Tag Archives: Media

क्यों बढ़ रहा है सेक्स स्ट्रेस? (Why Sex Stress Is Increasing In Our Society?)

आज कहां नहीं है स्ट्रेस? घर-परिवार, करियर, नौकरी… हर जगह तनाव का मकड़जाल फैला हुआ है. और धीरे-धीरे इसने अंतरंग लम्हों में भी घुसपैठ कर दी है. क्या एक हेल्दी रिलेशन के लिए सेक्स स्ट्रेस को दूर करने की ज़रूरत नहीं है?

Sex Stress

मनोचिकित्सक डॉ. अजीत दांडेकर के अनुसार, “स्ट्रेस लेवल बढ़ने के कारण शरीर के कई ऐसे हार्मोंस प्रभावित होते हैं, जिनकी वजह से सेक्स स्ट्रेस बढ़ जाता है. यदि पति-पत्नी अपनी रोज़ाना की ज़िंदगी का विश्‍लेषण करने के लिए कुछ समय निकाल सकें तो सेक्स स्ट्रेस का कारण ख़ुद ही समझ में आ जाएगा. सेक्स स्ट्रेस का कोई एक कारण नहीं है. मॉडर्न लाइफ़स्टाइल व अनेक चाही-अनचाही परिस्थितियां इसके लिए ज़िम्मेदार हैं.” आइए, उन विभिन्न स्थितियों को समझें.

समय की कमी व अपनों की फ़िक्र

सेक्स क्रिया के लिए समय व तनावरहित वातावरण चाहिए, जो आजकल लोगों को नहीं मिलता है. यदि समय मिल भी गया तो मन तरह-तरह की चिंताओं से घिरा रहता है. बच्चों का प्रेशर, माता-पिता का प्रेशर, ऑफ़िस की चिंताएं अनेक ऐसी बातें हैं, जो व्यक्ति को तनावमुक्त होने ही नहीं देतीं. फिर अपनी-अपनी अलग सोच और थकान के कारण तालमेल की कमी भी सेक्स के प्रति उदासीनता की स्थिति पैदा करती है.

काम का प्रेशर

ऑफ़िस या बिजनेस में ख़ुद को बेहतरीन साबित करने का जुनून, प्रमोशन की चाह, बॉस की नज़रों में योग्य बने रहने के प्रयास में कभी-कभी व्यक्ति अपनी सारी एनर्जी ख़र्च कर डालता है. वैसे भी बड़े-बड़े पैकेज यानी लाखों में मिलने वाली सालाना तनख़्वाह व्यक्ति को निचोड़कर रख देती है. अधिक आमदनी के लिए 8 की जगह 12-15 घंटे काम करना पड़ता है. ऑफ़िस के बाद कभी-कभी घर पर भी काम पूरा करना पड़ता है. इस तरह के हाईप्रेशर जॉब के साथ प्रायः संतुलन बनाए रखना कठिन हो जाता है. ऑफ़िस व घर दोनों ही ज़िम्मेदारियों को निभाने के चक्कर में व्यक्ति इतना थक जाता है कि बिस्तर पर लेटते ही सो जाता है. इसका सीधा असर उसकी सेक्स लाइफ़ पर
पड़ता है.

करियर की चाह

करियर में आगे बढ़ने की चाह एक ओर सफलता की मंज़िल तक पहुंचने का उत्साह बढ़ाती है, तो दूसरी ओर रिश्तों की गर्माहट में बाधक भी बनती है. करियर के कारण कभी-कभी पति-पत्नी को एक-दूसरे से अलग रहना पड़ता है. वे वीकएंड पर ही साथ रह पाते हैं. ऐसे कपल्स अनेक कुंठाओं के शिकार होते हैं, भले ही यह स्थिति उन्होंने स्वेच्छा से चुनी हो. ऐसे में साथ होते हुए भी तरह-तरह की शंका-आशंका (जैसे- विवाहेतर संबंध) या अपराधबोध उन्हें जकड़ने लगता है, अनेक ऐसी बातें सेक्स लाइफ़ को प्रभावित करती हैं.

