार्थियों को मां कात्यायनी की विशेष रूप से पूजा-उपासना करनी चाहिए. इससे शिक्षा के क्षेत्र में सफलता अवश्य प्राप्त होती है.

यह भी पढ़े: नवरात्रि स्पेशल- समस्त इच्छाओं को पूर्ण करनेवाली स्कन्दमाता 

यह भी पढ़े: नवरात्रि स्पेशल- आदिदेवी कूष्मांडा

यह भी पढ़े: नवरात्रि स्पेशल- कल्याणकारी व शांति की प्रतीक देवी चंद्रघंटा

ध्यान

वन्दे वांछित मनोरथार्थ चन्द्रार्घकृत शेखराम्।
सिंहरूढ़ा चतुर्भुजा कात्यायनी यशस्वनीम्॥
स्वर्णाआज्ञा चक्र स्थितां षष्टम दुर्गा त्रिनेत्राम्।
वराभीत करां षगपदधरां कात्यायनसुतां भजामि॥
पटाम्बर परिधानां स्मेरमुखी नानालंकार भूषिताम्।
मंजीर, हार, केयूर, किंकिणि रत्नकुण्डल मण्डिताम्॥
प्रसन्नवदना पञ्वाधरां कांतकपोला तुंग कुचाम्।
कमनीयां लावण्यां त्रिवलीविभूषित निम्न नाभिम॥

स्तोत्र

कंचनाभा वराभयं पद्मधरा मुकटोज्जवलां।
स्मेरमुखीं शिवपत्नी कात्यायनेसुते नमोअस्तुते॥
पटाम्बर परिधानां नानालंकार भूषितां।
सिंहस्थितां पदमहस्तां कात्यायनसुते नमोअस्तुते॥
परमांवदमयी देवि परब्रह्म परमात्मा।
परमशक्ति, परमभक्ति,कात्यायनसुते नमोअस्तुते॥

कवच

कात्यायनी मुखं पातु कां स्वाहास्वरूपिणी।
ललाटे विजया पातु मालिनी नित्य सुन्दरी॥
कल्याणी हृदयं पातु जया भगमालिनी॥

यह भी पढ़े: नवरात्रि स्पेशल- तपस्या व त्याग की देवी मां ब्रह्मचारिणी

यह भी पढ़े: नवरात्र स्पेशल: किस राशि वाले किस देवी की पूजा करें

Devi Katyayani

मां दुर्गा के विभिन्न रूपों और स्वरूपों के दर्शन करें और आशीर्वाद लें! आप सभी को नवरात्रि की शुभकामनाएँ!

यह भी पढ़ें: नवरात्रि स्पेशल- तपस्या व त्याग की देवी मां ब्रह्मचारिणी (Navratri Special- Worship Devi Brahmcharini)

