Tag Archives: married couples

ज़रूरी है रिश्तों की भी पॉलिशिंग (Healthy And Happy Relationship Goals All Couples Should Create Together)

व़क्त की धूल, समय की परत… हर चीज़ को धीरे-धीरे पुराना, ग़ैरज़रूरी या यूं कहें कि बासी करने लगती है. हमें ऊब-सी होने लगती है, क्योंकि एक ही तरह का रूटीन, एक ही ढर्रे पर चल रही ज़िंदगी में हमें एक्साइटमेंट जैसा कुछ नहीं लगता. यही बात रिश्तों पर भी लागू होती है. रिश्ते भी धीरे-धीरे रूटीन बन जाते हैं. उनमें वो ऊर्जा व गर्माहट गायब-सी होने लगती है, जो उन्हें हमेशा ज़िंदा रखने के लिए ज़रूरी होती है. ऐसे में जिस तरह से हम चीज़ों को पॉलिश करके नया बनाने की कोशिश करते हैं, ठीक उसी तरह रिश्तों में भी पॉलिशिंग की ज़रूरत होती है. समय-समय पर यह होती रहे, तो रिश्तों की चमक व ताज़गी बनी रहती है, वरना वो उबाऊ लगने लगते हैं.

 Happy Relationship Goals

कुछ नया करें

जब भी आपको महसूस हो कि रिश्ते रूटीन बनते जा रहे हैं, कुछ नया करें. ऐसा कुछ जिससे सामनेवाले को भी महसूस हो कि यह तो हमने सोचा ही नहीं था. इससे नए सिरे से आप उन रिश्तों को जीने लगते हैं. ये नयापन किसी भी तरह से आप ला सकते हैं. चाहें तो सरप्राइज़ेस के ज़रिए या अपनी कोई ऐसी बुरी आदत त्यागकर जिससे पार्टनर को ख़ुशी महसूस हो और उसे लगे कि आपने उसके लिए कुछ किया है.

रोमांटिक लाइफ को रिक्रिएट करें

एक समय के बाद लाइफ से रोमांस लगभग गायब-सा हो जाता है या यूं कहें कि वो बैकफुट पर चला जाता है और ज़िम्मेदारियां फ्रंटफुट पर आ जाती हैं. आप ऐसा होने से रोक सकते हैं. रोमांस के लिए स़िर्फ भावनाएं काफ़ी होती हैं. ज़रूरी नहीं कि आपको महंगे गिफ्ट्स लाने हैं या चांद-तारों पर जाने की बात कहनी है. आप पार्टनर को पल-पल यह महसूस करवा सकते हैं कि आप उनसे कितना प्यार करते हैं. कभी प्यारभरे सरप्राइज़्ड फोन कॉल्स से, कभी मैसेजेस से, कभी ऑफिस से जल्दी आकर, कभी डिनर या मूवी प्लान करके, तो कभी उनकी फेवरेट डिश बनाकर. कई तरी़के हैं, आपको जो सही लगे वो करें, लेकिन करें ज़रूर.

दिल की बात कहने से हिचकिचाएं नहीं

अगर कभी कोई बात आपको परेशान कर रही है या आप पार्टनर के लिए कुछ महसूस कर रहे हैं, तो कम्यूनिकेट करें. दिल की बात सहज तरी़के से कह देने से बॉन्डिंग मज़बूत होती है. दिल ही में रखेंगे, तो बात बढ़ेगी और परेशानियां भी. हर स्तर पर और हर व़क्त कम्यूनिकेशन ज़रूरी है.

शेयर करें

अपनी ख़ुशी, अपने ग़म, अपने अचीवमेंट्स, अपने प्रयास… सब कुछ शेयर करें. रिश्तों में शेयरिंग बेहद ज़रूरी है. इससे एक-दूसरे पर विश्‍वास और बढ़ता है.

सलाह लें और उन्हें मानें भी

ख़ुद को ही सबसे स्मार्ट समझने की ग़लती न करें. पार्टनर की सलाह भी लें और अगर वो सही लगती है, तो उस पर अमल भी करें. इससे पार्टनर को महसूस होगा कि आप उनकी बातों को महत्व देते हैं. इससे आपके रिश्ते में अपनापन और बढ़ेगा.

मदद करें, ज़िम्मेदारियां बांटें

दोनों को एक-दूसरे के कामों में मदद करने की कोशिश करनी चाहिए. इससे काम हल्का होगा और ज़िम्मेदारियां बंटेंगी. हमेशा बातचीत करके तय करें कि कौन किस बात की ज़िम्मेदारी लेगा, ताकि कोई कन्फ्यूज़न न रहे.

पार्टनर को हर्ट करने से बचें

अगर आपको पता है कि आपका व्यवहार या आपकी कोई बात पार्टनर को हर्ट कर सकती है, तो उसे करने से बचें. यदि ग़लती से ऐसा कुछ हो भी जाए, तो माफ़ी मांग लें और भविष्य में ग़लती न दोहराने का वादा भी करें. हो सकता है आपके लिए वह बात मामूली हो, पर पार्टनर को अच्छी न लगे, तो ऐसे में बेहतर है एक-दूसरे के लिए ख़ुद को थोड़ा बदल लें.

यह भी पढ़ें: इन डेली डोज़ेस से बढ़ाएं रिश्तों की इम्यूनिटी (Daily Doses To A Healthy Relationship)

Relationship Goals
कुछ बुरी आदतों को छोड़ने के लिए एक-दूसरे को चैलेंज करें

आप स्मोक करते हैं, जो पत्नी को पसंद नहीं और पत्नी बहुत ज़्यादा ख़र्च करती है, जो आपको पसंद नहीं, तो आप एक-दूसरे को चैलेंज करें कि इस महीने से अपनी-अपनी बुरी आदतों पर काबू पाने की पूरी कोशिश करेंगे. इससे आपको एक मोटिवेशन भी मिलेगी और आपकी बुरी आदतें भी कम होंगी.

