Tag Archives: masturbation

कितना फ़ायदेमंद है हस्तमैथुन? (Health Benefits Of Masturbation)

कुछ महीने पहले फ़िल्म वीरे दी वेडिंग में स्वरा भास्कर और फिल्म लस्ट स्टोरीज़ में कियारा आडवाणी के किरदारों के ज़रिए बॉलीवुड ने सेक्सुअल संतुष्टि (Sexual Satisfaction) के लिए हस्तमैथुन (Masturbation) तरी़के को चर्चा में ला दिया है. हालांकि हमारे देश में लोग इस विषय पर खुलकर बात करने से कतराते हैं, जबकि सच्चाई यह है कि तक़रीबन 95 फ़ीसदी पुरुष और यहां तक कि महिलाएं भी सेक्सुअल संतुष्टि के लिए इसका सहारा लेती हैं. आइए जानते हैं हस्तमैथुन करने के 5 सेहतमंद कारण.
Benefits Of Masturbation

1. तनाव कम होता है

न्यूयॉर्क की गायनाकोलॉजिस्ट और किताब द कम्प्लीट ए टू ज़ी फ़ॉर योर वी की लेखिका एलेशिया ड्वेक के अनुसार, जब आप शारीरिक या मानसिक तनाव का अनुभव कर रहे हों, तब हस्तमैथुन करने से तनाव कम होता है. इसका वैज्ञानिक कारण यह है कि हस्तमैथुन से कई सारे न्यूरोट्रान्समीटर्स रिलीज़ होते हैं, जैसे-सेरोटॉनिन, एन्डॉ़िर्फन और ऑक्सिटोसिन. जहां सेरोटॉनिन आपको शांत करता है, वहीं एन्डॉ़िर्फन दर्द कम करने में मददगार है, जबकि ऑक्सिटोसिन को लव हार्मोन कहा जाता है. यह आपको रिलैक्स महसूस कराता है.

2. रक्त संचार बढ़ता है

तनाव घटने से आपके दिल की सेहत बेहतर होती है. इसके अलावा हस्तमैथुन करते समय हमारे जननांगों में रक्त का संचार बढ़ता है. इससे वहां की टीशूज़ सेहतमंद बनती हैं. जननांगों के आसपास रक्त का संचार बढ़ना उन महिलाओं के लिए अच्छा होता है, जो मेनोपॉज़ की उम्र के क़रीब पहुंच रही हैं. दरअसल, ऐसी महिलाएं वेजाइनल ड्राइनेस और इंटरकोर्स के दौरान काफ़ी दर्द होने जैसी समस्याओं का सामना कर रही होती हैं. जब उनके जननांगों के पास ब्लड सप्लाई बढ़ती है तो उन्हें मेनोपॉज़ के इन लक्षणों से काफ़ी हद तक राहत मिलती है. कुछ रिसर्च में यह पाया गया है कि हस्तमैथुन से पीरियड्स के दौरान होनेवाले दर्द में भी कमी आती है. हालांकि अभी इस पर और शोध होना बाक़ी है.

यह भी पढ़ें: सेक्स लाइफ का राशि कनेक्शन (What Does Your Zodiac Sign Say About Your Sex Life?)

Benefits Of Masturbation
3. पार्टनर के साथ सेक्स संबंध बेहतर होता है

यदि आप ख़ुद को संतुष्ट करने के इस तरी़के को अपनाते हैं और इसका सही फ़ायदा लेना जानते हैं तो इसका सकारात्मक व सेहतमंद असर पार्टनर के साथ सेक्स संबंध बनाने के दौरान भी दिखाई देता है. हस्तमैथुन करनेवाले लोग पार्टनर के साथ संबंध बनाने के दौरान तनावमुक्त होकर सेक्स का आनंद उठा सकते हैं, क्योंकि वे उस संबंध में संतुष्टि को लेकर अव्यवहारिक उम्मीद नहीं रखते. जब उम्मीदों का बोझ नहीं होता तो वे सेक्स का भरपूर आनंद उठाते हैं. वे जानते हैं कि उन्हें अच्छा महसूस कराने की पूरी ज़िम्मेदारी पार्टनर की नहीं है. उन्हें क्या चाहिए वे ख़ुद भी जानते हैं. इस तरह कह सकते हैं कि हस्तमैथुन आपके सेक्सुअल रिश्तों के लिहाज़ से भी सेहतमंद है.