नवरात्र में व्रत-पूजा की तरह ही भोग का भी बहुत महत्व होता है. मां के नौ रूपों को कौन-से नौ भोग लगाने चाहिए, आइए जानते हैं.
प्रतिपदा: रोगमुक्त रहने के लिए मां शैलपुत्री को गाय के घी से बनी स़फेद चीज़ों का भोग लगाएं.
द्वितीया: लंबी उम्र के लिए मां ब्रह्मचारिणी को मिश्री, चीनी और पंचामृत का भोग लगाएं.
तृतीया: दुख से मुक्ति के लिए मां चंद्रघंटा को दूध और उससे बनी चीज़ों का भोग लगाएं.
चतुर्थी: तेज़ बुद्धि और निर्णय लेने की क्षमता बढ़ाने के लिए मां कुष्मांडा को मालपुए का भोग लगाएं.
पंचमी: स्वस्थ शरीर के लिए मां स्कंदमाता को केले का भोग लगाएं.
षष्ठी: आकर्षक व्यक्तित्व और सुंदरता पाने के लिए मां कात्यायनी को शहद का भोग लगाएं
सप्तमी: शोक व संकटों से बचने के लिए मां कालरात्रि की पूजा में गुड़ का नैवेद्य अर्पित करें.
अष्टमी: संतान संबंधी समस्या से छुटकारा पाने के लिए मां महागौरी को नारियल का भोग लगाएं.
नवमी: सुख-समृद्धि के लिए मां सिद्धिदात्री को हलवा, चना-पूरी, खीर आदि का भोग लगाएं.
यह भी पढ़ें: नवरात्रि स्पेशल- आज करें देवी शैलपुत्री की पूजा
यह भी पढ़ें: नवरात्र स्पेशल: किस राशि वाले किस देवी की पूजा करें 
यह भी पढ़ें: नवरात्र स्पेशल: 10 सरल उपाय नवरात्र में पूरी करते हैं मनचाही मुराद
नवरात्र पर्व की शुरुआत हो रही है. नौ दिनों तक चलने वाले इस पर्व में माता के विभिन्न स्वरूपों की पूजा की जाती है और उन्हें प्रसन्न करने के लिए विभिन्न साधनाएं भी की जाती हैं. नवरात्रि में किस राशि वाले किस देवी की पूजा करें, इसके बारे में बता रहे हैं पंडित राजेंद्रजी.
किस राशि वाले किस देवी की पूजा करें
नवरात्रि में किस राशि वाले किस देवी की पूजा करें: 
1) मेष: स्कंदमाता की पूजा करें, दुर्गा चालीसा का पाठ करें
2) वृषभ: महागौरी स्वरूप की पूजा करें, ललिता सहस्रनाम का पाठ करें
3) मिथुन: ब्रह्मचारिणी की पूजा करें, दुर्गा द्वादश का पाठ करें
4) कर्क: शैलपुत्री की पूजा करें, लक्ष्मी सहस्रनाम का पाठ करें
5) सिंह: कुष्मांडा देवी की आराधना करें, दुर्गा मंत्र का जाप करें
6) कन्या: ब्रह्मचारिणी की उपासना करें, लक्ष्मी मंत्र का जाप करें
7) तुला: महागौरी की पूजा करें, काली चालीसा पढ़ें
8) वृश्‍चिक: स्कंदमाता का ध्यान करें, दुर्गा सप्तशती पढ़ें
9) धनु: चंद्रघंटा की आराधना करें, दुर्गा कवच का पाठ करें
10) मकर: मां काली की उपासना करें, ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे मंत्र का जाप करें
11) कुंभ: मां कालरात्रि की आराधना करें, सिद्ध कुंजिका स्तोत्र का जाप करें
12) मीन: चंद्रघंटा की पूजा करें, हल्दी की माला से बगलामुखी मंत्र का जाप करें
नवरात्रि में इन पांच में से कोई भी एक चीज़ घर पर लाने से समस्याएं दूर होती हैं:
1) नवरात्रि में किसी शुभ मुहूर्त पर तुलसी का पौधा घर लाकर उसे गमले में रोपें. सुबह-शाम इस पौधे के पास दीपक जलाएं तथा इसे जल से सींचें. इससे मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है. धन तथा परिवार संबंधी सभी समस्याओं का निवारण होता है.
 2) शुभ मुहूर्त में केले के पौधे को घर लाएं. उसे गमले में लगाएं, नौ दिन तक जल चढ़ाएं. गुरुवार पूजा करके जड़ में थोड़ा कच्चा दूध भी चढ़ाएं. ऐसा करने से धन की आवक शुरू हो जाती है.
 3) शुभ मुहूर्त में बड़ का पत्ता तोड़ें तथा उस पर ताज़ी हल्दी से स्वस्तिक बनाकर घर के पूजा स्थल में रख लें. ऐसा करने से आपके सारे काम बनने लगेंगे.
 4) भगवान शिव को अतिप्रिय धतूरा मां काली की पूजा में भी काम आता है. नवरात्रि में धतूरे की जड़ को शुभ मुहूर्त में घर में स्थापित कर मां के बीजमंत्र क्रीं का जाप करें. ऐसा करने से समस्याएं कम होने लगती हैं.
 5) नवरात्रि में किसी भी शुभ मुहूर्त पर शंखपुष्पी की जड़ लाएं. इस जड़ को चांदी की डिब्बी में रखकर घर की तिजोरी या अलमारी में रख दें. ऐसा करने से कभी पैसे की कमी नहीं होती है.

नवरात्रि में मां दुर्गा जैसे साक्षात आशीर्वाद देने घर घर चली आती हैं, उनका हर रूप वंदनीय है, पूजनीय है… जानें माता रानी के 9 रूपों को और जी भरकर करें दर्शन और लें उनका आशीष, देखें यह वीडियो!

यह भी पढ़ें: नवरात्रि स्पेशल: 10 सरल उपाय नवरात्र में पूरी करते हैं मनचाही मुराद (Navratri Special: 10 Special Tips For Navratri Puja)

ऐसी मान्यता है कि नवरात्र के लिए किए गए उपाय जल्दी ही शुभ फल प्रदान करते हैं. धन, संतान, प्रमोशन, विवाह, रुके हुए कार्य… कई मनोकामनाएं इन 9 दिनों में किए गए उपायों से पूरी हो सकती हैं. अगर आपके मन में भी कोई मनोकामना है, तो पंडित राजेंद्रजी के बताए गए उपायों से आपकी मनोकामना अवश्य पूरी होगी.

* कर्जमुक्ति के लिए करें ये उपाय
यदि लाख कोशिशों के बाद भी आपका कर्ज से पीछा नहीं छूट रहा, तो नवरात्र में सूर्य डूबने के पश्‍चात 21 गुलाब के फूल, सवा किलो साबूत लाल मसूर लाल कपड़े में बांधकर माता के सामने रखकर घी का दीपक जलाकर रोज़ाना 108 बार ये मंत्र पढ़ें- ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे
पूजा समाप्त होने के बाद अपने ऊपर सात बार उतारें व किसी को भी दान कर दें. माता से कर्ज मुक्ति की प्रार्थना करें. ऐसा करने से आपको अवश्य कर्ज से मुक्ति मिलेगी.