फिटनेस को इग्नोर न करें

किसी भी रिश्ते में फिटनेस का भी बहुत बड़ा हाथ होता है. न स़िर्फ आप सेहतमंद रहते हैं, आपका रिश्ता भी हेल्दी होता है. एक-दूसरे के लिए फिटनेस चैलेंज लें. साथ में वॉक, जॉग या एक्सरसाइज़ करें. इससे आप एक-दूसरे के साथ समय भी बिता पाएंगे और हेल्दी भी रहेंगे. फिट रहेंगे, तो अट्रैक्टिव भी लगेंगे.

कुछ चीज़ें नज़रअंदाज़ करना भी सीखें

हम सब एक जैसे नहीं होते. हो सकता है पार्टनर की कोई बात आपको पसंद नहीं आती, तो बार-बार उन्हें टोकने से बेहतर है कि नज़रअंदाज़ करें या फिर प्यार से समझाएं. रिश्तों की मज़बूती के लिए बहुत-सी बातों को इग्नोर करना व एडजस्ट करना भी ज़रूरी होता है. पार्टनर के अलग व्यक्तित्व को सम्मान दें, उन्हें अपने जैसा बनाने की कोशिश में निराशा ही हाथ लगेगी.

सेक्स लाइफ में ऊर्जा बनाए रखने की कोशिश करें

यह बेहद ज़रूरी है. आपकी सेक्स लाइफ पर भी आपका रिश्ता बहुत हद तक निर्भर करता है. पर्सनल हाइजीन से लेकर पार्टनर की ज़रूरतों का ख़्याल रखने तक… कुछ भी आप इग्नोर नहीं कर सकते. सेक्स को मशीनी क्रिया न समझकर प्यार के इज़हार का ज़रिया समझें. आपस में बात करें कि आपको क्या पसंद है, क्या नापसंद है. बेडरूम के डेकोर को चेंज करें, जगह बदलें, ताकि सेक्स लाइफ भी रूटीन बनकर न रह जाए.

– विजयलक्ष्मी

यह भी पढ़ें: पति-पत्नी के रिश्ते में भी ज़रूरी है शिष्टाचार (Etiquette Tips For Happily Married Couples)

पति-पत्नी के बीच हों झगड़े तो करें वास्तु के ये उपाय (Vastu Tips For Married Couple)

पति-पत्नी के बीच लगातार झगड़े हों और ये झगड़े थमने का नाम न लें, तो आप अपने घर (Home) के वास्तु (Vastu) पर भी ज़रूर ध्यान दें. अगर आपके घर के वास्तु में कुछ गड़बड़ है, तो ये आपके झगड़े की वजह बन सकता है. जी हां, ये सच है. यदि पति-पत्नी के बीच हमेशा अनबन रहती है, रोज़ झगड़े होते हैं, आपस में विचार न मिलते हों, तो घर के वास्तु पर ध्यान देना बहुत ज़रूरी है. पति-पत्नी के बीच हों झगड़े तो कौन-से वास्तु उपाय करने चाहिए, बता रहे हैं वास्तु एक्सपर्ट व टैरो कार्ड रीडर प्रेम पंजवानी.

Vastu Tips For Married Couple

वास्तु एक्सपर्ट व टैरो कार्ड रीडर प्रेम पंजवानी के अनुसार, दिशाओं का वैवाहिक जीवन पर गहरा असर होता है. यदि घर में पति-पत्नी की फोटो ग़लत दिशा में रखी है, बेडरूम में आईना ग़लत दिशा में रखा है, शादी का एलबम ग़लत दिशा में रखा है, कपल के बेड की दिशा ग़लत है… ऐसी छोटी-छोटी ग़लतियां भी पति-पत्नी के बीच झगड़े का कारण बन जाती हैं. कई बार हमेशा प्यार से रहने वाले कपल अचानक झगड़ने लगते हैं, उनके आपस में विचार नहीं मिलते, कपल के बीच हमेशा अनबन रहती है, यदि ऐसा आपके साथ भी हो रहा है, तो सबसे पहले अपने घर का वास्तु चेक करें. यदि घर में कोई चीज़ ग़लत दिशा में रखी है, तो उसे सही जगह पर रख दें. ऐसा करने से आपके रिश्तों में फिर से पहले जैसा प्यार लौट आएगा.

पति-पत्नी के बीच हों झगड़े तो करें वास्तु के ये उपाय, देखें वीडियो:

यह भी पढ़ें: धन में वृद्धि के लिए घर में रखें ये 5 फेंगशुई शोपीस (Keep These 5 Fengshui Showpiece In House To Increase Wealth)

पति-पत्नी के बीच प्यार बढ़ाने के 5 वास्तु टिप्स
1) नव दंपति का बेडरूम यदि उत्तर दिशा में हो, तो ये शुभ होता है. इससे उनके बीच प्रेम बढ़ता है और संतान-सुख की प्राप्ति होती है.
2) वास्तु के अनुसार दक्षिण-पश्‍चिम दिशा वाले बेडरूम शुभ फलदायक होते हैं.
3) बेडरूम के लिए पिंक कलर का पेंट चुनें, पिंक कलर कपल में प्यार बढ़ाता है.
4) बेडरूम में पिंक या लैवेंडर कलर के पर्दे या बल्ब लगाएं.
5) प्यार बढ़ाने के लिए घर के दक्षिण-पश्‍चिम भाग में कांच या सिरामिक पॉट में छोटे-छोटे पत्थर या क्रिस्टल्स डालकर लाल रंग की दो मोमबत्तियां जलाएं. इससे सकारात्मक ऊर्जा फैलेगी.

यह भी पढ़ें: बच्चों की उन्नति के लिए उनके कमरे को सजाएं वास्तु शास्त्र के अनुसार (Vastu Tips For Your Child’s Room)

 

5 शिकायतें हर पति-पत्नी एक दूसरे से करते हैं (5 Biggest Complaints Of Married Couples)

5 शिकायतें हर पति-पत्नी एक दूसरे से करते हैं और यही शिकायतें उनके बीच नोकझोंक की वजह भी बनती हैं. वो कौन-सी 5 शिकायते हैं जो हर कपल एक-दूसरे से करता है? आइए, हम आपको बताते हैं.