यह भी पढ़ें: क्यों घट रहा है पुरुषों में स्पर्म काउंट? (What Are The Reasons For Low Sperm Count In Men?)

Sex Stress
असुरक्षा की भावना

आज की शादीशुदा ज़िंदगी में वर्किंग पति-पत्नी के रिश्तों में आजीवन साथ रह पाने की निश्‍चिंतता नहीं है. डर बना ही रहता है कि कब अलग हो जाना पड़े, क्योंकि दोनों के अहं होते हैं, जो कभी भी टकरा सकते हैं. दोनों में कोई भी समझौते के लिए तैयार नहीं होना चाहता है. लिहाज़ा महिलाओं के मन में अधिक बचत की चिंता रहती है. वे ज़्यादा से ज़्यादा कमाने की कोशिश में रहती हैं. वे सुरक्षित होना चाहती हैं. पुरुषों को स्त्रियों की सोच में स्वार्थ नज़र आता है. इस तरह की स्थिति तनाव व टकराहट को जन्म देती है.

प्लानिंग की कमी

आज का व्यक्ति अपनी चादर देख कर पैर नहीं पसारता, बल्कि पैर पसारने के बाद चादर की खींचातानी शुरू करता है. आधुनिक सुख-साधन जुटाना, रिसॉर्ट या विदेश में छुट्टियां बिताना हर दंपति की इच्छा होती है. संभव हो, न हो, उसकी कोशिश व चाह तो होती ही है. आज विकल्प के रूप में लोन व क्रेडिट कार्ड की उपलब्धता व बाद में उनकी किश्तें चुकाने का प्रेशर शरीर व मन दोनों को थका डालता है, बिना प्लानिंग के जो फ़ायनेंशियल स्ट्रेस झेलना पड़ता है, वो अंततः व्यक्ति की ज़िंदगी को पूरी तरह से प्रभावित करता है. सेक्स लाइफ़ के प्रति उदासीन कर देता है.

पोर्नोग्राफ़ी का असर

पोर्नोग्राफ़ी (यानी कामवासना संबंधी साहित्य, फ़ोटो, फ़िल्म आदि) के प्रभाव के कारण व्यक्ति सेक्स लाइफ़ फैंटेसी की दुनिया से जुड़ जाता है. उस तरह की इच्छा करने लगता है, जबकि वास्तविकता उससे कहीं दूर होती है. ऐसी फैंटेसी के कारण पार्टनर का सेक्स स्ट्रेस बढ़ने लगता है. वे साथ होकर भी काम-सुख या आनंद से वंचित रह जाते हैं. एक-दूसरे की उम्मीदों पर खरा न उतरने व पूर्ण संतुष्ट न कर पाने का तनाव व अनजाना भय रिश्तों में उदासीनता ले आता है.

मीडिया का रोल

आधी-अधूरी जानकारी व ग़लतफ़हमियां भी स्ट्रेस को बढ़ाती हैं. आज हर मैग़जीन में सेक्स कॉलम को ज़रूरी माना जाता है. कॉलम में सेक्सोलॉजिस्ट द्वारा पाठकों के प्रश्‍नों के उत्तर दिए जाते हैं. लेकिन पढ़ने वाला ये भूल जाता है कि संबंधित लेख या कॉलम में दी गई जानकारी एक सामान्य जानकारी होती है जबकि हर व्यक्ति दूसरे से भिन्न होता है. इसके अलावा इंटरनेट सेक्स, होमोसेक्सुअलिटी आदि भी आम व्यक्ति के मन को भ्रमित करने में ख़ास रोल निभा रहे हैं और सेक्स स्ट्रेस को बढ़ा रहे हैं. इसलिए आज यह बेहद ज़रूरी हो गया है कि कपल्स एक-दूसरे के लिए थोड़ा व़क़्त निकालें. साथ ही उपरोक्त सभी मुद्दों पर एकबारगी विचार-विमर्श भी करें, ताकि सेक्स
स्ट्रेस पनपने ही न पाए और ज़िंदगी ख़ुशनुमा बन जाए.