4. सेक्स ड्राइव बढ़ता है

यह पुरानी धारणा है कि जब आप ज़्यादा हस्तमैथुन करते हैं तो पार्टनर के साथ उतने सेक्सुअली उत्तेजित महसूस नहीं करते. जबकि सच्चाई इसके विपरीत है. आप ख़ुद को जितना ज़्यादा संतुष्ट करते हैं, आपका शरीर इसकी मांग उतना ज़्यादा करता है. आपके शरीर को पता होता है कि सेक्सुअल प्लेज़र कैसे महसूस करना है. ये सारी बातें इस ओर इशारा कर रही हैं कि हस्तमैथुन का आपकी सेक्स ड्राइव पर सकारात्मक असर पड़ता है. यहां चिंता की बात तब होती है, जब आप संतुष्टि की इस अकेली यात्रा के आदी हो जाएं और पार्टनर की अहमियत को भूल जाएं. वैसे भी यह तो हम सभी जानते हैं कि हर चीज़ की अति वर्जित है.

Masturbation Benefits
5. अच्छी नींद आती है

यह तो हम सभी जानते हैं कि ऑर्गैज़्म के बाद कितनी अच्छी नींद आती है. दरअसल, सेक्स आपका मानसिक तनाव कम करता है और शरीर को थका देता है, जिससे नींद जल्दी आती है. इससे कुछ फ़र्क़ नहीं पड़ता कि आपने ऑर्गैज़्म का अनुभव पार्टनर के साथ सेक्स करने के दौरान किया हो या हस्तमैथुन से. आप रिलैक्स्ड महसूस करते हैं, जिससे अच्छी नींद आती है. कई शोधों में कहा गया है कि जिस तरह कुछ लोग किताब पढ़कर अच्छी नींद पाते हैं, हमारे मन पर हस्तमैथुन का भी लगभग वैसा ही असर होता है.

कितनी बार हस्तमैथुन सही?

इसका कोई कट पॉइंट्स नहीं है. यह उस व्यक्ति पर निर्भर करता है, लेकिन औसत देखा जाए तो हफ़्ते में तीन बार ठीक है.

हस्तमैथुन स्वाभाविक है

यह पूरी तरह से नैचुरल प्रक्रिया है. इससे प्रजनन क्षमता पर किसी भी तरह का बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है. सेक्सुअल कमज़ोरी और कामुकता में कमी की बात भी पूरी तरह से अफवाह है. यहां तक कि जानवरों में बिल्ली, कुत्ते और बंदर भी हस्तमैथुन करते हैं.

यह भी पढ़ें:  महिलाओं की संभोग की इच्छा कम क्यों हो जाती है? (How To Get Your Sex Drive Back)

सेक्स प्रॉब्लम्स- क्या मास्टरबेशन से शारीरिक कमज़ोरी आती है? (Sex Problems- Does Masturbation Make You Physically Weaker?)

Masturbation Make You Physically Weaker

Masturbation

क्या मास्टरबेशन से शारीरिक कमज़ोरी आती है?
मैं 19 साल की हूं. मैंने अपनी सहेलियों से सुना है कि मास्टरबेशन (हस्तमैथुन) से शारीरिक कमज़ोरी की समस्या होती है. दरअसल मुझे मास्टरबेशन की आदत है. मैंने कई बार इस समस्या से निजात पाने की कोशिश की, पर पूरी तरह से इससे छुटकारा नहीं पा सकी. कहीं इससे भविष्य में कोई समस्या तो नहीं होगी? कृपया, मेरी समस्या का समाधान करें.

– रानी मलिक, लखनऊ.

यूं देखा जाए तो हस्तमैथुन स्त्री और पुरुष दोनों ही के लिए एक सामान्य प्रक्रिया है. यह सेक्सुअल डेवलपमेंट की एक सामान्य प्रक्रिया भी है. सेक्सुअल इंटरकोर्स का यह एक स्वस्थ और सुरक्षित विकल्प है. और सेक्सुअल ज़रूरतों को पूरा करने का एक स्वस्थ ज़रिया भी. हस्तमैथुन निराशा-हताशा और ग़लत आदतों या असुरक्षित सेक्स से बचाता है. इसलिए इसे समस्या के बजाए एक सुरक्षित माध्यम समझना बेहतर होगा. वैसे भी अपनी ख़ुशहाल सेक्सुअल लाइफ़ के दरमियान क़रीब 80% महिलाएं हस्तमैथुन करती हैं. इससे तुरंत या भविष्य में कोई समस्या नहीं होती, ना शारीरिक और ना ही मानसिक रूप से.