Complaints Of Married Couples

1) तुम अब पहले जैसे नहीं रहे
शादी के कुछ साल बाद हर शादीशुदा जोड़े की यही शिकायत रहती है. शादी के शुरुआती सालों में तो सब कुछ अच्छा लगता है, लेकिन साल-दो साल में ही मुहब्बत की स्किप्ट कमज़ोर पड़ने लगती है. दूसरे शब्दों में कहें तो तुम्हारे दीदार से सुबह की शुरुआत हो, तुम्हारे पहलू में ही हर शाम ढले के दावे धीरे-धीरे दम तोड़ने लगते हैं. शादी के बाद घर-परिवार की ज़िम्मेदारियों के बोझ तले मुहब्बत अपना असर खोने लगती है और एक-दूसरे में सिर्फ ख़ूबियां ढूढ़ने वाले शख़्स बात-बात पर एक-दूसरे की ख़ामियां गिनाने लगते हैं.

2) तुम अब मुझे पहले जैसा प्यार नहीं करते
शादी के कुछ साल बात पति-पत्नी की एक-दूसरे से शिकायत रहती है कि वो अब अपने पार्टनर को पहले जैसा प्यार नहीं करते. ऐसा क्यों होता है, इसका भी एक वैज्ञानिक कारण है. रॉबर्ट फ्रेयर द्वारा किये गए प्रयोगों के अनुसार, जब किसी को प्यार हो जाता है तो एक ख़ास तरह के न्यूरो कैमिकल फ़िनाइल इथाइल अमीन की वजह से उसे प्रेमी/प्रेमिका में ख़ामियां नज़र आना बंद हो जाता है. लेकिन यह रसायन हमेशा एक ही स्तर पर नहीं रहता. एक-दो बाद साल शरीर में इसका स्तर कम होता जाता है और चार-पांच साल बाद इसका प्रभाव शरीर पर बिल्कुल बंद हो जाता है. अतः इसके उतार-चढ़ाव का प्रभाव प्रेमियों के स्वभाव में भी साफ़ नज़र आता है. यानी जब प्रेम का उफान कम होने लगता है तो एक-दूसरे की ख़ूबियां ख़ामियों में बदलने लग जाती हैं.

3) तुम से कुछ उम्मीद करना ही बेकार है
पति-पत्नी की शिकायतों में से ये भी एक आम शिकायत है. एक-दूसरे पर दोषारोपण की एक ख़ास वजह होती है पति-पत्नी की एक-दूसरे से ज़रूरत से ़ज़्यादा उम्मीदें, जिसमें महिलाएं पुरुषों से कहीं आगे होती हैं. पुरुष पत्नी के साथ वैसा ही व्यवहार करता है, जैसा उसने अपने पिता का मां के प्रति देखा था, लेकिन पत्नी उसे एक अच्छे दोस्त, बहुत प्यार करने वाले प्रेमी, जिम्मेदार पिता के रूप में देखना चाहती है. क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट सीमा हिंगोरानी कहती हैं, हमारे पास ऐसे कई केस आते हैं जहां बीवी की शिक़ायत होती है कि पति उसका हाथ नहीं पकड़ते, ऑफ़िस जाते समय उसे किस नहीं करते. जबकि पुरुष की शिकायत होती है कि बीवी ज़रूरत से ज़्यादा उम्मीदें रखती है. दरअसल, स्त्री-पुरुष के ब्रेन की वायरिंग ही अलग-अलग होती है. पत्नी चाहती है कि पति उसे दिन में 2-3 बार फ़ोन करे, एसएमएस करे, जबकि पति को लगता है कि जब शाम को घर ही जाना है तो फ़ोन या एसएमएस की ज़रूरत क्या है.

यह भी पढ़ें: 10 झूठ पति-पत्नी एक दूसरे से बोलते हैं (10 Lies Husband And Wives Tell Each Other)

 

4) तुम्हें तो मुझमें स़िर्फ कमियां नज़र आती हैं
शादी के कुछ समय बाद पति-पत्नी हर बात में एक-दूसरे की कमियां गिनाने लगते हैं. ऐसा वो जानबूझकर या सोच-समझकर नहीं करते, लेकिन फिर भी उनकी शिकायतें बनी रहती हैं. एक ऐड एजेंसी में कार्यरत मेघना पुरी कहती हैं, पुरुष समझते हैं कि पत्नी को हमेशा उनसे शिकायत रहती है, लेकिन इसके पीछे वजह भी तो साफ़ है, क्योंकि तकलीफ़ पत्नियों को ही ज़्यादा होती है. आज ज़्यादातर औरतें घर, ऑफिस, फायनांस सारा कुछ एक साथ संभाल रही हैं, इसके बावजूद उनकी स्थिति पहले जैसी, बल्कि पहले से बदतर हो गई है. उनकी एडिशनल ज़िम्मेदारियों को तो पति एक्सेप्ट कर लेते हैं, बाहरी दुनिया में उनसे मॉडर्न अप्रोच भी रखते हैं, लेकिन जहां घर की बात आती है तो उन्हें वैसी ही पारंपरिक पत्नी चाहिए होती हैं जैसी उनकी मां या दादी थीं.

5) तुम मुझे चैन से जीने क्यों नहीं देती?
शादी के बाद लगभग हर पुरुष की ये शिकायत होती है कि उनकी बीवी बात-बात में उन्हें टोकती है, उन्हें आज़ादी से जीने नहीं देती. ऐसे में पुरुष या तो पत्नी से झूठ बोलकर मनमानी कर लेते हैं या फिर ढीठ बन जाते हैं. एक प्राइवेट फ़र्म में कार्यरत प्रणव सिन्हा कहते हैं, जहां तक फ्रीडम की बात है तो मुझे इसमें किसी का हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं. मैं प्राची (पत्नी) के पर्सनल मैटर में ख़ुद भी हस्तक्षेप नहीं करता, लेकिन जब वो इतनी स्मोकिंग क्यों करते हो, तुम्हारा यूं रात-रात तक दोस्तों से घिरे रहना मुझे बिल्कुल पसंद नहीं, तुम्हारे ऑफ़िस की लड़कियां इतनी रात गये फोन क्यों करती हैं, इतना वल्गर एसएमएस किसने भेजा जैसी बेहूदा कम्प्लेंट्स करती है तो मैं चिढ़ जाता हूं. भई मैं क्यों किसी के लिए अपनी ख़ुशी को दांव पर लगाऊं, फिर चाहे वो मेरी पत्नी ही क्यों न हो.