– प्रसून भार्गव

यह भी पढ़ें: सुहागरात में काम आएंगे ये सुपर सेक्स टिप्स (Super Sex Tips For Your First Night)

अक्षय कुमार- हमें नहीं भूलना चाहिए कि पैरेंट्स भी बूढ़े हो रहे हैं… (Akshay Kumar- We Should Not Forget That Parents Are Getting Old Too…)

Akshay Kumar

अक्षय कुमार (Akshay Kumar) फैमिलीमैन फिल्म स्टार के रूप में जाने जाते हैं. हाल ही में उनकी फिल्म मिशन मंगल ने कामयाबी के आसमान को छूते करो़ड़ों का आंकड़ा पार कर लिया. ड्रीमगर्ल और वॉर फिल्मों से भी उसे कड़ी टक्कर मिलती रही. जल्द ही उनकी हाउसफुल फिल्म की चौथी कड़ी यानी हाउसफुल 4 और गुडन्यूज़ आनेवाली है. मनोरंजन से भरपूर मल्टी स्टारर हाउसफुल द को लेकर लोगों में उत्सुकता बनी हुई है. गुडन्यूज़ भी अपने नए कॉन्सेप्ट के कारण लोगों में दिलचस्पी जगा रही है. ऐसे में अक्षय कुमार बाला चैलेंज भी ख़ूब सूर्ख़िया बटोर रहा है. आए दिन स्टार्स इससे जुड़ रहे हैं. सबसे अधिक आयुष्मान खुराना और वरुण धवन यह चैलेंज लोगों ने पसंद किया. आइए, अक्षय कुमार की फिल्मों, परिवार, फैन व सेहत से जुड़ी बातों को संक्षेप में उन्हीं से जानते हैं.

 

Akshay Kumar

अक्षय कुमार पृथ्वीराज पर…  

सम्राट पृथ्वीराज चौहान के मूल्यों व बहादुरी से मैं हमेशा प्रभावित रहा हूं. मैं ख़ुद को ख़ुशक़िस्मत मानता हूं कि मुझे इस ऐतिहासिक क़िरदार को निभाने का मौक़ा मिल रहा है. सच, अपने जन्मदिन पर यशराज के बैनर तले बननेवाली इस फिल्म पृथ्वीराज का ऐलान करते हुए मुझे बेइंतहा ख़ुशी हुई थी. जल्द ही इसकी शूटिंग शुरू होनेवाली है.

Akshay Kumar

लंदन की गलियों में मां को व्हील चेयर पर बैठाकर पैदल घुमाते हुए…

लंदन में शूटिंग के बिज़ी शेड्यूल से समय निकालकर मॉम को लंदन की सैर करवाना बहुत अच्छा लगा. इससे कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता कि आप ज़िंदगी में कितना आगे बढ़ रहे हैं, पर हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि पैरेंट्स भी बूढ़े हो रहे हैं, इसलिए उनके साथ कुछ व़क्त ज़रूर बिताएं, जो आप कर सकते हैं. मैं अक्सर अपने व्यस्त कामों से समय निकालकर मां के साथ समय बिताता हूं. मुझे अच्छा लगता है और इससे संतुष्टि भी मिलती है.

Akshay Kumar

क्रेज़ी फैन प्रभात, जो द्वारका (गुजरात) से पैदल चलकर उन्हें मिलने मुंबई आया…

किसी भी स्टार का फैन होना अच्छी बात है, पर इसके लिए अपनी जान जोख़िम में डालना ठीक नहीं है. आप इतनी दूर से पैदल चलकर आए हो, रास्ते में हाइवे आदि पर कुछ भी हो सकता था. युवाओं व अपने फैन्स को कहना चाहूंगा कि वे अपना क़ीमती समय व एनर्जी अपनी ज़िंदगी को बेहतर बनाने और अपने लक्ष्य को पूरा करने में लगाएं. वे ऐसा करेंगे, तो मुझे बहुत ख़ुशी होगी.

Akshay Kumar With His Kids

स्टार किड्स को लेकर मीडिया का रवैया…

21 साल की उम्र से छोटे किसी भी शख़्स के बारे में ग़लत या बेकार की बातें लिखना ग़ैरक़ानूनी कर देना चाहिए. किसी को दुखी करने, मज़ाक उड़ाने, शर्मिंदा करने में कइयों को बहुत आनंद आता है. कई स्टार किड्स के साथ ऐसा होता है. पैरेंट्स के रूप में मैं बच्चों को इतना ही समझा सकता हूं कि इस तरह की बातों को दिलोदिमाग़ पर न लें.