यह भी पढ़े: सेक्स प्रॉब्लम्स- सेक्स को लेकर एक डर-सा बन गया है 

यह भी पढ़े: सेक्स प्रॉब्लम्स- क्या इससे मेरी शादी और सेक्सुअल लाइफ प्रभावित होगी?

मैं 26 साल का हूं. मेरे लिंग के ऊपर कुछ बारीक-बारीक फुंसियां हो गई हैं, जो कई महीने से हैं. डॉक्टर इसे उपदंश रोग कहते हैं. एलोपैथिक दवा ली, लेकिन ख़ास फ़ायदा नहीं हुआ. मेरी यह बीमारी संभोग से नहीं हुई है, क्योंकि बचपन से लेकर आज तक मैंने कभी स्त्री-सहवास नहीं किया है. कृपया, मुझे इससे छुटकारा दिलाएं.

– अवनित सेठ, जालंधर.

आपकी समस्या स्किन से संबंधित है, जो कि किसी इंफेक्शन के कारण हुई है. यह आपकी ग़लतफ़हमी है कि यह कोई सेक्सुअल समस्या है. अपने गुप्तांगों को बहुत ही सौम्य साबुन से साफ़ करें और गुनगुने पानी से धोएं. ऐसा दिन में कम से कम 3-4 बार करें. आपकी समस्या जल्द ही दूर हो जाएगी. अपने अंदरूनी कपड़े ढीले-ढाले और कॉटन के पहनें. चुस्त अण्डरगारमेंट ना पहनें. इसके अलावा किसी डर्माटोलॉजिस्ट या स्किन स्पेशलिस्ट से सलाह ज़रूर लें.

डॉ. राजीव आनंद
सेक्सोलॉजिस्ट
([email protected])

सेक्स संबंधित अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करेंSex Problems Q&A

[amazon_link asins=’B07574HZDG,B00D7L77PK,1590525191,0517886073′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’fc790e62-c083-11e7-a2dd-1d88074d55a4′]

सेक्स प्रॉब्लम्स- सेक्सुअल बातों से उत्तेजित हो जाती हूं… (Sex Problems- I get aroused by ‘sexual talks’)

Sex Problems

Sex Problems

 

सेक्सुअल बातों से उत्तेजित हो जाती हूं…

मेरी समस्या यह है कि पिछले 4-5 सालों से मैं सेक्स संबंधी किसी भी प्रकार की बातों से उत्तेजित हो जाती हूं. योनिमार्ग से चिपचिपा-सा स़फेद द्रव निकलता है, जिससे मैं परेशान हो जाती हूं. इसकी वजह से विवाह के बाद मुझे किसी तरह की द़िक़्क़तों का सामना तो नहीं करना पड़ेगा?
– डॉली शर्मा, बाबतपुर.
आप बेवजह ही घबरा रही हैं. आपको जो कुछ भी महसूस हो रहा है, वह आपकी उम्र के अनुरूप है. इस उम्र में जो भी शारीरिक व मानसिक विकास होता है, उसमें इस तरह की उत्तेजना एकदम स्वाभाविक है. कोई उत्तेजक चीज़ या दृश्य सामने आ जाएं तो ज़ाहिर है मन व शरीर पर इसका प्रभाव पड़ेगा. ऐसे में प्रतिक्रिया स्वरूप ही आपकी योनि से चिपचिपा द्रव भी निकलता है. अतः परेशान होने की ज़रूरत नहीं है. उपरोक्त बातों का आपके वैवाहिक जीवन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा.  आप निश्‍चित होकर शादी कर सकती हैं.
यह भी पढ़े: सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने के ट्रिक्स
यह भी पढ़े: सेक्स लाइफ के 12 दुश्मन

फीमेल कंडोम कितना सुरक्षित है?