यह भी पढ़ें: ये 7 राशियां होती हैं मोस्ट रोमांटिक (7 Most Romantic Zodiac Signs)

 

प्यार जताने या एक-दूसरे पर दोषारोपण करने का सभी कपल्स का तरीक़ा भले ही अलग-अलग हो, लेकिन ये बात तो तय है कि जब भी पार्टनर से ज़रूरत से ज़्यादा उम्मीद की जाती है तब रिश्ते में कड़ुवाहट का सिलसिला भी शुरू हो जाता है. प्यार के इतिहास, भूगोल पर टीका-टिप्पणी किये बिना यदि प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो की तर्ज़ पर स़िर्फ महसूस किया जाए या निभाया जाए तो शायद हम प्यार के इस ख़ूबसूरत रिश्ते का उम्रभर लुत्फ़ उठा सकते हैं.

प्यार में आसक्ति ज़रूरी है 
रटगर्स यूनिवर्सिटी की शोधकर्ता और ‘व्हाई वी लव’ किताब की लेखिका हेलन फिशर के अनुसार, प्यार हमारे पास तीन रूपों में आता है. पहला वासना, दूसरा चाहत और तीसरा आसक्ति. वासना और चाहत तो समय के साथ ख़त्म होने लगते हैं, लेकिन यही चाहत यदि आसक्ति में बदल जाए तो फिर यह बंधन ज़िंदगीभर का साथ बन जाता है.

यह भी पढ़ें: पुरुषों में होते हैं महिलाओं वाले 10 गुण (10 Girly Things Men Do And Are Proud To Admit)

 

सीखें प्यार निभाने के 5 असरदार तरी़के
1) ज़रूरत से ज़्यादा अपेक्षाओं से बचें.
2) प्यार करें, अधिकार जताएं, पर हुकूमत न करें.
3) पति-पत्नी के परंपरागत फ्रेम से बाहर निकलकर अच्छे दोस्त बनें.
4) पज़ेसिव होने से बचें.
5) क़रीब रहें, पर इतना भी नहीं कि सांस लेना मुश्क़िल लगने लगे. रिश्तों के स्पेस को समझें.

– कमला बडोनी

ये प्यार इतना कॉम्प्लिकेटेड क्यों है? जानने के लिए देखें वीडियो:

रिश्ते में बर्दाश्त न करें ये 10 बातें (10 Things Never Adjust In A Relationship)

Relationship Goals
रिश्ते में बर्दाश्त न करें ये 10 बातें (10 Things Never Adjust In A Relationship)
माना रिश्ते का मतलब ही होता है एक-दूसरे के साथ एडजेस्ट करना और कुछ बातों को बर्दाश्त भी करना. अपनों से प्यार बनाए रखने के लिए भी यह ज़रूरी है. लेकिन कभी-कभार बात स्वाभिमान की आ जाती है और एक हद से बाहर चली जाती है, तो कुछ बातें हैं, जिन्हें बर्दाश्त नहीं करने में ही समझदारी है, वरना पार्टनर आपको कैज़ुअली लेने लगेगा और आपका सम्मान भी नहीं करेगा. कौन-सी हैं ये बातें, आपके लिए जानना ज़रूरी है.

1. एब्यूज़

यह ज़रूरी नहीं कि एब्यूज़ यानी शोषण स़िर्फ शारीरिक ही होता है. यह कई स्तर पर हो सकता है, मौखिक, भावनात्मक, मानसिक, आर्थिक आदि. यदि आपको यह महसूस हो रहा है कि रिश्ते में आपका शोषण हो रहा है, पार्टनर या कोई भी आपको भावनात्मक स्तर पर सपोर्ट नहीं कर रहा, मानसिक यातनाएं दी जा रही हैं, बेवजह गाली-गलौज की जा रही है या आर्थिक स्तर पर परेशान किया जा रहा है, तो बर्दाश्त करने से बेहतर होगा बात करें. अपने हक़ के लिए आवाज़ उठाएं और सामनेवाले को समझाएं कि वो जाने-अंजाने ग़लत कर रहा है.

2. वॉयलेंस

डोमेस्टिक वॉयलेंस वैसे भी अपराध है, फिर भी महिलाएं रिश्ते को बचाए रखने के लिए इसे बर्दाश्त करती हैं. लोगों से इसे छिपाती भी हैं, लेकिन एक स्तर पर जाकर यह सामनेवाली की आदत हो जाती है कि हर छोटी-बड़ी बात पर वो आप पर हाथ उठाना अपना हक़ समझने लगता है. बेहतर होगा देर होने से पहले सतर्क और सजग हो जाएं. हिंसा की किसी भी रिश्ते में कोई जगह नहीं है. यही बात पुरुषों पर भी लागू होती है, क्योंकि कई पुरुष भी रिश्ते में हिंसा व प्रताड़ना के शिकार होते हैं, उन्हें भी यह डर लगता है कि समाज उनकी बात पर भरोसा नहीं करेगा, लेकिन बेहतर होगा आप भी अपने हक़ के लिए लड़ें और ग़लत बातों को बर्दाश्त न करें.

3. डिसरिस्पेक्ट

आपसे उम्मीद की जाती है कि आप अपने पार्टनर को इज़्ज़त दें, लेकिन बदले में आपको सम्मान व समान दर्जा नहीं मिलता, तो तकलीफ़ होना लाज़िमी है. हो सकता है, अंजाने में ऐसा हो रहा हो, तो सही रास्ता यही है कि अपने पार्टनर से इस बारे में बात करें, ताकि वो आपके पक्ष को समझ सके और आपको कैज़ुअली न ले. लोगों व रिश्तेदारों के सामने उल्टा-सीधा न कहे. आपको सम्मान व समान दर्जा दे.