Akshay Kumar

अपने बच्चों का लाइमलाइट से दूर रहना…

मेरे बच्चे लाइमलाइट से दूर रहते हैं. मेरी बेटी नितारा, जो छह साल की है, वो हमारे साथ फैमिली डिनर या कहीं भी इसलिए नहीं आती कि उसे कैमरे की फ्लैश लाइट पसंद नहीं है. मैं मानता हूं कि स्टार होने के बाद मीडिया का अटेंशन होना आम बात है, पर बच्चों को उनकी प्राइवेसी भी तो मिलनी ज़रूरी है.

Akshay Kumar With His Son

बेटे आरव के जन्मदिन पर…

एक चीज़, जो मैंने अपने पिता से सीखी थी कि यदि मैं कभी भी मुश्किल में फंसा, तो मैं उनसे डरने की जगह उन पर पूरी तरह से भरोसा कर सकता हूं और निर्भर रह सकता हूं. आज जब बेटे आरव के मोबाइल पर स्पीड डायल में अपना नंबर देखता हूं, तो मुझे लगता है कि मैं भी सही परवरिश कर रहा हूं.

मैं हमेशा तुम्हें गाइड करता रहूंगा और तुम्हारे साथ रहूंगा. हैप्पी बर्थडे आरव…

Akshay Kumar

फिटनेस सीक्रेट…

मेरे फिट रहने का राज़ है- घर का बना भोजन, समय पर खाना-सोना, पर्याप्त पानी पीना व एक्सरसाइज़ करना. साथ ही अपनी उम्र को छुपाने के लिए कोई भी प्रोडक्ट्स लेना या कुछ अलग करने की कभी कोशिश न करना. मैं व एथलीट हिमा दास इसका बेहतरीन उदाहरण हैं कि आपको अच्छा दिखने व विजेता होने के लिए किसी सप्लीमेंट या स्टेरॉइड की ज़रूरत नहीं है. वैसे भी फिटनेस में कभी भी शॉर्टकट नहीं अपनाएं. इसके लिए जो तरीक़ा है, थोड़ा मुश्किलोंभरा है, पर वही सही है. यदि हम शॉर्टकट करते हैं, तो ज़िंदगी भी शॉर्ट यानी छोटी हो जाती है. याद रहे, हम जो खाते हैं, वैसे ही हम बनते हैं. हमें अपने शरीर के साथ ईमानदारी रखनी चाहिए. मैं दो बच्चों का पिता हूं, इस उम्र में भी ख़ुद को हमेशा फिट रखता हूं. एक ही ज़िंदगी है, उसे तरी़के से जीएं. सभी अपना ख़्याल रखें.

Akshay Kumar

आनेवाली फिल्में…

मैं यह कह सकता हूं कि आनेवाली मेरी हर फिल्म आपको चौंकाएगी, जैसे- लक्ष्मी बम, गुड न्यूज़, सूर्यवंशी, हाउसफुल 4, पृथ्वीराज. वैसे भी हाउसफुल की हर पार्ट को लोगों ने ख़ूब पसंद किया, इसलिए मुझे यक़ीन है कि हाउसफुल 4 भी लोगों का ख़ूब मनोरंजन करेगी. अच्छी बात यह भी है कि यह त्योहार पर यानी दिवाली; के समय रिलीज़ हो रही है, इसलिए यक़ीनन लोगों का अच्छा रिस्पॉन्स भी मिलेगा. सभी को दीपावली की शुभकामनाएं.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ेबिग बी ने अपनी सेहत के बारे में चुप्पी तोड़ी, कही ये बात (Amitabh Bachchan Finally OPENS UP On Rumours About His Health)

तैमूर के बॉलीवु़ड डेब्यू पर सैफ ने किया खुलासा, कही दिल की बात (Saif Ali Khan Opens Up About His Son, Taimur Ali Khan’s Big Bollywood Debut)