यह भी पढ़ें: नवरात्र स्पेशल: किस राशि वाले किस देवी की पूजा करें

 

* मनोकामना पूरी करने के लिए करें ये उपाय
पूरे नौ दिन अखंड दीपक व घट के सामने बैठकर सिद्ध कुजिका स्त्रोत का पाठ करें. हर दिन एक-एक गुलाब का फूल बढ़ाते जाएं. नौवें दिन नौ गुलाब अर्पण कर मां से प्रार्थना करें. ऐसा करने से मनोकामना पूरी होती है.

Special Tips, Navratri Puja

* विवाह के लिए करें ये उपाय
अर्गला स्तोत्र व कीलकम् का पाठ रोज़ाना माता के सामने करें व हलवा का भोग चढ़ाकर एक कमल का पुष्प अर्पण करें. ऐसा करने से आपकी विवाह की चाहत पूरी हो जाएगी. श्रद्धा और विश्‍वास से प्रार्थना करने से मनोकामना ज़रूर पूरी होती है.

यह भी पढ़ें: नवरात्र स्पेशल: किस दिन क्या भोग लगाएं 

* धनवृद्धि के लिए करें ये उपाय
पूरी नवरात्रि में लाल आसन पर बैठकर संध्याकाल में जो जातक विष्णु सहस्रनाम तथा ललिता सहस्रनाम का पाठ करता है और रोज़ाना एक कमल का पुष्प माता को अर्पण करता है. सात्विक रहता है, आचरण ठीक रखता है, कलह नहीं करता… ये सारे पालन करते हुए ऊपर दिया उपाय जो भी जातक करता है, मां उस पर प्रसन्न होकर धन वर्षा अवश्य करती है और उसके कष्टों को हरती है.

यह भी पढ़ें: नवरात्रि स्पेशल- आज करें देवी शैलपुत्री की पूजा

 

Navratri Puja Devi Chandraghanta

 

या देवी सर्वभूतेषु माँ चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥

नवरात्रि के तीसरे दिन चंद्रघंटा देवी की पूजा की जाती है.
देवी का यह स्वरूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है.
इनके मस्तक पर घंटे के आकार का आधा चंद्र है,
इसलिए इन्हें चंद्रघंटा कहा जाता है.
इनके दस हाथ हैं, जो कमल, धनुष-बाण, कमंडल,
त्रिशूल, गदा, खड्ग, अस्त्र-शस्त्र से विभूषित हैं.
चंद्रघंटा देवी की सवारी सिंह है.

यह भी पढ़े: नवरात्रि पर विशेष: आरती… मां अम्बे की

पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता

इस दिन सांवली रंगत की महिला को घर बुलाकर पूजा-अर्चना करें.
भोजन में दही-हलवा आदि खिलाएं.
कलश व मंदिर की घंटी भेंट करें.
इनकी आराधना करने से निर्भयता व सौम्यता दोनों ही प्राप्त होती है.
इनके घंटे की ध्वनि सदा अपने भक्तों की प्रेतबाधा से रक्षा करती है.

                           स्त्रोत मंत्र

ध्यान वन्दे वाच्छित लाभाय चन्द्रर्घकृत शेखराम।
सिंहारूढा दशभुजां चन्द्रघण्टा यशंस्वनीम्घ
कंचनाभां मणिपुर स्थितां तृतीयं दुर्गा त्रिनेत्राम।

खड्ग, गदा, त्रिशूल, चापशंर पद्म कमण्डलु माला वराभीतकराम्घ
पटाम्बर परिधानां मृदुहास्यां नानालंकार भूषिताम।
मंजीर हार, केयूर, किंकिणि, रत्नकुण्डल मण्डिताम्घ
प्रफुल्ल वंदना बिबाधारा कांत कपोलां तुग कुचाम।

कमनीयां लावाण्यां क्षीणकटिं नितम्बनीम्घ
स्तोत्र आपद्धद्धयी त्वंहि आधा शक्तिरू शुभा पराम।
अणिमादि सिद्धिदात्री चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यीहम्घ्
चन्द्रमुखी इष्ट दात्री इष्ट मंत्र स्वरूपणीम।

धनदात्री आनंददात्री चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्घ
नानारूपधारिणी इच्छामयी ऐश्वर्यदायनीम।
सौभाग्यारोग्य दायिनी चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्घ्
कवच रहस्यं श्रणु वक्ष्यामि शैवेशी कमलानने।

श्री चन्द्रघण्टास्य कवचं सर्वसिद्धि दायकम्घ
बिना न्यासं बिना विनियोगं बिना शापोद्धरं बिना होमं।
स्नान शौचादिकं नास्ति श्रद्धामात्रेण सिद्धिकमघ
कुशिष्याम कुटिलाय वंचकाय निन्दकाय च।