4. ग़ैरज़िम्मेदारी

भले ही यह छोटी-सी बात लग रही हो, लेकिन इसके परिणाम रिश्ते के लिए भी गंभीर हो सकते हैं. यदि एक पार्टनर भी ग़ैरज़िम्मेदार है, तो इसकी सज़ा पूरे परिवार को भुगतनी पड़ती है. ग़ैरज़िम्मेदाराना व्यवहार हर जगह तकलीफ़ देता है और दूसरों का वर्कलोड भी बढ़ा देता है. धीरे-धीरे दूसरे पार्टनर को इस व्यवहार से खीझ होने लगती है और रिश्तों में दूरियां आने लगती हैं. कोशिश करें अपने पार्टनर को समझाने की. बेहतर होगा काम व ज़िम्मेदारियां बांट लें, ताकि वो टाल न सके. बीच-बीच में ड्यूटीज़ बदल लें, जिससे बोरियत भी न हो.

5. इग्नोरेंस

आपकी बातों को तवज्जो न देना, महत्वपूर्ण निर्णयों में आपकी राय ही न लेना, आपके कुछ भी कहने पर बात को इग्नोर कर देना या यह कह देना कि तुमको क्या पता इस बारे में… यदि आप यह शुरू से ही बर्दाश्त करते आ रहे हैं, तो संभल जाइए, क्योंकि आगे चलकर आपको अपना अस्तित्व ही रिश्ते में महत्वहीन लगने लगेगा. आपको पार्टनर से बात करनी होगी कि आप इग्नोर्ड फील करते/करती हैं. न स़िर्फ बातें, बल्कि आपकी प्रेज़ेंस को भी यदि इग्नोर किया जाता है, आपको समय नहीं दिया जाता, आपके सुख-दुख के बारे में जानने की कोई ज़रूरत नहीं समझता, तो बर्दाश्त करने की बजाय बात करें.

यह भी पढ़ें: 10 झूठ पति-पत्नी एक दूसरे से बोलते हैं

Relationship

6. ज़बर्दस्ती

यह ज़बर्दस्ती किसी भी मामले में हो सकती है और अगर यह सेक्स में है, तब तो आपको और भी सतर्क हो जाना चाहिए. रिश्ते में दोनों की भावनाओं और इच्छाओं का सम्मान बेहद ज़रूरी है. यदि आप अपने पार्टनर का सम्मान करते हैं, तो पार्टनर से भी उम्मीद करते होंगे, वो भी उतना ही सम्मान आपको दे. लेकिन जब ऐसा नहीं होता और एक ही पार्टनर हमेशा अपनी इच्छाएं थोपता चला जाता है, तो यह ज़बर्दस्ती घुटन पैदा करती है. घुटने से बेहतर है कम्यूनिकेट करें.

7. अननेचुरल सेक्स

सेक्स हर शादी का अहम् अंग होता है, लेकिन कुछ पुरुष अपने पार्टनर पर अननेचुरल सेक्स के लिए दबाव डालते हैं. दरअसल, वो पोर्न फिल्मों को अपना आदर्श मानते हैं और अपने पार्टनर से उसी तरह के प्रदर्शन की चाह रखते हैं. भारत में एनल सेक्स और ओरल सेक्स ग़ैरक़ानूनी है और अगर आपका पार्टनर कंफर्टेबल नहीं है, तो उस पर दबाव न डालना ही बेहतर होगा. सेक्स में दोनों का सहज रहना ज़रूरी है. यदि कोई समस्या है, तो विशेषज्ञ की राय ली जा सकती है, आप काउंसलर के पास भी जाकर अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने के तरी़के जान सकते हैं.

8. इमोशनल ब्लैक मेलिंग

कई महिलाओं की आदत होती है कि वो अपनी बात मनवाने के लिए इमोशनल ब्लैक मेलिंग का सहारा लेती हैं. वो या तो बच्चों को हथियार बनाती हैं या फिर सेक्स के समय पति पर दबाव डालती हैं. पति न माने, तो सेक्स से मना कर देती हैं. इस तरह की बातें आपको थोड़े समय के लिए भले ही फ़ायदा पहुंचाती हों, पर आगे चलकर आपके रिश्ते को कमज़ोर बनाती हैं.

9. दूसरों की दख़लअंदाज़ी

अक्सर ऐसा होता है कि हम अपने पार्टनर पर भरोसा न करके कई बार दूसरों पर ज़्यादा भरोसा करते हैं. उनसे सलाह-मशविरा लेते हैं और अपने सीक्रेट्स और पर्सनल बातें भी उनसे शेयर कर लेते हैं. जबकि कई बार दूसरे भी बेवजह अपनी राय देने चले आते हैं. बेहतर होगा कि अपनी निजी बातों को निजी ही रहने दिया जाए. दूसरों का हस्तक्षेप कई बार परिस्थितियों को और भी जटिल कर देता है. अगर कोई समस्या है या आपसी मतभेद है, तो ख़ुद ही आगे बढ़कर पार्टनर से बात करें, न कि किसी अन्य व्यक्ति के पास अपनी समस्या लेकर जाएं.

10. बेईमानी/एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर/शक

रिश्ते का दूसरा नाम ही लॉयल्टी है. ऐसे में बेईमानी बर्दाश्त कैसे की जा सकती है. हां, कभी कोई भूल हो जाए या इंसान भटक जाए, तो माफ़ कर देना ही एकमात्र रास्ता होता है, लेकिन यदि कोई आपके भरोसे का नाजायज़ फ़ायदा उठाता रहे और आप आंखें मूंद लें यह सोचकर कि रिश्ता टूट जाएगा, तो यह ख़ुद के साथ बेईमानी होगी. बेहतर होगा किसी निर्णय पर पहुंचे. बात करें, समस्या का हल निकालें, लेकिन ख़ुद को न ठगें. वरना पार्टनर आपको हल्के में लेगा. उसकी यह सोच बन जाएगी कि मैं चाहे जो भी करूं, उसे बर्दाश्त कर लिया जाएगा, क्योंकि मेरे बिना उसका गुज़ारा नहीं हो सकेगा. बेहतर होगा, पार्टनर के इस भ्रम को तोड़ें और ख़ुद को भी भ्रमित होने से रोकें. इसी तरह से शक्की पार्टनर के साथ रहना भी बेहद तकलीफ़देह होता है. हर बात पर शक, टोका-टाकी करना रिश्ते में चिड़चिड़ापन पैदा कर देता है. शक करने से बेहतर है कि अपने मन के वहम को बात करके दूर कर लें.