दो साल की उम्र में ही सैफ अली ख़ान (Saif Ali Khan) के बेटे (Son) तैमूर अली ख़ान (Taimur Ali Khan) पूरे देश के चहेते बन गए हैं. जहां उनकी उम्र के दूसरे बच्चे मस्ती करते हैं या सिर्फ खेलना जानते हैं, तैमूर मीडिया बोलना सीख रहे हैं और उनकी तरह कैमरा क्लिक करने की नकल करते हैं. भले ही आम लोगों को यह बात सामान्य लगती हो, लेकिन यह चिंता का विषय है. उनके पैरेंट्स सैफ अली खान और करीना कपूर खान अक्सर इस बारे में बोलते रहते हैं.

Saif Ali Khan With His Son

तैमूर के घर के आगे मीडियावालों की लाइन लगी रहती है, ताकि उन्हें एक अच्छा का पिक मिल जाए. तैमूर के हर मूव को कैप्चर किया जाता है. हाल में ही तैमूर के पिता सैफ अली खान अरबाज खान के शो पिंच में शामिल हुए. जहां उन्होंने शो के थीम के मुताबिक ट्रोलर्स से जुड़े सवालों का जबाव देते हुए तैमूर और उसे घेरे रहनेवाली मीडिया के बारे में बहुत सी बातें कीं. सैफ ने कहा, ” हम ऐसी जगह और माहौल में रहना पसंद करेंगे, जहां बच्चे को बच्चे की तरह रहने दिया जाए. जहां हमारा बेटा सेलेब्रिटी न बनकर दूसरे बच्चों की तरह पार्क में खेल सके या जो मन चाहे कर सके.” सैफ ने बताया कि तैमूर ने मीडिया बोलना भी शुरू कर दिया है. जब हम उससे पूछते हैं कि मीडिया कहां है तो वह बाहर की ओर इशारा करता है.

Kareena And Saif Ali Khan With Son

सैफ ने आगे कहा कि मेरे सभी बच्चे फिल्म ज्वॉइन करना चाहते हैं, जो मेरे लिए चिंता का विषय है. मुझे लगता है कि दूसरे च्वॉइस भी होने चाहिए. मैं चाहता हूं कि मेरे बच्चे भी मुझसे कहें कि वे डॉक्टर या इंजीनियर बनना चाहते हैं. आपको सुनने में लग रहा होगा  कि मैं टिपिकल पैरेंटस की तरह बात कर रहा हूं कि यह सच है, वैसे मैं नहीं चाहता कि तैमूर बॉलीवुड में डेब्यू करे या फिलहाल में वो भी नहीं चाहता (हंसते हुए).

Saif Ali Khan With Taimur

सैफ ने इस इंटरव्यू में तैमूर नाम रखे जाने पर हुए विवाद पर भी बात किया. उन्होंने कहा, ” मेरे हिसाब से तैमूर बहुत सुंदर नाम है. इसका अर्थ आयरन होता है और यह सुनने में भी अच्छा लगता है. लोगों ने जब यह नाम सुना तो उन्हें लगा कि ये तुर्किश शासक के नाम पर रखा गया है. लेकिन उस शासक का नाम तिमूर था. मैं यह कहना चाहूंगा कि यह सेम नाम नहीं हैं. अगर आप मुझे कहेंगे कि एक शब्द से कोई फर्क नहीं पड़ता तो फिर लक और फक के बारे में आपका क्या कहना है. दोनों अलग-अलग हैं ना…  अरबाज ने सैफ को मैसेज पढ़कर सुनाया जिसमें लिखा था ‘ सैफ एक ठग हैं, उन्होंने पद्मश्री सम्मान को खरीदा है, बेटे का नाम तैमूर अली खान रखा और एक रेस्टोरेंट में झगड़ा भी किया, इन्हें एक्टिंग भी नहीं आती फिर भी इन्हें फिल्म मिल जाती है.’ इन सभी सवालों पर सैफ ने जवाब देते हुए कहा ‘पहली बात जो लिखी है कि मैं ठग हूं, वो मैं नहीं हूं, लेकिन बाकी सब बातें सही हैं, लेकिन मुझे लगता है पद्मश्री जैसे सम्मान को खरीदने की बात सही नहीं है, क्या यह सम्मान खरीदना संभंव है, यह बहुत महंगा होगा, मतलब भारतीय सरकार को घूस देने की मेरी औकात नहीं है, इस बात का पता लगाने के लिए सीनियर लोगों से पूछना होगा.