मैं व मेरे पति अभी बच्चा नहीं चाहते, परन्तु मेरे पति कंडोम का भी इस्तेमाल नहीं करते. यूं तो मैं गर्भनिरोधक गोलियां लेती हूं, पर मैंने महिला कंडोम के बारे में सुना है. क्या इसका इस्तेमाल करना सुरक्षित है?
– शैली वर्मा, रांची.
महिला कंडोम यानी कि फीमेल कंडोम इन दिनों काफ़ी चर्चा में है और आजकल इसे एक विकल्प के रूप में भी आज़माया जा रहा है. इसे संभोग के पहले योनि में डाला जाता है, जो वीर्य को अंदर जाने से रोकता है. इससे फ़ायदा यह होता है कि यदि पुरुष साथी कंडोम का इस्तेमाल नहीं करना चाहता तो स्त्री कर सकती है. फीमेल कंडोम सुरक्षित भी है, लेकिन मेल कंडोम जितना नहीं. गर्भनिरोधक गोलियां यक़ीनन एक सुरक्षित विकल्प हैं, परन्तु फीमेल कंडोम ने महिलाओं को और अधिक विकल्प दिए हैं जिसका लाभ ख़ासकर वे महिलाएं उठा सकती हैं, जो गर्भनिरोधक गोलियां नहीं लेना चाहतीं या फिर इनके साइडइ़फेक्ट से बचना चाहती हैं.

 

स्ट्रेच मार्क्स से परेशान हूं…

मेरी बॉडी पर काफ़ी स्ट्रेच मार्क्स हैं. मैंने  सुना है कि ये मार्क्स प्रेग्नेंसी के बाद होते हैं तो फिर मेरी बॉडी पर क्यों हैं? क्या मेरी सेक्स लाइफ़ इससे प्रभावित होगी?
– श्रद्धा गिल, जालंधर.
यह सोच ग़लत है कि स्ट्रेच मार्क्स स़िर्फ प्रेग्नेंसी के बाद होते हैं. यह कोई बहुत बड़ी समस्या नहीं है. बहुत-सी लड़कियों के साथ ऐसा होता है. अगर बार-बार शरीर का वज़न कम-ज़्यादा हो तो भी स्ट्रच मार्क्स पड़ जाते हैं, क्योंकि स्किन लूज़ और टाइट होती रहती है तो उसका लचीलापन थोड़ा कम होकर वो लूज़ रह जाती है, जो स्ट्रेच मार्क्स के रूप में हमें दिखती है. इसके अलावा ग़लत एक्सरसाइज़ से भी ऐसा हो सकता है. यह कोई सेक्स से संबंधित समस्या नहीं है. अत: मन से सारे डर निकाल दें. निश्‍चिंत रहें, आपकी सेक्सुअल लाइफ़ में कोई मुश्किलें नहीं आएंगी.

 

पढ़ने में मन नहीं लगता…

मुझे आजकल सेक्स की इच्छा होती है, जिससे पढ़ने में मन नहीं लगता, बेचैनी बनी रहती है. ऐसे में मैं हस्तमैथुन करता हूं. क्या मैं ग़लत करता हूं?
– पूजा सिंह, जयपुर.
किशोरावस्था में सेक्स की इच्छा बेहद बढ़ जाती है, ऐसे में हस्तमैथुन करना इस बात का संकेत है कि आपका सेक्सुअल विकास स्वस्थ व सामान्य रूप से हो रहा है. किसी ग़लत जगह जाकर सेक्स करने से तो यह ज़रिया बेहतर व सुरक्षित है. हस्तमैथुन पूर्णत: सामान्य है, जब तक आप इसे ह़फ़्ते में 4-5 बार या रोज़ाना भी करें तो भी. हां, अति किसी भी चीज़ की अच्छी नहीं होती.

 

सेक्स संबंधित अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करेंSex Problems Q&A

 

Dr. Rajiv Anand Resize image 2.1.17

डॉ. राजीव आनंद
सेक्सोलॉजिस्ट
([email protected])

[amazon_link asins=’B072KDN8RD,B073JFM3WN,B005OSR1B4,B00JNQLIYY,B00I7TK2XG’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’cd9bd5fe-d8e2-11e7-aad8-0b18d15a39ba’]