– विजयलक्ष्मी

यह भी पढ़ें: मायके की तरह ससुराल में भी अपनाएं लव डोज़ फॉर्मूला

10 झूठ पति-पत्नी एक दूसरे से बोलते हैं (10 Lies Husband And Wives Tell Each Other)

10 झूठ पति-पत्नी एक दूसरे से बोलते हैं…. जी हां, ये बिल्कुल सच है. पति-पत्नी के बीच जितना प्यार होता है, तकरार भी उतनी ही ज़्यादा होती है. और झूठ… इसकी तो कोई सीमा नहीं. पति-पत्नी इतनी सफ़ाई से एक-दूसरे से झूठ बोलते हैं कि पकड़े जाने की कोई गुंजाइश ही नहीं बचती. वो कौन-से झूठ हैं, जो पति-पत्नी अक्सर एक-दूसरे से कहते हैं? आइए, हम आपको बताते हैं.

Couple Lies

10 झूठ जो पति कहते हैं पत्नी से
पति कभी बीवी को सताने के लिए, तो कभी ख़ुद को बीवी के तानों से बचाने के लिए अक्सर अपनी पत्नी से झूठ बोलते हैं. वो कौन-से झूठ हैं जो पति अक्सर अपनी पत्नी से कहते हैं? आइए, जानते हैं:

Lies

1) बस यूं ही नज़र पड़ गई उस लड़की पर
ख़ूबसूरत महिलाओं को देखते ही पुरुष उन्हें निहारने से ख़ुद को नहीं रोक पाते. भले ही उनकी नीयत ख़राब न हो, लेकिन सुंदर महिलाओं को निहारना पुरुषों की कमज़ोरी है. जब तक वे पकड़े नहीं जाते, तब तक तो सब ठीक चलता है, लेकिन जैसे ही उनकी यह चोरी उनकी पत्नी पकड़ लेती है, तो वे तुरंत झूठ बोल देते हैं कि मैं तो बस उस तरफ़ देख ही रहा था कि उस लड़की पर नज़र पड़ गई. मैं उसे बुरी नज़र से नहीं देख रहा था. इतनी ख़ूबसूरत बीवी के होते हुए भला मैं किसी और को क्यों निहारुंगा.

2) मैं तो ऑफिस में था, दोस्तों के साथ नहीं
पति के दोस्तों से पत्नी को सख़्त चिढ़ होती है, क्योंकि जब वे अपने दोस्तों के साथ होते हैं, तो पत्नी को बिल्कुल भूल ही जाते हैं. दोस्तों के साथ उनके पति हर चीज़ की अति करते हैं, फिर चाहे लेट नाइट पार्टी करना हो, ड्रिंक करना हो, जंक फूड खाना हो या घूमने जाना हो, दोस्तों के साथ उनका किसी चीज़ पर कोई कंट्रोल नहीं रहता. ऐसे में जब पत्नी उन्हें दोस्तों के साथ जाने से रोकती है, तो ऑफिस से दर से घर आने पर वे अक्सर पत्नी से झूठ बोल देते हैं कि मैं तो ऑफिस में था, दोस्तों के साथ नहीं.

3) तुम बहुत ख़ूबसूरत हो
अपनी तारीफ़ सुनना हर औरत को बहुत पसंद होता है और पति ये बात अच्छी तरह जानते हैं. पत्नी को ख़ुश रखने और उससे अपनी हर बात मनवाने के लिए वे अक्सर इस हथियार का इस्तेमाल करते हैं. पुरुषों को जब भी पत्नी से कोई काम करवाना होता है या अपनी किसी ग़लती के लिए उसे मनाना होता है, तो वे उसकी तारीफ़ करने लगते हैं, अपनी तारीफ़ सुनकर पत्नी पिघल जाती है और पति का काम आसान हो जाता है.

4) ये काम कल ज़रूर कर दूंगा
महिलाएं जिस तरह घर की छोटी-छोटी चीज़ों का ध्यान रखती हैं, पुरुष ऐसा नहीं कर पाते. हालांकि वे ऐसा जान-बूझकर नहीं करते, फिर भी घर कामों में उनसे लापरवाही हो ही जाती है. ऐसे में जब वे पत्नी द्वारा बताया कोई काम करना भूल जाते हैं, तो पत्नी की डांट से बचने के लिए तुरंत बोल देते हैं कि मैं ये काम कल ज़रूर कर लूंगा, लेकिन ऐसा होता नहीं है.

5) सॉरी, आगे से ऐसा कभी नहीं होगा
पत्नी का जन्मदिन, शादी की एनीवर्सरी, बच्चे के स्कूल की पैरेंट्स-टीचर मीटिंग… ऐसे कई ज़रूरी मौ़के पुरुषों को अक्सर याद नहीं रहते. वे ऐसा जान-बूझकर नहीं करते और न ही उनके प्यार में कोई कमी होती है, वो अनजाने में ही भूल जाते हैं. ऐसे में जब पत्नी को ग़ुस्सा आता है, तो उसे मनाने के लिए पुरुष पत्नी से झूठ बोल देते हैं कि आगे से ऐसा कभी नहीं होगा, लेकिन ऐसा होता नहीं, पुरुषों की भूलने की फितरत जारी रहती है.

यह भी पढ़ें: ये 7 राशियां होती हैं मोस्ट रोमांटिक (7 Most Romantic Zodiac Signs)

 

6) मैं बिल्कुल नहीं बदला
शाद के शुरुआती दिनों में पत्नी को ख़ुश रखने के पति आसमान से चांद-तारे तोड़कर लाने तक की बात कर लेते हैं. पत्नी को ख़ुश रखने के लिए हर मुमकिन कोशिश करते हैं, जैसे- हर रोज़ ऑफ़िस से जल्दी घर आना, बात-बात पर सरप्राइज़ देना, बाहर घुमाने ले जाना, कार का दरवाज़ा खोलना आदि. फिर शादी के कुछ साल बीतते ही ये सारी चीज़ें अचानक ख़त्म हो जाती हैं. ऐसे में जब पत्नी शिकायत करती है कि अब तुम बदल गए हो, तो पति इस बात से साफ़ मुकर जाते हैं और झूठ बोलते हैं कि मैं बिल्कुल नहीं बदला.