Saif Ali Khan With Taimur

 

एक अन्य इंटरव्यू में सैफ ने कहा था कि तैमूर उनसे और करीना से कहीं ज़्यादा मीडिया सैवी है. वो फोटोग्राफर्स को मीडियावाले कहकर पुकारता है. उसे लगता है कि मीडियावाले कोई नाम है.वो मेरा कैमरा लेकर फोटो खींचने की नकल करता है और khichik khichik khichik की आवाज़ निकालता है.

ये भी पढ़ेंः बर्थडे स्पेशलः ऐसी थी बर्थडे गर्ल माधुरी दीक्षित और संजय दत्त की लवस्टोरी (HBD Madhuri Dixit: Sanjay Dutt And Madhuri’s Love Story)

 

जानिए आख़िर अर्जुन कपूर ने ट्विटर पर क्यों लताड़ा मीडिया को? (Know Why Arjun Kapoor is Upset With Media?)

Know Why Arjun Kapoor is Upset With Media

अर्जुन कपूर (Arjun Kapoor) काफ़ी ग़ुस्से में हैं और उनके ग़ुस्से की वजह है मीडिया में छपी ग़लत रिपोर्ट, जिसे पढ़ने के बाद उनका परिवार सॉक्ड है. आपको बता दें कि अर्जुन कपूर इन दिनों उत्तराखंड में दिबाकर बैनर्जी की आगामी फिल्म संदीप और पिंकी फरार की शूटिंग कर रहे हैं. गुरुवार की सुबह वे अख़बार में छपी एक ख़बर पढ़कर अचंभित रह गए. जिसमें छपा था कि फिल्म के सेट पर अर्जुन कपूर के साथ एक शराबी आदमी ने मारपीट की. रिपोर्ट में लिखा था कि पेशे से ड्राइवर एक आदमी ने अर्जुन कपूर के वैनिटी वैन के पास जाकर उनसे हाथ मिलाने की कोशिश की और अर्जुन ने जब हाथ बढ़ाया तो उस व्यक्ति ने उनका हाथ मोड़ दिया और उनके साथ दुर्व्यवहार भी किया. बाद में उस आदमी को गिरफ्तार कर लिया गया. उस पर शराब पीकर ड्राइविंग करने का आरोप लगाया गया और उस पर रु 500 का फाइन लगा.

Know Why Arjun Kapoor is Upset With Media

 

यह ख़बर पढ़कर अर्जुन एकदम अचंभित रह गए. उनके अनुसार यह ख़बर पूरी तरह ग़लत है. अर्जुन ने ट्विटर पर ग़लत रिपोर्ट छापने के लिए उस पब्लिकेशन की  आलोचना भी की और कहा कि उनकी इस ख़बर के कारण उनका पूरा परिवार परेशान हो गया.  अर्जुन ने लिखा,”मुझे इस घटना के बारे में कोई जानकारी नहीं है. क्राउड बहुत शांत थी. थोड़ी-बहुत प्रॉब्लम थी, लेकिन मुझ तक कोई बात नहीं पहुंची. ख़बर के कारण मेरा परिवार चिंतित था. सिर्फ़ न्यूज़ को इंट्रेस्टिंट बनाने के लिए असॉल्ट जैसे शब्द का इस्तेमाल करना बिल्कुल भी सही नहीं है. इस पब्लिकेशन ने इस ख़बर को छपाने से पहले न तो मेरी पीआर टीम से संपर्क करने की कोशिश की और न ही मुझसे बात की. उम्मीद करता हूं कि एेसी घटना भविष्य में नहीं होगी. ”

ये भी पढ़ेंः Pictures- शशि कपूर की प्रार्थना सभा में पहुंचा कपूर खानदान

[amazon_link asins=’B01H762WXW,B077PSQSQZ,B076VPTH2D,B07797X5CC’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’e3e34c43-dca8-11e7-ac96-6bc10fc03000′]