7) उस लड़की से अब मेरा कोई रिश्ता नहीं
लड़कियों के मामले में कुछ पुरुष अपने बीते हुए कल और आज दोनों को साथ लेकर चलना चाहते हैं यानी शादी के बाद भी अपनी एक्स गर्लफ्रेंड से मिलना-जुलना जारी रखते हैं. ऐसे में जब कभी वे पकड़े जाते हैं, तो ख़ुद को बचाने के लिए पत्नी से झूठ बोल देते हैं कि उस लड़की से अब मेरा कोई रिश्ता नहीं है.

8) मैं बिल्कुल ठीक हूं
पुरुषों को बचपन से ये सिखाया जाता है कि वे स्ट्रॉन्ग हैं, उन्हें कभी भी, किसी के भी सामने कमज़ोर नहीं पड़ना चाहिए. ऐसे में शादी के बाद जब भी ऐसा मौक़ा आता है जहां पुरुष ख़ुद को कमज़ोर पाता है, तो वह पत्नी को अपनी यह कमज़ोरी नहीं बताना चाहता, इसलिए जब पत्नी कुछ पूछती है, तो पति साफ़ झूठ बोल देता है कि मैं बिल्कुल ठीक हूं.

9) मुझे पता है, तुम्हें बताने की ज़रूरत नहीं
पुरुषों को ये भी बचपन से सिखाया जाता है कि वे घर के मुखिया हैं और घर के सभी निर्णय वे ले सकते हैं. ऐसे में शादी के बाद जब कभी किसी ज़रूरी निर्णय पर पत्नी अपनी राय देना चाहती है, तो कई बार पत्नी की राय से सहमत होते हुए भी पति उसे ये ज़ाहिर नहीं होने देते कि वो सही बोल रहे हैं. ऐसे में पत्नी का मुंह बंद कराने के लिए पति उससे झूठ बोलते हैं कि मुझे तुमसे पूछने की ज़रूरत नहीं है, मैं जानता हूं कि मुझे क्या करना है.

10) मैं सब संभाल सकता हूं
भारतीय समाज में पुरुषों को महिलाओं से ऊंचा दर्जा मिला है. घर की पहली और महत्वपूर्ण इकाई पुरुष ही माने जाते हैं. पति ये बख़ूबी जानते हैं कि घर का कोई भी काम पत्नी के बिना नहीं हो सकता, फिर भी वो उसके सामने ये झूठ बोलने से नहीं कतराते कि वो सब कुछ संभाल लेंगें, क्योंकि घर के बॉस हैं वो.

यह भी पढ़ें: पुरुषों में होते हैं महिलाओं वाले 10 गुण (10 Girly Things Men Do And Are Proud To Admit)

Husband And Wives

10 झूठ जो पत्नी कहती है पति से
यदि आपको लगता है कि आपकी बीवी आपसे कभी झूठ नहीं बोलती, तो आप ग़लतफ़हमी में हैं, क्योंकि बीवियां भी झूठ बोलने में कम नहीं होतीं. पत्नी अपने पति से अक्सर कौन-से झूठ बोलती है? आइए, इस पर भी रिसर्च कर लेते हैं:

1) सेल लगी थी इसलिए ख़रीद ली
शॉपिंग के मामले में महिलाओं पर कोई रोक नहीं लगाई जा सकती. शॉपिंग के लिए वो कोई भी जोखिम उठाने के लिए तैयार रहती हैं. महिलाएं अक्सर बजट से बाहर शॉपिंग कर लेती हैं और पति के पूछने पर झूठ बोल देती हैं कि सेल लगी थी इसलिए ख़रीद ली.

2) मैं कैसी लग रही हूं?
पत्नी चाहे कितनी ही मोटी या बदसूरत क्यों न हो, वो पति से हमेशा अपनी तारीफ़ ही सुनना चाहती है. ऐसे में जब कभी वो अपने फिगर को ध्यान में न रखते हुए कोई ऊल-जुलूल कपड़े ख़रीद लेती है और ये अच्छी तरह जानती है कि उन कपड़ों में वो अच्छी नहीं लग रही, फिर भी पति से ये पूछती है कि कैसी लग रही हूं. वो जानती है कि वो अच्छी नहीं लग रही, फिर भी अपनी तसल्ली के लिए पति से जानना चाहती है कि वो कैसी लग रही है.

3) कल से पक्का वॉक पर चलूंगी
महिलाएं स्लिम-ट्रिम दिखना तो चाहती हैं, लेकिन उसके लिए कोई मेहनत नहीं करना चाहती. फिट रहने के जब पति उसे वॉक पर चलने के लिए कहते हैं, तो पत्नी रोज़ उनसे प्रॉमिस करती है कि वो कल से ज़रूर वॉक पर चलेगी, लेकिन उसका कल कभी आता नहीं है.

4) आप अब मुझे प्यार नहीं करते
शादी के शुरुआती दिनों में पति-पत्नी का प्यार एक सपनीली दुनिया की तरह होता है, जहां सबकुछ बहुत हसीन होता है. फिर जब गृहस्थी की ज़िम्मेदारियां बढ़ने लगती हैं, तो प्यार जताने के तरीके में कमी आने लगती है. हालांकि दोनों जानते हैं कि उनके बीच प्यार कम नहीं हुआ है, स़िर्फ ज़िम्मेदारियों के चलते अब वे पहले की तरह हर पल साथ नहीं रह पाते. पत्नी सबकुछ जानते हुए भी पति से अक्सर यही कहती है कि आप अब मुझे प्यार नहीं करते. पति की लाख दलीलों के बाद भी पत्नी की ये शिकायत बनी रहती है.

5) मैं कहां दिनभर सीरियल देखती हूं
टीवी सीरियल्स से महिलाओं का ऐसा नाता होता है कि उनके लिए वो किसी भी चीज़ का त्याग कर सकती हैं. यहां तक कि रिश्तेदार के घर जाने या घूमने जाने पर भी महिलाओं को घर की सुरक्षा से ज़्यादा इस बात की चिंता रहती है कि इस दौरान उनका सीरियल मिस हो जाएगा. ऐसे में जब पति शिकायत करते हैं कि क्या दिनभर सीरियल देखती रहती हो, तो पत्नी इस बात से साफ़ मुकर जाती है और झूठ बोल देती है कि मैं कहां दिनभर सीरियल देखती हूं.

यह भी पढ़ें: महिलाओं की गॉसिप के 10 दिलचस्प टॉपिक (10 Most Interesting Gossip Topics Of Women)

 

6) मैं ठीक हूं, कुछ नहीं हुआ मुझे
महिलाओं का सबसे बड़ा हथियार उनके आंसू होते हैं. जब भी उनके मन की नहीं होती वो रोने लग जाती हैं. फिर जब पति उनके आंसुओं से डरकर उन्हें मनाने लगते हैं या उनसे पूछते हैं कि उन्हें क्या हुआ है, तो वो झूठ बोल देती हैं कि मैं ठीक हूं, कुछ नहीं हुआ मुझे. जबकि सच तो ये है कि वो पति का अटेंशन चाहती हैं और जब पति उन्हें मनाते हैं, पत्नी को ये अच्छा लगता है.

7) मुझे तुम्हारी मदद की ज़रूरत नहीं है
महिलाएं अपने पति पर इतना ज़्यादा आश्रित हो जाती हैं कि वो चाहती हैं कि पति हर काम में उनकी मदद करें या उन्हें गाइड करें. ख़ास बात ये कि वो चाहती हैं कि उनके कहे बिना ही पति ये समझ जाएं कि उन्हें पत्नी की मदद करनी चाहिए. जब ऐसा नहीं हो पाता, तो वो पति से रूठ जाती हैं. फिर जब पति उन्हें मनाने आते हैं और सही बात का खुलासा होता है, तो पत्नी ग़ुस्से में पति से झूठ कहती हैं कि मुझे तुम्हारी मदद की ज़रूरत नहीं है, मैं अपने काम ख़ुद कर सकती हूं.

8) किसके साथ थे आप?
पत्नियों की पति पर शक करने की आदत कभी नहीं जाती. पति कहां गए हैं, किसके साथ हैं, ये सब जानते जानते हुए भी वो अक्सर पति से सवाल करती हैं कि वे किसके साथ थे. इसे उनकी चिंता कहें या डर, लेकिन ये झूठा सवाल पत्नियां अक्सर अपने पति से करती हैं.

9) मम्मी-पापा/ फ्रेंड ने दी है
दुनिया की लगभग हर औरत पति से छुपाकर कुछ पैसे अपने पास ज़रूर रखती है और इस पैसे का इस्तेमाल वो अपनी या घर की ज़रूरत की चीज़ों के लिए इस्तेमाल करती है. ऐसे में पत्नी के पास कोई नई चीज़ देखकर जब पति सवाल करते हैं कि ये चीज़ कहां से आई, तो पत्नी उनसे झूठ बोल देती है कि ये चीज़ उन्हें उनके मम्मी-पापा/ फ्रेंड ने दी है.

10) मुझे भूख नहीं है
आंसू की तरह भूख भी महिलाओं का एक बड़ा हथियार है. जब भी वो पति से नाराज़ होती हैं या उन्हें पति से अपनी बात मनवानी होती है, तो वो खाना छोड़ देती हैं. फिर जब पति पूछते हैं कि खाना क्यों नहीं खाया, तो वो झूठ बोल देती हैं कि मुझे भूख नहीं है.

यह भी पढ़ें: हर लड़की ढूंढ़ती है पति में ये 10 ख़ूबियां (10 Qualities Every Woman Look For In A Husband)

क्या कहते हैं आंकड़े?
* महिलाओं की अपेक्षा पुरुष ज़्यादा झूठ बोलते हैं. एक साल में पुरुष लगभग 1092 झूठ बोलते हैं, जबकि महिलाएं 728 बार झूठ बोलती हैं.
* 75% पुरुष किसी को ख़ुश करने के लिए झूठ बोलते हैं.
* पुरुष सबसे ज़्यादा झूठ अपनी ड्रिंकिंग हैबिट्स को लेकर बोलते हैं.
* महिलाएं अपनी स्वास्थ्य से जुड़ी बातों को लेकर सबसे ज़्यादा झूठ बोलती हैं.

सीखें प्यार की 5 भाषाएं, देखें वीडियो:

मलाइका-अरबाज़ के बीच सब ठीक है? पार्टी करते दिखे दोनों साथ

कई दिनों से ख़बरें आ रही थीं कि मलाइका अरोड़ा ख़ान और अरबाज़ ख़ान के रिश्ते बिगड़ रहे हैं और दोनों एक-दूसरे से तलाक लेने वाले हैं. लेकिन ये ख़बरें तब अफ़वाह लगने लगीं, जब अरबाज़ और मलाइका अपनी फैमिली और फ्रेंड्स के साथ ऑलिव रेस्तरां में पार्टी करते नज़र आए.

arbaaz_malaika_5_145

मलाइका अरोड़ा ख़ान और अरबाज़ ख़ान

जहां मलाइका नेवी ब्लू एंड ब्लैक आउटफिट में स्टनिंग लग रही थीं, तो वहीं अरबाज़ नज़र आए ब्लैक शर्ट और ब्लू जींस में. इस पार्टी में दोनों के अलावा मलाइका की मम्मी, अमृता अरोड़ा, निर्देशक आर बाल्की और उनकी पत्नी गौरी शिंदे भी थे, जो रेस्तरां के बाहर नज़र आए.

arbaaz_malaika_3_14585338

अरबाज़ ख़ान. अमृता अरोड़ा और उनकी मम्मी जॉयस

यूं तो अरबाज़ और मलाइका दोनों ने इस बात को कभी एक्सेप्ट नहीं किया कि वो अलग हो रहे हैं या तलाक लेने की सोच रहे हैं. ख़ैर जो इनके अलग होने की बातें कर रहे हैं, उनके लिए ये फोटोग्राफ़्स ख़ुद ही सबसे बड़ा जवाब है, जिससे साफ़ पता चल रहा है कि दोनों के बीच सब ठीक है.