 

 

सोशल मीडिया पर भद्दे कॉमेंट्स का शिकार हुए ये खिलाड़ी (Players trolled on social media)

players

खिलाड़ियों को खेल से जोड़ने की बजाय समाज का एक तबका ऐसा है, जो उन्हें मज़हब से जोड़कर सोशल मीडिया पर तरह-तरह की नसीहत देते रहता है. कैसे कपड़े पहने है, कौन-सा रंग पहना है, एक्सरसाइज़ क्यों कर ली जैसी बातों को लेकर वो सोशल मीडिया पर कुछ भी स्टार प्लेयर्स के बारे में बोलते रहते हैं. क्या ये उचित है? आख़िर वो उनकी पर्सनल लाइफ है. किसी की पर्सनल लाइफ में टांग अड़ाना कितना सही है? आइए, हम आपको बताते हैं कि पिछले कुछ दिनों से कौन-कौन से प्लेयर हैं, जिन्हें सोशल मीडिया पर भद्दे कॉमेंट्स झेलने पड़े.

सानिया मिर्ज़ा
वैसे तो कुछ लोग हमेशा ही सानिया के प्लेइंग आउटफिट को लेकर बवाल मचाते रहे हैं, लेकिन इस बार तो सोशल मीडिया पर सानिया को कुछ लोगों की नसीहत सुननी पड़ी. असल में 27 दिसबंर को सानिया ने सोशल साइट्स पर अपनी एक ख़ूबसूरत सी फोटो डाली, जिसमें वो लाल रंग की साड़ी पहने हुए हैं. फोटो डालते देर नहीं कि उन्हें लोग बुरका न पहनने से लेकर इस्लाम की तौहीन करने का अपराधी मानने लगे.

players

मोहम्मद कैफ़
क्रिकेट से दूर रहकर भी अचानक से एक दिन सोशल मीडिया पर मोहम्मद कैफ़ ट्रोल होने लगे. जी हां, ये बात अलग है कि उन्हें कपड़ों पर किसी तरह का कॉमेंट नहीं झेलना पड़ा. वो बेचारे तो योगा को लेकर फंस गए. सूर्य नमस्कार क्या कर लिया ऐसा लगा मानों दुनिया का सबसे बड़ा पाप कर दिया. सोशल मीडिया पर कैफ़ ने अपनी कुछ तस्वीरें डालीं, जिसमें वो सूर्य नमस्कार कर रहे हैं, बस क्या था, भड़क गए समाज के नुमाइंदे. लग गए कैफ़ को सीख पर सीख देने और उनकी तौहीन करने.

players

मोहम्मद शमी
सोशल मीडिया पर ट्रोल होने में क्रिकेटर शमी भी पीछे नहीं रहे. अपनी पत्नी और बेटी के साथ शमी ने एक फोटो सोशल मीडिया पर शेयर की, जिसमें उनकी पत्नी मरून रंग के गाउन में नज़र आ रही थीं. बस क्या था, न जाने ऐसा क्या दिखा उस गाउन में कि कुछ लोग शमी को भला-बुरा कहने लगे. लोगों की इस प्रतिक्रिया का शमी ने जवाब भी दिया, लेकिन उसका असर उन लोगों पर कहां पड़ने वाला था. इसके बाद नए साल पर शमी ने अपनी पत्नी के साथ एक और फोटो शेयर की, जिसमें वो साड़ी और डीप नेक ब्लाउज़ पहने थीं. लोगों को वो हज़म नहीं हुआ और वो अपनी आदत के अनुरूप कॉमेंट करने लगे.

players

players

मानाकि सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफॉर्म है, जहां आप अपनी भड़ास निकाल सकते हैं और अपनी मन की बात कर सकते हैं, लेकिन किसी की पर्सनल लाइफ में कॉमेंट करने का हक़ सोशल मीडिया आपको नहीं देता. इस तरह की हरक़त करके आप अपना वजूद और संस्कार दुनिया के सामने रख देते हैं.

श्वेता सिंह